लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1890
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Post by Ankit » 06 Dec 2017 11:53

मेरे दूर होते ही रागिनी ने अपने गाउन के बटन खोल लिए थे, जब मेरी नगर उसके आधे से अधिक उसकी कसी हुई ब्रा से झाँकते उसके दूधिया उरोजो पर पड़ी…

मेरी उत्तेजना मेरे दिमाग़ पर हावी होने लगी, ऐसा मेरे साथ आज से पहले कभी नही हुआ था कि इन मामलों में मेने अपने दिमाग़ का कंट्रोल खोया हो…!

मेरे दिमाग़ का कंट्रोल मेरे ऊपर से पूरी तरह ख़तम हो चुका था, मेने लपक कर रागिनी के बाजुओं को पकड़ा और अपने दहक्ते होंठ, उसकी रसीली गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठों से चिपका दिए…!

रागिनी को तो जैसे मुँह माँगी मुराद मिल गयी हो… आँखें बंद किए वो भी किस करने में मेरा सहयोग करने लगी, उसकी मरमरी बाहें मेरी पीठ पर कसने लगी…

बहुत देर तक हम एक दूसरे के होंठों का रस पान करते रहे, साँसें उखड़ने लगी, मुँह से गून..गून की आवाज़ें पैदा हो रही थी, लेकिन दोनो में से कोई भी किस तोड़ने को तैयार नही था…
वासना से आँखें लाल हो चुकी थी, दोनो के बदन दहकने लगे थे,

मेरे हाथों ने हरकत करते हुए, उसके गाउन को उसके कंधों से नीचे सरका दिया, वो सर्सराकर उसके पैरों में जा गिरा…

रागिनी के हाथ भी कुछ कम नही थे, वो मेरे अप्पर में घुसकर बदन पर सरसारा रहे थे…

इन सबके बीच हमारी किस्सिंग बदस्तूर जारी थी, फिर उसने मेरे शॉर्ट को नीचे सरका कर मेरे मूसल को अपने हाथ में पकड़ लिया, और उसे मुठियाने लगी…

मेने उसकी ब्रा के हुक भी खोल दिए, और उसके नंगे उरोजो को मसल्ने लगा…

अब हमें ये सीन चेंज करने की ज़रूरत महसूस होने लगी थी, सो रागिनी किस तोड़कर अपने पंजों पर बैठ गयी, और मेरे कड़क मूसल को अपने हाथ में लेकर बोली…

आअहह…..अंकुश क्या जानदार लंड है तुम्हारा… 3 साल लग गये इसे पाने में… आज मे इसका रस निकाल कर ही रहूंगी…ये कहकर उसने उसे चूम लिया…

मेने उसके निपल को उमेठते हुए कहा – चुसले रानी मेरा जूस, देख क्या रही है मदर्चोद…. जल्दी कार्रररर…

अपने मुँह से इस तरह की गाली सुनकर मे खुद हैरान रह गया… लेकिन कोई कंट्रोल नही था अपने आप पर…

रागिनी ने भी कोई रिक्षन नही दिया, और मेरे टमाटर जैसे सुपाडे को अपने होंठों में क़ैद कर लिया…!

अनायास ही मेरा हाथ उसके सर पर चला गया, और उसे दबाकर मेने अपनी कमर को एक करारा सा झटका दिया…

सरसराकर मेरा मूसल जैसा लंड उसके मुँह में चला गया, और जाकर उसके गले में बुरी तरह से फँस गया…..

रागिनी की साँस अटक गयी, और वो उसे बाहर निकालने के लिए ज़ोर लगाने लगी…जब वो कुछ देर अपने प्रयास में असफल रही, तो उसने फटी-फटी आँखों से मेरी तरफ देखा…

मुझे लगा जैसे वो मुझसे अपना लंड निकालने के लिए फरियाद कर रही हो…मेरे दिमाग़ को एक झटका सा लगा… और मेने अपना लंड उसके मुँह से खींच लिया….!

रागिनी ने राहत की साँस ली और अपनी साँसों को नियंत्रित करते हुए कतर नज़रों से मेरी तरफ देखते हुए बोली ….

बहुत बेरहम हो… जान लेना चाहते थे मेरी… ऐसे भी कोई करता है भला…

मेने अपने कानों को हाथ लगाते हुए कहा – सॉरी डार्लिंग, पता नही आज -मुझे क्या होता जा रहा है, बार-बार अपने आप से कंट्रोल खो रहा हूँ…

वो मन ही मन मुस्करा उठी, लेकिन प्रत्यक्ष में कहा – कोई बात नही डार्लिंग, लेकिन आगे ध्यान रखना प्लीज़…

ये कहकर उसने उसे फिरसे अपने मुँह में ले लिया और पूरी लगान से मन लगाकर उसे चूसने लगी….!

मेरा लंड उसकी जीभ की मालिश और मुँह की गरम-गरम साँसों से और ज़्यादा फूल के कुप्पा हो गया था…

बीच बीच में रागिनी मेरे सुपाडे पर दाँत गढ़ाकर रगड़ देती, जिससे मेरे लंड में और ज़्यादा सुरसूराहट होने लगती…

आयईयी…मदर्चूद्द्द….ऐसा मत कर साली कुतियाअ…, वरना पछ्तायेगी फिरसे…,

ये सुनकर वो मेरी आँखों में देखते हुए मुस्कराने लगी, साथ ही अपने होंठों का दबाब और बढ़ा दिया…

मज़े की वजह से मेरी आँखें मुन्दने लगी, मुँह से स्वतः ही सिसकियाँ निकलने लगी…

कुछ देर लंड चूसने के बाद उसका मुँह दुखने लगा…, तो वो चूसना बंद कर के खड़ी हो गयी, और अपनी नाम मात्र की पेंटी नीचे करते हुए बोली..

बड़ी ही सख़्त जान है तेरा ये मूसल, मेरा मुँह दुखने लगा, लेकिन इस भोसड़ी वाले पर कोई असर ही नही हुआ, और ज़्यादा फूलता जा रहा है…कहते हुए एक थप्पड़ मेरे लंड पर मार दिया उसने…

उसका थप्पड़ खाकर वो फुफ्कार उठा, और चटक से मेरे पेट पर आकर लगा…

उसका ये रूप देखकर रागिनी जैसे फिदा ही हो गयी उसपर…और उसको पकड़कर अपनी चूत के मुँह पर रगड़ने लगी…

आअहह… राजा…अब जल्दी से इसे मेरी चूत में डालकर मेरी खुजली मिटा दे यार… अब नही रहा जा रहा मुझसे, ये कहकर उसने एक बार फिर मेरे होंठ चूस लिए…

फिर उसने अपनी चादर एक साफ सी जगह पर बिच्छा दी और अपनी टाँगें चौड़ी कर के लेट गयी…

मे भी उसकी टाँगों के बीच घुटने टेक कर बैठ गया, वो अपनी चूत को थप-थपाकर बोली… डाल अब इसमें जल्दी से… और फाड़ दे मेरी चूत को अपने मूसल से…

आहह.. क्या मस्त कड़क लंड है तेरा… फिर उसने अपने हाथ से उसे पकड़कर अपनी गीली चूत के मुँह पर रखकर अपनी टाँगों को मेरी गान्ड पर लपेट लिया…

उसका उतबलापन देख कर मे मन ही मन मुस्करा उठा… और उसकी आँखों में देखते हुए उसकी चुचियों को लगाम की तरह पकड़ लिया..

फिर उसकी टाँग चौड़ी कर के एक करारा सा धक्का उसकी चूत में मार दिया…..



आआयययययययययीीईईईईईईईईईईई…………….मुम्मिईीईईईई….मररर्ररर….गाइिईई…रीइ…

रागिनी के मुँह से चीख उबल पड़ी…. मेने उसके मुँह को दबा कर कहा…

भोसड़ी की चिल्लती क्यों है कुतिया साली… तबसे तो इसे लेने के लिए इतनी उतावली हो रही थी, अब क्यों गान्ड फट गयी तेरी…

वो कराहते हुए बोली… आअहह…भेन्चोद साले….इतनी बेदर्दी से कोई पेलता है क्या…? आराम से चोद, फिर देखती हूँ, कितना दम है तेरी गान्ड में…

वैसे इतना कड़क डंडे जैसा लंड है तेरा…. मेरी चूत अंदर तक चीर दी इसने…उफफफफ्फ़… अब आराम आराम से करना… मेरे… रजाअ..जीिीइ…

मेने धीरे-धीरे अपना लंड अंदर बाहर करना शुरू कर दिया… रागिनी सिसकियाँ भरती हुई, चुदाई का मज़ा लूटने लगी…

अब उसको भी मज़ा आने लगा था शायद, सो अपनी गान्ड उठा उठाकर मेरे मूसल जैसे लंड को जड़ तक लेने लगी…

10 मिनिट की धुआधार चुदाई के बाद वो चीख मारकर झड़ने लगी…और फिर सुस्त पड़ गयी…

मेरे धक्के बदस्तूर जारी थे… वो कराहते हुए बोली – थोड़ा रुक ना यार, चूत सूख गयी है मेरी… जलन होने लगी है…

मेने अपने धक्कों को विराम देकर उसकी गान्ड थप-थपाकर उसे घुटनों के बल कर के घोड़ी बना दिया, और पीछे से उसकी गान्ड में मुँह डालकर अपने थूक से उसकी चूत को गीला करने लगा…

थोड़ी देर में ही वो अपनी गान्ड मटकाने लगी और मज़े में आ गयी… तो मेने अपना मूसल फिर से उसकी चूत में पेल दिया…

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1890
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Post by Ankit » 06 Dec 2017 11:54

वो आअहह…..सस्स्सिईईईईई…करती हुई पूरा लंड एक बार में ही निगल गयी… मे उसकी गान्ड पर थप्पड़ बरसाते हुए दनादन धक्के लगाने लगा… !
वो भी अपनी गान्ड को मेरे लंड पर पटक-पटक कर चुदाई का मज़ा ले रही थी..

उसके चुतड़ों पर मेरी जाँघ की थप-थप की आवाज़ रात के शांत वातावरण में गूँज रही थी…

मुझे अभी मज़ा आना शुरू ही हुआ था, कि किसी ने पीछे से मुझे अपनी बाहों में लपेट लिया….

धक्के मारते हुए मेने मुड़कर देखा तो रागिनी की टेंट मेट रीना… एकदम नंगी मुझे अपनी बाहों में भरे हुए मेरे बदन से लिपटी हुई थी…!

धक्कों के साथ साथ उसका बदन भी मेरे शरीर के साथ रगडे खा रहा था…

मस्त माल कूर्वी फिगर रीना अपने मोटे-मोटे आम मेरी पीठ से सटाये हुए थी…, उसके कड़क निपल्स मेरी पीठ से रगड़ कर मेरे मज़े को और दुगना कर रहे थे..

बाजू से पकड़ कर मेने रीना को अपने बगल में खड़ा किया, और रागिनी की चूत में धक्के लगाते हुए उसके होंठ चूसने लगा…



फिर मेने उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ डालते हुए पूछा…

रीना तुम यहाँ कब आई…?

वो सिसकते हुए बोली – सस्सिईईईई….आआहह….जब तुम दोनो किस करना शुरू किए थे, मे तभी से तुम दोनो का खेल देख रही हूँ….

उसकी आवाज़ सुनकर रागिनी ने मुड़कर पीछे देखा…और अपनी गान्ड को ज़ोर ज़ोर से पटकते हुए बोली- आअहह….साल्ल्लीइीइ….कुतियाअ…तू भी आ गयी…. अपनी चूत की खुजली मिटाने…

आआहह…हाईए रे.. बहुत मस्त चुदाई करता है…रीि ये अंकुश….तो.. आहह…आईईई…मे तो फिर गाइिईई….उउउऊओह… करती हुई रागिनी भालभाला कर झड़ने लगी…

इधर मेरा भी नल कभी भी खुल सकता था… सो पूरा दम लगाकर दो-तीन धक्के मारे.. और उसकी चूत में पूरा जड़ तक लंड पेलकर धार मार दी…

साथ ही उत्तेजना में मेरी दोनो उंगलियाँ जड़ तक रीना की चूत में घुस गयी…जिससे वो भी अपने पंजों के बल उचक कर पानी छोड़ने लगी….!

मेने अपना टॅंक खाली कर के पाइप को उसकी टंकी से बाहर खींचा…. फुकच्छ… की आवाज़ के साथ मेरा लंड रागिनी की चूत से बाहर आया, जिसपर रागिनी की चूत का रस लगा हुआ था…

पता नही क्यों… लेकिन वो अभी भी अपनी फुल फॉर्म में ही लग रहा था… उसका आकर देख कर रीना की घिग्घी बँध गयी… वो उसे फटी-फटी आँखों से देख रही थी…

रीना अपने मुँह पर हाथ रखकर बोली - हाए राअंम्म… रागिनी.. तू इतना बड़ा लंड झेल गयी… बाप रे ये मेरी तो चूत के परखच्चे उड़ा देगा…!

रागिनी – बकवास मत कर, मुझे पता है, तू कितनी सील पॅक है, साली खुद के चाचा का सोटा खा जाती है, और अब यहाँ नाटक कर रही है…

रीना – हहहे… वो उनका इतना बड़ा नही है यार… सच में ये तो किसी घोड़े के जैसा लग रहा है…, ये कहकर उसने उसे अपने हाथ में पकड़ा, और उसकी स्ट्रेंत चेक करने लगी..

रागिनी – चल अब बहुत नाटक हुआ, इसे चाट कर सॉफ कर, अगर चाहिए तो जल्दी से चुस्कर तैयार कर…

रीना – पर यार ये तो ऑलरेडी तैयार ही है…

मेने उसे झिड़कते हुए कहा – फिर भी थोड़ी सेवा तो करनी पड़ेगी इसकी, अगर अपनी चूत को मेवा खिलानी है तो..

मेरे झिड़कते ही, उसने उसे अपने मुँह में ले लिया, और चाट-चाट कर चमका दिया…

5 मिनिट बाद ही मेरा खूँटा फिरसे ज्यों का त्यों सख़्त हो गया, जिसे मेने रीना की टाँगें चौड़ा कर उसकी चूत में ठोक दिया…

पहले धक्के पर वो बिल बिलाकर कर गान्ड हिलाने लगी, लेकिन कुछ ही देर में फूल मस्ती में आकर चुदाई का मज़ा लेने लगी…

रीना भी खेली खाई थी, सो अपनी गान्ड उचका-उचका कर लंड का मज़ा अपनी चूत को दिलाने लगी….

दोनो की अच्छे से बजाने के बाद मेने अपने कपड़े समेटे, और उनको गुड नाइट बोलकर अपने टेंट में आकर सो गया…

वो दोनो भी मेरे आने के कुछ देर बाद अपनी जगह पर जाकर सो गयी…!

दूसरे दिन हम सब खजुराहो का मंदिर देखने गये, मंदिर की कलाकृतियाँ इतनी सुंदर और कामुक थी, की जहाँ खड़े होकर देखने लगें लंड अपने आप पेंट के भीतर ठुमके मारने लगता…

वो तो अच्छा था, कि लड़के और लड़कियों को अलग अलग ग्रूप में रख कर घूम रहे थे… कामसूत्र के सारे आयाम उन दीवारों पर दर्शाये गये थे…!

ये सब देखकर बाहर जब सब इकट्ठा हुए तो लड़के और लड़कियों के चेहरों से साफ लग रहा था, कि वो कितनी उत्तेजना में हैं…

मेडम बारी-बारी से सबके पॅंट के उठानों को देख रही थी, और शायद मन ही मन चुदने की कल्पना भी कर रही हो…

लेकिन कुछ होने वाला नही था, सो उसने नज़र बचाकर अपनी टाँगों के बीच हाथ डालकर अपनी गीली चूत को पेटिकोट से सूखा लिया…

इस तरह से रोज एक-दो नये मोनुमेंट को हम लोग देखने जाते और शाम को अपने अपने टेंट में आ जाते…

कुछ लड़के लड़कियाँ की सेट्टिंग भी हो गयी थी, और वो शाम के वक़्त जंगलों की सैर के बहाने अपनी रास लीला का लुफ्त भी उठा लेते थे…

इसी तरह 3-4 दिन निकल गये, रागिनी और रीना ने इस बीच फिरसे मेरे नज़दीक आने की बहुत कोशिश की, लेकिन मेने उन्हें मौका नही दिया…!

ऐसे ही एक दिन एक मंदिर में हम घूम रहे थे, मंदिर प्रांगड़ में एक पीपल का बड़ा सा पेड़ था, जिसके तने (स्टेम) के चारों ओर मिट्टी का गोलाई लिए हुए चबूतरा सा बना हुआ था..

मे भीड़ से अलग होकर उसपर बैठ गया, मौका ताड़ कर रीना मेरे पास आई, और एक चान्स और देने के लिए गिडगिडाने लगी..

मेने उससे कहा – देखो रीना तुम तो जानती ही हो, मे इस तरह का आदमी नही हूँ, वो तो पता नही मुझे क्या हुआ था उस दिन, और मे बैचैनि में उठ कर अकेले बाहर चला गया, और तुम लोगों ने मौके का फ़ायदा उठा लिया..…

वो – मे मानती हूँ, हमने मौके का फ़ायदा उठाया, और ऐसा तुम्हारे साथ उस दिन क्यों हुआ ये भी जानती हूँ…!

मेने चोंक कर उसकी तरफ देखते हुए पूछा – क्या कहना चाहती हो तुम..? वो तो बस ऐसे ही कुछ बाहर का खाया पीया था तो गॅस बनने लगी होगी, इसलिए बैचैनि हो रही थी… !

रीना – एक काम करो, उस दिन की घटना फिर से एक बार याद करो, क्या वो सब जस्ट गॅस से होने वाली स्वाभाविक सी प्रतिक्रिया थी..?

उसकी बात सुनकर मे सोच में पड़ गया, फिर मुझे कुछ लगा कि वो सब स्वाभविक तो नही था, ऐसा कभी मेरे साथ नही हुआ था की मेने अपना मानसिक कंट्रोल ही खो दिया हो…

और मेरे मुँह से निकलने वाले वो अपशब्द…. ये सब दिमाग़ में घूमते ही मे सोच में पड़ गया…

मुझे यूँ सोच में डूबे हुए देखकर वो फिर बोली – क्या सोच रहे हो…?

मेने अपनी सोच को विराम देते हुए कहा – तुम सही कह रही हो, मेरे साथ उस दिन कुछ तो गड़बड़ थी… क्या तुम्हें पता है…?

रीना मुस्करा कर बोली – मुझे सब पता है, कि तुम्हारे साथ क्या हुआ और किसने किया…?
मेने उसके कंधे पकड़ कर कहा – बताओ मुझे क्या हुआ था उस दिन?, और किसने किया था मेरे साथ…?

एक अर्थपूर्ण मुस्कान रीना के चेहरे पर आ गयी, और उसी अंदाज में वो बोली – मेरी एक शर्त है, अगर मानो तो मे तुम्हें सब कुछ बता सकती हूँ…!

मेने उसकी मनसा समझते हुए अपना एक हाथ उसके पीछे ले गया, और उसकी गान्ड सहला कर कहा – क्या शर्त है तुम्हारी…?

उसने मेरे पेंट के ऊपर से मेरे लौडे को सहला का कहा – एक बार और ये चाहिए मुझे… बोलो दोगे..?

मेने भी हाथ आगे कर के उसकी चूत को सहला दिया, और कपड़े के ऊपर से ही अपनी एक उंगली घुसाकर कहा – ठीक है, मे तुम्हें एक बार और चोदुन्गा, अब बोलो…

वो एक बारगी सिसक पड़ी, और मेरे हाथ को अपनी चूत पर दबाते हुए बताने लगी..

रीना मुझे उस दिन के बारे में बताते हुए बोली – तुम्हें याद होगा…,

उस रात, जब तुम लोग खाना खा रहे थे, तो मेने और रागिनी ने आकर तुम्हें जाय्न किया, और साथ बैठ कर खाने लगे…

मेने हामी भरी…. फिर

रीना – फिर हम सबने एक दूसरे का खाना भी शेयर किया था, …

उसी समय मौका देख कर रागिनी ने एक ऐसा ड्रग तुम्हारे खाने में मिला दिया
जिसके असर से आदमी या औरत सेक्स करने के लिए बैचैन होने लगते है…

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6124
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Post by rajsharma » 06 Dec 2017 12:44

achha update hai dost
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1180
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Post by Kamini » 06 Dec 2017 22:03

Mast update

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1890
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: लाड़ला देवर ( देवर भाभी का रोमांस)

Post by Ankit » 07 Dec 2017 11:41

rajsharma wrote:
06 Dec 2017 12:44
achha update hai dost
Kamini wrote:
06 Dec 2017 22:03
Mast update
thanks

Post Reply