मा की मस्ती compleet

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
Post Reply
User avatar
Rohit Kapoor
Platinum Member
Posts: 1626
Joined: 16 Mar 2015 19:16

मा की मस्ती compleet

Post by Rohit Kapoor » 12 Jul 2015 21:11

मा की मस्ती

लेखक - अज्ञात

दोस्तो ये कहानी मुझे नही पता किसने लिखी है लेकिन मैं इस कहानी को हिन्दी फ़ॉन्ट में परवर्तित कर आपके लिए पेश कर रहा हूँ कहानी का श्रेय इस कहानी के लेखक को जाता है

मैने इस साल 10थ पास किया और फिर 11थ मे कॉमर्स कोर्स जाय्न कर लिया मेरी उमर 17 साल की हो चुकी है,बीच मे 1 साल बीमार होने की वजह से मेरा बर्बाद हो गया था,अब इस साल 11थ मे कॉमर्स लेने से मेरे पर पढ़ाई का बोझ बढ़ गया था,वैसे भी दिल्ली मे 12थ मे 90 पर्सेंट से कम नंबर होने पर डी.यू. के कॉलेज मे ऐड्मिशन नही मिलता,इसलिए मेरे पिता जी मेरी पढ़ाई को ले कर काफ़ी चिंतित रहते थे.क्योंकि मे मेद्स मे थोड़ी मुश्किल महसूस कर रहा था,तब उनके एक जूनियर ने पिता जी को कहा कि उसका बेटा कोचैंग सेंटर चलता है अपने 3 दोस्तों के साथ मिल कर और वो लोग 11थ और उस-से ऊपर के बच्चो को ग्रूप और सिंगल ट्यूशन देते हैं ,जब उसने अपने कोचैंग सेंटर का नाम बताया तब पिता जी ने कहा कि वो मेरे से पूंछ कर बताएँगे.



रात को खाने की टेबल पर पिता जी ने मेरे से कहा कि आज ऑफीस मे उनके जूनियर ने क्या बात बताई है,जब पिता जी ने कोचैंग सेंटर का नाम बताया ,तब मेने कहा कि ये तो बहुत फेमस है और इनका मैथ और अकाउंट्स मे बहुत बढ़िया नाम है,मेरे कई दोस्त यहाँ पर ट्यूशन लेते हैं वो भी ग्रूप मे,यहाँ पर एक राजन सर हैं जो मैथ बहुत बढ़िया पढ़ाते हैं,तब पिता जी ने कहा कि राजन तो उनके जूनियर का ही लड़का है और अगर मे कहूँ तो राजन मेरे को घर पर अकेले ही पढ़ा देगा,क्योंकि जो पिता जी का कौलेज है वो तो पिता जी को किसी भी तरह से खुश रखना चाहता था.


तब मैने कहा कि ठीक है वो कल ही अपने जूनियर राजन के पिता रमेश से बात कर लेंगे और हो सका तो कल से ही मेरी ट्यूशन शुरू हो जाएँगी.


अगले दिन पिता जी ने ऑफीस पहुँचते ही रमेश को बुला लिया और रमेश को कहा कि वो राजन से कहे कि राजन आज से ही मुझे ट्यूशन पढ़ाना शुरू कर दे,तब रमेश ने कहा कि ऐसा ही होगा.

Last edited by Rohit Kapoor on 28 Aug 2015 21:14, edited 2 times in total.

मा की मस्ती compleet

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Rohit Kapoor
Platinum Member
Posts: 1626
Joined: 16 Mar 2015 19:16

Re: मा की मस्ती

Post by Rohit Kapoor » 12 Jul 2015 21:25

बाहर आ कर रमेश ने अपने लड़के राजन को फोन किया और बताया कि उसकी मेरे पिता जी से क्या बात हुई है,तब राजन ने कहा कि उसके लिए अकेले बच्चे को वो भी उसके घर जा कर पढ़ाना मुश्किल है ,तब रमेश ने कहा कि बेटे ये ज़रूरी है क्योंकि आज अगर वो मनु को ट्यूशन पढ़ा देगा तो जो काम लाखों की रिश्वत से नही हो सकता वो काम उसके मुझे पढ़ाने से हो सकता है,क्योंकि अरविंद जी उनके बॉस है और वो तो रमेश को अपने आस पास भी नही फटकने देते,पर आज राजन की वजह से ये मौका आया है कि उन्होने रमेश को अपने सामने कुर्सी पर बिठाया है.

ये बात राजन को समझ आ गयी,तब उसने कहा कि वो उसको अरविंद जी का फोन नंबर दे दे जिस-से कि राजन सीधे उनसे बात कर सके,तब रमेश ने राजन को समझाया कि वो उनसे रुपयों की कोई बात ना करे और अगर वो पूछें भी तो ना कर दे और कह दे कि पहले पढ़ाना शुरू होने दें,फिर बात होगी तो पिता जी कर लेंगे पहले स्टूडेंट और टीचर की भी आपस मे समझ विकसित होने दें फिर बात करेंगे.

राजन से अरविंद जी को फोन करके अपना परिचय दिया और कहा कि उसके पिता जी ने आपसे बात करने को कहा है,तब अरविंद ने राजन से कहा कि सारी बात तो उसके पिता जी ने बता ही दी होगी बस वो आज से ही मनु को पढ़ाना शुरू कर दे,तब राजन ने उनसे उनका पता पूछा और कहा कि वो टाइम भी बता दें कि उनको कौन सा टाइम सूट करेगा,तब अरविंद ने कहा कि इस बारे मे वो मनु से बात कर ले और राजन को मनु का फोन नंबर दे दिया,फिर कहा कि वो अपनी फीस भी बता दे ,तब राजन ने कहा कि पहले वो पढ़ाना शुरू कर दे फिर बता देगा.

राजन से फिर मनु को फोन किया और कहा कि वो राजन बोल रहा है,और उसके पिता जी से हुई सारी बात मनु को बता दी,और पूछा कि वो आज किस टाइम मनु को पढ़ाने आए,तब मनु ने कहा कि वो 2 बजे स्कूल से घर आता है,और खाना खाते -2 3 बज जाते हैं अगर राजन के लिए संभव हो सके तो 4 बजे मनु के घर आ जाए,तब राजन ने कहा कि वो पहुँच जाएगा.

मनु के जो दोस्त राजन के यहाँ ट्यूशन पढ़ते थे उनको बताया कि आज से राजन उसको ,उसके घर पर पढ़ाने आएगा.इस बात से मनु का सिक्का उसके दोस्तों पर जम गया कि राजन तो जल्दी से सिंगल ट्यूशन नही लेता वो मनु को उसके घर पढ़ाने आएगा ये तो बहुत बड़ी बात है.

फिर दोपहर मे मनु घर पर आ कर राजन का इंतेज़ार करने लगा मनु ने अपनी मा को भी बता दिया कि आज से राजन उसको घर पर पढ़ाने के लिया आया करेगा,

तब आरती ने पूछा कि राजन कब आएगा तो मनु ने कहा कि वो 4 बजे आएगा.तो मम्मी ने कहा कि मुझे मम्मी को पहले बताना चाहिए था कि आज से ही ट्यूशन वाले सर पढ़ाने आ रहे हैं,क्योंकि मेरी मम्मी मॉर्डन विचारों वाली हैं तो वो कहती हैं कि कोई भी उनके घर आए तो उसको ये ना लगे कि घर फेला -2 है ,तब मम्मी ने कहा कि मे जल्दी से अपने रूम मे से फालतू समान हटा दूं और ड्रॉयिंग रूम की हालत भी ठीक कर दूं.वो भी घर मे नाइटी मे रहती हैं वो कपड़े चेंज करने चली गयी.


User avatar
007
Super member
Posts: 3909
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: मा की मस्ती

Post by 007 » 12 Jul 2015 22:38

सुस्वागतम मित्र नई कहानी शुरू करने के लिए
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
jay
Super member
Posts: 7035
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: मा की मस्ती

Post by jay » 13 Jul 2015 08:09

एक और नई कहानी शुरू करने के लिए बधाई मित्र
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Post Reply