Search found 3997 matches

by 007
12 Dec 2017 21:01
Forum: Thriller Stories
Topic: विकास दी ग्रेट complete
Replies: 45
Views: 585

Re: विकास दी ग्रेट

फूचिंग हॉस्पिटल में पडा भाय-हाय कर रहा था । चीनी अधिकारियों के कानों में अव भी कुछ नाम गूंज 'रहे थे… विकास. . . .अलफांसे । टुम्बकटू और. . . . और विजया . . . .! विकास चीन से बाहर जा चुका था, किंतु फिर भी प्रत्येक चीनी के मस्तिष्क में एक नाम रेग रहा था-----विकास...विकास दी ग्रेट....! हालत यहाँ तक पहुच...
by 007
12 Dec 2017 21:01
Forum: Thriller Stories
Topic: विकास दी ग्रेट complete
Replies: 45
Views: 585

Re: विकास दी ग्रेट

विजय, अलफांसे और बिकास ने ऊपर देखा----हेलीकाप्टर निरंतर इस पहाडी के करीब आता जा रहा था । विकास ने तेजी के साथ रेशम की डोरी निकली । फूचिंग के दोनों पैरों में बांधकर उसे चट्टान के नीचे उल्टा लटका दिया । फूचिंग चीख रहा था लेकिन व्यर्थ-----रेश्म की डोरी काफी लंबी थी । अत: उसने फूचिंग काफी नीचे तक लटका द...
by 007
12 Dec 2017 21:00
Forum: Thriller Stories
Topic: विकास दी ग्रेट complete
Replies: 45
Views: 585

Re: विकास दी ग्रेट

विकास के कंठ से हल्की-सी चीख निकल गई । भड़ककर विजय एकदम आगे बढा लेकिन अलफांसे ने तुरंत उसकी कलाई थाम ली बोला-----" जासूस प्यारे, हमारा चेला इतनी जल्दी परास्त होने वाला नहीं है !" बिकास का हाथ तेज गति से चला और जंजीर फूचिंग के चाकू वाले हाथ पर न केवल लिपटी चली गई बल्कि उसके कांटे उसकी कलाई में धंस गए...
by 007
12 Dec 2017 21:00
Forum: Thriller Stories
Topic: विकास दी ग्रेट complete
Replies: 45
Views: 585

Re: विकास दी ग्रेट

जो फुर्ती विजय ने दिखाई वह हैरतअंगेज थी । एक बार तो अलफांसे भी चमत्कृत रह गया । विजय ने इतनी तेजी से अलफांसे के रिवॉल्वर वाले हाथ में ठोकर मारी थी कि लाख प्रयास करने के पश्चात् भी वह स्वयं को संभाल न सका और रिवॉल्वर उसके हाथ से निकल गया । तभी विजय का हाथ विधूत गति से चला और जब उसका फौलादी घूंसा अलफा...
by 007
12 Dec 2017 20:59
Forum: Thriller Stories
Topic: विकास दी ग्रेट complete
Replies: 45
Views: 585

Re: विकास दी ग्रेट

अचानक विजय बोला…"लो प्यारे दिलजले, अब लोग मजा लेने के लिए अपराध करने लगे हैं ।" इस समय वे तीनों प्रोफेसर बनर्जी की लाश के समीप खडे थे जो यहाँ हुए इस युद्ध में मारे गए थे । बनर्जी की मौत का विजय और विकास को वहुत गहरा दुख हुआ, परंतु वे कर भी क्या सकते थे? अब तो दोनों के दिमाग में एक ही बात घूम रही थी…...