Search found 6718 matches

by jay
15 Jun 2017 00:29
Forum: हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Topic: दर्द तो होना ही था
Replies: 4
Views: 634

Re: दर्द तो होना ही था

मैंने प्रिया को अपनी तरफ करते हुए कहा- क्या हुआ? ‘मेरे पीछे बहुत जलन हो रही है।’ मैं समझ चुका था कि मामला क्या है, मैं नीचे गया, सोफ्रामाईसिन की ट्यूब और हल्का कुनकुना पानी और सेवीलॉन तथा कुछ कॉटन लाकर प्रिया की गांड को सेविलॉन और कुनकुने पानी से साफ किया और फिर सोफ्रामाईसिन लगाकर उसको अपने सीने से...
by jay
15 Jun 2017 00:28
Forum: हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Topic: दर्द तो होना ही था
Replies: 4
Views: 634

Re: दर्द तो होना ही था

कोई पांच मिनट बाद ही वो होश में आ गई, मुझे देखते ही वो उठ कर बैठ गई। मैंने प्यार से उसके सर को सहलाते हुए पूछा- क्या हुआ जो तुम बेहोश हो गई? उसने मेरे कंधे पर अपना सर रखा लेकिन मेरे किसी बात का जवाब नहीं दिया, बस एक ही शब्द बोली- यह खून कैसा? ‘तुम्हारा कुंवारापन खत्म हो गया है।’ फिर हम दोनों काफी द...
by jay
15 Jun 2017 00:27
Forum: हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Topic: दर्द तो होना ही था
Replies: 4
Views: 634

Re: दर्द तो होना ही था

बेसिन से झुके होने के कारण उसका गुदा (गांड) द्वार थोड़ा सा खुल गया था और मैंने प्रिया के दोनों कूल्हों को कस कर दबा दिया. ‘उईईई ईईई…’ करके एकदम से पल्टी और मेरे मुंह पर एक झापड़ रसीद कर दिया उसने! मैं अपना गाल मलता रह गया और वो भाग के बिस्तर पर पेट के बल लेट गई। मैं भी अपने गाल को सहलाते हुए पीछे प...
by jay
15 Jun 2017 00:26
Forum: हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Topic: दर्द तो होना ही था
Replies: 4
Views: 634

Re: दर्द तो होना ही था

इत्तेफाक था कि इन दिनों मेरा घर भी खाली पड़ा हुआ था और अगले 10 दिन तक कोई वापस भी नहीं आने वाला था, इसलिये मैंने प्रिया से पूछा कि क्या वो मेरे साथ मेरे घर चलेगी? वो राजी भी हो गई। उसने मुझे चौराहे पर वेट करने के लिये कहा, मैं चौराहे पर आकर उसका इंतजार करने लगा। थोड़ी ही देर बाद प्रिया अपने हाथ में...
by jay
15 Jun 2017 00:26
Forum: हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Topic: दर्द तो होना ही था
Replies: 4
Views: 634

दर्द तो होना ही था

दर्द तो होना ही था दोस्तो मेरा नाम शक्ति देवनागर… मैं 46 साल का हूँ, लखनऊ का रहने वाला हूँ और एक प्राईवेट ऑफिस में क्लर्क के पद पर कार्यरत हूँ। दो साल पहले तक मेरी आर्थिक स्थिति सही नहीं थी, किसी तरह गुजर बसर चल जाता था, पर दो साल पहले इस प्राईवेट कम्पनी का ऐड आया था और उस ऐड को पड़ने के बाद मैं भी...