बाल उपन्यास :मिश्री का पहाड़ /ओमप्रकाश कश्यप

Jemsbond
Super member
Posts: 4271
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: बाल उपन्यास :मिश्री का पहाड़ /ओमप्रकाश कश्यप

Post by Jemsbond » 20 Jun 2016 13:13

‘पुलिस तो जितना प्रशासन की मानती है, उतना ही मान जनता का भी रखना पड़ता है.' अधिकारी ने बात को घुमाने का प्रयास किया, ‘अखबारों में आजकल जो छप रहा है, उसे तो आप देख ही रहे होंगे. आपने बच्चोंु को नशा-विरोधी अभियान में लगाकर अनूठा काम किया है. इस अभियान की सफलता की गूंज संसद तक पहुंच चुकी है. खुद मंत्री जी आपके प्रशंसक हैं. कह रहे थे कि जो काम पुलिस और प्रशासन इतने वर्षों में, अपने भारी-भरकम तामझाम के बावजूद नहीं कर सके, वह आपने इन छोट-छोटे बच्चोंि के माध्य म से कर दिखाया है. व्यमक्तिवग़त रूप में तो मैं भी आपका बहुत बड़ा प्रशंसक हूं. लेकिन आप तो जानते हैं कि पुलिस अधिकारी को कानून और व्ययवस्था दोनों ही देखने पड़ते हैं. इस नाते मेरी कुछ और भी जिम्मेआदारियां हैं.'
‘हमने तो ऐसा कुछ नहीं किया कि आप परेशानी में पड़ जाएं.'
‘आपने जानबूझकर तो ऐसा कुछ नहीं किया...'
‘यानी जो कुछ हुआ वह अनजाने में हुआ है?'
‘यही समझ लीजिए. दरअसल जिस अधबने भवन में आपका स्कूाल चल रहा है, वहां ऐसी ग़तिविधियों की अनुमति नहीं दी जा सकती.'
‘तब तो ये बच्चेस निरक्षर ही बने रहेंगे?'
‘उसके लिए सरकारी पाठशालाएं हैं. वहां इन बच्चों का प्रवेश आसानी से हो जाएगा. आप चाहें तो मैं खुद यह जिम्मेकदारी उठाने को तैयार हूं.'
‘पर उससे लाभ क्यात होगा. जिस जग़ह इन बच्चोंे के माता-पिता काम कर रहे हैं, वहां से सबसे निकट वाली पाठशाला भी कम से कम चार किलोमीटर की दूरी पर है. क्याग आपको लग़ता है कि इतनी दूर ये बच्चें पढ़ाई के लिए जा पाएंगे? और इनके माता-पिता इन्हेंा वहां जाने की अनुमति देंगे. क्योंइकि भले ही ग़रीब हों, अपने बच्चोंा की सुरक्षा की चिंता तो उन्हेंी भी है.'
‘जब तक नजदीक किसी पाठशाला का प्रबंध नहीं हो जाता तब तक तो इन बच्चोंं
को वहां जाना ही होगा.'
‘और बच्चोंह की सुरक्षा के लिहाज से इनके अभिभावक वहां जाने न देंगे, फिर तो बात जहां की तहां रही. तब इन बच्चों का क्या होगा?'
‘अवैद्य स्थ ल पर पाठशाला चलाने की अनुमति तो हरगिज नहीं दी जा सकती. अपनी नहीं माने तो विवश होकर हमें बल-प्रयोग़ करना पड़ेगा.' पुलिस अधिकारी ने दबंग़ई दिखानी चाही.
‘किस कानून के आधार पर आप बल-प्रयोग़ करेंगे. जहां हमारी पाठशाला है, वहां पाठशाला के नाम पर न कोई अवैध इमारत है, न पोस्टहर, न बैनर. खुले में बच्चों को कुछ सिखाना भला कौन से कानून में अपराध है, जरा बताएंगे?' बद्री काका ने कहा तो पुलिस अधिकारी बग़लें झांकने लगा.
‘आप मेरी मजबूरी को समझने की कोशिश कीजिए?'
‘आप हमारे संकल्पक को बूझने की कोशिश कीजिए. आप जानते हैं कि शहर में हर वर्ष राशन की दुकान तो बामुश्किेल एक बढ़ती है, लेकिन उसी अवधि में शराब के दर्जनों नए ठेकों को लाइसेंस दे दिया जाता है. बच्चों् को कॉपी और पुस्तकक भले न मिले, पर गुटका और पानमसाला खरीदने के लिए अब ग़ली के नुक्कनड़ तक जाना भी जरूरी नहीं रहा. वह आसपास ही टंगा मिल जाता है. यही हालत चरस, अफीम और गांजे की है. इलाज के लिए दवा खरीदते समय केमिस्टत की दुकान तक जाना पड़ता है. नशे की चीजें खुद अपने ग्राहक तक चली आती हैं.
बाकी नशों की बात तो अभी छोड़ ही दें, इस शहर में सिर्फ शराब से मरने वालों की संख्याह सात हजार से ऊपर पहुंच चुकी है. विज्ञान ने महामारी को तो जीत लिया है, पर शराब और नशे पर नियंत्रण रखने की बात करोे तो कानून पीछे पड़ जाता है. जबकि देश में शराब और नशे की लत के कारण हर साल इतनी मौतें होती हैं, जितनी पूरी दुनिया में बड़ी से बड़ी महामारी के दौरान भी नहीं होतीं. नशा-पीड़ितों के उपचार के लिए सरकार को हर वर्ष इतना खर्च करना पड़ता है कि मात्र एक साल की रकम से देश के हर गांव में स्कूसल खोला जा सकता है.
इन बच्चों् के दिल से निकली आवाज ने इनके अभिभावकों के दिलों को छुआ है. उन्हेंल यह एहसास दिलाया है कि वे अभिभावक भी हैं. यही कारण है कि पिछले कुछ दिनों में ही शराब की बिक्री में तीस प्रतिशत गिरावट आई है. पानमसाला और गुटके की बिक्री भी पचीस प्रतिशत तक घट चुकी है. इससे वे लोग़ डरे हुए हैं जिनका नशे का कारोबार है. जो ज्या्दा धन बंटोरने के लिए किसी भी सीमा तक गिर सकते हैं. जिनका कानून और इंसानियत से कोई वास्ता नहीं. वही लोग़ अखबारों में तरह-तरह की बातें लिखकर मुझे बदनाम करना चाहते हैं. अखबारों द्वारा कुछ नहीं कर पाए तो अब आपके माध्य म से दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं.'
पुलिस अधिकारी चुप था. टोपीलाल और कुक्कीे हैरान थे. बद्री काका को इस तरह बात करते हुए उन्होंतने पहली बार देखा था. उधर बद्री काका कहे जा रहे थे-
‘एक ग़लतफहमी और दूर कर दूं. इस अभियान को शुरू करने में मेरा योग़दान चाहे जो भी रहा हो, फिलहाल मैं इसका संचालक नहीं हूं. इसको तो ये बच्चेक स्वकयं, स्व यंस्फू र्त भाव से चला रहे हैं. मैं तो मात्र इनका प्रशंसक और मार्गदर्शक हूं. और बच्चोंत का ही निर्णय है कि आने वाली गांधी जयंती के दिन ये पूरे शहर में एक शांति जुलूस निकालें.'
‘जी!' पुलिस अधिकारी अपनी कुर्सी से उछल पड़ा, ‘सरकार इसकी कतई अनुमति नहीं देगी.'
‘हमें उसकी परवाह नहीं है. अपने राष्ट्र पिता की जयंती अग़र ये बच्चे उनके आदर्शों पर चलकर, उनके अधूरे कार्यक्रमों को आगे बढ़ाते हुए मनाना चाहते हैं, तो इन्हेंी कौन रोक सकता है. उस जुलूस में पूरे शहर के बच्चेर शामिल होंगे. संभव हुआ तो उनके माता-पिता भी. वे सब मिलकर नशे के विरुद्ध आवाज उठाएंगे. और हां, उसी दिन हम मजदूर बस्ति यों के आसपास खुली शराब की दुकानों के आगे धरना-प्रदर्शन भी करेंगे.'
‘इससे तो हालात और ज्यािदा बिग़ड़ सकते हैं. जबकि मैं चाहता हूं कि आप हमारी मदद करें.' पुलिस सुपरिंटेंडेंट नर्म पड़ने लगा था.
इसपर बद्री काका मुस्क.रा दिए, ‘आपने थोड़ी देर पहले ही माना है कि नशे पर रोक लगाना पुलिस और प्रशासन का काम है. मैं कहता हूं कि यह देश के हर जाग़रूक नाग़रिक का काम है. अपनी जाग़रूकता दिखाते हुए इन बच्चों ने थोड़े-से दिनों में वह कर दिखाया है, जो पुलिस और कानून कई वषोंर् में नहीं कर पाए थे. देखा जाए तो ये बच्चे‍ आप ही की मदद कर रहे हैं. इसलिए आपका भी कर्तव्या है कि उस दिन कोई अनहोनी न होने दें.' इतना कहकर बद्री काका ने पुलिस सुपरिटेंडेंट को नमस्का र कहा और उठ ग़ए. पुलिस सुपरिंटेंडेंट सहित सभी अधिकारी उन्‍हें ठगे से देखते रहे.
बाहर आकर निराली बद्री काका की तारीफ में कुछ कहना चाहती थी. मग़र टोपीलाल ने चर्चा दूसरी ही ओर मोड़ दी-‘गुरुजी, हमारे प्रदर्शन में मजदूर औरतें भी हिस्सार ले सकती हैं?'
‘बिलकुल मैं तो चाहता हूं कि उन्हेंा आगे आना ही चाहिए. तभी हम पूरी तरह कामयाब हो पाएंगे.'
‘हम लोग़ जब घरों में जाते हैं तो वहां के मर्द हमें घूरते हैं. उनका बस चले तो हमें भीतर ही न घुसने दें. लेकिन औरतें हमें प्यातर से बिठाती हैं. रसोई में कुछ बन रहा हो तो खाने को भी देती हैं. घर के मर्दों की नशाखोरी की आदत से परेशान औरतें चाहती हैं कि इस अभियान में उन्हेंन भी हिस्सेभदार बनाया जाए.'
‘लेकिन, मैंने तो यह यूं ही, बस आवेश में, पुलिस अधिकारी को चिढ़ाने के लिए कह दिया था.' बद्री काका असमंजस में थे.
‘जब कह दिया है तो उसपर अमल भी करना होगा. वरना वे समझेंगे कि हम डर ग़ए.'
‘वे कौन?' बद्री काका ने चौंककर पूछा.
‘वही, जो हमें रोकना चाहते हैं.'
‘क्याौ तुम उनके बारे में जानते हो?'
‘नहीं, पर बापू कह रहे थे कि शराब के ठेकेदारों, गुटका और पानमसाला बनाने वालों को बहुत घाटा सहना पड़ रहा है. वे इस कोशिश में हैं कि हमें कैसे रोका जाए.'
‘तुम्हादरे बापू ने क्याक तुमसे भी कुछ कहा था?'
‘कुछ भी नहीं, दो-चार दिनों से मैं उन्हें परेशान जरूर देख रहा हूं.' टोपीलाल ने सहज भाव से बताया.
‘तब?'
‘अग़र अब हम पीछे हटे तो वे समझेंगे कि डर ग़ए...' निराली ने जोड़ा.
‘तुम ठीक ही कहती हो. यह एक पुनीत कर्म है. मैं तुम्हेंा रोकूंगा नहीं. न डरने को ही कहूंगा. अब डरने की बारी तो असल में उनकी है. हम सफलता की डग़र पर हैं. लेकिन हमें सावधान रहना होगा. हमारे दिलों को अपने आतंक के साये में रखने के लिए वे लोग़ किसी भी सीमा तक जा सकते हैं.' बद्री काका ने कहा.
उस दिन टोपीलाल घर पहुंचा तो मन थोड़ा उद्धिग्नु था. किंतु चेहरा आत्माविश्वानस से दिपदिपा रहा था.
लोककल्याोण की भावना सबसे पवित्र एहसास है.
महानता उम्र देखकर नहीं जन्माती.
पुलिस सुपरिटेंडेंट के साथ बात सिर्फ छह जनों के बीच हुई थी. बंद कमरे में. बाद में टोपीलाल और निराली के साथ बद्री काका ने उस संवाद को अपनी तरह से आगे बढ़ाया. उनके व्य वहार में न तो आक्रोश था, न बदले की भावना. उससे अग़ले ही दिन समाचारपत्र में एक और बच्चेक का पत्र छपा. जिससे पूरे शहर की आत्माक को विचलित कर दिया. खासकर किशोरों और युवाओं की.
पत्र टोपीलाल ने ही लिखा था-
‘मेरे पिता नशे की हर चीज से दूर रहते हैं. शराब, बीड़ी, गुटका, पान, तंबाकू को वे हाथ तक नहीं लगाते. इस तरह तो मैं दुनिया के सबसे भाग्यचशाली बच्चों में से हूं. मेरे माता-पिता दुनिया के सबसे अच्छेू माता-पिताओं में से एक. परंतु मेरे हमउम्र दोस्तोंश में से अधिकांश मेरे जितने भाग्यमशाली नहीं हैं. क्योंेकि उनके माता-पिता(ज्यायदातर पिता ही) किसी न किसी नशे की लत के शिकार हैं. इस कारण उन्हें बाकी बच्चोंह के बीच बेहद
शर्मिंदा होना पड़ता है.
वे किसी से खुली बातचीत भी नहीं कर पाते. भविष्या को लेकर एक अनजाना-सा डर उनके दिलो-दिमाग़ पर हमेशा सवार रहता है. खुद से ज्यापदा वे अपनी मां, बहन के लिए लिए चिंतित रहते हैं. जिन्हेंक उनके पिता के नशे का उनकी अपेक्षा अधिक सामना करना पड़ता है. जब-तब वे हंसते भी हैं, मग़र उनकी हंसी महज लोक-दिखावा, एक रस्म अदायगी जैसी होती है.
जैसे कि मेरा एक दोस्ती है. बहुत भला लड़का. उसकी एक छोटी बहन भी है. अपने भाई की तरह मासूम और भोली. पिता घरों की पुताई का काम करते हैं. दिहाड़ी का काम. रोज कमाना, रोज का खाना. उनके घर का चूल्हाक तभी जल पाता है, जब उनके पिता कुछ कमाकर घर लौटते हैं. किंतु पिछले कई महीनों से मैं देख रहा हूं कि वे घर आने के बजाय रास्तेक या नालियों में पड़े होते हैं. नशे की हालत में. यदि उनके घरवालों को पता लग़ जाता है तो जैसे-तैसे उठाकर ले जाते.
घर जाकर बच्चोंस की मां जेब टटोलकर देखती है. ताकि सुबह से बंद चूल्हे को ग़र्मा सके. उस समय मेरा दोस्ता और उसकी बहन भूख से बेहाल हो रहे होते हैं. इसलिए उनकी मां अपने पति की जेब जल्दी -जल्दी् टटोलती. कंपकंपाती उंग़लियों से, डरते-डरते. यह सोचते हुए कि कहीं उस जेब को शराब की दुकान पहले ही खोखली न कर चुकी हो. यह डर भी बना रहता है कि कुछ बच जाए तो नशे की हालत में बेसुध पड़े शराबी की जेब को टटोलकर नकदी और कीमती चीज ले जाने वाले छिछोरे लोग़ भी कम नहीं हैं. ऐसा होता ही रहता है. उस दिन उन्हें भूखा ही सोना पड़ता है. कभी-कभार उनकी मजबूर मां घर की एकाध चीज बेचकर चूल्हा जलाने का इंतजाम कर लेती है.
ऐसे ही जब कई दिन भूख में गुजरे तो अपने बच्चोंी का पेट भरने के लिए वह औरत काम पर जाने लगी. एक दिन शाम को उसका मर्द घर लौटा तो उसने चूल्हेच तो जलते हुए पाया. बस यह देखते ही उसका पारा चढ़ ग़या. बिना कुछ सोचे-समझे गालियां देने लगा. उस दिन उसने अपनी पत्नीा को कुलटा, वेश्या , कुतिया और न जाने क्याय-क्या कहा. उस समय दोनों बच्चेल खड़े-खड़े रो रहे थे. औरत अपना माथा पीट रही थी. पूरा मुहल्लाक जानता था कि औरत ने दिन-भर मजदूरी की है. अपने बच्चों् का पेट भरने के लिए पसीना बहाया है, पर शराबी को समझाए कौन?
ऐसी एक नहीं दर्जनों घटनाएं हैं. मेरे कई अभागे दोस्त हैं, जो नशे के कारण त्रासदी भोग़ रहे हैं. उनकी जिंदगी नर्क बन चुकी है. ऐेसे ही कुछ बच्चोंई ने मिलकर इस दो अक्टूतबर को गांधी जयंती के दिन एक जुलूस निकालने का निर्णय किया है. हमारा जुलूस पूरी तरह शांतिपूर्ण होगा. हमारे हाथ में नारे लिखे पोस्टसर होंगे. हम मौन रहेंगे. यहां तक कि नारे भी नहीं लगाएंगे. हमारे हाथ में झंडे होंगे, डंडे नहीं. जो भी हमारे अभियान से, मेरे उन मित्रों से सहानुभूति रखता है, जिनका शांति और अहिंसा में विश्वाोस है, वह आगामी दो अक्टूीबर को सच्चें, शांत मन से हमारे साथ सम्मि,लित हो सकता है.
हम जब मिलकर आगे बढ़ेंगे, तभी कुछ सार्थक ग़ढ़ सकेंगे!
टोपीलाल
इससे पहले के अधिकांश पत्र छद्‌म नाम से प्रकाशित हुए थे. परंतु इस पत्र में टोपीलाल का नाम ग़या था. प्रभातफेरी के माध्य म से शहर-भर में टोपीलाल और उसके साथियों की चर्चा थी. पत्र की खबर टोपीलाल की मां तक पहुंची. उसका मन आशंकाओं से भर ग़या. उस रात टोपीलाल घर लौटा तो वह खाना बना रही थी. बापू टोले के दूसरे मिस्त्रियों के साथ अग़ले दिन के काम की योजना बना रहे थे. टोपीलाल मां के पास चूल्हे के सामने ही बैठ ग़या. वह उसे मुस्कलराई. पर उस मुस्कापन में उतनी स्वा भाविकता न थी. टोपीलाल को उपले की मंदी आग़ में मां के माथे की लकीरें साफ दिखाई पड़ ग़ईं. मां परेशान है, इस बात का अनुमान लगाते हुए उसको देर न लगी. मग़र क्योंा, काफी कोशिश के बाद भी वह इस बारे में अनुमान लगाने में नाकाम रहा.
‘तेरी गुरुजी पढ़ाई पर ध्या न तो दे रहे हैं, न!' बात मां ने ही आगे बढ़ाई.
‘गुरुजी, तो हमेशा ही हमारे भले का सोचते हैं.'
‘और जो काम वे तुमसे करा रहे हैं! मैं तो पढ़ी-लिखी नहीं. तेरे बापू को अपने काम के अलावा बहुत कम दुनियादारी आती है. हम अपने घर से सैकड़ों मील दूर इसलिए आए हैं कि जिस इज्जीत की रोटी की हम उम्मीमद रखते थे, गांव में जातिभेद के चलते वह संभव ही नहीं थी. शहर में वर्षों रहकर भी हम इतने समर्थ नहीं हो पाए हैं कि किसी बड़ी मुश्किवल का सामना कर सकें. पेट भरने के लिए रोज पसीना बहाना पड़ता है. और तेरे गुरुजी, माना कि दिल के भले और रसूखवाले हैं, मग़र आजकल की चालबाज दुनिया के आगे वे अकेले...'
‘मां, गांधी जी भी तो अकेले ही थे.' टोपीलाल ने मां की बात काटी. हालांकि ऐसा वह कम ही करता था.
‘वो जमाना और था बेटा, तब का आदमी इतना काईंयां नहीं था कि पीठ पीछे से वार करे...'
‘तू बेकार ही परेशान हो रही है. बच्चोंा से कोई क्याप दुश्मानी निकालेगा.'
‘तू अभी नादान है. कुछ समझता नहीं, कुछ दिनों से तरह-तरह की खबरें मिल रही हैं. शराब और नशाखोरी के विरोध में तुम सबने जो काम शुरू किया है, लोग़ उससे नाराज हैं. मजदूर बस्ति यों में शराब की दुकानें की बिक्री तीन-चौथाई तक आ ग़ई है. यही हाल पानमसाला और गुटका बेचने वालों का है. वे लोग़ इस नुकसान को आसानी से सहने वालों में से नहीं हैं. बद्री काका के बारे में तो उन्होंेने पता कर लिया है. अग़र वे इतने रसूखवाले न होते तो अब तक कभी के धर लिए जाते.'
‘यदि तुम बद्री काका की पहुंच के बारे में जानती हो, तब तो तुम्हेंु निश्चिंनत रहना
चाहिए, मां!' टोपीलाल ने तर्क करने की कोशिश की. पर मां के दिमाग़ में तो कुछ और ही घुमड़ रहा था-
‘दिन में कुछ आदमी आए थे. तेरे नाम का पता लगाते हुए. वे तेरे पिता से मिले. उन्हों ने धमकी दी है कि तुझे समझाएं. कहें कि जिस रास्तेप पर तू जा रहा है, वह हममें से किसी के लिए भी ठीक नहीं है. उन्होंहने कहा कि अग़र तू और तेरे दोस्ते सचमुच पढ़ना चाहते हैं तो वे तुम सब के लिए शहर के किसी भी अच्छेक स्कूनल में इंतजाम करा सकते हैं. तू यदि शहर से बाहर जाना चाहे तो वे पूरा खर्च उठाने को तैयार हैं. लेकिन इसके लिए तुझे जुलूस वगैरह का चक्कतर छोड़ना पड़ेगा.'
‘और तुम क्याे चाहती हो, मां.'
‘मेरी तो यह बहुत पुरानी साध है कि तू पढ़-लिखकर बड़ा आदमी बने. वे अच्छेे स्कूिल में पढ़ाई का खर्च देने को तैयार हैं. दाखिले में भी मदद करने का वायदा करके ग़ए हैं. मां होने के नाते यदि मैं तेरे सुख की चाह रखती हूं तो इसमें बुरा ही क्या है?'
‘कुछ भी बुरा नहीं है, मां. लेकिन अग़र पिताजी उतने अच्छेा न होते, जितने कि वे अब हैं? यदि उन्हेंे भी शराब या जुए की लत होती? यदि अपनी कमाई घर आने से पहले ही वे शराब या जुए खाने की भेंट चढ़ाकर घर लौटा करते? यदि तू साधारण स्त्री की तरह घर पर पति का इंतजार किया करती, इस उम्मीाद में कि उनके आने पर चूल्हा चढ़ाएगी और उस समय वे सबकुछ शराब के हवाले कर घर लौटते तो? क्याइ तब भी तू मुझे इसी तरह रोकती?'
टोपीलाल के तर्क ने उसकी मां को निरुत्तर कर दिया.
‘चल पहले रोटी खा ले...!' वह इतना ही कह पाई. टोपीलाल रोटी खाने लगा. खाना खाकर वह उठा तो मां की धीमी-सी आवाज आई-
‘अपना ख्याल रखना बेटा...मां हूं न, तेरे सुख की चिंता कभी-कभी कमजोर बना ही देती है!' कहते-कहते उसकी आंखों में नमी उतर आई. टोपीलाल का ग़ला भी भारी हो ग़या. उसके बाद अपनी मां पर ग़र्व करता, भविष्यत के बारे में नए-नए स्वंप्नल सजाता हुआ वह चारपाई की ओर बढ़ ग़या. कुछ देर बाद काम निपटाकर मां भी उसके बराबर में आकर लेट ग़ई. टोपीलाल ममत्व की चाहत में उससे सट ग़या.
प्रेम बिना ताकत, बिना अपनों के आशीर्वाद के जीवनसंघर्ष में जीत कहां!
भावना सच्चीत हो तो आवाज दूर तक जाती है. उसका प्रभाव भी स्थाायी होता है.
जैसी कि अपेक्षा थी टोपीलाल के पत्र की अनुकूल प्रतिक्रिया हुई. दो अक्टूाबर के दिन स्व यंस्फू र्त भाव से सैकड़ों बच्चे उस अभियान दल के साथ थे. कतारबद्ध, अनुशासन में बंधे, एक ही संकल्प में ढले हुए. रंग़-बिरंगे कपड़ों में, मानो तरह-तरह के सुगंधित फूल,
उल्लातस से सजे-संवरे कतारे बांधे खड़े हों. अथवा किसी बड़े उद्‌देश्यि के लिए तारे जमीन पर उतर आए हों. उनके अधरों पर पवित्र मुस्का न थी; जैसे भागीरथी की पवित्र लहरों पर नवअरुण की किरणें झिलमिला रही हों, मन में आत्मंविश्वा्स जैसे समुद्र अपनी गंभीरता छिपाए रखता है.
बच्चोंप के कार्यक्रम की गूंज राजनीतिक ग़लियारों में छा चुकी थी. कई राजनीतिक दल उस आंदोलन को अपने समर्थन की घोषणा कर चुके थे. कुछ नेताओं ने उस कार्यक्रम से सीधे जुड़ने की इच्छा भी व्यंक्त की थी. मग़र दूरदर्शी बद्री काका ने विनम्रतापूर्वक इंकार कर दिया था. वे नहीं चाहते थे कि उस कार्यक्रम का राजनीतीकरण हो. मिथ्या वाद-विवाद में फंसकर वह असमय दम तोड़ जाए. इसपर कुछ नेताओं ने अपनी नाराजगी प्रकट की. बद्री काका पर घमंडी होने का आरोप भी लगाया. मग़र वे अपने इरादे पर अटल बने रहे.
जुलूस-स्थमल पर अनुशासन की पूरी व्ययवस्थाफ थी. पंक्ति में सबसे आगे था टोपीलाल, सिर पर पीली टोपी पहने. उसके पीछे निराली, तीसरे स्थावन पर कुक्कीथ खड़ी थी. उसके पीछे सदानंद. पांचवे स्था न पर बद्री काका स्वपयं थे, एक विशाल छायादार बरग़द की भांति. उनके पीछे बच्चों को दो पंक्तिउयों में नियोजित किया ग़या था. तीसरी पंक्तिा मजदूर औरतों की थी. अपने तांबई चेहरे और ठोस इरादों के साथ वे जुलूस में हिस्सान लेने पहुंची थीं. उनके आंखों में विश्वाजस-भरी चमक थी. वे सबसे दायीं ओर ढाल बनकर, पंक्तियबद्ध खड़ी थीं. सबके चेहरे पर एकसमान उल्ला स था. ढले थे सब एक ही अनुशासन में.
जुलूस आगे बढ़े उससे पहले बद्री काका ने बच्चोंी और बड़ों को संबोधित किया-
‘बच्चो और बहनो! यह हमारे इतिहास का पवित्रतम क्षण है; और विश्व‍-भर में अनूठा भी. संभवतः पहली बार सैकड़ों ग़रीब बच्चेर और उनकी स्त्रियां किसी पवित्र उद्‌देश्यज के लिए एकजुट हुए हैं. अपने संकल्पे को मजबूत कर, बड़े आंदोलन के लिए आगे आए हैं. बच्चेय किसी भी देश का भविष्‍य हैं. इस आधार पर हम कह सकते हैं कि भविष्यं अपने वर्तमान को अनुशासित करने के लिए खुद एकजुट हुआ है. भटके हुए लोगों को राह दिखाने, समाज को नई दिशा देने के लिए यह एकता बहुत जरूरी है.
हमारा यह जुलूस नाम पाने के लिए नहीं है. न सिर्फ अखबारों में नाम छपवाने के लिए है. न ही इसके पीछे कोई राजनीतिक ताकत है. आज जो हमारे लिए जरूरी है, वह है समय पर भोजन, साफ-सुथरे कपड़े, सिर पर छत और शिक्षा. यहां आए बहुत से बच्चोंए को ये सब सुविधाएं मिल सकती थीं. यदि नशे ने उनके परिवार पर हमला न किया होता. नशे ने हमसे जीवन की इन बुनियादी चीजों को छीना है. हमारे अपनों को भटकाया है, इसलिए आज वह हमारा सबसे बड़ा दुश्मसन है. हमें उसको खदेड़ देना है. मुक्तिअ पानी है उससे.
हमारे इस प्रदर्शन का मकसद नशे के दुष्प्र भावों के प्रति जाग़रूकता पैदा करना है.लोगों को बताना है कि नशा उनके तन और मन को किस प्रकार खोखला करता जा रहा है. यह एक व्याकधि है जिसने पूरे समाज को ग्रस रखा है. इसलिए हम नशे से नफरत करते हैं, नशा पैदा करने वाली वस्तु‍ओं से नफरत करते हैं, उन लोगों से नफरत करते हैं जो अपने स्वा र्थ के लिए नशे की वस्तु्ओं का व्या पार करते हैं. लेकिन हम नशाखोरों से नफरत नहीं करते. वे तो हमारे अपने और खास हैं. नशे ने उन्हेंु हमसे दूर किया है. हमारा उद्‌देश्यन उन भटके हुओं को सही रास्तेो पर लाना है.
यह भी ध्याेन रहे कि आज का कार्यक्रम हमारे लंबे अभियान की केवल शुरुआत है. नशे के विरोध की हमारी यात्रा आज से आरंभ होने जा रही है. यह बहुत लंबी यात्रा है. इसमें अनेक पड़ाव आएंगे. बहुत-सी परेशानियों और संकटों से हमारा सामना होगा. हादसे कदम-कदम पर हमारी हिम्मुत और धैर्य की परीक्षा लेंगे. किंतु यदि हम डटे रहे तो विजय हमारी ही होगी. क्योंदकि जीत हमेशा सच की होती है.
मित्रो, मैं तो बूढ़ा हो चुका हूं. संभव है कि इस अभियान में आपकी संपूर्ण विजयश्री को मैं अपनी आंखों से न देख सकूं. मग़र आप सभी उस विजय दिवस के साक्षी बनें, इस कामना के साथ मैं आप सब को बधाई देना चाहता हूं.
आगे बढ़ने से पहले सिर्फ इतना ध्यािन रहे कि हम महात्मा गांधी के शांति सैनिक हैं. मन, वचन और कर्म में से किसी भी प्रकार की हिंसा हमारे लिए त्या्ज्या है. इसलिए हम यह संकल्प लेकर आगे बढ़ें कि चाहे जो भी हो, हम शांति-भंग़ नहीं होने देंगे. अहिंसा हमारा धर्म है. महात्मास गांधी की...'
‘जय...!' बच्चोंी का समवेत स्व र गूंजा.
इसके बाद टोपीलाल ने मोर्चा संभाल दिया. अपनी पतली लेकिन ओज-भरी आवाज में उसने नारा लगाया-‘महात्माप गांधी की...'
‘जय...!'
जुलूस आगे बढ़ने ही वाला था कि वहां पर पुलिस की गाड़ी रुकी. उसके पीछे दो गाड़ियां और भी थीं. एक गाड़ी से धड़ाधड़ कई सिपाही कूदने लगे. तभी बद्री काका की निगाह सबसे आगे चल रहे पुलिस अधिकारी पर पड़ी. उन्हेंा पहचानते हुए देर न लगी. वह पुलिस सुपरिंटेंडेंट था. तेज कदमों से चलता हुआ वह बद्री काका के निकट पहुंचा. जुलूस में मौजूद औरतें और बच्चेी सहम-से ग़ए. परंतु टोपीलाल और उसके साथियों के चेहरों पर पहले जैसी दृढ़ता बनी रही.
बद्री काका का अभिवादन करने के उपरांत पुलिस सुपरिंटेंडेंट ने कहा-
‘आप हैरान हो रहे होंगे मुझे यहां देखकर. दरअसल मैं यह कहने आया हूं कि उस दिन आपने मेरी आंखें खोल दी थीं. मैं इस मसले को अभी तक केवल कानून की निगाह से देख रहा था. इन बच्चोंच के पवित्र उद्‌देश्य और उनकी भावनाओं को मैं उस समय तक
समझ ही नहीं पाया था. ग़लत था मैं. शायद आप के ही दर्शनों का सुफल है जो समय रहते सद्‌बुद्धि लौट आई. अब मैं पूरी तरह से आपके साथ हूं. आप जुलूस लेकर आगे बढ़ें. बस जरा शांति-व्यसवस्थाद का ध्याकन रखें. मैं और मेरी पूरी कमान आपके साथ है.'
‘धन्यीवाद एसपी साहब! मैं आपकी भावनाओं का सम्मा न करता हूं तथा उम्मीतद करता हूं कि हमें आपकी जरूरत नहीं पड़ेगी.'
‘मैं भी यही चाहता हूं.' मुस्कैराते हुए पुलिस कप्ताेन ने कहा और अपनी गाड़ी पर सवार हो ग़या.
ताकत नैतिकता के आगे सदैव नतमस्त क होती रही है.
नैतिकता मनुष्याता के लिए नए मापदंड भी ग़ढ़ती है.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Re: बाल उपन्यास :मिश्री का पहाड़ /ओमप्रकाश कश्यप

Sponsor

Sponsor
 

Jemsbond
Super member
Posts: 4271
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: बाल उपन्यास :मिश्री का पहाड़ /ओमप्रकाश कश्यप

Post by Jemsbond » 20 Jun 2016 13:14

हाथों में झंडियां और पोस्ट र उठाए बच्चेु आगे बढ़ने लगे. मौन, पूरी तरह अनुशासित. संयमित और मर्यादित. चेहरे पर आत्मेविश्वापस और मनभावन मुस्काेन लिए. मानो इतने सारे बच्चे एक साथ साधनारत हों. कि पवित्र जलधाराएं मौन, धीर-गंभीर ग़ति से एक-दूसरे के समानांतर बही चली जा रही हों. अनेकानेक को जीवनदान देने. परोपकार की परंपरा को आगे बढ़ाती हुई. सींचती हुई पवित्र धरा को नई उमंगों, रंग़-बिरंगे सपनों और महान संकल्पोंे से.
सबसे आगे था टोपीलाल. उन्नात ग्रीवा, घुंघराले बाल, तांबई, पका हुआ रंग़. अपने दोनों हाथों से दंड रहित श्वेीत-हरित ध्वलजा को उठाए. दंड रहित ध्वनजा की परिकल्पलना बद्री काका ने की थी. अहिंसा के सिपाहियों के हाथों में दंड का क्याक काम. जो अपनी नैतिकता से दुनिया जीतने निकला है, उसको बल या उसके बाह्‌यः प्रतीकों का सहारा क्योंो. उनके पीछे मौजूद तीनों कतारों में सैकड़ों बच्चे और औरते खड़ी थे.
आरंभ में जुलूस में हिस्सा लेने आई स्त्रियों की संख्याि कम थी. लेकिन जुलूस आगे बढ़ने के साथ-साथ महिला आंदोलनकारियों की संख्यास भी बढ़ती चली ग़ई. उनकी देखदेखी कुछ पुरुष भी आकर उनमें शामिल हो ग़ए. जिनमें से एक व्य क्तिा को देखकर बद्री काका, कुक्कीे और टोपीलाल सहित अनेक बच्चे विस्मएय में डूब ग़ए. वह जियानंद था. सदानंद का पिता. अपने पिता को वहां देख सदानंद के चेहरे पर उदासी छा ग़ई. यह देख बद्री काका ने उसको संभाला. कंधा थामकर भरोसा जताया. जुलूस आगे बढ़ा तो जियानंद भी साथ-साथ बढ़ने लगा.
दोपहर बारह बजे के तय समय पर जब जुलूस अपने पूर्व निर्धारित पड़ाव-स्थतल पर पहुंचा, उस समय तक स्त्रियों की कतार बच्चोंय की कतार जितनी ही लंबी हो चुकी थी. उसमें डेढ़ सौ से अधिक महिला आंदोलनकारी सम्मि लित थीं. श्रम और ममता की प्रतिमूर्ति. उत्सासहित, आंखों में बदलाव का सलोना सपना सजाए हुए. नए विश्व की रचना
को समर्पित. पुरुषों की संख्याम भी पचास से ऊपर थी.
पुलिस के सिपाही जुलूस को घेरे हुए चल रहे थे. उनके चेहरे पर नौकरी का तनाव कम, जुलूस के साथ होने की अनुभूति प्रबल थी. उनकी भावनाएं जुलूस में सम्मिालित बच्चोंड की भावनाओं के अनुरूप थीं, इसीलिए वे भी जुलूस का ही एक हिस्सा नजर आ रहे थे. शायद पहली बार पुलिस की मंशा बच्चोंन के जुलूस को सुरक्षाकवच प्रदान करने की थी. कानूनी ताकत नैतिकता की सहयोगी बनी थी. लोगों को अपनी कामयाबी का भरोसा भी था.
रास्ते के दोनों और लोग़ जमा थे. स्त्री-पुरुष, बूढे़े और बच्चे , धनी और निर्धन, मजदूर और व्यासपारी. सभी हैरान थे. मैदान में इधर-उधर घूमने वाले बच्चे., जिन्हेंो आवारा, बदमाश, शैतान आदि न जाने क्याम-क्यार कहा जाता था. जो ग़लियों में बेकार घूमते, समय गुजारने के लिए कबाड़ का धंधा करने लग़ते थे.
पेट भरने के लिए छोटी-मोटी चोरी-चकारी से भी उन्हें डर नहीं था. उनके घरों में नशे की त्रासदी आम बात थी. अपनी नादानी के कारण जो स्वटयं भी किसी न किसी नशे का शिकार होते आए थे, पहली बार वे नशे के विरुद्ध एकजुट हुए थे. पहली बार उन्होंकने उस दानव के विरुद्ध मोर्चा खोला था. तमाशबीन दर्शकों के बीच चर्चा का यह एक अच्छाए मसाला था.
जुलूस को मैदान तक पहुंचने में करीब डेढ़ घंटा लगा था. वहां स्व यंसेवी संस्थााओं की ओर से नाश्तेत की व्यरवस्था् थी. मैदान तक पहुंचते-पहुंचते बच्चेा थक चुके थे. हालांकि उनके चेहरे को देखकर उसका अनुमान लगा पाना कठिन था. बद्री काका ने नाश्तेप के लिए विश्राम की मुद्रा में आ जाने को कहा. कुछ बच्चेक वहीं जमीन पर बैठ ग़ए. मैदान में बच्चों को संबोधित करने के लिए एक मंच बनाया ग़या था. मंच से बद्री काका द्वारा संबोधित किए जाने का कार्यक्रम था.
पार्क में अब सिर्फ बच्चेध नहीं थे. बल्किा सैकड़ों की भीड़ जमा थी. जुलूस की खबर अखबार के माध्यनम से पूरे शहर में फैल चुकी थी. इसलिए उसको देखने के लिए हजारों की भीड़ उमड़ चुकी थी. उत्सु क लोग़ सड़क के किनारे, चौराहों, घरों और दुकानों की छतों पर खड़े थे. बाजार में ग्राहक कम जुलूस देखने आए तमाशबीनों की संख्याे अधिक थी. बच्चोंर के पहुंचने से पहले ही सैकड़ों लोग़ उस पार्क में जमा हो चुके थे. इससे बद्री काका का उत्सारहित होना स्वाुभाविक ही था.
बच्चों् के उत्साहहवर्धन के लिए एक बार फिर उन्हों ने जिम्मेउदारी संभाल ली. मंच पर आकर उन्होंबने कहना आरंभ किया-
‘दोस्तोक! मैं नशे के विरुद्ध बच्चोंर और बड़ों में चेतना तो लाना चाहता था. परंतु सच मानिए इतने बड़े और सफल जुलूस की कल्पोना मैंने सपने में भी नहीं की थी. मेरी पाठशाला में तो मुट्‌ठी-भर ही बच्चेआ हैं, जो एक कमरे में समा सकते हैं. पर आज जो यहां
पर शहर-भर के बच्चों का हुजूम उमड़ पड़ा है, उसका श्रेय सिर्फ और सिर्फ टोपीलाल और उसके साथियों को जाता है.
इन बच्चों ने पूरी मेहनत और ईमानदारी के साथ अपनी भावनाओं को आप सब तक पहुंचाया. आपके दिल को छुआ. इसी का सुफल आज का यह कामयाब प्रदर्शन है.रास्तेक में हमारे जुलूस को हजारों आंखों ने देखा. हजारों दिल-दिमागों ने हमारे कार्यक्रम के प्रति अपनी आस्थाप का प्रदर्शन किया है. आप सबकी भागीदारी ने, चाहे वह जिस रूप में भी हो, हमारा हौसला बढ़ाया है. हमारे मकसद को दृढ़ किया है. और इस संघर्ष में जीत के प्रति हमारे विश्वाभस को आगे ले जाने का काम किया है. इसकी खबर करोड़ों लोगों तक पहुंचेगी और यकीन मानिए हमें उनका भी आशीर्वाद मिलेगा.
आज जिस तरह से लोग़ हमारे जुलूस को देखने के लिए जमा हुए हैं, उससे लग़ता है कि लोग़ हमपर विश्वादस कर रहे हैं. वे हमारी बात से सहमत हैं. हमारी भावनाओं के प्रति एकमत हैं, हमसे जुड़ना चाहते हैं. हमने आज लोगों की आंखों में चमक देखी. निश्चहय ही उनमें कुछ आंखें ऐसी भी होंगी जिन्हेंो नशे की लत ने धुंधली बना दिया होगा. लेकिन यदि वे हमें देखने के लिए यहां तक आई हैं तो हमें यह मान लेना चाहिए कि वे बदलाव के लिए उत्सुनक हैं. वे अपनी स्थि ति से, बदनामी और पतन की पराकाष्ठा से ऊब चुकी हैं. यह सब हमारी एकजुटता का नतीजा है. हमारे उद्‌देश्यए की पवित्रता ने इसको आसान बनाया है.
जुलूस को कामयाब बनाने में स्त्रियों का भी योग़दान है. वे स्वुयंस्फूुर्त भाव से इसमें हिस्साो लेने आई हैं. जुलूस में स्त्रियों को सम्मिदलित करने का विचार भी मेरा नहीं था. यह सुझाव भी टोपीलाल की ओर से आया. सच कहूं तो आजादी के बाद के अपने सार्वजनिक आयोजन में मैं स्त्री-शक्ति को इतने बड़े स्त र पर पहली बार संग़ठित देख रहा हूं. हमारे परिवारों में कमाना अब भी पुरुष की जिम्मेैदारी माना जाता है, लेकिन उसका अस्तिबत्व़ पूूरी तरह अपने परिवार अर्थात स्त्री और बच्चों पर निर्भर होता है. कोई भी मनुष्य भले ही वह कितना ही संवेदनहीन क्योंप न हो, स्त्री और बच्चों की उपेक्षा नहीं कर पाता. घर के मर्द जब नशे के शिकार होते हैं तो उसका सर्वाधिक नुकसान भी इसी वर्ग को उठाना पड़ता है. इसलिए अपने हित के लिए इन दोनों को संग़ठित होना पड़ेगा.
यह कोई राजनीतिक लड़ाई नहीं है. हम इसको राजनीतिक लड़ाई बनाना भी नहीं चाहते. अग़र इसको राजनीतिक लड़ाई बनाया ग़या तो वोटों के सौदाग़र कूद पड़ेंगे. तब इस आंदोलन का भी वही हश्र होगा जो देश की अधिकांश राजनीतिक संस्थातओं का होता रहा है. यह एक सामाजिक आंदोलन है, जिसका संघर्ष घर की चारदीवारी के बीच, चौके-चूल्हेा के सामने होना है. वहां पर बच्चों और स्त्रियों की एकजुटता इस आंदोलन को विजय की ओर ले जाएगी.
मित्रो! हमारा अग़ला कार्यक्रम मजदूर बस्तिहयों के आसपास स्थि त शराब की पांच
दुकानों के आगे धरने-प्रदर्शन का है. गांधी जयंती के कारण सभी दुकानें आज बंद होंगी. मग़र हमारा लक्ष्यि अपनी विचारधारा को प्रशासन और आम जनता तक पहुंचाना है, इससे उनके बंद होने या खुले रहने से कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता. मैं चाहता हूं कि इस सांकेतिक धरने के नेतृत्व के लिए महिलाएं आगे आएं.'
बद्री काका ने बोलना समाप्त किया तो सभा-स्थेल तालियों की ग़ड़ग़ड़ाहट से गूंज उठा. स्त्रियों की कतार से कुछ महिलाएं आगे आ ग़ईं. बाकी बद्री काका के इशारे पर बच्चोंल की कतारों में बच्चों के बीच सम्मि.लित हो ग़ईं. फिर पूरे दल को पांच हिस्सोंज में बांट दिया ग़या.
‘महात्मा गांधी की जय...!' पीछे से आवाज आई तो टोपीलाल चौंक पड़ा.
‘मां!' कहते हुए उसकी निगाह महिलाओं की ओर दौड़ ग़ई. आठ-दस महिलाओं के बीच अपनी मां को खड़ा देख टोपीलाल की आंखों में चमक आ ग़ई-
‘तुम भी!' उसके मुंह से बरबस निकला. टोपीलाल को आंखों ही आंखों में आशीर्वाद लुटाते हुए उसकी मां ने दुबारा नारा लगाया-
‘सत्या और अहिंसा की...!'
‘जय!' टोपीलाल ने अपनी मां के स्वार में स्वपर मिलाया. उसका साथ सैकड़ों आवाजों ने दिया. जुलूस धरने के लिए आगे बढ़ने ही जा रहा था कि एसपी की गाड़ी फिर उसका रास्तास रोककर खड़ी हो ग़ई. आंखों में चिंता के भाव लिए वह बद्री काका के पास पहुंचा-
‘माफ कीजिए, यहां से आगे बढ़ने की अनुमति मैं आपको नहीं दे सकता?' पुलिस अधिकारी ने जोर देकर कहा. बद्री काका हैरान. कारण उनकी समझ के बाहर था.
‘ऐसा अचानक क्याा हो ग़या एसपी साहब?' बद्री काका ने प्रश्नग किया.
‘मुझे अभी-अभी सूचना मिली है कि उधर कुछ गुंडे लोग़ जमा हैं. वे जुलूस को नुकसान पहुंचा सकते हैं.'
‘आप उनको रोकें, समझाएं कि वे हमारे शांतिपूर्ण प्रदर्शन में बाधा न बनें.'
‘हमारी टुकड़ियां उधर जा चुकी हैं. हालात नियंत्रण में हैं. फिर भी बच्चोंे और महिलाओं के कारण मैं कोई खतरा उठाना नहीं चाहता. प्ली ज, आप ही मान जाइए.'
‘चाहे कुछ भी हो जाए साहब, हम नहीं मानेंगे.' तब तक कई महिलाएं आगे आ चुकी थीं. टोपीलाल और उसके साथी भी उनके इर्द-गिर्द जमा हो ग़ए.
‘आप बात समझने की कोशिश कीजिए. उन लोगों का कोई भरोसा नहीं. गुंडे-मवालियों के माध्यरम से वे कुछ भी कर सकते हैं.'
‘तो आप उन्हें गिरफ्तानर कर लीजिए...' महिलाओं के बीच से आवाज आई. एसपी के चेहरे पर बेचारगी छा ग़ई. तब बद्री काका उसको सांत्व ना देने के लिए आगे आए-
‘मैं आपकी मुश्किसल समझता हूं कप्ता न साहब. किंतु हमारी भी विवशता है. हम
हिंसा नहीं चाहते. लेकिन उसके डर से अपने बढ़े हुए कदम वापस भी नहीं ले सकते.' निकट ही खडे़ टोपीलाल को तो इसी बात का इंतजार था. उसने जोश के साथ नारा लगाया-
‘महात्माक गांधी की...!'
‘जय!' उतने ही जोश में डूबे जुलूस ने साथ निभाया. उनकी आवाज का दमखम देख दशों दिशाएं गूंजने लगीं.
‘सत्य्-अहिंसा...!'
‘जिंदाबाद...!'
‘प्याार से जो आबाद हुए घर...'
‘...नशे ने वे बरबाद किए घर'
‘अग़र तरक्कीक करनी है तो...'
‘...दूर नशे से रहना होगा.'
‘फंसा नशे के चंगुल में जो...'
‘...इंसां से हैवान बना वो.'
‘गुटका, पानमसाला, बीड़ी...'
‘...मौत की सीढ़ी, मौत की सीढ़ी.'
नारे लगाता हुआ जुलूस फिर आगे बढ़ने लगा. रास्तेय में शराब की दुकान आई तो एक दल उसके सामने धरना देने के लिए बैठ ग़या. बाकी समूह आगे बढ़ा. वहां व्यनस्त सड़क थी. वाहनों से भरी हुई. बद्री काका ने बच्चों को एक पंक्ति में चलने का कहा. वाहनों की भीड़ से बच्चेव सावधानीपूर्वक गुजरने लगे. नारे लगाते, लोगों का ध्या न आकर्षित करते हुए.
दूसरी दुकान सड़क के ठीक पीछे स्थिबत मजदूर बस्तीा में थी. वहां तक पहुंचने के लिए जुलूस को कच्चीा नालियों और कीचड़ से होकर गुजरना पड़ा. सरकारी निर्देश के कारण दुकाने बंद थीं. दूसरा दल प्रतीकात्मरक धरने के लिए वहीं रुक ग़या. बाकी रहा कारवां आगे बढ़ा. एक चौराहे और फिर चौड़े पार्क को पार करता हुआ वह खुले मैदान में आ ग़या. जुलूस जिस बस्तीद से गुजरता वहां के बच्चे और महिलाएं उससे अपने आप जुड़ते चले जाते थे. मानो उस अभियान में कोई पीछे न रहना चाहता हो. सब अपना योग़दान सुनिश्चिंत करने को तत्प़र हों. इसलिए दो टोलियां पीछे छूट जाने के बावजूद आंदोलनकारियों की संख्याु में कोई कमी नहीं आई थी. जुलूस में हिस्साप ले रहे बच्चोंं और महिलाओं का जोश भी पहले ही भांति बना हुआ था.
मैदान के एक सिरे पर झुग्गिशयां थीं. शहर के सबसे ग़रीब लोगों की गुमनाम-सी बस्तीस. उसके दूसरे छोर पर कच्ची शराब की दुकान. बराबर में भांग़ का भी ठेका था. दुकान हाल ही में खुली थी. इस कारण उसके आगे लगा बोर्ड एकदम चमचमा रहा था. मानो
जुलूस में हिस्साम ले रहे आंदोलनकारियों को चुनौती दे रहा हो. तीसरे दल को वहीं धरना देने की जिम्मेणदारी सौंपकर, बद्री काका आगे बढ़ ग़ए.
अब भी जुलूस में सौ से ऊपर स्त्रियां और बच्चेय सम्मिुलित थे. पार्क को पार करने के बाद वे फिर एक व्यकस्तौ सड़क पर आ ग़ए. जिसके दोनों ओर ऊंची-ऊंची इमारतें थीं. आगे एक मोड़ था. उससे पचास कदम आगे ही दो दुकानें थीं. बड़ी-बड़ी और लग़भग़ आमने-सामने. दुकानों की एक दिशा में शहर का सबसे बड़ा औद्योगिक क्षेत्र था. तीन ओर बड़ी-बड़ी मजदूर बस्ति यां. उन दुकानों का मालिक शहर का शराब का सबसे बड़ा ठेकेदार था. हर कोई उसकी ताकत और राजनीतिक पहुंच से परिचित था.
पुलिस की मदद से कुछ देर के लिए यातायात को रोक दिया ग़या था. बद्री काका बच्चोंब ने को संभलकर रास्ताउ पार करने का निर्देश दिया. वे खुद जुलूस के बीच में चल रहे थे. बच्चेा और महिलाएं सावधानीपूर्वक सड़क पार कर ही रहे थे कि अचानक एक पत्थजर जुलूस के ऊपर आकर पड़ा. कोई बच्चोंच और महिलाओं पर भी हमला कर सकता है, बद्री काका को इसकी आशंका बहुत कम थी. पत्थपर गिरते ही जुलूस में खलबली मच ग़ई. बच्चेा पंक्तिी तोड़कर इधर-उधर जाने लगे. बच्चे इधर-उधर भाग़ने लगे. जुलूस में आगे चल रहीं निराली और कुक्‍की बच्चोंड को रोकने के लिए चीखने लगीं.
‘भागिए मत. आराम से रास्ता पार कीजिए.' बद्री काका चीखे, ‘हौसला रखिए, यह हमला कायरतापूर्ण है. वे हमें डरा रहे हैं. पर हम डरेंगे नहीं. आगे बढ़िए...धीरे-धीरे आगे बढ़िए.' लगातार पत्थूर गिरने से चौराहे पर खड़े वाहन चालकों में भी डर व्याेप ग़या. मजदूर औरतें बच्चोंक को सड़क के दूसरी ओर सुरक्षित पहुंचाने के काम में लगी थीं. उनमें से भी कुछ को चोटें आई थीं. महिलाओं का ही एक दल घायलों को इलाज के लिए ले जाने में जुट ग़या.
अचानक पत्थंरों की रफ्ताभर तेज हो ग़ई. इतनी कि चौराहे पर खड़ा रहना असंभव दिखने लगा. जुलूस में शामिल आधे से अधिक लोग़ दूसरी दिशा में पहुंच ही चुका था. अपनी टोली का नेतृत्व कर रही कुक्कीा तेजी से दूसरी दिशा में जाना चाहती थी. तभी पत्थहरों की मार से घबराया एक स्कूौटर सवार तेजी से गुजरा. बद्री काका की निगाह उस ओर ग़ई. वे कुक्कीो की ओर भागे.
‘गुरुजी बचिए...आह!' टोपीलाल की आवाज गूंजी. उसी के साथ गुरुजी और कुक्कीर की चीख भी. अकस्माशत पूरा जुलूस बिखर ग़या. चीख-पुकार मचने लगी.
‘रुकिए मत! चलते रहिए...बद्री काका सिर्फ घायल हुए हैं. उन्होंीने ही कहलवाया है-रुकिए मत. पूरे विश्वांस कदम बढ़ाते रहिए. अभी हमारा अभियान अभी पूरा नहीं हुआ है. अभी एक और मोर्चा बाकी है. उसको फतह करने के लिए हमें जल्दीि से जल्दी लक्ष्यह तक पहुंचना है. मंजिल बस दस कदम दूर है.' टोपीलाल चिल्लााया और गुरुजी तथा कुक्कीज को संभालने के लिए झुक ग़या. टोपीलाल के आवाह्‌न पर नन्हेर कर्मयोगी और महिलाएं
फिर आगे बढ़ने लगीं. पूरी दृढ़ता के साथ.
उस सनातन संघर्ष में कायरों ने अपनी क्रूरता का परिचय दिया. कर्मयोगियों ने अपनी संकल्पमनिष्ठास का.
कर्मयोग़ और लक्ष्यीसिद्धि परस्पिर पर्याय हैं.
सफलता कर्मयोगी के वरण हेतु सदैव उत्सुरक रहती है.
‘हमनें पांचों दुकानों के आगे सफलतापूर्वक धरना दिया. कई दर्जन लोग़ हमारे साथ थे. फिर भी हम हार ग़ए!' टोपीलाल ने कहा और अपनी निगाह बद्री काका के पैरों पर टिका दी. उस दिन कुक्कीप को मोटर साइकिल से बचाने के प्रयास में बद्री काका स्वपयं उससे टकरा ग़ए थे. उसके साथ घिसटते हुए सड़क पर दूर तक चले ग़ए. तभी सामने से आती एक तेज रफ्ता र कार उनके पैरों को कुचलती हुई चली ग़ई.
कुक्कीस को भी मामूली चोटें आईं थीं. उसको तीसरे दिन अस्पेताल से छुट्‌टी दे दी ग़ई. बद्री काका को डॉक्ट रों ने उन्हेंस ठीक तो कर लिया, मग़र उनके दोनों पैर काटने पड़े थे. इस बात का अफसोस बद्री काका से ज्या दा टोपीलाल और उसके सहयोगियों को था. जब उसको यह खबर मिली तो कई घंटों तक रोता रहा था.
‘हार कैसी, हम पूरी तरह कामयाब रहे हैं.' बद्री काका ने मुस्करराने का प्रयास किया.
‘हमारे कारण ही आपकी यह हालत हुई है...!' टोपीलाल ने कहा. उसकी आंखें एकदम लाल थीं. मानो कई रातें उसने जाग़कर बिताई हों.
‘जिस लक्ष्य के लिए हमने एकजुटता दिखाई है, उसके लिए यह तो बहुत मामूली कीमत है.'
‘अब हमारा मार्गदर्शन कौन करेगा?' सदानंद बोला, उसके स्वलर में उदासी थी. इसपर टोपीलाल ने बात काटी-‘गुरुजी हैं, तो!' फिर बद्री काका की ओर मुड़कर बोला, ‘आगे आप सिर्फ आदेश दिया करना, सारा काम हम स्व यं कर लेंगे.'
उसी समय कुक्कीम दौड़ती हुई भीतर आई. उसके माथे पर पटि्‌टयां बंधी थीं. दौड़ने के कारण उसकी सांसे फूल रही थीं. उसके हाथों में एक पत्र था. उसपर छपा नाम-पता देखते ही बद्री काका की आंखों में खुशी की लहर दौड़ ग़ई. कुछ पल वे उसको टकटकी लगाए देखते रहे, फिर उनकी उंग़लियां पत्र को बहुत सावधानी से खोलने लगीं.
‘किसका पत्र है, गुरुजी?' सदानंद ने पूछा. उत्तर देने के बजाय बद्री काका मुस्कीरा दिए और अपना ध्याीन पत्र पर लगा दिया. पत्र राष्ट्रहपति आवास से आया था. राष्ट्रेपति महोदय का एकदम निजी पत्र. लिखा था-
‘परमश्रद्धेय बद्रीनारायण जी,
दो अक्टू्बर को महात्माु गांधी की जन्मवतिथि पर देश-भर में सरकारी और गैरसरकारी
स्तअर पर अनेक कार्यक्रम होते हैं. हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हुए. देश के प्रथम नाग़रिक की हैसियत से मैं कुछ कार्यक्रमों में सम्मिकलित भी हुआ. मग़र मुझे जितनी उत्सुभकता आपके कार्यक्रम के बारे में जान लेने की थी, उतनी किसी और की नहीं. इसलिए कि उन सब कार्यक्रमों में आपका आंदोलन सर्वाधिक मौलिक एवं रचनात्मयक था. आपको मिली सफलता की सूचना से मेरा दिल ग़द्‌ग़द हो ग़या. मन हुआ कि वहीं जाकर आपको बधाई दूं. लेकिन जिस पद पर मुझे बिठाया ग़या है, उसकी जिम्मेहदारियां मुझे वहां आने की अनुमति नहीं दे रही हैं.
बता दूं कि आपके अभियान की कामयाबी पर मुझे पहले भी पूरा भरोसा था. क्योंनकि जिस समर्पण एवं निष्ठाई के साथ आप काम को संभालते हैं, उसमें नाकामी संभव ही नहीं है. आपके आंदोलन की सफलता जहां मन को प्रफुल्लिमत कर देने वाली है, वहीं आपके साथ घटी दुर्घटना की खबर ने दिल को झकझोर कर रख दिया है. इस बारे में हालांकि आपने स्व यं कुछ नहीं बताया है. यह सूचना मुझे अस्पोताल के माध्य म से मिली है. उन्हेंआ न जाने कैसे मेरी और आपकी मैत्री की सूचना मिली, जो आपके साथ हुई दुर्घटना की खबर मुझे भेजने की कृपा की.
जिन लोगों ने आपके साथ यह घिनौनी हरकत की है, वे बहुत ही कायर और निर्लज्जे किस्मा के लोग़ हैं. वे खुद टूट चुके हैं. उनका यह कदम उनके डर, हताशा और बौखलाहट का नतीजा है. आपका हृदय विशाल है. जानता हूं कि उनके प्रति आपके मन में कोई द्वैष या विकार नहीं होगा. आप तो माफ भी कर चुके होंगे. पर कानून भी अपना काम करे, मेरी यही इच्छाई है. मुझे पूरी उम्मीोद है कि स्था नीय प्रशासन उनका पता लगाकर उन सबको सजा जरूर दिलाएगा.
अपने पिछले पत्र में आपने लिखा था कि आंतरिक ऊर्जा से भरपूर बच्चों ने आपकी इंजन वाली जग़ह हथिया ली है. इससे लग़ता है कि वे बच्चे् विलक्षण रूप से प्रतिभाशाली और साहसी हैं. उनमें देश के लिए कार्य करने का जज्बाप है. मैं उनकी भावनाओं को नमन करता हूं. उम्मीशद करता हूं कि वे इसी प्रकार लगातार आगे बढ़ते रहेंगे. मैं उनसे अवश्य मिलना चाहूंगा. आप स्व्यं भी उनके साथ दर्शन दें तो मुझे बहुत प्रसन्नवता होगी.
अंत में आपकी अद्वितीय सफलता के लिए आपको एवं आपके सभी बालसहयोगियोें को बधाई देता हूं और आशा करता हूं कि हमारी भेंट बहुत जल्दीप होगी.'
संघीय देश का राष्ट्र पति
पत्र पढ़ने के पश्चारत बद्री काका ने वह बच्चोंर की ओर बढ़ा दिया. टोपीलाल उसे लेकर पढ़ने लगा. सदानंद समेत बाकी बच्चेक भी उसके ऊपर झुक ग़ए. तभी पुलिस सुपरिंटेंडेंट ने प्रवेश किया. वह सादा लिबास में था. उसको देखकर बद्री काका ने बैठने का प्रयास किया. मग़र घाव ताजे होने के कारण दर्द की लहर दिमाग़ को चीर-सा ग़ई. उन्हेंे कराहकर उसी स्थिहति में रह जाना पड़ा.
‘न...न! आप आराम से लेटे रहिए...मैं तो सिर्फ यह बताने आया था कि जिन लोगों ने आपपर हमला किया था, उन सभी को पुलिस गिरफ्ताहर कर चुकी है.'
‘वे सब नहीं जानते कि उन्हों ने निर्दोष बच्चों और महिलाओं पर हमला करके कितना बड़ा पाप किया है.' बद्री काका के मुंह से कराह निकली.
‘मैं आपके लिए एक खुशखबरी भी लाया हूं.' एसपी मुस्क राया, फिर प्रतीक्षा किए बिना ही कहता ग़या, ‘एक आदेश के तहत सरकार ने मजदूर बस्तिरयों में चल रहीं, शराब की सभी दुकानों को तत्कापल प्रभाव से बंद कराने का निश्चतय किया है...'
‘धन्यतवाद, और भी अच्छाो होता यदि सरकार शराब की दुकानों के साथ-साथ तंबाकू और और नशे की दूसरी चीजों के निर्माण एवं बिक्री पर भी लगाम लगाने का काम करे. खैर, देर से ही सही आप बहुत अच्छीू खबर लेकर आए हैं.'
‘आपके लिए एक खुशखबरी और भी है...'
‘अच्छाल, लग़ता है आज आप थोक में खुशखबरी लेकर आए हैं.' बद्री काका मुस्कछराए.
‘इन बच्चोंी के काम से खुश होकर सरकार ने टोपीलाल और उसके साथियों को पुरस्कृमत करने का निर्णय लिया है, इस बारे में मुझे आपसे बातचीत करने का आदेश मिला है.' एसपी ने कहा. अचानक बद्री काका के चेहरे के भाव बदलने लगे. वहां पर हमेेशा रहने वाली मृदुलता गायब हो ग़ई-
‘इन्हेंं पुरस्का र नहीं अच्छीा शिक्षा की जरूरत है.' बद्री काका ने दो टूक स्वेर में कहा, ‘शहर बढ़ता रहेगा. इमारतें भी ऊंची और ऊंची उठती रहेंगी. उनके लिए मजदूर और कारीग़रों की जरूरत भी हमेशा ही रहेगी. मजदूरों के साथ उनका परिवार भी होगा. इसलिए जरूरत ऐसी सचल पाठशालाओं की है, जो मजदूरों के बच्चों को उनके कार्यस्थ लों पर जाकर शिक्षा दे सकें. स्व यं सेवी संस्था ओं की मदद से सरकार यह काम आसानी से कर सकती है...'
‘आपका सुझाव बहुत अच्छाा है...मैं स्व यं सरकार को लिखूंगा...'
‘यही इन बच्चोंु का पुरस्का र होगा.' बद्री काका ने दृढ़तापूर्वक कहा.
वहां उपस्थितत महिलाएं एवं बच्चेा चौंक पड़े. बद्री काका का दृढ़ निश्चहय देख एसपी का कुछ और पूछने का साहस ही न हुआ. उसने बद्री काका से विदा ली. पुरस्का र न लेने पर बच्चेृ और औरतें अभी भी हैरान थे. एसपी के जाने के बाद वहां मौजूद औरतों में से एक ने पूछा-
‘सरकार बच्चों को ईनाम दे...इसमें बुराई ही क्या है?'
बद्री काका कुछ देर तक छत की ओर घूरते रहे. फिर उसी मुद्रा में धीर-गंभीर स्वचर में बोले-‘टोपीलाल और उसके साथियों ने जो किया है, वह बहुत ही महत्त्वपूर्ण है. उसका सम्माेन हो, यह मेरे लिए भी सम्मा‘न की बात है. लेकिन आदमी का लक्ष्यक यदि बड़ा हो
और मंजिल दूर तो उसे रास्तेक के छोटे-छोटे प्रलोभनों और लालच से दूर रहना ही पड़ता है. एक कर्मयोगी के लिए सच्चाज पुरस्काकर तो उसकी लक्ष्यट-सिद्धि है. ये मान-सम्मा न और पुरस्का र तो कालांतर में उसको भटकाने, मंजिल से दूर ले जाने का काम ही करते हैं.' बद्री काका ने कहा. फिर टोपीलाल की ओर मुड़कर बोले-
‘तुम्हें बुरा तो नहीं लगा बच्चोंउ?'
‘हमारे लिए तो आपका आशीर्वाद ही सबसे बड़ा पुरस्का'र है.' कहते हुए टोपीलाल, सदानंद, कुक्कीप और निराली अपने बद्री काका के करीब आ ग़ए.
‘तुम सबसे मुझे यही उम्मीदद थी...अग़र बड़े संकल्प साधने हैं तो मन को मजबूत करना होगा. सफर में ऐसे प्रलोभन बार-बार आएंगे. अग़र उनके फेर में पड़े तो लक्ष्यत तक पहुंच पाना असंभव हो जाएगा. यह सफलता तो बहुत मामूली है. अभी तो पूरा देश पड़ा है, जहां तुम्हें अपने अभियान को आगे बढ़ाना है.'
‘हम तैयार हैं, गुरुजी!'
‘मैं भी यही चाहता हूं.' बद्री काका ने खुश होकर कहा.
‘पर मैं तो कुछ और ही चाहती हूं.' निराली ने जोर देकर कहा, ‘कितने दिन हो ग़ए बिना कोई किस्सास-कहानी सुने. आप बिस्तुर पर पड़े-पड़े उपदेश ही देते रहेंगे या हमारी बात पर भी ध्याान देंगे.'
‘बहुत दर्द हो रहा है, बेटा!' बद्री काका ने कराहने का दिखावा किया.
‘तो दर्द की ही कहानी सुना दीजिए.' इस बार कुक्कीा ने मोर्चा संभाला.
बद्री काका मुस्कीरा दिए. बच्चे उनके करीब खिसक आए.
एक नई कहानी का सृजन होने लगा.
---
(समाप्त)
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************


Post Reply