Search found 595 matches

by Dolly sharma
16 Jun 2017 07:33
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग complete
Replies: 114
Views: 8561

Re: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग

फिर मेरे टांगों को पकड़कर उन्होने जोर से अपनी तरफ़ खींचा जिससे मेरी गांड सरक कर खाट के किनारे आ गयी. खाट की ऊंचाई बस इतनी थी कि मेरी चूत डाक्टर के लन्ड के एकदम सामने थी. डाक्टर साहब ने अपने लन्ड का सुपाड़ा मेरी बुर के फांक मे रखा और ऊपर-नीचे रगड़ने लगे. मुझे लन्ड चूसकर काफ़ी चुदास चढ़ गयी थी. मैं आ...
by Dolly sharma
16 Jun 2017 07:31
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग complete
Replies: 114
Views: 8561

Re: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग

मुझे उनकी बात कुछ समझ नही आयी. "यह वैसी लड़की नही है, डाक्टर साहब! इसलिये मैं पूरे रुपये लेकर आया हूँ." अमोल बोला, "पिछली बार मेरे पास पूरे रुपये नही थे इसलिये मुझे...दूसरी तरह से...भुगतान करना पड़ा था..." "बात सिर्फ़ रुपयो की नही है, बेटे." डाक्टर साहब ने अमोल को टोक कर कहा, "जो औरतें शादी से पहले...
by Dolly sharma
16 Jun 2017 07:29
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग complete
Replies: 114
Views: 8561

Re: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग

भाभी नशे मे झूमती हुई मुझे बोली, "ननद रानीजी! तुम अमोल के कमरे मे जाओ. मेरा भाई अपनी होने वाली पत्नी का इंतज़ार कर रहा है." "जाती हूँ, भाभी!" मैं खुश होकर बोली. "अब से तुम अमोल के कमरे मे ही सोना. बिलकुल पति-पत्नी की तरह." भाभी बोली, "और उससे जितना मन हो चुदवाना." "ठीक है भाभी." मैने कहा. विश्वनाथज...
by Dolly sharma
16 Jun 2017 07:26
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग complete
Replies: 114
Views: 8561

Re: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग

मै कमर उठा उठाकर रामु से चुदवा रही थी. रामु मेरे ऊपर लेटकर मेरे नर्म होठों को पी रहा था. उसके मुंह से बीड़ी और शराब की महक आ रही थी, पर मुझे उस समय एक नौकर से चुदने मे बहुत मज़ा आ रहा था. मैने अपने चारों तरफ़ नज़र डालकर देखा. गुलाबी को अब होश आ गया था. वह नंगी बैठकर शराब पी रही थी और अपने पति से मे...
by Dolly sharma
16 Jun 2017 07:24
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग complete
Replies: 114
Views: 8561

Re: मेले के रंग सास, बहु, और ननद के संग

बलराम भैया भी मुझे पेलते पेलते झड़ने लगे. जोर जोर से मेरी चूत मारते हुए बोले, "साली की क्या कसी चूत है! आह!! मुझसे रोका नही जा रहा है! आह!!" "सोनपुर के बाद ज़्यादा चुदी नही है ना." मामीजी बोली, "इसकी चूत फिर से कस गयी है." "जीजाजी, भर दीजिये वीणा की चूत अपने वीर्य से!" अमोल उत्तेजित होकर बोला. "आह!...