फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
Post Reply
User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Post by rajsharma » 12 Jan 2015 13:49

फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स --1

सेक्स..... एक ऐसा वर्ड है जिसको हर कोई जानता है एक्सेप्ट न्यू बोर्न बेबीस. डेली बेसिस पे हम डाइरेक्ट्ली ऑर इनडाइरेक्ट्ली कितने ही इन्सिडेंट देख सकते है देख सकते है जिनसे हम ईज़िली आइडिया लगा सकते है कि कैसे लोग सेक्स के लिए मेंटली फ्रस्टरेटेड है. चाहे रोड पे गंदा कॉमेंट करने वाला कोई लड़का हो या छत के किसी कोने मे छुप कर बात करती हुई कोई लड़की हो, चाहे बुरी तरीके से घूरता हुआ कोई बूढ़ा अंकल हो या ओपन ब्लाउस से अपनी असेट्स शो करती कोई आंटी. एवेरिवन ईज़ थर्स्टी फॉर सेक्स इट ईज़ देयर राइट टू हॅव इट ऑन टाइम. लेकिन ये हर किसी को टाइम पे नही मिल पाता, अगर मिल पाता तो लाइफ मे कोई ग़लत कदम उठता ही नही.

आज मे एक ऐसी कहानी शुरू करने जा रहा हू जो अपने अंदर इस दुनिया के सारे राज समेटे हुए है. स्टोरी सभी पढ़ते है और एक्सपेक्टेशन्स सभी की अलग अलग होती है. मेरी एक्सपेक्टेशन्स बस इतनी है कि सब मुझे सपोर्ट करेंगे और मेरी ग़लतियो को इग्नोर करेंगे. स्टोरी इस टोटली बेस्ड ऑन रियल इन्सिडेंट्स आंड सम ऑफ दा इन्सिडेंट्स आर आडेड फ्रॉम माइ साइड फॉर बेटर अंडरस्टॅंडिंग ऑफ रीडर्स.

ये कहानी एक मिड्ल क्लास जॉइंट फॅमिली की है जहाँ प्यार और रेस्पेक्ट कूट कूट कर भरा है. फॅमिली के कॅरेक्टर्स का इंट्रोडक्षन करा देता हू -

1. पंकज ग्रोवर ( 43 यियर्ज़ ओल्ड मेल) -

2. स्मृति ग्रोवर ( 41 यियर्ज़ ओल्ड फीमेल आंड वाइफ ऑफ पंकज ग्रोवर)-

3. आराधना ग्रोवर (21 यियर्ज़ ओल्ड गर्ल, डॉटर ऑफ मिस्टर. आंड मिसेज़. ग्रोवर) -

4. प्रीति ग्रोवर ( 19 यियर्ज़ ओल्ड गर्ल, डॉटर ऑफ मिस्टर. आंड मिसेज़. ग्रोवर) -

5. कुशल ग्रोवर ( 18 यियर्ज़ ओल्ड बॉय, सन ऑफ मिस्टर. आंड मिसेज़. ग्रोवर) -

ये सभी इस कहानी के मेन कॅरेक्टर्स है लेकिन कुच्छ और भी कॅरक्टर है इस स्टोरी के जो टाइम बाइ टाइम सामने आते जाएँगे.

पंकज ग्रोवर ईज़ ए टॉल हॅंडसम मॅन, जो अपनी प्रिंटिंग फॅक्टरी चलाता है देहरादून मे. बिज़्नेस कोई बड़े लेवेल का नही है लेकिन इसे हम स्माल बिज़्नेस भी नही कह सकते. आलीशान घर बनाने की तमन्ना सिर्फ़ अभी दो साल पहले पूरी की अपनी बेटी आराधना की ग्रड्यूशन के बाद. स्मृति एक हाइली ब्यूटिफुल हाउस वाइफ है आंड पार्ट टाइम सॉफ्टवेर डिज़ाइन्स भी करती है. आराधना सबसे बड़ी लड़की है और काफ़ी सिन्सियर है, बच्चे सभी अपनी मोम पे गये है काफ़ी सुंदर है. आराधना ग्रॅजुयेशन कर चुकी है और करेंट्ली फॅशन डिज़ाइनिंग का कोर्स कर रही. उसकी छोटी बहन प्रीति 12थ स्टॅंडर्ड के एग्ज़ॅम दे चुकी है और रिज़ल्ट का वेट कर रही है. उनका छोटा भाई कुशल अभी 11थ ग्रेड मे आया है.

कुशल - " पापा आप मुझे शॉपिंग कब कराएँगे, मेरे सभी फ्रेंड्स सनडे के दिन कितने सेक्सी क्लॉत्स पहन कर घूमते है". कुशल ने बाहर हॉल मे अपने पापा से कहा. ये सुनकर स्मृति अपनी हँसी नही रोक पाई जो पास हॉल मे ही बैठ कर अपने लॅपटॉप पे काम कर रही थी.

पंकज - " कैसे होते है सेक्सी क्लॉत्स, हमारे बच्चे को अब पता चल गया". पंकज ने कुशल के कान को पकड़ते हुए कहा.

कुशल - " पापा सेक्सी यानी गुड लुकिंग क्लोद्स. सेक्सी जीन्स आंड सेक्सी टी-शर्ट्स और शूज भी दिलाओ मुझे". कुशल ने बचते हुए कहा.

स्मृति - " क्या अपने बेटे की बात नही मान सकते". स्मृति ने इतराते हुए कहा, आज उसने पिंक कलर का सूट और वाइट कलर की पाजामी पहनी हुई थी. मेक अप की उसे इतनी ज़रूरत नही पड़ती क्यूंकी वो ऑलरेडी बेहद सुंदर पर्सनॅलिटी की मालकिन थी. हाइट 5 फीट 6 इंचस होगी ( श्योर नही हू), फेर कलर विद स्लिम बॉडी, बिग आइज़, टोटली पिंक लिप्स, वेस्ट लाइन 28 से ज़्यादा नही थी. फर्स्ट इंप्रेशन मे कोई भी नही कह सकता था कि शी ईज़ दा मदर ऑफ थ्री चिल्ड्रेन. सबसे खास बात उसके पर्सनल असेट्स थे, जिनको मे अभी बयान नही कर सकता. शॉर्ट क्लोद्स वो नही पहनती थी, और साड़ी , सूट ही ज़्यादा पहनती थी.

पंकज - " मेडम हम ने तो कभी मना नही किया, चाहे तो आप भी चलें". पंकज ने स्मृति की बात का जवाब देते हुए कहा.

स्मृति - " मुझे रहने दीजिए, आप कुशल को ले जाइए". स्मृति ने स्माइल करते हुए कहा. तभी प्रीति भी उपर से नीचे उतर आई.

प्रीति - "डॅड मे भी आपके साथ चलूंगी, क्या हमेशा इसे ही ले जाते हो".

कुशल - " तो तू क्यू जलती है, तेरे पास तो कपड़ो की कोई कमी नही है और हर दिन नये कपड़े पहनती है. आज भी देखो नयी जीन्स और नया कुर्ता पहना हुआ है". कुशल ने थोड़ा गुस्से मे कहा

प्रीति – “ कम तो तेरे पास भी नही है, और तूने भी कम स्टाइलिश कपड़े नही पहने है. ये बात अलग है कि तुझपे कम अच्छे लगते है और मुझपे ज़्यादा”. प्रीति ने अपने कुर्ते के कॉलर खड़े करते हुए कहा.

कुशल – “ देख लो मोम इसे, हमेशा मेरा मज़ाक उड़ाती रहती है”. और कुशल भाग कर अपनी मम्मी के पास बैठ गया.

कुशल और प्रीति की उमर मे ज़्यादा फ़र्क नही था इसीलिए वो लड़ते रहते थे. जैसा पहले मेन्षन किया है सभी बच्चे खूबसूरत थे. कुशल सिर्फ़ 16 साल का था लेकिन चेस्ट पे बाल आने शुरू हो गये थे, हाइट एक दम से काफ़ी बढ़ गयी थी और 6 फीट से शायद 1 इंच ही कम होगा. उसके चेहरे पे हल्की हल्की सेविंग आनी शुरू हो गयी थी और आवाज़ मे भारीपन भी था. दूसरी तरफ प्रीति ब्यूटिफुल होने के साथ साथ सेक्सी भी थी. लेकिन कभी शॉर्ट कपड़े नही पहनती थी, कभी कभी लेगिंग पहन लेती थी अदरवाइज़ मॅग्ज़िमम टाइम लूज कपड़े ही पहनती थी. उसकी हाइट अपनी मोम से थोड़ी ही ज़्यादा हुई थी अभी तक शायद हाफ इंच. बाकी कलर फेर, कर्ली हेर आंड पिंक लिप्स, बॉडी काफ़ी स्लिम थी लेकिन अभी कुवर्व्स आने स्टार्ट हो गये थे, फिगर अराउंड 32सी – 26 – 32 होगा. सभी लोग प्रीति की आइज़ की बहुत तारीफ करते थे.

पंकज – “ अच्छा अब लड़ना बंद करो और हम सब शॉपिंग करने सनडे को चलेंगे, ठीक है अब तो”. खुशी के मारे दोनो कुशल और प्रीति दोनो अपने पापा से चिपक गये. तभी गेट खुलता है और पूरे हॉल मे खुसबु फेल जाती है, सभी ने अपनी गर्दन घुमाई तो देखा कि आराधना बाहर से आई है.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Post by rajsharma » 12 Jan 2015 13:50

आराधना – “ क्या बात है, घर मे काफ़ी खुशिया मनाई जा रही है”.

प्रीति – “ यू नो दी, डॅड हमे सनडे को शॉपिंग करने ले जा रहे है. मज़ा आ जाएगा ना”.

आराधना – “ आंड वॉट अबाउट मी डॅड, मुझे क्या दिला रहे हो”. आराधना ने अपने दोनो हाथ और कंधे क्वेस्चन मार्क स्टाइल मे उपर करते हुए कहा.

कुशल – “ ये लो अब हमारी दीदी भी बीच मे आ गयी है, अभी तक तो ये बस प्रीति ही उच्छल रही थी”.

आराधना – “ तू टेन्षन ना ले कुशल, डॅड सबका भला करेंगे. और इस बार हम आसानी से नही मानेंगे और एक्सपेन्सिव शॉपिंग करेंगे. क्यू डॅड”.

पनकाज – “ भाई अब जब हमारी प्यारी बेटी ने डिसिशन ले ही लिया है तो हम क्या कर सकते है”. और सभी खुश हो जाते है और आकर अपने डॅड से गले मिलने लगते है. सबसे गले मिलने के टाइम पंकज का चेहरा स्मृति की तरफ था और पंकज उसे फ्लाइयिंग किस ऑफर करता है नॉटी स्टाइल मे और स्मृति उसे आँख दिखाती है.

आज फ्राइडे है, आराधना कॉलेज से आने के बाद उपर अपने बेड रूम मे चली जाती है. तीनो बच्चो के बेड रूम उपर ही है और बाथरूम सभी के बेडरूम मे अटॅच है. फर्स्ट फ्लोर पे बच्चो के लिए टाय्लेट कामन है और वो तीनो के बेडरूम क्रॉस करने के बाद आता है. पंकज आंड स्मृति ग्रोवर ग्राउंड फ्लोर पर रहते है और उनका बाथरूम आंड टाय्लेट अटॅच है.

आराधना अपने रूम मे आने के बाद फ्रेश होने का डिसिशन लेती है और बाथरूम मे चली जाती है. इसी बीच उसकी छोटी बहन प्रीति उससे मिलने उसके रूम मे आ जाती है. बाथरूम के अंदर सबसे पहले वो अपना सूट उतारती है और अंडर आर्म्स चेक करती है. अर्धना बेहद ही खूबसूरत आंड फिट बॉडी की मालकिन है, उसकी बॉडी मे सबसे खास चीज़ उसका फेस और उसका वो पार्ट जो सभी लड़कों की तमन्ना होती है – बूब्स. आइ डॉन’ट नो हाउ टू एक्सप्लेन लेकिन कभी कभी ऐसा लगता था कि जैसे कोई आइरन रोड लगी हो उनमे, नेबरहुड गर्ल्स जेलस करती थी आराधना के बॉडी स्टाइल से आंड एस्पेशली बिकॉज़ ऑफ हर टाइट बूब्स . उसका फिगर 36सी – 26 – 36 होगा लेकिन उसके कपड़ो का तरीका कभी उसके फिगर को दूसरो के सामने शो नही करता था. अंडरआर्म्स चेक करने के बाद अपना एलेक्ट्रिक शेवर उठती है और अंडर आर्म हेर क्लीनिंग स्टार्ट कर देती है.

प्रीति – “ दीदी यू आर देअर?”

अर्धना – “ ओह प्रीति यस आइ आम हियर इन बाथरूम, लेट’स सिट आइ आम कमिंग आउट इन ए व्हाइल”. उसके एलेक्ट्रिक शेवर की आवाज़ बाहर तक आ रही थी. दोनो अंडर आर्म्स क्लीन करने के बाद वो बाथरूम मिरर मे अपने आप को निहारती है, पहले फ्रंट पोज़ मे आंड देन साइड पोज़. साइड पोज़ मे उसे ऐसा लगा जैसे कि वेस्ट के मुताबिक बूब्स कुच्छ ज़्यादा ही बाहर है और इस पे स्माइल करती है. लास्ट मे बॅक पोज़ देखने के बाद वो अपना फेस वॉश करती है. उसने अभी ब्रा और पाजामा के सिवाय कुच्छ नही पहना था. अपने उपरी पार्ट को टवल से ढक कर वो बाहर आ जाती है.

आराधना – “ और सुना प्रीति कैसा चल रहा है”. वॉर्डरोब से एक फुल स्लीव प्लेन येल्लो टी-शर्ट ऑर पयज़ामा निकालते हुए वो प्रीति से पूछती है.

प्रीति – “ कुच्छ नही दी, रिज़ल्ट का वेट कर रही हू और घर मे बोर होती रहती हू. आप सुनाए, हो गयी क्लीनिंग”. प्रीति ने एक नॉटी स्माइल के साथ आराधना से पुछा.

आराधना – “ क्लीनिंग? कैसी क्लीनिंग, क्या पुछ्ना चाहती है तू? आराधना ने बाथरूम के अंदर जाते हुए पुछा

प्रीति – “ नही वो आपके एलेक्ट्रिक शेवर की आवाज़ आ रही थी तो मेने सोचा शायद कुच्छ क्लीनिंग की जा रही है”. प्रीति ने फिर से एक नॉटी मुस्कान के साथ कहा

आराधना –“ प्रीति मे तुम्हारी एल्डर सिस्टर हू, तुम्हे मेरे साथ ऐसे मज़ाक नही करने चाहिए”. और ये कह कर वो बाथरूम मे फिर से चली गयी टी-शर्ट और पयज़ामा को पहन ने के लिए.

प्रीति – “ ओ कम ऑन दीदी, आप ऐसे क्यू बिहेव करती है. वी आर मॉडर्न गर्ल्स, इतना तो चलता है सिस्टर्स मे”.

आराधना – “ हम ऐसी फॅमिली से बिलॉंग नही करते जहाँ ऐसे मज़ाक हो”. आराधना ने बाथरूम के अंदर से ही टी-शर्ट पहनते हुए कहा. टी-शर्ट पहन ने के बाद उसने मिरर मे देखा, टी-शर्ट पहन ने से उसके सिल्की हेर उसके फोर्हेड पे आ गये थे. उनको अपने राइट हॅंड से हठाते हुए अपने कानो के पीछे ले जाती है. उसका फेस एकदम स्पॉट लेस था, बहुत ही फेर आंड वाइट. थोड़े से ही कोल्ड वेदर मे उसके चीक्स रेड हो जाते थे. फिर वो मिरर मे साइड पोज़ मे फिर से देखती है और थोड़ा सा मूँह बनाती है जैसे उसे टी-शर्ट की फिटिंग पसंद नही आई. और उसे उतार कर वो फिर से बाहर आती है , बाहर आने से पहले अपने को फिर से टवल मे लपेट लेती है.

प्रीति – “ क्या टी-शर्ट फिट नही आई, ऐसा क्या हो गया कि ये टी-शर्ट लास्ट मंथ ही ली और अब नही आ रही है, क्यू दीदी”. प्रीति ने फिर से नॉटी अंदाज मे कहा.

आराधना – “ तू फिर से शुरू हो गयी, आज कल बहुत बड़ी बाते करने लगी है. पढ़ाई मे मन लगा और इधर उधर ध्यान मत दिया कर, समझ आया”. आराधना ने वॉर्डरोब से दूसरी टी-शर्ट निकालते हुए और प्रीति की तरफ देखते हुए कहा. वो फिर से बाथरूम मे चली जाती है टी-शर्ट पहन ने के लिए.

प्रीति –“ दीदी रिज़ल्ट का वेट कर रही हू तो पढ़ाई मे मन कैसे लगाऊ, और आप ज़रा ज़रा सी बातो के लिए सीरीयस मत हुआ करिए. ऐसे बहुत सारे कपड़े है जो मुझे लास्ट मंथ तक आते थे लेकिन अब नही आते तो इसमे बड़ी और नाराज़ होने वाली बात क्या है. हम हमेशा तो बच्चे रहेंगे नही आंड यू नो दट”. प्रीति ने भी एक ही साँस मे सब कुच्छ एक्सप्लेन कर दिया.

अर्धना – “ ओह हो, तो अब हमारी छोटी सिस्टर भी बड़ी होने लगी है और कपड़े भी छोटे होने लगे है. क्या बात है इसीलिए डॅड के साथ शॉपिंग का प्लान बनाया है

क्या”. अपने वॉर्डरोब मिरर मे देखते हुए और अपने बालो को कोंब करते हुए आराधना बोली.

प्रीति – “ ये हुई ना बात, ऐसे ही हॅपी रहा करो. कभी कभी तो लगता है कि हमारी ब्यूटिफुल और सेक्सी दीदी हिट्लर है. प्रीति ने फिर से थोड़ा सा मज़ाक करते हुए कहा और आराधना फिर से उसे चुटकी बजा के फिंगर दिखाते हुए इशारा करती है कि हिट्लर नही बोलना है. उसके बाद प्रीति बाइ बोल कर अपने रूम मे आ जाती है. तभी थोड़ी देर बाद आराधना को उसकी बेस्ट फ्रेंड सिमरन का कॉल आता है.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Post by rajsharma » 12 Jan 2015 13:51

सिमरन – “ हे स्वीटी कैसी है?”

आराधना – “ बस ठीक हू तू बता क्या चला रहा है”

सिमरन – “ बस यहाँ भी सब ठीक है, बोर हो रही थी सोचा तुझसे बात कर लू. और घर पे सब कैसे है”.

अर्धना – “सब ठीक है यार, सनडे को डॅड शॉपिंग करने ले जा रहे है विद ऑल फॅमिली”.

सिमरन –“ ओये होये क्या बात है, इस बार तो खरीद ले कुच्छ सेक्सी आइटम्स जो तेरी बॉडी को शो ऑफ कर सके. कब तक सती सावित्री बनी रहेगी, कभी कभी तो बिजली गिरा दिया कर अपने मोहल्ले पड़ोस मे भी. “

आराधना – “ ओये मेडम मे ऐसी लड़की नही हू, ओके. और ना ही मेरा एरिया ऐसा है जिसमे ऐसे लोग रहते है. ये काम तू ही कर और मुझे मत सिखा”.

सिमरन – “ हर किसी का लाइफ जीने का तरीका होता है, जैसी तेरी मर्ज़ी. लेकिन चल सनडे को मेरी हेल्प कर दे ना यार, मुझे अपने बॉय फ्रेंड से मिलना है और तेरे घर कोई नही है प्लीज़ क्या हम वहाँ आ जाएँ.”

आराधना –“ क्यू घर मे ही क्यू, कहीं बाहर नही मिल सकते हो”

सिमरन – “ हमेशा ग़लत ही सोचेगी. यार बाहर गर्मी है और फिर रेस्टोरेंट का क्राउड और पार्क मे तो आज कल लड़की और लड़के का मिलना ही गुनाह है. अगर तू हेल्प कर देगी तो तेरे यहाँ मिल लूँगी लेकिन अगर तू नही चाहती तो रहने दे”. सिमरन ने इनोसेंट बनते हुए कहा.

आराधना –“ ऐसी बात नही है सिमरन बस डर लगता है कि पता नही सब क्या कहेंगे, वैसे मुझे तुझ पे पूरा भरोसा है तो तू आ सकती है लेकिन कोई नॉटी हरकत नही ओके”.

सिमरन – “ ये हुई फ्रेंड्स वाली बात, तू टेन्षन ना ले और मस्त रह. हम वहाँ थोड़े टाइम रहेंगे और चले जाएँगे. चल अब तू रेस्ट कर थक गयी होगी. कल मिलते है”.

आराधना –“ ओके चल बाइ”.

इधर स्मृति और पंकज अपने बेड रूम मे मिलते है.

स्मृति –“ ये कैसी हरकते करते हो बच्चो के सामने”.

पंकज – “ क्यू कैसी हरकत कर दी मेने?”

स्मृति -“ ज़्यादा बनो मत तुम्हे पता है कि वो बच्चो के रहते मुझे फ्लाइयिंग किस देने की बात कर रही हू”. बेड पे बैठे हुए स्मृति ने अपना फेस दूसरी साइड गुस्से मे करते हुए कहा.

पंकज –“ जिसकी वाइफ इतनी सेक्सी ही वो बेचारा क्या करे, बच्चो के जाने का इंतेज़ार? इतना सब्र कैसे करू”. पंकज स्मृति के करीब जाते हुए ये बात कहता है और स्मृति का एक हाथ पकड़ कर अपने प्राइवेट पार्ट पर रख देता है.

स्मृति –“ ओह माइ गोद, ये फिर से रेडी है. क्या खिलाते हो इसे और प्लीज़ अभी मूड मत बनाना क्यूंकी मेरा कोई मूड नही है. वैसे भी बच्चे अभी घर मे है”. स्मृति ने अपना हाथ वहाँ से हठते हुए कहा.

पंकज –“ अगर मूड नही है तो बनाओ ना जान, देखो मेरा शेर कितना भूका है”. और फिर से स्मृति का हाथ पकड़ कर अपने उसी पार्ट पर रख देता है.

‘ धड़ाक’ और तभी बेडरूम का गेट खुलता है और कुशल अंदर आता है. तीनो शॉक्ड हो जाते है और तभी स्मृति अपना हाथ हठाते हुए.

स्मृति – “ येस सन , व.. व्हाट यू नीड”. उसकी आवाज़ मे हकलाहट थी.

कुशल – “ कुच्छ नही … सॉरी “ और मुकुराते हुए बाहर आ जाता है. स्मृति गुस्से मे पंकज की तरफ देखती है और कहती है.

सिमरन –“ देखा, हमेशा बे सबरे हुए रहते हो. पता है बच्चो पे कैसा असर पड़ेगा इन सब चीज़ो से”.

क्रमशः......................................
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Post by rajsharma » 12 Jan 2015 13:51


Sex..... Ek aisa word jisko har koi janta hai except new born babies. Daily basis pe hum directly or indirectly kitne hi incident dekh sakte hai dekh sakte hai jinse hum easily idea laga sakte hai ki kaise log sex ke liye mentally frustrated hai. Chahe road pe ganda comment karne wala koi ladka ho ya chhat ke kisi kone me chhup kar bat karti hui koi ladki ho, chahe buri tarike se ghurta hua koi budhha uncle ho ya open blouse se apni assets show karti koi aunty. Everyone is thirsty for sex it is their right to have it on time. Lakin ye har kisi ko time pe nahi mil pata, agar mil pata to life me koi galat kadam uthata hi nahi.

Aaj me ek aisi kahani shuru karne ja rahi hu jo apne ander is duniya ke sare raaj samete hue hai. Story sabhi padhte hai aur expectations sabhi ki alag alag hoti hai. Meri expectations bus itni hai ki sab mujhe support karenge aur meri galtiyo ko ignore karenge. Story is totally based on real incidents and some of the incidents are added from my side for better understanding of readers.

Ye Kahani ek middle class Joint family ki hai jahan pyar au respect koot koot kar bhara hai. Family ke characters ka introduction kara deti hu -

1. Pankaj Grover ( 43 years old male) -

2. Smriti Grover ( 41 year old female and wife of Pankaj Grover)-

3. Aradhna Grover (21 year old girl, daughter of Mr. And Mrs. Grover) -

4. Preety Grover ( 19 year old girl, daughter of Mr. And Mrs. Grover) -

5. Kushal Grover ( 18 year old boy, son of Mr. And Mrs. Grover) -

Ye sabhi is kahani ke main characters hai lakin kuchh aur bhi character hai is story ke jo time by time samne aate jayenge. Puri koshish karungi ki is kahani me koi ugly or bad language use na ho, agar hogi bhi to kindly adjust as that can be the part of story to make it more live.

Pankaj Grover is a tall handsome man, jo apni printing factory chalata hai Dehradun me. Business koi bade level ka nahi hai lakin ise hum small business bhi nahi kah sakte. Aalishan ghar banane ki tamanna sirf abhi do saal pehle puri ki apni beti Aradhna ki gradution ke bad. Smriti ek highly beutiful house wife hai and part time software designs bhi karti hai. Aradhna sabse badi ladki hai aur kafi sincere hai, bachche sabhi apni mom pe gaye hai kafi sundar hai. Aradhna graduation kar chuki hai aur currently fashion designing ka course kar rahi. Uski chhoti bahan preeti 12th standard ke exam de chuki hai aur result ka wait kar rahi hai. Unka chhota bhai Kushal abhi 11th grade me aaya hai.

Kushal - " Papa aap mujhe shopping kab karayenge, mere sabhi friends sunday ke din kitne sexy cloths pahan kar ghumte hai". Kushal ne bahar hall me apne papa se kaha. Ye sunkar Smrity apni hansi mahi rok payi jo pass hall me hi beth kar apne laptop pe kaam kar rahi thi.

Pankaj - " kaise hote hai sexy cloths, hamare bachche ko ab pata chal gaya". Pankaj ne Kushal ke kan ko pakadte hue kaha.

Kushal - " papa sexy yani good looking clothes. Sexy jeans and sexy t-shirts aur shoes bhi dilao mujhe". Kushal ne bachte hue kaha.

Smriti - " kya apne bete ki bat nahi man sakte". Smriti ne itrate hue kaha, aaj usne pink color ka suit aur white color ki pajami pahni hui thi. Make up ki use itni jarurat nahi padti kyunki wo already behad sundar personality ki malkin thi. Height 5 feet 6 inches hogi ( sure nahi hu), fair color with slim body, big eyes, totally pink lips, waist line 28 se jyada nahi thi. First impression me koi bhi nahi kah sakta tha ki she is the mother of three children. Sabse khas bat uske personal assets the, jinko me abhi bayan mahi kar sakti. Short clothes wo nahi pahanti thi, aur saree , suit hi jyada pahanti thi.

Pankaj - " Madam humne to kabhi mana nahi kiya, chahe to aap bhi chalen". Pankaj ne Smriti ki bat ka jawab dete hue kaha.

Smriti - " Mujhe rehne dijiye, aap Kushal ko le jaiye". Smriti ne smile karte hue kaha. Tabhi Preeti bhi upar se neeche utar aayi.

Preeti - "Dad me bhi aapke sath chalungi, kya hamesha ise hi le jate ho".

Kushal - " to tu kyu jalti hai, tere pass to kapdo ki ki kami nahi hai aur har din naye kapde pahnti hai. Aaj bhi dekho nayi jeans aur naya kurta pahna hua hai". Kushal ne thoda gusse me kaha

Preeti – “ kam to tere pass bhi nahi hai, aur tune bhi kam stylish kapde nahi pahne hai. Ye bat alag hai ki tujhpe kam ache lagte hai aur mujhpe jyada”. Preeti ne apne kurte ke collar khade karte hue kaha.

Kushal – “ Dekh lo mom ise, hamesha mera majak udati rehti hai”. Aur Kushal bhag kar apni mummy ke pass beth gaya.

Kushal aur Preeti ki umar me jyada fark nahi tha isiliye wo ladte rehte the. Jaisa pehle mention kiya hai sabhi bachche khubsurat the. Kushal sirf 16 saal ka tha lakin chest pe baal aane shuru ho gaye the, height ek dum se kafi badh gayi thi aur 6 feet se shayad 1 inch hi kam hoga. Uske chehre pe halki halki saving aani shuru ho gayi thi aur awaz me bharipan bhi tha. Dusri taraf Preeti beautiful hone ke sath sath sexy bhi thi. Lakin kabhi short kapde nahi pahanti thi, kabhi kabhi legging pahan leti thi otherwise maximum time loose clothing hi pahanti thi. Uski height apni mom se thodi hi jyada hui thi abhi tak shayad half inch. Baki color fair, curly hair and pink lips, body kafi slim this lakin abhi curves aane start ho gaye the, figure around 32c – 26 – 32 hoga. Sabhi log Preeti ki eyes ki bahut tariff karte the.

Pankaj – “ Achaa ab ladna band karo aur hum sab shopping karne Sunday ko chalenge, thik hai ab to”. Khushi ke mare dono Kushal aur Preeti dono apne papa se chipak gaye. Tabhi gate khulta hai aur pure hall me khusbu fel jati hai, sabhi ne apni gardan ghumayi to dekha ki Aradhna bahar se aayi hai.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: फॅमिली में मोहब्बत और सेक्स

Post by rajsharma » 12 Jan 2015 13:52



Aradhna – “ Kya bat hai, ghar me kafi khushiya manaye ja rahi hai”.

Preeti – “ U know Di, dad hume Sunday ko shopping karane le ja rahe hai. Maja aa jayega na”.

Aradhna – “ And what about me dad, mujhe kya dila rahe ho”. Aradhna ne apne dono hath aur kandhe question mark style me upar karte hue kaha.

Kushal – “ Ye lo ab hamari didi bhi beech me aa gayi hai, abhi tak to ye bas Preeti hi uchhal rahi thi”.

Aradhna – “ Tu tension na le Kushal, dad sabka bhala karenge. Aur is bar hum aasani se nahi manenge aur expensive shopping karenge. Kyu Dad”.

Panakaj – “ Bhai ab jab hamari pyari beti ne decision le hi liya hai to hum kya kar sakte hai”. Aur sabhi khush ho jate hai aur aakar apne dad se gale milne lagte hai. Sabse gale milne ke time Pankaj ka chehra Smriti ki taraf tha aur Pankaj use flying kiss offer karta hai naughty style me aur Smriti use aankh dikhati hai.

Aaj Friday hai, Aradhna college se aane ke bad upar apne bed room me chali jati hai. Teen bachcho ke bed room upar hi hai aur bathroom sabhi ke bedroom me attach hai. First floor pe bachcho ke liye toilet common hai aur wo teeno ke bedroom cross karne ke bad aata hai. Pankaj and Smriti grover ground floor par rehte hai aur unka bathroom and toilet attach hai.

Aradhna apne room me aane ke bad fresh hone ka decision leti hai aur bathroom me chali jati hai. Isi beech uski chhoti bahan Preeti usse milne uske room me aa jati hai. Bathroom ke ander sabse pehle wo apna suit utarti hai aur under arms check karti hai. Ardhana behad hi khubsurat and fit body ki malkin hai, uski body me sabse khas cheej uska face aur uska wo part jo sabhi boys ki tamanna hoti hai – Boobs. I don’t know how to explain lakin kabhi kabhi aisa lagta tha ki jaise koi iron rod lagi ho unme, neighborhood girls jealous karti thi Aradhna ke body style se and especially because of her tight boobs . Uska figure 36C – 26 – 36 hoga lakin uske kapdo ka tarika kabhi uske figure ko dusro ke samne show nahi karta tha. Underarms check karne ke bad apna electric shaver uthati hai aur under arm hair cleaning start kar deti hai.

Preeti – “ Didi u there?”

Ardhana – “ Oh Preeti yes I am here in bathroom, let’s sit I am coming out in a while”. Uske electric shaver ki awaz bahar tak aa rahi thi. Dono under arms clean karne ke bad wo bathroom mirror me apne aap ko niharti hai, pehle front pose me and then side pose. Side pose me use aisa laga jaise ki waist ke mutabik boobs kuchh jyada hi bahar hai aur is pe smile karti hai. Last me back pose dekhne ke bad wo apna face wash karti hai. Usne abhi bra aur pajama ke siway kuchh nahi pahna tha. Apne upari part ko towel se dhak kar wo bahar aa jati hai.

Aradhna – “ Aur suna Preeti kaisa chal raha hai”. Wardrobe se ek full sleeve plain yellow t-shirt or payjama nikalte hue wo Preeti se puchhti hai.

Preeti – “ Kuchh nahi Di, result ka wait kar rahi hu aur ghar me bore hoti rehti hu. Aap sunaiye, ho gayi cleaning”. Preeti ne ek naughty smile ke sath Ardhana se puchha.

Aradhana – “ cleaning? Kaisi cleaning, kya puchhna chahti hai tu? Aradhana ne bathroom ke ander jaate hue puchha

Preeti – “ Nahi wo aapke electric shaver ki awaz aa rahi thi to mene socha shayad kuchh cleaning ki ja rahi hai”. Preeti ne phir se ek naughty muskan ke sath kaha

Aradhana –“ Preeti me tumhari elder sister hu, tumhe mere sath aise majak nahi karne chahiye”. Aur ye kah kar wo bathroom me phir se chali gayi t-shirt aur payjama ko pahan ne ke liye.

Preeti – “ o come on didi, aap aise kyu behave karti hai. We are modern girls, itna to chalta hai sisters me”.

Aradhna – “ Hum aisi family se belong nahi karte jahan aise majak ho”. Ardhana ne bathroom ke ander se hi t-shirt pahante hue kaha. T-shirt pahan ne ke bad usne mirror me dekha, t-shirt pahan ne se uske silky hair uske forehead pe aa gaye the. Unko apne right hand se hathate hue apne kano ke peechhe le jati hai. Uska face ekdum spot less tha, bahut hi fair and white. Thode se hi cold weather me uske cheeks red ho jate the. Phir wo mirrow me side pose me phir se dekhti hai aur thoda sa moonh banati hai jaise use t-shirt ki fitting pasand nahi aayi. Aur use utar kar wo phir se bahar aati hai , bahar aane se pehle apne ko phir se towel me lappet leti hai.

Preeti – “ kya t-shirt fit nahi aayi, aisa kya ho gaya ki ye t-shirt last month hi li aur ab nahi aa rahi hai, kyu didi”. Preeti ne phir se naughty andaj me kaha.

Aradhna – “ Tu phir se shuru ho gayi, aaj kal bahut badi baate karne lagi hai. Padhai me man laga aur idhar udhar dhyan mat diya kar, samjh aaya”. Aradhna ne wardrobe se dusri t-shirt nikalte hue aur Preeti ki taraf dekhte hue kaha. Wo phir se bathroom me chali jati hai t-shirt pahan ne ke liye.

Preeti –“ Didi result ka wait kar rahi hu to padhai me man kaise lagau, aur aap jara jara si baato ke liye serious mat hua kariye. Aise bahut saare kapde hai jo mujhe last month tak aate the lakin ab nahi aate to isme badi aur naraj hone wali bat kya hai. Hum hamesha to bachche rahenge nahi and u know that”. Preeti ne bhi ek hi saans me sab kuchh explain kar diya.
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

Post Reply