बहू नगीना और ससुर कमीना

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1890
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: बहू नगीना और ससुर कमीना

Post by Ankit » 04 Nov 2017 12:00

Superb update

Re: बहू नगीना और ससुर कमीना

Sponsor

Sponsor
 


sunita123
Novice User
Posts: 96
Joined: 23 Jun 2015 17:25

Re: बहू नगीना और ससुर कमीना

Post by sunita123 » 09 Nov 2017 12:07

bahto jabradast update diya hai sach me bahot maja aay apdhne me

User avatar
Smoothdad
Gold Member
Posts: 761
Joined: 14 Mar 2016 08:45

Re: बहू नगीना और ससुर कमीना

Post by Smoothdad » 12 Nov 2017 14:55

Ankit wrote:
04 Nov 2017 12:00
Superb update
Rohit Kapoor wrote:
06 Nov 2017 13:29
superb.......
sunita123 wrote:
09 Nov 2017 12:07
bahto jabradast update diya hai sach me bahot maja aay apdhne me

Thanks Dear for your comments

User avatar
Smoothdad
Gold Member
Posts: 761
Joined: 14 Mar 2016 08:45

Re: बहू नगीना और ससुर कमीना

Post by Smoothdad » 12 Nov 2017 14:55

राजीव चारु को अपने से लिपटा कर बोला: मज़ा आया अपने जीजू से चुदवा कर?

चारु उसके सीने में सिर छिपा कर: जी अंकल बहुत मज़ा आया। उफ़्फ़्फ़्फ जीजू तो बहुत हॉट हैं।

राजीव: आख़िर बेटा किसका है? वो उसके होंठ चूसते हुए बोला।

चारु भी अपना हाथ उसके जाँघों के ऊपर छू रहे उसके आधे खड़े लौड़े पर रखी और उसे हल्के से दबाने लगी।

राजीव भी उसके होंठ चूसते हुए उसके गले और कंधे पर लव बाइट देने लगा। नीचे आते हुए उसकी मस्त चूचियों को दबाने और चूसने लगा। चारु अब उसके लौड़े को मुठियाने लगी और वो उसके हाथ में अपना आकार बढ़ाने लगा।

उधर शिवा भी सरला को अपने से चिपटाए हुए पड़ा था और दोनों के होंठ एक दूसरे से जुड़े थे। सरला करवट लेकर लेटी थी और उसकी मोटी गाँड़ राजीव को दिख रही थी। शिवा के हाथ उसके पीठ से होते हुए उसकी मस्त उभरे गाँड़ पर आ गए और वो उनको दबाकर मस्ती से भर कर बोला: मम्मी आपके जैसे मस्त गाँड़ मैंने कभी नहीं देखा।

राजीव हँसकर: वैसे तेरी माँ की गाँड़ भी ऐसी ही मस्त थी बेटा। बहुत मज़ा आता था उसे दबाने और चोदने में।

शिवा सोचा कि हाँ माँ की भी गाँड़ बिलकुल ऐसी ही मस्त गोरी और बड़ी बड़ी थीं। उफ़्फ़्फ कितनी बार देखा था उनको संदीप अंकल से और ड्राइवर अनवर

(( यहाँ एक परिवर्तन कर रहा हूँ क्योंकि मुझे एक सलाह दी गयी है कि ड्राइवर का नाम अनवर की जगह नीरज होना चाहिए मैं इस सलाह को मान लिया हूँ और यह परिवर्तन किया हूँ ))

से चुदवाते हुए। वो दोनों तो उनकी गाँड़ भी मारते थे। वो माँ की गाँड़ का सोचकर पूरा उत्तेजित हो गया और सरला ने नीचे हाथ ले जाकर अपने दामाद का लौड़ा पकड़ा और सहलाने लगी। वो भी अब उसकी चूचियाँ चूसकर उसे मस्त करने लगा। जल्दी ही सरला की आऽऽह गूँजने लगी।

उधर चारु भी अपनी चूचियों और निपल्ज़ के मर्दन और चुशन से मस्त होकर हाऽऽय्य करने लगी। अब वो करवट में लेटी हुई अपनी एक टाँग उठाकर राजीव की कमर पर रख दी। राजीव समझ गया कि वो क्या चाहती है। वो अपना हाथ नीचे ले गया और उसकी बुर सहलाकर अपनी २ उँगलियाँ अंदर डाल कर उसकी बुर की गरमी से मस्त होकर उनको अंदर बाहर करने लगा। अब चारु खुलके आऽऽऽऽह करने लगी। राजीव का खड़ा लौड़ा उसके हाथ में अब पूरा तन चुका था। वो मोटे सुपाडे पर अंगुली फिराकर मस्त होकर बोली: आऽऽऽऽऽह अंकल अब करिए ना प्लीज़।

राजीव: क्या करूँ मेरी बिटिया रानी?

चारु : हाऽऽऽऽय्य अंकल आप बहुत गंदे हैं उन्ननन चोदिए ना प्लीज़ ।

तभी राजीव ने देखा कि सरला अपनी मोटी गाँड़ हिला रही थी। वो समझ गया कि शिवा ने भी उसकी बुर उँगलियों से चोदना शुरू किया होगा।

शिवा: मम्मी आपको डोग्गी पोज़ीशन में चोदना है।

सरला हँसी: ठीक है जैसे चोदना हो चोद लो बेटा पर जल्दी करो बहुत गरम हो गयी हूँ ।

शिवा: मम्मी क्या गरम हो गयी है?

सरला: बदमाश मेरी बुर बहुत गरम हो गयी है। बस अब चल उसे ठंडी कर इस मूसल से । वो उसके लौड़े को दबाकर बोली।

अब शिवा उससे अलग हुआ और उसको पीठ के बल लिटाकर उसकी छाती पर अपने दोनों पैर फैलाकर उकड़ूँ बैठा और अपना लौड़ा उसके मुँह के सामने करके सुपाडे को उसके होंठों पर फिराने लगा। सरला भी किसी प्यासे की तरह अपना मुँह खोल दी और जीभ निकालकर उसके सुपाडे को चाटने और होंठों से चूसने लगी। अब शिवा ने अपना लौड़ा उसके मुँह में डाला और मानो उसके मुँह को चोदने लगा। सरला भी अपने गालों को सिकोड़ कर उसे मस्ती से चूसने लगी। जल्दी ही वो उसे डीप थ्रोट भी देने लगी। साथ ही वो उसके आंड भी सहलाने लगी। शिवा को लगा कि अब उसका निकल ना जाए तो वह अपना लौड़ा निकाल कर पीछे हो गया।

शिवा: मम्मी पेट के बल लेटिए ना और अपनी गाँड़ उठा दीजिए।

सरला: बेटा दो तकिए रख दे मेरे पेट के नीचे ।

शिवा ने तकिए रखे और सरला अपनी गाँड़ उठाकर लेट गयी। शिवा उसके पीछे आया और बोला: उफ़्फ़्फ मम्मी क्या मस्त गाँड़ और चूत है आपकी? म्म्म्म्म्म्म। वो वहाँ गाँड़ की दरार में पूरी लम्बाई में हाथ फेरा और गाँड़ के छेद और चूत के अहसास को पाकर मस्ती में आकर बोला: मम्मी अभी तो मैं आपकी चूत और गाँड़ चाटूँगा। चुदाई तो इसके बाद ही होगी।

सरला भी मस्ती से अपनी गाँड़ हिलाकर बोली: ठीक है बेटा जो करना है करो।

शिवा झुका और उसकी गाँड़ के मोटे मांसल हिस्से को दबाकर दाँत से काटने लगा। सरला आऽऽऽऽऽऽऽह कर उठी। अब वो उसके गाँड़ की दरार में अपना मुँह डाला और उसके भूरे से सिकुड़े से छेद को चाटने लगा और अपनी उँगलिया उसकी चूत पर चलाने लगा। अब सरला उइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽ कर उठी। जल्दी ही उसकी जीभ सरला के पूरे दरार में लम्बाई में चलने लगी और सरला मस्ती से अपनी गाँड़ हिलाने लगी। अब उसकी तीन उँगलियाँ उसकी चूत की गहरायियाँ नाप रहीं थीं और सरला की मस्ती का ठिकाना नहीं था।

राजीव सरला की उठी हुई गाँड़ देखकर चारु से बोला: बेटी इस पोज में तुम भी चुदवाओ ना, मज़ा आएगा।

चारु ने शिवा का मुँह सरला की गाँड़ में देखा और सरला की मस्ती देखी तो बोली: आऽऽऽह अंकल ठीक है आप भी ऐसा ही करो।

अब वो भी ऐसे ही पेट के बल लेट गयी और अपनी गाँड़ ऊपर उठा ली। अब राजीव भी उसके पीछे आकर उसकी गाँड़ के छोटे से छेद को देखकर मस्ती से वहाँ ऊँगली लाकर सहलाया और बोला: उफ़्फ़्फ़्फ बिटिया क्या रेशमी गाँड़ है तुम्हारी। बहुत मज़ा आएगा तुम्हारी गाँड़ मारने में। फिर वो नीचे उँगलियाँ ले जाकर उसकी बुर को मूठ्ठी में दबाकर मस्ती से भरकर उसकी गाँड़ को चाटने लगा और जल्दी ही वो भी पूरी लम्बाई में उसकी गाँड़ और चूत चाटकर मस्त कमसिन जवानी को मज़े देने लगा। चारु भी अब आऽऽऽऽऽऽहह उइइइइइइइइ करने लगी। वो अपनी चाची को देखी जो अपने दामाद से मज़े कर रही थी। उसने देखा कि अब शिवा ने अपना मोटा लौड़ा अपनी सास की चूत की गहराई में पेल दिया था और उसे बुरी तरह चोदने लगा था। चुदाई से पूरा पलंग हिले जा रहा था । सरला की उन्ननन उन्ननन गूँज रही थी। तभी उसने महसूस किया कि अंकल ने अपना मुँह उसकी गाँड़ की दरार से हटा लिया है और फिर उसे उनके गरम सुपाडे का अहसास अपनी चूत के छेद पर हुआ। जल्दी ही अंकल ने अपना सुपाड़ा उसके छेद के अंदर किया और दबाकर एक धक्के में आधा लौड़ा अंदर कर के चारु की आऽऽऽऽऽहह निकाल दिए। फिर दूसरा धक्का और पूरा लौड़ा अंदर । वो उइइइइइइइइ कहकर अपनी गाँड़ पीछे की ताकि एक एक इंच लौड़ा उसकी बुर में चले जाए और उसकी मस्ती को और ऊँचाइयों पर ले जाए। अब राजीव ने भी अपनी चुदाई शुरू की।

अब पलंग का बुरा हाल था । दोनों चाची भतीजी मज़े से बाप बेटे से गाँड़ हिला हिला कर चुदवा रहीं थीं। कमरा बहुत गरम हो गया था। थप्प ठप्प की आवाज़ें निकल रहीं थी जो उनके मोटी गाँड़ और जाँघों के टकराने से आ रहीं थीं। साथ ही चूत से फ़च फ़च की आवाज़ भी आए जा रही थी।

सरला आऽऽऽऽऽह करके अपने निप्पल्स मसल रही थी। और राजीव अपने दोनों हाथों में लेकर चारु की चूचियाँ मसल रहा था और पीछे से धक्के भी मारे जा रहा था।

राजीव: शिवा सरला की चूचियाँ मसल यार। देख बिचारि ख़ुद ही दबा रही है अपनी चूचियाँ ।

शिवा ने अपने पापा को देखा कि वो चारु की चूचियाँ मसल रहे थे सो वो भी मुस्कुरा कर अपना हाथ नीचे ले गया और सरला की नीचे की ओर झूल रहीं मोटी चूचियाँ दबाने लग।

अब सरला और चारु की सिसकारियाँ गूँजने लगीं।
सरला: उइइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽऽऽ और चोओओओओओओदो फाऽऽऽऽऽऽड़ दोओओओओओओओ आऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽह बेटाआऽऽऽऽऽऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽऽऽऽहह मैं गयीइइइइइइइइइइ
उधर चारु भी चिल्लाई: आऽऽऽऽऽऽऽह अंकल और जोओओओओओओर से करोओओओओओओओओ नाआऽऽऽऽऽऽ उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ मैं गयीइइइइइइइइइ।

जब दोनों चाची भतीजी झड़ रहीं थीं तब कमरे का दरवाज़ा खुला और मालिनी अंदर आयी। वो देखी की कैसे उसका पति और उसका ससुर उसकी माँ और उसकी कज़िन को चोद रहे हैं । वो बोली: उफ़्फ़्फ़्फ आप लोग थोड़ा कम आवाज़ नहीं कर सकते। मैं गुड़िया को दूध पिलाने उठी और आप लोगों का शोर सुन कर यहाँ आ गयी।

तभी राजीव ने अपना पानी उसकी बुर में छोड़ा और चारु के बग़ल में लुढ़क कर कहा: आऽऽऽऽऽह मज़ा आ गया बिटिया क्या मस्त टाइट चूत है तुम्हारी।

मालिनी ने देखा कि चारु अब भी अपने पेट के बल ही थी। और उसकी चूत से सफ़ेद रस बाहर आ कर गिर रहा था।

अब वो शिवा को देखी और वहाँ सरला भी झड़कर अपने पेट के बल ही गिरी हुई थी और तभी शिवा ने अपना पूरा खड़ा गीला लौड़ा बाहर निकाला उसकी चूत से और मालिनी से बोला: आऽऽऽऽऽह जानू ज़रा उस ड्रॉर से लूब की शीशी निकाल कर देना। वो अपना लौड़ा सरला की गाँड़ के छेद पर रख कर उसे दबाकर अपनी मंशा ज़ाहिर कर दिया।

मालिनी लूब निकाल कर उसको देती हुई बोली: मम्मी अगर आप थक गयी हो तो बोल दो , शिवा आपकी गाँड़ नहीं मारेगा ।

तब तक शिवा ने अपनी दो उँगलियों में लूब लगा कर सरला के पिछवाड़े में घुसेड़ दिया और उनको धीरे से अंदर बाहर करने सरला को मस्त करने लगा।

सरला मालिनी से बोली: आऽऽऽऽह बेटी अब तू तो अभी इसे कुछ दे नहीं सकती तो मुझे और चारु को ही तेरे पति का ख़याल रखना है अभी। आऽऽऽऽऽह करने दे उसे अपने मन की। हाऽऽऽऽऽय्यय मार ले बेटा मेरी गाँड़ भी। उइइइइइइ । वो अपनी गाँड़ हिलाकर बोली जिसमें शिवा की दो उँगलियाँ अब आराम से अंदर बाहर हो रहीं थीं। अब शिवा ने अपने लौड़े पर भी लूब लगाया और ट्यूब का मुँह उसके गाँड़ के छेद पर रखकर लूब उसके छेद में भी डाला और अब अपना सुपाड़ा उसके छेद में रखकर दबाने लगा। ज़रा से विरोध के बाद छेद का मुँह खुल गया और लौड़ा अंदर समाता चला गया।
सरला: उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ कितना मोटा है तेरा आऽऽऽऽऽऽह बेटाआऽऽऽऽऽऽऽ ।आऽऽऽऽऽऽऽज्ज फटेगी मेरी गाँड़ उईईईईओओओओओओओ ।

अब शिवा उसकी गाँड़ को पूरे मज़े से चोदेने लगा। सरला की सिसकारियाँ फिर से गूँजने लगीं और पलंग फिर से चूँ चूँ करने लगा। चारु मालिनी और राजीव मज़े से सरला को शिवा से गाँड़ फडवाते हुए देख रहे थे। मालिनी का भी हाथ मैक्सी के ऊपर से ही अपने बुर के ऊपर चला गया। वो वहाँ हल्के से दबा उठी।

राजीव का हाथ अब चारु की गाँड़ को सहलाने लगा और एक ऊँगली में थूक लगाकर उसके पिछवाड़े के छेद में डालने लगा। चारु उइइइइइ कह कर बोली: आऽऽऽऽह अंकल दुखता है ना।

मालिनी मुस्कुरा कर बोली: चारु जल्दी ये दोनों तेरी गाँड़ भी मारेंगे । अभी से तय्यार हो जा। ये लो पापा अपनी ऊँगली में लूब लगा लो और फिर ऊँगली डालो। राजीव ने लूब लिया और एक ऊँगली में लगाकर चारु के पिछवाड़े में डाला और अब हिलाने लगा।
चारु : आऽऽऽह अंकल म्म्म्म्म्म्म।

Post Reply