Page 1 of 1

इजाजत

Posted: 31 Aug 2017 18:53
by Mani
इजाजत अगर दे दी खत के हमारे तो मासूम चेहरा ये खत चुम लेगा।
कभी चुम लेगा परेशानी तुम्हारी कभी ये नरम आरजू चुम लेगा।।
अदब से रखोगी हथेली पे इसको तो समझो ये तेरा बदन चुम लेगा।
अगर फाड़ डालोगी गुस्से में आकर तो फट कर भी पन्ना कदम चुम लेगा।।
किधर चुम लेगा जिधर चुम लेगा,
सुरसरि मणि चाहे जहाँ चुम लेगा।
इजाजत........