ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
jay
Super member
Posts: 7131
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Post by jay » 03 Dec 2017 18:54

शाम को थोड़ा अंधेरा होते ही उन लड़कों को लेकर एक ठिकाने पर पहुँचे जो हमारे कॉलेज से सबसे ज़्यादा दूर था, जिससे किसी को हमारी योजना का गुमान भी ना हो और हमारे मतलब का बंदा भी मिल जाए.

मोनू और चिंटू के साथ, जगेश और रोहन को उस अड्डे पर भेजा और हम थोड़ी दूर आड़ में बाइक्ज़ लेकर खड़े रहे, वहाँ जाके उन्होने उनकी अपनी स्टाइल मे ड्रग डिमॅंड की…

चिंटू- अशरफ भाई, माल है क्या ?

अशरफ – अरे मोनू- चिंटू बड़े दिनों के बाद दिख रहे हो कहीं चले गये थे क्या…?

मोनू- हां भाई, एग्ज़ॅम के बाद गाँव चले गये थे, फिर कुछ दिन दूसरे अड्डे से काम चलाया, आज इधर पास में ही आए थे सोचा आपसे मुलाकात भी हो जाएगी और कुछ सुत्ते का भी जुगाड़ हो जाएगा… है क्या कुछ ??

अरे तेरे को क्या माँगता है बोल, बहुत कुछ है अपुन के पास.. बोल चरस, हाशिस, कोकीन क्या माँगता है तेरे को.

भाई दो-दो डोज देदो….

अशरफ- ये दोनो चिकने कॉन हैं..?

मोनू- ये नये आए हैं भाई… इनको भी शौक है इसका..

ले ! माल निकाल और फुट ले यहाँ से, आते रहने का क्या ?? एकदम कड़क माल मिलेला है इधर, दूसरे अड्डों के माफिक मिलावट वाला नही रखता अपुन.

वो चारो वहाँ से ड्रग्स लेके लौट लिए, और वहाँ आ गये जहाँ पेड़ों की आड़ में हम तीन बाइक लिए खड़े थे.

ये एक खोली नुमा जगह थी, आगे की तरफ टाइयर पन्चर की दुकान खोल रखी थी और पीछे की साइड में ये सब धंधा चलता था. शहर के दूसरी तरफ था ये अड्डा, वहाँ से कोई 1-2 किमी पर ही दूसरा कॉलेज था, जिसके लड़के यहाँ से ड्रग्स लेते होंगे.

अब साला सोचने की बात थी, कि इतना खुलेआम सब कुछ होता है वो भी कॉलेजस के आस-पास ही, और प्रशासन सोया पड़ा है.?? कुछ तो चक्कर है ? इसकी तो तह तक जाना पड़ेगा, ये सब बातें मेरे मन में चल रही थी

में बाइक पर बैठा ये सोच ही रहा था, कि धनंजय बोला- देख अरुण उधर अड्डे की तरफ, जैसे ही मैने देख तो एक पोलीस जीप उसी खोली नुमा जगह के आगे रुकी, जिसमें से एक सब इनस्पेक्टर और दो कॉन्स्टेबल उतरे और खोली के अंदर चले गये.

मेरा माथा ठनका, मैने अपने दोस्तों से कहा- में साला अभी यही सोच रहा था, और ये तो इतनी जल्दी प्रमाद भी मिल गया.

धनंजय- क्या..? क्या सोच रहा था...तू.?

मे- यही कि इतना सब कुछ खुलेआम होता है गैर क़ानूनी तौर पे और प्रशासन को कोई फिकर ही नही, और ये फिकर करने वाले इतनी जल्दी आ भी गये.. वाउ!

धनंजय- किस तरह की फिकर..?

मे- तू अभी भी नही समझा..? अरे ये पोलीस की मिली-भगत से हो रहा है सब. और ये अपना आज का कमिशन लेने आए हैं..! पक्का.

म- तो अब क्या प्लान है..?

मे – अब आक्षन लेना है और क्या? चिंटू..! इस बंदे का नाम क्या है, जो यहाँ ड्रग्स बेचता है और उसके साथ और कॉन-2 है अभी, कितने लोग हैं यहाँ..?

चिंटू – इसका नाम अशरफ है, और अभी यहाँ उसके अलावा एक 12-14 साल का लड़का और है, जिसे छोटू के नाम से बुलाते हैं सब लोग.

इतने में अपना हिस्सा लेके वो पोलीस वाले वहाँ से चले गये, अब हमारा आक्षन लेने का समय आ चुका था.
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Post by 007 » 03 Dec 2017 21:14

nice update
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6902
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Post by rajaarkey » 04 Dec 2017 12:04

mast.........
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1890
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Post by Ankit » 04 Dec 2017 18:49

superb update

User avatar
xyz
Platinum Member
Posts: 2360
Joined: 17 Feb 2015 17:18

Re: ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना

Post by xyz » 04 Dec 2017 19:13

nice story bhai

Post Reply