आँचल की अय्याशियां

दोस्तो इस फोरम में आप हिन्दी और रोमन (Roman ) स्क्रिप्ट में नॉवल टाइप की कहानियाँ पढ़ सकते हैं
pongapandit
Expert Member
Posts: 355
Joined: 26 Jul 2017 16:08

आँचल की अय्याशियां

Post by pongapandit » 03 Nov 2017 23:21

आँचल की अय्याशियां

ये कहानी है आँचल की , जो 24 साल की खूबसूरत हाउसवाइफ थी । हाल ही में वो अपने पति सुनील के साथ शिमला में हनीमून मनाकर लौटी थी । सुनील दिल्ली में बिज़नेस करता था । आँचल अपने पति सुनील और सास ससुर के साथ दिल्ली में रहती थी । आँचल का खूबसूरत चेहरा , सुन्दर नाक नक्श , गोरा उजला रंग , बड़ी बड़ी गोल चूचियां , पतली कमर और उसके नीचे कसे हुए सुडौल नितम्ब , किसी भी देखने वाले को , चाहे वो मर्द हो या औरत , एक बार फिर मुड़कर देखने को मजबूर कर देते थे । सुनील से शादी होने के समय आँचल कुंवारी थी । हालाँकि अपने मायके में नौकर राजू और कुछ अन्य लड़कों के साथ उसने थोड़े बहुत मजे किये थे । पर बात कुछ आगे बढ़ कर सेक्स तक पहुँचती इससे पहले ही उसकी शादी सुनील से तय हो गयी । हनीमून का आँचल ने खूब मजा लिया था , उसका पति सुनील उसके साथ रोज़ 3 - 4 बार चुदाई करता था । अब अपनी ससुराल में वापस आने के बाद वो धीरे धीरे वहां एडजस्ट होने की कोशिश कर रही थी ।

बेहद खूबसूरत होने के कारण ससुराल में सभी मर्दों और नौकरों की नज़रें उसी पर लगी रहती थी । कुछ औरतें भी उस पर ललचायी नज़र रखती थीं । आँचल इन सब बातों का खूब मज़ा लेती थी , वैसे भी उसके मन में कामुक ख्याल बहुत आते थे । उसका पति सुनील अपने बिज़नेस के पीछे लगा रहता था और रात को देर से थका हारा घर लौटता था । घर में ऐसी मादक बहू को देखकर उसके ससुर की जवानी लौट आयी थी । वो हर समय आँचल के नज़दीक बने रहने की कोशिश करता था और उसको बिना कपड़ों के नंगे देखने की कल्पना करता था । जब वो घर के छोटे मोटे कामों में लगी रहती थी तो उसे निहारते हुए ससुर का लंड खड़ा हो जाता था । उसे आँचल को नाइटी पहने हुए देखना बहुत अच्छा लगता था । जब आँचल सुबह नाइटी पहने हुए परिवार को नाश्ता कराती थी तो वो ससुर खाता कम था , उसे घूरता ज्यादा था । नाश्ते के बाद उसका पति सुनील काम पर चला जाता था । और इधर घर में आँचल की पतली कमर , बड़ी बड़ी चूचियां निहारते हुए ससुर मंत्रमुग्ध सा हुआ रहता था । मन ही मन सोचा करता था कि कैसे मैं इस औरत को जवानी के मजे लेना सिखाऊं । वो ठरकी बुड्ढा इस ताक में रहता था कि कोई मौका मिले तो अपनी मादक बहू को चोदने का उसका सपना पूरा हो । आँचल अपने ससुर की हरकतों से बखूबी वाक़िफ़ थी , लेकिन जवान तो छोड़ो , ससुर जैसी बड़ी उम्र वाले भी मेरे पीछे पागल है , इस ख्याल से उसे अपनी सेक्स अपील पर और गर्व होता था ।

आँचल को ताकने के लिए सुनील के cousins भी वहां चक्कर लगाते रहते थे । उन्हीं में से एक समीर था , लम्बा चौड़ा काफी हैंडसम दिखता था । वो आर्मी में था और उन दिनों 3 हफ्ते की छुट्टी आया था । 32 वर्ष की उम्र हो गयी थी पर अभी तक शादी नहीं की थी । वो लड़कियां पटाने में बहुत माहिर था , बहुत सारी लड़कियों और हाउसवाइव्स को चोद भी चुका था । सेक्स की उसको कोई कमी नहीं थी इसलिए उसने अभी शादी के बारे में नहीं सोचा था । वो आँचल के घर आते रहता था । कई बार उसे घूमने चलने का प्रस्ताव भी दे चुका था । आँचल उसको हर बार कोई न कोई बहाना बनाकर टाल देती थी पर वो भी हार मानने वालों में से नहीं था ।लड़कियां पटाने की कला में माहिर होने के कारण वो सही मौके का इंतज़ार कर रहा था ।

दिन भर इतने सारे मर्दों के आकर्षण का केंद्र बने रहने के कारण सुनील के रात में घर लौटने तक आँचल बहुत उत्तेजित हो जाया करती थी । सुनील थका रहता था पर आँचल की उत्तेजना देखकर उसकी चुदाई करने के बाद ही सोता था । लेकिन थकान की वजह से वो अक्सर जल्दी ही झड़ जाता था और जमकर चुदाई न हो पाने से आँचल की प्यास अधूरी रह जाती थी । अपनी प्यास बुझाने के लिए आँचल ने मुठ मारना शुरू कर दिया । वो सुबह बाथटब में देर तक नहाते हुए मुठ मारती थी। बाथ टब में लेटे लेटे उसके मन में पुराने बॉयफ्रैंड्स , मायके का नौकर रामू , ससुर , समीर और अपनी नौकरानी रेखा के ख्याल आते रहते थे । इन सब के बारे में सोच सोच कर वो मुठ मारा करती थी और अपनी आग बुझाती थी । उसके मन में कामुकता इतनी भरी थी कि वो सेक्सी औरतों को देखकर भी उत्तेजित हो जाती थी ।अपने मायके का एक किस्सा उसे बहुत पसंद था और वो उसे याद करके अक्सर मुठ मारा करती थी ।

उसके मायके में एक 18 साल का नौकर रामू था । उसका काम घर की साफ़ सफाई और बाजार से छोटा मोटा सामान लाना था । आँचल की तरफ वो कम उम्र का छोकरा आकर्षित रहता था । वो रोज़ आँचल के कमरे में चाय देने जाया करता था , था वो साला हरामी , इसलिए बिना खटखटाये चुपचाप अंदर चला आता था और आँचल को रोज़ अलग अलग पोज़ में सोये हुए देखने का मज़ा लेता था । कभी कभी उसको आँचल की चूचियां और कभी नाइटी के अंदर पैंटी की झलक भी दिख जाया करती थी । ये सब देखकर उसका मन मचल जाता था और उसकी इच्छा होती थी कि सोते में ही आँचल को चोद डाले लेकिन नौकरी चले जाने के डर से कुछ कर नहीं पाता था ।जब उसको पता चला कि आँचल की शादी तय हो गयी है तो वो बहुत उदास हो गया क्योंकि अब उसको सुबह सुबह आँचल के बदन को ताकने का मौका नहीं मिलने वाला था ।



एक सुबह जब रामू चाय देने गया तो उसने देखा कि आँचल अपने बिस्तर में टाँगे फैलाये सोयी पड़ी है । वो पीठ के बल सोयी थी और चादर उसके बदन के ऊपर से हट गयी थी । उसकी नाइटी पूरी ऊपर को उठी हुई थी और उसमें से पैंटी पूरी दिख रही थी । उसकी मांसल गोरी चिकनी जांघें और पैंटी के किनारे से चूत के काले बाल दिखाई दे रहे थे । ये सीन देख कर रामू का लंड तन के खड़ा हो गया और उसको क्या जो करूँ हो गयी । उसने अपने निक्कर में से लंड बाहर निकाला और आँचल की काली झांटों को देखकर लंड हिलाने लगा । अचानक उसने देखा कि आँचल की नींद खुल गयी है , उसने झट से अपने लंड को निक्कर के अंदर घुसाना चाहा ।

आँचल ने नींद खुलते ही देखा कि रामू उसके पास ही खड़ा है और उसके हाथ में चाय के कप की बजाय उसका बड़ा और मोटा लंड है । आँचल की नज़रें उस लंड पर ही जम गयीं । उसने मैगज़ीन्स में लंड देखा था पर असली लंड और वो भी अपने इतने नज़दीक कभी नहीं देखा था । इस छोटे से छोकरे का इतना बड़ा लंड कैसे है , ये सोचकर आँचल हैरान थी । आँचल को गुस्सा होने की बजाय हैरान देखकर वो हरामी लौंडा समझ गया कि ये मेरे बड़े लंड से हैरान है । उसकी हिम्मत बढ़ गयी और उसने आगे बढ़कर आँचल के हाथ में अपना लंड पकड़ा दिया ।

अपने हाथ में फनफनाता हुआ बड़ा लंड देखकर आँचल के पूरे बदन में झुरझुरी सी दौड़ गयी । उसको अपनी चूत से रस बहकर पैंटी को गीला करता महसूस हुआ । आँचल को गरम होता देखकर रामू की हिम्मत और बढ़ गयी । उसने आँचल के बाल पकड़कर उसका मुंह अपने लंड के पास कर दिया । वो आँचल के गलों पर अपना लंड रगड़ने लगा । आँचल मदहोश होती जा रही थी उसके बदन में उत्तेजना से गर्मी बढ़ती जा रही थी । अब रामू ने अपना लंड आँचल के होठों के बीच लगा दिया , उसका मुंह अपने आप खुल गया और वो सुपाड़े को चूसने लगी ।

रामू ने लंड को मुंह के और अंदर डालना शुरू कर दिया । आँचल को उस लंड से कुछ अजीब सी गंध और कुछ नमकीन सा स्वाद महसूस हुआ । उसे अपना दम घुटता सा लगा । ये देखकर रामू ने अपना लंड मुंह से बाहर निकाल लिया उसमें आँचल के मुंह की लार लगी हुई थी । फिर वो लंड को आँचल के गाल पर रगड़ने लगा । कुछ पल बाद उसने फिर से आँचल के मुंह में लंड घुसा दिया । इस तरह जब भी आँचल का दम घुटता वो लंड बाहर निकाल लेता और कुछ पल बाद फिर से घुसा देता । कुछ देर बाद आँचल को गंध की आदत सी हो गयी और वो ज्यादा देर तक लंड मुंह में रखकर चूसने लगी ।

तभी नीचे की मंज़िल से आँचल की माँ ने आवाज़ दी, " रामू , ओ रामू कहाँ मर गया तू ? "

रामू झड़ने ही वाला था तो रुकता कैसे । उसने झट से आँचल के मुंह से लंड बाहर निकाला और उसके गालों पर तेज तेज रगड़ने लगा । और फिर आँचल के खूबसूरत चेहरे पर उसने वीर्य की धार छोड दी । फिर लंड को निक्कर में घुसाकर नीचे भाग गया ।

इस तरह शादी से सिर्फ तीन दिन पहले आँचल को पहली बार वीर्य का स्वाद चखने को मिला । फिर उनका घर मेहमानों से भर गया इसलिए और कोई बात नहीं हुई । अब शादी के बाद वो अक्सर रामू के लंड को याद करके मुठ मारती थी । वो कल्पना करती थी कि रामू का बड़ा लंड उसकी तड़पती चूत में घुस कर उसकी प्यास बुझा रहा है । आँचल की शादी को अब दो महीने बीत चुके थे । सुनील के साथ सेक्स करके आँचल को वो मज़ा नहीं आ पाता था जो उसको रामू के मोटे बड़े लंड को अपने हाथों में पकड़कर हिलाने और मुंह में लेकर चूसने में आया था । हालाँकि जब सुनील थका नहीं होता था तो सेक्स में आँचल को संतुष्ट कर देता था । पर ऐसा कम ही होता था क्योंकि वो अपने बिज़नेस की भागदौड़ में अक्सर थका हुआ ही होता था । सिर्फ हनीमून के दिनों में जरूर उसने आँचल को खुश रखा था ।

Ye kahani hai Aanchal ki , jo 24 saal ki khoobsurat housewife thi. Haal hi mein wo apne pati Sunil ke sath Shimla mein honeymoon manakar lauti thi. Sunil delhi mein business karta tha. Aanchal , apne pati Sunil aur Saas - Sasur ke sath delhi mein rehti thi.

Aanchal ka khoobsurat chehra, sundar nak-naksh,gora ujala rang, badi badi gol chuchiyan , patli kamar aur uske niche kase hue sudol nitamb , kisi bhi dekhne wale ko , chahe wo mard ho ya aurat, ek baar phir mudkar dekhne ko majboor kar dete the.

Sunil ke sath shadi hone ke samay Aanchal kunwari thi. Halanki apne mayke mein naukar Ramu aur kuch anya ladko ke sath usne thode bahut maze kiye the. Par baat kuch aage badkar sex tak pahunchti isse pehle hi uski shadi Sunil se tay ho gayi. Honeymoon ka Aanchal ne khoob maza liya tha, uska pati Sunil uske sath honeymoon mein roz 3 – 4 baar chudai karta tha. Ab apni sasural mein wapas aane ke baad wo dhire dhire wahan adjust hone ki koshish kar rahi thi.

Behad khoobsurat hone ke karan sasural mein sabhi mardon aur naukaron ki nazaren usi par lagi rehti thi. Kuch auraten bhi us par lalchayi nazar rakhti thi. Aanchal in sab bato ka khoob maza leti thi, waise bhi uske man mein kamuk khayal bahut aate the. Uska pati Sunil apne business ke piche laga rehta tha aur raat ko der se thaka hara ghar lauthta tha . Ghar mein aisi madak bahu ko dekhkar uske sasur ki jawani laut aayi thi. Wo har samay Aanchal ke nazdeeq bane rehne ki koshish karta tha aur usko bina kapdo ke nange dekhne ki kalpana karta tha . Jab wo ghar ke chote mote kam me lagi rehti thi to use niharte hue sasur ka lund khada ho jata tha. Use Aanchal ko nightie pehne hue dekhna bahut accha lagta tha. Jab Aanchal subah nightie pehne hue pariwar ko nasta karati thi to wo sasura khata kam tha aur use ghurta jyada tha. Naste ke baad uska pati Sunil kaam par chala jata tha. Aur idhar ghar mein Aanchal ki patli kamar , badi badi chuchiyan niharte hue sasur mantramugdha sa hua rehta tha. Man hi man socha karta tha ki kaise mein is aurat ko jawani ke maze lena sikhau. Wo tharki Buddha is tak mein rehta tha ki koi mauka mile to apni madak bahu ko chodne ka uska sapna pura ho. Aanchal apne sasur ki harkaton se bakhubi waqif thi , lekin jawan to choro , sasur jaisi badi umar wale bhi mere piche pagal hai , is khayal se use apni sex appeal par aur garv hota tha.

Aanchal ko takne ke liye Sunil ke cousins bhi wahan chakker lagate rehte the. Unhi mein se ek Sameer tha , lamba chauda kafi handsome dikhta tha. Wo Army mein tha aur un dino 3 hafte ki chutti aaya tha. 32 varsh ki umar ho gayi thi par abhi tak shadi nahi ki thi. Wo ladkiyan patane mein bahut mahir tha , bahut sari ladkiyon aur housewives ko patakar chod bhi chukka tha.Sex ki usko koi kami nahi thi isliye usne abhi shadi ke bare mein nahi socha tha. Wo Aanchal ke ghar aate rehta tha. Kai baar use ghumne chalne ka prastav bhi de chukka tha. Aanchal usko har baar koi na koi bahana banakar taal deti thi. Par wo bhi haar manne walon mein se nahi tha. Ladkiyan patane ki kala mein mahir hone ke karan wo sahi mauke ka intzar kar raha tha.

Din bhar itne sare mardon ke akarshan ka kendra bane rehne ke karan Sunil ke raat mein ghar lautne tak Aanchal bahut uttejit ho jaya karti thi. Sunil thaka rehta tha par Aanchal ki uttejna dekhkar uski chudai karne ke baad hi sota tha. Lekin thakan ki wajah se wo aksar jaldi hi jhad jata tha aur jamkar chdayi na ho pane se Aanchal ki pyaas adhuri reh jati thi. Apni pyaas bujhane ke liye Aanchal ne muth marna shuru kar diya. Wo subah bathtub mein der tak nahate hue muth marti thi. Bath tub mein lete lete uske man mein purane boyfriends, mayke ka naukar Ramu, Sasur , Sameer aur apni naukrani Rekha ke khyaal aate rehte the. In sab ke bare mein soch sochkar wo muth mara karti thi aur apni aag bhujhati thi. Uske man mein kamukta itni bhari thi ki wo sexy aurtaun ko dekhkar bhi uttezit ho jati thi. Apne mayke ka ek kissa use bahut pasand tha aur wo use yaad karke aksar muth mara karti thi.

Uske mayke mein ek 18 saal ka naukar Ramu tha. Uska kaam ghar ki saaf safayi aur bazaar se chote mote saman lana tha. Aanchal ki taraf wo kam umar ka chokra akarshit rehta tha. Wo roz subah Aanchal ke kamre mein chai dene jaya karta tha , tha wo sala harami, isliye bina khatkhataye chupchap andar chala aata tha aur Aanchal ko roz alag alag pose mein soye hue dekhne ka maza leta tha. Kabhi kabhi usko Aanchal ki chuchiyan aur kabhi nightie ke undar panty ki jhalak bhi dikh jaya karti thi. Ye sab dekhkar uska man machal jata tha aur uski iccha hoti thi ki sote mein hi Aanchal ko chod dale , lekin naukri chale jane ke dar se kuch kar nahi pata tha. Jab usko pata chala ki Aanchal ki shadi tay ho gayi hai to wo bahut udas ho gaya kyonki ab usko subah subah Aanchal ke badan ko takne ka mauka nahi milne wala tha.



Ek Subah jab Ramu chai dene gaya to usne dekha kii Aanchal apne bed par tange failaye soyi padi hai. Wo peeth ke bal soyi thi aur chadar uske badan ke upar se hat gayi thi. Uski nightie puri upar ko uthi hui thi aur usme se panty puri dikh rahi thi. Uski mansal gori chikni janghe aur panty ke kinare se choot ke kale baal dikhayi de rahe the. Ye scene dekhkar Ramu ka lund tan ke khada ho gaya aur usko kya jo karun ho gayi. Usne apne Nikkar mein se lund bahar nikala aur Aanchal ki kali jhaton ko dekhkar lund hilane laga.

Achanak usne dekha ki Aanchal ki nind khul gayi hai , usne jhat se apne lund ko nikkar ke andar ghusana chaha. Aanchal ne nind khulte hi dekha ki Ramu uske hi pass khada hai aur uske hath mein chai ke cup ki bajay uska bada aur mota lund hai. Aanchal ki nazren uske lund par jam gayi. Usne magazines mein lund dekha tha par asli lund aur wo bhi itne nazdeeq kabhi nahi dekha tha.
Is chote se chaukre ka itna bada lund kaise hai , ye sochkar Aanchal hairan thi. Aanchal ko gussa hone ki bajay hairan dekhkar wo harami launda samajh gaya ki ye mere bade lund se hairan hai. Uski himmat bad gayi aur usne aage badkar Aanchal ke hath mein apna lund pakda diya.

Apne hath mein phanphanata hua bada lund dekhkar Aanchal ke pure badan mein jhurjhuri si daud gayi. Usko apni choot se ras behkar panty ko gila karta mehsoos hua. Aanchal ko garam hota dekhkar Ramu ki himmat bad gayi. Usne Aanchal ke baal pakadkar uska munh apne lund ke pass kar diya. Wo Aanchal ke galo par apna lund ragadne laga. Aanchal madhosh hote ja rahi thi . uska badan uttezna se garam hone laga. Ab Ramu ne apna lund Aanchal ke hothon ke beech laga diya , uska munh apne aap khul gaya aur wo supade ko chusne lagi.

Ramu ne lund ko munh ke aur undar dalna shuru kar diya. Aanchal ko us lund se kuch ajeeb si gandh aur kuch namkin sa swad mehsoos hua. Use apna dam ghut-ta sa laga. Ye dekhkar Ramu ne apna lund munh se bahar nikal liya , usme Aanchal ke munh ki laar lagi hui thi. Phir wo lund ko Aanchal ke galo par ragadne laga. Kuch pal baad usne phir se Aanchal ke munh mein lund ghusa diya . Is tarah jab bhi Aanchal ka dam ghut-ta wo lund bahar nikal leta aur kuch pal baad phir se ghusa deta. Kuch der baad Aanchal ko gandh ki aadat si ho gayi aur wo jyada der tak lund munh mein rakhkar chusne lagi.

Tabhi niche ki manzil se Aanchal ki Ma ne awaz di . “ Ramu , O Ramu , kahan mar gaya tu ? “

Ramu jhadne hi wala tha to rukta kaise . Usne jhat se Aanchal ke munh se lund bahar nikala aur uske galo par tej tej ragadne laga. Phir Aanchal ke khoobsurat chehre par usne virya ki dhar chod di. Phir nikkar mein lund andar dalkar niche bhag gaya.

Is tarah shadi se sirf teen din pehle Aanchal ko pehli baar virya ka swad chakhne ko mila . Phir unka ghar mehmano se bhar gaya isliye aur koi baat nahi hui. Ab shadi ke baad wo aksar Ramu ke lund ko yaad karke muth marti thi. Wo kalpana karti thi ki Ramu ka bada lund uski tadapti choot mein ghuskar uski pyaas bhuja raha hai . Aanchal ki shadi ko ab do mahine beet chuke the . Sunil ke sath sex karke Aanchal ko wo maza nahi aa pata tha jo usko Ramu ke mote bade lund ko apne hathon mein pakadkar hilane aur munh mein lekar chusne mein aaya tha. Halanki jab Sunil thaka nahi hota tha to sex mein Aanchal ko santust kar deta tha par aisa kam hi hota tha kyonki wo apne business ki bhagdaud mein aksar thaka hua hi hota tha. Sirf honeymoon ke dino mein jarur usne Aanchal ko khus rakha tha.

आँचल की अय्याशियां

Sponsor

Sponsor
 

pongapandit
Expert Member
Posts: 355
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: आँचल की अय्याशियां

Post by pongapandit » 03 Nov 2017 23:23

आँचल का पति सुनील चुदाई करके जल्दी झड़ जाता था और फिर सो जाता था . इससे आँचल फ्रस्टरेटेड रहने लगी . उसको लगता था चुदाई शुरू होने तक तो ख़त्म हो जा रही है. अपने फ्रस्ट्रेशन्स वो सुबह नहाते समय बाथटब में मूठ मारकर निकलती थी . मूठ मारते समय वो अपने ससुर , रामू , समीर और अपनी नौकरानी रेखा को फैंटसाइज़ करती थी.

अपनी फैंटसी में वो इन सब लोगो से चुदवाती थी लेकिन रियल लाइफ में एक संस्कारी बहू बने रहना चाहती थी और सिर्फ़ अपने पति को ही चोदने दूँगी ऐसा उसने मन बना रखा था . लेकिन फ्लर्ट करने में उसे कोई बुराई नही दिखती थी. फ्लर्ट करने में उसको बहुत मज़ा आता था और इससे मूठ मारते समय फैंटसाइज़ करने में एक्सट्रा आनंद मिलता था.

अब आँचल पतली पतली नाइटीस पहनने लगी और ऊपर के दो बटन खुले रखती थी. अपने ससुर और पति को नाश्ता करते समय जानबूझकर थोड़ा झुकती थी और क्लीवेज दिखाती थी . अपने बाल ठीक करने के बहाने अपने हाथ ऊपर ले जाकर चूचियों को बाहर को धकेल देती थी. उसका ससुर और घर के नौकर उसकी इन हरकतों को देखकर मस्त हुए रहते थे. वो नहाने जाने से पहले अक्सर अपने ससुर को ताश के पत्ते (कार्ड्स) खेलने के लिए अपने कमरे में बुलाती थी और खेलते समय ससुर का हाथ या उसकी बाँह टच कर देती थी. कभी कभी उसको पतली नाइटी से अपनी चूची या चिकनी गोरी जाँघो की हल्की झलक भी दिखा देती थी. ससुर बेचारा खेलते समय हाथ लगाकर अपना खड़ा लंड ढकने की कोशिश करता था और बर्दाश्त के बाहर हो गया तो बहू के कमरे से सटे बाथरूम मे जाकर मूठ मार आता था.

बुड्ढे की परेशानी देखकर आँचल को बहुत मज़ा आता था , उसे लगता था मेरी मादकता से जवान तो जवान बुड्ढ़ों का भी लंड खड़ा हो जा रहा है. कभी कभी वो जानबूझकर बाथरूम में अपनी ब्रा या पैंटी छोड़ के आती थी उसे मालूम था ये ठरकी बुड्ढा उनको सूँघकर मूठ मारेगा. अपनी बहू से कुछ कहने करने की दम ससुर में नही थी इसलिए वो बेचारा मन मसोस कर रह जाता था. कैसे इस टीज़िंग बिच को चोदने का मौका मिले तो मेरी किस्मत खुले यही सोच उसके दिमाग़ में रहती थी.

समीर ने जब देखा की आँचल सिर्फ़ उसको टीज़ कर रही है तो उसने उनके घर आना कम कर दिया. उसको चुदाई के लिए लड़कियाँ मिल ही रही थी तो उसने सोचा इसके पीछे टाइम वेस्ट क्यूँ करू. जब कभी सही मौका लगेगा तो फिर देखूँगा.

एक दिन समीर उनके घर आया और उसने सुनील और आँचल को अगले वीकेंड पर अपने घर डिनर का न्योता दिया. उसकी छुट्टी ख़त्म होने वाली थी इसलिए वो अपने दोस्तों के लिए पार्टी दे रहा था.

जब सुनील और आँचल , समीर के घर पार्टी में आए तो वहाँ बहुत सारी जवान जोड़िया मज़ा कर रही थी. समीर एक सेक्सी लड़की के साथ था .
आँचल ने सुनील से पूछा की ये कौन है ? तो उसने बताया की ये समीर की गर्लफ्रेंड किमी है . किमी 27 साल की देल्ही की एक मॉडल थी .

पार्टी में सारे मर्दों की नज़र किमी पर ही थी. उसने काले रंग की पार्टी ड्रेस पहन रखी थी . जिसमे उसकी बड़ी बड़ी चूचियां आधी खुली दिख रही थी . वो ड्रेस इतनी छोटी थी की जाँघो के सिर्फ़ उपरी भाग को ही ढक पा रही थी . आँचल ने गौर से उस छोटी ड्रेस को देखा तो उसको पैंटी नही दिखी , शायद किमी ने पहनी ही नही थी. आँचल ने देखा किमी की बड़ी बड़ी चूचियां ड्रेस फाड़ के बाहर आने को हो रही है . वो मुँह खोले हुए उसे देखती रह गयी , सोचने लगी ये तो बहुत बोल्ड लड़की है. नंग धड़ंग ड्रेस पहने हुई है. उसकी चूचियों को देखकर आँचल को बड़ी एक्साइट्मेंट हुई और उसको अपनी चूत में गीलापन महसूस हुआ.

अचानक किमी ने उसकी ओर देखा और आँचल को अपनी ओर ताकते पाया , आँचल शरमा गयी , उसने तुरंत नज़रें फेर ली. तभी किमी और समीर उसके पास आ खड़े हुए. किमी ने उसका हाथ अपने हाथ में लिया और आगे बढ़कर उसके गाल पर किस किया. दोनो की चूचियां आपस में ज़ोर से दब गयी.

“सुनील बहुत लकी है उसको इतनी खूबसूरत बीवी मिली है “ किमी हंसते हुए बोली.

उसने आँचल का हाथ अभी भी पकड़ा हुआ था और हल्के हल्के उसे दबा रही थी. किमी के अपने इतने नज़दीक़ आने से उसके परफ्यूम की खुशबू आँचल को आई . जिन चूचियों को वो दूर से घूर रही थी वो भी अब उसकी आँखो के सामने थी. आँचल को लगता था की उसकी चूचियां बड़ी हैं पर किमी की तो बहुत बड़ी थीं और ड्रेस फाड़ के खुली हवा में साँस लेने को बेताब हो रही थीं.

थोड़ी देर सुनील और आँचल से बातें करने के बाद समीर और किमी दूसरे मेहमानों के पास चले गये. जाने से पहले किमी आँचल के कान के पास अपना मुँह लायी जैसे कुछ कहना चाह रही हो. लेकिन कान के पास मुँह लाकर उसने आँचल के कान का निचला हिस्सा चाट लिया और अपनी बड़ी चूचियां उसकी बाँह से रगड़ दी.
किमी की इन हरकतों से आँचल समझ गयी की ये मेरी तरफ आकर्षित हो गयी है , वो शरमा के लाल हो गयी. समीर सब देख रहा था आँचल को ऐसे शरमाते देख उसके होठों पर शरारती मुस्कुराहट आ गयी. फिर पार्टी में बीच बीच में आँचल , किमी और समीर को ताकती रही और वो दोनो भी इस बात को समझ रहे थे.

रात में जब आँचल घर लौटी तो वो बहुत हॉर्नी फील कर रही थी . उसने फटाफट अपने कपड़े उतारे और सुनील के उपर चढ़ गयी . सुनील दो धक्कों में झड़ के सो गया . आँचल बेचारी अनसॅटिस्फाइड ही रह गयी और किमी-समीर के बारे में सोचते हुए करवटें बदलती रही.

अगली सुबह उसने सुनील से पूछा की समीर ने अब तक शादी क्यूँ नही की ? सुनील ने हंसकर कहा की इसे चोदने को लड़कियाँ मिल ही रही हैं तो शादी के झंझट में क्यूँ पड़ेगा. फिर उसने आँचल को कहा की ,समीर बहुत हाउसवाइव्स को अपने जाल में फँसा चुका है तुम इससे दूर ही रहना.

इन बातों से आँचल डर गयी लेकिन कहीं समीर उसको भी फँसा के चोद ना डाले , इस ख्याल से उसकी चूत गीली हो गयी. उस दिन आँचल ने समीर और किमी की बातों को याद करके मूठ मारी. लेकिन उसको अपने पति की बात भी ठीक लगी और उसने फ़ैसला किया की वो समीर से सिर्फ़ फैंटसी में चुदवायेगी और असल जिंदगी में सिर्फ़ अपने पति सुनील की बन के रहेगी.

Aanchal ka pati Sunil chudai karke jaldi jhad jata tha aur phir so jata tha . Isse Aanchal frustrated rehne lagi . usko lagta tha chudai shuru hone tak to khatam ho ja rahi hai. Apne frustrations wo subah nahate samay bathtub mein muth marker nikalti thi . Muth marte samay wo apne Sasur , Ramu , Sameer aur apni naukrani Rekha ko fantasize karti thi.

Apni fantasy mein wo in sab logo se chudwati thi lekin real life mein ek sanskari bahu bane rehna chahti thi aur sirf apne pati ko hi chodne dungi aisa usne man bana rakha tha . Lekin flirt karne mein use koi burayi nahi dikhti thi. Flirt karne mein usko bahut maza aata tha aur isse muth marte samay fantasize karne mein extra anand milta tha.

Ab Aanchal patli patli nighties pehnne lagi aur upar ke do button khule rakhti thi. Apne sasur aur pati ko nasta karate samay janboojhkar thoda jhukti thi aur cleavage dikhati thi . Apne baal theek karne ke bahane apne hath upar le jaker chuchiyon ko bahar ko dhakel deti thi. Uska sasur aur ghar ke naukar uski in harkaton ko dekhkar mast hue rehte the. Wo nahane jane se pehle aksar apne sasur ko tash ke patte (cards) khelne ke liye apne kamre mein bulati thi aur khelte samay sasur ka hath ya uski banh (बांह ) touch kar deti thi. Kabhi kabhi usko patli nightie se apni chuchi ya chikni gori jangho ki halki jhalak bhi dikha deti thi. Sasur bechara khelte samay hath lagakar apna khada lund dhakne ki koshish karta tha aur bardast ke bahar ho gaya to bahu ke kamre se sate bathroom me jaker muth mar aata tha.

Buddhe ki pareshani dekhkar Aanchal ko bahut maza aata tha , use lagta tha meri madakta se jawan to jawan buddhon ka bhi lund khada ho ja raha hai. Kabhi kabhi wo janboojhkar bathroom mein apni bra ya penty chod ke aati thi use malum tha ye tharki Buddha unko sunghkar muth marega.
Apni bahu se kuch kehne karne ki dam sasur mein nahi thi isliye wo bechara man masos kar rah jata tha. Kaise is teasing bitch ko chodne ka mauka mile to meri kismat khule yahi soch uske dimag mein rehti thi.






Sameer ne jab dekha ki Aanchal sirf usko tease kar rahi hai to usne unke ghar aana kam kar diya. Usko chudai ke liye ladkiyan mil hi rahi thi to usne socha iske piche time waste kyun karu. Jab kabhi sahi mauka lagega to phir dekhunga.
Ek din Sameer unke ghar aaya aur usne Sunil aur Aanchal ko agle weekend par apne ghar dinner ka nyota diya. Uski chutti khatam hone wali thi isliye wo apne doston ke liye party de raha tha.

Jab Sunil aur Aanchal , Sameer ke ghar party mein aaye to wahan bahut sari jawan jodiya maza kar rahi thi. Sameer ek sexy ladki ke sath tha . Aanchal ne Sunil se pucha ki ye kaun hai ? to usne bataya ki ye Sameer ki girlfriend Kimi hai . Kimi 27 saal ki delhi ki ek model thi .



Party mein sare mardon ki nazar Kimi par hi thi. Usne kale rang ki party dress pehan rakhi thi . jisme uski badi badi chuchiyan aadhi khuli dikh rahi thi . wo dress itni choti thi ki jangho ke sirf upari bhag ko hi dhak pa rahi thi . Aanchal ne gaur se us choti dress ko dekha to usko panty nahi dikhi , sayad kimi ne pehni hi nahi thi. Aanchal ne dekha kimi ki badi badi chuchiyan dress faad ke bahar aane ko ho rahi hai . wo munh khole hue use dekhti reh gayi , sochne lagi ye to bahut bold ladki hai. Nang dhadang dress pehne hui hai. Uski chuchiyon ko dekhkar Aanchal ko badi excitement hui aur usko apni choot mein gilapan mehsoos hua.

Achanak Kimi ne uski aur dekha or Aanchal ko apni aur takte paya , Aanchal sharma gayi , usne turant nazren pher li. Tabhi Kimi aur Sameer uske pass aa khade hue. Kimi ne uska hath apne hath mein liya aur aage badkar uske gaal par kiss kiya. Dono ki chuchiyan aapas mein jor se dab gayi.




“Sunil bahut lucky hai usko itni khoobsurat biwi mili hai “ Kimi hanste hue boli.

Usne Aanchal ka hath abhi bhi pakda hua tha aur halke halke use daba rahi thi.
Kimi ke apne itne nazdeeq aane se uske perfume ki khoosboo Aanchal ko aayi . Jin chuchiyon ko wo dur se ghoor rahi thi wo bhi ab uski aankho ke samne thi. Aanchal ko lagta tha ki uski chuchiyan badi hain par kimi ki to bahut badi thi aur dress faad ke khuli hawa mein saans lene ko betaab ho rahi thi.


Thodi der Sunil aur Aanchal se baaten karne ke baad Sameer aur Kimi dusre mehmano ke pass chale gaye. Jane se pehle Kimi Aanchal ke kaan ke paas apna munh layi jaise kuch kehna chah rahi ho. Lekin kaan ke pass munh laaker usne Aanchal ka kaan ka nichla hissa chat liya aur apni badi chuchiyan uski banh se ragad di.

Kimi ki in harkaton se Aanchal samajh gayi ki ye mere taraf akarshit ho gayi hai , wo sharma ke laal ho gayi. Sameer sab dekh raha tha Aanchal ko aise sharmate dekh uske hothon par shararti muskurahat aa gayi. Phir Party mein beech beech mein Aanchal , Kimi aur Sameer ko takti rahi aur wo dono bhi is baat ko samajh rahe the.

Raat mein jab Aanchal ghar lauti to wo bahut horny feel kar rahi thi . Usne phataphat apne kapde utare aur Sunil ke upar chad gayi . Sunil do dhakkon mein jhad ke so gaya . Aanchal bechari unsatisfied hi reh gayi aur Kimi-Sameer ke bare mein sochte hue karwaten badalti rahi.

Agli subah usne Sunil se pucha ki Sameer ne ab tak shadi kyun nahi ki ? Sunil ne hanskar kaha ki ise chodne ko ladkiyan mil hi rahi hain to shadi ke jhanjhat mein kyun padega. Phir usne Aanchal ko kaha ki ,Sameer bahut housewives ko apne jaal mein fansa chukka hai tum isse dur hi rehna.

In baton se Aanchal dar gayi lekin kahin sameer usko bhi phansa ke chod na dale , is khyaal se uski choot gili ho gayi. Us din Aanchal ne Sameer aur Kimi ki baaton ko yaad karke muth mari. Lekin usko apne pati ki baat bhi theek lagi aur usne faisla kiya ki wo sameer se sirf fantasy mein chudwayegi aur asal jindagi mein sirf apne pati sunil ki ban ke rahegi.

pongapandit
Expert Member
Posts: 355
Joined: 26 Jul 2017 16:08

Re: आँचल की अय्याशियां

Post by pongapandit » 03 Nov 2017 23:24

कुछ दिनों बाद , आँचल ने अपने पति सुनील के साथ बोरिंग सेक्स लाइफ को थोड़ा चटपटा बनाने के लिए सेक्सी लिंजरी खरीदने का इरादा किया . उसने सेक्सी लिंजरी पहनकर रात में सुनील को सरप्राइज देने की सोची.
इसके लिए वो एक इंपोर्टेड अंडरगार्मेंट शॉप में गयी .

वहाँ सॅटिन टेडी देखकर वो उसका साइज़ वगैरह चेक करने लगी तभी किसी ने उसका नाम पुकारा. उसने मुड़कर देखा तो पीछे किमी खड़ी थी . किमी ने उसको अपने आलिंगन में लिया और गाल पर किस किया.

फिर आँचल के हाथ में सॅटिन टेडी देखकर बोली, “ आँचल तुम इसे पहनकर बहुत सेक्सी लगोगी”.
आँचल मुस्कुरायी, फिर सेल्सगर्ल से बोली थोड़ा बड़ा साइज़ दो.

किमी – “ आँचल डियर, पिछले हफ्ते मैंने भी यही साइज़ लिया था जो मुझे बिल्कुल फिट आया. वैसे भी ये बदन ढकने के लिए नही बल्कि दिखाने के लिए होती है.”

उसकी इस बात पर आँचल शरमा गयी.

किमी – “आँचल तुम्हारा फिगर बहुत सेक्सी है और चेहरा भी कामुक है तुमको ज़रूर मॉडलिंग करनी चाहिए. ”

किमी के साथ आँचल को कुछ अजीब सा फील होता था. किमी बहुत सेक्सी थी और आज उसने टाइट टीशर्ट और टाइट पैंट पहना हुआ था. टाइट टीशर्ट में उसकी बड़ी चूचियां बाहर को निकली हुई थी. आँचल ने पेमेंट किया और जाने को हुई.

तभी किमी ने उसे रोका और बोली, “आज साथ ही लंच करते हैं.”

आँचल थोड़ा हिचकिचाई लेकिन किमी ने उसकी बाँह पकड़ी और शॉप से बाहर आ गयी. बाहर आकर उसने बताया की पहले उसे समीर यहीं पर मिलने वाला था लेकिन अब वो उसे सीधे कॉफी शॉप पर आने को बोलेगी. इससे पहले की आँचल विरोध कर पाती , उसने समीर को फोन करके वहाँ आने को बोल दिया.
आँचल को थोड़ा घबराहट हुई लेकिन समीर और किमी के साथ टाइम बिताने को मिलेगा ये सोचकर एक्साइट्मेंट भी हुई. लेकिन वो सुनील को क्या बोलेगी ? सुनील ने तो उसे समीर से दूर रहने को बोला था.

ये सब ख़याल उसके दिमाग़ में आए. फिर उसने सोचा समीर के साथ लंच करने में कोई हर्ज़ नही .
तभी किमी ने उसका हाथ दबाया , “ समीर कल जा रहा है और उसके पास अभी गाड़ी नही है , इसलिए हमे ही उसे पिकअप करना पड़ेगा.चलो चलते हैं .”

किमी कार में बैठ गयी और आँचल ने कार ड्राइव की . रास्ते भर किमी बातों बातों में आँचल की बाँहों , उसके बालों और गालों को टच करते रही. वो क्या बात कर रही हैं इन पर तो आँचल ने ज़्यादा ध्यान नही दिया पर उसके टच करने को वो सब समझ रही थी. जब वो दोनो समीर के अपार्टमेंट में पहुँचे तो किमी टॉयलेट चली गयी , अब आँचल समीर के साथ अकेली रह गयी.

समीर ने उसका हाथ पकड़कर उसके गाल पर किस कर लिया और बोला, “ आँचल तुम साड़ी में बहुत सेक्सी लग रही हो .“

बोलते समय वो आँचल की चूचियों और नाभि पर नज़रें गड़ाए हुए था. फिर उसने आँचल को सोफे पर अपने पास बिठा लिया. आँचल ने उसकी मर्दाना गंध को महसूस किया और उसके इतने नज़दीक़ बैठने से उसको उत्तेजना भी हुई और वो शरमा गयी.

उसके इस तरह शरमाने से उत्साहित समीर ने उसके कंधे पर हाथ रख दिया और उसके बालों और बाँहो को सहलाने लगा. वो बहुत डॉमैनेटिंग नेचर का था आँचल उसके सामने बिल्कुल दब गयी और उसको मना नही कर पाई. वो डरी हुई थी लेकिन साथ ही साथ एक्साइटेड भी थी.

आँचल के चेहरे को सहलाते हुए वो बोला “ आँचल तुम्हारा चेहरा बहुत सेक्सी है तुमको तो मॉडल बनने के बारे में सोचना चाहिए.”

फिर वो अपना चेहरा आँचल के पास लाया , आँचल ने सोचा वो किस करना चाहता है , उसने होंठ किस के लिए थोड़ा खोल दिए . तभी किमी कमरे में आ गयी और आँचल झटके से समीर से अलग हो गयी. उसने किमी की ओर देखा. वो जानती थी की किमी ने सब देख लिया है. आँचल टॉयलेट का बहाना बनाकर वहाँ से चली गयी.

टॉयलेट में उसने ठंडे पानी से अपना मुँह धोया और अपने आप को सम्हालने की कोशिश की. उसको समीर पर बहुत गुस्सा आया की वो उसको कठपुतली की तरह जैसे चाहे वैसे कैसे नचा सकता है. उसको मालूम था की आँचल शादीशुदा औरत है फिर भी उसके बदन को हाथ लगा रहा था और किस भी कर ही देने वाला था. आँचल उसको मना कर ही नही पा रही थी. अगर किमी नही आती तो ना जाने क्या हो जाता.

लेकिन समीर के साथ किस और चुदाई के बारे में सोचकर उसको बहुत उत्तेजना आई. उसकी पैंटी गीली हो गयी. उसने अपने ऊपर ज़्यादा कंट्रोल करने की सोची लेकिन उसका जिस्म हॉर्नी फील कर रहा था. टॉयलेट से जब वो बाहर आई तो सामने का नज़ारा देखकर हकबका गयी.

किमी समीर की बाँहो में थी और समीर उसके मुँह में जीभ घुसाकर उसे चूम रहा था. उसके हाथ किमी के नितंबों को मसल रहे थे और वो अपने पैंट के अंदर खड़े लंड को उसके पेट पर रगड़ रहा था.

आँचल को देखकर किमी समीर से अलग हो गयी और मुस्कुराते हुए सफाई देने लगी , “ कल समीर जा रहा है इसलिए आज हमारा साथ में अंतिम दिन है .“

आँचल को उनका प्रेमालाप देखकर ईर्ष्या हुई .

वो बोली , “ मेरे ख़याल से तुम दोनो प्रेमियों को अकेले छोड़कर मुझे चले जाना चाहिए.”

समीर और किमी दोनो ने एक साथ “नही “ बोल दिया.

किमी शरारत से मुस्कुराते हुई बोली , “ समीर ने मुझे प्रॉमिस किया है की वो मुझे आज सारी रात सोने नही देगा .“

समीर सारी रात किमी को चोदेगा , इस ख़याल से आँचल का मुँह लाल हो गया . उसका पति सुनील दो धक्के लगा के सो जाता था और दो-तीन दिन में एक बार ही चुदाई उसके लिए बहुत थी और यहाँ सारी रात चुदाई की बात हो रही है.

किमी आँचल के पास आई और उसके कान में फुसफुसा के बोली, “ तुम्हें यहाँ देखकर समीर हॉर्नी फील कर रहा है”.

आँचल का चेहरा ये सुनकर शरम से लाल हो गया , किमी को हँसी आ गयी.

फिर आँचल का चेहरा अपने हाथों में लेकर बोली , “ आँचल तुम्हे देखकर मैं भी हॉर्नी फील करती हूँ . मैं तुम्हे टेस्ट करना चाहती हूँ .”

फिर उसने अपने होंठ आँचल के होठों पर रख दिए और उसको किस करने लगी. आँचल ने कोई विरोध नही किया. फिर किमी ने आँचल की बाँह पकड़ी और वो तीनो कॉफी शॉप में लंच के लिए निकल पड़े.

कॉफी शॉप में पहुँचकर आँचल ने देखा की सभी की निगाहें उन्ही की ओर हैं. किमी ने टाइट टीशर्ट पहनी हुई थी और उसकी बड़ी बड़ी चूचियों पर सबका ध्यान था. आँचल खुद उनको देखना और फील करना चाह रही थी .

किमी को मालूम था की आँचल उससे बहुत प्रभावित है . वो आँचल के चूतरस को चखने के लिए मरी जा रही थी.

किमी आँचल के पास ही बैठी थी और बहाने से बार बार उसको टच कर रही थी. जिससे वो उत्तेजित होती रहे. लेकिन समीर चुपचाप था . वो सोच रहा था आज इस टीज़िंग बिच को चोदने का बहुत बढ़िया मौका है.

उसने देख लिया था की आँचल भी किमी की तरफ आकर्षित है , इससे उसके प्लान में फायदा ही होगा. आँचल को चोदने के ख़याल से उसके चेहरे पर मुस्कुराहट आ गयी. लंच के दौरान समीर और किमी , आँचल को मॉडलिंग के लिए उकसाते रहे. वो दोनो उसके फिगर , सुंदर चेहरे की तारीफों के पुल बांधते रहे.

किमी इस दौरान आँचल के बदन को , उसके चेहरे को टच करने का कोई मौका नही छोड़ रही थी. अपनी तारीफ सुनकर आँचल खुश हो गयी और किमी की हरकतों को नज़रअंदाज़ करती रही. लेकिन उत्तेजना से उसकी पैंटी गीली हो गयी थी और उसका चुदाई का बहुत मन कर रहा था.

उन दोनो ने आँचल को कुछ मॉडलिंग एजेन्सीस और फोटोग्राफर्स के नाम भी बताए. लंच के बाद जब समीर पेमेंट करने लगा तो आँचल ने पाया की वो अपना पर्स तो समीर के कमरे में भूल आई है.

Kuch dino baad , Aanchal ne apne pati Sunil ke sath boring sex life ko thoda chatpata banana ke liye sexy lingerie kharidne ka irada kiya . usne sexy lingerie pehankar raat mein Sunil ko surprise dene ke sochi.
Iske liye wo ek imported undergarment shop mein gayi .

Wahan satin teddy dekhkar wo uska size wagerah check karne lagi tabhi kisi ne uska naam pukara. Usne mudkar dekha to piche Kimi khadi thi . Kimi ne usko apne alingan mein liya aur gaal par kiss kiya.





Phir Aanchal ke hath mein satin teddy dekhkar boli, “ Aanchal tum ise pehankar bahut sexy lagogi”.
Aanchal muskurayi phir salesgirl se boli thoda bada size do.

Kimi – “ Aanchal dear, pichle hafte mene bhi yahi size liya tha jo mujhe bilkul fit aaya. Waise bhi ye badan dhakne ke liye nahi balki dikhane ke liye hoti hai.”

Uski is baat par Aanchal sharma gayi.

Kimi – “Aanchal tumhara figure bahut sexy hai aur chehra bhi kamuk hai tumko jarur modeling karni chahiye. ”

Kimi ke sath Aanchal ko kuch ajeeb sa feel hota tha. Kimi bahut sexy thi aur aaj usne tight tshirt aur tight pant pehna hua tha. Tight tshirt mein uski badi chuchiyan bahar ko nikli hui thi. Aanchal ne payment kiya aur jane ko hui.

Tabhi Kimi ne use roka aur boli, “aaj sath hi lunch karte hain.”

Aanchal thoda hitchkichayi lekin Kimi ne uski banh pakdi aur shop se bahar aa gayi. Bahar aaker usne bataya ki pehle use Sameer yahin par milne wala tha lekin ab wo use sidhe coffee shop par aane ko bolegi. Isse pehle ki Aanchal virodh kar pati , usne Sameer ko phone karke wahan aane ko bol diya.




Aanchal ko thoda ghabrahat hui lekin Sameer aur Kimi ke sath time bitane ko milega ye sochkar excitement bhi hui. Lekin wo Sunil ko kya bolegi ? Sunil ne to use Sameer se dur rehne ko bola tha.

Ye sab khayal uske dimag mein aaye. Phir usne socha Sameer ke sath lunch karne mein koi harz nahi .
Tabhi kimi ne uska hath dabaya , “ Sameer kal ja raha hai aur uske pass abhi gadi nahi hai , isliye hame hi use pickup karna padega.Chalo chalte hain .”

Kimi car mein baith gayi aur Aanchal ne car drive ki . Raste bhar Kimi baton baton mein Aanchal ki banhon , uske balon aur gaalon ko touch karte rahi. Wo kya baat kar rahi hain in par to Aanchal ne jyada dhyan nahi diya par uske touch karne ko wo sab samajh rahi thi. Jab wo dono Sameer ke Apartment mein pahunche to Kimi toilet chali gayi , ab Aanchal Sameer ke sath akeli reh gayi.

Sameer ne uska hath pakadkar uske gaal par kis kar liya aur bola, “ Aanchal tum saree mein bahut sexy lag rahi ho .“

Bolte samay wo Aanchal ki chuchiyon aur nabhi par nazren gadaye hue tha. Phir usne Aanchal ko sofe par apne pass bitha liya. Aanchal ne uski mardana gandh ko mehsoos kiya aur uske itne nazdeeq baithne se usko uttezna bhi hui aur wo sharma gayi.

Uske is tarah sharmane se utsahit Sameer ne uske kandhe par hath rakh diya aur uske balo aur banho ko sehlane laga. Wo bahut dominating nature ka tha Aanchal uske samne bilkul dab gayi aur usko mana nahi kar payi. Wo dari hui thi lekin sath hi sath excited bhi thi.

Aanchal ke chehre ko sehlate hue wo bola “ Aanchal tumhara chehra bahut sexy hai tumko to model banne ke bare mein sochna chahiye.”

Phir wo apna chehra Aanchal ke paas laya , Aanchal ne socha wo kiss karna chahta hai , usne hoth kiss ke liye thoda khol diye . Tabhi Kimi kamre mein aa gayi aur Aanchal jhatke se Sameer se alag ho gayi. Usne Kimi ki aur dekha. Wo janti thi ki Kimi ne sab dekh liya hai. Aanchal toilet ka bahana banakar wahan se chali gayi.

Toilet mein usne thande pani se apna munh dhoya aur apne aap ko samhalne ki koshish ki. Usko Sameer par bahut gussa aaya ki wo usko kathputli ki tarah jaise chahe waise kaise nacha sakta hai. Usko malum tha ki Aanchal shadisuda aurat hai phir bhi uske badan ko hath laga raha tha aur kiss bhi kar hi dene wala tha. Aanchal usko mana kar hi nahi pa rahi thi. Agar Kimi nahi aati to na jane kya ho jata.

Lekin Sameer ke sath kiss aur chudai ke bare mein sochkar usko bahut uttezna aayi. Uski panty gili ho gayi. Usne apne upar jyada control karne ki sochi lekin uska jism horny feel kar raha tha. Toilet se jab wo bahar aayi to samne ka nazara dekhkar hakbaka gayi.


Kimi Sameer ki banho mein thi aur Sameer uske munh mein jeebh ghusakar use choom raha tha. Uske hath Kimi ke nitambon ko masal rahe the aur wo apne pant ke andar khade lund ko uske pet par ragad raha tha.

Aanchal ko dekhkar Kimi Sameer se alag ho gayi aur muskurate hue safayi dene lagi , “ kal Sameer ja raha hai isliye aaj hamara sath mein antim din hai .“

Aanchal ko unka premalaap dekhkar irshya hui .

wo boli , “ Mere khayal se tum dono premiyon ko akele chodkar mujhe chale jana chahiye.”

Sameer aur Kimi dono ne ek sath “nahi “ bol diya.

Kimi shararat se muskurate hui boli , “ Sameer ne mujhe promise kiya hai ki wo mujhe aaj sari raat sone nahi dega .“

Sameer sari raat Kimi ko chodega , is khayal se Aanchal ka munh laal ho gaya . Uska pati Sunil do dhakke laga ke so jata tha aur do-teen din mein ek baar hi chudai uske liye bahut thi aur yahan sari raat chudai ki baat ho rahi hai.

Kimi Aanchal ke pass aayi aur uske kaan mein fusfusa ke boli, “ tumhen yahan dekhkar Sameer horny feel kar raha hai”.

Aanchal ka chehra ye sunkar sharam se laal ho gaya , Kimi ko hansi aa gayi.

Phir Aanchal ka chehra apne hathon mein lekar boli , “ Aanchal tumhe dekhkar mein bhi horny feel karti hun . mein tumhe taste karna chahti hun .”

Phir usne apne hoth Aanchal ke hothon par rakh diye aur usko kiss karne lagi. Aanchal ne koi virodh nahi kiya. Phir kimi ne Aanchal ki banh pakdi aur wo teeno coffee shop mein lunch ke liye nikal pade.




Coffee shop mein pahunchkar Aanchal ne dekha ki sabhi ki nigahen unhi ki or hain. Kimi ne tight tshirt pehni hui thi aur uski badi badi chuchiyon par sabka dhyan tha. Aanchal khud unko dekhna aur feel karna chah rahi thi .

Kimi ko malum tha ki Aanchal usse bahut prabhawit hai . wo Aanchal ke chootras ko chakhne ke liye mari ja rahi thi.

Kimi Aanchal ke pass hi baithi thi aur bahane se baar baar usko touch kar rahi thi. Jisse wo uttezit hoti rahe. Lekin Sameer chupchap tha . Wo soch raha tha aaj is teasing bitch ko chodne ka bahut badiya mauka hai.

Usne dekh liya tha ki Aanchal bhi Kimi ki taraf akarshit hai , isse uske plan mein fayda hi hoga. Aanchal ko chodne ke khayal se uske chehre par muskurahat aa gayi. Lunch ke dauran Sameer aur Kimi , Aanchal ko modeling ke liye uksate rahe. Wo dono uske figure , sundar chehre ki tarifon ke pul bandte rahe.

Kimi is dauran Aanchal ke badan ko , uske chehre ko touch karne ka koi mauka nahi chod rahi thi. Apni tareef sunkar Aanchal khush ho gayi aur Kimi ki harkaton ko nazarundaaz karti rahi. Lekin uttezna se uski panty gili ho gayi thi aur uska chudai ka bahut man kar raha tha.

Un dono ne Aanchal ko kuch modeling agencies aur photographers ke naam bhi bataye. Lunch ke baad jab Sameer payment karne laga to Aanchal ne paya ki wo apna purse to Sameer ke kamre mein bhool aayi hai.

User avatar
sexi munda
Gold Member
Posts: 807
Joined: 12 Jun 2016 12:43

Re: आँचल की अय्याशियां

Post by sexi munda » 03 Nov 2017 23:49

Shuqriya mitr


mast kamuk story hai

User avatar
Ankit
Platinum Member
Posts: 1752
Joined: 06 Apr 2016 09:59

Re: आँचल की अय्याशियां

Post by Ankit » 04 Nov 2017 12:06

Superb update.................. congratulation for new story

Post Reply