घर के रसीले आम मेरे नाम complete

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
vnraj
Novice User
Posts: 74
Joined: 01 Aug 2016 21:16
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby vnraj » 09 Jan 2017 22:46

जल्दी से लममममममममबाआआआआआ अपडेट दे दीजिए
User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6324
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby rajaarkey » 10 Jan 2017 19:14

Sorry dosto update me 1-2 din ka time lagega
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
Kamini
Expert Member
Posts: 232
Joined: 12 Jan 2017 13:15
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby Kamini » 12 Jan 2017 14:03

Raj ji plz update
User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6324
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby rajaarkey » 12 Jan 2017 15:52

Kamini wrote:Raj ji plz update


Shukriya update abhi de raha hun
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6324
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby rajaarkey » 12 Jan 2017 15:55

रश्मि से बर्दाश्त करना मुश्किल होजाता है आवर उसे लगता है कि वह अपने भैया से अभी चिपक कर लिपट जाए . राज लगातार अपनी ख़ूबसूरत बहन के ख़ूबसूरत जिस्म को सहलाता हुआ अपने हाथ को रश्मि की कमर पर लेजा कर जब अपने हाथ को रश्मि की मोटी गदराई गांड पर ले जाता है और उसकी मोटी गांड को स्कर्ट के ऊपर से अपने हाथ में भरता है तो उसको एक दम झटका लगता है क्योंकि उसे ऐसा महसूस होता है कि रश्मि ने अंदर पैंटी नहीं पहनी है और जैसे ही वह रश्मि कि जांघो से उसकी स्कर्ट को ऊपर करके उसकी स्कर्ट के अंदर हाथ डाल कर उसकी मोटी गांड पर हाथ ले जाता है तो उसके दिल कि धड़कन एक दम से ठहर जाती हैं और उसके हाथ में उसकी बहन कि भारी भारी नंगे चूतड़ आ जाते हैं और वह पागलों की तरह अपनी बहन की मोटी गांड को अपने हाथों से सहलाने लगता हैं और जब वह अपने हाथ को रस्मी की भारी गांड के दोनों पाटों के बीच उसकी गुदा में फेरता है तो वह मस्त हो जाता है और रश्मि आनंद के सागर में गोते लगाने लगती है . राज का हाथ अपनी बहन के मोटे मोटे चूतड़ो को चीरते हुए उसकी गांड के छेद में पहुँच जाता है और फिर वह धीरे धीरे रश्मि की गांड के छेद को अपनी उँगलियों से सहलाता हुआ उसके रसीले होंठों को चूसने लगता है

धीरे राज रश्मि की मोटी गांड के छेद को सहलाते हुए अपने हाथ को रश्मि की चूत पर ले जाता है और रश्मि एकदम अंगड़ाई लेने का बहाना करके सीधी हो जाती है और उस समय राज की जान जैसे हलक में आ जाती है . और वह एकदम रश्मि से दूर होकर उसे छोड़ देता है और तभी उसकी नजर रश्मि की गदराई मोटी मोटी जांघो पर पड़ती है और वह अपनी बहन की मोटी मोटी जांघो को देख कर पागल हो जाता है और उसका लंड खड़ा हो जाता है राज जल्दी से उठ कर रश्मि के पैरों की ओर आ जाता है और धीरे से रश्मि की स्कर्ट को जैसे ही वह ऊपर की ओर उठाता है तो अपनी बहन की बिना बालों वाली और पाव रोटी की तरह फूली हुई चूत को देख कर राज के मुंह में पानी आ जाता है

रश्मि धीरे से अपनी आँखे खोल कर अपने भैया को देखती है जोकि अपनी बहन की फूली हुई चूत को आँखे फाड़े देख रहा था रश्मि को राज का चेहरा देख कर थोड़ी हंसी आ जाती है और वह अपनी आँखे फिर से बंद कर लेती है और मन ही मन सोचती है हाई भैया आज पहली बार अपनी बहन की जांघो के बीच चिपकी फूली हुई चूत देख कर ही तुम्हारे चेहरे का रंग उड़ गया है अगर मैं अपनी दोनों मोटी मोटी जांघो को फैलाकर अपना मस्ताना भोसड़ा दिखा दूंगी तो आप पागल हो जाएंगे अब देख लो अपनी बहन की गदराई चूत को . क्या कहते हो है ना आपके मोटे लंड के लायक . भैया एकबार अपना मोटा लंड घुसा दो न अपनी बहन की गदराई चूत में . आपका पूरा लंड न खा लिया एक ही झटके में तो कहना



Rashmi se bardast karna muskil ho jata hai aur use lagta hai ki vah apne bhaiya se abhi kas kar chipak jaye, Raj lagatar apni khubsurat bahan ke khubsurat jism ko sahlata hua apne hath ko Rashmi ki kamar par lejakar jab apne hath ko Rashmi ki moti gadaraai gaanD par le jata hai aur uski moti gaanD ko skirt ke upar se apne hantho men bharta hai to usko ek dam jhatka lagta hai kyoki use aisa mehsus hota hai ki Rashmi ne andar penty nahi pahni hai aur jaise hi vah Rashmi ki jangho se uski skirt ko upar karke uski skirt ke andar hath dal kar uski moti gaanD par hath le jata hai to uske dil ki dhadkan ek dam se thahar jati hai aur uske hath men uski bahan ke bhari-bhari pure nange chutd aa jate hai aur vah pagalo ki tarah apni bahan ki
moti gaanD ko apne hantho se sahlane lagta hai aur jab vah apne hath ko Rashmi ki bhari gaanD ke dono pato ke beech uski guda men pherta hai to vah mast ho jata hai aur Rashmi aanand ke sagar men gote khane lagti hai, Raj ka hath apni bahan ke mote-mote chutdon ko chirte huye uski gaanD ke chhed men pahuch jata hai aur phir vah dhire-dhire Rashmi ki gaanD ke chhed ko apni ungliyo se sahlata hua uske rasile hontho ka ras pine lagta hai ,


dhire-dhire Raj Rashmi ki gaanD ke chhed ko sahlate huye apne hath ko Rashmi ki chut men le jata hai aur Rashmi ek dam se angdai lene ka bahana karke sidhi ho jati hai aur us samay Raj ki to jan jaise uske halak men aa jati hai aur vah ek dam se Rashmi se thoda dur hokar use chod deta hai, tabhi uski najar Rashmi ki gadaraai moti nangi jangho par padti hai aur vah apni bahan ki gori-gori moti jangho ko dekh kar pagal ho jata hai aur uska lund khada ho jata hai, Raj jaldi se uth kar Rashmi ke pero ki aur pahuch jata hai aur dhire se Rashmi ki skirt ko jaise hi vah upar uthata hai apni bahan ki bina balo wali chikni aur pav roti ki tarah phuli hui chut ko dekh kar uske muh men pani aa jata hai, Rashmi dhire se apni aankhe khol kar apne bhaiya ko dekhti hai jo ki uski phuli hui chut ko apni ankhe phade-phade dekh raha tha, Rashmi ko Raj ka chehra dekh kar
thodi hasi aa jati hai aur vah apni aankhe phir se band karti hui apne man men sochti hai hay bhaiya aaj pahli bar apni bahan ki dono jangho ke beech chipki hui phuli chut dekh kar hi tumhare chehre ka rang ud gaya hai agar men apni dono moti-moti jangho ko phailakar apna mastana bhosda aapko dikha dungi to aap to pagal ho jayege, ab dekh lo aaram se apni bahan gadaraai chut ko kya kahte ho hai na aapke mote lund ke layak, ek bar apna mota lund ghusa do meri phuli hui chut men aapka pura lund na kha liya ek hi jhatke men to kahna,
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma
s_bajaj4u
Expert Member
Posts: 264
Joined: 06 Jul 2016 04:23
Contact:

Re: घर के रसीले आम मेरे नाम

Postby s_bajaj4u » 05 Feb 2017 18:02

Superb story bhai mast ekdum mast ja rahi h story
Sanjay Bajaj

Return to “Hindi ( हिन्दी )”

Who is online

Users browsing this forum: Bing [Bot], Google [Bot] and 76 guests