Search found 1286 matches

by kunal
07 Nov 2017 13:13
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: जोरू का गुलाम या जे के जी
Replies: 684
Views: 191330

जोरू का गुलाम भाग १२९

जोरू का गुलाम भाग १२९ फिर बताया " अरे स्कूल जाते हुए ही न , सावन में हम लोगों का चक्कर चालू हुआ था और ये समझो दो तीन महीने बाद सब गड़बड़। कातिक में दिवाली की लम्बी छुट्टी। स्कूल बंद तो सामू के साथ जाना बंद। फिर हम लोगों के घर ट्रैक्टर आ गया तो हरवाह की जरूरत ख़तम। और सामू भी ,उसका एक लड़का शहर में क...
by kunal
07 Nov 2017 13:09
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: जोरू का गुलाम या जे के जी
Replies: 684
Views: 191330

Re: जोरू का गुलाम या जे के जी

……………… " अरे दीदी आपके तो मजे होगये , रोज बिना नागा " " अरे नहीं ऐसा कुछ नहीं ,... " वो टिपिकल जेठानी मोड में आ गयी जिसे हर बात काटनी है और जो कभी खुश नहीं हो सकती। " हफ्ते में पांच छह बार बस , सन्डे को तो स्कूल बंद ही रहता था फिर कभी ये छुट्टी वो छुट्टी और शाम को कभी मम्मी उसे किसी काम से कहीं भेजन...
by kunal
07 Nov 2017 13:08
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: जोरू का गुलाम या जे के जी
Replies: 684
Views: 191330

जोरू का गुलाम भाग १२८

जोरू का गुलाम भाग १२८ आज न उसे जल्दी थी न मुझे। लेकिन छेड़ छाड़ मैंने ही शुरू की। उसके होंठों को अपने होंठों पर खींच कर चूम कर। अपनी कच्ची अमियों पर उसकी हथेलियों को ला के। और वो मसलने रगड़ने लगा। " हे बोल रानी ,मजा आया। " उसने पूछा। पहले तो छेड़ते हुए मैंने ना ना में सर हिलाया ,फिर खिलखिला के हंस क...
by kunal
07 Nov 2017 13:06
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: जोरू का गुलाम या जे के जी
Replies: 684
Views: 191330

Re: जोरू का गुलाम या जे के जी

प्यार से चूमते मनाते वो बोला। "तो सुन ले कान खोल के ,मेरी कसम तुझे ,... ये चार बच्चों की माँ वां नहीं जानती मैं ,मुझे पूरा चाहिए ,... यहाँ तक। पूरा। " और मैंने अपने अंगूठे से उसके लंड के बेस को दबा के अपना इरादा साफ़ कर दिया। और जब तक वो कुछ और बोलता मैं फिर चालू , " चाहे मेरी फटे ,चाहे खून खच्चर हो...
by kunal
07 Nov 2017 13:05
Forum: Hindi ( हिन्दी )
Topic: जोरू का गुलाम या जे के जी
Replies: 684
Views: 191330

जोरू का गुलाम भाग १२७

जोरू का गुलाम भाग १२७ गन्ने के खेत शुरू हो गए , ऊँचे ऊँचे , .... पतली सी पगडंडी , वो जगह भी आ गयी जहां कल उसने साइकिल खड़ी की थी और पतले से कच्चे रास्ते से मुझे गन्ने के खेत के बीच खींच कर ले गया था जहाँ कल मेरी नथ उतरी थी। मुझे लगने लगा , अब रोके , अब रोके , पर वो ,... कहीं वो भूल तो नहीं गया की अस...