चूतो का समुंदर

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
shubhs
Gold Member
Posts: 1001
Joined: 19 Feb 2016 06:23

Re: चूतो का समुंदर

Post by shubhs » 09 Sep 2017 11:17

Update
सबका साथ सबका विकास।
हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, और इसका सम्मान हमारा कर्तव्य है।

Re: चूतो का समुंदर

Sponsor

Sponsor
 

Bha123gup
Posts: 2
Joined: 20 Aug 2017 16:54

Re: चूतो का समुंदर

Post by Bha123gup » 09 Sep 2017 13:57

Update de but din ho gye hai

Bha123gup
Posts: 2
Joined: 20 Aug 2017 16:54

Re: चूतो का समुंदर

Post by Bha123gup » 09 Sep 2017 23:33

Update de but din ho gye Hai

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1765
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: चूतो का समुंदर

Post by Ankit » 13 Sep 2017 19:34

VKG wrote:
04 Sep 2017 20:20
ये हो क्या रहा है
shubhs wrote:
05 Sep 2017 08:14
अब ये कौन है
VKG wrote:
09 Sep 2017 06:21
Update
shubhs wrote:
09 Sep 2017 11:17
Update
Bha123gup wrote:
09 Sep 2017 13:57
Update de but din ho gye hai
sorry dosto

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1765
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: चूतो का समुंदर

Post by Ankit » 13 Sep 2017 19:34


दामिनी के घर.....


दामिनी ने जैसे ही गेट खोला तो सामने 4 लोग खड़े दिखे....जिन्हे देख कर दामिनी थोडा सहम गई..

दामिनी- क्क़..क्या है....

आदमी- आपको चुपचाप हमारे साथ चलना है...और हाँ...आपकी बेहन कामिनी को भी ....

दामिनी(गुस्से से)- ये क्या बकवास है....तुम लोग...रूको ..अभी बताती हूँ... कोई है....कोइइ....

आदमी(बीच मे)- कोई नही आयगा....हम पूरी तैयारी से आए है....

दामिन(चिल्ला कर)- आख़िर तुम लोग हो कौन और...और मुझे....

आदमी2(बीच मे)- कुछ बोलने से पहले ये देख लीजिए...

और इतना बोल कर उस आदमी ने अपना मोबाइल आगे कर दिया...जिसमे चल रहा वीडियो देख कर दामिनी के पसीने छूट गये....

दामिनी- ये सब कैसे....और तुम लोग आख़िर चाहते क्या हो...

आदमी2(मुस्कुरा कर)- चुपचाप हुमारा कहना मानिए....इसी मे सबकी भलाई है...ठीक है....

इसके बाद वो लोग दामिनी के साथ अंदर चले गये और गेट अंदर से बंद हो गया......

---------------------------------------------------------------

अकरम के घर......

अकरम अपने रूम मे सादिया के साथ रॉंमाँस करने मे बिज़ी था कि तभी उसका मोबाइल बज उठा....

(कॉल पर)

अकरम- हाँ..हेलो...

सामने-&%&%&%&

अकरम- हाँ , अकरम ही बोल रहा हूँ....तुम कौन हो...

सामने- &%&%&%&%%%

अकरम(हैरानी से)-क्या....तुम सच बोल रहे हो ना....

सामने-&%&%&%&%%

अकरम(साँस ले कर)-ह्म...समझ गया....मैं पहुँच जाउन्गा....

और अकरम ने फ़ोन कट करके सादिया को कपड़े पहनने का बोला और फिर एक कॉल कर के रेडी हो गया......

अकरम(सबनम से)- मोम ...मैं एक काम से कुछ दिनो के लिए बाहर जा रहा हूँ....आप सब अपना ख्याल रखना ....

-------------------------------------------------------------------------

Post Reply