मासूम ननद complete

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 782
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मासूम ननद

Post by Dolly sharma » 08 Jan 2017 08:42


शाम के क़रीब 7 बजे जब में ऑर पायल बैठी टीवी देख रही थी तो अचानक से बादलों की घन घर्ज शुरू हो गई ऑर थोड़ी ही देर में टिप टिप बारिश होने लगी. में ऑर पायल दोनो ही पिछले सहन में भागे कि बारिश देखें. देखते ही देखते बारिश तेज होने लगी. मैने कहा पायल आओ नहाते हैं बारिश में. पायल बोली, लेकिन भाभी ये नई ड्रेस खराब हो जाय गी जो ली है हम ने कल ही अभी.

मैने कहा हां कह तो तुम ठीक रही हो. मैने उसे आँख मारी ऑर बोली, क्यूँ ना इसे उतार कर नहाते हैं. पायल प्यार से मेरे बाज़ू पर मुक्का मारती हुई बोली, क्या है ना भाभी आप पता नही कैसी बातें करती रहती हो ऑर पता नही क्या होता जा रहा है आपको. अभी कुछ देर पहले भी आप ने............................

में: लेकिन मेरी जान तुमको भी तो मज़ा आया था ना.

पायल शरमा गई मैने कहा अच्छा चलो अंदर आओ मेरे साथ कुछ सोचते हैं.


अपने कमरे में ला कर मैने अलमारी खोली ऑर मेरी नज़र राज की स्लीव्लेस्स वाइट बनियान पर पड़ी मेरे दिमाग़ की घंटी बजी ऑर मैने फॉरन से दो बनियान निकाली ऑर एक पायल की तरफ बढ़ाते हुए बोली, लो एक तुम पहन लो ऑर एक में पहन लेती हूँ. पायल हैरत से उस बनियान को देखते हुए बोली, भाभी ये कैसे पहन सकते हैं. ये तो काफ़ी खुली है मुझे ऑर इसका तो गला भी काफ़ी खुला है. मैने उसे कहा बातें ना कर ऑर जल्दी से इस चेंज करो.

मैने उसके टॉप को पकड़ कर ऊपर उठाया तो खामोशी से पायल ने अपने बाज़ू ऊपर कर दिए. मैने उसके टॉप को उतार कर बेड पर फैंका ऑर अब पायल मेरी नज़रों के सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी अपने ऊपरी बदन पर. मैने जैसे ही उसके बूब्स को नंगे देखा तो एक बार फिर आहिस्ता आहिस्ता उसके बूब्स को सहलाने लगी. मैने उसके बूब्स को अपनी मुट्ठी में लिया ऑर आहिस्ता आहिस्ता उनको सहलाते हुए अपने होंठ उसके होंठो की तरफ बढ़ाए तो थोड़ा सा हिचकिचाते हुए पायल ने अपने होंठ आगे कर दिए ऑर मैने उसके होंठो को चूम लिया. फिर पायल ने मेरे हाथ से अपने भैया वाली बनियान छीनी ओर बोली, में पहन लेती हूँ खुद ही. मैने हँसते हुए उसे छोड़ दिया ऑर पायल अपनी बनियान पहन ने लगी.

मैने भी अपनी वो नाइट-शर्ट भी उतारी ऑर पायल के सामने नंगी हो गई. पायल ने पहली बार मेरे बूब्स नेकेड देखे तो मुझ से दूर ना रह सकी.

पायल : वॉवववववववववववववववव भाभिईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई आपके बूब्सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स कितने सेक्शययययययययययी हैन्न

में धीरे से मुस्कराई ऑर उसे अपने सिर ऑर आँख के इशारे से अपने बूब्स की तरफ आने को कहा.

पायल जल्दी से मेरे पास आई ऑर आहिस्ता आहिस्ता मेरे बूब्स को सहलाने लगी. उसकी उंगलियों ने मेरे निपल्स को छूआ तो मेरे निपल्स भी अकड़ने लगे.


खुद को पायल से अलग कर के मैने अपने नंगे जिस्म पर सिर्फ़ ऑर सिर्फ़ वो खुली बनियान पहन ली ऑर नीचे तो बर्म्यूडा ही था. मैने खुद को आईने में देखा तो सच में मेरा गला काफ़ी खुला हुआ था ऑर मेरे बूब्स भी डीप तक नज़र आ रहे थे. बनियान थी भी कुछ पतले कॉटन की जिसकी वजह से मेरे निपल्स की जगह पर डार्क डार्क हिस्सा दिख रहा था ऑर सॉफ पता चल रहा था कि मेरे निपल्स इस जगह पर हैं.



पायल का भी यही हाल था. हम दोनो ने जो बनियाने पहन रखीं थी राज की वो लंबाई में हमारी हाफ थाइस तक पहुँच रही थी . मैने जब पायल को देखा तो मुझे एक ऑर ख़याल आया. मैने उसके सामने खड़ी हो कर अपने बरमूडे को नीचे खींच दिया पायल का मुँह खुले का खुला रह गया. मैने अपनी एक पैंटी उठाई ऑर उस बनियान के नीचे बर्म्यूडा की जगह वो पहन ली.

पायल : भाभी ये क्या कर रही हो आप. क्या आप ऐसे ही जाओ गी नहाने बारिश में.

में: जी हां ऑर सिर्फ़ में ही नही तुम भी.

ये कहते हुए मैने पायल का बर्म्यूडा भी खींच कर नीचे कर दिया ऑर उसे बोली, कि चलो अपनी पैंटी पहन लो इसके नीचे से तुम भी. पायल ने बेबसी से मेरी तरफ देखा ओर बोली, लेकिन भाबी ऐसे कैसे.



मैने मुस्करा कर उसकी तरफ देखा ऑर उसे कोई बात करने का मौका दिए बिना ही खींच कर बाहर लाई ऑर फिर उसके के कपड़ों में से एक पैंटी उसे पहन ने को दी ऑर उसे पहना कर उसे सहन में ले आई. यहाँ पर अंधेरा भी हो रहा था ओर बारिश भी पहले से तेज हो चुकी हुई थी. हम दोनो जैसे ही बारिश में पहुँची तो चन्द मिनटों में ही हमारे जिस्म बिल्कुल गीले हो गये ऑर हमारी वेस्ट्स भीग कर हमारे जिस्मो के साथ चिपक गई ऐसे लग रहा था कि जैसे हम दोनो ने सिर्फ़ ऑर सिर्फ़ वो बनियान ही पहन रखी हैं ऑर कुछ भी नही पहना हुआ नीचे से. हम दोनो शरारते कर रही थी ऑर एक दूसरे को छेड़ रही थी . मैने शरारत से पायल के निपल को चुटकी मे पकड़ कर मरोड़ा ऑर बोली, बड़े प्यारे लग रहे हैं तेरे बूब्स जानी. पायल ने भी फॉरन से ही मेरे बूब को मुट्ठी में ले कर ज़ोर से दबाया ऑर बोली भाबी आपके भी तो पूरे नंगे ही नज़र आ रहे हैं.


में: सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स ऊऊऊऊऊऊीीईईईईईईईईईईईईई अरे ज़ालिम दबाने ही हैं बूब्स तो थोड़ा प्यार से दबा ना अपने भैया की तरह.


पायल हंस पड़ी ओर बोली, भाभी बड़ी याद आ रही है आपको भैया की.


में: हां यार वो भी साथ में नहाते तो ऑर भी मज़ा आ जाता.

पायल बोली, लेकिन भाभी फिर तो में नही नहा सकती ना आप लोगो के साथ.

में: क्यूँ तुझे क्या है.

पायल : भाभी मेरा तो पूरा ही जिस्म नेक्ड हो रहा है में कैसे भैया के सामने....................................


में: अरे पहली बात तो ये है कि वो हैं नही यहाँ ऑर अगर होते भी तो इस अंधेरे में कॉन सा कुछ नज़र आ रहा है जो तेरे भैया को तेरा जिस्म नज़र आता. वैसे भी वो तेरे भैया ही हैं कॉन सा कोई गैर मर्द है जो कि तुझे ऐसी हालत में देखे गा तो तुझे कुछ नुक़सान पहुँचाने की सोचे गा.


में ये बात कहते हुए पायल के क़रीब आ गई ऑर उसकी आँखो में देखते हुए मैने अपनी बनियान को अपने शोल्डर्स से नीचे को सरकाना शुरू कर दिया ऑर अपने दोनो बूब्स को नंगा कर दिया. पायल फॉरन ही आगे बढ़ी ओर मेरे बूब्स पर अपने हाथ रख कर इधर उधर ऊपर की तरफ करते हुए बोली,

क्या कर रही हो भाभी किसी ने देख लिया तो???????

मैने उसे खींच कर अपनी बाहों में भरा ऑर बोली, अरे इतने अंधेरे में कॉन देखे गा हमे लेट्स एंजाय यार.

ये कहते हुए मैने उसकी बुनियाँ को भी नीचे खींचा ऑर उसके बूब्स भी नंगे कर लिए. अब जैसे ही मैने उसके साथ हग किया तो पायल के बूब्स मेरे बूब्स के साथ प्रेस हो गये. अब हम दोनो खूबसूरत लड़कियों के जिस्म के ऊपरी हिस्से बिल्कुल नंगे हो रहे थे. पायल को भी जब मज़ा आने लगा तो उसने भी अपने बाज़ू मेरी कमर के गिर्द कस लिए ऑर मुझे अपने सीने से दबा लिया. धीरे धीरे में उसकी नंगी कमर पर हाथ फेर रही थी ऑर उसके होंठो को चूम रही थी.

इस बार पायल ने पहल की ऑर अपनी ज़ुबान मेरे होंठो के बीच पुश की ऑर मुझे अपनी ज़ुबान चूसने का मौका दिया. में भी अपनी कंवारी ननद की ज़ुबान को अपने होंठो में ले कर चूसने लगी.

उसकी ज़ुबान को चूस्ते ऑर उसे किस करते हुए में अपना एक हाथ उसकी कमर से हटा कर दोनो के जिस्मों के बीच में लाई ऑर उसकी पैंटी के अंदर डाल दिया. फॉरन ही मेरे हाथ को पायल की चूत के ऊपर की ट्राइंगल के बाल महसूस हुए थे. बहुत ही हल्के हल्के बाल थे. में वहाँ से उसे सहलाती हुई आहिस्ता आहिस्ता अपना हाथ उसकी चूत पर ले आई. मेरे हाथों की उंगलियाँ मेरी ननद की कंवारी अनटच चूत को टकराई तो मुझे बेहद लुफ्त आ गया . मैने आहिस्ता आहिस्ता उसके चूत के लबों ऑर चूत के दाने को सहलाना शुरू कर दिया.

पायल की चूत के दाने को सहलाते हुए में अपनी उंगली की टिप को उसकी चूत के सूराख पर रगड़ रही थी ऑर कभी कभी उसकी टिप को थोड़ा सा उसकी चूत के अंदर भी दाखिल कर देती थी.

सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्मम्म्ममममममममममममममममम भाभिईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई उूुुुुुुुुउउफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ पायल की सिसकियाँ निकल रही थी .

में उसकी चूत के सूराख के अंदर अपनी उंगली की टिप को आगे पीछे करते हुए बोली, ऊऊऊऊऊऊफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ डार्लिंग असल मज़ा तो तुम्हें उस वक़्त आए गा जब तेरी चूत में लंड जाय गा.

पायल : ऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊ भाभिईीईईईईईईईईईईईईईईईई ऐसी बातें ना करेन्ंनननननननननननननननननननननणणन् प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़

में: क्यूँ चूत में कुछ होने लगता है क्या तेरी.

मुझे महसूस हो रहा था कि पायल की चूत चिकनी होती जा रही थी मेरी उंगली के टच की वजह से. ऑर मुझे भी उसकी चूत को सहलाने ऑर उसे किस करने ऑर उसकी ज़ुबान को चूसने में बहुत मज़ा आ रहा था.

अभी हम ये बातें कर ही रहे थे कि दरवाज़े पर बेल हुई. मैने पायल की तरफ देखा तो वो फॉरन ही बोली,

ना ना भाभी में नही जाऊ गी खोलने दरवाज़ा, खुद ही जाओ ऑर में अपने कमरे में जा रही हूँ.


में हँसी ऑर बोली, अच्छा बाबा में ही खोल आती हूँ दरवाज़ा. में सहन से अंदर गई ऑर अंदर जा कर आँगन के दरवाज़े को अंदर से बंद कर दिया ताकि पायल अंदर आ कर अपने कमरे में ना जा सके ऑर मुस्कराते हुए गेट खोलने चली गई.

दरवाज़ा खोला तो राज था जो कि बिल्कुल भीग कर आया हुआ था. बाइक अंदर खड़ी कर के मुझे इस हालत में देखा तो फॉरन से मुझे अपनी बाहों में दबोच लिया ऑर मुझे चूमना शुरू कर दिया, मेरे बूब्स को दबाने ऑर मसल्ने लगा. मैने भी कोई विरोध नही किया ऑर उसके लंड पर हाथ रख कर उसे दबाने लगी. मैने राज की शर्ट पकड़ कर ऊपर उठाई ऑर उसके गले से निकाल दी. फिर उसकी पॅंट की बेल्ट खोली ऑर उसकी पॅंट भी उतार दी. अब राज एक लूस से कॉटन शॉर्ट्स में था जो उस ने नीचे पहना हुआ था.

मैने राज के शॉर्ट्स के ऊपर से ही उसका लंड पकड़ कर दबाना शुरू कर दिया जो कि पूरा अकड चुका हुआ था. मैने नीचे बैठ कर राज की शॉर्ट्स को नीचे खींचा ऑर उसका लंड बाहर निकल आया. वो फॉरन ही मुझे पीछे करते हुए बोला, अरे क्या कर रही हो. पायल आ जाएगी.

मैने उसके लंड के अगले हिस्से को चूमा ऑर बोली, नही आ सकती वो इधर. ये कहते हुए मैने राज के लंड को मुँह में लिया ऑर उसे चूसना शुरू कर दिया. में राज को उसकी बहन के पास ले जाने से पहले अच्छी तरह से गरम कर देना चाहती थी.


कुछ देर तक राज के लंड को चूसने के बाद मैने कहा आओ राज बाहर सहन में नहाते हैं बारिश में. राज अपने लंड को वापिस अपनी शॉर्ट्स में अड्जस्ट करते हुए मेरे साथ चल पड़ा ऑर बोला, पायल कहाँ है. मैने कहा वो भी बाहर सहन में ही है.राज एक लम्हे के लिए झिझका ऑर फिर मेरे साथ चल पड़ा. मैने सहन के दरवाज़े की कुण्डी खोली ऑर फिर हम दोनो पीछे सहन में आ गये.


पायल ने हमे देखा तो अपने बाज़ू अपने सीने के उभारों पर लपेट लिए. बाहर बहुत ही कम रोशनी थी. राज भी हमारे साथ ही नहाने लगा लेकिन अभी तक कोई भी कुछ भी शरारत नही कर रहा था. राज का पूरा जिस्म बिल्कुल ही नंगा था ऑर नीचे जो कॉटन शॉर्ट्स पहनी हुई थी उस में से उसके लंड की शेप भी सॉफ दिख रही थी. पायल का जिस्म भी राज की वाइट पतली कॉटन वेस्ट में बिल्कुल सॉफ दिख रहा था. जैसे ही वो दूसरी तरफ मुँह करती ऑर उसकी कमर नज़र आती तो बिल्कुल ही नंगी लगती थी उसकी कमर. नीचे थिग्स तो उसकी भी ऑर मेरी भी पूरी नंगी हो रही थी . लेकिन सामने से वो अपने बूब्स को नही दिखा रही थी. लेकिन ज़ाहिर है कि में ऐसा नही कर रही थी ऑर अपना पूरा जोबन उन दोनो बहन भाई के सामने गीली वेस्ट में एक्सपोज़ कर रही थी जिसकी वजह से भी राज को मस्ती आती जा रही थी. अचानक से ही इलाक़े की लाइट चली गई बारिश के तेज होने की वजह से ऑर बिल्कुल ही अंधेरा हो गया. ऐसे बस हल्की सी रोशनी हो रही थी.

राज की नज़रें अपनी बहन के नंगे हो रहे जिस्म पर नही हट पा रही थी अपनी सग़ी बहन के बूब्स, उसके निपल्स, उसका क्लीवेज ऑर उसकी नंगी थाइस उसके सामने थी सब कुछ जानते हुए भी वो खुद की नज़रों को रोक नही पा रहा था. दूसरी तरफ में देख रही थी कि पायल की नज़रें भी बार बार राज के जिस्म के निचले हिस्से की तरफ उसके शॉर्ट्स पर जा रही थी जिसमें उसके अपने भाई का अकडा हुआ लंड बिल्कुल सॉफ सॉफ दिख रहा था. दोनो बहन भाई के जिस्मों में एक दूसरे के लिए बढ़ ती हुई प्यास को में बहुत सॉफ तोर पर देख रही थी. ऑर इस सब से मुझे एक अजीब सी लज़्ज़त ऑर एग्ज़ाइट्मेंट मिल रही थी.


कुछ देर ऐसे ही एंजाय करने के बाद मैने कहा राज आओ कुछ गेम खेलते हैं. पायल बोली वो क्या भाभी.

मैने कहा कि राज की आँखों पर पट्टी बाँधते हैं ऑर वो फिर हम दोनो को पकड़े गा ऑर फिर पहचान ने की भी कोशिश करे गा कि दोनो में से जिसे पकड़ा है वो कौन है. ऑर हम लोग बिना कुछ बोले उस से खुद को छुड़ाने को कोशिश करें गी अगर ना छुड़ा सकी या कोई बोल पड़ी तो फिर उसकी बारी हो गी पकड़ने की. ज़ाहिर है कि ये एक बिल्कुल ही रब्बिश सी गेम थी क्योंकि चाहे आँखे बंद हों फिर भी राज आसानी के साथ हम दोनो के जिस्मों में फरक़ कर सकता था लेकिन राज फॉरन से मान गया क्योंकि उसे भी शायद इस में मिलने वाले मज़े का अंदाज़ा हो गया था. वो मेरी बेवक़ूफी पर हंस रहा था कि कैसा बच्चों वाला गेम खेलने को में कह रही हूँ जबकि वो उस बच्चो वाली गेम में भी अडल्ट्स वाला मज़ा लूटने के चक्कर में था. लेकिन पायल थोड़ा झीजक रही थी. मैने अंदर से एक दुपट्टा ला कर राज की आँखों पर बाँध दिया ऑर बोली, पायल अब हम में से कोई भी कुछ नही बोले गा.


जैसे ही गेम शुरू हुई तो में ऑर पायल उस छोटे से सहन में इधर उधर भागने लगे ऑर राज अपने हाथ फैला कर हमे पकड़ने की कोशिश कर रहा था. मैने जान बूझ कर खुद को राज की ग्रिफ्त में दिया ऑर फिर खुद को उसकी ग्रिरफ़्त से निकालने लगी. राज ने बड़ी ही अहतयात से मुझे पकड़ा हुआ था मेरे बाज़ू से लेकिन में खुद को बचाने के चक्कर में अपने बूब्स को उसके सीने से रगड़ रही थी ऑर फिर अपनी साइड चेंज करती हुई अपनी कमर उसके सीने से लगाई ऑर अपने हिप्स को उसके लंड पर अपनी गान्ड को रगड़ने लगी. राज चिल्ला रहा था, पायल पायल है ये, पायल तुम अब पकड़ी गई हो. लेकिन मैने उस से खुद को छुड़ाने की कोशिश की तो मेरे पेट पर पड़ा हुआ उसका हाथ मेरे बूब्स पर आ गया . मैने हाथ पीछे ले जा कर उसके लंड को उसके शॉर्ट्स के ऊपर से पकड़ लिया ऑर उसका लंड एकदम से खड़ा हो गया. वो समझ गया कि ये पायल नही में हूँ. उस ने भी मेरे बूब्स को दबोच लिया ऑर फिर मसल्ने लगा. मैने पायल की तरफ देखा तो वो पास ही खड़ी हुई हंस रही थी.


मैने अब अचानक से हमला करते हुए खुद को छुड़ा लिया ऑर राज की ग्रिफ्त से एकदम निकली तो राज आगे को झपटा ऑर बजाय कि में उसकी पकड़ में आती उसकी अपनी बहन पायल उसकी पकड़ में आ गई . राज फॉरन ही समझ गया कि ये में ही हूँ जो कि उसकी ग्रिफ्त से निकलने लगी थी तो उस ने दोबारा से पकड़ लिया है. जब की पायल इस अचानक के हमले से घबरा गई लेकिन. वो बोल भी नही सकती थी. बस खुद को अपने भाई की ग्रिफ्त से छुड़ाने लगी.


राज अपने एक हाथ की ग्रिफ्त उसके पेट ऑर दूसरे को उसके बूब पर जमाते हुए बोला, अब नही निकल्ने दूँगा तुझे बड़ी मछली की तरह फिसल कर निकलने लगी थी ना मेरी ग्रिफ्त से अब निकल कर दिखा. उस ने अपने हाथ से अपनी बहन के बूब्स को दबाना शुरू कर दिया. पायल के मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थी लेकिन वो अपनी आवाज़ को दबा रही थी. पायल राज की बाहों में मचल रही थी. राज ने अपना पायल के पेट पर रखा हुआ हाथ उसकी वेस्ट के नीचे डाला ऑर उसके नंगे पेट पर अपना हाथ ऊपर को फेरता हुआ डाइरेक्ट उसके नंगे बूब पर ले गया ऑर अपनी बहन के नंगे बूब को पकड़ लिया. पायल ने घबरा कर मेरी तरफ देखा तो मैने उसे उंगली अपने लिप्स पर रख कर चुप रहने का इशारा किया . उसे समझ नही आ रही थी कि वो क्या करे. राज, उसका अपना सगा बड़ा भाई अपनी बीवी के सामने उसकी गीली बनियान के नीचे हाथ डाल कर उसके नंगे बूब्स को दबा रहा था.




Shaam ke qareeb 7 baje jab men or Payal baithi tv dekh rahi thi to achanak se baadalon ki ghan gharj shuru ho gaai or thodi hi der men tip tip baarish hone lagi. men or Payal dono hi pichle sehan men bhaage ke baarish dekhen. dekhte hi dekhte baarish tej hone lagi. maine kaha Payal aao nahaate hain baarish men. Payal boli, lekin bhabhi ye nai dress kharab ho jaay gi jo li hai hum ne kalhi abhi. maine kaha haan kah to tum theek rahi ho. maine use aankh maari or boli, kyun na ise utaar kar nahaate hain. Payal pyaar se merahe bazoo par mukka maarti hui boli, kya hai na bhabhi aap pata nahi kaisi baten karti rahti ho or pata nahi kya hota jaa raha hai aapko. abhi kuch der pahle bhi aap ne............................

Men: Lekin meri jaan tumko bhi to maza aaya tha na.

Payal sharmaa gai maine kaha acha chalo andar aao mere sath kuch sochte hain.


apne kamare men laa kar maine almaari khol i or meri nazar Raj ki sliyeveless white baniyaan par padi mere dimaag ki ghanti baji or maine foran se do buneanian nikaali or ek Payal ki taraf badhate hue boli, lo ek tum pehan lo or ek men pehan leti hoon. Payal hairat se us baniyaan ko dekhte hue boli, bhabhi ye kaise pehan sakte hain. ye to kaafi khul hai mujhe or iska to gala bhi kaafi khula hai. maine use kaha baten na kar or jaldi se is change karo.

Maine uske top ko pakad kar oopar uthaya to khamoshi se Payal ne apne bazoo oopar kar diye. maine uske top ko utaar kar bed par phainka or ab Payal meri nazron ke saamne bilkul nangi khadi thi apne oopari badan par. maine jaise hi uske boobs ko nange dekha to ek baar phir ahista ahista uske boobs ko sahlaane lagi. maine uske boobs ko apni mutthi men liya or ahista ahista unko sahlaate hue apne honth uske hontho ki taraf badhaye to thoda sa hichkichaate hue Payal ne apne honth aage kar diye or maine uske hontho ko choom liya. phir Payal ne mere hath se apne bhaiya wali baniyaan cheeni or boli, men pahan leti hoon khud hi. Maine hansate hue use chod diya or Payal apni baniyaan pahan ne lagi.
maine bhi apni wo night-shirt bhi utaari or Payal ke saamne nangi ho gai. Payal ne pahli baar mere boobs naked dekhe to mujh se door na rah saki.

Payal : wowwwwwwwwwwwwwwww bhabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aapke boobsssssssssssssssssssssss kitne sexyyyyyyyyyyy hainn

Men dheere se muskaraai or use apne sir or aankh ke ishaare se apne boobs ko taraf aane ko kaha.

Payal jaldi se mere paas aai or ahista ahista mere boobs ko sahlaane lagi. uski ungleon ne mere nipples ko chooa to mere nipples bhi akarne lage.
khud ko Payal se alag kar ke maine apne nange jism par sirf or sirf wo khuli baniyaan pahan li or neeche to bermuda hi tha. maine khud ko aaine men dekha to such men mera gala kaafi khula hua tha or mere boobs bhi deep tak nazar aa rahe the. baniyaan thi bhi kuch patle cotton ki jiski wajah se mere nipples ki jagah par daark daark hissa dikh raha tha or saaf pata chal raha tha ke mere nipples is jagah par hain.



Payal ka bhi yahi haal tha. Hum dono ne jo buneanain pehan rakhin thi Raj ki wo lambai men hamari half thighs tak pahunch rahi thi . Maine jab Payal ko dekha to mujhe ek or khayal aya. maine uske saamne khadi ho kar apne bermude ko neeche kheench diya Payal ka munh khule ka khula rah gaya. maine apni ek pante uthaai or us baniyaan ke neeche bermuda ki jagah wo pehan li.

Payal : bhabhi ye kya kar rahi ho aap. kya aap aise hi jaao gi nahaane baarish men.

Men: g haan or sirf men hi nahi tum bhi.

ye kahte hue maine Payal ka bermuda bhi kheench kar neeche kar diya or use boli, ke chalo apni pante pahan lo iske neeche se tum bhi. Payal ne bebasi se meri taraf dekha or boli, lekin bhabi aise kaise.



maine muskaraa kar uski taraf dekha or use koi baat karne ka mouka diye bina hi kheench kar bahar laai or phir uske ke kapdon men se ek pante use pahan ne ko di or use pahanaa kar use sehan men le aai. yaaha par andhera bhi ho raha tha or baarish bhi pahle se tej ho chuki hui thi. hum dono jaise hi baarish men pahunchy to chand minton men hi hamare jism bilkul geele ho gaye or hamari vests bheeg kar hamare jismo ke sath chipak gai aise lag raha tha ke jaise hum dono ne sirf or sirf wo buneanain hi pehan rakhi hain or kuch bhi nahi pahana hua neeche se. hum dono sharaartain kar rahi or ek dusare ko chaid rahi thi . maine shararat se Payal ke nipple ko chutki mai pakad kar mrooda or boli, bade pyaare lag rahe hain tere boobs jaani. Payal ne bhi foran se hi mere boob ko mutthi men le kar zor se dabaya or boli bhaabi aapke bhi to poore nange hi nazar aa rahe hain.


Men: sssssssssssssssssssssssssss ooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiii are zalim dabaane hi hain boobs to thoda pyaar se daba na apne bhaiya ki tarah.


Payal hans padi or boli, bhabhi badi yaad aa rahi hai aapko bhaiya ki.


Men: Haan yaar wo bhi sath men nahaate to or bhi maza aa jata. Payal boli, lekin bhabhi phir to men nahi naha sakti na aap logo ke sath.

Men: kyun tujhe kya hai.

Payal : bhabhi mera to poora hi jism naked ho raha hai men kaise bhaiya ke saamne....................................


Men: are pehli baat to ye hai ke wo hain nahi yaha or agar hote bhi to is andhere men kon sa kuch nazar aa raha hai jo tere bhaiya ko tera jism nazar aata. waise bhi wo tere bhaiya hi hain kon sa koi ghair mard hai jo ke tujhe aisi halat men dekhe ga to tujhe kuch nuqsaan pahunchaane ki sochy ga.


Men ye baat kahte hue Payal ke qareeb aa gai or uski aankhon men dekhte hue maine apni baniyaan ko apne shoulders se neeche ko sarakaana shuru kar diya or apne dono boobs ko nanga kar diya. Payal foran hi aage badhi or mere boobs par apne haath rakh kar idhar udhar oopar ki taraf or boli,

kya kar rahi ho bhabhi kisi ne dekh liya to???????

Maine use kheench kar apni bahon men bhara or boli, are itne andhere men kon dekhe ga hame lets enjoy yaar.

Ye kahte hue maine uski bunean ko bhi neeche kheencha or uske boobs bhi nange kar liye. ab jaise hi maine uske sath hug kya to Payal ke boobs mere boobs ke sath press ho gaye. ab hum dono khoobsoorat ladkiyon ke jism ke oopari hisse bilkul nange ho rahe the. Payal ko bhi jab maza aane laga to usne bhi apne bazoo meri kamar ke gird kas liye or mujhe apne seene se daba liya. dheere dheere men uski nangi kamar par hath pher rahi thi or uske hontho ko choom rahi thi.

is baar Payal ne pahl ki or apni zubaan mere hontho ke beech push ki or mujhe apni zubaan choosne ka mouka diya. men bhi apni kanwari nanad ki zubaan ko apne hontho men le kar choosne lagi.

uski zubaan ko chooste or use kiss karte hue men apna ek haath uski kamar se hata kar dono ke jismon ke daremaan men laai or uski pante ke andar daal diya. foran hi mere hath ko Payal ki choot ke oopar ki triangle ke baal mahsoos hue the. bahut hi halke halke baal the. men waha se use sahlaati hui ahista ahista apna hath uski choot par liya aai. mere haathun ki ungliyan meri nanad ki kanwaari untouch choot ko takaren to mujhe behad lutf aa gaya . maine ahista ahista uske choot ke labon or choot ke daane ko sahlaana shuru kar diya.

Payal ki choot ke daane ko sahlaate hue men apni ungli ki tip ko uski choot ke soorakh par ragad rahi thi or kabhi kabhi uski tip ko thoda sa uski choot ke andar bhi daakhil kar deti thi.

sssssssssssssssssssssmmmmmmmmmmmmmmmmmmmm bhabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii uuuuuuuuuuuufffffffffffffffffffffffffffffffffff Payal ki siskarean nikal rahi thi .

Men uski choot ke soorakh ke andar apni ungli ki tip ko aage peeche karte hue boli, ooooooooooooffffffffffffffffffffffffffff darling asal maza to tumhen us waqt aaye ga jab teri choot men lund jaay ga.

Payal : oooooooooooooooooooooooooo bhabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aisi baten na karennnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz

Men: kyun choot men kuch hone lagta hai kya teri.

mujhe mahsoos ho raha tha ke Payal ki choot chikni hoti jaa rahi thi meri ungli ke touch ki wajah se. or mujhe bhi uski choot ko sahlaane or use kiss karne or uski zubaan ko choosne men bahut maza aa raha tha.

abhi hum ye baten kar hi rahe the ke darawaaze par bell hui. maine Payal ki taraf dekha to wo foran hi boli,

na na bhabhi men nahi jaaoo gi khol ne darwaaza, khud hi jaao or men apne kamare men jaa rahi hoon.


men hansi or boli, acha baba men hi khol aati hoon darwaaza. men sehan se andar gai or andar jaa kar aangan ke darawaaze ko andar se band kar diya taki Payal andar aa kar apne kamare men na jaa sake or muskaraate hue gate kholne chali gai.

Darwaaza khola to Raj tha jo ke bilkul bheeg kar aya hua tha. bike andar khadi kar ke mujhe is halat men dekha to foran se mujhe apni bahon men dabooch liya or mujhe choomna shuru kar diya, mere boobs ko dabaane or masalne laga. maine bhi koi muazahimat nahi ki or uske lund par hath rakh kar use dabaane lagi. maine Raj ki shirt pakad kar oopar uthaai or uske gale se nikaal di. phir uski pant ki belt kholi or uski pant bhi utaar di. ab Raj ek loose se cotton shorts men tha jo us ne neeche pahana hua tha.

Maine Raj ke shorts ke oopar se hi uska lund pakad kar dabana shuru kar diya jo ke poora akar chuka hua tha. maine neeche baith kar Raj ki shorts ko neeche kheencha or uska lund bahar nikal aya. wo foran hi mujhe peeche karte hue bola, are kya kar rahi ho. Payal aajaay gi.

maine uske lund ke agle hisse ko chooma or boli, nahi aasakti wo idhar. ye kahte hue maine Raj ke lund ko munh men liya or use choosna shuru kar diya. men Raj ko uski bahan ke paas le jaane se pahle achhi tarah se garam kar dena chahti thi.


Kuch der tak Raj ke lund ko choosne ke baad maine kaha aao Raj bahar sehan men nahaate hain baarish men. Raj apne lund ko wapis apni shorts men adjust karte hue mere saath chal pada or bola, Payal kaha hai. maine kaha wo bhi bahar sehan men hi hai.Raj ek lamhe ke liye jhijka or phir mere saath chal pada. maine sehan ke darawaaze ki kyunndi khol i or phir hum dono peeche sehan men aa gaye.


Payal ne hame dekha to apne bazoo apne seene ke ubhaaroon par lapet liye. bahar bahut hi kam roshni thi. Raj bhi hamare sath hi nahaane laga lekin abhi tak koi bhi kuch bhi sharart nahi kar raha tha. Raj ke poora jism bilkul hi nanga tha or neeche jo cotton shorts pahane hue the us men se uske lund ki shape bhi saaf dikh rahi thi. Payal ka jism bhi Raj ki white patli cotton vest men bilkul saaf dikh raha tha. jaise hi wo doosri taraf munh karti or uski kamar nazar aati to bilkul hi nangi lagti thi uski kamar. Neeche thigs to uski bhi or meri bhi poori nangi ho rahi thi . lekin saamne se wo apne boobs ko nahi dekhaa rahi thi. lekin zahir hai ke men aisa nahi kar rahi thi or apna poora joban un dono bahan bhai ke saamne geeli vest men expose kar rahi thi jiski wajah se bhi Raj ko masti aati jaa rahi thi. achank se hi ilaaqy ki light chali gai baarish ke tej hone ki wajah se or bilkul hi andhera ho gaya. aise bus halki si roshni ho rahi thi.

Raj ki najaren apni bahan ke nange ho rahe jism par nahi hut paa rahi thi apni sagi bahan ke boobs, uske nipples, uska cleavage or uski nangi thighs uske saamne thi sab kuch jaante hue bhi wo khud ki nazron ko rok nahi paa raha tha. doosri taraf men dekh rahi thi ke Payal ki najaren bhi baar baar Raj ke jism ke nichle hisse ki taraf uske shorts par jaa rahi thi jism men uske apne bhai ka akara hua lund bilkul saaf saaf dikh raha tha. dono bahan bhaai ke jismon men ek dusare ke liye badh ti hui pyaas ko men bahut wazeh tor par dekh rahi thi. or is sab se mujhe ek ajeeb si lazzat or excitement mil rahi thi.


Kuch der aise hi enjoy karne ke baad maine kaha Raj aao kuch game khelte hain. Payal boli wo kya bhabhi.

maine kaha ke Raj ki aankhon par pati baandhte hain or wo phir hum dono ko pakade ga or phir pehchaan ne ki bhi koshish kar ga ke dono men se jise pakada hai wo koun hai. or hum log bina kuch bole us se khud ko churaane ko koshish karen gi agar na churaa saki ya koi bol padi to phir uski baari ho gi pakadne ki. Zahir hai ke ye ek bilkul hi rubbish si game thi kyonki chaahe aankhe band hun phir bhi Raj aasani ke sath hum dono ke jismmo men faraq kar sakta tha lekin Raj foran se maan gaya kyonki use bhi shayad is men milne wale maze ka andaza ho gaya tha. wo meri bewqoofi par hans raha tha ke kaisa bachun wala game khelne ko men kah rahi hoon jabke wo us bachun wali game men bhi adults wala maza lootne ke chakkar men tha. Lekin Payal thoda jhijak rahi thi. maine andar se ek dopaata laa kar Raj ki aankhon par baandh diya or boli, Payal ab hum men se koi bhi kuch nahi bole ga.


Jaise hi game shuru hui to men or Payal us chote se sehan men idhar udhar bhaagne lage or Raj apne hath phaila kar hame pakadne ki koshish kar raha tha. maine jaan boojh kar khud ko Raj ki grift men diya or phir khud ko uski grirf se nikaalne lagi. Raj ne badi hi ahte aat se mujhe pakada hua tha mere bazoo se lekin men khud ko bachaane ke chakkar men apne boobs ko uske seene se ragad rahi thi or phir apni side change karti hui apni kamar uske seene se lagaai or apne hips ko uske lund par apni gaanD ko ragadne lagi. Raj chilaa raha tha, Payal Payal hai ye, Payal tum ab pakadi gai ho. lekin maine us se khud ko churaane ki koshish ki to mere pet par pada hua uska hath mere boobs par aa gaya . maine hath peeche le jaa kar uske lund ko uske shorts ke oopar se pakad liya or uska lund ekdam se khada ho gaya. wo samajh gaya ke ye Payal nahi men hoon. us ne bhi mere boobs ko dabooch liya or phir masalne laga. maine Payal ki taraf dekha to wo paas hi khadi hui hans rahi thi.


maine ab achanak se hamla karte hue khud ko churaa le or Raj ki grift se ekdam nikli to Raj aage ko jhapta or bajaaye ke men uski pakad men aati uski apni bahan Payal uski pakad men aa gai . Raj foran hi samajh gaya ke ye men hi hoon jo ke uski grift se nikalne lagi thi to us ne dobara se pakad liya hai. jab ke Payal is achanak ke hamle se ghabraa gai lak. woh bol bhi nahi sakti thi. bus khud ko apne bhai ki grift se churaane lagi.


Raj apne ek hath ki grift uske pet or dusare ko uske boob par jamaate hue bola, ab nahi nikalne doon ga tujhe badi machli ki tarah phisal kar nikalne lagi thi na meri grift se ab nikal kar dikhaa. us ne apne hath se apni bahan ke boobs ko dabaana shuru kar diya. Payal ke munh se siskaarean nikal rahi thi lekin wo apni awaaz ko dabaa rahi thi. Payal Raj ki bahon men machal rahi thi. Raj ne apna haath Payal ke pet par rakha hua hath uski vest ke neeche daala or uske nange pet par apna hath oopar ko pherata hua direct uske nange boob par le gaya or apni bahan ke nange boob ko pakad liya. Payal ne ghabraa kar meri taraf dekha to maine use ungli apne lips par rakh kar chup rahne ka ishaara kya . use samajh nahi aa rahi thi ke wo kya kare. Raj, uska apna saga bara bhai apni biwi ke saamne uski geeli baniyaan ke neeche hath daal kar uske nange boobs ko dabaa raha tha.

Re: मासूम ननद

Sponsor

Sponsor
 

Phantom
Novice User
Posts: 45
Joined: 12 Oct 2014 14:13

Re: मासूम ननद

Post by Phantom » 08 Jan 2017 12:12

dont stopppppppppppppppppp now...............

sahil
Posts: 13
Joined: 02 Jan 2017 12:42

Re: मासूम ननद

Post by sahil » 09 Jan 2017 06:28

Jaldi jaldi update kare

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 782
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मासूम ननद

Post by Dolly sharma » 09 Jan 2017 10:32

Phantom wrote:dont stopppppppppppppppppp now...............
sahil wrote:Jaldi jaldi update kare

थॅंक्स आप दोनों के साथ देने के लिए

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 782
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मासूम ननद

Post by Dolly sharma » 09 Jan 2017 10:34

राज ने उसे ऑर भी जकड़ते हुए, उसकी कमर को अपने जिस्म के साथ चिपकाया ऑर उसके बूब्स को मसल्ते हुए उसकी गर्दन पर अपने लिप्स रख कर चूमते हुए बोला, डार्लिंग पकड़ी गई हो ना अब निकल कर दिखाओ. बस अब पायल रह गई है अभी इसके बाद उसे पकड़ लूँगा तो जीत जाऊ गा में. राज ने आहिस्ता आहिस्ता उसकी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया ऑर शायद पायल के निपल्स को भी मसल रहा था अपनी उंगलियों में.


में राज के थोड़ा क़रीब गई उसके पीछे से ऑर बिना उसके जिस्म को छूए हुए उसका एक हाथ पकड़ कर नीचे को खींचा ऐसे कि पायल को अंधेरे में पता ही नही चल पाया ऑर राज समझा कि ये में हूँ जो उसकी ग्रिफ्त में हूँ ऑर उसका हाथ नीचे ले जा रही हूँ. मैने राज का हाथ पायल के बर्म्यूडा के ऊपर से उसकी चूत पर रख दिया. राज बोला, बड़ी मस्ती सूझ रही है तुझे डार्लिंग इस बारिश में. ऑर ये कह कर उस ने पायल की चूत को रगड़ना शुरू कर दिया उसकी पैंटी के ऊपर से.

एक बात थी कि ये तो मुमकिन नही था कि राज को मेरे ओर पायल के जिस्म के फ़र्क़ का अहसास ना हुआ हो लेकिन अगर उसे पता चल भी गया था तो अब वो इस अंधेरे ऑर गेम का फ़ायदा उठाते हुए अपनी बहन के जिस्म के मज़े लेना चाह रहा था ऑर में भी उसे डिस्ट्रब नही करना चाह रही थी.

अब राज ने अपना हाथ पायल की पैंटी के इलास्टिक से अंदर डाला ऑर अपना हाथ उसकी नंगी चूत पर रख दिया ऑर उसे आहिस्ता आहिस्ता दबाने लगा. राज की इस हरकत की वजह से पायल ऑर भी परेशान हो गई उसे नही पता था कि में ये सब देख रही हूँ लेकिन फिर भी उसे डर था कि कहीं में ना देख लूँ. राज ने अपनी कंवारी बहन की चूत को अच्छे से रगड़ा ऑर इसी वजह से उसकी ग्रिफ्त ढीली हुई तो पायल फॉरन ही फिसल गई उसकी बाहों से ऑर दूर हो कर बोली, बस भाभी अब गेम ख़तम. में मुस्कराई ऑर उसकी तरफ बढ़ी, इतने में लाइट भी आ गई . मैने देखा कि पायल की हालत खराब हो रही थी. उसका साँस फूल रहा था ऑर उसके बूब्स भी ऊपर नीचे हो रहे थे तेज़ी के साथ. राज ने भी अपनी आँखों पर बँधा दुपट्टा खोल दिया ऑर फिर हम दोनो की तरफ हैरत से देखने लगा. मैने कहा राज अब तो बारिश भी ख़तम हो गई है चलो अंदर ही चलते हैं. पायल भी अपने जिस्म को छुपाती हुई अंदर आ गई .



में ऑर राज दोनो एक साथ ही बाथरूम मे घुस गये नहाने के लिए ऑर ऊँची आवाज़ में मस्तियाँ करते हुए नहाने लगे. सारी आवाज़े बाहर जा रही थी पायल तक. थोड़ी देर में पायल ने नॉक किया ऑर बोली, निकल भी आओ आप लोग भाभी मुझे भी नहाना है. मैने थोड़ा सा दरवाज़ा खोला ऑर बोली, डार्लिंग आ जाओ तुम भी हमारे साथ ही नहा लो. पायल बोली, जी नही शुकरिया आप लोगो का.हम दोनो ही अंदर हँसने लगे.


कुछ देर में पायल ने भी नहा लिया ऑर हम दोनो ने फिर से वोही नाइट-शर्ट पहन ली बिना ब्रस्सिएर के ऑर इस बार बिना मेरे कहे ही पायल ने वो शर्ट बिना ब्रा के पहनी ऑर बड़े आराम से अपने भाई के सामने आ गई . वो ऑर भी ज़्यादा घबरा रही थी अब राज के सामने क्योंकि आज उसका भाई उसके नंगे बूब्स ऑर चूत को भी मसल चुका था. रात का खाने खाते हुए भी राज अपनी बहन के बूब्स को भी देखना चाह रहा था ऑर वो उन को अपने भाई की नज़रों से छुपा रही थी, शरम से नही बल्कि अपने भैया को टीज करने के लिए. अब मुझे रात का इंतजार था कि रात को क्या हो गा क्योंकि अब तो राज ऑर भी खुल गया था ऑर रात भी पूरी बाक़ी थी.

डिन्नर के बाद अभी राज टीवी पर कोई न्यूज़ शो देख रहा था कि मैने पायल का हाथ पकड़ा ऑर उसे बेडरूम में ले आई. ऑर लाइट्स ऑफ कर के दोनो बेड पर लेट गये. मैने पायल को बीच में ही लिटाया था. पायल की तरफ मुँह कर के मैने उसे अपनी बाहों में खींचा ऑर उसके होंठो पर किस करते हुए बोली,

आज तो तुझे तेरे भाई ने ही रगड़ दिया यार.

पायल शरमाते हुए: हां भाभी शायद वो आपके चक्कर में मुझे पकड़ बैठे थे ऑर यही समझे कि ये में नही आप हो.

में: वैसे बड़े ज़ोर ज़ोर से मसल रहा था तेरे कंवारे बूब्स को.
मैने उसके बूब्स पर उसके टॉप के ऊपर से हाथ फेरते हुए कहा. पायल शरमा रही थी.

पायल : भाभी ना करो ना ऐसी बातें.

मैने धीरे से पायल के टॉप को नीचे सरकाया ऑर उसके बूब को बाहर निकाल लिया. पायल की खूबसूरत सुडोल ब्रेस्ट मेरे सामने थी.मैने उसके निपल के ऊपर आहिस्ता आहिस्ता उंगली फेरनी शुरू कर दी.

पायल : भाभी ना करो भैया आ जाएँगे अभी.

मैने उसकी बात अन सुनी करते हुए उसके निपल को अपने मुँह में लिया ऑर आहिस्ता आहिस्ता उसे चूसने लगी. धीरे धीरे उसके निपल्स को काटा तो पायल के होंठो से सिसकारियाँ निकलने लगीं. मैने एक हाथ उसकी थाइस पर फेरते हुए नीचे उसके बेरमूडे मे ले जा कर उसकी चूत पर रख दिया. पायल ने फॉरन ही मेरा हाथ अपनी थाइस के बीच दबा लिया.

मैने पायल की चूत के लिप्स को आहिस्ता आहिस्ता सहलाना शुरू कर दिया जैसे ही मेरी उंगली की टिप उसकी कंवारी चूत के सूराख से टच हुई तो मुझे उस में से निकलते हुए चिकने पानी का अहसास हुआ. में समझ चुकी थी कि पायल की चूत गीली हो चुकी है ऑर वो पूरी तरह से गरम हो रही है.

थोड़ा सा ज़ोर लगाते हुए मैने अपनी उंगली की टिप पायल की चूत के सूराख के अंदर दाखिल की तो पायल ने एक तेज सिसकारी के साथ अपनी दोनो थाइस खोल दी. मैने अपनी उंगली की सिर्फ़ टिप को पायल की चूत के
अंदर बाहर हरकत देनी शुरू कर दी. पायल तड़पने लगी ऑर अपने जिस्म को मेरे साथ भींच दिया.

पायल सिसकी: भाभिईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स पूरी उंगली अंदर डालूऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊ प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़

मैने उसके गालों को आहिस्ता आहिस्ता चूमा ऑर उसके गालों पर अपनी ज़ुबान फेरते हुए बोली,

मेरी जान तुम्हें इस उंगली की नही इस चूत में एक मोटे लंड की ज़रूरत है.

पायल : (बंद आँखों के साथ) सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स नहीईईईईईईईईईईईईई भाभीईईईईईईईईईईईईईईईईई कुछ करूऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊओ

पायल अपनी चूत को मेरी उंगली पर आगे पीछे कर रही थी ऑर मेरी उंगली को अपनी चूत में पूरा लेने के लिए तड़प रही थी लेकिन में अपनी उंगली को आगे नही कर रही थी.

में: डार्लिंग तेरी चूत की प्यास तो सिर्फ़ तेरे भैया का लंड ही बुझा सकता है............... म्म्म्मीमममममममममममममम............... ले ले उसका लंड अपनी चूत में ऑर बुझा ले अपनी कंवारी चूत की प्यास....................................

पायल : नहीईईईईईईईईई भाभिईीईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई ये कैसे हो सकता हाईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईहाआआआआआआआआअहह

अभी हम कुछ ऑर भी करती लेकिन बाहर टीवी बंद हुआ ऑर फिर दरवाज़ा खुल गया बेडरूम का ऑर राज अंदर आ गया . मैने आहिस्ता से पायल से कहा बस अब मत बोलना ऑर सोती रहना बस तुम.

पायल ने एक नज़र मेरी तरफ देखा ऑर फिर अपनी आँखे बंद कर लीं. मैने उसके बूब को उसकी शर्ट के अंदर भी नही किया था ऑर वैसे ही उसका एक बूब बाहर था उसकी शर्ट से जैसे सोते में निकल आया हो. मैने अपना हाथ उसकी चूत से पीछे ज़रूर कर लिया था लेकिन अभी भी मेरा हाथ उसके पेट पर ही था.


दरवाज़ा बंद कर के राज अंदर आया तो दोबारा से कमरे में अंधेरा हो गया. राज ने अपने मोबाइल की छोटी सी टॉर्च ऑन की ऑर बेड की तरफ आने लगा. जैसे ही उस ने टॉर्च की रोशनी बेड पर हमारे जिस्म पर डाली अपने लिए जगह देखने के लिए तो उसकी नज़र अपनी बहन के नेक्ड बूब पर पड़ी जो कि उसकी शर्ट से बाहर निकला हुआ था ऑर बिल्कुल सॉफ नज़र आ रहा था. एक लम्हे के लिए तो राज के पैर अपनी जगह पर ही थम गये ऑर फिर उस ने मेरे ऑर पायल के चेहरे पर नज़र डाली ताकि देख सके कि हम दोनो सो रही हैं या कि जाग रही हैं.


राज की तरफ मेरी बॅक थी जबकि उसकी अपनी बहन का रुख़ मेरी ऑर राज की तरफ था. राज चलता हुआ बेड की दूसरी तरफ आया ऑर मैने थोड़ी सी आँखे खोल कर देखा तो उस ने अपना हाथ अपने लंड पर रखा हुआ था जो कि पूरी तरह से सख़्त हो रहा था. अपनी मुट्ठी में अपने लंड को ले कर वो आहिस्ता आहिस्ता आगे पीछे कर रहा था ऑर उसकी नज़र अपनी बहन के ऊपर ही थी.


राज: पायल ............... जान...........................सो गई दोनो ही क्या तुम इतनी जल्दी


राज ने हम दोनो को चेक करने के लिए आवाज़ें दी ऑर फिर आहिस्ता से बेड पर पायल के पीछे लेट गया. अपनी सग़ी बहन को इस हालत में नंगी देखने के बाद उसे नींद कहाँ आनी थी. अपनी बहन के पीछे लेट कर कोहनी के बल उठा ऑर टॉर्च की रोशनी पायल के बूब पर डालने लगा. कुछ मेरे सक करने ओर कुछ अपने भाई के सामने एक्सपोज़ होने के अहसास से पायल का निपल पूरी तरह से अकडा हुआ था.

उस अंधेरे में मैं देख रही थी कि राज ने थोड़ा सा झुक कर अपने लिप्स अपनी बहन के नंगे शोल्डर्स पर रखे ऑर आहिस्ता से उसे चूम लिया ऑर फॉरन ही पीछे हट गया. लेकिन जब कुछ देर तक पायल की तरफ से कोई रेस्पॉन्स नही आया तो उसकी हिम्मत बढ़ी ऑर उसे यक़ीन हो गया कि वो सो रही है.


राज ने दोबारा से अपने प्यासे होंठ पायल के नंगे मुलायम शोल्डर्स पर रखे ऑर फिर आहिस्ता आहिस्ता उसे चूमने लगा. उसकी नज़र अब भी पायल के नंगे बूब पर ही थी. राज का एक हाथ उसकी बाज़ू को सहला रहा था ऑर फिर वोही हाथ आहिस्ता आहिस्ता सरकता हुआ नीचे को उसके नंगे बूब की तरफ बढ़ ने लगा. ऑर फिर मेरी नज़रों ने वो मंज़र देख लिया जिसके लिए में इतना इंतजार कर रही थी. राज का हाथ अपनी बहन की नंगी ब्रेस्ट पर पहुँच गया.

राज ने अपनी बहन की नंगी छाती को आहिस्ता आहिस्ता अपने हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. उसकी उंगली पायल के निपल से टच होने लगी. थोड़ा सा आगे को झुक कर राज ने अपने होंठ पायल के गाल पर रखे ऑर उसे आहिस्ता आहिस्ता चूमने लगा. पायल के चेहरे के भाव भी मेरी आँखों के सामने थे. उस से बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था. आख़िर जब उस से कंट्रोल ना हो सका तो उस ने बंद आँखों के साथ ही करवट बदली ऑर सीधी हो गई. राज ने फॉरन ही अपना हाथ हटा लिया उसके बूब से ऑर पायल ने भी जैसे नींद में ही होते हुए अपने टॉप को अड्जस्ट किया ऑर अपनी ब्रेस्ट को अपने टॉप के अंदर कर लिया. राज सीधा हो कर लेट चुका था.


लेकिन ज़ाहिर है कि ज़ायदा देर तक रुकने वाला वो भी नही था. चन्द लम्हे ही इंतज़ार करने के बाद उस ने दोबारा से अपना हाथ पायल के बूब के ऊपर रख दिया ऑर कुछ पल बाद दोबारा से उसे सहलाने लगा. आहिस्ता आहिस्ता उस ने दोबारा से अपनी बहन के टॉप को नीचे खींचा ऑर फिर अपनी सग़ी छोटी बहन की कंवारी ब्रेस्ट को बाहर निकाल लिया. उसने पायल की तरफ ही करवट ली हुई थी ऑर यक़ीनन उस का लंड अपनी बहन की थाइ से टकरा रहा था. पायल की ब्रेस्ट एक बार फिर से राज की नज़रों के सामने नंगी थी. राज वहीं पर नही रुका ऑर फिर दूसरी ब्रेस्ट को भी बाहर निकाल लिया. वो कमरे में हो रहे अंधेरे का पूरा पूरा फ़ायदा उठा रहा था ऑर अपने मोबाइल की टॉर्च से पायल के नंगे जिस्म को देख रहा था. ऑर दूसरी तरफ पायल भी खामोशी से पड़ी हुई थी. उसका बाज़ू उसकी साइड पर सीधा था मेरे बिल्कुल पास ऑर उस ने मेरा हाथ थाम रखा था ऑर जैसे जैसे राज पायल के नंगे बूब्स पर हाथ फेर रहा था वैसे वैसे ही पायल मेरे हाथ को ज़ोर से दबा रही थी जिस से मुझे उसकी हालत का अंदाज़ा हो रहा था. में भी उसके हाथ को आहिस्ता आहिस्ता दबाते हुए उसे होसला दे रही थी कि वो चुप रहे.


राज थोड़ा उँचा हो कर पायल के सीने पर झुका ऑर उसकी नंगी ब्रेस्ट को चूम लिया. पायल खामोश रही तो राज ने अपनी ज़ुबान बाहर निकाली ऑर पायल की ब्रेस्ट के गुलाबी निपल को अपनी ज़ुबान की नौक से छूने लगा. पायल के जिस्म में एक झुरजुरी सी दौड़ गई. राज आहिस्ता आहिस्ता अपनी बहन के निपल को अपनी ज़ुबान से सहला रहा था ऑर उसे छेड़ रहा था कुछ देर तक अपनी ज़ुबान से पायल के निपल के साथ खेलने के बाद राज ने पायल के पिंक निपल को अपने होंठो के बीच लिया ऑर आहिस्ता आहिस्ता उसे चूसने लगा.

दूसरा हाथ उसका पायल के नंगे पेट से होता हुआ उसके बेरमूडे के ऊपर से उसकी चूत पर आ गया ऑर मुझे उसके हाथो की हरकत नज़र आने लगी. साथ ही पायल के हाथ की ग्रिफ्त भी सख़्त हो गई मेरे हाथ पर. मुझे राज का हाथ हरकत करता हुआ नज़र आ रहा था ऑर मुझे ये भी पता था कि जब राज मेरी चूत पर इसी तरह से मेरी शलवार के ऊपर से सहलाता है तो कितना मज़ा आता है. मुझे पायल की हालत का अंदाज़ा भी हो रहा था कि बेचारी कंवारी चूत कंवारी लड़की कितनी मुश्किल से ये सब बर्दाश्त कर रही हो गी.



राज ने अपनी बहन के निपल को चूस्ते हुए आहिस्ता आहिस्ता अपना हाथ पायल के बरमूडे के अंदर डालने की कोशिश की ऑर उसका हाथ उसके बरमूडे की इलास्टिक के नीचे सरकता हुआ अंदर दाखिल हुआ ऑर जैसे ही उसका हाथ पायल की चूत से टच हुआ तो पायल की बर्दाश्त ख़तम हो गई ऑर फॉरन ही उस ने अपना हाथ उठा कर राज के हाथ पर रख दिया ऑर साथ ही सिसक पड़ी

पायल : नही भैय्ाआआआआआआआआअ प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़

पायल ने बहुत ही धीमी आवाज़ से कहा तो राज तो जैसे एक लम्हे के लिए साकित ही हो गया कि ये क्या हुआ कि उसकी बहन जाग गई है ऑर उस ने अपने भाई के हाथ को अपनी चूत पर पकड़ लिया है. राज के मुँह से पायल का निपल सरक चुका था लेकिन उसके होंठ अभी भी उसके निपल्स से टच कर रहे थे. राज को महसूस हुआ की अब वापसी का रास्ता नही है.

चन्द लम्हे बाद राज ने अपना हाथ पायल के हाथ से छुडवाए बिना ही आहिस्ता आहिस्ता हिलाते हुए पायल की चूत को सहलाना शुरू कर दिया.

पायल : नही भाईया प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ ऐसा नही करूऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊऊसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्साआआआआआआआहह

राज ने दोबारा से अपनी बहन के नंगे निपल को अपने होंठो के बीच लिया ऑर उसे चूस्ते हुए धीरे से बोला,

राज: श्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह खामोश रहो बुसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स

राज के होंठ दोबारा से अपनी बहन के निपल को चूसने लगे ऑर उसके हाथ की उंगली शायद उसकी चूत से खेल रही थी ऑर शायद उसकी चूत के सूराख पर भी क़ब्ज़ा जमा चुकी थी. क्योंकि पायल के हाथ की ग्रिफ्त मेरे हाथ पर सख़्त होती जा रही थी. में भी उसके हाथ को आहिस्ता आहिस्ता सहलाते हुए उसे होसला दे रही थी.

राज ने जैसे ही अपनी उंगली उसकी चूत के अंदर सरकाई तो पायल तड़प उठी

पायल : उउउउउउउउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ भैय्ाआआआआआआआ नहीईईईईईईईईईईई प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़ भाभीईईईईईईईईईईईईईई

राज: खामोश रहो तुम्हारी भाभी ना उठ जाए कहीं.

राज ने अपनी उंगली पायल की चूत से बाहर निकाली ऑर उसे पायल के बरमूडे से बाहर निकाल कर अपने मुँह में डाला ऑर अपनी बहन की चूत के पानी को चाट ने लगा. पायल ने अपनी आँखे अभी भी बंद ही की हुई थी लेकिन अब राज को इस से गरज नही थी कि उसकी बहन की आँखे खुली हैं कि बंद क्योंकि उसे पता था कि वो जाग रही है.


राज: पायल यू आर सो स्वेअटततटटटटटटटटटटटटटटटटटटटतत्त. बहुत मीठा है तेरा पानी.

पायल : भैया प्लीज़ छोड़ दें मुझे ये ठीक नही है म्म्म्मकममममममममममममममस्स्स्साआआआआआआआआआआआआआआआआअ


राज ने कुछ कहे बिना ही थोड़ा सा ऊपर हो कर अपनेहोंठ पायल के होंठो के ऊपर रख दिए ऑर उसे चूमने लगा. पायल अपने होंठो को छुड़ाने की कोशिश कर रही थी ऑर मज़ाहीमत करते हुए अपने होंठो को पीछे हटा रही थी. लेकिन राज ने अपना एक हाथ पायल की नंगी ब्रेस्ट पर रखा ऑर ऊपर पायल के होंठो को अपने होंठो में जकड लिया ऑर उसे चूसने लगा. पायल का बुरा हाल हो रहा था. वो ये भी नही चाह रही थी कि उसके भैया पर मेरी हालत खुले ऑर उसके भाई को पता चले कि में भी जाग रही हूँ ऑर इस सूरत ए हाल से वाक़िफ़ हूँ जो कुछ उन्दोनो बहन भाई के बीच हो रहा है.


Raj ne use or bhi jakadate hue, uski kamar ko apne jism ke sath chipkaya or uske boobs ko masalte hue uski gardan par apne lips rakh kar choomte hue bola, darling pakadi gai ho na ab nikal kar dikhaao. bus ab Payal rah gai hai abhi iske baad use pakad loon ga to jeet jaaoo ga men. Raj ne ahista ahista uski gardan ko choomna shuru kar diya or shayad Payal ke nipples ko bhi masal raha tha apni ungleoon men.


Men Raj ke thoda qareeb gai uske peeche se or bina uske jism ko chooy hue uska ek hath pakad kar neeche ko kheencha aise ke Payal ko andhere men pata hi nahi chal paya or Raj samajha ke ye men hun jo uski grift men hoon or uska hath neeche le jaa rahi hoon. maine Raj ka hath Payal ke bermuda ke oopar se uski choot par rakh diya. Raj bola, badi masti soojh rahi hai tujhe darling is baarish men. or ye kah kar us ne Payal ki choot ko ragadna shuru kar diya uski pante ke oopar se.

ek baat thi ke ye to mumkin nahi tha ke Raj ko mere or Payal ke jism ke farq ka ahsaas na hua ho lekin agar use pata chal bhi gaya tha to ab wo is andhere or game ka faida uthaate hue apni bahan ke jism ke maze lena chah raha tha or men bhi use distrub nahi karna chah rahi thi.

ab Raj ne apna hath Payal ki pante ke ilastic se andar daala or apna hath uski nangi choot par rakh diya or use ahista ahista dabaane laga. Raj ki is harkat ki wajah se Payal or bhi pareshaan ho gai use nahi pata tha ke men ye sab dekh rahi hoon lekin phir bhi use dar tha ke kahin men na dekh loon. Raj ne apni kanwaari bahan ki choot ko achhe se ragda or isi wajah se uski grift dheeli hui to Payal foran hi phisal gai uski bahon se or door ho kar boli, bus bhabhi ab game khatam. men muskaraai or uski taraf badhi, itne men light bhi aa gai . maine dekha ke Payal ki halat kharab ho rahi thi. uska saans phool raha tha or uske boobs bhi oopar neeche ho rahe the tezi ke sath. Raj ne bhi apni aankhon par bandha dupatta khol da or phir hum dono ki taraf hairat se dekhne laga. maine kaha Raj ab to baarish bhi khatam ho gai hai chalo andar hi chalte hain. Payal bhi apne jism ko chupaati hui andar aa gai .



men or Raj dono ek sath hi bathroom amin ghus gaye nahane ke liye or oonchi awaaz men maste aan karte hue nahaane lage. saari awaazain bahar jaa rahi thi Payal tak. thodi der men Payal ne knock kya or boli, nikal bhi aao aap log bhabhi mujhe bhi nahaana hai. maine thoda sa darwaaza khola or boli, darling ajao tum bhi hamare saath hi nahaa lo. Payal boli, g nahi shukareaa aap logo ka.hum dono hi andar hansane lage.


kuch der men Payal ne bhi naha liya or hum dono ne phir se wohi night-shirt pahan li bina brassier ke or is baar bina mere kahe hi Payal ne wo shirt bina bra ke pahani or bade aaram se apne bhai ke saamne aa gai . wo or bhi jyaada ghabraa rahi thi ab Raj ke saamne kyonki aaj uska bhai uske nange boobs or choot ko bhi masal chuka tha. raat ka khaane khaate hue bhi Raj apni bahan ke boobs ko bhi dekhna chah raha tha or wo un ko apne bhai ki nazroon se chupaa rahi thi, sharam se nahi balki apne bhaiya ko taise karne ke liye. ab mujhe raat ka intzaar tha ke raat ko kya ho ga kyonki ab to Raj or bhi khul gaya hua tha or raat bhi poori baaqi thi.

Dinner ke baad abhi Raj TV par koi news show dekh raha tha ke maine Payal ka haath pakada or use bedroom men le aai. or lights off kar ke dono bed par let gaye. maine Payal ko beech menahi litaya tha. Payal ko ki taraf munh kar ke maine use apni bahon men kheencha or uske honthopar kiss karte hue boli,

Aaj to tujhe tere bhai ne hi ragad diya yaar.

Payal sharmaate hue: haan bhabhi shayad wo aapke chakkar men mujhe pakad baithe the or yahi samajhy ke ye men nahi aap ho.

Men: waise bade zor zor se masal raha tha tere kanwaare boobs ko.
maine uske boobs par uske top ke oopar se haath pherate hue kaha. Payal sharmaa rahi thi.

Payal : bhabhi na karo na aisi baten.

Maine dheere se Payal ke top ko neeche sarakaya or uske boob ko bahar nikaal liya. Payal ki khoobsoorat sudol breast mere saamne thi.maine uske nipple ke oopar ahista ahista ungli pherni shuru kar di.

Payal : bhabhi na karo bhaiya aajain gaye abhi.

Maine uski baat un suni karte hue uske nipple ko apne munh men liya or ahista ahista use choosne lagi. dheere dheere uske nipples ko kaata to Payal ke hontho se siskaarean nikalne lagin. maine ek haath uski thighs par pherate hue neeche uske bermude ain le jaa kar uski choot par rakh diya. Payal ne foran hi mera haath apni thighs ke beech daba liya.

maine Payal ki choot ke lips ko ahista ahista sahlaana shuru kar diya jaise hi meri ungli ki tip uski kanwari choot ke soorakh se touch hui to mujhe us men se nikalte hue chikne paani ka ahsaas hua. men samajh chuki thi ke Payal ki choot geeli ho chuki hai or wo poori tarah se garam ho rahi hai.

Thoda sa zor lagaate hue maine apni ungli ki tip Payal ki choot ke soorakh ke andar daakhil ki to Payal ne ek tej siskaari ke saath apni dono thighs khol din. maine apni ungli ki sirf tip ko Payal ki choot ke
andar bahar harkat deni shuru kar di. Payal tadapne lagi or apne jism ko mere sath bheench diya.

Payal siski: bhabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii sssssssssssssssssssssssss poori ungli andar daaloooooooooooooooooooooooooooooooooooooooooo plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz

Maine uske gaalon ko ahista ahista chooma or uske gaalon par api zubaan pherate hue boli,

meri jaan tumhen is ungli ki nahi is choot men ek moote lund ki zaroorat hai.

Payal : (band aankhon ke sath) sssssssssssssssssssssssssssssssss naheeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee bhabheeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee kuch karooooooooooooooooooooooooooooooooooo

Payal apni choot ko meri ungli par aage peeche kar rahi thi or meri ungli ko apni choot men poora lene ke liye tadap rahi thi lekin men apni ungli ko aage nahi kar rahi thi.

Men: darling teri choot ki pyaas to sirf tere bhaiya ka lund hi bujhaa sakta hai............... mmmmmmmmmmmmmmmmmm............... le le uska lund apni choot men or bujhaa le apni kanwari choot ki pyaas....................................

Payal : Naheeeeeeeeeeeeeeeeeeeee bhabhiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiieeeeeeeeeeeeeee ye kaise ho sakta haiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiihaaaaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh

abhi hum kuch or bhi karti lekin bahar TV band hua or phir darwaza khul gaya bedroom ka or Raj andar aa gaya . maine ahista se Payal se kaha bus ab mat bolna or soti rahna bus tum.

Payal ne ek nazar meri taraf dekha or phir apni aankhe band kar lin. maine uske boob ko uski shirt ke andar bhi nahi kya tha or waise hi uska ek boob bahar tha uski shirt se jaise sote men nikal aya ho. maine apna hath uski choot se peeche zaroor kar liya tha lekin abhi bhi mera haath uske pet par hi tha.


Darwaza band kar ke Raj andar aya to dobara se kamare men andhera ho gaya. Raj ne apne mobili ki choti si torch on ki or bed ki taraf aane laga. jaise hi us ne torch ki roshni bed par hamare jism par daali apne liye jagah dekhne ke liye to uski nazar apni bahan ke naked boob par padi jo ke uski shirt se bahar nikala hua tha or bilkul saaf nazar aa raha tha. ek lamhay ke liye to Raj ke pair apni jagah par hi tham gaye or phir us ne mere or Payal ke chehare par nazar daali taki dekh sake ke hum dono so rahi hain ya ke jaag rahi hain.


Raj ki taraf meri back thi jabke uski apni bahan ka rukh meri or Raj ki taraf tha. Raj chalta hua bed ki doosri taraf aya or maine thodi si aankhe khol kar dekha to us ne apna haath apne lund par rakha hua tha jo ke poori tarah se sakht ho raha tha. apni mutthi men apne lund ko le kar wo ahista ahista aage peeche kar raha tha or uski nazar apni bahan ke oopar hi thi.


Raj: Payal ............... Jaan...........................so gai dono hi kya tum itni jaldi


Raj ne hum dono ko check karne ke liye awaazen din or phir ahista se bed par Payal ke peeche let gaya. apni sagi bahan ko is halat men nangi dekhne ke baad use neend kaha aani thi. apni bahan ke peeche let kar kohni ke bal utha or torch ki roshni Payal ke boob par daalne laga. kuch mere suck karne or kuch apne bhai ke saamne expose hone ke ahsaas se Payal ka nipple poori tarah se akara hua tha.

Us andhere men men dekh rahi thi ke Raj ne thoda sa jhuk kar apne lips apni bahan ke naked shoulders par rakhe or ahista se use choom liya or foran hi peeche hat gaya. lekin jab kuch der tak Payal ki taraf se koi response nahi aya to uski himmat badhi or use yaqeen ho gaya ke wo so rahi hai.


Raj ne dobara se apne pyaase honth Payal ke nange mulaayam shoulders par rakhe or phir ahista ahista use choomne laga. uski nazar ab bhi Payal ke nange boob par hi thi. Raj ka ek haatah uski baazoo ko sahlaa raha tha or phir wohi haath ahista ahista sarakta hua neeche ko uske nange boob ki taraf badh ne laga. or phir meri nazron ne wo manzar dekh liya jiske liye men itna intzaar kar rahi thi. Raj ka haath apni bahan ki naked breast par pahunch gaya.

Raj ne apni bahan ki nangi chaati ko ahista ahista apne hath se sahlaana shuru kar diya. uski ungli Payal ke nipple se touch hone lagi. thoda sa aage ko jhuk kar Raj ne apne honth Payal ke gaal par rakhe or use ahista ahista choomne laga. Payal ke chehare ke tasuraat bhi meri aankhon ke saamne the. us se bardasht karna mushkil ho raha tha. aakhir jab us se control na ho saka to us ne band aankhon ke saath hi karwat badli or seedhi ho gai. Raj ne foran hi apna hath hata liya uske boob se or Payal ne bhi jaise neend men hi hote hue apne top ko adjust kya or apni breast ko apne top ke andar kar liya. Raj seedha ho kar let chuka tha.


Lekin zahir hai ke zaida der tak rukne wala wo bhi nahi tha. chand lamhe hi intzaar karne ke baad us ne dobara se apna hath Payal ke boob ke oopar rakh diya or kuch pal baad dobara se use sahlaane laga. ahista ashita us ne dobara se apni bahan ke top ko neeche kheencha or phir apni sagi choti bahan ki kanwari breast ko bahar nikaal liya. usne Payal ki taraf hi karwat li hui thi or yaqeenan us ka lund apni bahan ki thigh se takaraa raha tha. Payal ki breast ek baar phir se Raj ki nazron ke saamne nangi thi. Raj wahin par nahi ruka or phir doosri breast ko bhi bahar nikaal liya. wo kamare men ho rahe andhere ka poora poora faida uthaa raha tha or apne mobile ki torch se Payal ke nange jism ko dekh raha tha. or doosri taraf Payal bhi khamoshi se padi hui thi. uske bazoo uski side par seedha tha mere bilkul paas or us ne mera hath thaam rakha tha or jaise jaise Raj Payal ke naked boobs par hath pher raha tha waise waise hi Payal mere hath ko zor se daba rahi thi jis se mujhe uski halat ka andaza ho raha tha. men bhi uske haath ko ahista ahista dabate hue use hosla de rahi thi ke wo chup rahe.


Raj thoda oounch ho kar Payal ke seene par jhuka or uski naked breast ko choom liya. Payal khaamosh rahi to Raj ne apni zubaan bahar nikaali or Payal ki breast ke gulaabi nipple ko apni zubaan ki nouk se choone lage. Payal ke jism men ek jhurjhui si doud gai. Raj ahista ahista apni bahan ke nipple ko apni zubaan se sahlaa raha tha or use chair raha tha kuch der tak apni zubaan se Payal ke nipple ke saath khelne ke baad Raj ne Payal ke pink nipple ko apne hontho ke beech liya or ahista ahista use choosne laga.

doosra haath uska Payal ke nange pet se hota hua uske bermude ke oopar se uski choot par aa gaya or mujhe uske haathun ki harkat nazar aane lagi. saath hi Payal ke hath ki grift bhi sakht ho gai mere haath par. mujhe Raj ka haath harkat karta hua nazar aa raha tha or mujhe ye bhi pata tha ke jab Raj meri choot par isi tarah se meri shalwaar ke oopar se sahlaata hai to kitna maza aata hai. mujhe Payal ki halat ka andaza bhi ho raha tha ke bechaari kanwaari choot kanwari ladki kitni mushkil se ye sab bardasht kar rahi ho gi.



Raj ne apni bahan ke nipple ko chooste hue ahista ahista apna haath Payal ke bermude ke andar daalne ki koshish ki or uska haath uske bermude ke ilaastic ke neeche sarakta hua andar daakhil hua or jaise hi uska haath Payal ki choot se touch hua to Payal ki bardasht khatam ho gai or foran hi us ne apna haath uthaa kar Raj ke haath par rakh diya or sath hi sisak padi

Payal : nahi bhaiyaaaaaaaaaaaaaaaaaaa plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz

Payal ne bahut hi dheemi awaaz se kaha to Raj to jaise ek lamhe ke liye saakit hi ho gaya ke ye kya hua ke uski bahan jaag gai hai or us ne apne bhai ke haath ko apni choot par pakad liya hai. Raj ke munh se Payal ka nipple sarak chuka tha lekin uske honth abhi bhi uske nipples se touch kar rahe the. Raj ko mahsoos hua ke ab wapsi ka raasta nahi hai.

chand lamhe baad Raj ne apna haath Paayal ke haath se chudway bina hi ahista ahista hilaate hue Payal ki choot ko sahlaana shuru kar diya.

Payal : nahi bhayia plzzzzzzzzzzzzzz aisa nahi karoooooooooooooooooooooooooooooooooooossssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssssaaaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh

Raj ne dobara se apni bahan ke nange nipple ko apne hontho ke beech liya or use chooste hue dheere se bola,

Raj: shhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh khamosh raho bussssssssssssssssssssssssssss

Raj ke honth dobara se apni bahan ke nipple ko choosne lgaye or uske haath ki ungli shayad uski choot se khel rahi thi or shayad uski choot ke soorakh par bhi qabza jama chuki thi. kyonki Payal ke haath ki grift mere haath par sakht hoti jaa rahi thi. men bhi uske haath ko ahista ahista sahlaate hue use hosla de rahi thi.

Raj ne jaise hi apni ungli uski choot ke andar sarakaai to Payal tadap uthi

Payal : uuuuuuuuuuuuffffffffffffffffffff bhaiyaaaaaaaaaaaaaaaa naheeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz bhabheeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeeee

Raj: khamosh rho tumhari bhabhi na uth jaaye kahin.

Raj ne apni ungli Payal ki choot se bahar nikaali or use Payal ke bermude se bahar nikaal kar apne munh men daala or apni bahan ki choot ke paani ko chaat ne laga. Payal ne apni aankhe abhi bhi band hi ki hui thi lekin ab Raj ko is se gharz nahi thi ke uski bahan ki aankhe khuli hain ke band kyonki use pata tha ke wo jaag rahi hai.


Raj: Payal u are so sweattttttttttttttttttttttttt. bahut meetha hai tera paani.

Payal : Bhaiya plz chod den mujhe ye theek nahi hai mmmmmmmmmmmmmmmmmmssssaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa


Raj ne kuch kahe bina hi thoda sa oopar ho kar apnehonth Payal ke hontho ke oopar rakh diye or use choomne laga. Payal apne hontho ko churaane ki koshish kar rahi thi or mazahimat karte hue apne hontho ko peeche hata rahi thi. lekin Raj ne apna ek haath Paayal ki nangi breast par rakha or oopar Payal ke honth ko apne hontho men jakar liya or use choosne laga. Payal ka bura haal ho raha tha. wo ye bhi nahi chah rahi thi ke uske bhaiya par meri halat khule or uske bhai ko pata chale ke men bhi jaag rahi hoon or is soorat e haal se waqif hoon jo kuch undono bahan bhai ke beech ho raha hai.

Post Reply