काला साया

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 716
Joined: 03 Apr 2016 16:34

काला साया

Post by Dolly sharma » 30 Oct 2017 17:04

काला साया

हेल्लो आरएसएस रीडर्स कैसे हैं आप ? बहुत समय से मैने कोई स्टोरी पोस्ट नही की मैने सोचा कहीं आप अपनी इस सहेली को भूल तो नही गये इसीलिए एक छोटी सी स्टोरी लेकर आई हूँ जो आपको पसंद आएगी .

फ्रेंड्स इस कहानी मे थ्रिल, एक्शन , सेक्स सब कुछ है तो चलिए कहानी की ओर चलते हैं

काला साया

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 716
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: काला साया

Post by Dolly sharma » 30 Oct 2017 17:14

रात का अंधेरा काला साया , खामोशी से भरा , हल्की हल्की गिरती बारिश की बूँदें.

एक पतली सी सड़क और उस सड़क के दोनो तरफ़ घना जंगल ,बारिश की वजह से सड़क गीली हो चुकी थी , और उसकी दूसरी तरफ कुछ था जो उस घने जंगल में पनप रहा था..!

उसी रात उसी घने जंगल में एक बूढ़ा आदमी मौजूद था..!

जिससे हर एक चीज़ के बारे में पता था..!

जिसे खुद भगवान ने भेजा था,सत्य को उजागर करने के लिए..!

कुछ लक्कड़हारे उस रात को उसी जगह से गुजर रहे थे..!
डर उनके दिलो दिमाग़ पर छाया हुआ था..!

तभी उनमे से एक का पैर उसी जगह किसी गड्ढे में फँस गया..!

उसका साथी भी उसकी मदद करने में लगा हुआ था..!

लेकिन तभी वो हुआ जिसकी शायद ही उन्होने कल्पना की हो..!

एक हाथ उस गड्ढे से बाहर आया और जैसे ही उसने उनका शरीर छुआ,एक दर्दनाक चीख पूरे वातावरण में गूँज गयी..!
आआआआआआआआआहह.....

उसके साथ वाला आदमी अभी कुछ समझ पाता कि उसके भी मुँह से चीख निकली जो इतनी भयानक थी कि कोई कमजोर दिल का आदमी सुनते ही मर जाता..!
आआआआआआआआआहह.....
बाआाआअक्कककककककचहाआाआओंम्म्मममम..!

लेकिन वहाँ ना कोई सुनने वाला था ना कोई मदद करने वाला..!

में आ गया हूँ....,तभी वहीं एक पेड़ पे उन आदमियो के ही खून से अपने आप लिख गया..!

वही दूर खड़ा वो बूढ़ा आदमी कुछ सोच रहा था,फिर अचानक वो हँसने लगा,जैसे उसे इन सब के बारे में पहले से पता था..!

__________________

उसी रात एक आदमी अपने आलीशान घर में कुछ रिसर्च कर रहा था,जो शायद कामयाब हो गया था..!

हाआआअश,उसके मुँह से खुशी से निकला..!

ये भी एक मामूली आदमी था उसके साथ ही एक बहुत ही विद्वान और जिग्यासू साइंटिस्ट,पर अचानक वो केमिकल उस ट्यूब को फोड़ते हुए उस ग्लास के पानी में मिल गया..!

तभी वहाँ एक लड़का आया जो उस आदमी का एक मात्र बेटा था..!

उस लड़के को प्यास लगी होती है,और वो वही केमिकल मिला हुआ पानी पी लेता है जिसके बारे में वो जानता भी नही है..!

अचानक वो आदमी वहाँ आता है और अपने बेटे को देखता है,उसके चेहरे की खुशी दुगनी हो जाती है,अर्रे राज तुम कब आए..!

जी हाँ वो लड़का कोई और नही मैं ही था..!

लेकिन इससे पहले कि में कुछ बोल पाता मेरे मुँह से एक दर्दनाक चीख निकली जिसके साथ ही में बेहोश होके वही गिर जाता हूँ..!


जब मुझे होश आया तो में अपने रूम में था,मोम और डॅड कुछ बाते कर रहे थे..!

अचानक डॅड की नज़र मुझपे पड़ी और उन्होने दौड़ कर मुझे गले लगा लिया..!

डॅड:-कैसा है तू राज क्या हो गया था तुझे..!

में:-मुझे कुछ नही हुआ में बिल्कुल फिट हूँ,पर आप सब इतने टेन्स्ड क्यो हैं..!

डॅड कुछ बोलते इससे पहले ही मोम ने मुझे हग कर लिया और मुझे चूमने लगी..!

में:-मोम अब बस भी करो,प्ल्ज़ कुछ बना दो मुझे भूख लगी है...!

मेरे इतना कहते ही मोम नीचे चली गयी,और तभी डॅड मेरे पास आए और बोले क्या हुआ था राज..!

में:-डॅड में आपको बुलाने आया था बिकॉज उस टाइम मोम आपको ढूँढ रही थी.!

मेंने लब में एंटर किया पर आप नही थे,शायद वॉशरूम गये थे,मुझे प्यास भी लगी थी..!

मेने रेफ्रिजरेटर में भी देखा वहाँ भी पानी नही था..!

फिर मेने देखा स्लॅब्स पे जहाँ आप अपने केमिकल्स रखते हो वहाँ ग्लास में पानी था..!

वो पानी चमक भी रहा था,आइ थॉट आइस क्यूब होंगे और लाइट की वजह से शाइन कर रहे है..!

इसलिए मेने उसे पी लिया पर उसके बाद क्या हुआ,आइ डोंट नो..!

डॅड:-डॉन'ट वरी राज सब ठीक है..!

फिर डॅड कुछ सोचते हुए मेरे रूम से चले गये..!

फिर में उठा और नीचे आ गया..!

में:-मोम भूख लगी है.!

मों:-हाँ राज लाती हूँ..!

फिर कुछ देर बाद मोम ने मुझे डिन्नर सर्व करी जिसे में खाने लगा..!

________,


User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 716
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: काला साया

Post by Dolly sharma » 30 Oct 2017 17:17

अट दट टाइम ओन्ली इन माइ डॅड'स लॅब..!

डॅड खुद से बड़बड़ाते हुए..!

लगता है राज ने उस उस पानी में मिले केमिकल को पी लिया है..!

उसके कहने के मुताबिक उसने ग्लास पे रखा पानी पिया तो हो सकता है वो टेस्टट्यूब फुट गया हो और वो केमिकल उस पानी रखे ग्लास में मिल गया हो..!

मेने तो उस केमिकल का टेस्ट भी नही किया था,कहीं वो राज को नुकसान ना पहुँचाए..!

इतना सोचते हुए ही वो रोने लगे,और बढ़ गये मेरे रूम की ओर..!

______________

#इन माइ रूम:-

में अभी-2 डिन्नर करके रूम में आता हूँ कि तभी डॅड आ जाते हैं..!

डॅड:-राज आपने जो लब में पीया था वो पानी नही था,वो एक केमिकल था जिसे तुम आंटिडोट भी कह सकते हो,पर प्राब्लम ये है कि मेने उसका टेस्ट नही किया था,और बिना उसे अब्ज़र्व किए में ये नही बता सकता कि वो तुम्हारे बॉडी में क्या करेगा..!

में:-डॅड आप मोम को ये मत बताना वरना ख़ामखा वो परेशान होंगी..!

डॅड:-तू सब कैसे मॅनेज कर लेता है,तुझे अपनी परवाह नही है कि तुझे क्या होगा,तुझे अपनी मोम की फ़िक़र है..!

में:-डॅड छोड़ो वो सब बातें..!
चलो पहले मेरा टेस्ट करते है..!

डॅड:-ह्म..!.

फिर मेरा ब्लड टेस्ट किया और साथ ही फुल बॉडी टेस्ट,क्योंकि बॉडी का हर एक पार्ट अब्ज़र्व करना ज़रूरी था..!

डॅड:-राज तू जाके रेस्ट कर,जैसा भी होगा में कल सुबह में तुझे बता दूँगा..!

में:-ओके,गुड नाइट डॅड..!
लव यू..!

डॅड:-लव यू टू मेरी जान..!

फिर में रूम में आके शवर लिया और चेंज करके सो गया..!

_______________________

#नेक्स्ट डे..!

पता नही क्यो मुझे लग रहा था कि में हवा में उड़ रहा हूँ..!

में कुछ देख नही पा रहा था क्योंकि मेरी आँखें नही खुल रही थी..!

फिर अचानक कुछ देर बाद मुझे लगा कि में गिर रहा हूँ..!

जब आँख खुली तो उसी वक़्त में बेड पे गिरा और बेड के टुकड़े-2 हो गये..!

बेड के डस्ट की वजह से मेरी चीख निकल गयी पर मुझे शॉक तब लगा जब मेने देखा कि मेरे चिकने से रूम के सारे शीशे टूट गये..!

फिर में बिना कुछ सोचे-समझे उठा और बाथरूम में जाके फ्रेश हुआ और ड्रेस अप करके नीचे आ गया..!

में डाइनिंग टेबल पे अपनी जगह बैठ गया जहाँ पहले से ही मोम डॅड मेरा वेट कर रहे थे..!

फिर हम ने ब्रेकफास्ट किया और मोम किचन में चली गयी..!

फिर मेने डॅड को सुबह की सारी बाते बताई,जिसे सुन के उनके चेहरे पे एक स्माइल आ गयी..!

फिर डॅड ने कुछ नही बोला बस अपने लॅब की ओर बढ़ गये..!

फिर मैं अपनी मैड को कॉफी लाने का बोल के अपने रूम में आ गया..!


User avatar
Smoothdad
Gold Member
Posts: 706
Joined: 14 Mar 2016 08:45

Re: काला साया

Post by Smoothdad » 30 Oct 2017 18:33

Congratulations ...........................nice strat

Post Reply