परियों के साथ मजा

अन्तर्वासना और कामुकता से भरपूर छोटी छोटी हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Post Reply
User avatar
jay
Super member
Posts: 7138
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

परियों के साथ मजा

Post by jay » 22 Mar 2015 19:03

परियों के साथ मजा


आज मैं आपके साथ अपना इक एक्सपीरियेन्स शेर करना चाहता हूँ. मैं 20 साल का हूँ. मेरा इक दोस्त सोनू है. मेरे साथ ही है उसका घर. मेरा सबसे अच्छा दोस्त है. सोनू के चाचा उदमपुर गाओं (ज आंड क) में रहते थे. वो जून-जुलाइ की छुट्टियों में वहाँ जाता था. उसने मुझे भी साथ ले जाने की बहुत कोशिश की लकिन मैं स्टडीस में बिज़ी रहता है. असाइनमेंट्स पूरे करता था. इक बार मैं उसको मना नही कर पाया. हम दोनो उसके चाचा के पास चले गये. वो गाओं पहाड़ो में था.हर तरफ जंगल ही जंगल था. बहुत कम लोग वहाँ रहते थे. वहाँ पहुँच कर उसने मुझे पूरा जंगल दिखाया लकिन शाम होने से पहले वो मुझे वापिस ले आया. इसका कारण था की गाओं वाले मानते थे कि अगर रात को कोई जंगल में जाता है तो उसे पारियाँ उठा के ले जाती है और वो कभी वापस नहीं आता. केयी गाओं वालों ने ऐसी ही अपने घर में हुई घटनायों की बात बताई.मैं तो डर गया.सोनू ने बताया कि वो पारियाँ सिर्फ़ कुंवारे लड़के ही चाहती हैं. उसने बताया की पारियाँ लड़कों को उठा कर अपने पॅलेस में ले जाती है और वहाँ वो उसके साथ सेक्स करती हैं. मैं डर गया था लेकिन सेक्स की बात सुनकर वो भी परियों के साथ मुझे काफ़ी अच्छा लगा. हम अंदर रज़ाई डालकर सो गये. मैं परियों के बारे में ही सोच रहा था . मुझे पता नहीं लगा कि कब मुझे नींद आ गयी.मैने सपने में देखा कि मैं और सोनू जंगल में है.रात हो गयी थी. हम वापस गाओं की ओर चल रहे थी कि आसमान में इक वाइट रंग की लाइट आई.हम डर गये. थोड़ी देर बाद जब रोशनी कम हुई तो मैने देखा कि दो खूबसूरत लड़कियाँ सफेद ड्रेस में हमारे सामने खड़ी थी. मैने ऐसी सुंदरता पहले ज़िंदगी में कभी भी नहीं देखी थी.वो पारियाँ थी. उन्होने हम दोनो को पकड़ा और हमे आसमान में ले गयी. हमारी आखें बंद थी. तभी जब हमारी आँखें खुली तो देखा कि हम पॅलेस में हैं. वहाँ सोने-चाँदी का कीमती सामान था. वो पॅलेस बहुत सुंदर था. तभी मुझे इक मीठी सी आवाज़ सुनाई दी. राजकुमारी- उठों मेरे राजकुमारो उठो. वो सब परियों की राजकुमारी थी. वो गजब की सुंदर थी.वो बोली राजकुमारी- डरो नहीं हम तुम्हे कुछ नहीं करेंगे पर तभी जब तुम हमारी बात मनोगे. मैने कहा मुझे सब मंज़ूर है. आप जो कहेंगे मैं करने को तयार हूँ. राजकुमारी—- अच्छा है.आज तुम हम सबको मज़ा दोगे मैने कहा हां मैं आप सबको अपना सब कुछ दूँगा . जो भी आपको चाहिए आप कह सकती है राजकुमारी——– सहेलियों , दूसरे लड़के को जो ले जाना चाहती है ले जाए. लॅकिन ये मेरा है. 3-4 पारियाँ सोनू को उठा कर इक कमरे में ले गयी और दरवाज़ा बंद कर दिया राजकुमारी— सुनो सहेलियों पहले मैं मज़ा लूँगी बाकी बाद में आना. पारियाँ——– जो हुकुम आपका राजकुमारी जी. राजकुमारी——– तो सबसे पहले अपना नाम बताओ मैने जवाब दिया -हॅरी राजकुमारी- मेरा नाम यासमीन है मैईएन कहा बहुत आछा नाम है जी राजकुमारी— अच्छा . मेरा शरीर कैसा है. मैने कहा कपड़ों में तो सुंदर लग ही रहा है. बिना कपड़ों के तो …… राजकुमारी— काफ़ी समझ दार हो. चलो अपने उपर के कपड़े उतारो. मैने उतार दिए. राजकुमारी—-चलो अपने नीचे की भी उतारो मैने उतार दिए राजकुमारी ——–अच्छा है.चलो पूरे नंगे हो जाओ. मेरा लंड खड़ा था. मैने अपना अंडरवेर भी उतार दिया . अब मैं बिल्कुल नंगा खड़ा था सभी परियों के बीच उसने मेरा खड़ा लंड देख कर कहा राजकुमारी—- लंड बहुत अच्छा है . मज़ा आएगा मैं ये सुनकर हॉट हो गया राजकुमारी ———चलो अब मैने तुम्हे खुला छोड़ा. अगर तुमने मुझे संतूस्त किया तो तुम मरने से बच जाऊगे वरना …. मैने बहुत सी ब्लू फिल्म्स देखी थी . मैने कभी सेक्स तो नहीं किया था लेकिन लड़कियों का माल कैसे निकालते है मुझे पता था. मैं उसके करीब गया. अब मैं पूरा खो चुका था उसके शारीर में. मैने पहले उसे अपनी बाहों में लिया और उसके पूरे बदन पे हाथ फेरा. वाआह कैसा मखमल का बदन था यारों मैं बता नहीं सकता. रेशम सी गांद. फिर मैने उसके होठों से अपने होठ जोड़ लिए. अब हम दोनो की ज़ुबान इक दूसरे से मिल रही थी.मैने बहुत कस्स के किस किया. उसके होंठ मलाई की तरह थे. मेरे होंठ फिसले जा रहे थे. मुझे बहुत मज़ा आया इक परी के साथ किस करके. फिर मैने उसके मुम्मे को दबाया. आहह क्या नाज़ारा था गोल-गोल मुम्मे वो भी मखमल की तरह. मैने उन्हे दबाया और कपड़ों से ही उसके निपल्स को स्पर्श किया उसे मज़ा आ रहा था राजकुमारी—–आह .हाआँ अहह उफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ फिर मैने उसके उपर के कपड़े उतार दिए. ववॉववववववववववव मज़ा आ गया नंगें मुम्मे गोरे-चिट गोल-गोल बड़े-बड़े मेरा तो पानी निकलने वाला था. मैं उसकी चुचियों को चूसने लगा. इक-इक करके मैं उसकी चुचियाँ चूस रहा था. सभी पारियाँ ये सब देख रही थी. मुझसे अब रहा नहीं गया . मैने उसकी नीचे के कपड़े भी उतार दिए और इक लग नाज़ारा देखा. वाहह क्या चूत थी कोई बॉल नहीं . कमसिन चूत लग रही थी. उसकी गान्ड तो और भी चार चाँद लगा रही थी. मैने उसे उठाकर पलंग पे लेटा दिया और पूरी बॉडी को चूमना शुरू कर दिया. उसे मज़ा आने लगा वो बोली. राजकुमारी- और चुमो,और चुमो अहह माअज़ाआआआआ एयेए रहाआ है. मैने उसकी चूत के होल को चाटना शुरू कर दिया तो वो तो गरम हो गयी. राजकुमारी——–मुझे ऐसा नज़ारा पहले किसी ने नहीं दिया. अब मैं तुम्हारी हूँ .मज़े से मेरी चूत मारो . और खुद भी मज़ा लो मुझे जोश आ गया और मैने कहा की पहले मेरे लंड को चूस उसने मेरा लंड मुँह में डाल दिया और अपना मुँह आगे पीछे करने लगी. मुझे मज़ा आ रहा था. मैने कहा और ज़ोर से चूस मेरी रानी और ज़ोर से फिर मैं उसका सिर पकड़ के धक्के मारने लगा. मेरा माल छूटने वाला था. मैने अंदर ही उसके मुँह में माल छोड़ दिया . वो मेरा सारा माल पी गयी. अब मैने उसे घुमाया और उसकी गांद को देखा तो मेरा लंड फिर खड़ा हो गया. मैने उसे टाँगें खोलने के लिए कहा और अपना लंड उसके चूत के होल पे रख दिया. राजकुमारी—– डाल दो अंदर. मज़ा दो .मुझे चोदो. मेरी चुदाई करो मैने इक ही धक्का मारा तो सारा लंड उसकी मखमल चूत में चला गया. उसकी चूत बहुत मुलायम थी इसलिए बहुत मज़ा आ रहा था. मुझे इक परी की फुददी मार कर बहुत मज़ा आ रहा था.मैं धक्के लगाए जा रहा था.मैं मज़ा ले रहा था .. आआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्
ह्ह्ह्ह उफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ हााआअँ उसस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स अहह राजकुमारी——- ह्चॅयेयेयान अहह चुदाई करो और तेज मारो हाआँ अहहूंम्म्ममममममम अहाआआआआआआआआआआआआआ सभी परियों ने अपने कपड़े खोल दिए थे. मैं राजकुमारे के मम्मे दबा रहा था और बीच-बीच मे उसके होठों का रस भी पी रहा था.उसके निपल्स टाइट थे.मैं बेबी की तरह उसके दूध पी रहा था. इक परी के मुम्मो का रस. वो भी अपनी गांद हिला-हिला कर चुदवा रही थी. फिर मैने उसको पकड़ कर अपने उप्पर लिटा दिया. मेरा माल फिर से निकलने वाला था लेकिन उसका इक बार भी नहीं निकला था.फिर मैं नीचे लेट गया और वो मेरे उपर आ गयी और मैं उसके चुतडो को हाथों से पकड़कर उसे उपर नीचे कर रहा था. थोड़ी देर बाद उसे भी समझ आ गयी और मज़ा आने लगा . फिर वो खुद ही उछल-उछल कर मुझे चोदने लगी. मेरा माल निकलने लगा तो मैने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया .लॅकिन वो उछलती रही और मेरे गरम मालको अपनी चूत के अंदर महसूस करके उसे मॅजा आया.तो मैने देखा की उसका शरीर अकड़ रहा है . मैं समझ गया मैने भी तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए. तो थोड़ी देर बाद उसका माल निकला.वो मज़े से चिल्ला उठी. राजकुमारी——— अहह माआल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल उम्म्म्ममममममममममममममममममममम अहह हाआआअहहहहहहहहहह उसने माल छोड़ दिया.उसका गरम-गरम माल मेरे लंड को लगा तो मेरा लंड फिर तन गया. मैं उसके जिस्म के नज़ारे लूट कर मदहोश हो रहा था.तो वो उठी और उसने कहा की तुमने मुझे सन्तुस्त किया है. तुम्हे जो माँगना है माँगो. मैं तो उसके बदन पे फिदा था और मुझे उसकी गांद चाहिए थी तो मैने कहा की मुझे आपकी गांद मारनी है. राजकुमारी—– अच्छा .लेकिन मज़ा ज़रूर देना मैने कहाँ मैं आपको इससे भी ज़्यादा माज़ा दूँगा..मैने कहा की अपनी गांद मेरी तरफ करके लेट जाओ और अपनी गांद उपर रखना. वो लेट गयी तो मैने पहले जीब से उसकी गांद के रस का स्वाद लिया और जब गीली हो गयी तो मैने अपना लंड उसकी गांद के छेद पर रख दिया.मेरा लंड इक दम ताना हुआ था. मैने इक हल्का सा धक्का मारा. राजकुमारी——अहह.धीरे-धीरे . आआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह मैने इक और धक्का लगाया और अपना आधा लंड उसकी रेशम जैसी गांद के अंदर चला गया. राजकुमारी——- अहह माअरर्र्र्र्र्ररर गाइिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई धीरे……………… मैने इक और धक्का मारा तो पूरा लंड अंदर चला गया और मेरे मुँह से अहह उम्म्म्मममम की आवाज़ें निकली राजकुमारी——- अहह फाड़ दी गांद .धीरे अहह मैं कुछ देर ऐसी ही रुका तो उसकी गंद और मेरे लंड का अड्जस्टमेंट हो गया. फिर मैं धीरे से अंदर-बाहर करने लगा उसे भी मज़ा आ रहा था राजकुमारी—- हाआन चोदो मेरी गान्ड को. अभी तक किसी ने नहीं मारी है. माअज़ा डूऊऊऊऊऊओ अहह ई लोवे उ…………अहह मेरे राजकुमार मेरी गान्ड मारते रहो………….. मैं ऐसा सुन के और भी मज़े में आ गया उसके चुतड को हाथों से कस-कस कर थप्पड़ मारने लगा. आआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह क्याअ गांद है………ऐसी पहले किसी की नहीं मारने मेरी राजकुमारी ऐसी ही चुदवाओ मुझसे…………….अहह. आइ लव यूअर गांद ……अहह पाचक-पाचक की आवाज़ें लगी . मुझे सचमुच ही उसकी गांद अच्छी लग रही थी. वो भी पूरा साथ दे रही थी.मैने देखा कि वो पानी निकाल चुकी है तो मैने स्पीड बड़ाई और ज़ोर-ज़ोर से राजकुमारी परी गांद फाड़ने लगा. कुछ देर बाद मैने अपना सारा माल उसकी गांद के अंदर छोड़ दिया और मैं उसके उपर लेट गया. थोड़ी देर बाद राजकुमारी उठी और कहा की राजकुमारी— तुमने बहुत अच्छा चोदा है मुझे .सालो बाद मेरी प्यास भुजी है मैं तुमको छोड़ देती हूँ. इतना कह कर राजकुमारी अपने कमरे में चली गयी. बाकी पारियाँ मेरे लंड के पास आ गयी. मैने देखा की वो 3 पारियाँ थी. एक परी मेरे लंड को मुँह मे लेकर चूसने लगी. दोसारी मुझे अपने होंठो का रस पीला रही थी और तीसरी मेरी गांद को चाट रही थी. मुझे इतना मज़ा आया की मैने उसके मुँह में ही अपने लंड का माल छोड़ दिया… तभी मुझे सोनू की आवाज़ सुनाई दी…………………. सोनू——— उठो हॅरी उठो सुबह हो गयी…….. जल्दी उठो यार . मैं तुम्हारे लिए चाय लाता हूँ. मैं सोच रहा था कि ययार क्या सपना था .आज भी मुझे याद है. फ्रेंड्स बताना की कहानी कैसी लगी. यह सच्ची कहानी है. मुझे सचमुच ही ऐसा सपना आया था और आज मैने आपके साथ शेर किया है इसलिए मैने जो भी लिखा है सब सही लिखा है.बाइईईईईईईई समाप्त
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

परियों के साथ मजा

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1189
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: परियों के साथ मजा

Post by Kamini » 30 Oct 2017 22:24

Ha ha ha. ... Pari ko bhi nahi choda

Post Reply