वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6832
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Post by rajaarkey » 12 Nov 2017 12:20


मगर उन सब की किस्मत में कुछ और ही लिखा था.

ऑपरेशन स्टार्ट होने के कुछ देर बाद एक डॉक्टर घबराई हुई हालत में वेटिंग रूम में बैठे ज़ाहिद के पास आया. और बहुत ही अफ़सोसजदा लहजे में बोला “ आइ आम सो सॉरी वी कुड नोट सेव दा मदर आंड बेबी”.

“व्हातत्तटटटटटटटटतत्त आंड हॉवववव” डॉक्टर के मुँह से ये आलम नाक खबर सुन कर ज़ाहिद और बाकी सब लोगो के मुँह से एक साथ ये इलफ़ाज़ एक दम निकल गये.

डॉक्टर ने तफ़सील से बताया कि बड़ी उमर में प्रेगनेंट होने की वजह से प्रेग्नेन्सी के आखरी महीनों रज़िया बीबी के यूटरस (बच्चे दानी) में एक ट्यूमर बन चुका था. जो कि असल में कॅन्सर था.

आज ऑपरेशन के दोरान वो ट्यूमर अचानक फॅट गया. जिस की वजह से रज़िया बीबी के साथ साथ उस के पेट में बने हुए ज़ाहिद के बच्चे की भी डेथ हो गई थी.

ज़ाहिद और शाज़िया के साथ साथ जमशेद और नीलोफर की आँखों से आँसू जारी हो गये. और सब एक दूसरे से गले लग कर फूट फूट कर रोने लगी.

ज़ाहिद और शाज़िया तो अपने दिल में कुछ और ही अरमान सजाए अपनी अम्मी को साथ ले कर हॉस्पिटल आए थे.

मगर वो कहते हैं ना कि “होनी को कौन टाल सकता है.

बिल्कुल इस तरह एक ही लम्हे में ज़ाहिद का खुशी भरा माहौल गम की तस्वीर बन कर रह गया था.

फिर हॉस्पिटल वालों ने अपने पेपर वर्क के बाद रज़िया बीबी और उस के पेट में मुर्दा जनम लेने वाले बच्चे की डेड बॉडी ज़ाहिद के सुपर्द कर दी.

जिसे उसी दिन ज़ाहिद,शाज़िया,नीलोफर और जमशेद ने आहों और सिसकियों के शोर में कब्रिस्तान में दफ़ना दिया.

ज़ाहिद और शाज़िया अपनी अम्मी की यूँ अचानक उन से बिचड जाने पर बहुत ही गम गीन थे.

मगर सबर के अलावा उन के पास कोई चारा नही था.

अपनी अम्मी के इस दुनिया से जाने का शोक मनाने के कुछ दिनो के बाद शाज़िया एक बार फिर अपने शोहर भाई ज़ाहिद के कमरे में शिफ्ट हो गई.

और जमशेद और नीलोफर की तरह ये दोनो बहन भाई भी एक बार फिर सही मियाँ बीवी की हैसियत से दोनो बच्चो के साथ अपने शब-ओ-रोज़ गुज़ारने लगे.

यूँ अल कौसेर होटेल दिना से जनम लेने वाले ज़ाहिद और शाज़िया दोनो बहन भाई के इस जिन्सी किस्से का कुआला लंपुर मॉलेसिया में समापन हो गया.

दा एंड……
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Smoothdad
Gold Member
Posts: 706
Joined: 14 Mar 2016 08:45

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Post by Smoothdad » 12 Nov 2017 15:01

सुपरहिट कहानी है राज भाई

इस कहानी का एंड होने पहले ही एक और फाडू कहानी शुरू करने के लिए धन्यवाद भाई

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 716
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Post by Dolly sharma » 12 Nov 2017 19:03

superb.................story..........................superb.................end

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1049
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Post by Kamini » 12 Nov 2017 23:13

Nice one. ....

pongapandit
Expert Member
Posts: 360
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: वक्त ने बदले रिश्ते ( माँ बनी सास )

Post by pongapandit » 14 Nov 2017 19:35

super hot super erotic incest

Post Reply