काला साया complete

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
User avatar
shubhs
Gold Member
Posts: 1040
Joined: 19 Feb 2016 06:23

Re: काला साया

Post by shubhs » 12 Nov 2017 22:54

Kyu
सबका साथ सबका विकास।
हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है, और इसका सम्मान हमारा कर्तव्य है।

Re: काला साया

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1174
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: काला साया

Post by Kamini » 12 Nov 2017 23:12

Nice update

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1885
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: काला साया

Post by Ankit » 13 Nov 2017 09:26

superb update

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 777
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: काला साया

Post by Dolly sharma » 14 Nov 2017 19:09

thanks to all friends

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 777
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: काला साया

Post by Dolly sharma » 14 Nov 2017 19:10

मासी माँ:-सुन ले कान खोलके तू अपनी आदतों से बाज आजा वरना में तेरी मोम को फोन करके बता दूँगी तेरी कर्तुते..!

तू कोई मर्डरर नही है समझा,तू सबको जान से क्यो मार देता है..!

में जानती हूँ तू सब अच्छे के लिए करता है बट प्ल्ज़ थोड़ा अपने गुस्से पे कंट्रोल रखा कर..!

फिर रात में डिन्नर करके में सो गया..!



सुबह मेरी नींद जल्दी खुल गयी,पर पता नही क्यो मेरे सर में तेज दर्द हो रहा था..!

में उठा और जल्दी से फ्रेश होके शवर भी ले लिया,पर दर्द ख़तम नही हो रहा था..!

फिर ड्र्सप करके नीचे आया और में बिना कुछ देखे किचन में एंटर कर गया,जहाँ कनक पहले से मौजूद थी.!

कनक:-कुछ चाहिए तुम्हे..!

में:-ह्म,एक हार्ड कॉफी सर में दर्द है,बट यू डॉन'ट वरी में बना लूँगा..!..

कनक:-वैसे में भी कॉफी अच्छी बना लेती हूँ..!

मेने बस उसकी बात पे बस एक स्माइल पास करदी,और किचन से बाहर आ गया..!.

कुछ देर बाद वो कॉफी लेके आई,जिसकी पहली सीप ने ही मेरा सारा सर दर्द गायब कर दिया..!

में:-तारीफ़ करूँ क्या उसकी,जिसने ये कॉफी बनाई..!

कनक:-क्या इतनी बेकार बनी है कॉफी..!

में:-यार जिसने भी ये कॉफी बनाई है ना मन करता है उसके हाथ चूम लूँ..!

अभी मेरे इतना बोलते ही,उसने अपना हाथ आगे कर दिया जिसे जैसे ही मेने किस करने को पकड़ा तो वो हाथ छुड़ा के भाग गयी..!


#कनक'स रूम:-

ओह माइ गॉड-2..!
मतलब मेरा शक़ ठीक निकला,राज इंसान नही है,इसके सारे लक्षण बिल्कुल एक "वेमपाइर" की तरह है..!

इतनी गर्मी में भी उसका हाथ इतना ठंडा था कि मुझे लगा कि मेरे अंदर करेंट वेव्स जा रही हो.!

उसकी आँखों का कलर चेंज होना,उसके सामने के दाँत अपने-आप बड़े हो जाना,उसका स्ट्रेंघत उसकी एनर्जी टोटली एक वेमपाइर की लगती है..!

मुझे सबको ये बताना होगा..!

__________________________

में अभी कॉफी ख़तम कर के रूम में जा ही रहा होता हूँ कि सब के सब हॉल में आ जाते हैं..!

फिर भी में रूम में जाके लेट जाता हूँ..!

___________________________

#इन हॉल.!

कनक कुछ सोचते हुए हॉल में आती है जहा सब मौजूद होते है..!

कनक:-सभी लोग प्ल्ज़ मेरी बात ध्यान से सुनो और कोई बीच में नही बोलेगा..!

और फिर वो सारी बात सबको बता देती है,जिसपे पायल बोलती है,कल मेने भी उसके आँखों का कलर चेंज होते देखा..!

जय:-व्हाट रब्बिश..!
राज मेरा बचपन का फ्रेंड है,कोई वेमपाइर नही..!

और वेमपाइर वागरह बस कहानियों में होते है..!

भाभी:-आइ अग्री वित यू..!

कनक:-तो ठीक है,आज में प्रूव भी कर दूँगी,पहले में उसका फुल बॉडी टेस्ट करूँगी और फिर अपने "मॅजिक" से हम उसके बारे में जानने की कोशिश करेंगे..!

बट इसमे मुझे आप सबका साथ चाहिए,जिसपे सबने तुरंत हाँ बोल दिया..!

कनक:-जय तुम इस जंगल के दूसरी तरफ जाओगे वहाँ तुम्हे एक नीली घास मिलेगी तुम्हे बस वो लानी है,इससे हम राज को ज़्यादा देर तक बेहोश कर सकेंगे..!

जय:-ठीक है में जाता हूँ..!

कनक:-पर ध्यान रहे वहाँ बहुत ख़तरा होता है..!.

जय:-डॉन'ट वरी.!

भाभी:-में भी चलूं..!

जय:-नही..!

भाभी:-प्ल्ज़..!.
उन्होने इतने प्यार से कहा कि जय मना नही कर पाया.!

फिर जय और भाभी निकल गये..!

कनक:-अब आप दोनो को में बेसमेंट में ले चलूंगी जहाँ हम मिलकर सॉफ सफाई करेंगे,और यही हम राज के बारे में जानेंगे..!

क्योंकि ये बहुत स्पेशल रूम है,जिसे मेने अपने ख़तरनाक रिसर्चस के लिए बनाया था..!

फिर ये लोग भी अपने काम में बिज़ी हो गये..!..

और में इन सबसे बेख़बर अपने रूम में सो रहा था..!.
_________________________________

Post Reply