मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
pongapandit
Silver Member
Posts: 457
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 18 Nov 2017 17:59

फिर भाई ने मुझे चोदकर ट्रिशा को लिटा दिया और उसकी टांगे खोलकर उसके ऊपर चढ़ गया- “एस गिव इट टु मी, आह्हह…” पूरा बेड आवाज़ करने लगा, कहीं पतली ट्रिशा भाई के शाट्स से कुचल ना जाए।

फिर मैं भी ट्रिशा के मजे लेने उसके चेहरे पे बैठ गई। आदी ट्रिशा की चूत मार रहा था मैं अपनी चूत उससे चटवा रही थी और हम बायफ्रेंड-गर्लफ्रेंड किस कर रहे थे।
हमारा प्लान सक्सेस हो चुका था। भाई ने मुझे थोड़ा सा उठने को कहा और ट्रिशा को मुँह खोले रखने को। फिर भाई ने मेरी चूत में इतनी जोर से अपनी उंगली की कि मेरा पानी ट्रिशा के मुँह में जाने लगा। वो किसी बच्ची की तरह पहली बारिश का पानी चख रही थी।
फिर भाई ने आगे आकर उसके मुँह में अपना लण्ड डाल दिया। मेरी चूत उसकी नाक पे रगड़ने लगी या मैं उसकी नाक से अपनी चूत रगड़ रही थी।
फिर भाई ने लण्ड को मेरी चूत में डाला और वहीं ट्रिशा के चेहरे के ऊपर मुझे चोदने लगा। नीचे वो जीभ निकाले सब चाटे जा रही थी। आज के बाद ट्रिशा के सेक्सी चेहरे को देखकर कोई आइडिया नहीं लगा सकता की उसके चेहरे पे कैसा काम हो चुका है? मैं अब झड़ने को थी और मैं वही पे उसके चेहरे पे झड़ गई। व्हाट आ सेक्स।
हमने ट्रिशा को उठाया, मैंने उसकी टांगे खोल दी, ताकी मेरा भाई उस रांड़ को चोद सके। फिर मैं लेट गई। ट्रिशा मेरे ऊपर मेरे आमने सामने लेट गई। भाई के सामने दो चूत थी, दोनों उसकी थी। उसने मेरी कम ट्रिशा की ज्यादा मारी क्योंकी घर का माल है, जब जी चाहे अपना माल खाली कर सकते हैं। हम दोनों किस करते रहे और ट्रिशा एक बार और ओर्गज्म से काँप गई।
लेकिन हमने ट्रिशा को एक कुतिया बना डाला था। जिस तरह भाई ने मेरी बुरी तरह से चुदाई की थी पिछले दिन, वैसे ही आज इस ट्रिशा की बारी थी। ट्रिशा स्लिम पेटाइट बाडी से बच्ची दिखती थी, और उसकी चूत भी। लेकिन भेन के लण्ड आदी ने उसकी चूत को भोसड़ा बना दिया था।
मुझे अब लगा की भाई कुछ देर के सेक्स के बाद झड़ जाएगा। ऐसा भाई को भी लगा तो उसने ट्रिशा की चूत मारनी बंद कर दी। ट्रिशा उठी और गहरी सांसें लेते हुए मेरे पास आई और किस करने लगी और मेरी चूत को मसल्ने लगी।
भाई लण्ड हिलाता हुआ हमें देखने लगा फिर वो उठकर आया और हमारे किस में अपना लण्ड बीच में डाल दिया। हमारे होंठों के बीच में वो आगे पीछे होने लगा- “आइ एम कमिंग…” भाई ने कहा।
मैंने कहा- “भाई, ट्रिशा के मुँह को भर दो…” कुछ बूंदे मेरे चेहरा पे गिरी।
भाई पूरा वीर्य ट्रिशा के मुँह में खाली करके उसके मुँह से लण्ड निकाल लिया और मैंने उसको पकड़कर सॉफ कर दिया। ट्रिशा ने इशारा किया और मेरे मुँह में थोड़ा वीर्य गिरा दिया। मैंने हम दोनों को बेड पे घुमा के खुद उसके ऊपर आ गई और उसके मुँह में वीर्य वापस दे दिया।
ट्रिशा ने वीर्य गटकने के बाद कहा- “आई वांटेड तो शेयर…”
मैं- “य डोन्ट हैव टु, यू डर्टी होर। आई एम हिज़ बिच। हिज़ कम बकेट, दिस कम इस माई डेली डोस…”

ट्रिशा- “वाउ…” उसके चेहरा पे स्माइल थी।
भाई हमारे बीच में सोया उस रात। अगली सुबह ट्रिशा ने मुझे जगाया, हमारे किस करते टाइम भाई भी नाग गया। हमने भाई को ब्लो-जोब दिया।
लेकिन कुछ देर बाद ट्रिशा को याद आया- “ओह्हह गोड… 10:00 बज गये हैं, मुझे जाना है…” उसने बताया की आज संडे को उसकी डेट है उसके बायफ्रेंड के साथ, इसलिए उसको खुद पे काबू रखकर जाना पड़ा।
पर भाई ने उसको ऐसे जाने नहीं दिया। पहले तो वो नहाकर तैयार हुई फिर जब जाने लगी तो भाई ने उसको पकड़ा और झुका के उसकी चूत में लण्ड पेल दिया। ट्रिशा पहले तो ना-नुकुर करने लगी पर उसने भाई से खुद को छुड़ाने की रत्ती भर कोशिस नहीं की, और इधर भाई ने तब तक उसको नहीं छोड़ा जब तक उसकी चूत में माल ना भर जाए।
भाई ने उसकी पैंटी वापस उसको पहनाई- “डोन्ट यू डेयर तो रिमूव इट, य अंडरस्टैंड बिच…”
ट्रिशा ने शमीली लड़की की तरह हाँ में सिर हिलाया।
भाई ने उसको झुका के अपना लण्ड सॉफ करवाया- “नाउ यू कैन गो…”
फिर ट्रिशा चुपचाप चली गई।
दिन को भाई के साथ नंगी बिताने के बाद मुझे मेरी दोस्त कामया का काल आया।
कामया के घर पे सबको थोड़ी बहुत चढ़ गई थी, जब हम ट्रूथ और डेयर खेल रहे थे तो चीज़ें और सेक्सुअल होती जा रही थी। कामया को 10 सेकंड के लिये अपने बायफ्रेंड को ब्लो- जॉब करना पड़ा। नेहा के बायफ्रेंड को शायद पायल ने कहा था की अगले दो लोगों के डेयर खत्म होने तक उसको मास्टरबेट करना है। और जब नेहा की बारी आई तो आकांक्षा ने आबियस्ली नेहा को अपने बायफ्रेंड को ब्लो- जॉब करना पड़ा। लेकिन वीर्य नहीं आना चाहिए।
बाद में ये खेल और हाई होने लगा। गर्ल गर्ल किसिंग उंगली या सकिंग तो होता था लेकिन शगुफ्ता ने नेहा के बायफ्रेंड को अपने बायफ्रेंड का डिक चूसने को बोला। बस फिर क्या था दो कपल्स बहस करने लगे। शगुफ्ता ने पाइंट रखा की क्यों लड़कियां को लेस्बो डेयर दिए फिर? ऐसे तो लड़कों को ‘गे’ डेयर आक्सेप्ट करने चाहिए।
वेल ये फेयर पाइंट था और लड़कियां लड़कों के अगेन्स्ट हो गई और लड़के जाने की तैयारी करने लगे। सबने इतनी पी इसीलिए थी क्योंकी सबका रात यहीं पे गुजारने का प्लान था, अब नशे में वो जाते तो कल किसी की फोटो न्यूज में देखने को मिलती। बाद में लड़कों को शांत करके मामला खत्म किया। 4 कपल्स अपने-अपने रूम में चले गये।
मैं और पायल बात करते रहे, लेकिन काफ़ी देर बाद भी हमें सेक्स की आवाज़ नहीं सुनाई दी।

पायल ने कहा- “शगुफ्ता को ऐसा नहीं करना चाहिए था, उसकी वजह से बाकी लड़कियों को भी नुकसान हो गया…”
अगली सुबह मैं थकी हुई घर पहुँची।
उसी टाइम मोम कैब से उतर के ड्राइवर को पैसे देकर मुझे गले मिली- “हाय, कहां से मजे करके आ रही है?”
मैं- “मेरी छोड़ो, आप बताओ आपका कैसा रहा?”
मोम- “हाँ, मैंने तो खूब मजे किए, मैं तेरे लिए कुछ लाई भी हूँ …” मोम एकदम फ्रेश लग रही थी जबकि मैं।
“चलो छोड़ो…” हम मुख्य दरवाजा खोलकर अंदर गये तो देखा और हमने एक दूसरे को देखकर “ओह्हह…” का इशारा किया।
मोम- “तभी सोचूँ, मेरा काल क्यों नहीं उठाया था इसने?” मोम ने धीरे से कहा।
मैंने स्माइल करते हुए कहा- “अभी नई-नई गर्लफ्रेंड बनी है…” सामने काउच के पास फर्श में भाई और ट्रिशा नंगे बदन सो रहे थे।
मोम ने ध्यान से देखते हुए कहा- “तू जानती है क्या उसे?”
फिर मैंने मोम को मेरे साथ ध्यान से मेरे रूम में चलने का इशारा किया। फिर मैंने मोम को सब बताया, हाँ। अब मोम से क्या छुपाना। लेकिन ट्रिशा की नजर में मैं भाई की गर्लफ्रेंड हूँ और अभी मुझे इस घर में नहीं होना चाहिए था। इसलिए मैं अपने रूम में ही रही और मोम को जाकर उन दोनों को जगाना पड़ा।
मैंने- “मोम आप?” जोर की आवाज़ सुनी और कल्पना किया की वहां पे क्या दृश्य चल रहा होगा। दो घंटे बाद मोम के कहने पे ट्रिशा नाश्ता करके जा चुकी थी और फिर मुझे नाश्ता करने के लिए बुला लिया।
रात को डिनर के बाद हम सभी साथ में मूवी देख रहे थे तब मोम ने भाई से उसकी नई गर्लफ्रेंड की बात छेड़ दी। मोम को सब पता था लेकिन ऐसे ही मोम ट्रिशा के बारे में भाई से पूछताछ करने लगी।
अगले कुछ दिन नॉर्मल ही निकले। भाई के कहने पे मुझे एक बार ट्रिशा से मिलने जाना पड़ा। भाई आजकल उसको डेट कर रहा था। वैसे ये रिलेशन मुझे बायफ्रेंड-गर्लफ्रेंड टाइप नहीं लगा।
ट्रिशा से मैं उस थ्री-सम सेक्स नाइट के बाद तीन बार मिली और उसमें एक बार हमने लेस्बियन सेक्स किया था। इसके बाद मेरा काम इस टापिक पे खतम हो चुका था। लास्ट टाइम मिलने के बाद भाई से मिलकर मैंने अपनी रिपोर्ट में कहा की ट्रिशा सिर्फ़ उसके साथ सेक्स के लिए है, उसमें भाई के लिए इमॉशनली कुछ नहीं है, सो बी अवेयर।

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by 007 » 18 Nov 2017 18:38

nice update
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
jay
Super member
Posts: 7135
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by jay » 19 Nov 2017 09:18

बहुत बढ़िया जा रहे हो दोस्त

अगले अपडेट का इंतज़ार रहेगा
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)


pongapandit
Silver Member
Posts: 457
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 20 Nov 2017 13:40

007 wrote:
18 Nov 2017 18:38
nice update
jay wrote:
19 Nov 2017 09:18
बहुत बढ़िया जा रहे हो दोस्त

अगले अपडेट का इंतज़ार रहेगा
Dolly sharma wrote:
19 Nov 2017 13:59
superb story
thanks all

Post Reply