Search found 4277 matches

by Jemsbond
12 Dec 2017 09:56
Forum: Thriller Stories
Topic: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी
Replies: 19
Views: 208

Re: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी

"हमें मिस्टर बेग से मिलना है...." इमरान ने उस से कहा. "वो बहुत बीमार हैं सर...." "हमें पता है.....हम उन्हें देखने आए हैं.....कल हॉस्पिटल मे भी उनसे मुलाकात हुई थी." "अच्छा....रुकिये....मैं बेगम साहिबा को सूचित करता हूँ...." नौकर ने कहा और भीतर चला गया. "मुझे आश्चर्य है कि 'बेगम साहिबा' के रहते हुए ...
by Jemsbond
12 Dec 2017 09:54
Forum: Thriller Stories
Topic: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी
Replies: 19
Views: 208

Re: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी

बूढ़ा पहले दरवाज़ा पर ही रुका और फिर उनके निकट आकर बोला......"बेबी.....तुम अभी शहर नही गयीं?" उसने लड़की से पुछा. "अब जाउन्गि......इनके लिए थोड़ा गुलाब लाई थी." लड़की ने मासूमियत से कहा. "डॅडी.....ये आप से बहोत डरते हैं." "क्यों....? श...." बूढ़ा मुस्कुराया. "ये कहते हैं कि तुम्हारे डॅडी से डर लगता...
by Jemsbond
12 Dec 2017 09:53
Forum: Thriller Stories
Topic: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी
Replies: 19
Views: 208

Re: काले चिराग -हिन्दी उपन्यास/इब्ने सफ़ी

"आप मुझे उनका पता बताइए....मैं और कुच्छ नहीं जानती." "पता....? अच्छा कहीं नोट कर लीजिए...." इमरान ने गंभीरता से कहा...."जॅफर्री मंज़िल.......शादाब नगर." "अच्छी बात है....मत बताइए...." ग़ज़ाला दाँत पीस कर बोली...."मुझे विश्वास है कि आप भैया के बारे मे बहुत कुच्छ जानते हैं." "मैं भैया के बारे मे बहुत...
by Jemsbond
12 Dec 2017 09:50
Forum: Thriller Stories
Topic: इमरान का अपहरण ( हिन्दी नॉवल )
Replies: 40
Views: 417

Re: इमरान का अपहरण ( हिन्दी नॉवल )

"काश हम लोग भी इतने ही युनाइटेड होते और हमारे साझेदारों की औलाद भी ऐसे ही आक्टिव रह कर काम करते. अब देखो...."भाइयों का कारोबार" हमारे खिलाफ बहुत बड़ी शक्ति है...." इमरान बिल्कुल चुप था. वो केवल बधाई देने वाले को धन्यवाद देता और कस कर मुँह बंद कर लेता. क्योंकि उस से केवल इंग्लीश और अरबिक सुन'ने की स...
by Jemsbond
12 Dec 2017 09:36
Forum: Thriller Stories
Topic: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)
Replies: 60
Views: 810

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

फ़िक्र ना करो….उसे भी देख लेंगे….मेरे साथ आओ….वो उसी कमरे की तरफ बढ़ता हुआ बोला….जहाँ डगमोरे को बेहोश छोड़ कर आया था….! होश आते ही वो बौखला कर उठ बैठा…. और चारों तरफ नज़र दौड़ाई…. और उछल कर बिस्तर के नीचे आया….यह तो उसका अपना बेडरूम था….जिस्म पर नाइट सूट था….लाल लिफ़ाफ़ा….वो सर पकड़ कर रह गया दिल श...