मैं और मेरा परिवार

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
jay
Super member
Posts: 7156
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: मैं और मेरा परिवार

Post by jay » 03 Dec 2017 18:47

nice bro
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Re: मैं और मेरा परिवार

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6891
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: मैं और मेरा परिवार

Post by rajaarkey » 04 Dec 2017 12:07

mast.....................
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

Aadi
Posts: 7
Joined: 10 Nov 2017 17:37

Re: मैं और मेरा परिवार

Post by Aadi » 04 Dec 2017 16:39

Bhai ab to update de do

User avatar
xyz
Platinum Member
Posts: 2360
Joined: 17 Feb 2015 17:18

Re: मैं और मेरा परिवार

Post by xyz » 04 Dec 2017 19:06

828 आ

सुबह होते ही कसरत करके खुद को फिट किया

काफ़ी दिन बाद कसरत करने से काफ़ी हड़िया टूट कर ठीक हो गयी.

कसरत करने के बाद मैं बुआ से मिलने चला गया.

पहले नीता बुआ से मिलने गया ,नीता बुआ मुझे देखते ही अपना प्यार मुझ पे नौछावर करने लगी.

राजेश और लीना भी खुश हो गये. मैने थोड़ी देर नीता बुआ के साथ वक्त बिताया .और राजेश लीना को अपने साथ लेकर नेहा बुआ के घर आ गया.

मेरे आते ही नेहा बुआ को खुशी तो हुई पर उन्होने हर बार की तरह अपनी खुशी को छुपा कर अपने सीने मे दफ़न किया.

कोमल तो मुझे देखकते मेरे गले लग गयी.

और आज क्लासस से च्छूति ले ली.

कोमल ने मेरे लिए क्लास मिस किया .

कोमल ने रानी को फोन करके बताया कि मैं आ चुका हूँ जिस से वो आज क्लासस नही आएगी

कोमल ने मुझे फँसा दिया रानी को मेरे आने की बात कोमल से पता चली अब तो रानी गुस्सा हो गयी होगी.

रानी को मनाना होगा पर पहले पूजा बुआ के घर जाना होगा.

मैं सबको लेकर पूजा बुआ के घर आ गया.

राज तो भाग कर मेरे पास आया और टूर के बारे मे पूछने लगा.

पूजा बुआ ने मेरे सर पे किस किया और हम सबके लिए सरबत बनाने गयी.

राज-भैया टूर पे क्या क्या देखा ,

अवी- बताऊ या दिखाऊ

राज-मैं तो देखना चाहूँगा

अवी-दीदी आपका लॅपटॉप मिलेगा

स्वेता दीदी-लो ,पर हम भी देखेंगे

मैं ने पेनड्राइव लॅपटॉप को कनेक्ट किया और उनको फोटो दिखाने लगा.

जो फोटो चाची को दिखाए थे वही सबको दिखाए

सीतल दीदी-अवी तूने तो बहुत मज़ा किया,काश हम भी वहाँ होते

अवी-एक दिन हम सब जाएँगे वहाँ पर ,और बहुत मस्ती करेंगे.

कविता-हाँ ,फिर तो हम बहुत मज़ा करेंगे

स्वेता दीदी-हाँ ,इतना लंबा तो नही पर एक दिन के तो टूर पे जाएँगे

राज-दीदी ने बोला तो हम ज़रूर जाएँगे. दीदी जो कहती है वो होता ही है.

अवी-आप सब मूवी देखो मैं आराम करता हूँ

कोमल-मैं भी चलती हूँ तुम्हें नोट्स देनी है

मैं कोमल के साथ बाहर आ गया.

कोमल-तुम ने बहुत मज़े किए

अवी-पहली बार जो घूमने गया था.

कोमल-हम भी तो गये थे.

अवी-वो बात अलग थी. पहली बार दोस्तो के साथ घूमने का मज़ा लिया है.

कोमल-तुम वहाँ मज़ा कर रहे थे और यहाँ मुझे अच्छा नही लग रहा था.

अवी-क्या हुआ

कोमल-तुम्हारे साथ रहने की आदत जो लग गयी है

अवी-आदत बदल दो ,

कोमल-मतलब तुम्हें मेरे साथ, समझी उन लड़कियो के साथ रहना पसंद है तुम्हें

कोमल मेरे फोटो देख कर ऐसा बोल रही है

मेरी फोटो लड़कियो के साथ देख कर जल रही है

अगर कोमल का ये हाल है तो रानी तो मेरी गर्लफ्रेंड है

रानी कितनी जलेगी, पर जलने के बाद उसको ठंडा करने मे बहोत मज़ा आता है

अवी-ऐसा ही समझ लो, वो कितनी मॉडर्न है.

कोमल-मॉडर्न सब दिखावा होता है.

अवी-लेकिन उनके साथ बहुत एंजाय किया.

कोमल-करो ,उनके साथ घुमो ,मैं तो कोई भी नही हूँ.

कोमल शायद वो झरने वाले उसके साथ गये हुए टूर को इस मेरे फ्रेंड के साथ गये हुए टूर से कंपेर कर रही थी

अवी-उनका फोन आया था .मिलने बुलाया ,कॉफी पीने के बहाने से

आज तो कोमल के हाथ की कॉफी पी कर रहूँगा

कोमल-मुझे क्यू बता रहे हो. मैं ने तुम्हारे लिए क्लासस नही गयी और तुम हो कि ,मैं जा रही हूँ

अवी-नोट्स तो देती जाओ

कोमल-उन चुड़ेल से माँग लो,

कोमल गुस्से मे अपने घर जाने लगी तो मैं ने उसका हाथ पकड़ लिया.

कोमल-छोड़ो मेरा हाथ ,

अवी-मैं हाथ छोड़ने के लिए पकड़ता

कोमल-उन चुड़ेल का हाथ पकडो

अवी-मैं क्या पागल हूँ जो इतने कोमल हाथो को छोड़ कर उन चुड़ेल के पास जाउ

कोमल-मैं ने कहा छोड़ो

अवी-देखो छोड़ दिया तो सच मे उनके पास जाउन्गा .

कोमल-जाकर दिखाओ ,उनके हाथ तोड़ दूँगी ,मुझसे बुरा कोई नही होगा.

अवी-मैं तो डर गया ,

कोमल-मज़ाक मत समझो

अवी-मैं मज़ाक ही कर रहा था. मुझे उनके साथ ज़्यादा मज़ा नही आया तभी तो कहा कि हम सब ऐसे घूमने जाएँगे

मेरी बात सुनते ही कोमल के एक्सप्रेशन नॉर्मल होने लगे

कोमल-सच मे वो मज़ाक था.

अवी-फ्रेंड के साथ थोड़ा मज़ाक किया तो फ्रेंड को गुस्सा आता है. आज के बाद मैं मज़ाक नही करूँगा.

कोमल-सॉरी

अवी-अब रहने दो

कोमल-मैं तुम्हें अपने हाथ की कॉफी पिलाती हूँ.

अवी-ऐसा सॉरी बोला करो,

और कोमल मुझे अपने घर ले गयी

और अपने हाथ की बनी हुए कॉफी पिलाने लगी.

कॉफी पीते हुए मैं कोमल के साथ बातें करने लगा.

कोमल काफ़ी देर तक बातें करती रही .
.

कोमल के साथ टाइम बिताने के बाद मैं घर आ गया.

मेरे घर आने तक छोटी चाची के सिवा सब सो गये थे. दोपहर की नींद अच्छी होती है.

छोटी चाची क्यूँ नही सोई ये मुझे पता था.

मैं ने छोटी चाची को वीडियो प्ले करके दिए

छोटी चाची वीडियो देखने लगी और मैं
रानी को कॉल करने लगा.

pongapandit
Silver Member
Posts: 463
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मैं और मेरा परिवार

Post by pongapandit » 04 Dec 2017 21:50

thanks for continue ................

Post Reply