मा बेटा और बहन compleet

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

मा बेटा और बहन compleet

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 09:32

चेतावनी ...........दोस्तो ये कहानी समाज के नियमो के खिलाफ है क्योंकि हमारा समाज मा बेटे और भाई बहन और बाप बेटी के रिश्ते को सबसे पवित्र रिश्ता मानता है अतः जिन भाइयो को इन रिश्तो की कहानियाँ पढ़ने से अरुचि होती हो वह ये कहानी ना पढ़े क्योंकि ये कहानी एक पारवारिक सेक्स की कहानी है



मा बेटा और बहन-1

हेल्लो दोस्तों मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा एक और मस्त कहानी लेकर

हाजिर हूँ हाई मेरा नाम आमिर है और मेरी उमर 20 साल है . मेरी एक छ्होटी बहन

शुमैला है. वह अभी सिर्फ़ सत्रह साल है और कॉलेज मे है. मोम अब 40 की

हैं. मोम स्कूल मे टीचर हैं और मे यूनिवर्सिटी मे हूँ. हमलोग

करांची से है. पापा का 2 साल पहले इंतेक़ाल हो गया था. अब घर मे सिर्फ़

हम तीन लोग ही हैं.

यह अब से 6 मंथ पहले हुआ था. एक रात मम्मी बहुत उदास लग रही थी. मे

समझ गया वह पापा को याद कर रही हैं. मेने उनको बहलाया और खुश करने

की कोशिश की. मम्मी मेरे गले लग रोने लगी. तब मेने कहा, "मम्मी हम दोनो

आपको बहुत प्यार करते हैं, हमलोग मिलकर पापा की कमी महसूस नही होने

देंगे."

शुमैला भी वहाँ आ गयी थी, वह भी मम्मी से बोली, "हां मम्मी प्लीज़ आप दिल

छ्होटा ना करिए. भाई जान हैं ना हम दोनो की देखभाल के लिए. भाई जान

हमलोगो का कितना ख्याल रखते हैं."

"हां बेटी पर कुच्छ ख्याल सिर्फ़ तेरे पापा ही रख सकते थे."

"नही मम्मी आप भाई जान से कह कर तो देखिए."

खैर फिर बात धीरे धीरे नॉर्मल हो गई. उसी रात शुमैला अपने रूम मे थी.

मे रात को टाय्लेट के लिए उठा तो टाय्लेट जाते हुए मम्मी के रूम से कुच्छ

आवाज़ आई. 12 बज चुके थे और मम्मी अभी तक जाग रही हैं, यह सोचकर उनके

रूम की तरफ गया. मम्मी के रूम का दरवाज़ा खुला था. मे खोलकर अंदर गया

तो चौंक गया.

मम्मी अपनी शलवार उतारे अपनी चूत मे एक मोमबत्ती डाल रही थी. दरवाज़े के

खुलने की आवाज़ पर उन्होने मूड कर देखा. मुझे देख वह घबरा सी गयी. मे भी

शर्मा गया कि बिना नॉक किए आ गया. मे वापस मुड़ा तो मम्मी ने कहा, "बेटा

आमिर प्लीज़ किसी से कहना नही."

"नही मम्मी मे किसी से नही कहूँगा?"

"बेटा जब से तेरे पापा इस दुनिया से गये हैं तब से आज तक मे.."

"ओह्ह मम्मी मे भी अब समझता हूँ. यह आपकी ज़रूरत है पर क्या करूँ अब

पापा तो हैं नही."

फिर मे मम्मी के पास गया और उनके हाथो को पकड़ बोला, "मम्मी दरवाज़ा बंद कर लिया करिए."

"बेटा आज भूल गयी."

फिर मे वापस आ गया.

अगले दिन सब नॉर्मल रहा. शाम को मे वापस आया तो हमलोगो ने साथ ही चाइ

पी. चाइ के बाद शुमैला बोली, "भाई जान बाज़ार से रात के लिए सब्ज़ी ले आओ

जो खाना हो ."

मे जाने लगा तो मम्मी ने कहा, "बेटा किचन मे आओ तो कुच्छ और समान बता

दूँगी लेते आना."

मे किचन मे जा बोला, "क्या लाना है मम्मी?"

मम्मी ने बाहर झाँका और शुमैला को देखते धीरे से बोली, "बेटा 5- 6 बैगन

लेते आना लंबे वाले."

मे मम्मी की बात सुन पता नही कैसे बोल पड़ा, "मम्मी अंदर करने के लिए?"

मम्मी शर्मा गयी और मे भी अपनी इस बात पर झेंप गया और सॉरी बोलता बाहर

चला गया. सब्ज़ी लाकर शुमैला को दी और 4 बैगन लाया था जिनको अपने पास

रख लिया. शुमैला ने खाना बनाया फिर रात को खा पीकर सब लोग सोने चले

गये. तब करीब 11 बजे मम्मी मेरे रूम मे आ बोली, "बेटा बैगन लाए थे?"

"हां मम्मी पर बहुत लंबे नही मिले और मोटे भी कम है."

"कोई बात नही बेटे अब जो है सही हैं ."

"बहुत ढूँढा मम्मी पर कोई भी मुझसे लंबे नही मिले."

"क्या मतलब बेटा."

मे बोला, "मम्मी मतलब यह कि इनसे लंबा और मोटा तो मेरा है."

तब मम्मी ने कुच्छ सोचा फिर कहा, "क्या करें बेटा अब तो जो किस्मत मे है वही

सही." फिर मेरी पॅंट के उभार को देखते बोली, "बेटा तेरा क्या बहुत बड़ा है?"

"हां मम्मी 8 इंच है."

"ओह्ह बेटा तेरे पापा का भी इतना ही था. बेटा अपना दिखा दो तो तेरे पापा की याद

ताज़ी हो जाए."

"लेकिन मम्मी मे तो आपका बेटा हूँ."

"हां बेटा तभी तो कह रही हूँ. तू मेरा बेटा है और अपनी माँ से क्या शरम.

तू एकदम अपने पापा पे गया है . देखूं तेरा वह भी तेरे पापा के जैसा है या

नही?"

तब मेने अपनी पॅंट उतारी और अंडरवेर उतारा तो मेरे लंबे तगड़े लंड को देख मम्मी एकदम से खुश हो गयी. वह मेरे लंड को देख नीचे बैठी और मेरा लंड

पकड़ लिया और बोली, "हाई आमिर बेटा तेरे पापा का भी एकदम ऐसा ही था. हाई

बेटा यह तो मुझे तेरे पापा का ही लग रहा है. बेटा क्या मे इसे थोड़ा सा प्यार

कर लूँ?"

"मम्मी अगर आपको इससे पापा की याद आती है और आपको अच्छा लगे तो कर

लीजिए."

"बेटा मुझे तो लग रहा है कि मे तेरा नही बल्कि तेरे पापा का पकड़े हूँ."










Maa beta or bahan-1

Hi mera naam Amir hai aur meri umar 20 saal hai hai. Meri ek chhoti bahan
Shumaila hai. Wah abhi sirf satrah saal hai aur college me hai. Mom ab 40 ki
hain. Mom school me teacher hain aur me university me hoon. Hamlog
Karanchi se hai. Papa ka 2 saal pahle inteqaal ho gaya tha. Ab ghar me sirf
ham teen log hi hain.

Yah ab se 6 month pahle hua tha. Ek raat Mammi bahut udaas lag rahi thi. Me
samajh gaya wah Papa ko yaad kar rahi hain. Mene unko bahlaya aur khush karne
ki koshish ki. Mammi mere gale lag rone lagi. Tab mene kaha, "Mammi ham dono
aapko bahut pyaar karte hain, hamlog milkar Papa ki kami mahsoos nahi hone
denge."

Shumaila bhi wahan aa gayi thi, wah bhi Mammi se boli, "Haan Mammi please ap dil
chhota na kariye. Bhai jaan hain na ham dono ki dekhbhaal ke liye. Bhai jaan
hamlogo ka kitna khyaal rakhte hain."

"Haan beti par kuchh khyal sirf tere Papa hi rakh sakte the."

"Nahi Mammi aap Bhai jaan se kah kar to dekhiye."

Khair fir baat dhire dhire normal ho gai. Usi raat Shumaila apne room me thi.
Me raat ko toilet ke liye utha to toilet jaate hue Mammi ke room se kuchh
awaz aayi. 12 baj chuke the aur Mammi abhi tak jag rahi hain, yah sochkar unke
room ki taraf gaya. Mammi ke room ka darwaza khula tha. Me kholkar andar gaya
to chaunk gaya.

Mammi apni shalwaar utare apni choot me ek mombatti daal rahi thi. Darwaze ke
khulne ki awaz par unhone mud kar dekha. Mujhe dekh wah ghabra si gayi. Me bhi
sharma gaya ki bina nock kiye aa gaya. Me wapas muda to Mammi ne kaha, "Beta
Amir please kisi se kahna nahi."

"Nahi Mammi me kisi se nahi kahunga?"

"Beta jab se tere Papa is duniya se gaye hain tab se aj tak me.."

"Ohh Mammi me bhi ab samajhta hoon. Yah aapki zarurat hai par kya karoon ab
Papa to hain nahi."

Fir me Mammi ke paas gaya aur unke haatho ko pakad bola, "Mammi darwaza band kar liya kariye."

"Beta aaj bhool gayi."

Fir me wapas aa gaya.

Agle din sab normal raha. Sham ko me wapas aaya to hamlogo ne saath hi chai
pee. chai ke baad Shumaila boli, "Bhai jaan bazaar se raat ke liye sabzi le aao
jo khana ho ."

Me jaane laga to Mammi ne kaha, "Beta kitchen me aao to kuchh aur saman bata
de letee aana."

Me kitchen me ja bola, "Kya lana hai Mammi?"

Mammi ne bahar jhanka aur Shumaila ko dekhte dhire se boli, "Beta 5- 6 baigan
lete aana lambe wale."

Me Mammi ki baat sun pata nahi kaise bol pada, "Mammi andar karne ke liye?"

Mammi sharma gayi aur me bhi apni is baat par jhenp gaya aur sorry bolta bahar
chala gaya. Sabzi lakar Shumaila ko di aur 4 baigan laya tha jinko apne paas
rakh liya. Shumaila ne khana banaya fir raat ko kha peekar sab log sone chale
gaye. Tab kareeb 11 baje Mammi mere room me aa boli, "Beta baigan laaye the?"

"Haan Mammi par bahut lambe nahi mile aur mote bhi kam hai."

"Koi baat nahi bete ab jo hai sahi hain ."

"Bahut dhoondha Mammi par koi bhi mujhse lambe nahi mile."

"Kya matlab beta."

Me bola, "Mammi matlab yah ki inse lamba aur mota to mera hai."

Tab Mammi ne kuchh socha fir kaha, "Kya Karen beta ab to jo kismat me hai wahi
sahi." Fir meri pant ke ubhaar ko dekhte boli, "Beta tera kya bahut bada hai?"

"Haan Mammi 8 inch hai."

"Ohh beta tere Papa ka bhi itna hi tha. Beta apna dikha do to tere Papa ki yaad
tazi ho jaye."

"Lekin Mammi me to aapka beta hoon."

"Haan beta tabhi to kah rahi hoon. Tu mera beta hai aur apni maan se kya sharam.
Tu ekdam apne Papa pe gaya hai . Dekhoon tera wah bhi tere Papa ke jaisa hai ya
nahi?"

Tab mene apni pant utaari aur underwear utaara to mere lambe tagade lund ko dekh Mammi ekdam se khush ho gayi. Wah mere lund ko dekh niche baithi aur mera lund
pakad liya aur boli, "Haai Amir beta tere Papa ka bhi ekdam aisa hi tha. Haai
beta yah to mujhe tere Papa ka hi lag raha hai. Beta kya me ise thoda sa pyaar
kar loon?"

"Mammi agar aapko isse Papa ki yaad aati hai aur aapko achha lage to kar
lijiye."

"Beta mujhe to lag raha hai ki me tera nahi balki tere Papa ka pakde hoon."

Fir Mammi ne mere lund ko munh me liya aur chaatne lagi. Yah mere saath pahli
baar ho raha tha isliye mere liye samhaalna mushkil tha. 6-7 minate me hi me
unke munh me jhar gaya. 1 minat baad Mammi ne lund munh se bahar kiya aur
mere paas baith gayi.

Me bola, "Sorry Mammi aapka munh ganda kar diya."

"Aahh beta tere Papa bhi roz raat mere munh ko pahle aise hi ganda karte the fir
meri ch.." Mammi itna kah hup ho gayi.

Mene unke chehre ko dekhte bola, "Fir kya kya karte the Papa? Mammi jo Papa iske baad karte the wah mujhe bata do to me bhi kar doon. Aapko Papa ki kami nahi mahsoos hogi."

Mammi mere chehre ko pakad boli, "Beta yah jo hua hai ek maan bete me nahi
hota. Lekin beta is waqt tum mere bete nahi balki mere shauhar ho. Ab tum mere
shauhar ki tarah hi karo. Wah mere munh me apna jhadkar apne munh se meri
jhaarte the fir mujhe.."

"Mammi ab jab aap mujhe apna shauhar kah rahi hai to sharama kyon rahi hain.
Sab kuchh khulkar kahiye na."

"Beta tu sach kahta hai, chal ab meri choot chaat aur fir mujhe chod jaise tere
Papa chodate the."

"Theek hai Mammi aao bistar par chalo."

Fir Mammi ko apne bed par litaaya aur unko poora nanga kar diya. Mammi ki
choochiyan abhi bhi sakht thi. 2-3 saal se kisi ne touch nahi kiya tha. Mene
choot ko dekha to mast ho gaya. Mammi ki choot kasi lag rahi thi. 40 ki umar
me Mammi 30 ki hi lag rahi thi. Mammi ko bed par lita apne kapade alag kiye fir
Mammi ki choochiyan pakad unki choot par munh rakh diya. choochiyon ko daba daba
choot chaat apne jhare lund ko kasne laga.

8-10 minat baad Mammi mere munh par hi jhad gayi. Wah apni gaand tezi se uchka
jhad rahi thi. Me Mammi ki jhadti choot me 1 minat tak jeebh pele raha fir
uth kar oopar gaya aur choochiyon ko munh se choosne laga.

"Haaa aahh beta choos apni Mammi ki choochiyon ko. Haai piyo inko haai kitna
maza aa raha hai bet eke saath."

Mera lund ab fir khada tha. 4-5 minat baad Mammi ne mujhe alag kiya aur fir
mere lund ko munh se chooskar khada karne ke baad boli, "Beta ab chadh ja apni
maan par aur chod daal."

Mene Mammi ko bed par litaya aur lund ko Mammi ke chhed par laga gap se andar
kar diya.

Ab me tezi se chudai kar raha tha aur dono choochiyon ko daba daba choos bhi
raha tha. Mammi bhi niche se gaand uchhal rahi thi.

Me dhakke lagata bola, "Mammi shaam ko jab aapne baigan lane ko kaha tha tabhi
se dil kar raha tha ki kaash apni Mammi ko me kuchh araam de sakoon. Meri
arzoo poori huyi."

"Beta agar tu mujhe chodana chahta that to koi goli leta aata. Ab tu mere andar
mat jhadna. Aaj bahar jhadna fir kal me goli le loongi to khatra nahi hoga tab
andar daalna pani. choot me garam pani bahut maza deta hai."

Kareeb 10 minat baad mera lund jhadne wala hua to mene use bahar kiya aur
Mammi se kaha, "Haah Mammi ab mera nikalne wala hai."

"Haai beta la apne paani se apni Mammi ki choochiyon ko bhigo de."

Fir me Mammi ki choochiyon par pani nikala. Jharkar alag hua tu Mammi apni
choochiyon par mere lund ka pani lagati boli, "Beta tu ekdam apne baap ki tarah
chodta hai. Wah bhi aisa hi maza dete the. Aahh beta ab tu so."

Fir Mammi apne room me chali gayi aur me bhi so gaya.

Agle din Mammi bahut khush lag rahi thi. Shumaila bhi Mammi ko dekh rahi thi.
Naashte par usne pooch hi liya, "Mammi aap bahut khush lag rahi ho?"

"Haan beti ab me hamesha khush rahungi."

"Kyon Mammi kya ho gaya?" wah bhi muskarati boli.

"Kuchh nahi beti tumhare Bhai jaan mera khoob khyal rakhta hai na isliye."

"Haan Mammi Bhai jaan bahut achche hain."

Fir wah college chali gayi aur me university.

Us raat Mammi ne goli le li thi aur apni choot me hi mera pani liya tha. Ham
dono maan bete 1 mahine isi tarah maza lete rahe.
kramashah…………………
Last edited by rajsharma on 16 Oct 2014 11:06, edited 3 times in total.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

Re: मा बेटा और बहन

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 09:33

फिर मम्मी ने मेरे लंड को मुँह मे लिया और चाटने लगी. यह मेरे साथ पहली

बार हो रहा था इसलिए मेरे लिए सम्हाल्ना मुश्किल था. 6-7 मिनेट मे ही मे

उनके मुँह मे झर गया. 1 मिनट बाद मम्मी ने लंड मुँह से बाहर किया और

मेरे पास बैठ गयी.

मे बोला, "सॉरी मम्मी आपका मुँह गंदा कर दिया."

"आहह बेटा तेरे पापा भी रोज़ रात मेरे मुँह को पहले ऐसे ही गंदा करते थे फिर

मेरी च.." मम्मी इतना कह चुप हो गयी.

मैं उनके चेहरे को देखते बोला, "फिर क्या क्या करते थे पापा? मम्मी जो पापा इसके बाद करते थे वह मुझे बता दो तो मे भी कर दूं. आपको पापा की कमी नही महसूस होगी."

मम्मी मेरे चेहरे को पकड़ बोली, "बेटा यह जो हुआ है एक माँ बेटे मे नही

होता. लेकिन बेटा इस वक़्त तुम मेरे बेटे नही बल्कि मेरे शौहर हो. अब तुम मेरे

शौहर की तरह ही करो. वह मेरे मुँह मे अपना झाड़कर अपने मुँह से मेरी

झारते थे फिर मुझे.."

"मम्मी अब जब आप मुझे अपना शौहर कह रही है तो शरमा क्यों रही हैं.

सब कुच्छ खुलकर कहिए ना."

"बेटा तू सच कहता है, चल अब मेरी चूत चाट और फिर मुझे चोद जैसे तेरे

पापा चोदते थे."

"ठीक है मम्मी आओ बिस्तर पर चलो."

फिर मम्मी को अपने बेड पर लिटाया और उनको पूरा नंगा कर दिया. मम्मी की

चूचियाँ अभी भी सख़्त थी. 2-3 साल से किसी ने टच नही किया था. मेने

चूत को देखा तो मस्त हो गया. मम्मी की चूत कसी लग रही थी. 40 की उमर

मे मम्मी 30 की ही लग रही थी. मम्मी को बेड पर लिटा अपने कपड़े अलग किए फिर

मम्मी की चूचियाँ पकड़ उनकी चूत पर मुँह रख दिया. चूचियों को दबा दबा

चूत चाट अपने झड़े लंड को कसने लगा.

8-10 मिनट बाद मम्मी मेरे मुँह पर ही झाड़ गयी. वह अपनी गांद तेज़ी से उचका

झाड़ रही थी. मे मम्मी की झड़ती चूत मे 1 मिनट तक जीभ पेले रहा फिर

उठ कर ऊपर गया और चूचियों को मुँह से चूसने लगा.

"हाअ आहह बेटा चूस अपनी मम्मी की चूचियों को. हाई पियो इनको हाई कितना

मज़ा आ रहा है बेटे के साथ."

मेरा लंड अब फिर खड़ा था. 4-5 मिनट बाद मम्मी ने मुझे अलग किया और फिर

मेरे लंड को मुँह से चूस्कर खड़ा करने के बाद बोली, "बेटा अब चढ़ जा अपनी

माँ पर और चोद डाल."

मेने मम्मी को बेड पर लिटाया और लंड को मम्मी के छेद पर लगा गॅप से अंदर

कर दिया.

अब मे तेज़ी से चुदाई कर रहा था और दोनो चूचियों को दबा दबा चूस भी

रहा था. मम्मी भी नीचे से गांद उच्छाल रही थी.

मे धक्के लगाता बोला, "मम्मी शाम को जब आपने बैगन लाने को कहा था तभी

से दिल कर रहा था कि काश अपनी मम्मी को मैं कुच्छ आराम दे सकूँ. मेरी

आरज़ू पूरी हुई."

"बेटा अगर तू मुझे चोदना चाहता था तो कोई गोली लेता आता. अब तू मेरे अंदर

मत झड़ना. आज बाहर झड़ना फिर कल मे गोली ले लूँगी तो ख़तरा नही होगा तब

अंदर डालना पानी. चूत मे गरम पानी बहुत मज़ा देता है."

करीब 10 मिनट बाद मेरा लंड झड़ने वाला हुआ तो मेने उसे बाहर किया और

मम्मी से कहा, "ःआह मम्मी अब मेरा निकलने वाला है."

"हाई बेटा ला अपने पानी से अपनी मम्मी की चूचियों को भिगो दे."

फिर मे मम्मी की चूचियों पर पानी निकाला. झारकर अलग हुआ तो मम्मी अपनी

चूचियों पर मेरे लंड का पानी लगाती बोली, "बेटा तू एकदम अपने बाप की तरह

चोद्ता है. वह भी ऐसा ही मज़ा देते थे. आहह बेटा अब तू सो जा."

फिर मम्मी अपने रूम मे चली गयी और मे भी सो गया.

अगले दिन मम्मी बहुत खुश लग रही थी. शुमैला भी मम्मी को देख रही थी.

नाश्ते पर उसने पूछ ही लिया, "मम्मी आप बहुत खुश लग रही हो?"

"हां बेटी अब मे हमेशा खुश रहूंगी."

"क्यों मम्मी क्या हो गया?" वह भी मुस्कराती बोली.

"कुच्छ नही बेटी तुम्हारा भाई जान मेरा खूब ख्याल रखता है ना इसलिए."

"हां मम्मी भाई जान बहुत अच्छे हैं."

फिर वह कॉलेज चली गयी और मे यूनिवर्सिटी.

उस रात मम्मी ने गोली ले ली थी और अपनी चूत मे ही मेरा पानी लिया था. हम

दोनो माँ बेटे 1 महीने इसी तरह मज़ा लेते रहे.

क्रमशः…………………
Last edited by rajsharma on 14 Oct 2014 07:07, edited 1 time in total.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

Re: मा बेटा और बहन

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 09:34

मा बेटा ओर बहन-2

एक रात जब मैं मम्मी को चोद रहा था तो मम्मी ने मुझसे पूछा

, “आमिर बेटा एक बात तो बता.”क्या मम्मी” बेटा अब शुमैला बड़ी हो रही है उसकी शादी करनी है. इस उम्र मैं

लड़कियों की शादी कर देनी चाहिये वरना अगर वो कुछ उल्टा सीधा कर ले तो बहुत बदनामी होती है. मम्मी आप सही कह रही हो. अब उसके लिये कोई लड़का देखना होगा. हाँ बेटा, अच्छा एक बात तो बता तुमको शुमैला कैसी लगती है? क्या मतलब मम्मी? मतलब तुझे अच्छी लगती है तो इसका मतलब वो किसी और को भी अच्छी लगेगी और उसे कोई लड़का पसंद कर लेगा तो उसकी शादी कर देंगे. हाँ मम्मी शुमैला बहुत खूबसूरत है. तू उसे कभी कभी अजीब सी नज़रो से देखता है? मैं अपनी चोरी पकड़े जाने पर घबरा कर बोला, नही नही मम्मी ऐसी बात नही है?” कल तो तू उसकी चूचियों को घूर रहा था. नही मम्मी. पगले मुझसे झूठ बोलता है. सच बता. मैं शर्माते हुये बोला, मम्मी कल वो बहुत अच्छी लग रही थी. कल वो छोटा सा कसा कुर्ता पहने थी.

जिसमें उसकी चूचियाँ बहुत अच्छी लग रही थी. तुझे पसंद है शुमैला की चूचियाँ? मैं चुप रहा तो मम्मी ने मेरे लंड को अपनी चूत से जकड़ कर कहा, “बताओ ना वो थोड़े ना सुन रही है?” हाँ मम्मी. उसकी चूचियों को कभी देखा है? नही मम्मी.”देखेगा?”कैसे?” पगले कोशिश किया कर उसे देखने की जब वो कपड़े बदले तब या जब वो नहाने जाये तब.””ठीक है मम्मी पर वो दरवाज़ा बंद करके सब करती है. हाँ पर तू जब भी घर पर रहे तब पजामा पहना करो और नीचे अंडरवेयर मत पहना कर. अपने लंड को पजामे मैं खड़ा कर उसे दिखाया करो. सोते समय मैं लंड को पजामे से बाहर निकाल कर रखना मैं उसको तुम्हारे रूम मैं झाड़ू लगाने भेजू तो उसे अपना लंड दिखाया करो और तुम अब उसकी चूचियों को घूरा करो और उसे छुने की कोशिश किया करो.

मैं मम्मी की बात सुन कर मस्त हो गया उसे तेज़ी से चोदने लगा. वो तेज़ी से चुदती हुई हाए हाए करते हुये बोली, हाँ बहन को देखने की बात सुन कर इतना मस्त हो गया की मम्मी की चूत की धज्जीयां उड़ा रहा है. फिर मेरी कमर को अपने पैरो से कस कर बोली, चोद अपनी मम्मी को हाअआआआ आज मुझे चोद कल से अपनी बहन पर लाइन मारो और उसे पटा कर चोदो. फिर 4-5 धक्के लगा कर मैं झड़ने लगा. झड़ने के बाद मैं मम्मी से चिपक कर बोला, मम्मी शुमैला तो मेरी छोटी बहन है, भला मैं उसके साथ ऐसा कैसे….? जब तू अपनी माँ के साथ चुदाई कर सकता है तो अपनी बहन के साथ क्यों नही? मम्मी आपकी बात और है.”क्यों?” मम्मी आप पापा के साथ सब कर चुकी हैं और अब उनके ना रहने पर मैं तो उनकी कमी पूरी कर रहा हूँ. लेकिन शुमैला तो अभी नासमझ और अनजान है, यही कहना चाह रहा हूँ? मम्मी.

बेटा अब तेरी बहन 18 की हो गई है. इस उम्र मैं लड़कियों को बहुत मस्ती आती है. आजकल वो कॉलेज भी जा रही है. मुझे लगता है की उसके कॉलेज के कुछ लड़के उसको फँसाने की कोशिश कर रहे हैं. पड़ोस के भी कुछ लड़के तेरी बहन पर नज़रे जमाये हैं. अगर तू उसे घर पर ही उसकी जवानी का मज़ा उसे दे देगा तो वो बाहर के लड़कों के चक्कर मैं नही पड़ेगी और अपनी बदनामी भी नही होगी. माँ आप सही कह रही हो मैं अपनी बहन को बाहर नही चुदने दूँगा. सच मम्मी शुमैला की बहुत मस्त चूचियाँ दिखती हैं. मम्मी अब तो उसे तैयार करो. करूँगी बेटा, मैं उसे भी यह सब धीरे धीरे समझा दूँगी. फिर अगले दिन जब मैं सुबह सुबह उठा तो देखा की वो मेरे रूम मैं झाड़ू लगा रही थी. मैं उसे देखने लगा. वो कसी हुई कमीज़ पहने थी और झुककर झाड़ू लगाने से उसकी लटक रही चूचियाँ हिलने से बहुत प्यारी लग रही थी. तभी उसकी नज़र मुझ पर पड़ी. मुझे अपनी चूचियों को घूरता पा वो मूड गई और जल्दी से झाड़ू लगा कर चली गई.

मैं उठा और फ्रेश होकर नाश्ता कर टी.वी देखने लगा. उस दिन छुटी थी इसलिये किसी को कही नही जाना था. मम्मी भी टी.वी देख रही थी. शुमैला भी आ गई और मैने उसे अपने पास बिठा लिया. मैं उसकी कसी कमीज़ से झाँक चूचियों को ही देख रहा था. मम्मी ने मुझे देखा तो चुपके से मुस्कुराते हुये इशारा करते कहा की ठीक जा रहे हो. शुमैला कभी कभी मुझे देखती तो अपनी चूचियों को घूरता पा वो सिमट जाती. आख़िर वो उठकर मम्मी के पास चली गई. मम्मी ने उसे अपने गले से लगाते हुये पूछा, क्या हुआ बेटी? कुछ नही मम्मी. वो बोली. तू यहाँ क्यों आ गई बेटी जा भाई के पास बेठ. मम्मी ववववाह भाईजान. वो फुसफुसाते हुये बोली. मम्मी भी उसी की तरह फुसफुसाई, क्या भाईजान. मम्मी भाईजान आज कुछ अजीब हरकत कर रहे हैं. वो धीरे से बोली तो मम्मी ने कहा, “क्या कर रहा तेरा भाई? मम्मी यहाँ से चलो तो बताऊ. मम्मी उसे ले कर अपने रूम की तरफ गई और मुझे पीछे आने का इशारा किया. मैं उन दोनो के रूम के अंदर जाते ही जल्दी से मम्मी के रूम के पास गया. मम्मी ने दरवाज़ा पूरा बंद नही किया था और पर्दे के पीछे छुपकर मैं दोनो को देखने लगा.

मम्मी ने शुमैला को अपनी गोद मैं बिठाया और बोली, क्या बात है बेटी जो तू मुझे यहाँ लाई है? मम्मी आज भाईजान मुझे अजीब सी नज़रों से देख रहे जैसे कॉलेज के..क्या पूरी बात बताऊ शुमैला बेटी. मम्मी आज भाईजान मेरे इनको बहुत घूर रहे है, जैसे कॉलेज मैं लड़के घूरते हैं.” इनको. मम्मी ने उसकी चूचियों को पकड़ा तो वो शर्माते हुये बोली, “सच मम्मी. अरे बेटी अब तू जवान हो गई है और तेरी यह चूचियाँ बहुत प्यारी हो गई हैं इसीलिये कॉलेज मैं लड़के इनको घूरते हैं. तेरा भाई भी इसीलिये देख रहा होगा की उसकी बहन कितनी खूबसूरत है और उसकी चूचियाँ कितनी जवान हैं. मम्मी आप भी..वो शरमाई. अरे बेटी मुझसे क्या शर्म. बेटी कॉलेज के लड़कों के चक्कर मैं मत आना वरना बदनामी होगी. अगर तू अपनी जवानी का मज़ा लेना चाहती है तो मुझको बताना.

मम्मी आप तो जाइये हटिये. अच्छा बेटी एक बात तो बता, जब भाईजान तेरी मस्त जवानीयों को घूरते हैं तो तुझे कैसा लगता है? मम्मी हटिये मैं जा रही हूँ. अरे पगली फिर शरमाई, चल बता कैसा लगता है जब तुम्हारे भाईजान इनको देखते हैं? अच्छा तो लगता है पर..पर वर कुछ नही बेटी, जानती है बाहर के लड़के तेरे यह देखकर क्या सोचते हैं? क्या मम्मी? यही की हाये तेरे दोनो अनार कितने कड़क और रसीले हैं. वो सब तेरे इन अनारो का रस पीना चाहते हैं. मम्मी चुप रहिये मुझे शर्म आती है. अरे बेटी यही एक बात है इनको लड़के के मुँह मैं देकर चूसने मैं बहुत मज़ा आता है. जानती हो लड़के इनको चूस कर बहुत मज़ा देते हैं. अगर एक बार कोई लड़का तेरे अनार चूस ले तो तेरा मन रोज़ रोज़ चूसाने को करेगा और अगर कोई तेरी नीचे वाली चूत को चाट कर तुझे चोद दे तब तू बिना लड़के के रह ही नही पायेगी. अब मैं जा रही हूँ मम्मी मुझे नही करवाना यह सब. हाँ बेटा कभी किसी बाहर के लड़के से कुछ भी नही करवाना वरना बहुत दर्द और बदनामी होती है. हाँ अगर तेरा मन हो तो मुझे बताना.”मम्मी..”अच्छा बेटी चल अब कुछ खाना खा लिया जाये तेरा भाई भूखा होगा. जा तू उससे पूछ क्या खायेगा, जो खाने को कहे बना देना. फिर मैं भाग कर टी.वी देखने आ गया.

थोड़ी देर बाद शुमैला आई और मुझसे बोली, भाईजान. जो खाना हो बता दीजिये मैं बना देती हूँ. मम्मी आराम कर रही हैं. मैं उसकी चूचियों को घूरते हुये अपने होठों पर जुबान फेरते हुये बोला, क्या क्या खिलाओगी? वो मेरी इस हरक़त से शरमाई और नज़रे झुका कर बोली, जो भी आप कहें. मैने उसका हाथ पकड़ कर अपने पास बिठाया और चूचियों को घूरता हुआ बोला, खाऊगा तो बहुत कुछ पर पहले इनका रस पीला दो. क्या भाईजान किसका रस? वो घबराते हुये बोली. मैं बात बदलता हुआ बोला, मेरा मतलब है पहले एक चाय ला दे फिर जो चाहे बना लो. वो चली गई. मैं उसको जाते देखता रहा. 5 मिनिट बाद वो चाय लेकर आई तो मैने उससे कहा अपने लिये नही लाई. मैं नही पीऊगी. पीओं ना लो इसी मैं पी लो. एक साथ पीने से आपस मैं प्यार बड़ता है. वो मेरी बात सुन कर शरमाई फिर कुछ सोच कर मेरे पास बैठ गई तो मैने कप उसके होठों से लगाया तो उसने एक सीप लिया फिर मैंने एक सीप लिया. इस तरह से पूरी चाय ख़त्म हुई तो वो बोली, अब खाने का इंतज़ाम करती हूँ.

मैने उसका हाथ पकड़ कर खींचते हुये कहा, अभी क्या जल्दी है थोड़ी देर रूको बहुत अच्छा प्रोग्राम आ रहा है देखो. मेरे खींचने पर वो मेरे उपर आ गिरी थी. वो हटने की कोशिश कर रही थी पर मैने उसे हटने नही दिया तो वो बोली, हाय भाईजान हटिये क्या कर रहे हैं? कुछ भी तो नही टी.वी देखो मैं भी देखता हूँ. ठीक है पर छोड़िये तो ठीक से बैठकर देखूं. ठीक से बैठी हो, शुमैला मेरी छोटी बहन अपने बड़े भाई की गोद मैं बैठकर देखो ना टी.वी. वो चुप रही और हम टी.वी देखने लगे. थोड़ी देर बाद मैने उसके हाथो को अपने हाथो से इस तरह दबाया की उसकी कमीज़ सिकुड कर आगे को हुई और उसकी दोनो चूचियाँ दिखने लगी. उसकी नज़र अपनी चूचियों पर पड़ी तो वो जल्दी से मेरी गोद से ऊतर गई और तभी मम्मी ने उसे आवाज़ दी तो वो उठकर चली गयी.

मैं भी पहले की तरह पर्दे के पीछे छुप कर देखने लगा. वो अंदर गई तो मम्मी ने पूछा, क्या हुआ बेटी आमिर ने बताया नही क्या खायेगा? वो मम्मी भाईजान ने.. क्या भाईजान ने, बताओ ना बेटी क्या किया तेरे भाई ने? वो भाईजान ने मुझे अपनी गोद मैं बिठा लिया था और फिर ओर फिर.. और फिर क्या? और और कुछ नही. अरे अगर तेरे भाई ने तुझे अपनी गोद मै बिठा लिया तो क्या हुआ, आख़िर वो तेरा बड़ा भाई है. अच्छा यह बता उसने गोद मैं ही बिठाया था या कुछ और भी किया था? और तो कुछ नही मम्मी भाईजान ने फिर मेरे इन दोनो को देख लिया था. मुझे लग रहा है मेरे बेटे को अपनी बहन की दोनो रसीली चूचियाँ पसंद आ गई हैं तभी वो बार बार इनको देख रहा है. बेचारा मेरा बेटा, अपनी ही बहन की चूचियों को पसंद करता है. अगर बाहर की कोई लड़की होती तो देख लेता जी भर कर पर साथ में वो डरता होगा. अच्छा बेटी यह बता जब तुम्हारे भाईजान तेरी चूचियों को घूरता है तो तुमको कैसा लगता है? ज्जज्ज जी मम्मी वो लगता तो अच्छा है पर… पर क्या बेटी. अरे तुझे तो खुश होना चाहिये की तुम्हारा अपना भाई ही तुम्हारी चूचियों का दीवाना हो गया है.

अगर मैं तेरी जगह होती तो मैं तो बहाने बहाने से अपने भाई को दिखाती. “मम्मी.”हाँ बेटी सच कह रही हूँ. क्या तुझे अच्छा नही लगता की कोई तेरा दीवाना हो और हर वक़्त बस तेरे बारे मैं सोचे और तुझे देखना चाहे. तुझे चोदना चाहे. मम्मी आप भी. अरे बेटी कोई बात नही जा अपने भाई को बेचारे को दो चार बार अपनी दोनो मस्त जवानीयों की झलक दिखा दिया कर. वैसे उस बेचारे की ग़लती नही, तू है ही इतनी कड़क जवान की वो क्या करे. देख ना अपनी दोनो चूचियों को लग रहा है अभी कमीज़ फाड़कर बाहर आ जायेगी. जा तू भाई के पास जाकर टी.वी देख और बेचारे को अपनी झलक दे मैं खाने का इंतज़ांम करती हूँ. खाना तैयार होने पर में तुम दोनो को बुला लूँगी.” नेक्स्ट पार्ट नेक्स्ट टाइम आप को मेरी यह कहानी केसी लगी. आप मुझे जरुर बताये.



Maa beta or bahan-2

gataank se aage…………………
Ek raat jab me Mammi ko chod raha tha to Mammi ne mujhse poochha, "Amir beta ek baat tu bata."

"Kya Mammi"

"Beta ab Shumaila badi ho rahi hai uski shadi karni hai. Is umar me ladkiyon
ki shadi kar deni chahiye warna agar wah kuchh ulta seedha kar le to bahut
badnami hoti hai."

"Mammi aap sahi kah rahi ho. Ab uske liye koi ladka dekhna hoga."

"Haan beta, achha ek baat to bata tumko Shumaila kaisi lagti hai?"

"Kya matlab Mammi?"

"Matlab tujhe achhi lagti hai to iska matlab wah kisi ko bhi achhi lagegi aur
use koi ladka pasand kar lega to uski shadi kar denge."

"Haan Mammi Shumaila bahut khoobsurat hai."

"Tu use kabhi kabhi ajeeb si nazro se dekhta hai?"

Me apni chori pakde jaane par ghabra kar bola, "nn nahi Mammi aisi baat nahi?"

"Kal tu uski choochiyon ko ghoor raha tha."

"Nahi Mammi."

"Pagle mujhse jhooth bolta hai. Sach bata."

Me sharmaata sa bola, "Mammi kal wah bahut achhi lag rahi thi. Kal wah chhota
sa kasa kurta pahne thi jisse uski choochiyan bahut achchi lag rahi thi."

"Tujhe pasand hai Shumaila ki choochiyan?"

Me chup raha to Mammi ne mere lund ko apni choot se jakad kaha, "Bataao na
wah thode na sun rahi hai?"

"Haan Mammi."

"Uski choochiyon ko kabhi dekha hai?"

"Nahi Mammi."

"Dekhega?"

"Kaise?"

"Pagle koshish kiya kar use dekhne ki jab wah kapade badle tab ya jab wah nahane
jaye tab."

"theek hai Mammi par wah darwaza band karke sab karti hai."

"Haan par tu jab bhi ghar par raha kar tab tahmad pahna kar aur niche underwear
nahi. Apne lund ko tahmad me khada kar use dikhaaya karo. Sote me lund ko
tahmad se bahar nikale rakhna me usko tumhare room me jhaaroo lagane bheju
to use apna dikhaaya karo aur tum ab uski choochiyon ko ghoora karo aur use
chhoone ki koshish kiya karo."

Me Mammi ki baat se mast ho use tezi se chodne laga. Wah tezi se chudti haai haai
karti boli, "Hai bahan ko dekhne ki baat sun itna mast ho gaya ki Mammi ki choot
ki dhajji udaaye de raha hai."

Fir meri kamar ko apne pairo se kas boli, "chod apni Mammi ko hhhhhhaaa aaj
mujhe chod kal se apni bahan par line maaro aur use patakar chodo."

Fir 4-5 dhakke laga me jhaDane laga.

JhaDane ke baad me Mammi se chipak bola, "Mammi Shumaila tu meri chhoti bahan
hai, bhala me uske saath kaise....?"

"Jab tu apni maan ke saath chudai kar sakta hai tu apni bahan ke saath kyon
nahi?"

"Mammi aapki baat aur hai."

"Kyon?"

"Mammi aap Papa ke saath sab kar chuki hain aur ab unke na rahne par me to
unki kami poori kar raha hoon. Lekin Shumaila tu abhi anchu.."

"Anchudi hai, yahi kahna chah raha hai na?"

"Haan Mammi."

"Beta ab teri bahan 17 ki ho gayi hai. Is umar me ladkiyon ko bahut masti aati
hai. Aajkal wah college bhi ja rahi hai. Mujhe lagta hai ki uske college ke
kuchh ladke usko fansaane ki koshish kar rahe hain. Pados ke bhi kuchh ladke
teri bahan par nazre jamaye hain. Agar tu use ghar par hi uski jawani ka maza
use de dega tu wah bahar ke ladkon ke chakkar me nahi padegi aur apni badnami
bhi nahi hogi."

"Maan aap sahi kah rahi ho me apni bahan ko bahar nahi chudne doonga. Sach
Mammi Shumaila kit u bahut mast choochiyan dikhti hain. Mammi tub hi use taiyyar
karo."

"Karungi beta, me use bhi yahi sab dhire dhire samjha doongi."

Fir agle din jab me subah subah utha tu dekha ki wah mere room me jharoo de
rahi hai. Me use dekhne laga. Wah kasi huyi kamenez pahne thi aur jhukkar
jharoo dene se uski latak rahi choochiyan hilhil bahut pyaari lag rahi thi.
Tabhi uski nazar mujhpar padi. Mujhe apni choochiyon ko ghoorta pa wah mud gayi
aur jaldi se jharoo poori kar chali gayi.

Me utha aur fresh hokar nashta kar TV dekhne laga. Us din chhutti thi isliye
kisi ko kahi nahi jana tha. Mammi bhi TV dekh rahi thi. Shumaila bhi aa gait u
mene use apne paas bitha liya. Me uski kasi kamenez se jhaankti choochiyon ko
hi dekh raha tha. Mammi ne mujhe dekha tu chupke se muskrati ishara karte kaha
ki theek jaa rahe ho.

Shumaila kabhi kabhi mujhe dekhti tu apni choochiyon ko ghoorta pa wah simat
jati. Akhir wah uthkar Mammi ke paas chali gayi. Mammi ne use apne gale se
lagate pochha, "Kya hua beti?"

"Kuchh nahi Mammi." Wah boli.

"Tu yahan kyon aa gayi beti ja bhai ke paas aith."

"Mammi wwwwah bb Bhai jaan." Wah fusfusate hue boli.

Mammi bhi usi ki tarah fusfusayi, "Kya Bhai jaan."

"Mammi Bhai jaan aaj kuchh ajeeb harkat kar rahe hain." Wah dhire se boli tu
Mammi ne kaha, "Kya kar raha tera bha?"

"Mammi yahan se chalo tu bataun."

Mammi use le apne room ki taraf gayi aur mujhe pichhe aane ka ishara kiya. Me
undono ke room ke andar jaate hi jaldi se Mammi ke room ke paas gaya. Mammi ne
darwaza poora band nahi kiya tha aur parde se chhupkar me dono ko dekhne laga.
Mammi ne Shumaila ko apni god me bithaia aur boli, "Kya baat hai beti jot u
mujhe yahan layi hai?"

"Mammi aaj Bhai jaan mujhe ajeeb si nazron se dekh rahe jaise college ke.."

"Kya poori baat batao Shumaila beti."

"Mammi aaj Bhai jaan meri inko bahut ghoor rahe hai, jaise college me ladke
ghoorte hain."

"Inko." Mammi ne uski choochiyon ko pakra tu wah sharmati si boli, "jjj ji
Mammi."

"Are beti ab tu jawan ho gayi hai aur teri yeh choochiyan bahut pyaari ho gayi
hain isiliye college me ladke inko ghoorte hain. Tera bhai bhi isiliye dekh
raha hoga ki uski bahan kitni khoobsurat hai aur uski choochiyan kitni jawan
hain."

"Mammi aap bhi.." wah sharmayi.

"Are beti mujhse kya sharam. Beti college ke ladkon ke chakkar me mat aana
warna badnami hogi. Agar tu apni jawani ka maza lena chahti hai tu mujhse
batana."

"Mammi aap tu jaiye hatiye."

"Achha beti ek baat tu bata, jab Bhai jaan teri dono mast jawaniyon ko ghoorte
hain tu tujhe kaisa lagta hai?"

"Mammi hatiye me ja rahi hoon."

"Are pagli fir sharmayi, chal bata kaisa lagta hai jab tumhare Bhai jaan inko
dekhte hain?"

"jjj jji achha tu laga par.."

"Par war kuchh nahi beti, janti hai bahar ke ladke tere yah dekhkar kya sochte
hain?"

"Kya Mammi?"

"Yahi ki haai tere dono anaar kitne kadak aur raseele hain. Wah sab tere in
anaaro ka rass peena chahte hain."

"Mammi chup rahiye mujhe sharam aati hai."

"Are beti wais eek baat hai inko ladke ke munh me dekar chusane me bahut
maza aata hai. Jaanti ho ladke inko chooskar bahut maza dete hain. Agar ek baar
koi ladka tere anaar choos le tu tera mann roz roz chusane ko karega aur agar
koi teri niche wali chaatkar tujhe chod de tab tu bina ladke ke rah hi nahi
payegi."

"Ab me ja rahi hoon Mammi mujhe nahi karwana tah sab."

"Haan beta kabhi kisi bahar ke ladke se kuchh bhi nahi karwana warna bahut darr
aur badnami hoti hai. Haan agar tera mann ho tu mujhe batana."

"Mammi.."

"Achha beti chal ab kuchh khana wana liya jaye tera bhai bhookha hoga. Ja tu
usse pooch kya khaaiga, jo khane ko kahe bana dena."

Fir me bhaag kar TV dekhne aa gaya. Thodi der baad Shumaila aayi aur mujhse
boli, "Bhai jaan."

"Hoon."

"Bhai jaan jo khana ho bata dijiye me banati Mammi aaram kar rahi hain."

Me uski choochiyon ko ghoorte apne hoont par zaban ferta bola, "Kya kya
khilaogi?"

Wah meri is harqat se sharmayi aur nazre jhuka boli, "Jo bhi aap kahen."

Mene uska haath pakad apne paas bithaia aur choochiyon ko ghoorta bola,
"Khaunga tu bahut kuchh par pahle inka rass pila do."

"jj ji kya Bhai jaan kiska rass?" Wah ghabrati si boli.

Me baat badalta bola, "Mera matlab hai pahel ek chai la de fir jo chahe bana
lo.

Wah chali gayi. Me usko jaate dekhta raha. 5 minat baad wah chai lekar aayi
tu mene use kaha, "Apne liye nahi layi?"

"Me nahi piyungi."

"Piyo na lo isi me peelo. Ek saath pine se aapas me pyaar barhta hai."

Wah meri baat sun sharmayi fir kuchh soch paas baith gayi tu mene cup uske
hontho se lagaya tu usne ek sip liya fir me eek sip liya. Is tarah se poori
chai khatam huyi tu wah boli, "Ab khane ka intezam karti hoon."

Mene uska haath pakad khinchte hue kaha, "Abhi kya jaldi hai thodi der ruko
bahut achha program aa raha dekho."

Mere khinchne par wah mere opar giri thi. Wah hatne ki koshish kar rahi thi par
mene use hatne nahi diya tu wah boli, "Haai Bhai jaan hatiye kya kar rahe hain?"

"Kuchh bhi tu nahi TV dekho me bhi dekhta hoon."

"Theek hai par chhoriye tu theek se baithkar dekhun."

"Theek se baithi hu, Shumaila meri chhoti bahan apne bade bhai ki god me
baithkar dekho na TV."

Wah chup rahi aur ham TV dekhne lage. Thodi der baad mene uske haatho ko apne
haatho se is tarah dabaya ki uski kamenez sikud kar aage ko huyi aur uski dono
choochiyan dikhne lagi. Uski nazar apni choochiyon par padi tu wah jaldi se meri
god se utar gayi aur tabhi Mammi ne use awaz di tu wah uthkar chali gayi. Me
bhi pahle ki tarah parde ke piche chip dekhne laga.

Wah andar gayi tu Mammi ne poochha, "Kya hua beti Amir ne bataya nahi kya
khaaiga?"

"Wwaah wah Mammi Bhai jaan ne.."

"Kya Bhai jaan ne, batao na beti kya kiya tere bhai ne?"

"Wah Bhai jaan ne mujhe apni god me bitha liya tha aur fir aaur fir.."

"Aur fir kya?"

"Aur aur kuchh nahi."

"Are agar tere bhai ne tujhe apni god mebitha liya tu kya hua, aakhir wah
tera bada bhai hai. Achha yah bata usne gd me hi bithaia tha ya kuchh aur bhi
kiya tha?"

"Aur tu kuchh nahi Mammi Bhai jaan ne fir meri dono ko dekh liya tha."

"Mujhe lag raha hai mere bete ko apni bahan ki dono rasili choochiyan pasand aa
gayi hain tabhi wah baar baar inko dekh raha. Bechara mera beta, apni hi bahan
ki choochiyon ko pasand karta hai. Agar bahar ki koi ladki hoti tu dekh leta ji
bharkar par ter sath wah darta hoga. Achha beti yah bata jab tumhare Bhai jaan
teri choochiyon ko ghoorta hai tu tumko kaisa lagta hai?"

"Jjjj Ji Mammi wa wah lagta tu achha hai par..."

"Par kya beti. Are tujhe tu khush hona chahiye ki tumhara apna bhai hi tumhari
choochiyon ka deewana ho gaya ha. Agar me teri jagah hoti tu me tu bahane
bahane se apne bhai ko dikhati."

"Mammi."

"Haan beti sach kah rahi hoon. Kya tujhe achha nahi lagta ki koi tera deewana ho
aur har waqt bas tere bare me soche aur tujhe dekhna chahe. Tujhe chodna
chahe."

"Mammi aap bhi."

"Are beti koi baat nahi jaa apne bhai ko bechare ko do chaar baar apni dono mast
jawaniyon ki jhalak dikha diya kar. Waise us bechare ki galti nahi, tu hai hi
itni kadak jawan ki wah kya kare. Dekh na apni dono choochiyon ko lag raha hai
abhi kamenez phaadkar bahar aa jayengi. Jaa tu bhai ke paas jakar TV dekh aur
bechare ko apni jhalak de me khane ka intezaam karti hoon. Khana taiyyar hone
par tum dono ko bula lungi."

kramashah…………………
Last edited by rajsharma on 14 Oct 2014 07:07, edited 1 time in total.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

Re: मा बेटा और बहन

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 09:37

मा बेटा ओर बहन-3

गतान्क से आगे…………………

मे मम्मी की बात सुन वापस आ टीवी देखने लगा. थोड़ी देर बाद शुमैला आई तो

मेने कहा, "क्या हुआ शुमैला खाना रेडी है?"

"जी भाई जान खाना मम्मी बना रही हैं."

"अच्छा तो आ तू टीवी देख."

वह मेरे पास आ गयी तो मेने उसे अपनी बगल मे बिठा लिया. इस बार मे चुप

बैठा टीवी देखता रहा. 5 मिनट बाद वह बार बार पहलू बदलती और मुझे

देखती. मे समझ गया कि अब सही मौका है. तब मेने उसके गले मे हाथ

डाला और बोला, "बहुत अच्छी मूवी है."

"जी भाई जान."

फिर उसे अपनी गोद मे धीरे से झुकाया तो वह मेरी गोद की तरफ झुक गयी. तब

मेने उसे अपनी गोद पर ठीक से झुकाते कहा, "शुमैला आराम से देखो टीवी मम्मी

तो किचन मे होगी?"

"जी भाई जान ठीक से बैठी हूँ." शुमैला यह कहते हुए मेरी गोद मे सर

रख लेट गयी.

वह टीवी देख रही थी और मे उसकी चूचियाँ. तभी उसने मुझे देखा तो मे

ललचाई नज़रों से उसकी चूचियों को देखता रहा. वह मुस्काई और फिर टीवी की

तरफ देखने लगी. अब वह शर्मा नही रही थी. तब मेने उसकी कमीज़ को नीचे

से पकड़ा और नीचे की तरफ खींचा. वह कुच्छ ना बोली. मे थोड़ा सा और

खींचा तो उसकी चूचियाँ ऊपर से झाँकने लगी. अब मे उसकी गदराई कसी

चूचियों को देखता एक हाथ को उसके पेट पर रख चुका था. हमलोग 3-4 मिनट

तक इसी तरह रहे.

फिर वह मेरा हाथ अपने पेट से हटाती उठी तो मेने कहा, "क्या हुआ शुमैला?"

"कुच्छ नही भाई जान अभी आती हूँ."

"कहाँ जा रही हो?'

"भाई जान पेशाब लग आई है अभी आती हूँ करके."

वह चली गयी और मे उसकी पेशाब करती चूत के बारे मे सोचने लगा.

तबी वह वापस आई तो उसे देख मे खुश हो गया. उसने अपनी कमीज़ का ऊपर का

बटन खोल दिया था. मे समझ गया कि अब वह मेरी किसी हरकत का बुरा नही

मानेगी. वह आई और पहले की तरह मेरी गोद मे सर रख टीवी देखने लगी. मेने

फिर चुपके से हाथ से उसकी कमीज़ नीचे करी और फिर धीरे से उसके खुले

बटन के पास हाथ लगा कमीज़ को दोनो ओर फैला दिया. मे जानता था कि वह

सब समझ रही है पर वह अंजान बनी लेटी रही. जब कमीज़ को इधर उधर

किया तो उसकी आधी चूचियाँ दिखने लगी. वह अंदर बहुत छ्होटी सी ब्रा पहने

थी जिससे उसके निपल ढके थे.

मे समझ गया कि मैं अब कुच्छ भी कर सकता हूँ वह बुरा नही मानेगी. फिर भी

मेने पहली बार की वजह से एकदम से कुच्छ भी करने के बजाए धीरे धीरे ही

शुरुआत करना ठीक समझा. फिर एक हाथ को उसकी रान पर रखा और 4-5 बार

सहलाया. वह चुप रही तब मेने उसकी कमीज़ के दो बटन और खोल दिए और अब

उसकी ब्रा मे कसी पूरी चूचियाँ मेरी आँखों के सामने थी. अब मेरी गोद मे

मेरी 17 साल की बहन शुमैला लेटी थी और मे उसकी चूचियों को ब्रा मे

देख रहा था. ब्रा का हुक नीचे था जिसे अब मे खोलना चाह रहा था.

मेने दो तीन बार उसकी पीठ पर हाथ ले जाकर टटोला तो मेरे मंन की बात

समझ गयी और उसने करवट ले ली. तब मेने उसकी ब्रा का हुक अलग किया. फिर उसका

कंधा पकड़ हल्का सा दबाया तो वह फिर सीधी हो गयी और टीवी की तरफ देखती

रही. मे कुच्छ देर उसे देखता रहा फिर ब्रा को उसकी चूचियों से हटाया तो उसने

शर्मा कर अपनी आँखे बंद कर ली.

उसकी दोनो चूचियों को देखा तो देखता ही रह गया. एक गुलाबी रंग की बहुत

टाइट थी दोनो चूचियाँ और निपल एकदम लाल लाल बहुत प्यारा लग रहा था.

मे उसकी चूचियों को देख सोच रहा था कि सच इतनी प्यारी और खूबसूरत

चूचियाँ शायद कभी और नही देख पाउन्गा. वह आँखें बंद किए तेज़ी से

साँसे ले रही थी. मेने अभी उसकी चूचियों को च्छुआ नही था केवल उनका

ऊपर नीचे होना देख रहा था. चूचियों का साइज़ बहुत अच्छा था, आराम से

पूरे हाथ मे आ सकती थी. मम्मी की चुचियो के लिए तो दोनो हाथो को लगाना पड़ता था.

मेने उससे कहा, "शुमैला."
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

Re: मा बेटा और बहन

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 09:38

वह चुप रही तो फिर बोला, "शुमैला ए शुमैला क्या हुआ? तू टीवी नही देख रही.

देखो ना कितना प्यारा सीन है."

वह फिर भी चुप आँखें बंद किए रही तो मे फिर बोला, "शुमैला देखो ना."

"ज्ज्ज्ज्ज ज्ज जी भाई जान देख तो रही हूँ."

"कहाँ देख रही हो. देखो कितनी अच्छी फिल्म है."

तब उसने धीरे से ज़रा सी आँखे खोली और टीवी की तरफ देखने लगी. कुच्छ देर

मे उसने फिर आँखे बंद कर ली तो मेने उसके गालों को पकड़ उसके चेहरे को

अपनी ओर करते कहा, "क्या हुआ शुमैला तुम टीवी नही देखोगी क्या?"

वह चुप रही तो उसके गालों को दो तीन बार सहला कर बोला, "कोई बात नही अगर तुम

नही देखना चाहती तो जाओ किचन मे मम्मी की हेल्प करो जाकर."

उसने मेरी बात सुन अपनी आँखे खोल मुझे देखा फिर टीवी की ओर देखते बोली, "देख

तो रही हूँ भाई जान."

इस बार उसने आँखें बंद नही की और टीवी देखती रही. थोड़ी देर बाद मेने एक

हाथ को धीरे से उसकी एक चूची पर रखा तो वह सिमट सी गयी पर टीवी की ओर

ही देखती रही. हाथ को उसकी चूची पर रखे थोड़ी देर उसके चेहरे को देखता

रहा फिर दूसरे हाथ को दूसरी चूची पर रख हल्का सा दबाया तो उसने फिर

आँखे बंद कर ली.

मेने दो तीन बार दोनो चूचियों को धीरे से दबाया और फिर उसके निपल को

पकड़ मसाला तो वह मज़े से सिसक गयी. दोनो निपल को चुटकी से मसल बोला,

"शुमैला, लगता है तुमको फिल्म अच्छी नही लग रही, जाओ तुम किचन मे मैं

अकेला देखता हूँ."

इतना कह उसकी चूचियों को छ्चोड़ दिया और उसे अपनी गोद से हटाने की कोशिश की

तो वह जल्दी आँखे खोल मुझे देखती घबराती सी बोली, "हाई न्न्न नही तो

भाई जान बहुत अच्छी फिल्म है, हाई भाई जान देख तो रही हूँ. आप भी देखिए

ना मे भी देखूँगी."

वह फिर लेट गयी और सर मोड़ कर टीवी देखने लगी. मेने उसका चेहरा अपनी ओर करते

कहा, "शुमैला."

"जी भाई जान देखूँगी फिल्म मुझे भी अच्छी लग रही है."

"हाई शुमैला तू कितनी खूबसूरत है. हाई तेरी यह कितनी प्यारी हैं."

"क्या भाई जान?"

"तेरी चूचियाँ?"

वह अपनी चूचियों को देखती बोली, "हाई भाई जान आपने इनको नंगी कर दिया

हाई मुझे शरम आ रही है."

"कोई नही आएगा. तुझे बहुत मज़ा आएगा." और दोनो चूचियों को पकड़ लिया और

दबा दबा उसे मस्त करने लगा.

वह मेरे हाथो पर अपने हाथ रख बोली, "भाई जान मम्मी हैं."

"वह तो किचन मे है. तू डर मत उनको अभी बहुत देर लगेगी खाना बनाने

मे."

फिर उसकी दोनो चूचियों को मसलता रहा और वह टीवी की ओर देखती रही. वह

बहुत खुश लग रही थी. 10 मिनट तक उसकी चूचियों को मसल्ने के बाद

झुककर दोनो चूचियों को बारी बारी से चूमा तो उसके मुँह से एक सिसकारी

निकल गयी.

"क्या हुआ शुमैला?'

"कुच्छ नही भाई जान हााआहह भाई जान."

"क्या है शुमैला?"

"भाई जान."

"क्या है बता ना?"

"भाई जान मम्मी तो नही आएँगी?"

"अभी नही आएँगी, अभी उनको आधा घंटा और लगेगा खाना बनाने मे."

"भाई जान इनको.."

"क्या बताओ ना तुम तो शर्मा रही हो." और मैने झुककर उसके होंठो को चूमा.

क्रमशः…………………




Maa beta or bahan-3

gataank se aage…………………

Me Mammi ki baat sun wapas aa TV dekhne laga. Thodi der baad Shumaila aayi tu
mene kaha, "Kya hua Shumaila khana ready hai?"

"Ji Bhai jaan khana Mammi bana rahi hain."

"Achha tu aa tu TV dekh."

Wah mere paas aa gayi tu mene use apni bagal me bitha liya. Is baar me chup
baitha TV dekhta raha. 5 minat baad wah baar baar pahlu badalti aur muje
dekhti. Me samajh gaya ki ab sahi mauka hai. Tab mene useke gale me haath
daala aur bola, "Bahut achhi movie hai."

"Ji Bhai jaan."

Fir use apni god me dhire se jhukaya tu wah meri god ki taraf jhuk gayi. Tab
mene use apni god par theek se jhukate kaha, "Shumaila aaram se dekho TV Mammi
tu kitchen me hogi?"

"Ji Bhai jaan theek se baithi hoon." Shumaila yah kahte hue meri god me sar
rakh let gayi.

Wah TV dekh rahi thi aur me uski choochiyan. Tabhi usne mujhe dekha tu me
lalchaii nazron se uski choochiyon ko dekhta raha. Wah muskayi aur fir TV ki
taraf dekhne lagi. Ab wah sharma nahi rahi thi. Tab mene uski kamenez ko neeche
se pakda aur neeche ki taraf khincha. Wah kuchh na boli. Me thoda sa aur
khincha tu uski choochiyan oopar se jhaankne lagi. Ab me uski gadrayi kasi
choochiyon ko dekhta ek haath ko uske pet par rakh chuka tha. Hamlog 3-4 minat
tak isi tarah rahe.

Fir wah mera haath apne pet se hatati uthi tu mene kaha, "Kya hua Shumaila?"

"Kuchh nahi Bhai jaan abhi aati hoon."

"Kahan ja rahi ho?'

"Bhai jaan peshab lag aayi hai abhi aati hoon karke."

Wah chali gayi aur me uski peshaab karti choot ke bare me sochne laga.

Tabi wah wapas aayi tu use dekh me khush ho gaya. Usne apni kamenez ka oopar ka
button khol diya tha. Me samajh gaya ki ab wah meri kisi harkat ka bura nahi
manegi. Wah aayi aur pahle ki tarah meri god me sar rakh TV dekhne lagi. Mene
fir chupke se haath se uski kamenez neeche kari aur fir dhire se uske khule
button ke paas haath laga kamenez ko dono oor phaila diya. Me jaanta tha ki wah
sab samajh rahi hai par wah anjaan bani leti rahi. Jab kamenez ko idhar udhar
kiya tu uski aadhi choochiyan dikhne lagi. Wah andar bahut chhoti si bra pahne
thi jisse uske niiple dhake the.

Me samajh gaya ki ab kuchh bhi kar sakta hoon wah bura nahi manegi. Fir bhi
mene pahli baar ki wajah se ekdam se kuchh bhi karne ke bajaye dhire dhire hi
shuruaat karma theek samjha. Fir ek haath ko uski raan par rakha aur 4-5 baar
sahlaya. Wah chup rahi tab mene uski kamenez ke do button aur khol diye aura b
uski bra me kasi poori choochiyan meri aankhon ke saamne the. Ab meri god me
meri 17 saal ki bahan Shumaila leti thi aur me uski choochiyon ko bram me
dekh raha tha. Bra ka hook niche tha jise ab me kholna chah raha tha.

Mene do teen baar uski peeth par haath le jakar tatola tu mere mann ki baat
samajh gayi aur usne karwat le li. Tab mene uski brak hook alag kiya. Fir uska
kandha pakad halka sa dabaya tu wah fir sedhi ho gayi aur TV ki taraf dekhti
rahi. Me kuchh der use dekhta raha fir bra ko uski choochiyon se hatay tu usne
sharmakar apni aankhe band kar li.

Uski dono choochiyon ko dekha tu dekhta hi rah gaya. Ek gulabi rang ki bahut
tight thi dono choochiyan aur niiple ekdam laal laal bahut pyaara lag raha tha.
Me uski choochiyon ko dekh soch raha tha ki sach itni pyaari aur khoobsurat
choochiyan shaiad kabhi aur nahi dekh paunga. Wah aankhen band kiye tezi se
saanse le rahi thi. Mene abhi uski choochiyon ko chhua nahi tha kewal unka
oopar niche hona dekh raha tha. Choochiyon ka size bahut achha tha, aaram se
poore haath me sakti thi. Mammi kit u dono haath lagana padta tha.

Mene usse kaha, "Shumaila."

Wah chup rahi tu fir bola, "Shumaila a Shumaila kya hua? Tu TV nahi dekh rahi.
Dekho na kitna pyaara scene hai."

Wah fir bhi chup aankhen band kiye rahi tu me fir bola, "Shumaila dekho na."

"jjjjj jj ji Bhai jaan dekh tu rahi hoon."

"Kahan dekh rahi ho. Dekho kitni achhi film hai."

Tab usne dhire se zara si aankhe kholi aur TV ki taraf dekhne lagi. Kuchh der
me usne fir aankhe band kar lit u mene uske gaalon ko pakad uske chehre ko
apni oor karte kaha, "Kya hua Shumaila tum TV nahi dekhogi kya?"

Wah chup rahi tu uske gaalon ko do teen baar sahla bola, "Koi baat nahi agar tum
nahi dekhna chahti tu jao kitchen me Mammi ki help karo jakar."

Usne meri baat sun apni aankhe khol mujhe dekha fir TV ki oor dekhte boli, "Dekh
tu rahi hoon Bhai jaan."

Is baar usne aankhen band nahi ki aur TV dekhti rahi. Thodi der baad me eek
haath ko dhire se uski ek choochi par rakha tu wah simat si gayi par TV ki oor
hi dekhti rahi. Haath ko uski choochi par rakhe thodi der uske chehre ko dekhta
raha fir doosre haath ko doosri choochi par rakh halka sa dabaya tu usne fir
annkhe band kar li.

Mene do teen baar dono choochiyon ko dhire se dabaya aur fir uske niiple ko
pakad masala tu wah maze se sisak gayi. Dono nipple ko chutki se masal bola,
"Shumaila, lagta hai tumko film achhi nahi lag rah, jao tum kitchen me me
akela dekhta hoon."

Itna kah uski choochiyon ko chhod diya aur use apni god se hatane ki koshish kit
u wah jaldi aankhe khol mujhe dekhti ghabrati si boli, "Haai nnn nahi tu
Bhai jaan bahut achhi film hai, haai Bhai jaan dekh tu rahi hoon. Aap bhi dekhiye
na me bhi dekhungi."

Wah fir let gayi aur sar modkar TV dekhne lagi. Mene uska chehra apni oor karte
kaha, "Shumaila."

"Ji Bhai jaan dekhungi film mujhe bhi achhi lag rahi hai."

"Haai Shumaila tu kitni khoobsurat hai. Haai teri yah kitni pyaari hain."

"Kya Bhai jaan?"

"Teri choochiyan?"

Wah apni choochiyon ko dekhti boli, "Haai Bhai jaan aapne inko nangi kar diya
haai mujhe sharam aa rahi hai."

"Koi nahi aayega. Tujhe bahut maza ayega." Aur dono choochiyon ko pakad liya aur
daba daba use mast karne laga.

Wah mere haatho par apne haath rakh boli, "Bhai jaan Mammi hain."

"Wah tu kitchen me hai. Tu darr mat unko abhi bahut der lagegi khana banana
me."

Fir uski dono choochiyon ko masalta raha aur wah TV ki oor dekhti rahi. Wah
bahut khush lag rahi thi. 10 minat tak uski choochiyon ko masalne ke baad
jhukkar dono choochiyon ko baari baari se chooma tu uske munh se ek siskari
nikal gayi.

"Kya hua Shumaila?'

"Kuchh nahi Bhai jaan haaaaaahhhh Bhai jaan."

"Kya hai Shumaila?"

"Bhai jaan."

"Kya hai bata na?"

"Bhai jaan Mammi tu nahi ayengi?"

"Abhi nahi ayengi, abhi unko adha ghanta aur lagega khana banana me."

"Bhai jaan inko.."

"Kya batao na tum tu sharma rahi ho." Aur jhukkar uske hontho ko chooma.
kramashah…………………
Last edited by rajsharma on 14 Oct 2014 07:09, edited 1 time in total.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
rajsharma
Super member
Posts: 5648
Joined: 10 Oct 2014 07:07
Contact:

Re: मा बेटा और बहन

Postby rajsharma » 11 Oct 2014 22:53

माँ बेटा और बहन-4

गतान्क से आगे…………………

होंठो को चूमने पर वह और मस्त हुई तो मेने उसके होंठो को अपने मुँह मे

लेकर खूब कसकर चूसा. 3-4 मिनट होंठ चूसने के बाद अलग हुआ तो वह

हाँफती हुई बोली, "ऊऊहह आआहह स भाई जान आहह बहुत अच्छा लगा हाई

भाई जान इनको मुँह से करो."

"क्या करें?"

"भाई जान मेरी चूचियों को मुँह से चूस चूस कर पियो."

मे खुश होता बोला, "लाओ पिलाओ अपनी चूचियों को."

फिर मे उसको अलग कर लेट गया तो वह उठी और मेरे ऊपर झुक अपनी एक चूची

को अपने हाथ से पकड़ मेरे मुँह मे लगा बोली, "लो भाई जान पियो इनका रस्स."

मे उसकी चूची को होंठो से दबा दबा कसकर चूस रहा था. वह अपने हाथ

से दबा पूरी चूची को मेरे मुँह मे घुसाने की कोशिश कर रही थी. 3-4

मिनट बाद उसने इसी तरह दूसरी चूची भी मेरे मुँह मे दी. दोनो को करीब

दस मिनट तक चुसाती रही और मे उसकी गांद पर हाथ लगा उसके चुतर

सहलाता पीता रहा.

फिर वह मुझे उठा मेरी गोद मे पहले की तरह लेट गयी और फिर मेरे हाथ को

अपनी एक चूची पर लगा दबाने का इशारा किया. मे दबाने लगा तो उसने मेरे

चेहरे को पकड़ अपनी दूसरी चूची झुकाया. मे उसका मतलब समझ उसकी एक

चूची को मसलने लगा और दूसरी को पीने लगा. वह अब मुझे ही देख रही थी. वह

मेरे सर पर हाथ फेर रही थी.

वह मेरे कान मे फुसफुसा भी रही थी, "हहाअ आहह हाई भाई जान बहुत अच्छा

लग रहा है हाउ आप कितने अच्छे हैं."

"तू भी बहुत अच्छी है."

"भाई जान एक बात तो बताओ? अभी जब आपसे खाने को पूछा था तो आप किनका

रस पीने को कह रहे थे?"

"जिनका रस पी रहा हूँ, तेरी चूचियों का."

"हाई भाई जान आप कितने वो है."

तभी किचन से मम्मी की आवाज़ आई वह शुमैला को बुला रही थी.

शुमैला हड़बड़ाकर उठा बैठी और अपने कपड़े ठीक करती बोली, "जी मम्मी."

"बेटी क्या कर रही हो?"

"कुच्छ नही मम्मी आ रही हूँ." वह बहुत घबरा गयी थी और मुझसे बोली,

"हाई भाई जान दरवाज़ा खुला था कहीं मम्मी ने देख तो नही लिया?"

"नही यार वह तो किसी काम से बुला रही हैं?"

"बेटी अगर फ्री हो तो यहाँ आओ."

"आई मम्मी." और वह चली गयी तो मे भी साँसे दुरुस्त करने लगा.

अपनी बहन की चूचियों का रस पीकर तो मज़ा ही आ गया था. मे फिर जल्दी

से किचन के पास गया. मम्मी रोटी सेक रही थी. शुमैला उनके पास खड़ी हुई.

वह अभी भी तेज़ी से साँसे ले रही थी.

मम्मी उसे देखकर बोली, "क्या हुआ बेटी, तू थकि लग रही है?"

"नही तो मम्मी मे ठीक हूँ."

"क्या देख रहे थे तुम लोग?"

"फिल्म मम्मी, मम्मी बहुत अच्छी फिल्म थी."

"अच्छा अच्छा बेटी तुम्हारे भाई जान कहाँ हैं?"

"वह तो अभी टीवी ही देख रहे हैं. मम्मी कुच्छ काम है क्या?"

"नही बेटी क्यों?"

"मे जाउ टीवी देखने भाई जान अकेले बोर हो जाते हैं."

"बहुत ख्याल रखती है अपने भाई जान का. जा देख जाके भाई के साथ. मुझे अभी

10 मिनट और लगेगें."

वह खुश हो जल्दी से बाहर निकली तो मेने उसे पकड़ अपनी गोद मे उठाया और टीवी

रूम मे ले आया. वह मेरे गले मे बाँहें डाले मुझे ही देखे जा रही थी.

अंदर आ मे बैठा और उसे अपनी गोद मे बिठा उसके होंठो को चूम उसकी दोनो

चूचियों को दबाने लगा. दो मिनट बाद उसके बटन खोलना चाहा तो वह बोली,

"नही भाई जान बटन ना खोलो ऐसे ही करो . मम्मी आ सकती हैं."
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

Return to “Hindi ( हिन्दी )”

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 55 guests