जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं

Re: जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

Sponsor

Sponsor
 

abpunjabi
Pro Member
Posts: 156
Joined: 21 Mar 2017 22:18

Re: जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

Post by abpunjabi » 31 Oct 2017 20:30

उस दिन घर आ के पहली बार मैंने दीदी को इतनी कन्फ्यूज़्ड ओर डिप्रेस्ड देखा | आख़िर आज दीदी को मेरी हेल्प की ज़रूरत भी पड़नी ही थी | शाम को दीदी मेरे पास आई और बोली “दीपू अब क्या करें, कल प्रिन्सिपल ने पेरेंट्स को साथ लाने को कहा है” | मैंने कहा, “दीदी मम्मी को ले जाओ” | वो कुछ सोचने लगी फिर बोली “अगर मुझे पता होता कि रोहित ऐसा है तो मैं कभी भी....” फिर कुछ कहती कहती रुक गई | मैंने कहा, “बात क्या हुई थी दीदी”

दीदी : वो सब छोड़, तू एक बात बता तू एक काम करेगा |

मैं : क्या दीदी |

दीदी : कल सुबह तू मेरे साथ प्रिन्सिपल के पास चलेगा |

मैं : ओक दीदी |

दिल को लगा शायद दीदी की हेल्प करके मुझे दीदी को चोदने का कोई रास्ता मिल जाए | उधर हमारे कॉलेज के प्रिन्सिपल का रेकॉर्ड भी कोई अच्छा नही था | वो एक नंबर का ठरकी बुढ़ा था | उसकी बीवी मर चुकी थी ओर एक लड़की थी जिसकी शादी कर चुका था और अभी भी अपनी शादी करने की सोच रहा था | कॉलेज में कोई भी नई मैडम उसकी मर्ज़ी के बिना अपायंट नही होती थी और अपायंट करने की उसकी कुछ अपनी पर्सनल शर्तें होती थी |
नेक्स्ट डे हम दोनो बहन भाई सीधा प्रिन्सिपल के ऑफीस में गये | उसने पूजा दीदी को खड़े रहने को बोला और मुझे चेयर पे बैठने को, मैं बैठ गया और अभी कहने ही लगा था कि “सर हमारे पेरेंट्स” | प्रिन्सिपल ने मेरी बात काट दी और बोले “बाहर कहीं गई होंगे ना ... स्टूडेंट्स अक्सर ऐसे बहाने करते हैं ... देखो बेटा तुम ही बताओ कि रोहित अच्छा लड़का है क्या”

मैं “नो सर”

प्रिन्सिपल “फिर भी तुम अपनी बहन की हेल्प कर रहे हो.... रोहित की जगह अगर कोई ओर लड़का होता तो शायद मैं यह एक्शन ना लेता .... हम लोग तुम लोगो को ग़लत रास्ते और ग़लत लोगो से बचाने के लिए ही यह सब करते हैं”

मैंने मौका देखके अटैक किया “सर दीदी सारी रात रोती रही है कि पता नही सुबह क्या होगा इसे बहुत टेंशन हो रही है सर”

प्रिन्सिपल “देखो बेटा, हमारा मक़सद सिर्फ़ तुम को समझाना है और कुछ नही, टेंशन वाली कोई बात नही, इधर आओ बेटा मेरे पास” दीदी मेरी चेयर के पीछे खड़ी थी वो प्रिन्सिपल की बड़ी सारी ऑफीस टेबल की लेफ्ट साइड से घूमके प्रिन्सिपल की चेयर के पास जा के खड़ी हो गई | मैं प्रिन्सिपल के सामने बैठा था लेकिन ऑफीस टेबल के उस पार प्रिन्सिपल की चेयर को उपर से ही देख सकता था | प्रिन्सिपल ने दीदी का हाथ पकड़ा और बोला “देखो बेटा रोहित अच्छा लड़का नही है उसकी कंपनी तुम्हारे लिए अच्छी नही है .... अगर तुमको कोई परेशानी या किसी चीज़ की ज़रूरत है तो तुम सीधा मेरे ऑफीस में आ जाया करो”

फिर प्रिन्सिपल ने आज का न्यू पेपर उठाया ओर मेरे सामने रखते हुए कहा, “देखो बेटा आज कल शहर में क्या क्या हो रहा है.... यह न्यूज़ पड़के देखो ज़रा ....” मैंने अपनी आँखें न्यूज़ पेपर पे घुमानी शुरू कर दी इस बीच मेरी हल्की सी नज़र दीदी की तरफ गई | मैंने उसके फेस को देखा वो लाल हो रहा था | दीदी लंबी लंबी सांसें ले रही थी | जिससे उसकी शर्ट से उसकी चुचियां उपर नीचे होते बिल्कुल सॉफ दिखाई दे रहीं थीं | मुझे कुछ समझ ना आया जब मैंने थोड़ी नीचे नज़र डाली तो ऐसा लग रहा था कि दीदी की कमर के नीचे उसकी स्कर्ट में कुछ रैंग रहा है | मुझे समझते देर नही लगी कि वो प्रिन्सिपल सर का हाथ था | वो राईट हैण्ड से अपनी ड्रोज़ में कुछ ढूंड रहे थे और उनका लेफ्ट हॅंड दीदी का रेस्पॉन्स चेक कर रहा था | फिर कुछ देर बाद प्रिन्सिपल सर बोले “दीपक बेटा तुम को क्लास लगानी होगी... तुम अगर जाना चाहो तो जाओ डोंट वरी फ़िक्र की कोई बात नही”
मैं “नही सर मेरा पहला पीरियड फ्री है आज” | मुझे पता चल गया था कि साला मुझे भगाने के चक्कर में है |
फिर बोला “मैं तुम्हारी दीदी का एक टेस्ट लूँगा ओर इस को एक क्वेस्चन सॉल्व करने के लिए दूँगा अगर यह एक अच्छी स्टूडेंट है और इसने सॉल्व कर दिया तो फिर मैं इसकी वॉर्निंग भी वापिस ले लूँगा.... ठीक है” फिर सिर ने एक पेन और खाली पेपर निकाल के अपनी चेयर के करीब दीदी के सामने रख दिया और मुझे बोले “बेटा तुम सामने सोफे पे बेठ जाओ .... आज टीचर्स मीटिंग है...... टीचर्स भी आते ही होंगे” मैं चेयर से उठा तो प्रिन्सिपल सर ने मुझे न्यूज़ पेपर भी साथ ले जाने को कहा | मैं सामने परे लेफ्ट सोफे पे बैठ गया और न्यूज़ पेपर पढने लगा |

प्रिन्सिपल और दीदी को देखने के लिए मुझे अपने राईट कंधे की तरफ गर्दन घुमाना पड़ना था | अब प्रिन्सिपल सर दीदी को कुछ समझा रहे थे | शायद कोई क्वेस्चन दे रहे थे और बिना मेरी परवाह किये अपने लेफ्ट हैण्ड से अपना दूजा काम भी किए जा रहे थे | दीदी भी उनके और नज़दीक सरक गई थी | मेरी आँखें बेशक न्यूज़ पेपर पे थी लेकिन कान उन दोनों की हरकतों की तरफ ही थे | कुछ देर बाद दीदी, सर की चेयर के करीब ही थोडा झुकी और कुछ लिखने लगी अब दीदी के झुकने से प्रिन्सिपल को अपना काम करने में और भी आसानी हो रही थी | उनका व्यू और भी अच्छा हो गया था | मैंने एक नज़र प्रिन्सिपल की तरफ डाली उनका ध्यान दीदी की गांड की तरफ था | लग रहा था कि वो दीदी की चूतड़ पे हाथ फिरा रहे हैं | मैंने भी नज़र बचा के देखना शुरू कर दिया | मेरा लंड खड़ा हो चुका था | मैंने अपनी पेंट की पॉकेट में हाथ डालके अपने लंड को मसलना शुरू कर दिया | फिर कुछ देर बाद ज़ोर से टक की आवाज़ आई | साफ पता चल रहा था कि दीदी की पेंटी की एलास्टिक की आवाज़ है लेकिन मैंने नोटीस नही लिया | इससे शायद वो डिस्टर्ब हो जाते | मैं न्यूज़ पेपर पढ़ने का नाटक करता रहा | फिर थोड़ी देर के बाद नज़र घुमाई तो दीदी टेबल पे पेपर पे झुकी कुछ लिख रही थी लेकिन पीछे से उसकी गांड धीरे धीरे हिल रही थी और प्रिन्सिपल सर के दोनों हाथ टेबल के नीचे थे | ऐसा लग रहा था कि वो चेयर पे बैठे एक हाथ से अपने लंड को हिला रहे हैं और दूजा हाथ दीदी की टांगों और गांड पे फिरा रहे हैं | उनकी चेयर पीछे की तरफ सरकी हुई थी, फिर कुछ देर बाद सर ने जानबुझ के अपनी चेयर के सामने जिस जगह उनकी टांगें होती हैं वहाँ पे अपना पेन गिरा दिया और दीदी को बोले “बेटा पेन उठाना ज़रा” | मैं टेडी आँख से सब देख रहा था | दीदी उनकी चेयर के आगे बेठ गई और पेन उठा के उठने लगी तो सर ने पहले मेरी तरफ देखा फिर मुझे न्यूज़ पेपर पढ़ता देख जल्दी से अपने दोनो हाथ दीदी के कन्धों पे रख के उसको उठने नही दिया | फिर दीदी की शर्ट के गले से अपना हाथ अंदर डाल के उनकी चुचियों को दबाना शुरू कर दिया | कुछ ही देर के बाद प्रिन्सिपल की “आह... ऊ.... हुउऊहू...ओ” की हल्की सी आवाज़ आई शायद उनकी पिचकारी छूट गई थी और दीदी झट से उठ के खड़ी हो गई |

दीदी की शर्ट के उपर वाले दोनो बटन खुले थे और उनमें से नज़र आ रहे दीदी के गोरे गोरे मुम्मे बहुत सेक्सी लग रहे थे | दीदी झट से बोली “सर मैं जाऊं अब”
प्रिन्सिपल “हाँ बेटा........ तुम लोग जाओ ..... और हाँ पूजा बेटा अगर तुम्हे कोई भी तकलीफ़ हो तो सिधा मेरे पास चली आना किसी प्रकार की जिझ्क मत करना ठीक है” | हम प्रिन्सिपल के रूम से निकल आये | बाहर आके दीदी मुझ पे भड़क रही थी और बोली ”सर ने कहा था जाने को... फिर भी दफ़ा क्यों नही हुआ .... शुक्र है फिर भी वो मान गये” |
अगर आपको यह कहानी पसंद आये तो कमेंट जरुर दीजिएगा ...........

User avatar
shubhs
Gold Member
Posts: 998
Joined: 19 Feb 2016 06:23

Re: जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

Post by shubhs » 31 Oct 2017 21:41

बिंदास
सबका साथ सबका विकास।
हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, और इसका सम्मान हमारा कर्तव्य है।

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1046
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

Post by Kamini » 31 Oct 2017 23:04

Mast update

abpunjabi
Pro Member
Posts: 156
Joined: 21 Mar 2017 22:18

Re: जीजा के कहने पर बहन को माँ बनाया

Post by abpunjabi » 01 Nov 2017 15:34

दीदी की शर्ट के ऊपर वाले 2 बटन अभी भी खुले थे | उनमें से नज़र आ रही गोरी चूचियां मेरी हवस को और हवा दे रही थीं | मेरा ध्यान दीदी के बूब्स पर ही था और मैं ऐसे ही पॉकेट में हाथ डाले लंड को मसलता हुआ दीदी के साथ चल रहा था | फिर कुछ देर बाद मैंने कहा “दीदी अब तो शर्ट के बटन तो बंद कर लो” |
दीदी “तू अपना काम कर ओके, मुझे पता है क्या करना है” | वो मुझ पे भड़क रही थी तो सामने से टीचर आ गया | दीदी के बाहर झाँक रही चुचियों पे उनकी सीधी नज़र गई और वो अपने होंठों को गोल होने से रोक ना सके | मुंह से एक आवाज़ निकली जैसे बहुत तेज मिर्ची खाने के बाद हमारे मुंह से निकलती है “इइसस्स्स्स्सस्स” | दीदी स्माइल के साथ उन्हें “गुड मॉर्निग सर” कह के आगे बढ़ गई | साली मेरी ही किस्मत खराब थी बाकी सब को पूजा दीदी का साथ मिल रहा था बस मैं ही तरस रहा था |

कुछ दिन बाद मैं अपने दोस्तो के साथ फ्री पीरियड में ग्राउंड में जाके बेठ गया | मैंने दूसरी ग्राउंड में नज़र मारी तो वहाँ पहले ही कुछ लोग बैठे थे और कुछ खेल रहे थे | ग्राउंड में एक साइड पे 1 चेयर रखी थी | उस पे टीचर बैठे थे | उनके आस पास कुछ ओर स्टूडेंट्स भी बैठे थे | मैं और मेरे दोस्त उस तरफ चल दिए | उनमें मेरा दोस्त मोहित भी साथ था | हम सब टीचर के पीछे जा के खड़े हो गये | सामने दीदी एक लड़की के साथ बैडमिंटन खेल रही थी | दीदी जैसे जैसे उछल कूद कर रही थी | उसके बूब्स भी वैसे ही अप डाउन हो रहे थे और कभी कभी जब दीदी जंप लगा के हिट करती तो स्कर्ट के नीचे से गोरी लंबी टांगों के ऊपर ब्लैक कलर की पेंटी भी नज़र आ जाती थी | मेरे ख्याल से सब लोग दोनो लड़कियों के सेक्सी जिस्म की उछल कूद का मज़ा ले रहे थे | ना कि गेम का | मेरे दोस्त ओर मैं हम सब भी यह सब देखने लगे |

फिर मोहित बोला “दीपक उसके मुम्मे देख, केसे उछाल रहे हैं”

मैंने कहा, “साले पूजा दीदी है” |

मोहित, “सॉरी यार,एक बात बोलूं , गुस्सा तो नही करेगा”

मैंने कहा, “बोल” | मुझे पता था कि वो क्या बोलने वाला है लेकिन मुझे उसके मुंह से सुनके और भी मज़ा लेना था |

मोहित “यार देख गुस्सा मत होना, लेकिन जो बात सच है वो सच है” |

मैंने कहा “कुछ बोलेगा या नहीं” |

मोहित “देख तुझे खराब लगेगा, लेकिन यार पूजा दीदी बहुत सेक्सी है, कितने लड़के उसके पीछे लगे हैं , तू क्या सोचता है कि यह सब लोग बैडमिंटन की गेम देखने के लिए बैठे हैं , सब पूजा दीदी की टांगें और मुम्मे देखने बैठे हैं, यार जब पूजा दीदी उछल उछल कर शॉट लगाती है तो देख पूजा दीदी के मोटे मोटे मुम्मे कैसे उछल रहे हैं और पूरे स्कूल के लड़कों ने पूजा दीदी का नाम सेक्सी बिच रखा हुआ है” |

यह सब मुझे तो पहले ही पता था | लेकिन उसके मुंह से सुनने में और मज़ा आ रहा था लेकिन एक्टिंग करनी भी ज़रूरी थी क्योंकि आख़िर वो सेक्सी बिच मेरी बड़ी बहन थी | फिर मैंने मोहित को कहा “साले तू ऐसे कैसे बोल रहा वो मेरी बड़ी बहन है” |

मोहित “हाँ यार इसलिए तो तुझे बता रहा हूँ , एक बात और भी है , लेकिन छोड़ , तू सच में गुसा हो जाएगा” |

मैंने कहा “साले इतना कुछ तो पहले ही बोल चुका है, अगर फिर भी कुछ बाकी है तो बोल ले ”

मोहित “देख पूजा तेरी बहन है, मुझे पता है , मेरी भी बहन जैसी ही है , लेकिन वो सच में इतनी सेक्सी है कि मुझे रोज़ उसके नाम पे 1-2 बार मुट्ठ मारनी पडती है” |
मैं “साले क्या बकवास कर रहा तू” |

मोहित “चल छोड़ , कोई और बात कर , मुझे पता था तू गुस्सा करेगा” | कुछ टाइम के बाद हमारे बाकी दोस्त मोहित को बोले “मोहित हम टाय्लेट जा रहे हैं, तुझे भी आना है या अभी और मैच देख के आएगा” यह कह के वो हंसने लगे |

मोहित ने स्माइल करते ना जाने के लिए सर हिला दिया और उनके जाने के बाद मोहित फिर मुझे बोला, “दीपक तुझे पता है यह सब टाय्लेट क्यों गए, सब मुट्ठ मारने गए हैं, सब टाय्लेट में जाकर पूजा दीदी को याद करके मुट्ठ मरेंगे” |

मैं चुप रहा लेकिन मुझे मोहित की हालत भी समझ आ रही थी और खुद की भी | मैं तो पूजा दीदी का सगा भाई होने के बावज़ूद कंट्रोल नहीं कर रहा था | बाकी सब की तो बात ही अलग थी | दीदी को सेक्सी दिखने का बहुत शौक था | उसे शॉर्ट स्कर्ट पहनने का बड़ा शौंक था | उसकी फिगर और लिप्स हॉलीवुड हीरोइन एंजला जोली के जैसे थे | वो अपने आप को कैटरीना कैफ़ के साथ कंपेयर करती थी | उसका 5.7” लंबा गोरा जिस्म, कैटरीना से कम भी नहीं था | जब वो पंजाबी सूट के साथ पटियाला सलवार पहनती तो सभी पीछे मुड़ मुड़ के देखते थे और जब जीन्स और टॉप पहनती तो उसका एक एक अंग तीर की तरह चूभता था | जब कभी वो शॉर्ट स्कर्ट पहनती तो मैं शॉर्ट स्कर्ट में उसके झुक के कोई चीज़ उठाने का इंतज़ार करता रहता | जिस से दीदी की पेंटी नज़र आ सके | 1-2 बार मैंने देखा कि जब उसने जीन्स के साथ कमर के ऊपर तक का स्माल टॉप पहना होता तो उसे देखके मेरी तो हालत खराब होती ही थी मगर मेरी नज़र भी उसकी तरफ बार बार जाती थी | लेकिन लाख कोशिश के बाद भी मुझसे कुछ नही हो पा रहा था | अपनी बहन को चोदने के लिए किसी की अड्वाइज़ भी तो नहीं ले सकता था | जब भी मैं दीदी के बूब्स को या उसके जिस्म के किसी भी हिस्से को सहला के सिड्यूस करने की कोशिश करता तो वो मुझे डांट देती, ”दीपू क्या कर रहा है, दिमाग़ सही है तेरा” | मैं डर जाता और काँपने लगता और कुछ भी ना कर पाता | अब कई बार मैं सोचता हूँ कि जितना एक्सपीरियेन्स लड़की को सिड्यूस करने और चोदने का मुझे अब है अगर तब होता तो बहुत आसानी से दीदी को उसी वक़्त चोद देता शायद जब मैं दीदी को सिड्यूस करने की कोशिश करता था तो उसपे भी असर होता था और वो इस लिए डांट देती थी कि कहीं वो आउट ऑफ कंट्रोल होके अपने छोटे भाई के साथ कुछ कर ना बैठे और मेरी बात बनते बनते बिगड़ जाती थी | अब मुझे लग रहा है कि उस वक़्त की मेरी सबसे बड़ी कमज़ोरी मेरी घबराहट और डर था और कुछ भी नहीं | एक बार मेरे एग्जाम चल रहे थे | मैं और दीदी दोनो एक रूम में सोते थे | बेड अलग अलग थे लेकिन रूम एक ही था | मैं पढ़ रहा था और दीदी सो रही थी | रात काफ़ी हो चुकी थी | पढ़ते पढ़ते मेरी नज़र दीदी के जिस्म की तरफ गई | उसका चेहरा मेरी तरफ था | उसने मेरी तरफ करवट ले रखी थी | उसकी चुचियां और पिंक लिप्स देखके पता नहीं कब मेरा मूड फिर बनना शुरू हो गया | मैं धीरे धीरे पागल हो रहा था | मैं दीदी की तरफ देखता रहा और अपने ट्राउज़र के अंदर हाथ डाल के अपने खड़े लंड को हिलाना शुरू कर दिया | मैंने धीरे से बोला, “दीदी....... दीदी” | उसने जवाब नहीं दिया | मुझे लग रहा था कि दीदी जाग रही है और सोने की एक्टिंग कर रही है | मैंने बुक साइड पे रखी और शॉर्ट्स से अपना लंड बाहर निकाल के स्ट्रोक करना शुरू कर दिया | मेरे दिमाग़ में ऐसा था कि दीदी सोने की एक्टिंग करती सब कुछ देख रही है और मैं भी उसे सब कुछ दिखाना चाहता था |

अगर आपको यह कहानी पसंद आये तो कमेंट जरुर दीजिएगा ...........

Post Reply