नए पड़ोसी

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 777
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: नए पड़ोसी

Post by Dolly sharma » 19 Nov 2017 14:00

superb story

Re: नए पड़ोसी

Sponsor

Sponsor
 

pongapandit
Silver Member
Posts: 443
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: नए पड़ोसी

Post by pongapandit » 20 Nov 2017 13:23

mast update bhai

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 20 Nov 2017 14:02

मुझे दिव्या को सनी से चुद्वाते देख कर बहुत मजा आ रहा था तो मैंने दिव्या से बोला कि हम आपस में तो चुदाई करते ही रहेंगे पर यहाँ तुम सनी के साथ खुलकर चुदो. अब बाकी के ३ दिन वह हमारे साथ रहेगा. मैं चाहता हूं कि 3 दिन तुम लोग जैसे चाहो वैसे चुदाई करो. दिव्या ने हामी भरी और अगले ३ दिन मैंने और सनी ने मिलकर दिव्या को आगे पीछे से खूब बजाया. बीच में राजेश से दिव्या की बात हुई तो दिव्या ने उसे बता दिया की कैसे मैंने उसे एक फिरंगी से भी चुदवा डाला है. राजेश ने उससे कहा की अब गोवा के मजे बहुत हो गए कल तुम दोनों मुंबई पहुचो. मैं भी तुम्हे वहीँ मिलूंगा.
दिव्या ने उससे रेणुका के बारे में पुछा तो उसने कहा की मिल कर बताऊँगा. तो अगले दिन हमने सनी को अलविदा कहा और मुंबई के लिए निकल गए. मुंबई में भी हमारा होटल बहुत बढ़िया था पर यहाँ राजेश ने हम दोनों के लिए अलग अलग रूम बुक किये थे. दिव्या ने बताया की राजेश ने बोला था की एक रूम राजेश का है और एक मेरा. क्योंकि वो भी आज शाम को यहाँ आ जायेगा इसीलिए दो कमरे बुक किये है पर तुम एक ही चाभी लो. गोवा की दिन रात दारू और चुदाई से हम दोनों बहुत थके थे तो हम दोनों ने कमरे में पहुच कर एक साथ नहाया और बिना कपडे पहने ही सो गए. शाम को हमारी नींद तब खुली जब राजेश ने हमे जगाया. हम दोनों ही नंगे सो रहे थे तो राजेश को देख कर मैं थोडा हडबडा गया और उठ कर अंडरवियर पहन लिया पर दिव्या तो उसकी बीवी थी तो वैसे ही नंगी पड़ी रही.
राजेश बोला "यार मुझसे क्या पर्दा. लो मैं भी कपडे उतर देता हूँ." और उसने अपने सारे कपडे उतार दिए. मैंने राजेश से पुछा की वो अन्दर कैसे आया तो उसने बताया की उसके और मेरे कमरे के बीच में एक दरवाजा है जिससे वो कमरे जुड़े है. राजेश ने ये स्पेशल कमरे इसलिए बुक किये है ताकि हमको एक दुसरे के कमरे में जाने में कोई दिक्कत न हो.
दिव्या ने उससे पुछा की तुम्हारा और रेणुका का कुछ हुआ क्या? तो राजेश ने कहा "डार्लिंग शुरू में थोड़ी दिक्कत तो हुई पर मैं कभी नाकाम हुआ हूँ. तीन दिन से मनीष की बीवी को ठोक रहा हूँ."
"सच" मैंने पुछा.
"खुद ही देख लेना अभी तुम्हारे साथ मिलकर चोदुंगा उसे. मेरे कमरे में ही है. तुम्हारी वजह से थोडा शर्मा रही थी पर मैंने उसे राजी कर लिया की अगर उसने हम दोनों से बंद कमरे में नहीं चुदवाया तो फिर मैं उसे खुले आसमान के नीचे चोदुंगा.." राजेश हसते हुए बोला.
"पर ये काम तो जब हम वापस आते तब भी हो सकता था न. आप रेणुका को यहाँ क्यों ले आये." मैंने कहा.
"यार अब तुमने तो हमारी बीवी के साथ हनीमून मना लिया अब हमारी बारी है. देखो तुमने वादा किया था की तुम मेरी हर बात मानोगे अब पीछे मत हटना." राजेश ने कहा.
"नहीं मैंने कहा था तो पीछे हटने का मतलब ही नहीं है. आपका क्या प्लान है." मैंने कहा.

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 20 Nov 2017 14:03

"देखो यार मेरा बैंकाक में जरूरी काम निकल आया है तो मुझे एक महीने के लिए जाना होगा और दिव्या ने तो १५ दिन छुट्टी ली है तो उसे स्कूल से और छुट्टी नहीं मिलेगी तो तो मैने सोचा की क्यों न रेणुका को साथ ले जाऊं." राजेश ने मुझ पर बम फोड़ा.
"पर रेणुका के पास तो पासपोर्ट नहीं है." मैंने पुछा.
"अरे भाई वो सब मैंने तत्काल में बनवा लिया है. हमारा वीसा वगेरह सब हो गया है तुम दोनों का तो ३ दिन के बाद वापसी का टिकेट है और मैं २ दिन बाद रेणुका को लेकर एक महीने के लिए बैंग्कोक जा रहा हूँ. अब मेरी बीवी एक महीने के लिए तुम्हारी बीवी और रेणुका मेरी बीवी. ठीक है न." राजेश ने बोला.
"रेणुका तैयार हो गयी." मैंने पुछा.
"यार तो क्या मैं उसको जबरदस्ती यहाँ लाया हूँ. कैसी बात करते हो." राजेश बोला. इधर मैं तो थोडा घबरा रहा था पर दिव्या एकदम नार्मल थी. मैंने कहा इन्होने आपको बताया था इस बारे में. दिव्या बोली उसकी जरूरत नहीं क्योंकि मैं इन पर पूरा भरोसा करती हूँ.
मैंने मन मार कर कहा "अच्छा अब रेणुका को तो बुलाइए."
"चलो बगल वाले कमरे में ही चलो." राजेश बोला. जब मैं बगल वाले रूम में घुसा तो देखा की रेणुका सिर्फ ब्रा पेंटी पहने बेड पर बैठी है. वो मुझे देखकर थोडा शर्मा गयी और नज़र नीचे करके बैठ गयी. "क्या डार्लिंग. तुमसे कहा था न की कपडे उतर कर बैठना और तुमने अभी तक कपडे नहीं उतारे." ये कह कर राजेश बेड पर बैठ गया और उसने रेणुका को अपनी गोद में बिठा लिया और उसकी ब्रा उतार कर उसकी चूंची चूसने लगा. वो मेरे सामने मेरी बीवी की चूची चूस रहा था और मुझे बहुत उत्तेजना हो रही थी. रेणुका ने मुझसे शर्मा कर अपना मुह राजेश की छाती में छुपा लिया.
पर राजेश ने रेणुका अपने से अलग किया और बिस्तर पर धकेल दिया और उसकी पेंटी भी निकाल दी. रेणुका मुझसे शर्मा जरूर रही थी पर उसने कोई विरोध नहीं किया. राजेश ने मुझे देख कर आँख मारी और अपना मुह मेरी बीवी की चूत पर रख दिया और जोर जोर से चाटने लगा. दिव्या भी ये सब देख कर बहुत गरम हो गयी और वो भी बिस्तर पर जाकर रेणुका की एक चुन्ची मुह में लेकर चूसने लगी. रेणुका मस्ती में सिसकने लगी.
राजेश ने मुझे भी इशारा किया और बेड पर बुलाया. मैं वैसे ही बहुत उत्तेजित था की मेरी जो बीवी मेरे साथ सेक्स करने में भी कतराती थी वही आज मेरे सामने मेरे पडोसी से अपनी चूत चुसवा रही है. मैं तुरंत बेड पर पहुचा और रेणुका की दूसरी चूंची मुह में ले ली. अचानक रेणुका को न जाने क्या हुआ वो बोली नहीं नहीं और हमको हटा कर बाथरूम में भाग गयी. थोड़ी देर बाद जब वो बाहर आई तो उसने एक बाथरोब पहना हुआ था.
उसने राजेश की तरफ देख कर सॉरी बोला. राजेश बोला अब सॉरी बोलने का कोई फायदा नहीं. मैंने तुम्हे कितना तैयार किया था. तुमने मुझसे वादा किया था की तुम कुछ भी मना नहीं करोगी. अब तुम्हारे वादा तोड़ने पर तुम्हे पनिशमेंट मिलेगा. आज रात को हम बीच पर जाएंगे और मैं और मनीष दोनों मिलकर तुमको खुले बीच में चोदेंगे.

Rishu
Silver Member
Posts: 448
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 20 Nov 2017 14:04

रेणुका बोली नहीं खुले बीच में नहीं. इतना देख कर ही मेरा उत्तेजना से बुरा हाल हो गया था तो जब राजेश रेणुका को मेरी आँखों के सामने खुले बीच पर चोदेगा तब कितना मजा आयेगा. ये आईडिया सुन कर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने रेणुका से बोला "देखो घबराओ नहीं. बीच पर जहा सन्नाटा होगा वहां तुम्हें चोदेंगे. कोई डिस्टर्ब करने वाला नहीं होगा"
"चिंता मत करो तुम्हे हिम्मत की दवा पिला कर ले जायेंगे और अगर कोई आ भी गया तो हमारे साथ मिलकर वो भी तुम्हे चोद लेगा. अब तुमने वादा थोडा है तो सजा तो भुगतनी पड़ेगी." राजेश बोला. रेणुका के गाल शर्म से लाल हो गए. मुझे लगा की आज बहुत मजा आने वाला है.
रात को राजेश और दिव्या हम दोनों के साथ बार में गया और दिव्या ने रेणुका को भी जबरदस्ती शराब पिला दी और फिर उसके साथ डांस करने लगी. हम दोनों भी उन दोनों के साथ डांस करने लगा. जब बार बंद होने वाला था तो राजेश ने फिर से रेणुका को और शराब पिलाई. वो बोला "ये हिम्मत की दवाई है डार्लिंग. तुम डरती बहुत हो ये तुम्हारा सारा डर भगा देगी."
फिर थोड़ी देर बाद दिव्या रूम में वापस चली गयी और हम तीनो बीच पर आ गए. बीच पर आकर हमने एक शांत जगह देखकर वहां पर अपना सामान रख दिया. मैं सोच कर खुश था कि रेणुका को राजेश के साथ मिलकर खुले में चोदूंगा तो कैसा लगेगा. राजेश ने हम दोनों को स्विमवेअर दिए और कहा इसे पहन लो. रेणुका अच्छे नशे में थी तो उसने अपने सारे कपडे बिना झिझक के उतार दिए और स्विमिंग के कपडे पहन लिए. अब रेणुका सिर्फ ब्रा पैंटी में राजेश और मैं सिर्फ अंडरवीयर में समुद्र के पानी के अंदर चले गए. जब पानी कमर तक आ गया फिर हमने मस्ती शुरू की. राजेश ने रेणुका की पैंटी और ब्रा भी उतार दी और वह उसकी चुंचियां और गांड को मसलने लगा. मैं रेणुका का मुंह पकड़कर उसको किस करने लगा. हम दोनों रेणुका के नंगे शरीर से खेलने लगे लगे और रेणुका ने भी अब शराब के नशे में शर्म छोड़ दी और हम दोनों का लंड पकड़ कर रगड़ने लगी.
फिर राजेश ने रेणुका को थोड़ा पानी में उठाया और उसका हाथ मेरे कंधे पर रखवाकर उसका मुंह अपनी तरफ कराया और रेणुका की जांघो को पकड़कर थोड़ा ऊपर की तरफ उठाया और रेणुका की चूत में धीरे धीरे अपना लंड सरकाया. रेणुका का नाभि से नीचे वाला हिस्सा पानी के अंदर था. अब धीरे-धीरे राजेश ने रेणुका की चूत में अपने लंड के धक्के लगाने शुरू किए. राजेश के धक्कों से रेणुका पानी में जोर-जोर से आगे पीछे हिलने लगी और जब राजेश का लंड और उसकी जांघें रेणुका की गांड पर लगती तो पानी से …….फच -फच- फच -फच- फच ….. की आवाज़ आती थी. मैं रेणुका के गाल पर किस कर रहा था और उसकी चुचिया मसल रहा था.
रेणुका अब मजे में पागल हो रही थी और बदहवास होकर बहुत मादक आवाज निकाल रही थी.. आ….आ…..आ…. …….आह….. ओह……. आह…आ….आ………आ… अब वह जन्नत की सैर कर रही थी. तब राजेश ने मुझसे कहा यार मनीष गांड में डाल न. मैंने वो छेद तेरे लिए खोल दिया है. तो मैंने रेणुका को राजेश की गोद में चढ़ा दिया जिससे रेणुका उसके लंड पर टिक जाए और मैंने उसकी गांड में अपना लंड घुसा दिया. अब रेणुका मेरे और राजेश के लंडो पर टिक गई थी. पानी में रेणुका काफी हल्की लग रही थी और हमें उसको अपने लंडो पर ऊपर-नीचे हिलाना काफी आसान हो गया था..

Post Reply