नए पड़ोसी

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
rakshu143
Rookie
Posts: 19
Joined: 19 Jul 2017 12:32

Re: नए पड़ोसी

Post by rakshu143 » 26 Aug 2017 10:03

हद हो गई यार अब तो update दे दो.. ...........

Re: नए पड़ोसी

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
kunal
Platinum Member
Posts: 1286
Joined: 10 Oct 2014 21:53

Re: नए पड़ोसी

Post by kunal » 31 Aug 2017 17:14

waiting
Image

vk64
Rookie
Posts: 23
Joined: 18 Apr 2017 15:35

Re: नए पड़ोसी

Post by vk64 » 05 Sep 2017 12:17

Bhai kahan gayab ho
Waiting fir update
Bada se update ja intzar hai

Rishu
Silver Member
Posts: 425
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 10 Sep 2017 02:05

ओम के बाथरूम के अन्दर जाते ही मैं भी बाथरूम के दरवाजे पर कान लगा कर खड़ा हो गया. अन्दर दीदी और ओम कुछ बातें कर रहे थे पर मुझे समझ में नहीं आ रही थी पर दीदी बीच बीच में हंस रही थी इसका मतलब उनका कल का गुस्सा ठंडा हो गया था. थोड़ी देर में शावर की आवाजे आने लगी और दीदी की उफ्फ आह अऔच की भी मतलब ओम रश्मि दीदी को शावर के नीचे चोद रहा था. मैंने थोड़ी ताक झाँक की कोशिश की लेकिन कोई सफलता नहीं मिली तो मैंने सोचा की कोई बात नहीं जब ओम निकलेगा तब पूछूंगा की आज दीदी ने इतने आराम से कैसे चुदवा लिया.

मैं ये भी सोच रहा था की 3-4 दिनों से रुची को नहीं चोदा और उसकी मम्मी को भी नहीं. एक दो दिन में इनमे से किसी एक को फिर से चोदना ही पड़ेगा. मैं ये सोच ही रहा था की अचानक बाथरूम का दरवाजा खुला और ओम दीदी को गोद में लेकर बाहर आ गया. दीदी और ओम पूरे नंगे थे और ओम का लंड दीदी की चूत में पैवस्त था. दीदी मुझे देख कर थोडा हडबडा गयी लेकिन ओम ने उनको कुछ कहने का मौका ही नही दिया और बेड में लिटा कर जोर जोर से चोदने लगा.

मैं फटी हुई आँखों से दीदी की मस्त चुदाई देखने लगा. दीदी की उफ्फ आह आउच फिर से शुरू हो गयी थी और ओम अचानक मेरी तरफ देख के बोला "अरे ऐसे क्या देख रहा है आँखे फाड़ फाड़ के?"

मैं अचानक इस सवाल से घबरा गया और अचानक ही बोल पड़ा "नहीं वो बिस्तर गीला हो रहा है."

"ये लो रश्मी, इसकी जवान कुवारी बहन इसकी आँखों के सामने चुद रही है और इसको बिस्तर गीला होने की पड़ी है. अरे घूर तो तू अपनी बहन को ऐसे रहा है जैसे खुद भी चोदना चाहता है." ओम ने मेरा मजाक सा उड़ाते हुए कहा. उसकी बात सुन कर दीदी के मादक चेहरे पर एक मुस्कान आ गयी और ओम ने एक जोर का शॉट और लगाते हुए अपना लंड दीदी की चूत में डाल दिया.

Rishu
Silver Member
Posts: 425
Joined: 21 Mar 2016 02:07

Re: नए पड़ोसी

Post by Rishu » 10 Sep 2017 02:06

मुझे ओम की बात कुछ अच्छी नहीं लगी और मैं वापस नीचे आ गया लेकिन मेरी आँखों के सामने अभी भी दीदी का नंगा जिस्म ही घूम रहा था. करीब आधे घंटे बाद ओम भी वापस नीचे आया.

मैंने पुछा "रश्मि दीदी कहाँ है."

ओम ने जवाब दिया "अरे भाई नहाने गयी थी तो नहा कर ही आयेगी लेकिन तुम नीचे क्यों चले आये."

"तुम मेरा मजाक क्यों उड़ा रहे थे दीदी के सामने." मैंने नाराज़गी से बोला.

"अरे मेरे भोले मनीष बाबू मजाक की पॉवर तुम नहीं जानते. अब याद करो की जब मयंक ने रश्मि से कहा की तुमसे चुदवा ले वो कैसे भड़क गयी थी लेकिन आज जब मैंने वही बात बोली तो कैसे मुस्कुरा रही थी. तुम खामखाँ नीचे आ गए वरना मैं तुम्हारे और रश्मि के बारे में और गन्दी गन्दी बातें करता तो वो तुमसे थोडा और खुल जाती." ओम ने कहा.

"उससे क्या होगा यार? अब जैसे भी करो मुझे दीदी को जल्दी से चोदना है." मैंने रश्मि दीदी के नंगे चिकने बदन को याद करते हुए कहा.

"यार तुम समझते नहीं हो. हर औरत के अन्दर एक रंडी होती है अब हमको तुम्हारी बहन के अन्दर की रंडी को बाहर लाना है ताकि वो तुमसे चुदवा ले लेकिन अब तुम जल्दी मचा रहे हो तो गाडी टॉप गियर पर डालनी ही पड़ेगी." ओम ने कुछ सोचते हुए कहा. "अच्छा सुनो अभी तो मैं चलता हूँ पर कल तुम सुबह सुबह ही घर से गायब हो जाना."

Post Reply