नए पड़ोसी

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 19 Nov 2017 01:55

मैंने देखा की काफी लोग वहां खुले आम किस कर रहे है. कई लडकिया तो बिकिनी में नाच रही थी तो मैंने भी दिव्या को पकड़कर किस कर लिया. दिव्या अब एकदम पागल हुई जा रही थी. वो डांस छोड़ कर टेबल पर वापस आ गयी. मैं भी उस लड़के को लेकर उस टेबल पर आ गया. मैं उस लड़के से बात करने लगा. उसने बताया की वो नार्वे से है और अपनी गर्लफ्रेंड के साथ गोवा आने वाला था पर उसकी गर्लफ्रेंड को कुछ काम पड़ गया तो वो अगले हफ्ते आएगी तो फिलहाल वो यहाँ अकेला है और अपनी गर्लफ्रेंड का वेट कर रहा है. उसने अपना नाम सनी बताया. मैंने खाना आर्डर किया और खाने लगे. उसने मेरे बारे में पुछा तो मैंने बताया की हम दोनों पति पत्नी है और गोवा घूमने आये है. उसने मुझसे पुछा की मेरी पत्नी उम्र में मुझसे थोड़ी बड़ी लगती है तो मैंने कहा की हमारी लव मैरिज है और दिव्या की ये दूसरी शादी. दिव्या की सारे शरीर की रगड़ाई करके अब वह खुल गया था और दिव्या भी उससे खुल गई थी.
उसने इंग्लिश में दिव्या से कहा " यू आर अन अमेजिंग लेडी. यू अर वैरी हॉट एंड सेक्सी"
दिव्या के चेहरे पर शर्म से लाली आ गई पर फिर दिव्या बोली "आप भी बहुत सुंदर हो और मैंने आज लाइफ का सबसे सेक्सी डांस किया मुझे बहुत मजा आया." हम दोनों उस लड़के से अच्छी-अच्छी बातें करते खाना खाते खाते हमारी अच्छी दोस्ती हो गई. खाना खत्म होने के बाद जब चलने की बारी आई तो मैंने दिव्या से पुछा की क्यों न सनी को होटल ले चले पर दिव्या बोली की "नहीं. बस डांस तक ठीक था"
वैसे राजेश ने मुझे खुली छूट दे रखी थी. उसने मुझसे कह दिया था की अब अगले १५ दिन दिव्या तुम्हारी प्रॉपर्टी है. मेरा उससे कुछ लेना देना नहीं होगा. जो करना चाहो वो करना पर बस वो मत करना जो अपनी बीवी के साथ नहीं करोगे मत ब उसे किसी तरह को कोई चोट न लगे इसीलिए मेरा बहुत मन होने के बाद भी मैंने सनी को बाय किया और वापस होटल की तरफ चल दिए. रास्ते में बाइक पर मैंने महसूस किया की दिव्या मुझे बार-बार जोर से पकड़ कर मुझसे चिपक रही थी. मैं समझ गया की सैंडविच बन कर डांस करना उसे याद आ रहा है. हम होटल के कमरे में आ गए. कुछ गोवा का माहौल कुछ शराब का नशा और इन सबके ऊपर एक खूबसूरत अजनबी के बीच सैंडविच डांस का मजा दिव्या को पागल कर रहा था.
मैं और दिव्या दोनों ही बहुत एक्साइटेड थे. मैंने आते ही दिव्या की ड्रेस उतार दी और उसने मेरे कपड़े उतार दिए और एक दूसरे को चाटने लगे. अब मैं नीचे लेट गया और दिव्या ने मेरे ऊपर आकर 69 वाला आसन बनाकर मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया और अपनी चूत मेरे मुंह के ऊपर रख दी मैंने चूत में जीभ डालकर उसे जोर जोर से चाटने लगा और दिव्या भी मेरा लंड पूरा मुंह में लेकर जोर जोर से चाटने लगी. उसकी चूत चाटने वजह से बहुत पानी छोड़ रही थी और वह बुरी तरह चुदना चाहती थी पर दिव्या ने मेरा लंड चूसते हुए मेरा पानी निकाल दिया और पूरा पी गयी. मैंने दिव्या से कहा " देखो मेरी बात मान लेती तो मेरा निकलने के बाद भी मस्त चुदाई करवाती रहती"
दिव्या सेक्स में पागल हुई जा रही थी मेरी तरफ देख कर बोली "सही में मजा आ जाता. गलती हो गई. आज तक किसी फिरंगी के साथ किया भी नहीं और वो लड़का तो पूरा माल था. आज साले को चोद डालती."
मैंने दिव्या से पुछा "अब बुला लूं क्या?" दिव्या बोली "अब कहां से आएगा"
मैंने कहा "तुम यह चिंता छोड़ो उसका इंतजाम मैं कर देता हूं. मैंने उसका फोन नंबर ले लिया था. फोन करेंगे तो फ़ौरन आ जाएगा क्योंकि वो इसी होटल में रुका है."

Re: नए पड़ोसी

Sponsor

Sponsor
 

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 19 Nov 2017 01:56

दिव्या अपनी चूत को अपनी उंगली से रगड़ते हुए बोली "बुला लो उसको आज मुझे सेंडविच बनवा ही लो तुझे भी मजा आ जाएगा और मैं तो जन्नत की सैर करूंगी ही." मैंने सनी को मैसेज कर दिया. उसने कहा की वो ५ मिनट में आ रहा है. उसके आने के एक्साइटमेंट से दिव्या में और मुझ में जोश भर गया.
दिव्या अपनी चूत पर अभी उंगली फिरा ही रही थी की सनी ने दरवाजे पर दस्तक दी. दस्तक सुनकर दिव्या उठकर कपड़े पहने की तरफ चली. मैंने मना कर दिया "यार जब चुदाई ही करवानी है तो फिर शर्म कैसी? और वैसे भी वह तुम्हें कपड़ों के ऊपर तो रगड़ ही चुका है और तुम भी उसे कपड़ों के ऊपर रगड़ चुकी हो तो फिर शर्म छोड़ो. तुम दोनों एक दूसरे को नंगा करो और छेड़छाड़ शुरू करो मैं तब तक दो दो पैग और बनाता हूं. दो दो पैग लगाकर फिर चुदाई शुरू करेंगे."
मैंने दरवाजा खोलकर सनी को अंदर बुला लिया उसका हाथ पकड़ कर डबल बेड के पास लेकर गया और बोला चलो भाई शुरू हो जाओ. उसे देखते ही दिव्या सेक्स से पागल हो गई. दिव्या ने बेड पर से उठ कर तेजी से सनी का हाथ पकड़कर बेड पर खींच लिया और बदहवासी में उसकी कमीज फाड़ दी और उसको ऊपर से नंगा करके उसकी छाती, कमर और पेट पर हाथ फिराने लगी. सनी तो पहले से ही दिव्या के शरीर पर फिदा हो गया था. दिव्या के इस तरह छेड़ने से बहुत बहुत उत्तेजित होने लगा.. दिव्या अब उसके लंड से खेलना चाहती थी. दिव्या ने उसकी पैंट की हुक को खोला और उसके पैंट की चैन को खोल दिया अब दिव्या को बहुत एक्साइटमेंट हो रहा था.
पैंट की चैन खोलने के बाद दिव्या ने पैंट नीचे उतार दी अंडरवेअर में सनी बहुत सेक्सी लग रहा था उसके सेक्सी बदन को देख कर दिव्या चेहरा खुशियों से खिल गया. दिव्या उसके सामने अपने घुटनों पर बैठ गयी और अपने दोनों हाथों से सनी की गांड को सहलाने लगी. सनी की गांड को सहलाने के बाद दिव्या ने सनी के लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही सहलाने शुरु किया. उसके लंड को पकड़ कर दिव्या की सांसे और तेज होने लगी अब दिव्या से सब्र नहीं हो रहा था. दिव्या ने उसका फिरंगी लंड अंडर वियर से बाहर निकाल लिया.. उसका लंड राजेश और मेरे लंड से कुछ बड़ा और ज्यादा मोटा रहा होगा. उसका लंड देखकर दिव्या पागल हो गई.. और उसकी खुशी देखकर मेरा भी लंड दोबारा से खड़ा हो गया. दिव्या ने सनी का लड बुरी तरह से चाटना शुरू कर दिया था. सनी ने दिव्या को उठाकर 69 का पोज बना लिया और उसकी चूत को चाटने लगा सनी दिव्या की चूचियां दबा रहा था नीचे से और फिर उसकी कमर उसकी गांड सहला रहा था. इसी बीच में मैंने दोनों को एक एक पैग बना कर दे दिया. उन्होंने अपना पैग जल्दी से खत्म करके अपना काम फिर शुरू कर दिया.

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 19 Nov 2017 01:57

दिव्या के शरीर से खेलते हुए सनी को बहुत मजा आ रहा था और मुझे देखते हुए. मैंने सोचा की जब मैं रेणुका को ऐसे ही राजेश के साथ देखूँगा तब कितना मजा आयगा. सनी दिव्या को नंगा देखकर वासना मैं पागल हो गया. सनी के नंगे शरीर को दिव्या भी बहुत अच्छी तरह भोग रही थी वह सनी के शरीर के हर हिस्से को छेड़ रही थी और जीभ से चाट रही थी और दांतों से काट रही थी. सनी और दिव्या एक दूसरे को पूरा मजा दे रहे थे अब दिव्या और सनी से बर्दाश्त नहीं हो रहा था. सनी ने दिव्या को बेड पर लिटा दिया और उसकी टांग खोल कर उसकी चूत के मुंह पर अपना लंड लगा दिया.
दिव्या को सनी के खूबसूरत लंड को अंदर लेने की फीलिंग लेते हुए देखना बहुत एक्साइटिंग था जैसे जैसे सनी ने अपना लंड दिव्या की चूत में धीरे धीरे अंदर सरकाया तो दिव्या तड़प उठी और उसने सनी की गांड को पकड़ते हुए उसको अपनी चूत की तरफ खींचा जिससे उसका लंड दिव्या की चूत के और अंदर जाए.
सनी ने धीरे-धीरे सारा लंड दिव्या की चूत के अंदर पहुंचा दिया. दिव्या अब जन्नत के मजे लेने लगी थी. अब सनी ने चुदाई धीरे-धीरे तेज कर दी थी और अब दिव्या को और मजा आने लगा था. दिव्या ने मेरी तरफ देख कर कहा कि अब मुझे मजा आ रहा है अब मुझे दोनों मिलकर चोदो.
मैंने अपना लंड दिव्या के मुंह में डाल दिया और सनी दिव्या की चूत में अपने लंड से मालिश करता रहा. हम दोनों दिव्या के मुंह और चूत को चोदते रहे. थोड़ी देर चुदाई के बाद सनी ने कहा कि मुझे भी अपना लंड चटवाना है तब उसने दिव्या को घोड़ी बनाया और उसके मुंह के सामने खुद अपना लंड लेकर खड़ा हो गया मैंने पीछे से दिव्या की चूत की चुदाई शुरू कर दी. चूत की चुदाई से दिव्या को मजा आ रहा था और सनी का लंड पीने में उसे और मजा आ रहा था क्योंकि मेरा लंड पीते-पीते काफी टाइम हो गया था…थोड़ा चेंज मिलने उसको भी अच्छा लगा… और जब एक नया और बड़ा लंबा लंड चूसने को मिला तो दिव्या बहुत एक्साइटेड हो गई थी और मुझे भी बहुत अच्छा लगा मैं भी यही चाहता था दिव्या इस चेंज के पूरे मजे ले और खुलकर चुदाई करें और करवाए.
सनी का लंड बड़ा था लेकिन दिव्या फिर भी उसे काफी अंदर ले रही थी और उसके मुंह से लार टपक रही थी. दिव्या को सनी का लंड चाटना इतना अच्छा लग रहा था कि उसका रुकने का मन नहीं कर रहा था. थोड़ी देर ऐसे ही चुदाई के बाद दिव्या बोली मुझे सेंडविच भी तो बनाओ.

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 19 Nov 2017 01:59

तो मैंने और सनी ने कहा कि ठीक है आज इसको सैंडविच बना देते हैं. सनी बेड पर लेट गया और दिव्या उसके ऊपर बैठकर उसके लंड को अपनी चूत में लेकर हिलने लगी उसके बाद दिव्या सनी की छाती के ऊपर अपनी चूचियां रखे लेट गई और उसने अपनी गांड को थोड़ा ऊपर उठा लिया जिससे मैं उसकी गांड में लंड डाल सकूं… चुदाई से और चटाई से दिव्या की चूत और गांड बहुत चिकनी हो गई थी तो मैंने उसकी गांड पर लंड रखकर धीरे से धक्का दिया तो लंड अंदर चला गया. हम दोनों ने दिव्या को सेंडविच बनाकर उसकी चूत और गांड की चुदाई शुरू कर दी और दिव्या उचक उचक कर मचलने लगी और चूत और गांड में एक साथ चुदाई के मजे लेने लगी. कहां उसको दर्द हुआ करता था लेकिन आज वह इतनी एक्साइटेड भी कि खुद ही उछल उछल कर जग रही थी और कह रही थी "मुझे मेरी चूत में और गांड में ऐसे ही चोदो और जोर जोर से चोदो…. चोदते रहो आवारा कुत्तों चोदो चोदो मुझे खूब चोदो मेरा सैंडविच बना दो ….आवारा कुत्तों मुझे कुतिया बना दो…. मैं तुम्हारी कुतिया हूं मेरी चूत गांड फाड़ डालो...ऐसे मोटे-ताजे माल को ग्रुप में चोदते हुए में मुझे और सनी को बहुत मजा आ रहा था और हम दोनों से एक साथ चुदते हुए दिव्या की हवस और मजे का तो कोई ठिकाना ही नहीं था वासना में पागल हुई जा रही थी. थोड़ी देर बाद दिव्या बोली की सनी मेरी गांड भी मारो. मैं नहीं चाहती कि मेरे शरीर का कोई छेद ऐसा बचे जिसमें मैं तुम्हारे सेक्सी लंड का मजा ना लू.
सनी बोला "तुम्हें नहीं पता कि तुम कितनी सेक्सी माल हो डार्लिंग?? तुम इतनी सेक्सी हो कि तुम्हारे किसी छेद को मैं चौदे बिना छोड़ ही नहीं सकता……..तुमने सोच भी कैसे लिया कि मैं तुम्हारे किसी छेद को बिना चुदाईे छोड़ दूंगा ……… तुम्हारे शरीर के एक-एक एक एक हिस्से को चोदूंगा. मैं तेरा हर यूज़ करूंगा…. मैं ही तुझे छोड़ने वाला कहां हूं …..मैं तेरा मुंह ,चूत और गांड सब को चोदूंगा ……. मैं तो तुझे चोदता रहूंगा ……"
उसके बाद दिव्या बोली "साले चोदो तुम दोनों मुझे चोदो आज और मुझे चोद चोद कर रंडी बना दो और जहां चाहे वहां चोदो मेरी चूत गांड मे जैसे चाहो मुझे वैसे चोदो … कभी मुंह में कभी कभी गांड में कभी चूत मे जैसे चाहो वैसे चोदो…. …..चाहे मेरी चूत में दोनों लंड एक साथ डाल दो चाहे मेरी गांड में दोनों लंड एक साथ डाल दो… चाहे मेरे मुंह में दोनों लंड एक साथ डाल दो और जगह बदल बदल कर चोदो …..मेरे शरीर का कोई सा हिस्सा ऐसा नहीं बचना चाहिए जहां पर तुम दोनों का लंड ना रगड़ा हो….………मेरा जीवन सफल कर दो आज मुझे चोदकर….………मुझे एक साथ चोद कर पूरी औरत बना दो…..………मेरी चूत मुंह और गांड में एक साथ मजा देकर मुझे औरत होने का संपूर्ण सुख दे दो आज तुम…."
दिव्या की उत्तेजक बातें सुनकर हम एक्साइटेड हो गए और हम उसे आसन बदल-बदल कर कई बार चोदा. तीन बार चोद कर मैं तो बैठ गया लेकिन सनी उस को दो बार और चोदा. …दिव्या की चुदाई से सनी का मन ही नहीं भर रहा था उसका तो मन हो रहा था कि वह दिव्या की चूत और गांड सबकुछ फाड़ डाले … जितना मजा दिव्या को और मुझे आज दिव्या की ग्रुप चुदाई में आया इतना मजा तो अकेले अकेले चुदाई करके नहीं आया. आज दिव्या ने भी जी भर के चुदवाया और उसने चुदाई का पूरा मजा लिया …..कभी बीच में कभी ऊपर कभी नीचे कभी सेंडविच कभी गांड में कभी दोनों जगह.. ….जबरदस्त चुदाई के बाद दिव्या के होठ, चूत और गांड बहुत सेक्सी लग रही थी. … तीनों से ही भरा हुआ माल टपक रहा था..
हमने रात को 1:00 बजे चुदाई शुरू की थी और सुबह के 4:00 बजे तक चलती रही… उसके बाद दिव्या को बीच में लेकर मैं और सनी सो गए. करीब 5 घंटे की नींद लेने के बाद जब हमारी नींद खुली तो हम रात के मजे के बारे में सोच कर फिर एक्साइटेड हो गए और दिव्या ने सनी का लंड पकड़ कर फिर से चूसना शुरू कर दिया और उसने कहा कि मुझे फिर चुदवाना है……… हम तो इंतजार कर रहे थे. हमने फिर मिलके चुदाई शुरू कर दी … मैंने एक बार निकाला और इसके बाद मैं बाथरुम में चला गया जबकि सनी ने और भी दो बार चुदाई की…… थक तो दिव्या भी गई थी पर वह सनी को पूरा मजा देना चाहती थी इसलिए जब भी जितनी बार थी सनी चोद रहा था वह खुशी खुशी मजा लेकर चुद रही थी.

User avatar
jay
Super member
Posts: 7126
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: नए पड़ोसी

Post by jay » 19 Nov 2017 09:14

बहुत बढ़िया जा रहे हो दोस्त

अगले अपडेट का इंतज़ार रहेगा
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Post Reply