मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6902
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by rajaarkey » 04 Dec 2017 12:07

mast.....................
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma


pongapandit
Silver Member
Posts: 457
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 05 Dec 2017 17:35

फिर उसके वापस अपने रूम में जाने और जाते हुए दरवाजा बंद कर देने पे मैंने मोम की ड्रेस का हेम पकड़कर ऊपर किया, पैंटी के गीलेपि ने बता दिया की मोम भाई की नजर से कैसा महसूस कर रही थी।

मोम- “मोना, मुझे खाना बनाने दे, आऽ हट ना…” लेकिन मैंने अपना हाथ नहीं निकाला।

मैं मोम के पीछे गई और एक नजर भाई के बेडरूम के बंद दरवाजे पे डाली। हेम ऊपर करके दोनों हाथों से पैंटी को नीचे खींचकर नीचे किया। मोम ने मज़ा किया पर मेरे नीचे करने पे उन्होंने पैर उठाकर अपनी पैंटी को उतरवा लिया। फिर मैं खड़ी होकर मोम के पीछे से उनको परेशान करने वाली ही थी की भाई अपने रूम से निकलकर बाहर आ गया।

भाई- “दीदी, आपके लैपटाप में आइज़ो है क्या? ये ओफिस-13 की? मैं ओफिस-16 वाला अनस्टॉल कर रहा हूँ …” ये बोलते हुए वो किचेन में चला आया।

मैं मोम की पैंटी अपने पीछे छुपाकर भाई के सामने मुड़ गई- “हाँ… पड़ी होगी, जाकर ‘डी’ ड्राइव में देख ले…”

लेकिन भाई गया नहीं और बताने लगा की ओफिस-16 से उसको क्या परेशानी है।

मोम ने मुझे चम्मच पकड़ाकर- “मैं अभी आती हूँ …” बोलकर अपने रूम में चली गई।

मोम के जाने के बाद भाई ने देखा की मैं अपना हाथ पीछे किए हुए हूँ , तो पूछा - “क्या छुपा रही हो?” और फिर उसने मेरे हाथ से मोम की पैंटी ले ली।

भाई ने हैरानी से मोम के रूम की दीवाल की तरफ देखा जैसे वो दीवाल के उस पार देख सकता हो। भाई ने मेरे नीचे हाथ डालकर मेरी पैंटी चेक की, कि कहीं ये मेरी तो नहीं। पर उसका मुँह खुल गया जब उसको पता चला की मैंने थोंग पहनी हुई है। वो सब समझ गया, तब मैंने हाँ में सिर हिलाया। फिर उसने मेरी चूत को थोंग के ऊपर से मसल दिया।

मैं- “मोम अभी वापस आ जाएँगी…”

भाई- “आने दो…”

मैं- “पागल है क्या?”

भाई- “पागल तुम दोनों हो, और हाट भी। क्यों? सही कहा ना?”

तभी फ्लश की हल्की आवाज़ आई, हमने गलत सोच लिया था, मोम तो पेशाब करने गई थी। भाई ने जल्दी से मेरी थोंग को उतार दिया, मेरे पैरों से वो अलग होते ही उसने दोनों पैंटीस को अपनी जेब में डालकर मेरे रूम की तरफ चला गया।

कुछ सेकेंड बाद मोम आई और भाई को मेरे पास ना देखकर भौंहें उठाकर पूछा - “वो कहां गया?”

मैंने इशारे से बता दिया। मैंने मोम की स्कर्ट ऊपर करके देखा की उन्होंने वापस कुछ पहना कि नहीं? मुझे मोम की सफाचट चूत दिखी तो मोम ने हाथ झटक के ड्रेस सही कर दी।
फिर मोम ने कहा- “अब मुझे परेशान मत कर और खाना बनाने दे…” वैसे सब तैयार हो चुका था फिर भी मैं साइड में हो गई।

थोड़ी देर में भाई वापस नीचे आया और हमारी तरफ देखते हुए अपने रूम में जाने लगा, तो मोम ने उसको कहा की वो अपना काम खत्म करके हाथ धोकर आ जाए।

भाई बुदबुदाया “हाँ… वो तो है…” डबल मीनिंग जवाब देकर वो अपने रूम में चला गया।

मुझे पता नहीं कि इस सबके बाद मोम को नोटिस करने पर उसको कुछ फ़ायदा हुआ या नहीं? लेकिन उसकी नजर पूरे टाइम हम दोनों के नीचे ही ट्रैक होती रही। शायद इसीलिए मोम ने उसको कोई चान्स नहीं दिया कुछ ‘देखने’ का।

लंच के बाद मैं और भाई ऑनलाइन ग्लासेस पर्चेज़ करने पे डिस्कस करते हुए उसके रूम में चले गये। फिर मोम भी आ गई ग्लासेस पसंद करने। उसके बाद भाई तो पीसी पे कुछ-कुछ करता रहा और मैं और मोम बेड पे लेटे बातें कर रही थी। मोम बोलते-बोलते रुक गई और फिर मैंने वहां देखा, जहाँ मोम देख रही थी। भाई की ब्लैक ट्राउजर के दायें पाकेट से पिंक कलर का कपड़ा झाँक रहा था।

मोम ने मुझे इशारे से पूछा लेकिन मेरे जवाब देने से पहले ही भाई ने कहा- “मोम, अरे ये देखना…”

और मोम बड़े ध्यान से उठी और उसके पास जाकर स्क्रीन को देखने लगी, जो भाई दिखाना चाह रहा था। फिर मोम भाई को हटने का बोलकर खुद भाई की जगह बैठकर नेट पे खो गई।

भाई ने मेरी तरफ देखा और मैंने अपनी जाँघो को खोल दिया। फिर वो मोम का ध्यान वेब पेज या जो भी था उसमें लगाकर मेरी शरारती हरकतें देखने लगा। कुछ ही सेकेंड में वो तैयार हो गया पर बेचारे को अभी अंदर ही रहना पड़ेगा।

मोम जब कुछ कहती या फिर हिलती तो मैं सही से बैठ जाती। लेकिन ये टीजिंग ज्यादा देर नहीं चली, मुझे ऊपर रूम से अपने फ़ोन की रिंग सुनाई दी और मैं उठकर चली गई।

मेरे क्लासमेट का काल था, वो उस सब्जेक्ट के बारे में सवाल पूछना चाहता था जिसमें मैं बेस्ट थी। लेकिन मैं उसकी किसी भी प्राब्लम का जवाब नहीं दे पाई। उसके काल के बाद मुझे एहसास हुआ की आजकल मेरा ध्यान कहीं और रहने पे मैं स्टडी में पीछड़ती जा रही हूँ । अबे यार ऐसे तो फेल हो जाउन्गी, इसलिए मैं वापस सन्डे का मज़ा लेने नहीं गई और लैपटाप खोल करके शुरू हो गई। 10 मिनट बाद भाई मेरे रूम में आया तो मैंने उसको भगा दिया।

फिर मैं ईअरफ़ोन लगाकर ऑनलाइन पेजस से नोट्स बनाने लगी और कुछ वीडियोस भी देखे लेक्चर्स के। एक घंटे के बाद मेरे क्लासमेट के उन सवाल और टापिक्स को मैंने कवर कर लिया, तब जान में जान आई। लेकिन इस सब में मैं थक भी गई थी। लैपटाप शटडाउन किया और अब एक ही प्राब्लम साल्व करनी बाकी थी- भाई की।

मोम लौंड्री कर रही थी, क्योंकी मेरे नीचे जाते टाइम वाशिंग मशीन की आवाज़ आ रही थी। भाई के अपने बेडरूम का दरवाजा अंदर से बंद था।

फिर जब भाई ने दरवाजा खोला- “दीदी आप हो क्या?”

मैंने देखा की उसने उल्टा ट्राउजर पहना हुआ था। मैं रूम में घुसी तो मुझे स्मेल आ रही थी, सेक्स की। मैंने पूछा - “तू क्या कर रहा था?”

भाई- “काम कर रहा हूँ …”

फिर मैंने उसके ट्राउजर की तरफ इशारा किया- “और ये क्या है?”

भाई ने दरवाजा बंद करके कहा- “खुद ही देख लो…”

मैंने ट्राउजर नीचे खींचा।

भाई ने कहा- “सारी यू वेस्टेड योर चान्स…”

मैं खड़ी हुई, वो मेरे चेहरे को देखकर स्माइल कर रहा था। मैं उसको धक्का देकर उसके रूम से चली गई।

पीछे से भाई ने आवाज़ दी- “15-20 मिनट बाद…”

मैं- “कोई ज़रूरत नहीं…” कहकर मैं अपने रूम में चली गई।

रात को मैंने और भाई ने ही साथ में डिनर किया क्योंकी मोम शाम में ही अपनी दोस्त के यहां चली गई थी, नॉप। उस चीज़ के लिए नहीं। डिनर के बाद भाई ने कपड़े पहने और वो भी अपने दोस्तों के साथ वीकेंड मनाने चला गया।

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 782
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by Dolly sharma » 05 Dec 2017 19:41

nice story plz update fast

Post Reply