मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
pongapandit
Expert Member
Posts: 346
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 13 Sep 2017 20:20


मैंने एक इंटरव्यू लेने की तरह पूछा- “वैसे सुना है की आपका रियल नाम शालिनी है, तो फिर राखी नाम कब और कैसे चूज किया?”

मोम मेरे इस स्टाइल पर स्माइल के साथ बोली, जैसे की वो एक मगजीन के लिए इंटरव्यू दे रही हों- “टु बी आनेस्ट, ये नाम मैंने चूज तब किया जब मैंने एक स्ट्रेंजर के साथ रात बिताई थी…”

मैं- “क्याऽऽ?” मोम की इस बात से मेरा दिल जोर से उछल गया।

मोम- “एस…” एक प्रोफेशनल की तरह से उन्होंने कहा, जिससे वो और भी सेक्सी लग रही थी। पर मेरी छाती गर्म ही गई थी।

मैं- “डिड यू सेड, यू फक्ड आ कंप्लीटली स्ट्रेंजर?” हमने एक साथ अंजान लोगों से सेक्स किया था, पर मोम की इस बात से मेरी चूचियां कड़क हो गई थीं।

मोम अब कुछ शर्माते हुए- “हाँ… तब ये नाम मेरे सामने आया, उस रात के बाद काफी दिनों तक ये मेरे माइंड को आराम नहीं लेने दे रहा था, तो फिर मैंने इसे आक्सेप्ट कर लिया और तब से ये मेरा निक नेम है…”

मैं- “वाउ… आई मीन, रियली इट्स अमेजिंग। आई थिंक यू शुड टेल मी होल स्टोरी। प्लीज़्ज़… बताओ ना क्या हुआ था?” मेरी जांघों के बीच अब एक घंटी बजी जा रही थी की अब और क्या सुनने को मिलेगा, जो की पानी निकाल दे।

मोम- “रुको, लेट में थिंक…” फिर एक शरारती स्माइल के साथ- “मैं तुझे क्यों बताऊँ, मुझे क्या मिलेगा?”

मैं बेसब्री से मरी जा रही थी- “ओके राखी, बदले में तुम क्या चाहती हो?”

मोम- “स्टोरी के बदले स्टोरी…”

मैं- “ओके…”

मोम- “तुम्हें मुझे बताना पड़ेगा की कब तुम्हारी प्यारी सी जान को वो मिला जो अब तुम्हें मेरे साथ मिलकर लेने में मजा आता है…”

मैं झट से बोली- “16”

मोम की बारी थी अब अपने सीने की पकड़ने की- “ओह्ह… माई गोड, रियली मुझ… मुझे। कैसे?”

मैं कुछ शर्माते हुए बोली- “इन विंटर, जब 10वीं में थी…”

मोम- “तब तुम्हारा बायफ्रेंड भी था?”

पर अभी मैं मोम की स्टोरी जानना चाहती थी- “मेरी दोस्त के घर पर क्रिसमस पार्टी के बाद। आप पहले बताओ अपनी स्टोरी, प्लीज़्ज़… मो… राखी (मेरे मुँह से मोम निकालने वाला था पर राखी से काम आसानी से बन सकता था) बताओ ना?”

मोम- “रियली मोना, तूने तो मुझे झटका दे दिया, ये अच्छी डील है, ओके। तो ये बात है 4 साल पहले की, तब मुझे जयपुर जाना पड़ा था एक बिजनेस डील के लिए, हमारी मीटिंग दिन भर चली और फिर शाम को उनके आफिस से एक कार में वापस होटल जा रही थी और सोच रही थी की होटल में जाकर हाट शावर लूँगी और फिर अपने फेवरिट वाइब्रेटर, जो मैं अपने साथ हर बिजनेस ट्रिप पे ले जाती थी, उससे मास्टरबेट करके एंजाय करूँगी। इस वजह से मैं कुछ गरम हो गई थी।

पर मेरे हार्नी होने की वजह ये भी थी की इस आफिस से निकलने से पहले वाशरूम जाकर मैंने मिडिल साइज का बट प्लग लगा लिया था, ताकी रूम पहुँचने तक गाण्ड का छेद तैयार हो जाए…”

मैं- “ह्म्म… सच आ डर्टी स्लट…”

मोम ने सेक्सी स्माइल के साथ आगे कहा- “थैंक्स फार कांप्लीमेंट। पर वो ड्राइवर ने मुझे मेनरोड के सर्कल पर ही ड्राप कर दिया और कहा की सामने वाली गली के अंदर ही मुझे होटल मिल जाएगा। कुछ देर रोड पर खड़े होने पर मुझे लगा की मेरा होटल वहां नहीं है…”

मैं- “फिर?”

मोम- “मैंने होटल के कार्ड से अड्रेस देखा और फिर किसी को पूछने को रोड पर खड़ी रही, वहां पर कुछ और भी औरतें थी, पर मुझे उनसे पूछना ठीक नहीं लगा। मेरी गाण्ड में बट-प्लग जल्दी से होटल पहुँचने को बोल रहा था और मेरी थोंग गीली हो चुकी थी। तभी मैंने पास खड़ी औरत से वो अड्रेस का पूछा तो उसने कहा की ये जगह उस जगह से 5 किलोमीटर दूर है। मेरे गुस्से का पारा चढ़ गया था और फिर मैंने आफिस काल किया उस ड्राइवर की शिकायत करने के लिए। तो उन्होंने मुझे सारी बोलकर दूसरा ड्राइवर भेजने को बोलकर मेरी लोकेशन पूछी। फिर उस औरत से सर्कल का नाम पूछकर मैंने कार भेजने को बोल दिया और कहा की अगर जल्दी ना आए तो मैं टैक्सी से चली जाऊँगी…”

मैं- “अपने सीधे मुँह पे बोला?”

मोम- “मैंने एक वर्किंग वुमन की तरह कहा, क्योंकी उनसे डील भी तो करनी थी। मैं इंतेजार कर रही थी और उस औरत के पास खड़ी रही, पर उस औरत ने मुझे वहाँ से जाने को बोल दिया…”

मैं- “क्यों?”

मोम- “उसने कहा की मुझे इस जगह पे मेरे होटल जाने के लिए टैक्सी या कोई लिफ्ट नहीं मिलेगी…”

मैं- “तो वो फिर किसका इंतेजार कर रही थी?”

मोम- “वो…” मोम ने नहीं बताया, फिर उन्होंने बात बदलते हुए कहा- “मैंने उसको कहा की मुझे लेने कोई आ जाएगा…”

मैं- “ह्म्म… फिर?”

मोम- “कुछ देर हम वहां खड़े रहे, और फिर उसने वहां पर एक बाइक वाले को रोका, फिर वो उसके साथ चली गई और अब मैंमें वहां पर अकेली खड़ी रह गई, मुझे डर लगा…”

मोम रुक गई, क्योंकी तभी वेटर डिनर ले आया। उसके जाने के कुछ देर बाद।

मैंने खाना खाते हुए पूछा- “तो आपको कैसा महसूस हो रहा था?”

मोम ने आगे बताते हुए कहा- “तो मुझे जल्दी से होटल पहुँचना था और ड्राइवर अभी तक नहीं आया था इसलिए मुझे थोड़ा डर लग रहा था की पता नहीं कैसे-कैसे लोग मुझे इस अंजान जगह पर मिलेंगे। फिर कुछ ही देर में एक कार आकर रुकी और उसमें से एक लड़का जो मुझे आफिस का एंप्लायी लग रहा था, उसने मुझे देखा और वो लेट होने के लिए माफी माँगते हुए मुझे अंदर बैठने को बोल दिया। फिर मैं जल्दी जाकर ड्राइवर साइड की सीट पर बैठ गई और हम चल पड़े…”

मैं- “ओह्ह… अच्छा हुआ, आप किसी प्राब्लम में नहीं फँसी…”

मोम मेरी बात सुनकर कुछ स्माइल कर दी, उसमें कुछ बात थी, फिर मोम ने शरारती स्टाइल में सीट पर अड्जस्ट होकर आगे कहा- “मैंने उससे पूछा की- आपको पता तो है ना की कहाँ जाना है?”

उस लड़के ने कहा- “अम्म… आपके पास अड्रेस तो है ना? बाइ द वे आई एम हरीश…”

मैंने उसको कार्ड दिखाया।

वो बोला- एक बार मैं देख सकता हू?

मैंने उसको अपने होटल का कार्ड दिया तो उसने कुछ हैरानी से कहा- “ये ही है, श्योर? कोई दूसरी जगह डिसाइड हुई थी ना? ओके कोई बात नहीं, हम यहीं पर चलते हैं…”

मैं- ओके।

मोम- होटल सही सलामत पहुँचने के लिए हरीश एक अच्छा साथी था, मैं अब कंफर्टबल होकर, उसे देखते हुए उसकी बातें सुन रही थी, वो वेल कल्चर्ड, और क्यूट सा एक आफिस वर्कर था, पिछले ड्राइवर की तुलना में वो बहुत ही अच्छा बंदा था। वो मेरे लुक और एक प्रोफेशनल वर्किंग वुमन होने की तारीफ कर रहा था, उसने मुझसे पूछा की मैं कब से वर्क कर रही हूँ? इस उमर में भी कैसे मेरी खूबसूरती में निखार है? वो बहुत ही इंप्रेस हुआ, और हैरान भी… जब मैंने बताया की मेरे पति बहुत ही सपोर्टिव है, पहले मैं घर पे ही काम करती थी और अब 12 साल से इस बिजनेस को संभाल रही हूँ।

उसने कहा की मैं लकी हूँ की ऐसा पति मिला है, फिर हम और इधर-उधर की बातें करने लगे और मैं उसकी बातों की वजह से एक बार फिर अराउज़्ड होने लगी, कार के चलते हुए बट-प्लग भी मेरी जान ले रहा था, मुझे हैरानी होनी चाहिए थी की नार्मल बातें करते-करते वो एक आफिस एंप्लायी होने पर भी अपने आफिस के क्लाइंट से, यानी मेरे फिगर के बारे में बात कर रहा था। हम फिर पर्सनल बात करने लगे थे जैसे, मैंने उसकी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा। उसने पूछा की वर्किंग लाइफ स्टाइल के साथ पर्सनल लाइफ और पति-पत्नी का रीलेशन कैसे हैंडल करती हूँ? बातों-बातों में वो मुझे अच्छा लगने लगा और फिर मुझे होटल जाकर जो मेरे प्लान्स थे, उनका खयाल आया। मन ही मन मैंने सोचा की जिस रेप्लिका से मैं खेलना चाहती थी, क्यों ना ओरिजिनल पीस से खेला जाए?”


Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Sponsor

Sponsor
 

pongapandit
Expert Member
Posts: 346
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 13 Sep 2017 20:21


मैंने सेक्सी स्माइल से कहा- “ह्म नाटी…”

मोम- “रियली मैंने पहले कभी किसी अजनबी से सेक्स नहीं किया था, और इस वजह से मुझे एक लस्टी एरोटिक मोटिवेशन मिल रहा था…”

मैं- “किसी अजनबी से? इसका मतलब?” मैंने तेजी से सांस लेते हुए पूछा।

मोम- “हाँ… कुछ ही मिनटों पहले ही तो मिली थी उससे…”

मैं- “नो, अपने किसी जान पहचान के आदमी के साथ? कब?”

मोम का चेहरा थोड़ा शर्म से लाल हो गया, उन्होंने अपनी भौंहें उठाकर मुझे देखा, फिर एक शरारती स्माइल से कहा- “अभी एक स्टोरी सुन लो, फिर अगली सुनने को मिलेगी…”

मैं- “एक नाम तो बताओ ना?”

मोम- “मोना रियली?”

मैं- “बस एक नाम प्लीज़्ज़… प्लीज़्ज़… फिर आप फिर कभी बता देना स्टोरी को, प्लीज?”

मोम- “ओके ओके। मैं तुम्हें इस स्ट्रेंजर हरीश से पहले किसी जान पहचान के आदमी का नाम बताऊँगी पर यहाँ नहीं, अभी नहीं, घर चल के…”

मैं- “पक्का ना?”

मोम- “प्रोमिस, अब आगे सुनना है?”

मैं- “एस प्लीज़्ज़… तो अपने कैसे हरीश को कन्विन्स किया?”

मोम- “मुझे ना तो कन्विन्स करने की जरूरत पड़ी और ना ही उसको सिड्यूस करने की…”

मैं- “हाऊ?”

तभी वेटर बिल देकर चला जाता है, उसके आने और जाने तक हम चुप रहे, आस-पास कुछ लोग चले गये थे, बस मोम के पीछे वाले बूथ में एक कपल था, मोम मेरे पीछे एक कार्नर की तरफ देख रही होती हैं। वेटर के चले जाने के बाद मुझे उस कार्नर की तरफ देखने का इशारा करती हैं।

मैं पीछे देखती हूँ की वो दोनों लड़के जो अकेले बैठे थे, अब भी अकेले बैठे थे। मैंने कहा- “इनकी गर्लफ्रेंड अब तक नहीं आई?”

मोम- “तुझे लगा की ये अपनी गर्लफ्रेंड का इंतेजार कर रहे है?” मोम ने ऐसे कहा जैसे की उनको वो पता था जो मुझे नहीं पता।

मैं- “मुझे लगा की वो वाशरूम गई होंगी…”

मोम- “फार योर इन्फर्मेशन, उनकी गर्ल्स आई ही नहीं है, या यूँ कहूँ के उनको गर्ल्स की जरूरत ही नहीं है…”

मैंने मोम की तरफ देखा और तब मुझे सब समझ में आ गया- “आपको कैसे पता चला?”

मोम- “अब तक मैं उनको किस करते देख रही थी…”

मैं- “अब तक मतलब?”

मोम- “ओह्ह… तुम्हारे वहां से नहीं दिख रहा? यहाँ आओ और मेरे पास बैठकर देखो…”

मैं ध्यान से मोम की लेफ्ट साइड में बैठ गई ताकी किसी का ध्यान मेरी तरफ ना जाए।

मोम- “लुक अट दैत, नाइस व्यू ना?” स्माइल के साथ मोम ने इशारा किया।

मैंने देखा की एक लड़के की पीठ हमारी तरफ थी और दूसरा मोम की तरफ मुँह करके बैठा था, जहां बूथ का ओपनिंग गैप था, वहाँ से मुझे टेबल के नीचे कुछ दिख गया, खुली जिप से उसका कड़क लण्ड बाहर निकाला हुआ था और उसके शैफ्ट को एक टांग सहला रही थी।

मैं- “ओह्ह… माई गुडनेस, सच आ नाइस व्यू, वैसे कब से शो चल रहा है?”

मोम- “3-4 मिनट ही हुए हैं…”

मैं- “ह्म्म… यहाँ पर ‘गे’ भी आते हैं…”

फिर हम कुछ देर तक एकटक देखते ही रहे। पर इससे उस लड़के की नजर हमारी तरफ पड़ गई। मुझे अजीब लगा तो मैंने यहाँ वहां मुँह कर लिया पर मोम तो उसको ही देख रही थी, फिर मैंने भी देखा की उस लड़के को कोई प्राब्लम नहीं हुई। उसने अपने बायफ्रेंड को इसके बारे में बताया और उसने भी हमारी तरफ देखा, उन्होंने अपना सिर हेलो कहने के लिए हिला दिया।

मैं- “क्या वो यहाँ तो नहीं आएंगे? मुझे अभी किसी के साथ कुछ नहीं करना…” वो लड़के हमें देख रहे थे।

मोम- “डोन्ट वरी, वो ‘गे’ है…” और फिर मोम ने नीचे झुक कर मिनी में हाथ डाल दिया।

मैं- “आप क्या कर रही हो?”

मोम- “तेरी तरह मुझे भी किसी के साथ कुछ नहीं करना, और ऐसा लग रहा है की उनको किसी फीमेल की जरूरत नहीं है। यहाँ पर मुझे बढ़िया लिव शो का मजा मिल रहा है, हो सकता है उनको भी थोड़ा सा दिखा देना चाहिए, यू नो, हिसाब बराबर। ह्म्म?”

फिर मोम ने उनकी तरफ हेलो कहने के लिए हाथ हिला दिया, जिस हाथ से उन्होंने हाय किया, उसमें उन्होंने एक रेड कलर की थोंग पकड़ रखी थी। मोम ने मिनी को थोड़ा ऊपर कर लिया जिससे मुझे भी मोम की चूत के दर्शन हो गये।

मोम- “चाहो तो तुम भी उतार सकती हो…”

मैं- “नहीं उतार सकती…”

मोम- “कम ओन, दिस इस नोट फेयर। तुम मजे ले रही हो, पर दे नहीं रही, ऐसा नहीं करते, शो समथिंग…”

मैं मोम के कान के पास धीरे से बोली- “मैं नीचे से कुछ उतार नहीं सकती क्योंकी, कुछ है ही नहीं उतारने को…”
मोम- “ह्म्म… देन वाइ डोन्ट यू स्प्रेड योर लेस? हन्नी?”

मैंने मिनी को कमर तक उठाकर उनको चूत दिखाई, जिसका लण्ड हमें दिख रहा था उसने दूसरे लड़के को कुछ कहा और फिर दूसरे ने खड़े होकर अपने लण्ड की झलक दिखा दी और फिर वापस बैठ गया। हमारे सामने वाले लड़के ने तारीफ करने का इशारा किया और इशारे से दूसरे लड़के ने कहा की वो एंजाय कर रहे है, और मैंने भी थंब्स-अप कर दिया, फिर वो दोनों सही बैठकर आसपास में बातें करने लगे।

मोम- “देखा, वो हमें लेज़्बियन समझ रहे हैं…”

मैं- “क्या हम लेज़्बियन लग रहे हैं?”

मोम ने मेरी तारीफ देखा और मुझे किस कर दिया- “तू बता?”

मैं- “अब लग रहे हैं…” मोम को किस करके कहा।

मोम- “लग रहे हैं?” फिर अपनी भौंहें उठाते हुए पूछा- “है नहीं?”

मैंने उस लड़के की तरफ देखा जो अपनी अंडरराइटर के साथ पैंट को घुटनों तक उतार चुका था फिर मैंने मोम के नीचे देखा तो मोम अपनी टांगें खोलकर बैठी थीं। मैंने कहा- “आई थिंक, सही जवाब है, मैं हूँ बाई-सेक्सुअल…”

मोम ने शरारती स्माइल के साथ कहा- “जानकर अच्छा लगा, क्योंकी मैं भी बाई-सेक्सुअल हूँ…” फिर हम किस करने लगे। पर मोम ने किस करते हुए अपने ‘वी’ कट क्लीवेज को और बड़ा कर दिया। अब मोम की बड़ी-बड़ी चूचियां खुलकर सामने थीं और फिर मोम ने मेरे भी लो-कट को नीचे करना चाहा।

मैं- “एम्म… यहां नहीं…” मोम से किस ब्रेक होने के बाद एक और किस करके मैंने कहा- “अभी नहीं, ये आपको अपनी स्टोरी पूरी करने के बाद मिलेंगे…” और फिर मैं वापस अपनी सीट पर जाकर ड्रेस सही करके बैठ गई।

मोम ने अपनी चूचियां कवर कर ली, पर नीचे ड्रेस को यूँ ही रहने दिया, अब हम जल्दी से डिनर खत्म करने लगे।

मैं- “तो फिर क्या हरीश ने कुछ किया या होटल तक छोड़कर चला गया?”

मोम- “होटल तक पहुँचने तक मैंने मन बना लिया था की हरीश को कैसे भी रूम तक ले जाऊँगी और अगर जरूरत पड़ी तो खुद ही पहल करूँगी। जब हम होटल पहुँच गये तब, हरीश ने मुझसे ऐसी बात कही जिससे मेरे दिमाग से सारे प्लान निकल गये…”

कार रोकने के बाद हरीश ने मुझसे रिक्वेस्ट और सीरियस चेहरे के साथ कहा- “लो हम पहुँच गये, और अब मुझे लगता है की हम प्लान थोड़ा बदल लेते हैं। हमारी बात दो घंटे की हुई थी, मैं जानता हूँ, लेकिन अब मैं आपको पूरी रात के लिए बुक करना चाहता हूँ, सो वाट डू यू से राखी?”

मोम- “मैं तो उसकी बात सुनकर एकदम चकित रह गई…”

इधर मैं भी मोम की बात सुनकर चकित रह गई- “क्या? ओह्ह… गोड, आपको उसने एक रण्डी समझा। पर कैसे?”

मोम- “उस कंपनी के ड्राइवर ने मुझे एक ऐसे एरिया में छोड़ दिया था जहाँ पर लोकल रण्डी लोगों को मिलती थी…”

मैं- “वो औरत, जिसने आपको वहाँ से जाने को कहा वो एक रण्डी थी…”

मोम- “हाँ…”

मैं- “ओह्ह… गोड, फिर क्या हुआ?”

मोम- “तब मुझे एहसास हुआ की वो मुझे अब तक क्या समझ रहा था और मेरी बातों को किस तरीके से उसने लिया, पता नहीं ये राखी कौन थी पर इतना तो पता चल गया था की राखी क्या थी…”

pongapandit
Expert Member
Posts: 346
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: मेरी माँ का और मेरा सेक्स एडवेंचर

Post by pongapandit » 13 Sep 2017 20:22


फिर आगे उसने कहा- देखिए, ये आपके लिए अनप्रोफेशनल सिचुयेशन है और शायद आपको बुरा लग रहा होगा, पर मैंने जब आपकी प्रोफाइल देखी थी तब मुझे पता नहीं था आपका चेहरा तो… चेहरा देखने में कितनी ब्यूटिफुल और अनुभव वाली होंगी, सच में मैं तो आपका फैन बन गया हूँ, आई एम ग्लैड टु मीट यू, प्लीज़्ज़… थिंक अबाउट इट, क्या हम प्लान बदल सकते हैं?

मोम- “अपने मेरी प्रोफाइल देखी और?”

हरीश- “ओह्ह… सारी सारी, मैं ये नहीं कहना चाहता था। पर आपके होंठों से जांघों तक की इमेजेस में किसी को पता नहीं चल सकता की आप रियल में कितनी सेक्सी हैं? मैं ये कहना चाहता हूँ की आपके साथ मैं दो घंटे तो क्या पूरी जिंदगी गुजार सकता हूँ, पर आप सिर्फ… क्या आप और देर तक के लिए हाँ कर सकती हैं?”

मोम- “और देर तक?” मेरा दिल तेजी से धड़क रहा था और मेरी समझ में नहीं आ रहा था की मैं क्या करूं? एक तो वो मुझे रण्डी समझ रहा था, साथ ही मुझे रिलीफ हुआ की वो उस तरह से बदतमीजी नहीं कर रहा था जैसा लोग किसी रण्डी से बिहेव करते हैं।

हरीश ने आगे कहा- जितना टाइम आप दे सकते हैं, क्या आपके और भी क्लाइंट होंगे आज के लिए?

मैं- “नहीं, ऐसी बात नहीं है…” पता नहीं कैसे मेरे मुँह से ये शब्द निकल पड़ते, शायद अब मुझे इस तरह की बात करने में मजा भी आ रहा था।

हरीश- “तो फिर एक रात की डील सेट करते हैं, ओके? मुझे सिर्फ 4 घंटे की रेट याद है, और मेरे पास कैश भी है…”

मोम- आपको रेट पता है?

हरीश- दो घंटे की ₹15000 की बात हुई थी और मुझे 4 घंटे की रेट याद है, पर रात की नहीं। आप रात की रेट बता दो, मेरे पास कैश है।

और फिर उसकी बात की वजह से मैं एकदम से गरम हो गई। मुझे अपनी चूत में एक बार तेज टीस सी महसूस हुई, और पता चला की मेरी चूत पूरी गीली हो गई थी। उसे तो बस कुछ लंबा और मोटा सा चाहिए था, वैसे भी उस अजनबी के साथ वन नाइट स्टैंड के लिए राजी थी ही। मुझे जानना था की मुझे देखकर वो दो घंटों के ₹15000 के बजाय पूरी रात के कितने लुटा सकता है? इस आइडिया से मेरी ब्रा में हार्ड हो चुके टिट्स दर्द करने लगे। मुझे बहुत किकी महसूस हो रहा था और एक अलग उत्तेजना भी बढ़ने लगी थी।

और फिर मैंने उसको कहा- “ओके… मैं रात भर के लिए तैयार हूँ, और इसके लिए ₹50000 देने होंगे…”

मैं- “क्या?”

मोम ने शर्म से चेहरा टेबल के नीचे झुका दिया फिर मेरी तरफ देखकर कहा- “रियली, मैं तब तक कंप्लीटली तुर्न ओन थी, और फिर मजे लेने के लिए मैंने ऐसे ही उसको पूछ लिया। मेरी तो हालत खराब हो रही थी, मैं तो वहीं पर, कार में ही अपनी तपती चूत को शांत करना चाहती थी…”

मैं- “रियली? यू आर डर्टी स्लट…”

मोम- “स्लट? नो, देयर वाज मोर दैन दैट, वन फिल्दी वर्ड कैन डिस्क्राइब मी, यू नो दैट?”

मेरे मुँह से निकाल पड़ा- “होर…”

मोम- “दैटस राइट डियर…” मोम अब आगे झुक कर बोली- “मेरा दिल तेज धड़क रहा था और मेरी चूत… वो तो ढेर सारा पानी बहा रही थी, गाण्ड में प्लास्टिक का टुकड़ा घुसा हुआ था, चूचियों में खलबली चल रही थी, इतना कुछ चल रहा था तो मैं क्यों ना उस सिचुयेशन का फायदा उठाती? और अगर मजा मिल रहा हो एक रण्डी के रोल में? तो मैं अब इसके लिए भी तैयार हो गई थी।

इसलिए मैंने खुद को शांत दिखाते हुए हरीश से कहा- “तो ₹50000 पर राजी हो?”

हरीश- ₹50000 में क्या सर्विस मिलेगी?

मेरे दिमाग में किसी पोर्न मूवी के दृश्य चलने लगे, फिर मैंने कहा- “किसिंग, वाइल्ड किस, ब्लो-जोब, डीप थ्रोट, चूची-चुदाई, यू कैन लिक मी एवरीवेर यू वांट…” मेरे इतना कहने पर मुझे नीचे उसकी पैंट का उभरता हिस्सा दिखा और फिर मैंने आगे आकर कहा- “आई कैन फक यू इन एवरी पोजीशन…”

हरीश- ओह्ह… रियली?

मोम- “हाँ, अगर तुम ₹60000 दो, तो मेरी गाण्ड भी मार सकते हो?”

हरीश- “ओके डन…” फिर उसने मुझे पूरे ₹60000 थमा दिए…”

मैंने खुद को शांत करते हुए उनको अपने पर्स में रख लिया, फिर मैंने कहा- “मेरे साथ आओ…”

मेरा मुँह खुला का खुला था और सर्प्राइज से मेरी आँखें फैल गईं।

मेरे लुक को देखकर मोम की हँसी छूट गई।

मैं- “ओह्ह… माई गोड…” फिर मैं भी मोम के साथ सर्प्राइज के साथ हँस रही थी, मोम ने ऐसा कैसे कर डाला? मैं अपनी आँखें झपका रही थी और सिर हिला रही थी- “आई कान्ट बिलीव दैट…”

मोम- “हाहाहा… रियली?”

मैं- “हाँ… मुझे विस्वास नहीं होता…”

मोम- “लेकिन ये बिल्कुल सही है…”

मैं- “ओहह्ह… ये पागलपन है हाहहाहा…”

मोम- “सच मोना उस रात को सच में मैं एक प्रोफेशनल रण्डी बन गई थी…”

हम कुछ देर तक इस सर्प्राइज और सीक्रेट रिवील मोमेंट का मजा लेते रहे, तब तक हमने डिनर कर लिया होता है, फािर मोम बिल के साथ पैसे रखकर खड़ी हो जाती हैं।

मैं भी उठाते हुए बोली- “फिर क्या हुआ उसके बाद?”

मोम ने अपनी मिनी नीचे करते हुए कहा- “बताती हूँ…”

मैंने देखा की मोम के पीछे से मिनी पर डार्क स्पाट बन गया है, मैंने मोम को बताया तो उन्होंने चेक किया।

मोम “ओह्ह… गीला हो गया…”

मैं- “मेरी देख ना…” और फिर मैंने मोम की तरफ अपनी गाण्ड कर दी।

मोम- “अच्छा है तुमने डार्क कलर पहना है…”

मैंने शरारती स्माइल से कहा- “अच्छा है आपने रेड कलर पहना है…”

मोम- “धत्…”

मोम भी शर्मा गई और हम बूथ से बाहर निकले और उन ‘गे’ लड़कों के पास से निकले।

दूसरे लड़के ने कहा- “नाइस स्पाट लेडी…”

हमने उनकी तरफ हँसते हुए देखा और फिर मोम ने आँख मारते हुए कहा- “थैंक्स बिग स्टड…”

उस लड़के ने अपना 6” इंच का लण्ड पकड़ रखा था।

मोम- “बाइ दि वे, डू यू वांट सम हेल्प?” सेडक्टिव आवाज में मोम ने पूछा।

दूसरा लड़का- “थैंक्स फार आस्किंग, बट आई हैव गाट आलरेडी…” उसने दूसरे लड़के की तरफ इशारा किया।

पहले लड़के ने दो उंगली के बीच जीभ से इशारा करके कहा- “डू यू वांट सम हेल्प?”

मोम- “आई हैव गाट आलरेडी, जस्ट लाइक यू…” मोम ने मेरी कमर में हाथ डालकर अपनी तरफ किया और फिर हमने बिना होंठ छुए सीधे जीभ निकालकर किस कर लिया। मैंने मोम की बाहर निकली जीभ को होठों से चूसा।

हमारा वाइल्ड किस देखकर उस लड़के ने दूसरे से कहा- “वाउ… वी शुड ट्राई दिस…”

फिर मोम ने मेरी तरफ देखते हुए कहा- “ओह्ह… मुझे याद आया, हमने डिजर्ट आर्डर किया ही नहीं…” फिर मोम ने तिरछी नजरों से उन लड़कों की तरफ देखा

वो दोनों लड़के मुँह खोले हमें देख रहे थे।

मैं- “नहीं, मुझे डिजर्ट की जरूरत नहीं है…”

पर मोम उनकी तरफ बढ़ते हुए बोली- “ओह्ह… बट आई थिंक आई नीड सम…”

ओ माई गोड मोम सीधे दूसरे लड़के के सामने घुटनों के बल बैठ गई। वो कुछ समझ पाता उससे पहले ही उसका मोटा सेक्सी लण्ड मोम के मुँह में गायब हो चुका था।

मैं मन में बोल पड़ी- “उह्ह… मोम भी ना…” और मैं पहले लड़के के पास बैठ गई ताकी मोम का प्रोग्राम खत्म हो जाता।

मोम तो बस शुरू हुई की रुकने का नाम नहीं ले रही थी। अब तो पता नहीं उनको इस जगह का और लोगों का भी खयाल रहा था या नहीं? क्योंकी वो आवाजें निकालती हुई किसी पोर्न-स्टार की तरह सेक्स का शो कर रही थी। वो लड़के ‘गे’ तो थे पर लगता था की अब वो घर जाकर फिर से अपनी सेक्सुअलिटी के बारे में सोचेंगे जरूर, मोम जिस तरीके से उस लड़के को ब्लो-जोब दे रही थी उससे तो कोई भी ‘गे’ बंदा बाई तो हो ही जाएगा।

पता नहीं मेरा हाथ भी कैसे अपने आप मेरे बाजू वाले लड़के के लण्ड पर चला गया, पर मेरा ध्यान तो मोम पर ही था। तब मोम ने हमारी तरफ देखकर कहा “कम ओन” तब मेरा ध्यान अपनी तरफ गया की मैं उस लड़के को हैंड-जाब दे रही थी। मैं अब किस बात के लिए रुकती, हम चारों अब और करना चाहते थे और ये यहाँ नहीं हो सकता था, इसलिए हम सभी खड़े हुए, उन दोनों ने अपनी पैंट पहनी और हम दोनों ने अपनी चूचियां कवर किए।

बाहर आकर पहले लड़के ने अपनी कार की तरफ चलने को कहा, पर उनकी कार दूर पार्क की हुई थी, हम सभी हमारी कार में बैठ गये, मैं और पहला लड़का आगे आ गये थे और मोम के साथ दूसरा लड़का पीछे की सीट पर, एक सेकंड में खेल फिर शुरू हो गया था। कार तो हिल डुल रही थी पर उन दो लड़कों की स्पीड से कई गुना कम। मुझे वो किस करता हुआ चोद रहा था और मोम सीट पर उछल-उछलकर मरवा रही थी।

कार में हम चारों लोगों ने धमाचौकड़ी मचा रखी थी, मैं पहली बार झड़ने के बाद दूसरे लड़के के पास चली गई और मोम हटकर आगे को आ गई। इसी बीच वो दोनों लड़के किस करने लगे, दूसरा लड़का पहले वाले से कम आक्टिव था, इसलिए मैं मोम की तरह काउगर्ल पोजीशन में चुदाई करने लगी और मोम को उस लड़के ने खूब जम के चोदा।

तब मुझे ये खयाल आ रहा था की वो ही इस लड़के को चोदता होगा और ये अपनी गाण्ड मरवाने का ही काम करता होगा। कुछ देर बाद वो बोला की वो झड़ने वाला है। इसलिए मैं हट गई और हैंडजाब से उसको झड़ा दिया, और वीर्य को मुँह में ले लिया। पर सोच रही थी की पियूं या नहीं?

वो लड़का मोम को अब भी चोदने में लगा हुआ था। उसने मोम को हटाया और मुझे पास आने को बोला। फिर मैं मोम की किस करने लगी। मेरे मुँह से सारा वीर्य मोम के मुँह में चला गया। फिर मैं ड्राइवर सीट पर लेट गई और मोम पास वाली सीट पर लेटी थी।

अब उस लड़के ने मुझे चोदना शुरू किया। तब मैं चिल्ला-चिल्लाकर उसको और चोदने को बोलती जा रही थी, फिर मैं झड़ गई फिर वो मोम के ऊपर चला गया। मैंने सीट सही की और उन दोनों को देखकर अपनी चूत को राहत दे रही थी। मोम की मस्त ठुकाई कर लेने के बाद वो मोम के अंदर ही झड़ गया। फिर वो दोनों हमारी कार से निकाल गये। मैं अपनी ड्रेस पहनने लगी।

मोम ने उन दोनों की तरफ देखा और मुँह खोलकर मुट्ठी हिलाकर इशारा किया और कहा- “हैव फन बाय्स…”

लड़के- “यू टू गर्ल्स…”

किस करने और चूचियां दबाने के बाद हम वहाँ से रवाना हो गये। मैंने ड्राइव करते हुए कहा- “राखी कपड़े तो पहन लो, नहीं तो किसी का आक्सिडेंट हो जाएगा…”

मोम- “ओके…” मोम ने अपनी क्रीम से गीली उंगलियों को चूत से निकलकर अपनी सीट पर बैठकर उनको अपने मुँह में डाल दिया- “उम्म्म… सो गुड…” फिर उन्होंने अपनी चूत में उंगली डालकर वीर्य निकाला, और उंगलियों को टेस्ट करने लगी।

मैंने ड्राइव करते हुए लेफ्ट हैंड को मोम की चूत पर रख दिया।

मोम- “आह्ह…” मोम अपने टिट्स को पकड़कर ऊपर खींचने लगी, फिर उन्होंने अपनी ड्रेस पहन ली पर चूचियां कवर नहीं किए। रास्ते में जब ट्रैफिक होता तो मोम अपनी चूचियां कवर कर लेती और फिर जब हम खाली सड़क पे होते तो मोम फिर से अपनी चूचियां दबाने लगती।

एक बात मैंने नोट की मोम को थोड़ा बहुत अपनी सेक्सी बाडी दिखाना अच्छा लगता है, क्योंकी जब हम एक गली में निकले जहाँ पर 3-4 लड़के पैदल सामने की तरफ आ रहे थे तब मोम ने अपनी चूचियों से हाथ हटा लिए और नकली अंगड़ाई ली, शायद इत्तेफाक भी हो सकता था।

बद-किस्मती से उन लड़कों ने हमारी कार की तरफ देखा ही नहीं। मैं स्माइल के साथ ड्राइव करने लगी, मोम कभी कुछ देर में मुझे अपनी हथेली दे देती, ताकी मैं उंगलियों पर लगे वीर्य के मजे ले सकूं। मुझे जल्दी से जल्दी घर पहुँचना था, क्योंकी मैं अपने मुँह से वो वीर्य पीना चाहती थी।

अब हम घर पहुँचने वाले थे तब मोम ने अपने आपको ठीक किया। घर पहुँचे, मोम कार से उतरी दरवाजा खोला, मैं कार अंदर ले गई, मोम दरवाजा बंद करके आई और हम अंदर गये। फिर मोम ने मेन दरवाजा बंद करके लाक कर दिया। जैसे ही दरवाजा लाक हुआ, मैंने नीचे से मोम की मिनी को पकड़ा और खींचकर कमर तक ऊपर कर दिया। मेरे सामने दो बड़े-बड़े से गोल-गोल गोरे-गोरे गोले थे, मैंने उसपर जोर की चपत लगा दी तो वहां लाल निशान उभर आया।

मोम- “आह्ह…” मोम ने मुझे देखा पर पलटी नहीं।

मैंने फिर से दूसरे गोले पर भी निशान बना दिया।

मोम- “आह्ह… फिर चपत आह्ह…”

मैं- “डू यू लाइक इट, होर?”

मोम- “एस…”

मैंने कुछ और झापड़ लगा दिए, अब गाण्ड लालमलाल हो गई थी। फिर मैंने मोम को पलट दिया, और लाल हो चुकी गाण्ड मेन दरवाजे की तरफ हो गई, जिसने पूरी दुनियां से हमारे खेल को छुपा रखा था, फिर मैं मोम की चूत को एक हाथ से मसलते हुए मोम को किस करने लगी, मोम ने मेरे बालों को पकड़कर पीछे खींचा आह्ह… फिर मेरी दाईं चूची को मिनी के अंदर हाथ डालकर जोर से दबाते हुए मुझे किस किया।

फिर मोम ने मेरी चूचियां लो-कट से बाहर निकाल दिए और फिर दबाते हुए मुझे किस करती जा रही थी और मैं मोम की चूत में दो उंगलियों से झटके दे रही थी, हमने किसिंग करते-करते एक दूसरे को नंगा कर दिया। फिर मोम मेरा हाथ पकड़कर घर के अंदर ले गई, और मुझे हाल में ले जाकर सोफे पर धकेल दिया, मैंने गिरते ही अपनी टांगें फैला दी और मोम मेरी चूत पर टूट पड़ी। मोम ने बहुत ही जबरदस्त क्लिट को चूसा जिससे मेरी पीठ एक धनुष की तरह मुड़ गई, मैंने खुद को मोम के हवाले कर दिया था।

मोम की जीभ और उंगलियों ने मेरी बैंड बजा दी, आह्ह… सस्स्स… की आवाज के साथ कुछ ही देर में मैं झड़ गई, फिर मोम मेरे पास किसी बिल्ली की तरह मटकती हुई आई मेरे ऊपर लेट गई।

मैं घूमकर मोम को नीचे लाकर खुद मोम ऊपर चढ़ गई, गर्दन, चूचियां, नाभि, और फिर प्यूबिक एरिया पर जीभ को चलाते हुए मैं चूत तक पहुँच गई। फिर मैं मोम की चूत में दो उंगलियों डालकर क्लिट को चाटने लगी, अब मोम की बारी थी पीठ को धनुष बनाने की, मोम अपनी चूचियां पकड़कर मुझे अपनी चूत को चाटते देख रही थी।

सस्स्स्स राइट देयर एम्म्म मोम और मैं एक दूसरे को एकटक देखते हुए मजे लेते जा रहे थे, पर मोम मुझसे इस आँखों के खेल में जीत नहीं पाई, क्योंकी वो बार-बार सिसकारी लेते हुए अपनी आँखें बंद कर लेती। फिर बैठकर मैंने चूत में उंगली की गिनती बढ़ा दी, 3 उंगलियों से मोम तेजी से सांस लेती और तड़पते हुए यहाँ वहाँ होने लगी।

तभी चूत से खूब सारा पानी बाहर आया और सोफे पर छलक गया, मोम जोरों से चिल्लाकर शांत हो गई, फिर मैं मोम के ऊपर लेट गई और मोम के मुँह में अपनी हथेली डाल दी, मेरी कलाई पकड़कर मोम ने एक-एक उंगली को चाट कर साफ कर दिया। फिर मोम ने धीरे-धीरे और बड़े प्यार से मेरे होठों को अपने होठों से मिला दिया। तेज साँसें एक दूसरे के चेहरे से टकरा रही थी, हम दोनों कई लंबे पलों तक एक दूसरे से जुड़े रहे, फिर किस को आगे बढ़ाते हुए मुँह को और खोल लिया और अब हमारी जीभें आपस में मिल गईं।



Post Reply