मासूम ननद complete

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
sahil
Posts: 7
Joined: 02 Jan 2017 12:42

Re: मासूम ननद

Post by sahil » 06 Jan 2017 23:21

बहुत मजा आ गया जल्दी जल्दी पोस्ट करे

User avatar
Dolly sharma
Silver Member
Posts: 595
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मासूम ननद

Post by Dolly sharma » 07 Jan 2017 10:12

sahil wrote:बहुत मजा आ गया जल्दी जल्दी पोस्ट करे


thanks

User avatar
Dolly sharma
Silver Member
Posts: 595
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मासूम ननद

Post by Dolly sharma » 07 Jan 2017 10:15

मेरे आते ही दोनो संम्भल कर बैठ गये. में महसूस कर रही थी कि दोनो बहन भाई के बीच बिना कोई बात चीत ओपन किए हुए ही एक ताल्लुक सा बनता जा रहा था. पायल को अपने भाई के टच से लुफ्त आने लगा था ऑर शायद राज को भी पता चलता जा रहा था कि उसकी बहन भी कुछ कुछ एंजाय करने लगी है. में अब जा कर राज की दूसरी तरफ बैठ गई ऑर उसे बीच में ही बैठा रहने दिया. ऐसे ही चाइ पीते ऑर गप शप लगाते हुए हम लोग टीवी देखते रहे.



पूरा दिन घर में हम दोनो ननद भाभी ने इसी ड्रेस में अपने जिस्म के नंगे पन की बिजलियाँ गिराते हुए गुज़ारा. पूरे दिन हम दोनो के नंगे जिस्मो को देख कर राज पागल होता रहा. कई बार जब भी उस ने मुझे अकेले पाया तो मुझे दबोच लिया अपनी बाहों में ऑर चूमते हुए अपनी प्यास बुझाने लगा. मैने भी उसके लंड को सहलाते हुए उसे खड़ा किया लेकिन हर बार उस केएलपीडी करते हुए भाग आई उस की बाँहों से फिसल कर ताकि उसकी प्यास ऑर उसके अंदर जलती हुई आग इसी तरह ही भड़कती रहे ऑर ठंडी ना होने पाए.



मैने महसूस किया कि अब पायल भी घर में उस बिल्कुल ही नंगे ड्रेस में फिरने में कोई भी शरम महसूस नही कर रही थी ऑर बड़े आराम से उस हाफ शॉर्ट बरमूडे ऑर उस स्लिवलेस लेस नाइट-शर्ट में घूम रही थी जिस में उसका खूबसूरत सीना ओर बूब्स का ऊपरी हिस्सा बिल्कुल ही ओपन नज़र आ रहा था. अब वो भी अपने भाई की नज़रून से बचने की कोशिश नही कर रही थी बल्कि उसके आस पास ही रह रही थी.


में ऑर पायल किचन में थी तो राज भी अंदर ही आ गया . बोला, हां भाई क्या पक रहा है. मैने बताया कि चिकन बना रही हूँ. राज पायल के नंगे जिस्म की तरफ देखते हुए बोला, यार आज मौसम इतना प्यारा हो रहा है आज तो कुछ मीठा भी होना चाहिए साथ में. मैने मुस्करा कर राज की तरफ देखा ऑर बोली, बेफिकर रहें आप आज आपका मुँह भी मीठा करवा देंगे. क्यों पायल . जैसे ही आखरी बात मैने पायल से पूछी तो वो मेरे सवाल पर झेंप सी गई ऑर बोली, हां हां भैया बताओ क्या बना ना है. राज ने मुस्करा कर अपनी बहन के बूब्स की तरफ एक नज़र डाली ऑर फिर बाहर निकलते हुए बोला, कुछ भी बना लो यार.


क़रीब 5 बजे राज के एक दोस्त का फोन आ गया उस ने उसे अपने घर बुलाया था. मुझे सॉफ लग रहा था कि घर में घूम रही दो दो खूबसूरत अध नंगी लड़ककियों को छोड़ कर जाने को उसका दिल बिल्कुल भी नही कर रहा था लेकिन उसे जाना ही पड़ा. उसका ये दोस्त दो तीन गली छोड़ कर ही रहता था. राज के जाने के बाद मैने ऑर पायल ने जल्दी से रात का खाना तैयार कर लिया ऑर राज की फरमाइश के मुताबिक़ मीठा भी बना लिया. किचन से निकलते हुए मैने पायल को मासूमयत से छेड़ा यार पता नही तुम्हारे भैया को ये मीठा पसंद आता भी है कि नही. या कुछ ऑर चीज़ से मुँह मीठा करना चाह रहे हों. मेरी बात सुन कर पायल शरमा कर मुस्कराई ऑर अपने कमरे की में चली गई.

राज के जाने के बाद में अपने कमरे में आ गई ऑर अपना लॅपटॉप खोल कर बैठ गई. अक्सर मैं टीवी पर ट्रिपल एक्स मूवीस देखती थी. ट्रिपलएक्स मूवीस का मुझे ऑर राज दोनो को शौक था बल्कि सच कहो तो राज ने ही मुझे इस का आदि बनाया था. मेरा दिल आज चाहा कि में आज लेज़्बीयन मूवीस देखूं. मैने एक पॉर्न साइट पर जा कर लेज़्बीयन मूवीस निकाली ऑर उनको देखने लगी. मुझे आज पहली बार इन मूवीस में मज़ा आ रहा था वरना कभी भी मैने इस क़दर शौक से ये मूवीस नही देखीं थी . मुझे हमेशा से ही स्ट्रेट सेक्स ही पसंद रहा था. एक मर्द के साथ एक औरत के जिस्म का मिलाप. लेकिन आज जब से मैने पायल के जिस्म को छूआ ऑर उसे चूमा था तो मुझे इस में भी बहुत मज़ा आ रहा था. अपने बेड पर बैठ कर अपनी थाइस पर लॅपटॉप रख कर में पॉर्न एंजाय कर रही थी.


कुछ देर गुज़री तो अचानक से पायल मेरे कमरे में आ गई . वो अभी भी उसी ड्रेस में थी सुबह वाले. उसे देखने के साथ ही एक बार फिर से मेरी आँखे चमक पड़ीं. मैने जल्दी से उस मूवी को ऑफ कर दिया. पायल मेरे पास आ गई बेड ऑर मेरे पास बैठ ती हुई बोली,

पायल : भाभी क्या देख रही थी लॅप टॉप पर.

में: कुछ नही यार तेरे देखने की चीज़ नही है.'

पायल : क्यूँ क्यूँ भाभी ऐसी कॉन सी चीज़ है जो मेरे देखने की नही है. ऑर क्यूँ नही है मेरे देखने की

में: वो इस लिए नही है क्योंकि तू अभी बच्ची है. हाहहहहहा

पायल मेरे बाज़ू पर मुक्का मारते हुए बोली: वाह जी वाह भाभी जी में अब बड़ी हो गई हुई हूँ कोई बच्ची वाच्ची नही हूँ.

में: हँसते हुए: अच्छा जी वो कहाँ से बड़ी हो गई हो बताओ मुझे भी पायल .

पायल अपना सीना तान कर अपने बूब्स को बाहर को निकालते हुए बोली, देख लो कितनी बड़ी हो गई हूँ में ऑर सुबह भी तो आप ने देखा ही था ना कॉन सा में कोई बच्ची जैसी हूँ.

में हँसने लगी. अच्छा बाबा अच्छा ठीक है. आओ तुमको भी देखा देती हूँ लेकिन फिर ना कहना कि कैसी चीज़े दिखा दी हैं भाभी ने मुझे.

में अब पायल को थोड़ा ऑर भी ओपन करने का सोच चुकी थी इस लिए मैने वोही लेज़्बीयन मूवी निकाली ऑर चला दी. पायल ने जैसे ही वो मूवी देखी तो फॉरन ही अपने मुँह पर हाथ रख लिया.

पायल : ओह नो भाभी............................. मैने ऐसी मूवीस का सुना था कॉलेज की लड़कियों से ऑर देखी भी थी उनके मोबाइल में लेकिन भाभी क्या अ आप भी ये मूवीस देखती हो.

मैने मुस्करा कर उसकी तरफ देखा ऑर बोली, हां क्यूँ नही अच्छा लगता है ना.

पायल : लेकिन अगर भैया को पता चल जाय आपका तो???????????????

में हँसते हुए: अरे पगली तेरे भैया ने ही तो मुझे इन को देखने का चस्का लगाया है.

पायल : क्या सच भाभी???

मैने हां में सिर हिलाया ऑर फिर उसे अपने पास खींचते हुए अपना बाज़ू उसके कंधे पर दूसरी तरफ से रखते हुए बोली, चलो अब देखो मूवी.

पायल मेरे साथ वो लेज़्बीयन मूवी देखने लगी ऑर थोड़ी ही देर में पूरी तरह से मूवी में इन्वॉल्व हो गई. में भी आहिस्ता आहिस्ता उसके नेकेड शोल्डर को सहला रही थी ऑर आहिस्ता आहिस्ता मेरा हाथ नीचे को उसके शोल्डर के फ्रंट ऑर उसके बूब के ऊपरी हिस्से तक आता जा रहा था. आहिस्ता अहसता मैने पायल के बूब को उसकी शर्ट के ऊपर से सहलाना शुरू कर दिया ऑर मेरा चेहरा भी उसके शोल्डर पर आ गया ऑर में अपने होंठो को उसकी गर्दन ऑर उसके शोल्डर पर आहिस्ता अहसता फेरने लगी. पायल होले होले कसमसा रही थी मेरे होंठो से अपनी गर्दन ऑर शोल्डर्स ऑर जिस्म को बचाने के लिए. लेकिन ज़्यादा मज़ाहीमत भी नही कर रही थी शायद उसे भी अच्छा लग रहा था.

लॅपटॉप अब बेड पर रखा हुआ था मैं ने अपनी टांगे फैलाई ऑर आहिस्ता से पायल को अपनी गोद में पुल कर लिया. पायल भी चुप कर के मेरी गोद में लेट गई ऑर मेरी एक साइड पर पड़े हुए लॅप टॉप पर वोही लेज़्बीयन मूवी देखने लगी. एक लड़की दूसरी खूबसूरत लड़की के बूब्स को चूस रही थी ऑर उसके निपल्स पर अपनी ज़ुबान फेर रही थी.

मैने अपना हाथ पायल के बूब्स पर रखा ऑर उनको आहिस्ता आहिस्ता सहलाते हुए पायल के कान में धीरे से बोली, पायल देखो बिल्कुल तुम्हारे जैसे सुडोल ऑर खूबसूरत हैं इसके बूब्स. कितनी सेक्सी लग रही है. साथ ही मैने अपनी ज़ुबान की नौक पायल के कान के अंदर आहिस्ता से घुमाई तो वो तड़प ही उठी.

पायल ने मुस्करा कर मेरी तरफ देखा तो मुझे उसकी आँखे सुर्ख होती हुई नज़र आईं. मैने नीचे को झुक कर हिम्मत करते हुए अपने होंठ उसके होंठो पर रखे ऑर एक किस कर ली. पायल मुस्कराई ऑर बोली, भाभी क्या है आपको लगता है कि आप को भी इनकी तरह ही शौक हो रहा है मज़ा करने का.

में आहिस्ता आहिस्ता पायल की नंगी थाइस पर हाथ फेरते हुए उसके गालों को चूमते हुए बोली, हां तो क्या हर्ज है इस में. लड़कियाँ करती ही हैं ना ये सब.

पायल : जी भाभी मुझे पता है कि ये सब कुछ होता है. मेरी एक फ्रेंड है जो कि हॉस्टिल में रहती है तो वो बता ती है कि वहाँ गर्ल्स हॉस्टिल में ये वाला प्यार बहुत कामन है.

पायल के सिर के बलों में हाथ फेरते हुए मैने झुक कर पायल के होंठ को चूमा ऑर उसके निचले होंठ को अपने दाँतों की ग्रिफ्त में लेते हुए आहिस्ता आहिस्ता काट ने लगी. तो सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स की आवाज़ के साथ ही पायल की आँखे भी बंद हो गई. एक हाथ से पायल के सिर को कंट्रोल करते हुए उसके लिप्स को चूस्ते हुए मैने अपना हाथ पायल की शर्ट के नीचे डाला ऑर उसके नंगे गोरे पेट को सहलाते हुए अपना हाथ ऊपर को ले जाने लगी उसके नंगे बूब्स की तरफ. पायल की साँसें तेज हो रही थी ऑर उसकी सांसो के साथ उसके बूब्स भी ऊपर नीचे हो रहे थे.

जैसे ही मेरे हाथों ने डाइरेक्ट्ली पायल के नंगे बूब्स को अपनी ग्रिफ्त में लिया तो पायल का सीना एकदम से ऊपर को उठ गया मैं फॉरन ही समझ गई कि पायल भी मस्ती में आ रही है. मैने बिल्कुल आहिस्ता आहिस्ता उसके एक निपल को अपनी उंगली ओर अंघूते के बीच ले कर दबाना ओर सहलाना शुरू कर दिया. पायल के मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ निकालने लगी थी .

बारी बारी में उसके दोनो छोटे छोटे निपल्स को सहला रही थी ऑर साथ साथ पायल के होंठों को चूम रही थी. पायल की आँखे बिल्कुल बंद थी बस गहरी गहरी साँसें फूट रही थी उसके मुँह से. में उसके बूब्स से उसकी शर्ट के नीचे से खेलती हुई उसके गुलाबी पतले पतले लिप्स पर अपनी ज़ुबान फेर रही थी. आहिस्ता आहिस्ता मैने अपनी ज़ुबान को उसके होंठो के बीच में पुश किया ऑर मेरी ज़ुबान उसके होंठो को अंदर से चाट ने लगी ऑर उसके दाँतों से टकरा रही थी. आहिस्ता आहिस्ता पायल के दाँतों ने एक दूसरे से जुदा होते हुए मेरी ज़ुबान को अंदर आने की इजाज़त दी ऑर अगले ही पल मेरी ज़ुबान पायल की ज़ुबान से टकराने लगी. साथ ही पायल ने अपने होंठो को बंद किया ऑर मेरी ज़ुबान को चूसने लगी अपने होंठो में ले कर.

मैने अपना हाथ पायल की उस छोटी सी शर्ट से बाहर निकाला ऑर फिर उसकी शर्ट के ऊपर से उसके बूब्स पर रख दिया अब मैने उसकी शर्ट की लो नेक लाइन को पकड़ा ऑर आहिस्ता आहिस्ता नीचे को खींचते हुए मैने उसके बूब्स को नंगा कर लिया. एक लम्हे के लिए पायल ने अपनी आँखे खूलीं लेकिन जैसे ही मैने उसके नंगे ओपन बूब्स को अपनी मुट्ठी में पकड़ा तो एक बार फिर से उसकी आँखे बंद हो गई. पायल के खूबसूरत गोरे गोरे बूब्स ऑर उनके ऊपर सजी हुए गुलाबी गुलाबी छोटे छोटे निपल्स मेरी नज़रों के सामने बिल्कुल नंगे थे. उसके राइट साइड के बूब पर बीच में एक छोटा सा काला तिल था जो कि उसकी गोरी गोरी स्किन पर बहुत ही प्यारा लग रहा था.


चन्द बार उसके लिप्स को दोबारा चूमने के बाद में अपने होंठो को नीचे लाते हुए उसके सीने को चूमा ऑर फिर अपने होंठो को उसके गुलाबी निपल्स के पास ले आई ऑर आहिस्ता आहिस्ता अपने होंठो से गर्म गर्म साँसें निकाल कर उन को गरम करने लगी. जैसे ही मैने अपने होंठो के हल्के से टच से उसके निपल्स को छूआ ऑर रगड़ा तो पायल के जिस्म में तनाव सा पैदा हो गया ऑर उसके जिस्म ने एक झुरजुरी सी ली.


धीरे धीरे मैने अपनी ज़ुबान को बाहर निकाला ऑर उसके एक निपल को अपनी ज़ुबान से सहलाने लगी. जैसे जैसे मेरी ज़ुबान उसके निपल को सहला रही थी तो पायल के जिस्म में बेचैनी सी बढ़ ती ही जा रही थी. ज़ाहिर है कि एक कंवारी लड़की जिसके लिए ये सब कुछ पहली बार हो रहा हो उस का खुद पर कंट्रोल करना बहुत ही मुश्किल होता है यही हाल पायल का हो रहा था. अपने जिस्म के साथ हो रही इस नई छेड़ छाड़ को वो बर्दाश्त नही कर पा रही थी ऑर उसके हाथ भी मेरी नंगी कमर को सहलाने लगे थे.

मैने आहिस्ता से उसके एक निपल को अपने होंठो में लिया ऑर उसे होले होले चूसने लगी. चूस्ते हुए उसके निपल्स को अपनी ज़ुबान से सहला भी रही थी. मेरा हाथ उसकी थाइस ऑर नंगी कमर ऑर जिस्म पर रेंग रहे थे. मुझे लग रहा था कि कुछ ही देर में ही बिना छूए ही पायल अपनी ज़िंदगी के पहले ऑर्गॅज़म को पहुँच जाने वाली है. में भी यही चाह रही थी कि अभी उसकी चूत को ना टच करूँ ऑर ऐसे ही उसकी चूत का पहला पहला पानी निकाल दूं. मेरे हाथ उसकी नंगी थाइस पर उसके बर्म्यूडा के अंदर तक उसकी चूत के इर्दगिर्द रेंग रहे थे लेकिन उसकी चूत को टच नही कर रहे थे.


पायल से जब बर्दाश्त ना हो पाया तो उस ने अपना हाथ अपने बेरमूडे के ऊपर से अपनी चूत पर रखा ऑर उसे दबाने लगी. साथ ही मैने भी उसके निपल्स पर अपने होंठो का प्रेशर बढ़ा दिया ऑर उसके निपल्स को अपने दाँतों से होले होले काटने भी लगी. तेज तेज सांसो के साथ पायल के मुँह से तेज तेज सिसकारियाँ भी निकल रही थी जो कि पूरे कमरे ही क्या पूरे घर में गूँज रही थी .

चन्द लम्हो के बाद ही पायल के जिस्म ने जैसे ज़ोर दार झटके से खाए ऑर उसके चेहरे के एक्सप्रेशन्स भी चेंज हो गये ऑर पूरे का पूरा जिस्म उसका अकड गया. में समझ गई कि पायल की चूत पहली पहली बार पानी छोड़ रही है. मैने उसके जिस्म को अपने जिस्म के साथ भींच लिया ऑर थोड़ी ही देर में उसका जिस्म बिल्कुल ढीला हो गया मेरी बाहों की ग्रिफ्त में.


मैने आहिस्ता आहिस्ता उसे चूमते हुए उसे रिलॅक्स करना शुरू कर दिया. मैने अपनी नज़र उसकी चूत पर डाली तो उसका बर्म्यूडा उसकी चूत के ऊपर से गीला हो रहा था. मैने उसके बेरमूडे को छूआ ऑर फिर उसकी साइड से हाथ अंदर ले जा कर उसकी चूत को छूआ तो पायल की कंवारी चूत का कंवारा पहला पहला पानी मेरे हाथ पर लग गया. मैने अपने हाथ को बाहर निकाला ऑर उसकी चूत के पानी को स्मेल किया . कभी ऐसा किसी के साथ ना करने के बावजूद भी मेरा दिल चाहा कि में उसे टेस्ट कर के देखूं. जब में खुद को रोक ना पाई तो मैने धीरे से अपनी गीली उंगलियों को चाट लिया.


पायल ने अपनी आँखे खोलीं ऑर मुझे अपनी उंगलियों को चाट ते हुए देख कर बोली, भाभी क्या कर रही हैं ये.

में मुस्कराई ऑर उसकी चूत के पानी से चमकती हुई अपनी उंगलियाँ उसके चेहरे के पास ले जाती हुई बोली, देखो तुम्हारी चूत का पहला पहला पानी निकला है उसे ही टेस्ट कर रही हूँ.

मेरी बात सुन कर पायल के चेहरे पर शर्मीली सी मुस्कराहट फैल गई ऑर उसने दोबारा से अपनी आँखे बंद कर लीं. मैने भी आहिस्ता आहिस्ता उसी गीली उंगली से उसके होंठो को सहलाना शुरू कर दिया ऑर पायल को खुद उसकी अपनी चूत का पानी टेस्ट करवाने लगी.


कुछ देर के लिए में ऑर पायल इसी तरह से निढाल हालत में लेटे रहे. मेरी चूत की प्यास अभी तक नही बुझ पाई थी लेकिन मैने खुद पर कंट्रोल कर लिया हुआ था ऑर एक ही वक़्त में पायल को बिल्कुल ओपन नही करना चाहती थी. शायद वो भी एक ही बार में तमाम हदों को क्रॉस ना कर पाती. इस लिए मैं बड़े ही आराम से अपनी बाहों में लिए हुए उसके जिस्म को सहलाती रही. वो भी आँखे बंद कर के पड़ी रही मेरी बाहों में. उस ने अपना टॉप भी ठीक करने की कोई कोशिश नही की ऑर ना ही मैने उसे उसके बूब्स से नीचे किया . बहुत खूबसूरत लग रहे थे उसके नंगे बूब्स. उसके जिस्म को सहलाते रहने ऑर ज़िंदगी के पहले ऑर्गॅज़म की वजह से उसे थोड़ी ही देर मैने नींद आ गई . लेकिन में सो नही पाई.



Mere aate hi dono sanmbhal kar baith gaye. men mahsoos kar rahi thi ke dono bahan bhai ke beech bina koi baat cheet open kee hue hi ek taluq sa banta jaa raha tha. Payal ko apne bhai ke touch se lutf aane laga tha or shayad Raj ko bhi pata chalta jaa raha tha ke uski bahan bhi kuch kuch enjoy karne lagi hai. men ab jaa kar Raj ki doosri taraf baith gai or use beech men hi baitha rahne diya. aise hi chai peete or gup shup lagaate hue hum log tv dekhte rahe.



Poora din ghar men hum dono nanad bhabhi ne isi dress men apne jism ke nange pan ki bijliyaan giraate hue guPaayal. poore din hum dono ke nange jismo ko dekh kar Raj pagal hota raha. kai baar jab bhi us ne mujhe akele paya to mujhe daboch liya apni bahon men or choomte hue apni pyaas bujhaane laga. maine bhi uske lund ko sahlaate hue use khada kya lekin har baar us KLPD karte hue bhaag aai us ki banhoon se phisal kar taki uski pyaas or uske andar jalti hui aag isi tarah hi bharakti rahe or thandi na hone paaye.



Maine mahsoos kya ke ab Payal bhi ghar men us bilkul hi nange dress men phirne men koi bhi sharam mahsoos nahi kar rahi thi or bade araam se us half short bermode or us sliyeve less night-shirt men ghoom rahi thi jis men uska khoobsoorat seena or boobs ka oopari hissa bilkul hi open nazar aa raha tha. ab wo bhi apne bhai ki nazroon se bachne ki koshish nahi kar rahi thi balki uske aas paas hi rah rahi thi.


men or Payal kitchen men thi to Raj bhi andar hi aa gaya . bola, haan bhi kya pak raha hai. maine bataya ke chicken bana rahi hoon. Raj Payal ke nange jism ki taraf dekhte hue bola, yaar aaj mousam itna pyaara ho raha hai aaj to kuch meetha bhi huna chaahee sath men. maine muskaraa kar Raj ki taraf dekha or boli, befikar rahen aap aaj aapka munh bhi meetha karwaa den gaye. kyon Payal . jaise hi akhri baat maine Payal se poochi to wo mere sawal par jheenmp si gai or boli, haan haan bhaiya baten kya bana na hai. Raj ne muskaraa kar apni bahan ke boobs ki taraf ek nazar daali or phir bahar nikalte hue bola, kuch bhi bana lo yaar.


qareeb 5 bajy Raj ke ek doost ka phone aa gaya us ne use apne ghar bulaya tha. mujhe saaf lag raha tha ke ghar men ghoom rahi do do khoobsoorat adh nangi ladkeoon ko chod kar jaane ko uska dil bilkul bhi nahi kar raha tha lekin use jana hi pada. uska ye dost do teen streets chod kar hi rahta tha. Raj ke jane ke baad maine or Payal ne jaldi se raat ka khana taiyar kar liya or Raj ki farmaish ke mutabiq meetha bhi bana liya. kitchen se nikalte hue maine Payal ko masoomyat se chaira yaar pata nahi tumhare bhaiya ko ye meetha pasan aata bhi hai ke nahi. ya kuch or cheez se munh meetha karna chah rahe hun. meri baat sun kar Payal sharama kar muskaraai or apne kamare ki men chali gai.

Raj ke jaane ke baad men apne kamare men aa gai or apna laptop khol kar baith gai. aksar ouqaat maine t par xxx movies dekhti thi. xxx movies ka mujhe or Raj dono ko shouk tha balki such kaho to Raj ne hi mujhe is kaa aadi banaya tha. mera dil aaj chahaa ke men aaj lesbian movies dekhoon. maine ek porn site par jaa kar lesbian movies nikaali or unko dekhne lagi. mujhe aaj pahli baar in movies men maza aa raha tha warna kabhi bhi maine is qadar shouk se ye movies nahi dekhin thi . mujhe hamesha se hi straight sex hi pasand raha tha. ek mard ke sath ek aurat ke jism ka milaap. lekin aaj jab se maine Payal ke jism ko chooa or use chooma tha to mujhe is men bhi bahut maza aa raha tha. apne bed par baith kar apni thighs par laptop rakh kar men porn enjoy kar rahi thi.


Kuch der guzri to achanak se Payal mere kamare men aa gai . wo abhi bhi usi dress men thi subah wale. use dekhte saath hi ek baar phir se meri aankhe chamak padin. maine jaldi se us movie ko off kar diya. Payal mere paas aa gai bed or mere paas baith ti hui boli,

Payal : bhabhi kya dekh rahi thi lap top par.

Men: kuch nahi yaar tere dekhne ki cheez nahi hai.'

Payal : kyun kyun bhabhi aisi kon si cheez hai jo mere dekhne ki nahi hai. or keun nahi hai mere dekhne ki

Men: wo is liye nahi hai kyonki tu abhi bachhi hai. hahahahhaha

Payal mere bazoo par mukka maarte hue boli: wah g wah bhabhi g men ab badi ho gai hui hun koi bachhi wachhi nahi hoon.

Men: hansate hue: acha g wo kaha se badi ho gai ho bataao mujhe bhi Paayal.

Payal apna seena taan kar apne boobs ko bahar ko nikaalte hue boli, dekh lo kitni badi ho gai hoon men or subah bhi to aap ne dekha hi tha na kon sa men koi bachhi jaisi hoon.

Men hansane lagi. acha baba acha theek hai. aao tumko bhi dekhaa deti hoon lekin phir na kahna ke kaisi cheezain dekhaa di hain bhabhi ne mujhe.

Men ab Payal ko thoda or bhi open karne ka soch chuki thi is liye maine wohi lesbian movie nikaali or chala di. Payal ne jaise hi wo movie dekhi to foran hi apne munh par hath rakh liya.

Payal : oh no bhabhi............................. maine aisi movies ka suna tha college ki ladkiyon se or dekhi bhi thi unke mobile men lekin bhabhi kya a aap bhi ye movies dekhti ho.

Maine muskaraa kar uski taraf dekha or boli, haan kyun nahi acha lagta hai na.

Payal : lekin agar bhaiya ko pata chal jaay aapka to???????????????

Men hansate hue: are pagli tere bhaiya ne hi to mujhe in ko dekhne par lagayea hai.

Payal : kya such bhabhi???

Maine haan men sir hilea or phir use apne paas kheenchte hue apna bazoo uske kandhe par doosri taraf se rakhte hue boli, chalo ab dekho movie.

Payal mere saath wo lesbian movie dekhne lagi or thodi hi der men poori tarah se movie men involve ho gai. men bhi ahista ahista uske naked shoulder ko sahlaa rahi thi or ahista ahista mera hath neeche ko uske shoulder ke front or uske boob ke oopari hissay tak aata jaa raha tha. ahista ahista maine Payal ke boob ko uski shirt ke oopar se sahlaana shuru kar diya or mera chehra bhi uske shoulder par aa gaya or men apne hontho ko uski gardan or uske shoulder par ahista ahista pherne lagi. Payal hole hole kasmasaa rahi thi mere hontho se apni gardan or shoulders or jism ko bachaane ke liye. lekin jyaada mazahimat bhi nahi kar rahi thi shayad use bhi acha lag raha tha.

laptop ab bed par rakha hua tha mai ne apni taange phailen or ahista se Payal ko apni goud men pull kar liya. Payal bhi chup kar ke meri goud men let gai or meri ek side par paday hue lap top par wohi lesbian movie dekhne lagi. ek ladki doosri khoobsoorat ladki ke boobs ko choos rahi thi or uske nipples par apni zubaan pher rahi thi.

Maine apna hath Payal ke boobs par rakha or unko ahista ahista sahlaate hue Payal ke kaan men dheere se boli, Payal dekho bilkul tumhare jaise sudol or khoobsoorat hain iske boobs. kitni sexy lag rahi hai. sath hi maine apni zubaan ki nouk Payal ke kaan ke andar ahista se ghumaai to wo tadap hi uthi.

Payal ne muskaraa kar meri taraf dekha to mujhe uski aankhe surakh hoti hui nazar aain. maine neeche ko jhuk kar himmat karte hue apne honth uske hontho par rakhe or ek kiss kar li. Payal muskaraai or boli, bhabhi kya hai aapko lagta hai ke aap ko bhi inki tarah hi shouk ho raha hai maza karne ka.

Men ahista ahista Payal ki nangi thighs par hath pherate hue uske gaalon ko choomte hue boli, haan to kya harj hai is men. larkya an karti hi hain na ye sab.

Payal : g bhabhi mujhe pata hai ke ye sab kuch hota hai. meri ek friend hai jo ke hostel men rahti hai to wo bata ti hai ke waha girls hostel men ye wala pyaar bahut common hai.

Payal ke sir ke balon men hath pherate hue maine jhuk kar Payal ke honth ko chooma or uske nichle honth ko apne daanton ki grift men lete hue ahista ahista kaat ne lagi. to ssssssssssssssssssssssssssssssssss ki awaaz ke sath hi Payal ki aankhe bhi band ho gai. ek hath se Payal ke sir ko control karte hue uske lips ko chooste hue maine apna hath Payal ki shirt ke neeche daala or uske nange gore pet ko sahlaante hue apna hath oopar ko le jaane lagi uske nange boobs ki taraf. Payal ki saansen tej ho rahi thi or uske saansoon ke sath uske boobs bhi oopar neeche ho rahe the.

Jaise hi mere hathon ne directle Payal ke nange boobs ko apni grift men liya to Payal ka seena ekdam se oopar ko uth gaya mai foran hi samajh gai ke Payal bhi masti men aa rahi hai. maine bilkul ahista ahista uske ek nipple ko apni ungli or anghoote ke beech le kar dabaana or sahlaana shuru kar diya. Payal ke munh se halki halki siskaarean nikalne lagi thi .

Baari baari men uske dono choote choote nipples ko sahlaa rahi thi or saath saath Payal ke honth oon ko choom rahi thi. Payal ki aankhe bilkul band thi bus gahri gahri saansen phoot rahi thi uske munh se. men uske boobs se uski shirt ke neeche se khelti hui uske gulaabi patle patle lips par apni zubaan pher rahi thi. ahista ahista maine apni zubaan ko uske hontho ke beech men push kya or meri zubaan uske hontho ko andar se chaat ne lagi or uske daanton se takaraa rahi thi. ahista ahista Payal ke dantoon ne ek dusare se juda hote hue meri zubaan ko andar aane ki ijaazat di or agle hi pal meri zubaan Payal ki zubaan se takaraane lagi. sath hi Payal ne apne hontho ko band kya or meri zubaan ko choosne lagi apne hontho men le kar.

Maine apna hath Payal ki us choti si shirt se bahar nikaala or phir uski shirt ke oopar se uske boobs par rakh diya ab maine uski shirt ki low neck line ko pakada or ahista ahista neeche ko kheenchte hue maine uske boobs ko nanga kar liya. ek lamhe ke liye Payal ne apni aankhe khol in lekin jaise hi maine uske nange open boobs ko apni mutthi men pakada to ek baar phir se uski aankhe band ho gai. Payal ke khoobsoorat gore gore boobs or unke oopar sajy hue gulaabi gulaabi choote choote nipples meri nazron ke saamne bilkul nange the. uske right side ke boob par beech men ek choota sa kaala til tha jo ke uski gori gori skin par buhaat hi pyaara lag raha tha.


chand baar uske lips ko dobara choomne ke baad men apne hontho ko neeche laate hue uske seene ko chooma or phir apne hontho ko uske gulaabi nipples ke paas le aai or ahista ahista apne hontho se garm garm saansen nikaal kar un ko garam karne lagi. jaise hi maine apne hontho ke halke se touch se uske nipples ko chooa or ragda to Payal ke jism men tanaao sa paida ho gaya or uske jism ne ek jhurjhuri si li.


Dheere dheere maine apni zubaan ko bahar nikaala or uske ek nipple ko apni zubaan se sahlaane lagi. jaise jaise meri zubaan uske nipple ko sahlaa rahi thi to Payal ke jism men bechaini si badh ti hi jaa rahi thi. zahir hai ke ek kanwaari ladki jiske liye ye sab kuch pahli baar ho raha ho us ka khud par control karna bahut hi mushkil hota hai yahi haal Payal ka o raha tha. apne jism ke sath ho rahi is nai chaid chaad ko wo bardasht nahi kar paa rahi thi or uske hath bhi mairi nangi kamar ko sahlaane lage the.

Maine ahista se uske ek nipple ko apne hontho men liya or use hole hole choosne lagi. chooste hue uske nipples ko apni zubaan se sahlaa bhi rahi thi. mera hath uski thighs or nangi kamar or jism par reeng rahe the. mujhe lag raha tha ke kuch hi der men hi bina chooy hi Payal apni zindagi ke pahle orgasm ko pahunch jaane wali hai. men bhi yahi chaah rahi thi ke abhi uski choot ko na touch karoon or aise hi uski choot ka pahla pahlaa paani nikaal doon. mere haath uski nangi thighs par uske bermuda ke andar tak uski choot ke irdgird reeng rahe the lekin uski choot ko touch nahi kar rahe the.


Payal se jab bardasht naa ho paya to us ne apna hath apne bermude ke oopar se apni choot par rakha or use dabaane lagi. saath hi maine bhi uske nipples par apne hontho ka pressure badha diya or uske nipples ko apne daanton se hole hole kaatne bhi lagi. tej tej saansoon ke saath Payal ke munh se tej tej siskaarean bhi nikal rahi thi jo ke poore kamare hi kya poore ghar men goonj rahi thi .

Chand lamho ke baad hi Payal ke jism ne jaise zor daar jhatke se khaaye or uske chehare ke expressions bhi change ho gaye or poore ka poora jism uska akar gaya. men samajh gai ke Payal ki choot pahli pahli baar paani chod rahi hai. maine uske jism ko apne jism ke saath bheench liya or thodi hi der men uske jism bilkul dheela ho gaya meri bahon ki grift men.


Maine ahista ahista use choomte hue use relax karna shuru kar diya. maine apni nazar uski choot par daali to uska bermuda uski choot ke oopar se geela ho raha tha. maine uske bermude ko chooa or phir uski side se haath andar le jaa kar uske choot ko chooa to Payal ki kanwaari choot ka kanwaara pahla pahla paani mere haath par lag gaya. maine apne hath ko bahar nikaala or uski choot ke paani ko smell kya . kabhi aisa kisi ke sath na karne ke bawjood bhi mera dil chaha ke men use taste kar ke dekhun. jab men khud ko rok na paai to maine dheere se apni geeli ungleonko choot liya.


Payal ne apni aankhe kholin or mujhe apni ungleon ko chaat te hue dekh kar boli, bhabhi kya kar rahi hain ye.

Men muskaraai or uski choot ke paani se chamakti hui apni ungliyaan uske chehare ke paas le jaati hui boli, dekho tumahri choot ka pahla pahla paani nikla hai use hi taste kar rahi hoon.

Meri baat sun kar Payal ke chehare par sharmeeli si muskarahat phail gai or usne dobara se apni aankhe band kar lin. maine bhi ahista ahista usi geeli ungli se uske hontho ko sahlaana shuru kar diya or Payal ko khud uski apni choot ka paani taste karwaane lagi.


Kuch der ke liye men or Payal isi tarah se nidhaal halat men leti rahen. meri choot ki pyaas abhi tak nahi bujh paai thi lekin maine khud par control kar liya hua tha or ek hi waqt men Payal ko bilkul open nahi kar lena chahti thi. shayad wo bhi ek hi baar men tamam hadon ko cross na kar paati. is liye maine bade hi araam se apni bahon men liye hue uske jism ko sahlaati rahi. wo bhi aankhe band kar ke padi rahi meri bahon men. us ne apna top bhi theek karne ki koi koshish nahi ki or na hi maine use uske boobs se neeche kya . bahut khoobsoorat lag rahe the uske nange boobs. uske jism ko sahlaate rahne or zindagi ke pahle orgasm ki wajah se use thodi hi der maine neend aa gai . lekin men so nahi paai.


vnraj
Novice User
Posts: 89
Joined: 01 Aug 2016 21:16

Re: मासूम ननद

Post by vnraj » 07 Jan 2017 18:23

बहुत सुंदर और सेक्सी अपडेट है

Post Reply

Who is online

Users browsing this forum: Reich Pinto and 113 guests