चुदाई घर बार की complete

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
Jemsbond
Super member
Posts: 4172
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: चुदाई घर बार की

Post by Jemsbond » 14 Dec 2016 19:47

बाजी आप की बात तो ठीक है लेकिन ऐसा होगा किस तरह क्या कुछ इस बारे मैं भी सोचा है आप ने

बाजी मेरी तरफ देखते हो बोली बस भाई तुम फरजाना की फिकेर करो वो अगर तुम्हारे हाथ आएगी तो बिल्लो के ज़रिए बाकी

फरीदा का तो मैने सोच लिया है की क्या करना है

उसकी चिन्ता नहीं लो

मैने हाँ मैं सर हिला दिया और बोला ठीक है बाजी मैं करता हूँ बिल्लो से बात की वो क्या कहती है वेसे मुझे उमीद है की बिल्लो मना नहीं करेगी और हुमारा पूरा साथ देगी

बाजी मेरी बात सुनके उठ खड़ी होई और बोली चलो अब तुम आराम करो और
बिल्लो से जो भी बात करनी है सोच लो के किस तरह करोगे और उसे अपना हामी बनोगे

तुम्हारा काम है बाकी फरीदा का मैं 1 2 दिन मैं ही तुम्हारे या अबू के साथ कुछ करती हूँ साली ने हमनें बदनाम करने मैं कोई कसर नहीं चोरी थी और इतना बोल के बाजी मेरे रूम से निकल गई

बाजी के जाने के बाद मैं सोच मैं पड़ गया के आख़िर बाजी फरीदा के बारे मैं क्या सोचे है और उसे किस तरह राज़ी करेगी लेकिन फरजाना का मुझे इतना बड़ा मसाला नज़र नहीं आ रहा था क्यों के बिल्लो मुझे बता चुकी थी के फरजाना भी अब चुत की खुजली मिटाना छाती है और उस के लिए किसी भी हद तक जा सकती है

खैर मैने ज़्यादा सोच बिचार मैं वक़्त बरबाद नहीं किया और सोने की कोशिश करने लगा और मेरी आँख कब लगी मुझे पता भी नहीं चला दुपेहर को मेरी आँख खुली तो

मैं खाना खा के खेतों की तरफ चला गया जहाँ बाजी और अबू दोनो ही थे मेरे खेतों मैं पहुँचते ही बाजी ने मुझे कहा क्यों भाई नींद पूरी हो गई तुम्हारी या फिर अभी कुछ और भी सोना है

मैं हंसते हो अबू की तरफ देख के बोला बस हो ही गई है नींद भी पूरी लेकिन बाजी आप क्यों पूछ रही हैं तो बाजी ने कहा भाई कुछ काम है तुम से लेकिन अभी नहीं रात को ब्ताओं गी

मैं कुछ ना समझते हो हंस दिया और जा के बिस्तेर पे बैठ गया और अबू और बाजी को काम करते हो देखने लगा और नहा धो के टाइम पास करता रहा और शाम को बाजी और अबू के साथ घर की तरफ चल दिया

घर पहुँच के सब ने कुछ देर आपिस मैं गुप शुप करने के बाद खाना खाया और सोने के लिए अपने अपने बिस्तेर पे चले गये तो

अम्मी मेरे लिए दूध लाई और मुझे दूध का गिलास पकड़ा के बोली लो बेटा दूध पीयो लेकिन अभी सोना नहीं तुम्हारे साथ कुछ काम है

मैने दूध का गिलास पकड़ लिया तो अम्मी मेरे रूम से निकल गई तो मैं दूध पीके हो सोचने लगा की अभी अम्मी भी जागने के लिए बोल के गई हैं और बाजी ने भी कहा था क आज तुम्हारे साथ काम है तो आख़िर ऐसी क्या बात है क बाजी और अम्मी दोनो को एक साथ ही मेरे से काम पड़ गया

खैर मैं दूध पी के लेट गया और इंतज़ार करने लगा क देखते हैं अब क्या काम निकालने वाला है मेरे लिए

मुझे बिस्तेर पे लेते हो कोई 30-35 मिनट ही हो थे क बाजी मेरे रूम मैं आ गई और मुझे जागता देख के बोली क्यों भाई तैयार हो ना कहीं नींद तो नहीं आ रही तुम्हें तो मैं उठ के बैठ गया और बोला नहीं बाजी नींद तो नहीं आ रही लेकिन कुछ समझ भी नहीं आ रही क आख़िर चल क्या रहा है यहाँ

अभी अम्मी भी जागने का बोल के गई हैं और

तुम भी तैयारी का पूछ रही हो

बाजी मेरी बात सुन के हंस दी और बोली भाई जो मैं बोलों बस वेसे ही करते चले जाओ सब कुछ तुम्हारी समझ मैं आ जाए गा और इतना बोल के मेरा हाथ पकड़ लिया और बोली चलो मेरे साथ
मैं बाजी के साथ चल पड़ा और बोला लेकिन बाजी बताओ तो सही जाना कहाँ है तो बाजी ने कहा यार मेरे रूम मैं ही चलना है तुम्हें और आज की रात वहीं हम मज़े कराईंगे क्या समझे

मैं बाजी की बात सुन के रूम के दरवाजे पे ही झटके से रुक गया और बोला बाजी कहीं आप का दिमाग तो खराब नहीं हो गया वहाँ तो फरीदा भी आप के साथ ही सोती है और जहाँ तक मेरा ख्याल है की अभी वो जाग रही हो गी सोई नहीं हो गी

बाजी हंसते हो बोली हाँ भाई फरीदा वहीं मेरे साथ ही सोती है और अभी जाग रही लेकिन आखें बंद किए लेती है और सोने की कोशिश कर रही है और मैं जो चाहती हूँ उस के लिए ये वक़्त ही मुनासिब है

मैने बाजी को हेरात से देखा और बोला लेकिन बाजी मुझे भी तो पता चले के आख़िर तुम चाहती क्या हो तो बाजी ने कहा भाई मैं चाहती हूँ की फरीदा हुमारी चुदाई को अच्छी तरह देख ले क्यों की जुब फरीदा हमनें ये सब करता देखेगी तो ज़ाहिर है क वो सुबह अम्मी को बतएगी या फिर मेरे साथ बात करेगी जिस के बाद हमनें फरीदा को अपने साथ मिलना आसान हो जाएगा


बाजी की बात सुन के मैं हंस दिया और बोला ठीक है बाजी मैं तैयार हूँ लेकिन मेरा इस तरह आप के साथ जाना ठीक नहीं है आप ऐसा करो के रूम मैं चलो मैं आप के पीछे ही आ रहा हूँ 5 मिनट तकबाजी भी हँसती होई बोली लगता है मेरा भाई अब ख़ासा होशयार होता जा रहा है और इतना बोल के रूम से निकल गई तो मैं बाजी के जाने के बाद कोई 5 मिनट तक इंतज़ार कर के बाजी के रूम की तरफ चल दिया

मैं बाजी के रूम के पास जा के खड़ा हो गया और साँस बहाल की और बाजी के रूम का परदा हटा के रूम मैं जा घुसा और अपने पीछे दरवाजे बंद के कर के बाजी की तरफ देख के मुस्कुराया और लाइट ऑफ करने लगा तो बाजी ने ना मैं सर हिला के मुझे लाइट ऑफ करने से मना कर दिया

मैने लाइट ऑफ किए बिना ही बाजी की तरफ चल दिया और बाजी के बिस्तेर के पास जा खड़ा हुआ तो बाजी भी मुस्कुराने लगी और मेरा हाथ पकड़ के अपनी तरफ खींच लिया

जिस से मैं बाजी के ऊपर जा गिरा तो बाजी के मुह से आऐईयईईईईईई की हल्की से आवाज़ निकल गई क्यों की मैं काफ़ी ज़ोर से बाजी के ऊपर गिरा था

बाजी के मुह से आवाज़ निकलते ही हम दोनो ने एक साथ फरीदा की तरफ देखा तो मुझे लगा के फरीदा जाग रही है और हमनें देख भी रही थी लेकिन उस ने जल्दी से अभी आखेँ बंद की हूँ क्यों की फरीदा ने अपनी आँखों को बड़ी ज़ोर से भींचा हुआ था की हमनें उस के जागने का पता ना चले

लेकिन फरीदा को ये पता नहीं था की हम तो खुद ही जान बुझ के यहाँ उस के करीब ये सब कुछ कर रहे थे के वो सब कुछ अपनी आँखों से देख ले और हुमारी ये कोशिश पूरी होती नज़र आ रही थी
खैर मैने फरीदा की तरफ से नज़र घुमा ली और बाजी की तरफ देखा जो के अब मेरी तरफ ही देख रही थी तो मैने अपने लीपस को बाजी के होंतों पे रख दिया और बड़े प्यार से अपनी बड़ी बेहन को किस करने लगा

थोड़ी देर तक हम दोनो बेहन भाई एक दोसरे के ओ किस करते रहे उस के बाद बाजी ने मुझे अपने ऊपर से हटा दिया और बोली भाई इस तरह मज़ा नहीं आ रहा ऐसा करो जल्दी से कपड़े निकालो

मैं भी बाजी की बात सुन के हंस दिया और बोला यार बाजी अब इतनी भी क्या जल्दी है पूरी रात है

अपने पास मज़े करने को ज़रा आराम से करेंग बाजी ने कहा यार भाई आज तुम ने जो करना है ज़रा

जल्दी कर लो क्यों के सारी रात वाला प्रोग्राम फिर कभी का बना लेना आज नहीं क्यों के यहाँ फरीदा भी सोई होई है अगर इस की आँख खुल गई और इस ने हमनें इस हालत मैं देख लिया तो क़यामत ही आ जानी है इस ने तो पहले भी कोई कसर नहीं चोरी थी हमनें मरवाने की वो तो बस हुमारी किस्मत ही अच्छी थी

हाँन बाजी बात तो आप की ठीक है चलो फिर उतरो कपड़े आज का काम जल्दी जल्दी कर लेते हैं क्यों क अगर ये उठ गई तो ये हुमारे प्यार को ना समझते हो शोर श्राबा करे गी

मैं अब बाजी के ऊपर से हट के बिस्तेर से उतार आया और जान बुझ के फरीदा की तरफ मुह कर के अपने कपड़े उतरने लगा जिससे की मैं चाहता था की फरीदा अच्छी तरह मेरा लूँद देख ले जो की वो आध खली आँखों से अब देख भी रही थी हमारी तरफ बाजी ने भी मेरे पास खड़े हो के ही अपने कपड़े उतार दिए और नंगी हो गई

तो मेरे पीछे आ के खड़ी हो गई और मुझे पीछे से लीपेट गई और अपना एक हाथ थोडा नीचे कर के मेरे लूँद पे रख दिए और सहलाने लगी

थोड़ी देर तक बाजी अपने नंगे बूबस को मेरी कमर पे रगड़ती रही और मेरे लूँद को हाथ मैं पकड़े सहलाती रही तो फिर मैने बाजी का हाथ पकड़ा और उसे आगे की तरफ खींच लिया तो बाजी मेरे पेचए से निकल के सामने आ गई तो मैने बाजी को एक किस कियोर किस करने के बाद बाजी को अपने लूँद की तरफ इशारा किया तो बाजी मुस्कराते हो मेरे लूँद की तरफ झुक गई और अपना मुह खोल के मेरे लूँद की कॅप को अपने मुह मैं भर लिया

अब बाजी मेरे लूँद पे झुकी होई बड़े मज़े से लोली पोप की तरह मेरे लूँद को चूसे जा रही थी लेकिन अब मेरा ध्यान बाजी से हट के फरीदा बाजी की तरफ चला गया जिन का फेस टमाटर की तरह लाल हो रहा था और माथे पे पसीना भी चमक रहा था और उन की आखेँ भी आधी खुली नज़र आ रही थी

मैं समझ गया के फरीदा बाजी भी हुमारी मस्ती को पूरी तरह एंजाय कर रही हैं तो मैने बाजी को बलों से पकड़ के झतका दिया और खड़ा कर के उन के लीपस को चूसने लगा जिस मैं बाजी भी मेरा किसी जनोनी की तरह साथ दे रही थी

किस करने के बाद बाजी ने मुझे नीचे लिटा दिया और फिर से मेरे लूँद को पूरी तरह अपनी ज़ुबान निकल के चाटने लगी
बाजी थोड़ी देर तक मेरा लूँद ऐसे ही चाटती रही फिर सर उठा के मेरी तरफ देखते हो बोली क्यों भाई मज़ा भी आ रहा है या नहीं तो मैं हंस दिया और बोला बाजी जिस की आप जैसी गश्ती बेहन हो उसे के मज़े का क्या ही पुछना बस यूँ लग रहा है के मैं हवाओं मैं उड़ा जा रहा हूँ

मेरी बात सुन के बाजी उठ खड़ी होई और मेरे मुह के पास आ के खड़ी हो गई और अपनी टाँगों के खोल के मेरे सर के दोनो तरफ रख लिया और थोडा सा झुकते हो बोली

भाई ज़रा अपनी बेहन की चुत का पानी तो चख के देखो मज़े का है या नहीं तो मैने भी नीचे से अपना सर थोडा उठा दिया और अपनी ज़ुबान बाहर निकल के बाजी की चुत से टीका दी और चाटने लगा
मेरी ज़ुबान जैसे ही बाजी की चुत से टच होई बाजी सीधी खड़ी गई तॉज़ मैने हेरान होते हो कहा क्यों बाजी खड़ी क्यों हो गई
अभी तो आप की चुत की स्मेल भी अच्छी तरह नहीं मिली के आप खड़ी भी हो गई बाजी मेरे ऊपर से हट गई और बोली यार भाई ऐसा करो की मुझे बिस्तेर पे लेटने दो फिर तुम मेरी चुत को मज़े चाटना

ऐसा मुझ से खड़ा नहीं हुआ जाएगा तो मैने बाजी को बिस्तेर पे लिटा दिया और उन की टाँगों को पूरा खोल के दरमियाँ मैं लेट गया और अपनी ज़ुबान निकल के बाजी की चुत पे रख दी और ऊपर से नीचे तक बाजी की चुत मैं घूमने लगा

मेरे इस तरह बाजी की चुत चाटने से बाजी सिसकियाँ भरने लगी जिस से रूम मैं आअहह भाईईईईईई उनम्म्मह हान्ंणणन् खा जाओ मेरी चुत को ऊऊहह हन ईईईईई ऐसे ही बड़े प्यार से घूमाओ अपनी जीभ को आअहह की आवाज़ गूंजने लगी

बाजी क्यों की अब काफ़ी गरम हो रही थी तो मैने अब ज़्यादा देर ना करते हो उठा और बाजी की टाँगों के दरमियाँ बैठ गया उठ के और अपना लूँद अपनी बड़ी बेहन की चुत पे टीका दिया और अंदर घुसने लगा

जैसे जैसे मेरा लूँद बाजी की चुत मैं घुसता जा रहा था बाजी के मुह से सस्सीईए आअहह भाईईईईईईईईईईईई पूरा घुसा डालो

एक ही झटके मैं क्यों तरसा रहे हो मेरिइईईईई मैने बाजी की बात को एक कान से सुना और दोसरे कान से निकल दिया और ऐसे ही आहिस्ता बाजी की चुत मैं अपना लूँद इन आउट करता रहा तो बाजी थोडा सा ऊपर को उठी और मुझे बलों से पकड़ के अपने ऊपर गिरा लिया और साथ ही अपनी टाँगों का आँकड़ा मेरी कमर पे बना के मुझे बलों से झींझोड़ते हो बोली साले हरामी मेरी चुत अग मैं जल रही है और

तुझे मस्ती सूझ रही हाईईईईईईईईई तेज़ तेज़ झटके मररर्र्र्र्ररर कुटिया के पीले बहनचोद तेरी मा की चुत को भी तुझसे से चुड़वाओं हरमिीईईईईई ज़ोर से छोड़ अपनी बेहन की चुत कूऊओ की आवाज़ के साथ ही अपने पैरों से मुझे अपनी चुत की तरफ डबती और साथ ही अपनी गांद को भी मेरे लूँद की तरफ ज़ोर से दबा देती जिस से रूम मैं ताप्प्प्प्प्प्प्प थाआप्प्प्प्प्प्प्प्प्प्प की तेज़ आवाज़ गूंजने लगी बाजी थोड़ी देर तक ऐसे ही चुड़वति रही लेकिन फिर अचानक बाजी ने मुझे छोड़ दिया और थोडा पीछे की तरफ खिसक गई जिस से मेरा लूँद बाजी की चुत से निकल आया तो
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Re: चुदाई घर बार की

Sponsor

Sponsor
 

Jemsbond
Super member
Posts: 4172
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: चुदाई घर बार की

Post by Jemsbond » 20 Dec 2016 11:22

मैने हेरनी से बाजी की तरफ देखा और बोला क्यों बाजी अब क्या हुआ तो बाजी ने मुझे ढाका देके गिरा दिया और खुद मेरे ऊपर चार के बैठ गई और मेरे ऊपर पूरी तरह लेटते हो अपना एक हाथ पीछे कर के मेरा लूँद पकड़ लिया और अपनी चुत के सोराख पे सेट करने लगी

अब बाजी ने मेरा लूँद अपनी चुत पे सेट किया और पूरी ताक़त से अपनी चुत को नीचे की तरफ दबा दिया जिस से मेरा लूँद बाजी की चुत मैं एक ही झटके से पूरा जा घुसा तो बाजी ने फिर से अपनी चुत को ऊपर उठाया और ज़ोर से मेरे लूँद की तरफ दबा दिया और बार बार ऐसे ही पूरी ताक़त से अपनी चुत मैं मेरा लूँद लेने लगी और साथ आअहह उनम्म्मह की तेज़ आवाज़ैईन भी करने लगी तो

अचानक मेरी नज़र फरीदा की तरफ गई जो अपनी आखेँ पूरी तरह खोले अब हुमारी चुदाई देखने मैं मगन थी और इस से पहले के उस की नज़र मेरी नज़र से मिलती मैं फिर से बाजी की तरफ देखने लग गया और अपने हाथ बाजी की कमर पे रख के खुद भी नीचे से झटके मरने लगा

ऊपर से बाजी और नीचे से मेरे झतकों से मेरा बुरा हॉल होने लगा और मेरा पानी अपने एंड पे था और इस से पहले के मेरा लूँद पानी छोड़ता बाजी के मुह से आअहह भाईईईईईईईईईईईईईईईईई मेरा हो .ग्याआआआआआ की तेज़ आवाज़ के साथ ही पानी छोड़र गई तो
मेरे लूँद ने भी पानी अपनी बड़ी बेहन की चुत मैं ही पानी छोड दिया तो बाजी निढाल हो के मेरे ऊपर ही गिर गई

थोड़ी देर तक हम अपनी अपनी आखेँ बंद किए अभी होई चुदाई का सकूँ लेते रहे फिर मैने अपनी आखेँ खोली और फरीदा की तरफ देखा तो अब अपनी आखेँ बंद कर चुकी थी तो मैने बाजी को अपने ऊपर से हटाया और बिस्तेर से उतार के अपने कपड़े उठा के पहने और बाजी को एक किस की और बाजी के रूम से निकेल के अपने रूम मैं आ गया और खामोशी से सो गया

अगली सुबह मैं काफ़ी देर से उठा और नहा के वापिस रूम मैं आया तो उस के थोड़ी देर के बाद ही फरीदा मेरा नाश्ता ले के आ गई और मेरे सामने नाश्ता रख के सीधी होते हो बोली भाई क्या बात है आज कल रात को ठीक से नींद नहीं आ रही क्या जो इतनी देर तक सोते हो तुम

फरीदा ने ये बात बड़े ही तंज़िया अंदाज़ मैं कही थी और मैं उस की वजाह भी जनता था
क्यों की फरीदा ने रात मुझे फरी बाजी के साथ सेक्स करते हो जो देखा था
खैर मैने फरीदा की तरफ देखा और उस की आँखों मैं आखेँ डॉल के देखते हो बोला क्यों देर तक सोना मना है क्या और
वेसे तुम ऐसे क्यों पूछ रही जैसे मैं रात को कहीं चोरी करने जाता हूँ तुम्हें बताये बिना

फरीदा मेरे इस तरह उस की आँखों मैं आखेँ डॉल के बात करने से थोडा घबरा गई और जल्दी से बोली नहीं भाई मैं तो बस ऐसे ही मज़ाक कर रही थी और जल्दी से रूम से बाहर निकल गई

फरीदा के जाने के बाद मैं आराम से नाश्ता किया और बर्तन उठा के साइड पे रख के फिर से लेट गया क्यों के मुझे बड़ी थकावट सी महसोस हो रही थी ऐसा लग रहा था जैसे मेरा पूरा जिस्म दर्द कर रहा हो

मुझे अभी लेते थोड़ी देर ही होई थी के बाजी मेरे रूम मैं आ गई और आते ही बोली क्या बात है भाई अभी तक लेते हो हो आज खेतों पे नहीं जाना तुम ने जो अभी तक घर पे ही हो

मैं उठ के बैठते हुए बोला यार बाजी आज सारा जिस्म दर्द कर रहा है और कहीं भी जाने को दिल नहीं हो रहा इसी लिए लेटा हुआ हूँ मैं तो बाजी ने कहा यार भाई तुम खेतों पे ही चले जाओ तो अच्छा है क्यों की

वहाँ तुम आराम भी कर लोगे और यहाँ अगर कोई मोका मिला और फरीदा ने मेरे साथ या अम्मी के साथ कोई बात की तो उस का भी कुछ करना होगा ना

मैं क्रहते हो उठा और बोला अच्छा बाजी अगर मेरे घर मैं रुकने से फरीदा बात नहीं कर रही तो मैं चला जाता हूँ लेकिन इस बात की क्या ज़मानत है की मेरे जाते ही वो भी भागी होई तुम से या अम्मी से बात करने आए गी

बाजी हंसते हो बोली भाई समझा करो ना मैं चाहती हूँ के फरीदा को पूरा मोका दिया जाए के वो बात करे क्यों के अगर वो चुप रहती है और बात नहीं करती तो फिर मसाला हो गा

मैं घर से निकला और खेतों की तरफ चल दिया और जुब मैं खेतों मैं पंहुचा तो देखा के वहाँ अबू के साथ बिल्लो और फरजाना दोनो ही बेती गुपैयन लगा रही थी

फरजाना को अबू के पास बेता देख के मेरे दिल की अजीब हालत होने लगी (शैयद जलन हो रही थी क्यों क फरजाना पे मेरी नज़र थी और मैं उसे अबू के साथ बेता ब्रदाश्त नहीं कर पा रहा था)

मैं भी अबू के पास जा के बैठ गया तो बिल्लो मेरी तरफ देखते हो अबू से बोली अंकल लगता है के आप का बेटा शहर जा के भूल गया है क जुब किसी के पास जाते हैं तो सब से पहले सलाम दुआ करते हैं

मैं... लेकिन मैं कों सा किसी के पास गया हूँ तुम ही ऐइ हो तो तुम्हें ही सलाम दुआ करनी चाहिए

फरजाना... नहीं भाई हम आप से पहले यहाँ बेती होई हैं और आप अभी आए हो तो यहाँ सब से आप को ही मिलना चाहिए था

मैं... अच्छा बाबा मुझे नहीं पता था की यहाँ इस बिल्लो की बची के अच्छी ख़ासे वोट हैं और ऊपर से तुम भी यहाँ हो जो के हर वक़्त इस की दूं चली बनी रहती हो इस लिए मैं ही सॉरी बोल देता हूँ

फरजाना... भाई मैं भला फरजाना की दूं चली कैसे हो सकती हूँ इस की तो दूं है ही नहीं बिल्लो.... फरजाना छोड यार लगता है तेरा भाई पागल हो गया है इसे शैयद पता नहीं है की लड़कियों की दूं नहीं होती

अबू... अच्छा बचो तुम गुप शुप लिगाओ मैं थोडा काम देख लून और उठ के चले गये

अबू के जाते ही फरजाना उठी और बिल्लो के कान मैं कुछ बोल के वहाँ से निकल गई तो

मैं फरजाना को जाते हो देखने लगा तो बिल्लो थोडा खाँसते हो बोली क्यों विक्की तुम तो बोल रहे थे की फरजाना अभी बची है और अब खुद ही उस की मटकती होई गांद को घौर रहे हो

मैने बिल्लो की तरफ देखा और बोला हन यार है तो अभी छोटी लेकिन उस का जिस्म सच मैं कमाल का है दिल कर रहा है की अभी जा के उस चोद दूँ लेकिन क्या करू वो माने गी नहीं

तो जा चोद दे यहाँ तुम्हें मना करने वाला कों है बाद मैं खुद ही जुब मज़ा आएगा तो चुप हो जाएगी

मैने बिल्लो की बात पे घौर किया लेकिन मेरा दिल नहीं मना तो मैने कहा नहीं यार जो मज़ा रज़ामंदी मैं मिलता है वो ज़बरदस्ती मैं थोडा ही होगा ना

बिल्लो मैं फरजाना के साथ जुब भी करू गा उस की मर्ज़ी से करूगा ऐसे ज़ोर ज़बरदस्ती नहीं करूगा मैं

बिल्लो चुप हो की किसी सोच मैं गुम हो गई और थोड़ी देर तक सोचती रही और फिर बोली

विक्की अगर तुम कहो तो मैं फरजाना को मना लून क्यों की उसे ये तो पता है क मैं चुदाई का मज़ा ना सिर्फ़ ले चुकी हूँ बलके अक्सर लेती रहती हूँ और फरजाना भी चुदाई क लिए मारी जा रही है तो मेरा ख्याल है क अगर तुम कहो तो मैं उसे तुम से चुदवा सकती हूँ

मैं हेरनी से बिल्लो की तरफ देखते हो बोला लेकिन किस तरह होगा ये सब तो बिल्लो हँसती होई बोली ये तुम मुझ पे छोड दो तुम्हारा काम हो जाएगा लेकिन मुझे क्या मिलेगा ये बताओ

मैने कहा जो तुम माँगो गी अगर मेरे बस मैं हुआ तो मैं तुम्हें मना नहीं करूगा ये मेरा वादा है

बिल्लो की आँखों मैं मेरी बात सुन के चमक आ गई और वो मेरा हाथ पकड़ के हिलाते हो बोली विक्की पक्का वादा करना और बाकी
तुम्हारा काम 2 से 3 दिन मैं हो जाएगा तुम बस तैयार रहो अपनी छोटी बेहन की कच्ची चुत का मज़ा लेने के लिए और हंस पड़ी

मैने भी बिल्लो से पक्का वादा किया और इस से पहले की हम और कुछ बोलते हमनें फरजाना आती नज़र आ गई तो हम खामोश हो के बैठ गये
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4172
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: चुदाई घर बार की

Post by Jemsbond » 20 Dec 2016 11:23

फरजाना हुमारे पास आई तो बिल्लो की तरफ आखेँ मतकते हो बोली क्या हो रहा था यहाँ मेरे जाने के बाद और मुझे देखते ही तुम दोनो चुप क्यों हो गये हो सच्ची सच्ची बता दो मुझे बिल्लो....

तेरी ही बात हो रही थी मैं विक्की को बोल रही थी के फरजाना अब काफ़ी बड़ी हो गई है लेकिन ये मान ही नहीं रहा था अब तो ही बता दे अपने भाई के तो कितनी बड़ी हो गई है मेरी तो मानता ही नहीं

फरजाना.... बिल्लो इंसान की बची बनजा
ये भी भला कोई बात होई और मेरी तरफ देख के बोली भाई आप ही बताओ ना ये कमीनी क्या बोल रही थी ज़रूर आप को मेरे बारे मैं कोई उल्टी सीधी बोल रही गी

मैं... अरे कुछ नहीं ये तो बस ऐसे ही तेरे साथ दिल लगी कर रही है वरना ये तो जान देती है तुझ फरजाना...
हाँ आप तो इस का साथ दोगे ना और इसे तो मैं अच्छी तरह जानती हूँ
एक काम बोला था वो भी नहीं किया इसने मैं..........
क्या काम है मुझे बता दे मैं कर देता हूँ आख़िर तेरा बड़ा भाई हूँ मैं भला किस दिन काम आऊँगा

बिल्लो... मेरी बात सुन के अपना पेट पकड़ के हँसती होई दोहरी हो गई और थोड़ी देर बाद फरजाना की तरफ देख के हंसते हो बोली हाँ हाँ फरजाना बता दे अपने भाई को ये कर देगा तेरा काम सच्ची..

बिल्लो की बात सुन के फरजाना किसी भूखी शेरनी की तरह उठी और बिल्लो को बलों से पकड़ के झींझोड़ने लगी और बोली
बिल्लो बाज़्ज़ आ जा वरना आज तो मेरे हाथों मारी जाएगी और फिर बिल्लो को बॉल छोड के उठी और अपने पावं पतखती होई दूसरी तरफ चली गई जहाँ अबू काम कर रहे थे

फरजाना के जाते ही मैने बिल्लो से पूछा के इसे क्या हुआ

ये इस तरह गुस्सा क्यों कर के गई है तो बिल्लो ने कहा अभी जो तो ने कहा था क मैं तुम्हारा काम कर दूँगा तो पता है उस ने मुझे कों सा काम कहा हुआ था

मैने बिल्लो की आँखों मैं झँकते हो जहाँ श्ररत भारी होई थी
मैने पूछा कों सा काम था जो फ्रज़ना ने तुम्हें करने क लिए बोला हुआ है तो
वो अजीब नज़रों से मेरी तरफ देखते हो बोली वोही जो..... तो उस के साथ करना चाहता है लेकिन वो मेरे बॉय फ्रेंड्स के साथ करना चाहती है

बिल्लो क्यों की अबू से ही चुदवाया करती थी जहाँ तक मुझे पता चला था और किस किस से चुदवाचुकी थी मैं नहीं जनता था
इसी लिए बोला क्या वो जानती है की तेरा अबू के साथ चक्कर है

बिल्लो मेरी बात सुन के हंस दी और बोली नहीं रे
अभी मैं इतनी भी ओपन माइंड नहीं हूँ लेकिन लगता है अब होना ही पड़ेगा क्यों की फरजाना की चुत की ओपनिंग मैं चाहती हूँ की तू ही करे लेकिन इस के बदले मैं तो ने मेरे साथ वादाकिया है की तो मेरी हर बात मानेगा

बिल्लो की बात सुन के मैं जल्दी से बोला सारी बताईं नहीं सिर्फ़ एक बात मानोगा तो

बिल्लो बोली हाँ हाँ एक बात मान जाना बाकी मैं खुद मनवा लूनगी यदि देर तक हम दोनो ऐसे ही बताईं करते रहे फिर
बिल्लो उठी और बोली अच्छा जान जी मैं चलती हूँ और मेरे साथ हाथ मिला के घर की तरफ चल दी बिल्लो के जाते ही फरजाना आ गई और अपनी कमर पे हाथ रख के मुझे घूरते हुयी बोली बड़े प्यार से बताईं हो रही तुम्हारी और हाथ मिलाए जा रहे थे भाई

खैर तो है ना मैं फरजाना के इस तरह स्वाल करने से हंस पड़ा और बोला यार इस मैं बुरी बात कों सी है आख़िर तेरी दोस्त है ऊपर से हंसाई भी है तो इतना हक़ तो बनता है ना उस का हम पे

फरजाना ज़रा गुस्से से बोली भाई कोई ज़रूरत नहीं है आप को बिल्लो के साथ इतना फ्री होने की आप नहीं जानते वो कसी लड़की है तो मैने कहा चल तो ही बता दे कैसी लड़की है तेरी तो बेस्ट फ़्रेंड है

फरजाना मेरी बात सुन के हडबडा गई और बोली बस भाई मैने बोल दिया ना के आप उस से दूर ही रहो और वहाँ से एक बार फिर वॉक आउट कर गई तो मैं हंसते हो लेट गया और फरीदा के बारे मैं सोचने लगा के पता नहीं उस ने क्या तमाशा लगाने की कोशिश की हो गी घर मैं

फरजाना कोई 12 बजे अबू के बोलने पे घर को चल दी क्यों के अबू ने कहा था की अपनी मा से जा के कहो की कुछ खाने को भेज दे तो बाजी कोई 1.30 पे खाना ले के आ गई तो उस वक़्त बाजी का फेस खुशी से चमक रहा था

बाजी ने हुमारे सामने चटाई पे खाना लगा दिया और जुब हम खाना खाने बैठ गये तो अबू ने खाना खाते हो फरी बाजी की तरफ देख के पूछा क्या बना बेटी तुम्हारी रात वाली प्लानिंग का

बाजी मेरी और अबू की तरफ देख के हंस दी और बोली अबू फरीदा ने अम्मी के साथ तो बात नहीं की लेकिन मुझे बोल रही थी की बाजी आप और भाई ये सब क्या कर रहे हो तो

मैने उसे समझाया है की अगर वो मज़ा करना चाहती है तो बता दे वरना खामोश रहे किसी को बताये नहीं
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4172
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: चुदाई घर बार की

Post by Jemsbond » 20 Dec 2016 11:23

बाजी इतना बोल के खामोश हो गई और हुमारी तरफ देखने लगी और हुमारी स्वालिया नज़रओं को देख के बोली फरीदा मुझे डराने की कोशिश कर रही थी की वो सब को बता देगी तो

मैने भी उसे बोल दिया की ठीक है जाओ जिसे बताना है बता दे तो

फरीदा मेरे पास से उठ के अम्मी के पास चली गई लेकिन अम्मी को कुछ बताया भी नहीं उस ने अभी तक अब देखते हैं क्या करती है अम्मी को बतती है या फिर हुमारे साथ शामिल होती है या फिर हमनें हुमारे हॉल पे छोटी है

बाजी की बातें सुन के अबू ने सिरफ्र इतना ही कहा ठीक है देखते हैं क्या होता है और खामोशी से खाना खाया और उठ के चले गये तो बाजी ने कहा भाई तैयार हो ना फरीदा बरी आने वाली है

मैने बाजी की बात सुन के सोच मैं पड़ गया और बोला नहीं बाजी मुझे फरीदा के साथ कोई इंटरेस्ट नहीं है पता नहीं क्यों फरीदा मेरे दिल से उतार चुकी है और मेरा उस के साथ करने का कोई इरादा भी नहीं है

बाजी हेरनी से मेरी तरफ देखते हो बोली क्या मतलब तो क्या मैं यूँ ही फरीदा को सेट करती फिर रही हूँ क्यों क तुम तो बोल रहे हो क तुम फरीदा के साथ कुछ करना ही नहीं चाहते

मैं बाजी की बात सुन के हंस दिया और बोला बाजी ऐसी बात नहीं है की मैं फरीदा को चोदना नहीं चाहता किसे नई चुत अच्छी नहीं लगती लेकिन मेरा दिल चाहता है की जैसे उस ने हमनें बदनाम करने और मरवाने की कोशिश की थी और अबू को बता दिया था तो अब अबू ही उस की चुत का रास्ता भी खोआलाइन

मेरी बात सुन के बाजी भी सोच मैं पड़ गई और फिर हंसते हो बोली तो फिर लगता है के आज की रात मुझे अबू को अपने रूम मैं बुलाना पड़ेगा

क्यों के जुब फरीदा को पता चले गा के अबू बही इस मैं शामिल हैं तो वो ज़ाहिर है के अम्मी या की तरफ भागेगी उन्हें ब्ताने के लिए या फिर मेरी तरफ भागेगी चुवाने के लिए जिस से हमनें फरीदा को अबू से आसानी से छुड़वा सकते हैं

लेकिन अगर फरीदा फिर भी तैयार नहीं होई इस सब के लिए तो फिर क्या करो गी तो बाजी हंस दी और बोली यार फिर आख़िरी रास्ता ये होगा की
उसे तुम्हारी और अम्मी की चुदाई भी दिखा दी जाए क्यों क जुब वो देखेगी क घर मैं सब चुदाई का मज़ा ले रहे हैं तो खुद ही छुड़वाने को मान जाए गी

मैं अब बाजी की बात ख़तम होते ही बोला यार बाजी तुम ये सब कहाँ बैठ के सोचती रही हो तो बाजी हँसती होई बोली मेरी जान बस तुम्हारे दिल मैं बैठना चाहती हूँ जिन्दी भर के लियी और कहीं नहीं

मैं भी हंस दिया और बोला बाजी वाइज़ तो आप मेरे दिल मैं अपनी जगा इतनी पकई कर चुकी हो क कुछ भी हो जाए आप की जगा कोई नहीं चीन सकता

बाजी मेरी बात सुन के कुछ देर तक मेरी आँखों मैं देखती रही और फिर एक आहह भरते हो बोली विक्की मेरे भाई ये तो वक़्त आने पे ही पता चलेगा की किस के लिए दिल मैं जगा बचती है और किस के लिए नहीं
अभी इन बातों का कोई फाइयदा नहीं क्यों की अभी इन बातों का टाइम नहीं आया और इतना बोल के बाजी उठी और अबू की तरफ चल दी और अबू के साथ काम मैं लग गई

बाजी के जाने के बाद मैं भी उठा और चारपाई पे जा के लेट गया और सो गया जुब आँख खुली तो शाम हो रही थी तो मैं उठा और नहा के अबू और बाजी के साथ घर की तरफ चल दिया

घर आ के वो ही डेली की रूटीन थी कुछ देर गुपैयन हांकने के बाद खाना खाया और सब लोग सोने के लिए अपने अपने रूम की तरफ चल दिए तो मैं भी अपने रूम मैं आ के बिस्तेर पे लेट गया और सोने की कोशिश क्लारने लगा लेकिन नींद नहीं आ रही थी क्यों की शाम को तो मैं सो के उठा था

खैर मैं आखेँ बंद किए लेटा हुआ था क अचानक मुझे याद आया क आज तो बाजी ने अबू को अपने रूम मैं बुलाया हो गा क्यों ना जा के उन दोनो की चुदाई को चुप के देखा जाए और एंजाय किया जाए

अभी मैं उठा ही था बाजी के रूम की तरफ जाने के लिए क मैने देखा की अम्मी मेरे रूम मैं आ गई उस वक़्त अम्मी ने गुलाबी रंग का एक सूट पहना हुआ था जिस मैं वो बड़ी प्यारी लग रही थी

अम्मी रूम मैं ऐइ और दरवाजे लॉक कर दिया और मेरी तरफ मूडी और बोली क्या बात है आज मेरे शेर को नींद नहीं अभी तक तो मैने कहा अम्मी वो आज शाम तक सोता रहा ना इस लिए

अम्मी... हन बेटा अब रात रात भर अपनी बड़ी बेहन की खिदमत करोगे तो नींद दिन मैं ही आया करेगी ना और वेसे भी तुम्हें अपनी अम्मी का ख्याल तो आता ही नहीं है

मैं... अरे नहीं अम्मी आप मोका ही नहीं देती तो भला मैं कैसे आप की खिदमत कर सकता हूँ

अम्मी... मेरे पास आ के बैठ गई और बोली क्यों बेटा अब भी क्या मुझे ही खिदमत का मोका देना पड़ेगा तुम खुद से अपनी अम्मी की खिदमत नहीं काए सकते

मैं... अम्मी दिल तो मेरा भी बौहत करता है आप की खिदमत को लेकिन डर लगता है की कहीं आप बुरा ना मान जाय इस लिए दोबारा आप के पास नहीं आया

अम्मी... अरे मेरे भोले राजा बेटा मैं भला क्यों नाराज़ होने लगी अब तो मैं हर तरह से तुम्हारी हूँ जिस तरह दिल चाहे मेरी खिदमत किया करो और अपनी खिदमत करवा लिया करो
तेरे अम्मी तेरे मोटे लंबे लंड की दीवानी हो गई है बिलकुल तारे बड़ी बहन की तरह....... तुने ही तो मुझे मज़े दिए है मेरे बेटे ..नहीं तो तेरे अब्बू तो बस...चोद के छोड देते थे ...

अम्मी की तरफ से इतनी क्लियर बात सुन के मेरा लूँद जो के खड़ा हो चुका था झटके खाने लगा तो मैने अम्मी को अपनी तरफ खींच लिया और अम्मी के लीपस पे अपने होन्ट रख दिए और किस करने लगा तो अम्मी ने भी मेरा सर पकड़ लिया और किस मैं मेरा साथ देने लगी

अब हम दोनो मा बेटा बड़े प्यार से एक दोसरे को किस कर रहे थे की तभी मैने अपना एक हाथ अम्मी के बूबस पे रखा और हल्के से मसालने और दबाने लगा तो

अम्मी भी अपनी ज़ुबान को मेरे मुह मैं घुसा के किस करने लगी

थोड़ी देर ये सब चलता रहा और उस के बाद हम दोनो एक दोसरे को छोड के एक दोसरे की आँखों मैं झाँकने लगे खामोशी से तो फिर
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4172
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: चुदाई घर बार की

Post by Jemsbond » 28 Dec 2016 19:59

मैने ही पहल की और अपना नडा खोल के लूँद को बाहर निकाला और अम्मी की तरफ देखा तो अम्मी भी मुस्कुरा दी और मेरी टाँगों को अपने हाथों से पूरा फैला दिया और दरमियाँ मैं लेट गई और मेरे लूँद को अपने मुह मैं ले लिया
थोड़ी देर तक अम्मी ऐसे ही मेरे लूँद को चुस्ती रही और मेरे लूँद की गोलियों को अपने हाथ से सहलाती रही जिस मैं मुझे बौहत मज़ा आ रहा था तो
मैने अचानक अम्मी का सर अपने लूँ,द से हटा दिया जिस से मेरा लूँद अम्मी के मुह से निकल आया तो अम्मी ने सर उठा के मेरी तरफ देखा तो मैने कहा अम्मी ऐसे नहीं आप भी अपने कपड़े उतरो फिर ठीक से मज़ा आए गा

मेरी बात सुन के अम्मी मुस्कुरा दी और बोली अच्छा जी जो हुकुम मेरी सरकार और खड़ी हो गई और अपनी क़मीज़ निकल दी तो
अम्मी मेरे सामने सिर्फ़ पिंक ब्रा और पिंक सलवार मैं खड़ी रह गई और फिर अम्मी मेरी तरफ देखते हो अपनी सलवार भी निकालने लगी
मैने देखा के अम्मी की पनटी भी पिंक ही थी

अम्मी ने अपनी सलवार भी निकल के साइड मैं फैंक दी और मेरी तरफ देखते हो अपनी ब्रा खोल के फैंक दी लेकिन साथ ही अपना हाथ अपने बूबस पे रख के उन्हें छुपाने की कोसिस की
अब मैने अपना लूँद हाथ मैं पकड़ लिया और सहलाने लगा और साथ ही अम्मी की तरफ भी देखने लगा और अम्मी भी मुझे ही देख रही थी और मुस्कुरा भी रही थी और फिर अम्मी थोडा झुकी और अपना एक हाथ बूबस को धंपे हो ही अपनी पनटी निकल क जल्दी से अपनी चुत पे भी हाथ रख के खड़ी हो गई

अम्मी को इस तरह खड़ा देख के मैं जल्दी से बोला अम्मी क्यों तंग कर रही हो पल्ल्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़
अब आ भी जाओ ना तो अम्मी मेरे पास बिस्तेर पे बैठ गई

अम्मी को इस तरह बेता देख के मेरा सबर का दामन हाथ से निकल गया और मैने अम्मी को बिस्तेर पे गिरा के उन की टाँगों को उठा लिया और अपना मुह उसकी गुलाबी चुत पे रख के चूसने लगा .. ओह अम्मी कितनी प्यारी चुत है आपकी ...कितना बढिया पानी है ..बहुत मजेदार अम्मी... कह के अम्मी की चुत चाटने लगा..
अम्मी अब पूरी तरह से गर्म हो रही थी.... उनकी चुत... मेरे अलावा किसी ने चाटी नहीं थी....
ओह बेटा ...काक्क्क हाँ ..ऐसा ही.. चाटो....जोर से ....खा जा बेटा अपनी अम्मी की चुत को.....
कितने दिनों की प्यासी है तेरे अम्मी.... ओह.. किसी ने इतना प्यार नहीं किया... मेरे बेटा..

अम्मी अपनी गांड उठा उठा के अपनी चुत मेरे मुह पे रगद रही थी ....
मुझे भी अम्मी की चुत सेनिकला नमकीन पानी पीने मै मज आ रहा था... अम्मी ने मुझे अपनी चुत का मलाई दार रस पिलाया ..और फारिग हो गई...
मुझे किस किया ..बोली बेटा सच मै तू बहुत मज़े देता है....
अब मेने अपनी अम्मी की बूबस पे अपना मुह रख दिया .. र उसकी चूची चूसने लगा ...
अम्मी ..पिलाओ ना मुझे अपना दूध ..जैसे की बचपन पे पिलाती थी...
ओह..हाँ बेटा हाँ..पी ले पी...अपनी अम्मी का दूध... अम्मी फिर से गरम होने लगी मेरा लंड अब पूरा कड़क हो चूका था.

और अपना लूँद अम्मी की चुत पे रख के हल्का सा अंदर को दबा दिया

लूँद की कॅप अम्मी की चुत मैं जाते ही अम्मी के मुह से मज़े और लज़ात की हल्की सी सिसकी निकल गई सस्स्सीईईई पूरी जान से घुसा दे बेटा आज अपनी अम्मी की चुत मैं अपना लूँद

मैने अम्मी की बात सुन के अम्मी की टाँगों को पूरा खोल दिया और अपने लूँद को हाथ से पकड़ के सेट किया और फिर झतका मार के पूरा लूँद घुसा दिया अपनी अम्मी की चिकनी चुत मैं

अब मैने अपने दोनो हाथ अम्मी की दोनो रनो पे रख के अम्मी के कंधों की तरफ दबा लिया और अपना लूँद पूरा कॅप तक अम्मी की चुत से बाहर निकल के मैं अपनी पूरी जान और वज़न से अम्मी की चुत पे गिरा तो ताआप्प्प्प्प्प्प्प की आवाज़ के साथ मेरा लूँद अम्मी की चुत मैं जा घुसा तो अम्मी के मुह से

आअहह विक्की बेटा ऐसे नहीं करो पल्ल्ल्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ ऊऊहह की आवाज़ करते हो मुझे मना करने लगी

तो मैं नहीं रुका और ना ही अम्मी की कोई बात सुनी और उसी तरह अपना लूँद अपनी अम्मी की चुत मैं घुसा के चोदता रहा

मेरे इन वहशियाना झतकों से अम्मी के मुह से आअहह विक्की नैईईईईईईई बेटा पल्ल्ल्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ आराम से करूऊऊऊऊओ ऊऊहह मैं मार गैिईईईईईईईईईईईईईईईईईई

कामीने आराम से कार्रर्र्र्र्र्ररर मेरी चुत फाडनी है क्य्ाआआआअ उनम्म्मह साले बहुत मोटा और लंबा लंड है तेरा ...कुत्ते आराम से कर ..चोद अपनी अम्मी को ...हान्ंनननननननणणन् की आवाज़ कर रही थी

लेकिन मैं देख रहा था क अम्मी के फेस पे दर्द का निशान तक नहीं था तो मैं भी वेसे ही झटके मरता हुआ बोला साली गश्ती तुझे ही आग लगी होई थी ना जो अपने ख़सम को छोड के बेटे से छुड़वाने आईईईईईईईईई हाईईईईई . तुजे ही चुदना था ना मोटे लंड से .... तो ले बेटे का मोटा लंड.....

तो अब रो क्यों रही हाईईईईईईईईईईईईईई

मेरी बातों के जवाब मैं अम्मी भी आअहह विक्की अब अच्छा लग रहा है बेटा उनम्म्मह और झटके से घुसा अपना लूँद मेरी चुत मैं फाड़ डॉल अपनी अम्मी की चुत को मेरे राजा बेटा तेरा बाप तो आज फरी की चुत मार रहा हाईईईईईईईई .. बेचारी फरी ....कसे अपनी आग बुझायेगी..तेरे अब्बू के उस छोटे पतले लंड से...
पर क्या करे ..तेरे लंड से चुदने के लिये उसने ..अपने अब्बू की पतले लंड से चुदना पड़ा
अम्मी की बातों से ..मुझे फरी बाजी की याद आपने लगी उसकी कुर्बानी... उसका प्यार....

अम्मी चिल्ला रही थी .....

तेरे जैसे लंड ली लिएबहुत तरस रही थी बेटा, तेरे अब्बू का लंड तो तेरे लंड से बहुत छोटा है... ओह राजा छोड अपनी अम्मी को अपनी मोटे लंड से... अह्ह्ह आआःह्ह्ह्ह

अब मैने अम्मी की चुत से अपना लूँद निकल लिया और अम्मी को कुटिया बना के खुद अम्मी के पीछे आ गया और खुद अपने दोनो हाथ अम्मी की गांड पे रख के लूँद को अम्मी की चुत पे सेट किया और अंदर घुसने लगा

जैसे ही अम्मी की चुत मैं लूँद घुसने लगा तो अम्मी ने कहा विक्की क्यों तरसा रहा है मेरी जान पूरा घुसा के चोद अपनी अम्मी की चुत को ऊओह तेज़ तेज़ झटके मार बेटा बौहत मज़ा आ रहा हाईईईईईईईईईईईईईईईईईई की आवाज़ करने लगी तो

मैने भी अब अपना लूँद पूरी ताक़त से अम्मी की चुत मैं इन आउट करना शरू कर दिया तो

अम्मी और भी ज़्यादा चिल्लाने लगी और आआहह विक्कीईईईईईईईईईईईईईई हान्ंननणणन् मेरी जान अब मज़ा आ रहा है

ऊऊहह की तेज़ आवाज़ करने लगी और साथ ही अपनी गांड को भी मेरे लूँद की तरफ दबाने लगी

अम्मी की इस मस्ती को देख के मैं भी मज़े से पागल होने लगा और मैने अपने एक हाथ का अंगूठा अम्मी की गांड के होल पे घूमने लगा और
फिर अचानक ही मैने अपना अंगूठा अम्मी की गांद मैं घुसा दिया और नीचे से अम्मी की चुत मैं अपना लूँद भी इन आउट करता रहा

मेरी इस हरकत से अम्मी चिल्ला उठी और आऐईयईईईईईईईईईईईईईईईईईई विक्की नहीं बेटा निकालो
बाहर ऊऊहह विक्की उनम्म्मह बेटा दर्द भी हो रहा हाईईईईईईई

लेकिन मैं अब अम्मी की कोई बात नहीं सुन रहा था और लगातार अम्मी की किसी कुटिया की तरह
छोड़े जा रहा था के
अम्मी के मुह से आअहह विकी उनम्म्मह बेटा मैं गैिईईईईईईईईईईईईईई ऊओह की तेज़ आवाज़ के साथ अम्मी की चुत ने पानी छोड दिया जिस से मेरा लूँ,द अम्मी की चुत मैं और भी चिकना हो गया जिस से

मैं भी मज़े से बहाल होने लगा और २ -३ मिनट बाद ही अम्मी की चुत मैं पानी छोड दिया और अम्मी की चुत से अपना लूँद निकल के साइड मैं लेट गया तो अम्मी भी सीधी हो के मेरे बराबर मैं लेट गई

थोड़ी देर तक ऐसे ही हम दोनो मा बेटा साथ साथ लेते रहे और थोड़ी देर गुज़र जाने के बाद अम्मी ने मेरी तरफ करवट ली और अपनी एक टांग उठा के मेरे ऊपर रख दी और

मेरे सर के अपने हाथ से अपनी तरफ घुमा लिया और मेरी आँखों मैं झँकते हो बोली हन तो विक्की बेटा मज़ा आया की नहीं

मैं अम्मी की तरफ देखते हो मुस्कुरा दिया और बोला अम्मी आप सच मैं बहुत अच्छी हो और अभी जितना मज़ा आया है मुझे पहले कभी नहीं आया और इतना बोलते ही अम्मी को एक किस भी कर दी

किस करने के बाद मैने अभी अम्मी की तरफ देख ही रहा था क अम्मी ने मुझे बलों से पकड़ लिया और बोली कामीने ये तो बता ज़रा की तो मेरी गांड मैं अपनी फिंगर क्यों घुसा रहा था

मैं हंसते हो बोला अम्मी मुझे आप की गांड अच्छी लगी तो मुझ से बर्दाश्त नहीं हुआ और मैने फिंगर घुसा दी अगर आप को बुरा लगा हो तो अम्मी आप पल्ल्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ मुझे मॅफ कर देना

मेरी बात सुन के अम्मी ने मेरे बॉल छोड दिए और मुझे देखते हो बोली नहीं बेटा इस मैं मफ्फी की क्या बात है अगर तुम्हें ये करना अच्छा लगता है तो मैं तुम्हें मना नहीं करू गी लेकिन एक बात ये तो बताओ क तुम ने ये शोक़् कब और कहाँ से पाल लिया है

नहीं अम्मी अभी तक तो कोई ख़ास्स शोक़् नहीं है और ना ही कभी किया है लेकिन अब सोच रहा हूँ क आप की गांड मैं अपनी फिंगर की जगा अपना लूँद घुसा ही दूँगा सच्ची बड़ा दिल कर रहा है

अम्मी हंसते हो बोली अच्छा बेटा ठीक है जुब दिल चाहे कर लेना लेकिन अभी नहीं क्यों की हो सकता है तुम्हारे अबू फरी से फारिघ् हो के रूम मैं आ चुके हूँ इस लिए मुझे भी अब जाना चाहिए क्यों की फरीदा हो सकता है की अभी ही ना आ जाए रूम मैं मुझे ढूंडती होई

मैने अम्मी की बात सुन के हाँ मैं सर हिला दिया तो अम्मी उठी और अपने कपड़े पहन के रूम से निकल गई और मैं अपने बिस्तेर पे लेटा अम्मी को जाता हुआ देखता रहा

अम्मी के जाने के कुछ ही देर के बाद बाजी मेरे रूम मैं आ गई और मुझे यौन नंगा लेटा देख के बोली भाई क्या बात है खैर तो है ना इस तरह क्यों लेते हो हो तो

मैने कहा यार अभी अम्मी गई ही हैं यहाँ से तो इसी लिए इस तरह लेटा हुआ हूँ अभी उठोंगा तो कपड़े भी पहन लूनगा

बाजी मेरे पास ही बैठ गई और बोली लो भाई आज मैने अबू के साथ भी फरीदा के सामने ही चुदवा लिया लिया है .
बस अब तुम जल्दी से एक बार चोद के मेरी चुत की आग बुझा दो... जो अब्बू ने लगायी है...
मैं हंस के बोला ..अब्बू ने नहीं बुझाई क्या ....

बाजी मुह बनाते हहुए बोली...... कमीने तेरे लिये सब कर रही हूँ और तू.....मेने बाजी को किस किया और बोला.. लव यु ...... ,बाजी... और अपना लंड बाजी की चुत पे घुसा दिया...
बाजी अम्मी कह रही थी की अब्बू ..... ज्यादा चोद नहीं पाते ..तो फिर आपने अब्बू से क्यूं ...
बाजी हंसी ,,... , भोले भाई..बिना अब्बू की रजामंदी से ..ये सब कुछ नहीं होता ...तुम चिंता छोड़ा और छोड़ा जल्दी से ... चोदो मुझे.. और हाँ यहे बात कभी अब्बू को मत बताना की वो ...किसी को अच्छी तरह से चोद नहीं पाते है... यह राज ही रहना चाहिए...

और एक बात ब्ताओं बाजी

मैने फरी की तरफ देखते हो हन मैं सर हिला दिया तो वो बोली भाई आज फरीदा हुमारी चुदाई देख के काफ़ी गरम हो गई थी और अपना हाथ अपनी सलवार मैं घुसा के चुत को भी सहलाती रही

फरी बाजी की बात सुन के मेरी उमीद बाँधने लगी के अब वो वक़्त दौर नहीं है जुब फरीदा भी अपनी चुत का मुह मेरे और अबू के लूँद के लिए खोल देगी इस बात को सोचते ही मेरा लूँद जोर जोर से बाजी की चुत के अन्दर बाहर होगे जकते कहने लगा ... एक आह के साथ बाजी और मैं दोनों फ़ारिग होगये

मेने बाजी की चुत से लंड बाहर निकल लिया जो की फरीदा की चुत का सोच के फिर से फिर से खड़ा होने लगा जिसे बाजी ने भी देख लिया और बोली क्यों भाई फरीदा की कुँवारी चुत का सोच के ही तुम्हारे इस का ये हॉल है तो जुब उस की चुत मिले गी तो क्या हो गा

मैने कहा नहीं बाजी ये तो पक्का है की फरीदा की सील अबू के लूँद से खुलेगी
लेकिन इस वक़्त मैं फरजाना का सोच रहा था की क्यों ना अभी मैं उस के रूम मैं जाओं और हल्की फुल्की मस्ती ही कर लून उस के सोते हुए मैं
बाजी ने कहा हन भाई अब टाइम आ गया है की फरजाना के साथ भी हल्की फुल्की मस्ती शरू हो जाए क्यों के इस से फ्रज़ना को सेट करने मैं आसानी हो जाएगी तुम्हारे लिए
बाजी की इजाज़त मिलते ही मैं उठा और कपड़े पहन के बाजी के साथ फरजाना के रूम की तरफ चल दिया जिस का दरवाजे गर्मी की वजाह से खुला हुआ था क रूम मैं हवा हो जाए

हम दोनो रूम के दरवाजे पे पहुच और जुब अंदर झाँका तो फरजाना उस वक़्त करवट ले के सो रही थी और हेरनी की बात ये थी के उस ने एक पुरानी फ्रोक जो की उसे अब छोटी हो चुकी थी पहनी होई थी

बाजी ने मेरी तरफ देखा और इशारा किया क जाओ अंदर मैं यहाँ ही रुकती हूँ तो मैने डरते और धड़कते हो दिल के साथ रूम मैं इन हो गया और
फरजाना के पास जाके के खड़ा हो गया और उसे आवाज देने लगा आहिस्ता आवाज़ मैं लेकिन उस की जानिब से कोई रिप्लाइ नहीं आया तो मैं अब आगे बढ़ा और हाथ से हल्का सा हिला दिया और साथ आवाज़ भी दी लेकिन फ्रज़ना गहरी नींद मैं सो रही थी

अब मैने सर घुमा के बाजी की तरफ देखा तो बाजी ने हन मैं सर हिला दिया तो

मैने धड़कते हो दिल के साथ फरजाना की फ्रोक को आहिस्ता से ऊपर को खिसकना शरू कर दिया और आहिस्ता आहिस्ता फ्रज़ना की फ्रोक को उस की गांड से भी थोडा ऊपर तक उठा दिया

जिस से उस की पनटी नज़र आने लगी फरजाना की गांड पनटी मैं देखते ही मेरी और मेरे लूँद की हालत खराब होने लगी

तो मैने एक बार फिर मोड़ के बाजी की तरफ देखा तो बाजी ने मुझे सख्ती से इशारा किया की आगे बढ़ो

मैने थोड़ी हिम्मत की और अपना लूँद नंगा कर के फरजाना के करीब हो गया और उस के मुह पे अपना लूँद घूमने लगा

थोड़ी देर तक मैं ऐसे ही अपना लूँद फरजाना के लीपस पे घूमता रहा और फिर पीछे हट गया और फिर हिम्मत करते हुए फरजाना के पीछे आ के लेट गया और फरजाना की पनटी को भी आहिस्ता से नीचे खिसका दिया और उस की गांड को पूरा नंगा कर दिया और खुद उस के पीछे अपना लूँद फरजाना की गांड के साथ लगा के लेट गया

अब मैं अपने लूँद को आहिस्ता आहिस्ता फरजाना की गांड पे रगड़ने लगा और थोड़ी देर के बाद मैने अपने लूँद पे हल्का सा थूक लगा के फरजाना की गांड के क्रॅक मैं घिसने लगा तो
मुझे इतना मज़ा आया की मेरा पानी इतनी जल्दी और स्पीड से निकला की मैं खुद को रोक ही नहीं पाया और सारा पानी फरजाना की गांड के ऊपर ही फैला दिया और उठ के बिस्तेर से नीचे उतार गया और बाजी की तरफ देखा तो बाजी ने हाथ के इशारे से मुझे बाहर बुला लिया

मैं बाहर गया तो बाजी ने कहा अब तुम जाओ अपने रूम मैं और इसे इसी तरह ही रहने दो सुबह उठ के खुद को ऐसे देखे गी तो कुछ ना कुछ तो दिमाग की घंटी बजे गी ही ना

मैं बाजी की बात मान के अपने रूम मैं चला गया और क्यों की ३ बार पानी निकल चुका था इस लिए थकवट भी हो गई थी इस लिए जल्दी ही सो गया क पता ही नहीं चला क कब आँख लगी

अगली सुबह मैं उठा तो 8 बाज चुके थे और बाहर बारिश हो रही थी जिस से मौसम सुहाना हो रहा था मैं उठा और सीधा बात रूम मैं जा घुसा और नहा के जुब बाहर निकला और रूम मैं जाने लगा तो मेरी नज़र फरजाना पे पड़ी जो क बड़ी अजीब नज़रों से मेरी तरफ देख रही थी

मैने एक नज़र फरजाना की तरफ देखा लेकिन नज़र चुरा के अपने रूम मैं चला गया

तो कुछ ही देर के बाद फरीदा मेरे लिए नाश्ता ले आरी और मेरे सामने झुक के नाश्ता रख के वेसे ही खड़ी हो गई झुकी होई और मेरी आँखों मैं झँकते हो बोली भाई कुछ और भी चाहिए है क्या

मैने सर उठा के फरीदा की तरफ देखना चाहा तो मेरी नज़र उस के खुले गले की क़मीज़ मैं चली गई तो मैने देखा के उस के कोमल और सॉफ्ट दूध की तरह सफ़ेद बूबस वो भी बिना ब्रा के मेरी आँखों के सामने लहराते हो नज़र आए तो मेरी नज़र वहीं टिकी रह गई

मेरी तरफ से कोई जवाब ना मिलने पे बाजी ने एक बार फिर से पूछा भाई कुछ और चाहिए है क्या तो मैं हडबडा सा गया और फरीदा बाजी के फेस की तरफ देख के बोला

नहीं कुछ नहीं बस बहुत है

फरीदा बाजी अब भी ऐसे ही मेरे सामने झुकी रही और उन की आखेँ उस वक़्त हल्की हल्की लाल भी नज़र आ रही थी मुझे और ऐसे ही झुके हो बोली भाई दूध ला दूँ आप को

मैने इनकार मैं सर हिला दिया और नाश्ता करने लगा तो बाजी खड़ी हो गई और बोली क्या बात है भाई आप बाजी का लाया हुआ दूध तो बड़े शोक़् से पीते हो लेकिन मुझे मना कर रहे हो

अब मैं समझ गया के फरीदा असल मैं क्या बोल रही है और किस तूने मैं बोल रही है

तो मैं भी ज़रा रिलॅक्स हो के बोला अरे नहीं बाजी ऐसी कोई बात नहीं है मैं तो आप का दूध भी पीने को तैयार हूँ...ऊओ... मेरा मतलब है के आप का लाया हुआ दूध लेकिन अभी नहीं

क्यों भाई अभी क्यों नहीं क्या मेरे हाथ खराब हैं जो आप मेरा लाया हुआ दूध अभी नहीं पीना चाहते तो मैं हंस दिया और बोला नहीं बाजी ऐसा कुछ नहीं है बस अभी दिल नहीं चाह रहा

फरीदा बाजी मायूस सी हो गई और वापसी के लिए मूड गई और फिर गर्दन घुमा के मेरी तरफ देख के बोली भाई रात को तो ले आऊँ ना आप के लिए दूध तो मैने कहा नहीं बाजी लाती हैं मेरे लिए तुम नहीं लाना

फरीदा बाजी खामोशी से चली गई तो मैने नाश्ता ख़तम किया और बर्तन साइड पे रख दिए और एक नॉवेल निकल के बैठ गया क्यों की आज बारिश हो रही थी इस लिए मैं खेतों की तरफ नहीं गया

बर्तन उठाने के लिए अम्मी आई और बर्टन उठाते हो बोली विक्की क्या बात है तुम ने फरीदा को कुछ बोला है जो उस का फेस उतरा हुआ है तो

मैने अम्मी को सब कुछ बता दिया तो अम्मी मेरी बात सुन क बोली हूउऊन्न्ं तो लगता है के फरीदा ने अब खुद से ही फ़ैसला कर लिया है इस खेल मैं शामिल होने का तो फिर क्या इरादा है तुम्हारा क्या करना है

मैने अम्मी की बात सुन के कहा नहीं अम्मी मैं ये इरादा कर चुका हूँ की मैं फरीदा बाजी की सील अबू से ही तुद्वाऊंगा और अगर बाजी शामिल होना ही चाहती है तो उसे अबू से करवाना हो गा

अम्मी कुछ सोच के बोली नहीं बेटा ऐसा मुश्किल है तुम उस के भाई, तुम्हारे साथ वो फिर भी आपने आप को तैयार कर चुकी है लेकिन अबू के साथ वो शैयद हिम्मत ही ना कर सके

चलो अम्मी देखते हैं कुछ सोचते हैं लेकिन पहले वो आप के या बाजी के साथ ज़रा खुल के बात तो करे उस के बाद इस मसाला का हाल भी निकल ही आएगा आप परेशान नहीं लो किसी किस्म की

अम्मी मेरी बात सुन के खामोशी से वापिस चली गई तो मैं फिर से नॉवेल पढ़ने मैं लग गया और टाइम कब गुज़रा पता ही नहीं चला और 11 बजे के करीब बिल्लो के आने पे सीधा हो के बैठ गया

बिल्लो मेरे पास आ के बैठ गई और मेरी आँखों मैं झँकते हो आहिस्ता आवाज़ मैं बोली विक्की तुम ने रात क्या किया है फरजाना के साथ

मैं... हेरनी से बिल्लो की तरफ देखते हो बोला क्या मतलब मैं समझा नहीं क्या कर दिया मैने

बिल्लो.... विक्की ज़्यादा हरामी पन नहीं करो और सीधी बात बताओ क्यों की अभी कुछ देर पहले फरजाना ने मुझे सब बता दिया है

मैं.. बिल्लो की बात सुन के मैं खामोश हो गया और थोड़ी देर तक बिल्लो की तरफ देखता रहा और बोला जुब मैने तुम से मदद के लिए बोला था तब तुम ही मेरी मदद कर देती तो मुझे ये नहीं करना पड़ता

बिल्लो...... मेरी गालों पे किस करते हो बोली विक्की किया तो तुम ने हरामी पन ही था
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply