दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

अन्तर्वासना और कामुकता से भरपूर छोटी छोटी हिन्दी सेक्सी कहानियाँ
Post Reply
User avatar
jay
Super member
Posts: 6985
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

Post by jay » 20 Sep 2017 18:22

दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )


राहुल अपनी मम्मी दीप्ति के साथ राजपुर में रहता था. उसके पापा की 8 साल पहले मृत्यु हो गयी थी. अपने पति की मृत्यु के बाद एक साल तक दीप्ति बहुत डिप्रेस्ड रही लेकिन धीरे धीरे उसने अपना पूरा ध्यान अपने बेटे की ओर लगा दिया. वो उसका अच्छे से ख्याल रखती थी. उसने इस बात का हमेशा ध्यान रखा की राहुल को पापा की कोई कमी महसूस ना हो. राहुल की पढ़ाई पर उसका खास ध्यान रहता था.

पति के जाने के बाद अब राहुल ही दीप्ति के लिए सब कुछ था. वो राहुल से दोस्ताना व्यवहार करती थी. राहुल भी अपनी मम्मी को बहुत प्यार करता था. दोनो काफ़ी दोस्ताना प्यार भरे माहौल में रहते थे. पति की मृत्यु के बाद भी दीप्ति को पैसों की कोई कमी नही हुई क्यूंकी उनका फैमिली बैकग्राउंड पैसे वाला था. राहुल के पापा भी उनके लिए पर्याप्त पैसा छोड़ गये थे.

घर भी उनका बड़ा था और उसमे बाहर से काफ़ी ज़मीन खाली पड़ी हुई थी. राहुल के पापा उसमें स्विमिंग पूल बनाना चाहते थे. पर वो काम अधूरा ही रह गया था.

राहुल 18 साल का हो चुका था. अब वो 12 वीं क्लास में था और उसके बोर्ड एग्जाम्स नज़दीक़ आ रहे थे. उसका पूरा ध्यान अपनी पढ़ाई पर था. दीप्ति भी उसकी पढ़ाई पर नज़र रख रही थी ताकि वो बोर्ड एग्जाम्स में अच्छे मार्क्स लाए.

दीप्ति 39 साल की हो चुकी थी लेकिन उसने अपने को अच्छे से मेन्टेन किया हुआ था. वो अभी भी सुंदर दिखती थी. एक्सरसाइज वगैरह से उसने अपने शरीर में ज़्यादा चर्बी चढ़ने नही दी थी. राहुल को भी अपनी मम्मी के जैसे ही एक्सरसाइज से बॉडी फिट रखने का शौक़ था.

आख़िरकार एग्जाम्स शुरू हो गये और राहुल ने मेहनत करके अच्छे से पेपर दिए. जब एग्जाम्स ख़त्म हुए तो दीप्ति बेटे के सारे पेपर्स अच्छे जाने से बहुत खुश थी. उसे पूरी उम्मीद थी की उसका प्यारा बेटा रिज़ल्ट में बहुत अच्छे मार्क्स लाएगा.

इस खुशी में दीप्ति राहुल को मूवी दिखाने ले गयी. एग्जाम्स की वजह से आज काफ़ी दिनों बाद वो बाहर घूमने निकले थे. घर लौटने में उन्हे रात के 9 बज गये. वो दोनो ड्रॉयिंग रूम में सोफे पर बैठे थे.

दीप्ति बोली,” राहुल, तुमने मन लगाकर पढ़ाई की इस वजह से तुम्हारे पेपर अच्छे गये. मैं तुमसे बहुत खुश हूँ और मैंने तुम्हारे लिए एक सरप्राइज गिफ्ट लिया है.”

राहुल खुश होकर उत्सुकता से बोला,” वो क्या है मम्मी ?”

“गोआ ट्रिप बेटा. 5 दिन की मस्ती गोआ में. कल रात की ट्रेन टिकेट्स बुक करवा दी हैं.”

राहुल अपनी मम्मी के गिफ्ट से बहुत रोमांचित हो गया. बहुत समय बाद वो दोनो छुट्टियाँ मनाने बाहर जा रहे थे.

फिर दीप्ति ने बेटे को गुडनाइट बोला और अपने बेडरूम में सोने चली गयी.

अगली सुबह जल्दी उठकर दीप्ति नाश्ता बना रही थी , राहुल अभी भी सोया हुआ था. दीप्ति उसके कमरे में जाकर उसे उठाती है और हाथ मुँह धोने को कहती है और कॉफी लाकर रख देती है.

राहुल हाथ मुँह धोकर कॉफी पी रहा होता है. तभी दीप्ति फिर उसके कमरे में आती है , उसके हाथ में कुछ कपड़े थे.

“मम्मी आप मेरे बाथरूम में नहाने जा रही हैं ?”

“हाँ बेटा, मेरे बाथरूम में शावर में कुछ प्राब्लम है.”

फिर दीप्ति अपनी साड़ी और ब्लाउज राहुल के बेड में रख देती है और उसके बाथरूम में नहाने लगती है. बाथरूम के अंदर वो ब्रा और पेटिकोट ले गयी थी.

राहुल कॉफी पीकर अपनी बेड में बैठा था. दीप्ति नहाकर ब्रा और पेटिकोट में बाहर निकलती है. राहुल अपनी मम्मी को देखता है , वो बहुत सुंदर लग रही थी. दीप्ति की ब्रा का पीछे से हुक नही लगा था. जिससे उसके बूब्स दिख रहे थे. वो अपने हाथों से अपनी ब्रा को छाती में दबाए हुए राहुल की तरफ बढ़ती है. चलते हुए पेटिकोट में उसके नितंब हिल डुल रहे थे.

“राहुल ये पीछे से हुक लगा दो, मुझसे नही लग रहा.”

“ठीक है मम्मी” कहते हुए राहुल बेड से उठता है और ब्रा का हुक लगा देता है. उसके लिए ये नयी बात नही थी. घर में दो ही लोग होने से उसने पहले भी कई बार अपनी माँ की ब्रा का हुक लगाया था.

फिर दीप्ति ने वहीं पर ब्लाउज और साड़ी पहनी. माँ बेटे के बीच ये सब नॉर्मल बात थी.

कपड़े पहनकर दीप्ति ने राहुल से नहाकर नाश्ता करने को कहा और वहाँ से चली गयी.

नाश्ते के बाद दीप्ति बोली,” देखो राहुल हमें अब पैकिंग कर लेनी चाहिए क्यूंकी बाद में मार्केट जाना है और गोआ के लिए कुछ ज़रूरी चीज़ें लेनी हैं. फिर टाइम नही मिलेगा. रात को ट्रेन है.”

“ठीक है मम्मी. क्या क्या पैक करूँ ?”

”पहले तुम मेरे साथ आओ. मैं अपना सामान पैक करूँगी फिर तुम्हारे रूम में चलेंगे.”

फिर वो दोनो दीप्ति के रूम में चले गये. दीप्ति बेड में एक सूटकेस खोलकर बैठ गयी और राहुल उसको कपड़े वगैरह पैक करने के लिए दे रहा था. दीप्ति उसको जो चाहिए वो बताते रही और वो साड़ी , परफ्यूम, मेकअप का सामान वगैरह अपनी मम्मी को पकड़ाता रहा.

दीप्ति बोली,” राहुल मेरे कपबोर्ड से 5 जोड़ी ब्रा और पैंटी निकाल के मुझे दो.”

राहुल ने ब्रा पैंटी निकाल के अपनी मम्मी को दी . सब समान पैक करके दीप्ति ने सूटकेस बंद कर दिया.
राहुल भी अपनी मम्मी के पास बेड में बैठ गया.

“मम्मी गोआ में बीच में घूमने में बहुत मज़ा आएगा. हम वहाँ स्विमिंग भी करेंगे ?”

राहुल और दीप्ति दोनो को स्विमिंग आती थी.

दीप्ति बोली,” नही बेटा. बीच में तो भीड़ भाड़ होगी. मैं वहाँ स्विमिंग नहीं कर सकती. मुझे सबके सामने ऐसे अच्छा नही लगता.”

राहुल उदास हो गया, “तो क्या हम स्विमिंग का मज़ा नही ले पाएँगे, मम्मी ?”

दीप्ति हंसने लगी और बोली,” उसका इंतज़ाम मैंने कर लिया है बेटे.”

“वो कैसे मम्मी ?”

“मैंने अपनी फ्रेंड्स से पता करके एक रिज़ॉर्ट में रूम बुक कराया हैं जहाँ प्राइवेट स्विमिंग पूल है , वहाँ हम स्विमिंग कर सकते हैं.”

“सच मम्मी?” राहुल खुश हो गया.

“हाँ बेटा.”

दीप्ति ने अपनी फ्रेंड्स से गोआ के होटेल्स, रिज़ॉर्ट्स, शॉप्स , रेस्टौरेंट्स , बीचेस और घूमने की खास जगहों के बारे में सब पता कर लिया था.

दीप्ति के रूम में सामान पैक करने के बाद वो दोनो राहुल के रूम में गये. दीप्ति ने राहुल का सामान पैक कर दिया.

दोपहर के बाद दीप्ति और राहुल मार्केट गये और ज़रूरी चीज़ें खरीदी. तभी राहुल को कुछ याद आया.

“मम्मी आप स्विमिंग कैसे करेंगी ? उसके लिए तो आपको स्विमिंग सूट खरीदने पड़ेंगे.”

“बेटा वो सब मैं गोआ से ही ले लूँगी , यहाँ से नही.”

घर आते हुए उन्हे शाम के 5 बज गये थे. उनकी ट्रेन रात 8 बजे की थी.

फिर दीप्ति राहुल के साथ रेलवे स्टेशन पहुँची और अपनी ट्रेन में बैठकर अगले दिन वो गोआ पहुँच गये.


Rahul apni Mummy Deepti ke sath Rajpur mein rehta tha. Uske Papa ki 8 saal pehle mrityu ho gayi thi. Apne pati ki mrityu ke baad ek saal tak Deepti bahut depressed rahi lekin dhire dhire usne apna pura dhyan apne bete ki or laga diya. Wo uska acche se khyal rakhti thi. Usne is baat ka hamesha dhyan rakha ki Rahul ko Papa ki koi kami mehsoos na ho. Rahul ki padai par uska khas dyan rehta tha.

Pati ke jane ke baad ab Rahul hi Deepti ke liye sab kuch tha. Wo Rahul se dostana vyavhar karti thi. Rahul bhi apni Mummy ko bahut pyar karta tha. Dono kafi dostana pyar bhare mahaul mein rehte the. Pati ki mrityu ke baad bhi Deepti ko paison ki koi kami nahi hui kyunki unka family background paise wala tha. Rahul ke papa bhi unke liye paryapt paisa chod gaye the.

Ghar bhi unka bada tha aur usme bahar se kafi zameen khali padi hui thi. Rahul ke papa usmein swimming pool banana chahte the. par wo kaam adhura hi reh gaya tha.

Rahul 18 saal ka ho chuka tha. Ab wo 12th class mein tha aur uske board exams nazdeeq aa rahe the. uska pura dhyan apni padai par tha. Deepti bhi uski padai par nazar rakh rahi thi taki wo board exams mein acche marks laye.

Deepti 39 saal ki ho chuki thi lekin usne apne ko acche se maintain kiya hua tha. Wo abhi bhi sundar dikhti thi. Exercise wagerah se usne apne sharir mein jyada charbi chadne nahi di thi. Rahul ko bhi apni mummy ke jaise hi exercise se body fit rakhne ka shauq tha.

Aakhirkar Exams shuru ho gaye aur Rahul ne mehnat karke acche se paper diye. Jab Exams khatam huye to Deepti bete ke sare papers acche jane se bahut khush thi. Use puri ummed thi ki uska pyara beta result mein bahut acche marks layega.
Is khushi mein Deepti Rahul ko movie dikhane le gayi. Exams ki wajah se Aaj kafi dino baad wo bahar ghumne nikle the. Ghar lautne mein unhe raat ke 9 baj gaye. Wo dono drawing room mein sofe par baithe the.

Deepti boli,” Rahul, tumne mann lagakar padai ki is wajah se tumhare paper acche gaye. Mai tumse bahut khush hun aur mene tumhare liye ek surprise gift liya hai.”

Rahul khush hokar utsukta se bola,” wo kya hai mummy ?”

“Goa trip beta. 5 din ki masti Goa mein. Kal raat ki train tickets book karwa di hain.”

Rahul apni mummy ke gift se bahut romanchit ho gaya. Bahut samay baad wo dono chuttiyan manane bahar ja rahe the.

Phir Deepti ne bete ko goodnight bola aur apne bedroom mein sone chali gayi.

Agli subah jaldi uthkar Deepti nasta bana rahi thi , Rahul abhi bhi soya hua tha. Deepti uske kamre mein jakar use uthati hai aur hath munh dhone ko kehti hai aur coffee lakar rakh deti hai.

Rahul hath munh dhokar coffee pi raha hota hai. Tabhi Deepti phir uske kamre mein aati hai , uske hath mein kuch kapde the.

“Mummy aap mere bathroom mein nahane ja rahi hain ?”

“haan beta, mere bathroom mein shower mein kuch problem hai.”

Phir Deepti apni saree aur blouse Rahul ke bed mein rakh deti hai aur uske bathroom mein nahane lagti hai. Bathroom ke andar wo bra aur petticoat le gayi thi.

Rahul coffee pikar apni bed mein baitha tha. Deepti nahakar bra aur petticoat mein bahar nikalti hai. Rahul apni mummy ko dekhta hai , wo bahut sundar lag rahi thi.

Deepti ki bra ka piche se hook nahi laga tha. Jisse uske boobs dikh rahe the. Wo apne hathon se apni bra ko chati mein dabaye hue Rahul ki taraf badti hai.Chalte hue petticoat mein uske nitamb hil dul rahe the.

“Rahul ye piche se hook laga do, mujhse nahi lag raha.”

“theek hai mummy” kehte hue Rahul bed se uthta hai aur bra ka hook laga deta hai. Uske liye ye nayi baat nahi thi. Ghar mein do hi log hone se usne pehle bhi kai baar apni ma ki bra ka hook lagayatha.

Phir Deepti ne wahin par blouse aur saree pahni. Ma bete ke bech ye sab normal baat thi.

Kapde pahankar Deepti ne Rahul se nahakar nasta karne ko kaha aur wahan se chali gayi.

Naste ke baad Deepti boli,” dekho Rahul hamein ab packing kar leni chahiye kyunki baad mein market jana hai aur goa ke liye kuch jaruri cheesen leni hain. Phir time nahi milega. Raat ko train hai.”

“theek hai mummy. Kya kya pack karun ?”

”pehle tum mere sath aao. Mai apna saman pack karungi phir tumhare room mein chalenge.”

Phir wo dono Deepti ke room mein chale gaye. Deepti bed mein ek suitcase kholkar baith gayi aur Rahul usko kapde wagerah pack karne ke liye de raha tha. Deepti usko jo chahiye wo batate rahi aur wo saree , perfume, aur makeup ka saman wagerah apni mummy ko pakdata raha.

Deepti boli,” Rahul mere cupboard se 5 jodi bra aur panty nikalke mujhe do.”

Rahul ne bra panty nikal ke apni mummy ko di . sab saman pack karke Deepti ne suitcase band kar diya.

Rahul bhi apni mummy ke pass bed mein baith gaya.

“Mummy Goa mein beech mein ghoomne mein bahut maza aayega. Hum wahan swimming bhi karenge ?”

Rahul aur Deepti dono ko swimming aati thi.

Deepti boli,” nahi beta. Beech mein to bheed bhad hogi. Mai wahan swimming nahin kar sakti. Mujhe sabke samne aise accha nahi lagta.”

Rahul udas ho gaya, “to kya hum swimming ka maza nahi le payenge, Mummy ?”

Deepti hasne lagi aur boli,” uska intzam maine kar liya hai bete.”

“wo kaise Mummy ?”

“maine apni friends se pata karke ek resort mein room book karaya hain jahan private swimming pool hai , wahan hum swimming kar sakte hain.”

“such Mummy?” Rahul khush ho gaya.

“haan beta.”

Deepti ne apni friends se Goa ke hotels, resorts, shops , restaurents , beaches aur ghomne ki khas jagahon ke bare mein sab pata kar liya tha.

Deepti ke room mein saman pack karne ke bad wo dono Rahul ke room mein gaye. Deepti ne Rahul ka samaan pack kar diya.

Dopahar ke baad Deepti aur Rahul market gaye aur jaruri cheezein kharidi. Tabhi Rahul ko kuch yaad aaya.

“Mummy aap swimming kese karengi ? Uske liye to aapko swimming suit kharidne padenge.”

“Beta wo sab mai Goa se hi le lungi , yahan se nahi.”

Ghar aate hue unhe sham ke 5 baj gaye the. Unki train raat 8 baje ki thi.

Phir Deepti Rahul ke sath railway station pahunchi aur apni train mein baithkar agle din wo Goa pahunch gaye.

conti......

Read my other stories




(ज़िद (जो चाहा वो पाया) running).
(वक्त का तमाशा running)..
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
jay
Super member
Posts: 6985
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

Post by jay » 23 Sep 2017 20:01

गोआ पहुँचकर दीप्ति और राहुल ने एक रेस्टोरेंट में नाश्ता किया. उसके बाद अपने रिज़ॉर्ट जाने के लिए उन्होने टैक्सी ली. रिज़ॉर्ट में दीप्ति ने रिसेप्शन से रूम की चाभी ली. रिज़ॉर्ट में कॉटेज टाइप रूम्स थे. और प्राइवेसी के लिए कॉटेज थोड़ा दूर दूर थे. कमरे में सामान रखने के बाद राहुल ने देखा. उसमे दो बेड लगे हुए थे. एक बाथरूम था और एक दरवाज़ा सामने स्विमिंग पूल में खुलता था. उनके अगल बगल के कॉटेज उस समय खाली पड़े हुए थे. कमरे में बहुत अच्छे से डेकोरेशन किया हुआ था. राहुल ने बाहर जाकर स्विमिंग पूल देखा. दीप्ति कमरे की सजावट से काफ़ी प्रभावित हुई. रिज़ॉर्ट देखकर ही वो खुश हो गयी थी.

“राहुल, तुम्हे कैसा लगा ये रूम ?”

“बहुत अच्छा है , मम्मी और सामने ही पूल भी है.”

“हाँ राहुल मुझे भी ये रिज़ॉर्ट बहुत अच्छा लगा. प्राइवेसी इस रिज़ॉर्ट की ख़ासियत है. मेरी फ्रेंड ने बिल्कुल सही जगह बताई मुझे.”

दोनो थोड़ी देर तक रूम की पेंटिंग्स, फर्नीचर, सजावट के बारे में बात करते रहे. फिर दीप्ति ने राहुल से नहाने को कहा.

दीप्ति बेड में बैठी थी तभी राहुल बाथरूम से कमर में तौलिया लपेटे बाहर आया. अपने बेटे के बदन को देखकर दीप्ति बोली, “ राहुल , एक्सर्साइज़ से तुम्हारी बॉडी सही बन गयी है.” अपने बेटे की हेल्थी बॉडी देखकर उसे प्राउड फील हुआ.

“थैंक यू मम्मी” शॉर्ट्स पहनते हुए राहुल ने जवाब दिया.

फिर दीप्ति नहाने चली गयी. और राहुल बेड में आराम करने लगा.
नहाकर दीप्ति ब्रा और पेटिकोट में बाहर आई. और एक तौलिए से अपने गीले बालों को झटकने लगी. राहुल ने अपनी मम्मी को अपने लंबे काले बालों को सुखाते देखा. मम्मी बहुत सुंदर लग रही थी. दीप्ति फुल ब्रा पहनती थी जिससे उसके बड़े बूब्स का ज़्यादातर हिस्सा ढका रहता था. लेकिन थोड़ी क्लीवेज दिख रही थी. और पेटिकोट में उसके सुडौल नितंबों की गोलाई साफ नज़र आ रही थी.

अचानक राहुल को अपने शॉर्ट में लंड खड़ा होता हुआ महसूस हुआ. उसे शर्मिंदगी सी महसूस हुई. ऐसा पहले कभी नही हुआ था की मम्मी को देखते हुए उसे इरेक्शन हुआ हो. शायद गोआ के मौसम या माहौल का असर था. राहुल अपना ध्यान भटकाने के लिए रूम से बाहर देखने लगा.

तभी दीप्ति ने कहा,” राहुल, सूटकेस से साड़ी और ब्लाउज निकालकर मुझे दो.”

राहुल ने साड़ी और ब्लाउज निकालकर मम्मी को दी. दीप्ति उन्हे पहनने लगी. राहुल ने मम्मी की ओर ध्यान नही दिया और एक मैगज़ीन पढ़ने लगा.

दीप्ति ने देखा राहुल मैगज़ीन में बिज़ी है.
“राहुल, इधर देखो. मैं कैसी लग रही हूँ ?”

राहुल ने मम्मी को देखा. वो देखता ही रह गया.

दीप्ति ने ग्रीन कलर की साड़ी और मैचिंग स्लीवलेस ब्लाउज पहना था. उसकी खूबसूरत बाँहें और शेव्ड कांख (armpit) दिख रहे थे. दीप्ति का गोरा बदन उस ग्रीन साड़ी ब्लाउज में और भी सुंदर लग रहा था.

“मम्मी आप बहुत ही खूबसूरत लग रही हो. आपने पहले तो कभी ये साड़ी नही पहनी . मैं तो पहली बार आपको इस साड़ी में देख रहा हूँ.”

अपने बेटे से तारीफ सुनकर दीप्ति का चेहरा खिल उठा.
“ये साड़ी मैंने अपनी फ्रेंड के सजेशन पर ली थी. वो कह रही थी, दीप्ति तुम पर ये अच्छी लगेगी तो मैने ले ली. आज पहली बार मैने इसे पहना है.”

“मम्मी सच में इसे पहनकर आप बहुत अच्छी दिख रही हो.”

दीप्ति मुस्कुराते हुए बोली,” थैंक यू बेटा.”

असल में पति की मृत्यु के बाद दीप्ति अपने बेटे की पढ़ाई , उसकी देखभाल और घर की ज़िम्मेदारियों में इतना व्यस्त रहती थी की उसने अपने उपर ज़्यादा ध्यान दिया ही नही. लेकिन अब राहुल बड़ा हो गया था और अपनी देखभाल वो खुद कर सकता था. अब तो वो कॉलेज जाने वाला था.

शायद अब दीप्ति को अपने लिए भी टाइम मिल पाएगा. लेकिन यहाँ गोआ में वो रिलैक्स फील कर रही थी. यहाँ घर की समस्याओं या राहुल की पढ़ाई का कोई झंझट नही था.

अब दोपहर का 1 बज चुका था. राहुल ने रूम सर्विस से लंच मँगवाया. लंच करने के बाद कुछ देर टीवी देखकर वो दोनो बेड में सो गये. करीब शाम के 4 बजे दीप्ति उठी और फिर उसने राहुल को उठाया.

“उठो बेटा, थोड़ा घूम आते हैं.”

फ्रेश होने के बाद राहुल बोला,” अब कहाँ जाने का प्रोग्राम है , मम्मी ?”

“ शाम हो गयी है. नज़दीक़ में घूम आते हैं और उसके बाद शॉपिंग भी करनी है.”

राहुल जीन्स और टीशर्ट पहनकर तैयार हो गया.
दीप्ति बोली,” वाह राहुल , तुम बहुत हैंडसम लग रहे हो.”

“थैंक्स मम्मी.”

उस के बाद रिज़ॉर्ट से बाहर आकर वो दोनो माँ बेटे घूमने निकल गये. कुछ जगहें देखने के बाद वो शॉपिंग के लिए गये.

दीप्ति बोली,” राहुल जो भी ड्रेस तुम्हें लेनी हो , ले लो.”

“आप अपनी पसंद से मेरे लिए लो मम्मी.”

दीप्ति मुस्कुरायी और बोली,” ठीक है, मैं तुम्हारे लिए कोई अच्छी सी जीन्स देखती हूँ.”

कुछ देर बाद दीप्ति ने एक ब्लू जीन्स और एक शर्ट पसंद की.
“थैंक यू मम्मी.”

“वेलकम बेटे. तुम्हारी खुशी में ही मेरी खुशी है.”

पेमेंट करने के बाद वो एक लिंजरी शॉप में गये. उस शॉप में बहुत महँगे रेट्स थे इसलिए इक्का दुक्का ही लोग थे.

वहाँ बिकिनी सेक्शन में दीप्ति बोली, “ राहुल अब तुम्हारी बारी है. मेरे लिए इनमे से कोई चूज़ करो.”

मम्मी की बात सुनकर राहुल रोमांचित हो गया. अपनी मम्मी की पहली बिकिनी वो सेलेक्ट करेगा.

कुछ देर देखने के बाद राहुल ने ग्रीन कलर की टू पीस बिकिनी सेलेक्ट की.

फिर राहुल ने पूछा,” मम्मी मैं आपके लिए एक और बिकिनी चूज़ कर लूँ ?”

दीप्ति बोली,” नही राहुल. अभी के लिए एक ही काफ़ी है. क्यूंकी मैंने पहले कभी बिकिनी नही पहनी. पता नही मुझ पर ये अच्छी लगेगी भी या नही. अगर अच्छी लगी तो फिर कल आकर एक और ले लेंगे.”

“ठीक है मम्मी.”

दीप्ति के पेमेंट करते समय राहुल ने देखा वहाँ एक सेक्शन में “न्यू अराइवल्स” का बोर्ड लगा था. फिर वो शॉप से बाहर आ गये.

उसके बाद एक चाइनीज रेस्टोरेंट में उन्होने नूडल्स ऑर्डर किए. डिनर के बाद दोनो अपने रूम में वापस आ गये.

रूम में आकर राहुल ने शॉर्ट पहन लिया और दीप्ति ने नाइट गाउन पहन लिया.

बेड में लेटे हुए दोनो बातें करने लगे.

“राहुल बताओ, गोआ में आकर कैसा लगा तुम्हें ?”

“बहुत अच्छा मम्मी. मैंने पूरा एंजाय किया. आप बताओ. आपको कैसा लगा ?”

“मैंने भी एंजाय किया. यहाँ मौसम भी अच्छा है और घर के कामों से भी थोड़े दिन के लिए मुक्ति मिल रही है.”

“मम्मी हम कल स्विमिंग करेंगे ?”

“हाँ बेटा. मैंने तो बहुत लंबे समय से स्विमिंग नही की है. मज़ा आएगा.”

“हाँ मम्मी बहुत मज़ा आएगा.”

“ यहाँ प्राइवेसी में हम आराम से स्विमिंग कर सकते हैं. बीच के जैसे भीड़ भाड़ की कोई प्राब्लम नही है.”

उसके बाद गुड नाइट कहकर दीप्ति सो गयी. राहुल कुछ देर स्विमिंग के बारे में सोचता रहा फिर वो भी सो गया.

Goa pahunchkar Deepti aur Rahul ne ek restaurant mein nasta kiya. Uske baad apne resort jane ke liye unhone taxi li. Resort mein Deepti ne recption se room ki chabhi li. Resort mein cottage type rooms the. aur privacy ke liye cottage thoda dur dur the. Kamre mein saman rakhne ke baad Rahul ne dekha. Usme do bed lage hue the. ek bathroom tha aur ek darwaza samne swimming pool mein khulta tha. Unke agal bagl ke cottage us samay khali pade hue the. kamre mein bahut acche se decoration kiya hua tha. Rahul ne bahar jakar swimming pool dekha. Deepti kamre ki sajawat se kafi prabhawit hui. Resort dekhkar hi wo khus ho gayi thi.

“Rahul, tumhe kaisa laga ye room ?”

“bahut accha hai , Mummy aur samne hi pool bhi hai.”

“Haan Rahul mujhe bhi ye resort bahut accha laga. Privacy is resort ki khasiyat hai. Meri friend ne bilkul sahi jagah batayi mujhe.”

Dono thodi der tak room ki paintings, furniture, sajawat ke bare mein baat karte rahe. Phir Deepti ne Rahul se nahane ko kaha.

Deepti bed mein baithi thi tabhi Rahul bathroom se kamar mein taulia lapete bahar aaya. Apne bete ke badan ko dekhkar Deepti boli, “ Rahul , exercise se tumhari body sahi ban gayi hai.” Apne bete ki healthy body dekhkar use proud feel hua.

“Thank you Mummy” shorts pahante hue Rahul ne jawab diya.

Phir Deepti nahane chali gayi. Aur Rahul bed mein aaram karne laga.
Nahakar Deepti bra aur petticoat mein bahar aayi. Aur ek tauliye se apne gile balon ko jhatakne lagi. Rahul ne apni mummy ko apne lambe kaale balon ko sukhate dekha. Mummy bahut sundar lag rahi thi. Deepti full bra pahanti thi jisse uske bade boobs ka jyadatar hissa dhaka rahta tha. lekin thodi clevage dikh rahi thi. Aur petticoat mein uske sudol nitambon ki golayi saaf nazar aa rahi thi.

Achanak Rahul ko apne short mein lund khada hota hua mehsoos hua. Use sharmindgi si mehsoos hui. Aisa pehle kabhi nahi hua tha ki mummy ko dekhte hue use erection hua ho. Sayad Goa ke mausam ya mahaul ka asar tha.
Rahul apna dhyan bhatkane ke liye room se bahar dekhne laga.

Tabhi Deepti ne kaha,” Rahul, suitcase se saree aur blouse nikaalkar mujhe do.”

Rahul ne saree aur blouse nikaalkar mummy ko di. Deepti unhe pahanne lagi. Rahul ne mummy ki aur dhyan nahi diya aur ek magazine padne laga.

Deepti ne dekha Rahul magazine mein busy hai.
“Rahul, idhar dekho. Mai kaisi lag rahi hun ?”

Rahul ne mummy ko dekha. Wo dekhta hi reh gaya.

Deepti ne green color ki saree aur matching sleevless blouse pehna tha. Uski khoobsurat banhen aur saved kankh (armpit) dikh rahe the. Deepti ka gora badan us green saree blouse mein aur bhi sundar lag raha tha.

“Mummy aap bahut hi khoobsurat lag rahi ho. Aapne pehle to kabhi ye saree nahi pehni . mai to pehli baar aapko is saree mein dekh raha hun.”

Apne bete se tareef sunkar Deepti ka chehra khil utha.
“ye saree mene apni friend ke suggestion par li thi. wo keh rahi thi, Deepti tum par ye acchi lagegi to maine le li. Aaj pehli baar maine ise pehna hai.”

“Mummy sach mein ise pahankar aap bahut acchi dikh rahi ho.”

Deepti muskurate hue boli,” Thank you beta.”

Asal mein pati ki mrityu ke baad Deepti apne bete ki padayi , uski dekhbhal aur ghar ki jimmedariyon mein itna vyast rehti thi ki usne apne upar jyada dhyan diya hi nahi. Lekin ab Rahul bada ho gaya tha aur apni dekhbhal wo khud kar sakta tha. Ab to wo college jane wala tha.

Sayad ab Deepti ko apne liye bhi time mil payega. Lekin yahan goa mein wo relax feel kar rahi thi. Yahan ghar ki samasyaon ya Rahul ki padayi ka koi jhanjhat nahi tha.

Ab dopahar ke 1 baj chuka tha. Rahul ne room service se lunch mangwaya.
Lunch karne ke baad kuch der TV dekhkar wo dono bed mein so gaye.
Kareeb sham ke 4 baje Deepti uthi aur phir usne Rahul ko uthaya.

“utho beta, thoda ghoom aate hain.”

Fresh hone ke baad Rahul bola,” ab kahan jane ka program hai , mummy ?”

“ sham ho gayi hai. Thoda nazdeeq mein ghoom aate hain aur uske baad shopping bhi karni hai.”

Rahul jeans aur Tshirt pahankar tayyar ho gaya.
Deepti boli,” wah Rahul , tum bahut handsome lag rahe ho.”

“Thanks mummy.”

Us ke baad resort se bahar aakar wo dono ma bete ghoomne nikal gaye.
Kuch jagahein dekhne ke baad wo shopping ke liye gaye.

Deepti boli,” Rahul jo bhi dress tumhen leni ho , le lo.”

“Aap apni pasand se mere liye lo mummy.”

Deepti muskurayi aur boli,” theek hai, mai tumhare liye koi acchi si jeans dekhti hun.”

Kuch der baad Deepti ne ek blue jeans aur ek shirt pasand ki.

“Thank you mummy.”

“welcome bete. Tumhari khushi mein hi meri khushi hai.”

Payment karne ke baad wo ek lingerie shop mein gaye. Us shop mein bahut mahange rates the isliye ikka dukka hi log the.

wahan bikini section mein Deepti boli, “ Rahul ab tumhari bari hai. Mere liye inme se koi choose karo.”

Mummy ki baat sunkar Rahul romanchit ho gaya. Apni mummy ki pahli bikini wo select karega.

Kuch der dekhne ke baad Rahul ne green color ki two piece bikini select ki.

Phir Rahul ne pucha,” Mummy mai aapke liye ek aur bikini choose kar lun ?”

Deepti boli,” nahi Rahul. Abhi ke liye ek hi kafi hai. Kyunki mene pehle kabhi bikini nahi pehni. Pata nahi mujh par ye achhi lagegi bhi ya nahi. Agar acchi lagi to fir kal aakar ek aur le lenge.”

“theek hai mummy.”

Deepti ke payment karte samay Rahul ne dekha wahan ek section mein “new arrivals” ka board laga tha. Phir wo shop se bahar aa gaye.

Uske baad ek chinese restaurant mein unhone noodles order kiye. Dinner ke baad dono apne room mein wapas aa gaye.

Room mein aakar Rahul ne short pahan liya aur Deepti ne night gown pahan liya.
Bed mein lete hue dono baatein karne lage.

“Rahul batao, Goa mein aakar kaisa laga tumhen ?”

“bahut accha mummy. Mene pura enjoy kiya. Aap batao. Aapko kaisa laga ?”

“mene bhi enjoy kiya. Yahan mausam bhi accha hai aur ghar ke kaamon se bhi thode din ke liye mukti mil rahi hai.”

“mummy hum kal swimming karenge ?”

“haan beta. Mene to bahut lambe samay se swimming nahi ki hai. Maza aayega.”

“haan mummy bahut maza aayega.”

“ yahan privacy mein hum aaram se swimming kar sakte hain. Beech ke jaise bheed bhad ki koi problem nahi hai.”

Uske baad good night kehkar Deepti so gayi. Rahul kuch der swimming ke bare mein sochta raha phir wo bhi so gaya.
Read my other stories




(ज़िद (जो चाहा वो पाया) running).
(वक्त का तमाशा running)..
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

User avatar
jay
Super member
Posts: 6985
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

Post by jay » 24 Sep 2017 15:47

अगली सुबह दीप्ति ने बाथरूम में फ्रेश होकर राहुल को उठाया और रूम सर्विस से कॉफी ऑर्डर की. कॉफी पीने के बाद माँ बेटे पास में ही घूमने निकल गये. 2 घंटे बाद रूम में वापस आकर राहुल ने नाश्ते का ऑर्डर दिया.

राहुल को फोटोग्राफी का बहुत शौक़ था. वो अपने मोबाइल में गोआ की ढेर सारी फोटो खींच लाया था. उन फोटो को अपनी मम्मी को दिखाने लगा. उसके पास हैंडीकैम भी था और गोआ के कुछ वीडियो भी उसने बनाए थे.
फोटो देखने के बाद दीप्ति ने कहा , चलो अब स्विमिंग करते हैं.

राहुल ने अपने कपड़े उतारे और सामने स्विमिंग पूल में तैरने लगा.
“मम्मी आप भी आओ ना.”

“मैं अभी ड्रेस चेंज करके आती हूँ.”

राहुल ने पूल के किनारे पर अपना हैंडीकैम रखा हुआ था.
करीब 10 मिनिट बाद दरवाज़ा खुला और दीप्ति बाहर आई.

दरवाज़ा खुलने की आवाज़ से राहुल पलटा और मम्मी को बाहर आते देखा. वो देखता ही रह गया.
दीप्ति ने ग्रीन कलर की टू पीस बिकिनी पहाँ रखी थी. बिकिनी के टॉप से दीप्ति के बड़े बूब्स का काफ़ी हिस्सा दिख रहा था. राहुल ने अपनी मम्मी को ब्रा में बहुत बार देखा था पर वो फुल ब्रा पहाँती थी जिसमे उसके बड़े बूब्स पूरे ढके रहते थे. बिकिनी की ग्रीन पैंटी से दीप्ति के गोल नितंबों का बड़ा हिस्सा खुला दिख रहा था. उसकी लंबी गोरी टाँगे और मांसल जांघें नंगी थी. चलते हुए उसके बड़े बूब्स हिल रहे थे. राहुल ने फिर से मम्मी को ऊपर से नीचे तक देखा , बड़े बूब्स, पतली बल खाती कमर, फिर नीचे सुडौल नितंब , मांसल जांघें.

पहली बार अपनी मम्मी की सुंदरता को ऐसे खुले रूप में देखकर राहुल मंत्रमुग्ध हो गया. राहुल पूल से बाहर आ गया.

दीप्ति उसके पास आकर बोली,” मैं इस बिकिनी में कैसी लग रही हूँ, राहुल ?” दीप्ति उलझन में थी की वो बिकिनी में अच्छी लगेगी भी या नही.पहली बार बिकिनी पहाँकर वो थोड़ा अनकंफर्टबल फील कर रही थी.

“ मैं क्या बताऊँ मम्मी , आपकी तारीफ के लिए मेरे पास शब्द ही नही हैं. आप बहुत स …… बहुत जबरदस्त लग रही हो.”

राहुल के मुँह से अपनी तारीफ सुनकर दीप्ति को थोड़ा कॉन्फिडेन्स आया की जब ये कह रहा है तो ठीक ही लग रही होगी बिकिनी मुझ पर .

फिर दोनो माँ बेटे स्विमिंग करने लगे. दीप्ति बहुत दिनों बाद स्विमिंग के मज़े ले रही थी. राहुल स्विमिंग के साथ साथ अपनी मम्मी की खूबसूरती भी निहार रहा था. मम्मी को देखते हुए उसका लंड खड़ा होने लगा. उसे शर्मिंदगी महसूस हुई.

“मम्मी मैं अभी आता हूँ.”

राहुल पूल से बाहर आ गया और किनारे पर बैठकर हैंडीकैम से अपनी मम्मी का वीडियो बनाने लगा.
दीप्ति ने राहुल को किनारे बैठे देखा. वो तैरते हुए उसके पास आई और हंसते हुए हथेली में पानी भरकर राहुल के ऊपर फेंक दिया. दीप्ति स्विमिंग को पूरा एंजाय कर रही थी.

मम्मी को मज़े लेते देखकर राहुल शरारत से मुस्कुराते हुए बोला,” मम्मी आप मेरी पहली मॉडल हो. कुछ पोज़ दो.”

दीप्ति हंसने लगी. फिर राहुल के ज़ोर देने पर उसने मॉडल के जैसे कुछ पोज़ बनाए. कुछ साइड से , कुछ आगे से और कुछ पीछे से पोज़ में राहुल ने बिकिनी में मम्मी की फोटोस और वीडियो बना ली.

“ हो गया अब बहुत मॉडलिंग हो गयी. अब तुम पूल में आओ. मज़ा करते हैं.” दीप्ति ने राहुल को बुलाया.
राहुल ने हैंडीकैम किनारे पर रखा और पूल में उतर गया.

दीप्ति राहुल के पास आई और अपनी बाई हथेली उसकी दायी हथेली से चिपकाते हुए बोली,” एक हाथ से स्विमिंग करते हैं.”

दोनो माँ बेटे थोड़ी देर तक ऐसे ही स्विमिंग करते रहे. फिर अलग अलग तैरने लगे.

कुछ देर बाद दीप्ति को मस्ती सूझी और वो राहुल को पकड़कर उसके ऊपर आकर तैरने लगी. उसके बड़े बूब्स राहुल को अपनी पीठ में दबते महसूस हुए. राहुल को पानी में गर्मी चढ़ने लगी. उसका लंड तनकर फुल टाइट हो गया. दीप्ति की पैंटी राहुल के शॉर्ट के ठीक ऊपर थी. दीप्ति को भी अपनी चूत राहुल की गांड में दबने से कुछ गर्मी महसूस हुई. दोनो माँ बेटे अजीब सा फील करते हुए कुछ देर तक इसी पोज़िशन में तैरते रहे लेकिन कुछ बोले नही.

फिर राहुल ने सोचा अब मेरी बारी है मम्मी के ऊपर तैरने की. तो वो पानी में मम्मी के नीचे से निकल आया और मम्मी को दोनो हाथों से कमर पर पकड़कर उसके ऊपर तैरने लगा. अब उसकी छाती में मम्मी की पीठ दब रही थी. उसका खड़ा लंड दीप्ति को अपनी पैंटी के बाहर से गांड में चुभता महसूस हुआ. ऐसा पहले कभी नही हुआ था. वो मन ही मन सोचने लगी उसका बेटा अब बच्चा नही रहा, जवान हो गया है. एक दूसरे के बदन की गर्मी महसूस करते हुए कुछ मिनिट तक दोनो ऐसे ही तैरते रहे.

कुछ देर बाद दोनो स्विमिंग पूल से बाहर आ गये. अब दीप्ति ने हैंडीकैम उठा लिया और बोली,” राहुल अब तुम्हारी बारी. चलो कुछ पोज़ दो.”

राहुल पोज़ देने लगा लेकिन उसकी नज़र मम्मी के बूब्स पर पड़ गयी. और फिर से उसका लंड खड़ा होने लगा. दीप्ति ने बेटे का शॉर्ट्स में खड़ा लंड देखा. वो समझ गयी थी की उसको बिकिनी में देखकर आज बार बार उसके बेटे का लंड खड़ा हो जा रहा है. पहले तो कभी ऐसा नही हुआ था. दीप्ति को अपने सेक्सी बदन पर गर्व महसूस हुआ कि इस उमर में भी वो सेक्सी दिखती है. उसने सोचा जवान बेटा है , लंड खड़ा होना ये सब नॉर्मल है.

कुछ देर मस्ती करने के बाद दोनो रूम में आ गये.

“मम्मी आज बिकिनी में आप बहुत ही खूबसूरत लग रही थीं.”

“थैंक्स डियर. तुम भी आज पूल में एथलेटिक और फर्म लग रहे थे.” दीप्ति मुस्कुराते हुए बोली. फर्म से दीप्ति का मतलब टाइट लंड से था. पहली बार उसके बेटे ने उसे अपना खड़ा लंड चूभोया था.

राहुल अपनी मम्मी की शरारत को नही समझा. उसने सोचा मम्मी उसके कसरती बदन की तारीफ कर रही है.

“थैंक यू मम्मी. मेरे ख़याल से आपको कुछ और बिकिनी ले लेनी चाहिए. घर लौट के हम अपना अधूरा पड़ा स्विमिंग पूल बनवाएँगे. तब आपको बिकिनी चाहिए होंगी.”

“हाँ जरूर. अभी मेरे पास एक ही तो है. मैं थोड़ी और ले लूँगी.”

फिर कुछ देर बाद बोली,” पहले मुझे डाउट था की बिकिनी मुझपे अच्छी लगेगी भी या नही. इसलिए मैंने एक ही ली. लेकिन तुमने कहा अच्छी लग रही है तो अब मुझे कंफर्टबल फील हो रहा है. आज जब हम शॉपिंग के लिए जाएँगे तो वहाँ से ले लेंगे.”

“हाँ मम्मी मैंने उस लिंजरी शॉप में “ न्यू अराइवल्स ” का बोर्ड देखा था .”

“ठीक है बेटा. आज उस सेक्शन को देख लेंगे.”

लंच करने के बाद दीप्ति और राहुल गोआ में घूमने निकल पड़े. बहुत सारी जगह घूमने में काफ़ी टाइम लग गया. उसके बाद वो शॉपिंग करने गये.

लिंजरी शॉप में दीप्ति ने राहुल के लिए 2 सेट अंडरवियर लिए.
“मम्मी मेरे पास पहले से ही 4 सेट ब्रीफ्स हैं, अब और क्यूँ ले रही हो.”

“नही डियर, मेरे ख़याल से तुम्हे ये नये स्पोर्टी ब्रीफ सेट ट्राइ करने चाहिए, स्विमिंग के लिए बिल्कुल सही हैं.”

“ठीक है मम्मी, ले लो फिर.”

उसके बाद वो दोनो बिकिनी सेक्शन में गये.

“मम्मी आज भी मैं ही आपके लिए बिकिनी सेलेक्ट करूँगा , ओके ?”

“ऐज यू विश बेटा.”

राहुल ने ऑरेंज कलर का बिकिनी सेट चूज़ किया. ये वाली बिकिनी पहले वाली ग्रीन बिकिनी से ज़्यादा रिवीलिंग थी. राहुल ने सोचा मम्मी इसमे और भी ज़्यादा सेक्सी लगगी.

“मम्मी देखो , ये ऑरेंज वाली आपको बहुत सूट करेगी.”

दीप्ति ने देखा , इसमे बहुत ही कम कपड़ा है.
वो मुस्कुरायी और बोली,” हां डियर, ये कूल लग रही है. कुछ और भी चूज़ कर लो.”

राहुल ने वाइट और रेड कलर की वैसी ही दो और रिवीलिंग बिकिनी सेलेक्ट कर ली.

पेमेंट करने के बाद माँ बेटे एक रेस्टोरेंट में गये और वहाँ डिनर किया. डिनर के बाद रेस्टोरेंट से बाहर आकर रिज़ॉर्ट वापस जाने के लिए टैक्सी का वेट करने लगे. अब रात के 9 बज चुके थे. तभी अचानक बहुत तेज बारिश आ गयी. दोनो माँ बेटे पूरी तरह से भीग गये. कुछ देर इंतज़ार के बाद उन्हे टैक्सी मिल गयी.

रूम में आने के बाद दीप्ति ने राहुल को एक तौलिया दिया और अपना बदन पोछने को कहा. और खुद भी एक तौलिए से अपने बालों से पानी झटकने लगी. उसकी साड़ी और ब्लाउज पानी से भीगकर उसके बदन से चिपक गये थे.

“ये गीले कपड़े उतार दो वरना बीमार पड़ जाओगे. बहुत भीग गये हम दोनो.”

राहुल अपने भीगे कपड़े उतारकर नाइट ड्रेस पहनने लगा.

दीप्ति ने उसे रोका,” राहुल , जो आज हमने नया स्पोर्टी ब्रीफ लिया है, पहले उसे पहन के दिखाओ.”

“ठीक है, ट्राइ करके देख लेता हूँ कैसा लगता है.” राहुल बाथरूम में अंडरवियर चेंज करने जाने लगा.

“तुम यहीं रूम में चेंज कर लो. मैं बाथरूम में कपड़े चेंज करके आती हूँ.”

“मम्मी आप भी अपनी नयी बिकिनी ट्राइ कर लो ना.”

“अरे अभी स्विमिंग थोड़ी करनी है. कल स्विमिंग के समय ही पहनूंगी.”

“ मम्मी इट्स नोट फेयर. आपने मुझसे न्यू ब्रीफ ट्राइ करने को कहा और आप खुद नही ट्राइ कर रही हो.”

“ठीक है. मैं अभी चेंज कर लेती हूँ.”

राहुल ने नया स्पोर्टी ब्रीफ पहन लिया और अपनी मम्मी के बाथरूम से बाहर आने का वेट करने लगा.

बाथरूम का दरवाज़ा खुला और दीप्ति बिकिनी में बाहर आई.

राहुल आँखे फाडे मम्मी की नयी बिकिनी देखने लगा. दीप्ति की बिकिनी का टॉप सिर्फ़ उसके निपल और आस पास का थोड़ा हिस्सा ढक रहा था. उसके सुंदर बूब्स का ज़्यादातर हिस्सा ऊपर और नीचे से दिख रहा था. दीप्ति के बूब्स चलते समय ऊपर नीचे हिल रहे थे. राहुल ने पहले कभी मम्मी को ऐसे नही देखा था. वो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी. तुरंत उसका लंड खड़ा हो गया.

दीप्ति बोली,” राहुल , मैं कैसी लग रही हूँ.”

“मम्मी आप बहुत ही सेक्सी लग रही हो.”

दीप्ति को झटका लगा. राहुल ने पहले कभी उसके लिए ऐसे शब्द का इस्तेमाल नही किया था. लेकिन उसे मालूम था की बिकिनी बहुत रिवीलिंग है तो वो सेक्सी लग ही रही होगी.
वो मुस्कुरा दी.

राहुल ने देखा मम्मी की पैंटी भी छोटी सी है.

“मम्मी आप एक बार पीछे मुड़ो.”

दीप्ति पीछे मुडी.

पीछे से पैंटी सिर्फ़ नितंबों के बीच की दरार को ढक रही थी. दीप्ति के बड़े बड़े नितंब पूरे नंगे थे. एक तरह से दीप्ति पीछे से ऊपर से नीचे तक पूरी नंगी दिख रही थी.

राहुल थूक निगलते हुए बोला,” मम्मी ये वाली बिकिनी तो आप पर बहुत ही जच रही है.”

दीप्ति राहुल की ओर मुडी. राहुल की नज़रें बिकिनी टॉप के पतले कपड़े से झांकते मम्मी के निपल पर पड़ी जो ब्रा में कसने से उभर कर दिख रहे थे.

दीप्ति ने राहुल के नये स्पोर्टी ब्रीफ को देखा जिसमे उसके खड़े लंड ने तंबू बनाया हुआ था.

“ तुम्हारा नया ब्रीफ तुमको बिल्कुल फिट आ रहा है , डियर.” खड़े लंड को देखते हुए दीप्ति बोली.

“चलो अब बहुत हो गया, अब नाइट ड्रेस पहन लो.”

दीप्ति तो घूमने से थककर सो गयी. लेकिन राहुल को कुछ देर तक मम्मी के बगल में सोते हुए नींद नही आई. नयी बिकिनी में मम्मी को लगभग नंगी देखकर उसे बार बार वही सीन याद आ रहा था.
मम्मी कितनी सेक्सी दिखती है…....कल इस बिकिनी में स्विमिंग करते हुए कैसी लगेगी …..आह………

Agli subah Deepti ne bathroom mein fresh hokar Rahul ko uthaya aur room service se coffee order ki. Coffee pine ke baad Ma bete pass mein hi ghoomne nikal gaye. 2 ghante baad room mein wapas aakar Rahul ne naste ka order diya.

Rahul ko photography ka bahut shauq tha. Wo apne mobile mein Goa ki dher sari photos khinch laya tha. Un photos ko apni mummy ko dikhane laga. Uske pass handycam bhi tha aur Goa ke kuch video bhi usne banaye the.

Photos dekhne ke baad Deepti ne kaha , chalo ab swimming karte hain.

Rahul ne apne kapde utare aur samne swimming pool mein terne laga.

“Mummy aap bhi aao na.”

“mai abhi dress change karke aati hun.”

Rahul ne pool ke kinare par apna handycam rakha hua tha.
Kareeb 10 minute baad darwaza khula aur Deepti bahar aayi.

Darwaza khulne ki awaz se Rahul palta aur Mummy ko bahar aate dekha. Wo dekhta hi reh gaya.

Deepti ne green color ki two piece bikini pahan rakhi thi. Bikini ke top se Deepti ke bade boobs ka kafi hissa dikh raha tha. Rahul ne apni mummy ko bra mein bahut baar dekha tha par wo full bra pahanti thi jisme uske bade boobs pure dhake rahte the. bikini ki green panty se Deepti ke gol nitambon ka bada hissa khula dikh raha tha. uski lambi gori tange aur mansal janghe nangi thi. Chalte hue uske bade boobs hil rahe the. Rahul ne phir se mummy ko upar se niche tak dekha , bade boobs, patli bal khati kamar, phir niche sudol nitamb , mansal janghe.

Pehli baar apni mummy ki sundarta ko aise khule roop mein dekhkar Rahul mantramugdha ho gaya. Rahul pool se bahar aa gaya.

Deepti uske pass aakar boli,” mai is bikini mein kaisi lag rahi hun, Rahul ?” Deepti uljhan mein thi ki wo bikini mein acchi lagegi bhi ya nahi.pahli baar bikini pahankar wo thoda uncomfortable feel kar rahi thi.

“ mai kya bataun mummy , aapki tareef ke liye mere pass sabd hi nahi hain. Aap bahut S …… bahut jabardast lag rahi ho.”

Rahul ke munh se apni tareef sunkar Deepti ko thoda confidence aaya ki jab ye keh raha hai to theek hi lag rahi hogi bikini mujh par .

Phir dono Ma bete swimming karne lage. Deepti bahut dino baad swimming ke maze le rahi thi. Rahul swimming ke sath sath apni mummy ki khoobsurati bhi nihaar raha tha. Mummy ko dekhte hue uska lund khada hone laga. Use sharmindagi mehsoos hui.

“Mummy mai abhi aata hun.”

Rahul pool se bahar aa gaya aur kinare par baithkar handycam se apni mummy ka video banane laga.

Deepti ne Rahul ko kinare baithe dekha. Wo terte hue uske pass aayi aur hanste hue hatheli mein pani bharkar Rahul ke upar phenk diya. Deepti swimming ko pura enjoy kar rahi thi.

Mummy ko maze lete dekhkar Rahul shararat se muskurate hue bola,” Mummy aap meri pehli model ho. Kuch pose do.”

Deepti hasne lagi. phir rahul ke jor dene par usne model ke jese kuch pose banaye. Kuch side se , kuch aage se aur kuch piche se pose mein Rahul ne bikini mein mummy ki photos aur video bana li.

“ ho gaya ab bahut modelling ho gayi. Ab tum pool mein aao. Maza karte hain.” Deepti ne Rahul ko bulaya.

Rahul ne handycam kinare par rakha aur pool mein utar gaya.

Deepti Rahul ke pass aayi aur apni bayi hatheli uski dayi hatheli se chipkate hue boli,” ek hath se swimming karte hain.”

Dono Ma bete thodi der tak aise hi swimming karte rahe. Phir alag alag terne lage.

Kuch der baad Deepti ko masti sujhi aur wo Rahul ko pakadkar uske upar aakar
terne lagi. uske bade boobs Rahul ko apni peeth mein dabte mehsoos hue. Rahul ko pani mein garmi chadne lagi. uska lund tankar full tight ho gaya. Deepti ki panty Rahul ke short ke theek upar thi. Deepti ko bhi apni choot Rahul ki gand mein dabne se kuch garmi mehsoos hui. Dono Ma bete ajeeb sa feel karte hue kuch der tak isi position mein terte rahe lekin kuch bole nahi.

Phir Rahul ne socha ab meri bari hai Mummy ke upar terne ki. To wo pani mein mummy ke niche se nikal aaya aur Mummy ko dono hathon se kamar par pakadkar uske upar terne laga. Ab uski chati mein Mummy ki peeth dab rahi thi. Uska khada lund Deepti ko apni panty ke bahar se gaand mein chubhta mehsoos hua. Aisa pehle kabhi nahi hua tha. Wo mann hi mann sochne lagi uska beta ab baccha nahi raha, jawan ho gaya hai. Ek dusre ke badan ki garmi mehsoos karte hue kuch minute tak dono aise hi terte rahe.

Kuch der baad dono swimming pool se bahar aa gaye. Ab Deepti ne handycam utha liya aur boli,” Rahul ab tumhari bari. Chalo kuch pose do.”

Rahul pose dene laga lekin uski nazar mummy ke boobs par pad gayi. Aur phir se uska lund khada hone laga. Deepti ne bete ka shorts mein khada lund dekha. Wo samajh gayi thi ki usko bikini mein dekhkar aaj baar baar uske bete ka lund khada ho ja raha hai. Pehle to kabhi aisa nahi hua tha. Deepti ko apne sexy badan par garv mehsoos hua ki is umar mein bhi wo sexy dikhti hai. Usne socha jawan beta hai , lund khada hona ye sab normal hai.

Kuch der masti karne ke baad dono room mein aa gaye.

“mummy aaj bikini mein aap bahut hi khoobsurat lag rahi thi.”

“Thanks dear. Tum bhi aaj pool mein athletic aur firm lag rahe the.” Deepti muskurate hue boli. Firm se Deepti ka matlab tight lund se tha. Pehli baar uske bete ne use apna khada lund chubhoya tha.

Rahul apni mummy ki shararat ko nahi samjha. Usne socha mummy uske kasrati badan ki tareef kar rahi hai.

“Thank you mummy. Mere khayal se aapko kuch aur bikini le leni chahiye. Ghar lautke hum apna adhura pada swimming pool banwayenge. Tab aapko bikini chahiye hungi.”

“haan jarror. Abhi mere pass ek hi to hai. Mai thodi aur le lungi.”

Phir kuch der baad boli,” pehle mujhe doubt tha ki bikini mujhpe acchi lagegi bhi ya nahi. Isliye mene ek hi li. Lekin tumne kaha acchi lag rahi hai to ab mujhe comfortable feel ho raha hai. Aaj jab hum shopping ke liye jayenge to wahan se le lenge.”

“haan mummy mene us lingerie shop mein “ new arrivals ” ka board dekha tha .”

“theek hai beta. Aaj us section ko dekh lenge.”

Lunch karne ke baad Deepti aur Rahul Goa mein ghoomne nikal pade. Bahut sari jagah ghoomne mein kafi time lag gaya. Uske baad wo shopping karne gaye.

Lingerie shop mein Deepti ne Rahul ke liye 2 set underwear liye.

“mummy mere pass pehle se hi 4 set briefs hain, ab aur kyun le rahi ho.”

“nahi dear, mere khayal se tumhe ye naye sport brief set try karne chahiye, swimming ke liye bilkul sahi hain.”

“theek hai mummy, le lo phir.”

Uske baad wo dono bikini section mein gaye.
“mummy aaj bhi mai hi aapke liye bikini select karunga , ok ?”

“ as you wish beta.”

Rahul ne orange color ka bikini set choose kiya. Ye wali bikini pehle wali green bikini se jyada revealing thi. Rahul ne socha mummy isme aur bhi jyada sexy lagagi.

“mummy dekho , ye orange wali aapko bahut suit karegi.”

Deepti ne dekha , isme bahut hi kam kapda hai.

Wo muskurayi aur boli,” haamn dear, ye cool lag rahi hai. Kuch aur bhi choose kar lo.”

Rahul ne white aur red color ki waise hi do aur revealing bikini select kar li.

Payment karne ke baad Ma bete ek restaurant mein gaye aur wahan dinner kiya. Dinner ke baad restaurant se bahar aakar resort wapas jane ke liye taxi ka wait karne lage. Ab raat ke 9 baj chuke the. tabhi achanak bahut tej barish aa gayi. Dono Ma bete puri tarah se bheeg gaye. Kuch der intzaar ke baad unhe taxi mil gayi.

Room mein aane ke baad Deepti ne Rahul ko ek taulia diya aur apna badan pochne ko kaha. Aur khud bhi ek tauliye se apne balon se pani jhatakne lagi. uski saree aur blouse pani se bheegkar uske badan se chipak gaye the.

“ye gile kapde utar do warna bimar pad jaoge. Bahut bhig gaye hum dono.”

Rahul apne bhige kapde utarkar night dress pahanne laga.
Deepti ne use roka,” Rahul , jo aaj humne naya sporty brief liya hai, pahle use pahan ke dikhao.”

“theek hai, try karke dekh leta hun kaisa lagta hai.” Rahul bathroom mein underwear change karne jane laga.

“tum yahin room mein change kar lo. Mai bathroom mein kapde change karke aati hun.”

“mummy aap bhi apni nayi bikini try kar lo na.”

“are abhi swimming thodi karni hai. Kal swimming ke samay hi pehnungi.”

“ mummy its not fair. Aapne mujhse new brief try karne ko kaha aur aap khud nahi try kar rahi ho.”

“theek hai. Mai abhi change kar leti hun.”

Rahul ne naya sporty brief pahan liya aur apni mummy ke bathroom se bahar aane ka wait karne laga.

Bathroom ka darwaza khula aur Deepti bikini mein bahar aayi.

Rahul aankhe fade mummy ki nayi bikini dekhne laga. Deepti ki bikini ka top sirf uske nipple aur aas paas ka thoda hissa dhak raha tha. Uske sundar boobs ka jyadatar hissa upar aur niche se dikh raha tha. Deepti ke boobs chalte samay upar niche hil rahe the. Rahul ne pahle kabhi mummy ko aise nahi dekha tha. Wo bahut hi khoobsurat lag rahi thi. Turant uska lund khada ho gaya.

Deepti boli,” Rahul , mai kaisi lag rahi hun.”

“mummy aap bahut hi sexy lag rahi ho.”

Deepti ko jhatka laga. Rahul ne pehle kabhi uske liye aise sabd ka istemaal nahi kiya tha. Lekin use maloom tha ki bikini bahut revealing hai to wo sexy lag hi rahi hogi.
Wo muskura di.

Rahul ne dekha mummy ki panty bhi choti si hai.

“mummy aap ek baar piche mudo.”

Deepti piche mudi.

Piche se panty sirf nitambon ke beech ki darar ko dhak rahi thi. Deepti ke bade nitamb pure nange the. ek tarah se Deepti piche se upar se niche tak puri nangi dikh rahi thi.

Rahul thook nigalte hue bola,” Mummy ye wali bikini to aap par bahut hi janch rahi hai.”

Deepti Rahul ki or mudi. Rahul ki nazren bikini top ke patle kapde se jhankte mummy ke nipple par padi jo bra mein kasne se ubhar kar dikh rahe the.

Deepti ne Rahul ke naye sporty brief ko dekha jisme uske khade lund ne tambu banaya hua tha.

“ tumhara naya brief tumko bilkul fit aa raha hai , dear.” Khade lund ko dekhte hue Deepti boli.

“chalo ab bahut ho gaya, ab night dress pahan lo.”

Deepti to ghomne se thakkar so gayi. Lekin Rahul ko kuch der tak Mummy ke bagal mein sote hue nind nahi aayi. Nayi bikini mein mummy ko lagbhag nangi dekhkar use baar baar wahi scene yaad aa raha tha.

Mummy kitni sexy dikhti hai….kal is bikini mein swimming karte hue kaisi lagegi ......aah……….
Read my other stories




(ज़िद (जो चाहा वो पाया) running).
(वक्त का तमाशा running)..
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

User avatar
jay
Super member
Posts: 6985
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: दीप्ति का बेटा (एक छोटी कहानी )

Post by jay » 03 Oct 2017 19:32

अगली सुबह दीप्ति उठी और फ्रेश होकर उसने राहुल को उठाया. फिर कॉफी पीकर माँ बेटे घूमने निकल गये. रूम में लौटकर उन्होने नाश्ता किया. थोड़ी देर आराम करने के बाद राहुल स्विमिंग पूल में मम्मी का इंतज़ार करने लगा. अपनी मम्मी को नयी बिकिनी में कल रात देखने के बाद उससे सबर नही हो रहा था. एक बात तो पक्की थी की गोआ में आने के बाद दोनो माँ बेटे एक दूसरे से काफ़ी खुल गये थे.

“मम्मी जल्दी आओ ना.”

“आ रही हूँ बेटा. चेंज तो करने दे.”

कुछ देर बाद दरवाज़ा खुला और दीप्ति नयी बिकिनी में बाहर आई. मम्मी को छोटी सी बिकिनी में देखकर राहुल का तुरंत लंड खड़ा हो गया.
दीप्ति कमर लचकाते हुए आई और पानी में उतर गयी. राहुल ध्यान से अपनी मम्मी की एक एक अदा को देख रहा था. वो दीप्ति को माँ नही बल्कि एक खूबसूरत औरत के तौर पर मंत्रमुग्ध होकर निहार रहा था.

फिर दोनो पूल में तैरने लगे. कुछ देर बाद दीप्ति को मस्ती सूझी . वो तैरते हुए राहुल के पास गयी और उसके नितंबों में एक थप्पड़ मारकर हंसते हुए दूर भाग गयी. राहुल ने तुरंत पलटकर तैरते हुए अपनी मम्मी का पीछा किया. वो तेज़ी से तैरते हुए मम्मी के पास पहुँचा. दीप्ति की बिकिनी की पैंटी पीछे से सिर्फ़ नितंबों के बीच की दरार को ढक रही थी. उसके बड़े बड़े नितंब बिल्कुल नंगे थे. राहुल ने नज़दीक़ पहुँचकर मम्मी के नग्न नितंबों पर एक थप्पड़ जड़ दिया. और हंसते हुए दूर भाग गया. ये पहली बार था जब राहुल ने अपनी मम्मी के नग्न नितंबों पर हाथ लगाया था. मम्मी के गोरे और मुलायम नितंबों का स्पर्श उसे बहुत अच्छा लगा. अब ये खेल हो गया और थोड़ी देर तक दोनो एक दूसरे के साथ ऐसे ही खेलते रहे.

कुछ मिनिट बाद राहुल ऐसे ही मम्मी का पीछा कर रहा था , लेकिन इस बार दीप्ति उसके हाथ नही आ रही थी. वो तेज़ी से पानी में उसे चकमा दे दे रही थी. लेकिन राहुल ने हार नही मानी वो मम्मी का पीछा करते रहा और मम्मी को कमर से पकड़ लिया. दीप्ति उसकी पकड़ से अपने को छुड़ाने को पलटी तो राहुल के हाथ उसकी कमर से फिसलकर उसकी ब्रा पर आ गये और ग़लती से राहुल के हाथों से दीप्ति के बड़े बड़े बूब्स ज़ोर से दब गये. दीप्ति की ब्रा उसके बूब्स के सिर्फ़ निपल को ही ढक रही थी. मम्मी के बूब्स अपने हाथों से दबते ही राहुल को झटका सा लगा. नरम बूब्स का मखमली स्पर्श उसे बहुत अच्छा लगा. लेकिन ग़लती का एहसास होते ही उसने तुरंत अपने हाथ हटा लिए. उसे अचानक डर लगने लगा की अब मम्मी गुस्सा हो जाएगी और उसे झिड़क देगी. और वो पानी में मम्मी से दूर चला गया.

बेटे के हाथों से अपने बूब्स के दबने से एक पल को दीप्ति भी सन्न रह गयी की ये क्या हुआ. लेकिन उसे मालूम था की राहुल ने ऐसा जानबूझकर नही किया था. राहुल को दूर जाते देखकर वो उसका तैरते हुए पीछा करने लगी.
मम्मी को अपना पीछा करते देखकर राहुल भी रिलेक्स हो गया की मम्मी ने उसे ग़लत नही समझा और उसका डर भी दूर हो गया.

बेटे द्वारा अपने बूब्स दबा दिए जाने से अब दीप्ति भी बदमाशी पर उतर आई. बदला लेने के लिए वो तेज़ी से तैरती हुई राहुल के पास आई और उसकी पीठ पर सवार होकर अपने दाये हाथ से राहुल के अंडरवियर के बाहर से उसका खड़ा लंड पकड़ लिया. राहुल को अपनी पीठ पर मम्मी के बूब्स दबते महसूस हुए. मम्मी के लंड पकड़ लेने से राहुल सन्न रह गया, मम्मी ऐसा कुछ करेगी ये तो उसने सपने में भी नही सोचा था. उसकी कुछ समझ में नही आया की वो क्या रिएक्शन दे.

राहुल को सन्न देखकर दीप्ति बदमाशी में एक कदम और आगे बढ़ गयी. और उसने पीछे हटते हुए दोनो हाथों से राहुल का अंडरवियर नीचे को खींचकर पैरों से निकाल दिया. राहुल अब पूरी तरह से नंगा था. उसका 7 इंच का लंड तनकर मम्मी की आँखों के सामने आ गया. दीप्ति ने राहुल के खड़े लंड को देखा , उसे मालूम था की मम्मी के बदन को देखकर ही बेटे का लंड खड़ा हुआ है. दीप्ति राहुल का नंगु नंगु कहकर मज़ाक उड़ाते हुए ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी.

पहले तो राहुल शरमा गया और हाथों से लंड ढकने की कोशिश करने लगा. लेकिन अपनी सेक्सी मम्मी को अपना मज़ाक उड़ाते देखकर उसे भी जोश चढ़ गया और वो मम्मी की ओर झपटा. दीप्ति जितनी तेज हो सकता था तैर कर दूर जाने लगी. लेकिन राहुल तेज़ी से तैरते हुए उसके पास आया और मम्मी की पीठ से ब्रा की डोरी खोल कर ब्रा अलग कर दी. अब दीप्ति के बड़े बड़े बूब्स पानी में लटक रहे थे. राहुल ने नज़र भरकर मम्मी के बूब्स को देखा फिर पीछे को पलटकर दोनो हाथों से मम्मी की पैंटी भी खींचकर निकाल दी. अब दीप्ति भी पूरी नंगी हो गयी थी. राहुल ने पहली बार अपनी मम्मी की चूत को देखा. चूत बिल्कुल क्लीन शेव्ड थी .

अपनी सुंदर मम्मी को अपने सामने बिल्कुल नंगी देखकर राहुल ने कंट्रोल खो दिया और मम्मी को पकड़कर उसके होठों का चुंबन ले लिया. अब दोनो पानी में एक दूसरे से चिपटे हुए नंगे खड़े थे. राहुल ने एक हाथ से मम्मी का एक बूब पकड़कर दबाना शुरू किया और दूसरे हाथ से मम्मी का सर पकड़कर उसे होठों पर बेतहाशा चूमने लगा. दीप्ति ने भी कामोत्तेजित होकर बेटे का लंड पकड़ लिया और उसे होठों पर चूमने लगी. दोनो प्रेमी जोड़े की तरह पूल में एक दूसरे को होठों पर चूमने लगे. थोड़ी देर ऐसे ही चूमने के बाद दीप्ति को होश आया , उसने अपने को राहुल से अलग किया और अंदर रूम में भाग गयी.

राहुल भी अपनी नंगी मम्मी के पीछे दौड़ा और रूम के अंदर आकर मम्मी को पीछे से पकड़ लिया. वो कामवासना में मदहोश होकर दोनो हाथों से मम्मी के बूब्स दबाते हुए उसकी गर्दन चूमने लगा. फिर उसने मम्मी को बेड में गिरा दिया.

बेड में मम्मी को लिटाकर राहुल उसके माथे को चूमने लगा , फिर नीचे को बढ़ते हुए मम्मी की नाक, उसके गालों , उसके होठों और गर्दन को चूमने लगा. फिर मम्मी के बूब्स को बारी बारी से मुँह में भरकर निपल को चूसने लगा. राहुल के निपल चूसने से दीप्ति कामोत्तेजना से सिसकारियाँ लेने लगी …..आआअहह……ऊऊओह…………….. आज कई सालों के बाद किसी पुरुष ने उसके नंगे बदन को छुआ था. उसकी दबी हुई काम भावनाओ को उसके अपने बेटे ने भड़का दिया था.

काफ़ी देर तक बूब्स को चूमने और चूसने के बाद राहुल नीचे को बढ़ा और मम्मी की नाभि को चूमने लगा. मम्मी की नाभि और पेट को चूमने के बाद राहुल ने मम्मी की दोनो जांघों के अंदरूनी भाग को चूमा. जांघों के सेन्सिटिव एरिया को चूमते ही दीप्ति की सिसकी निकल गयी……ऊऊहह…….

फिर जांघों को चूमते हुए राहुल उपर को मुँह लाया और मम्मी की चिकनी चूत के होठों का एक चुंबन ले लिया. दोनो हाथों से मम्मी के नितंबों को पकड़कर उसने चूत के अंदर जीभ डाल दी. दीप्ति की चूत गीली होकर रस बहाने लगी थी. राहुल ने जीभ डालकर मम्मी का रस चाट लिया. चूत में राहुल के जीभ घूमने से उत्तेजित होकर दीप्ति अपनी गांड उपर को उछालने लगी. कुछ ही देर में उसे पहला ओर्गास्म आ गया और ज़ोर से सिसकारियाँ लेते हुए वो झड़ गयी………..आआहह…..ऊऊहह…..उफफफफफफफफफ्फ़…उनन्नगगगगग……ओह……………

झड़ने के बाद दीप्ति ने राहुल का मुँह अपनी चूत से हटा दिया. राहुल कुछ देर तक मम्मी को ओर्गास्म का आनंद लेते देखता रहा. जब मम्मी शांत पड़ गयी तो उसने मम्मी को बेड पर पलट दिया. अब दीप्ति को पेट के बल लिटाकर राहुल उसकी पीछे से गर्दन चूमने लगा फिर पीठ को चूमते हुए नीचे कमर को चूमने लगा. चूमते और चाटते हुए उसने मम्मी के पूरे बदन को अपनी लार से गीला कर दिया. उसके बाद राहुल अपनी मम्मी के बड़े बड़े नितंबों को चूमने और चाटने लगा . नितंबों को जी भरकर चूमने के बाद उसने हाथों से नितंबों को फैलाकर उनके बीच की दरार में जीभ डालकर मम्मी की गांड के छेद को चाट लिया. अपनी गांड के छेद पर राहुल की जीभ लगते ही दीप्ति चिहुंक उठी , उससे अब और सहन नही हुआ और वो सीधे पलटकर बैठ गयी.

अब मज़ा देने की बारी दीप्ति की थी. उसने राहुल के चेहरे उसकी छाती को चूमा और फिर उसके लंड के सुपाड़े का चुंबन लिया. फिर सुपाड़े को मुँह में भरकर चूसने लगी. मम्मी के लंड चूसने से राहुल मज़े से सिसकने लगा. कुछ देर बाद उसे लगा ऐसे तो मैं बिना मम्मी को चोदे ही झड़ जाऊंगा तो उसने दीप्ति के मुँह से लंड निकाल लिया. और दीप्ति को पीछे को लिटा दिया. दीप्ति समझ गयी राहुल अब उसे चोदना चाहता है. उसने पीछे को लेटकर अपनी टाँगे थोड़ी फैला ली. राहुल ने अपना लंड पकड़कर मम्मी की चूत के फूले हुए होठों के बीच फँसाया. , चूत गीली होने से लंड फिसलकर बाहर आ गया. दीप्ति ने अपने हाथ से बेटे का लंड पकड़ा और उसे अपनी चूत के छेद पर लगाया और बेटे की ओर देखा. राहुल ने एक धक्का लगाया और मम्मी की गीली चूत में सुपाड़ा अंदर घुसता चला गया. धीरे धीरे उसका पूरा लंड दीप्ति की चूत के अंदर घुस गया. अब राहुल ने धक्के लगाकर चूत में लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया.
दीप्ति सिसकारियाँ लेने लगी …..आअहह………….ऊऊओह………………

धीरे धीरे राहुल ने स्पीड बढ़ाई और अब तेज तेज स्ट्रोक लगाने लगा. दीप्ति का बदन राहुल के धक्कों से ज़ोर ज़ोर से हिलने लगा. मम्मी के उपर नीचे हिलते बूब्स को देखकर राहुल उन्हे पकड़कर मसलने लगा. राहुल के हर धक्के के साथ दीप्ति की सिसकारियाँ बढ़ते गयी. ….आआअहह…..उहह…उफफफफफफ्फ़….उननगज्गग…ऊओह…….

राहुल अपनी मम्मी को चोदते हुए मज़े में सातवे आसमान में उड़ने लगा. अब जवानी के जोश में वो पूरी ताक़त से मम्मी को चोदने लगा. बेटे के जवान लंड की रगड़ाई से दीप्ति की चूत ने पानी छोड़ दिया और दूसरी बार ओर्गास्म आकर वो झड़ गयी. आज दो बार बेटे से कामसुख प्राप्त करके वो कामतृप्त हो गयी. मम्मी को झड़ते देख राहुल भी ज़्यादा देर नही रुक पाया और उसने मम्मी की चूत को अपने गरम वीर्य से लबालब भर दिया. दीप्ति ने अपनी चूत में बेटे के गरम वीर्य को महसूस किया.

थकान से चूर होकर राहुल मम्मी के बदन के उपर ही लेट गया. दोनो माँ बेटे पसीने से भीग गये थे. दीप्ति बेटे के बालों को सहलाने लगी. कुछ देर बाद जब राहुल की सांस लौटी तो उसने अपना चेहरा उपर उठाया और मम्मी की आँखो में देखा. दोनो माँ बेटे मुस्कुराने लगे. फिर राहुल ने मम्मी के होठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हे प्यार से चूमने लगा. थोड़ी देर तक माँ बेटे एक दूसरे को प्यार से चूमते रहे.

उसके बाद एक बार फिर से राहुल मम्मी के बूब्स मुँह में भरकर चूसने लगा. उन्हे चूमते चूमते उसका मन ही नही भर रहा था. फिर एक दूसरे की बाँहों में माँ बेटे नंगे ही सो गये. कामतृप्त होकर दोनो को नींद आ गयी.

अब उनके बीच की सभी दीवारें टूट चुकी थी. गोआ में बाकी बचे हुए दिनों में उन्होने घूमने के साथ साथ जमकर चुदाई का मज़ा लिया.

फिर वो गोआ से अपने घर लौट आए. घर आने के बाद सबसे पहले राहुल ने मम्मी से अधूरा पड़ा स्विमिंग पूल बनवाने को कहा.

अगली सुबह दीप्ति नाश्ता बना रही थी. राहुल पानी पीने किचन में आया. राहुल मम्मी के पीछे आया और ब्लाउज के बाहर से मम्मी के बूब्स दबाने लगा. दीप्ति को अपनी गांड में राहुल का खड़ा लंड चुभता हुआ महसूस हुआ.

दीप्ति बोली,” नही डियर , अभी नाश्ते का टाइम है. मुझे नाश्ता बनाने दो.”

“नही मम्मी मुझे प्यार करने दो ना.”

“अरे प्यार फिर कर लेना , अभी नाश्ता बनाने दो.”

लेकिन गोआ से आकर राहुल अब बदल गया था. वो मम्मी की सुनने के मूड में नही था. उसने फटाफट मम्मी की साड़ी और पेटिकोट किचन में ही उतार दिया. उसके बाद उसने ब्लाउज उतारना चाहा तो उसके हुक खोलने में उसे बबाल महसूस हुआ. उसने ज़ोर लगाकर ब्लाउस के हुक तोड़ डाले और ब्लाउज उतार दिया. अब दीप्ति बेटे के सामने किचन में ब्रा और पैंटी में खड़ी थी. राहुल का कामवासना से दिमाग़ बंद हो गया था. उसने मम्मी की ब्रा और पैंटी खोलकर मम्मी को पूरी नंगी कर दिया और अपने पसंदीदा मम्मी के बड़े बड़े बूब्स मुँह में भरकर चूसने लगा. उसके हाथ मम्मी की बड़ी गांड को मसल रहे थे. दीप्ति अपने बेटे का उतावलापन देख कर मज़े ले रही थी.

फिर राहुल मम्मी को बेडरूम में ले गया और अपने कपड़े उतारकर मम्मी के उपर चढ़ गया. मम्मी को जी भरकर चोदने के बाद ही उसने मम्मी को बेड से उठने दिया. बेटे से मस्त चुदवाकर दीप्ति भी कामतृप्त हो गयी.

दोनो माँ बेटे पहले भी एक दूसरे का ख्याल रखते थे और दोस्तों की तरह रहते थे. पर अब एक प्रेमी जोड़े की तरह रहने लगे. राहुल तो अपनी सेक्सी मम्मी से भरता ही नही था. जितना भी चोदे उतना की कम पड़ता था.

एक दिन राहुल बोला, “ मम्मी स्विमिंग पूल बनने में तो बहुत टाइम लग जाने वाला है. आप फिर से वही ऑरेंज वाली बिकिनी पहनो ना.”

“ बिना स्विमिंग पूल के मैं बिकिनी पहन कर क्या करूँगी.”

“मेरे लिए प्लीज़ मम्मी. आज से जब भी तुम मेरे लिए नाश्ता बनाओगी उसी बिकिनी को पहनकर बनाओगी. मुझे आप उस बिकिनी में बहुत अच्छी लगती हो.”

दीप्ति ने कुछ देर सोचा , फिर बोली , “ ठीक है. जब तक तुम्हारी समर वेकेशन चल रही हैं तब तक. दो महीने बाद जब तुम कॉलेज में एडमिशन लोगे तो फिर तुम्हारा पूरा ध्यान पढ़ाई में होना चाहिए. पढ़ाई के मामले में मैं कुछ भी नही सुनूँगी , समझे.”

राहुल मम्मी के मान जाने से खुश हो गया.

“थैंक यू मम्मी. कॉलेज खुलने के बाद मैं मन लगाकर पढ़ाई करूँगा.”

कुछ समय बाद उनका स्विमिंग पूल बनकर तैयार हो गया. दोनो माँ बेटे एक दूसरे का साथ एंजाय करते रहे. दोनो अब प्रेमी जोड़े की तरह रहते थे. लेकिन दीप्ति ने राहुल के उपर से कंट्रोल कभी नही खोया. उसे मालूम था कब राहुल से सख्ती से पेश आना है और कब उसे प्यार करना है. राहुल ने भी अपनी मम्मी के लिए पहले जैसी रेस्पेक्ट बरकरार रखी. मम्मी उसे अपने साथ प्यार करने देती है यही उसके लिए बड़ी बात थी. बल्कि उसका प्यार मम्मी के लिए और भी गहरा हो गया था. मम्मी के बिना अब उसे चैन ही नही आता था.

फिर उसके 12 वीं बोर्ड एग्जाम्स का रिज़ल्ट आ गया. राहुल बहुत अच्छे नम्बरों से पास हुआ और उसने कॉलेज में एडमिशन ले लिया. दीप्ति की देखरेख में वो कॉलेज में भी अच्छे नंबर्स से पास होते रहा. अगले साल कॉलेज का 1 साल पूरा होने के बाद छुट्टियों में राहुल और दीप्ति फिर से गोआ गये और अपने नये प्यार की पहली वर्षगाँठ मनाते हुए गोआ में जमकर चुदाई के मज़े लिए.


Samapt

Agli subah Deepti uthi aur fresh hokar usne Rahul ko uthaya. Phir coffee pikar Ma bete ghomne nikal gaye. Room mein lautkar unhone nasta kiya. Thodi der aaram karne ke baad Rahul swimming pool mein mummy ka intzaar karne laga. Apni mummy ko nayi bikini mein kal raat dekhne ke baad usse sabra nahi ho raha tha. Ek baat to pakki thi ki Goa mein aane ke baad dono Ma bete ek dusre se kafi khul gaye the.

“mummy jaldi aao na.”

“aa rahi hun beta. Change to karne de.”

Kuch der baad darwaza khula aur Deepti nayi bikini mein bahar aayi. Mummy ko choti si bikini mein dekhkar Rahul ka turant lund khada ho gaya.

Deepti kamar lachkate hue aayi aur pani mein utar gayi. Rahul dhyan se apni mummy ki ek ek ada ko dekh raha tha. Wo Deepti ko Ma nahi balki ek khoobsurat aurat ke taur par mantramugdha hokar nihar raha tha.

Phir dono pool mein terne lage. Kuch der baad Deepti ko masti sujhi . wo terte hue Rahul ke pass gayi aur usk nitambon mein ek thappad markar hanste hue dur bhag gayi. Rahul ne turant palatkar terte hue apni mummy ka picha kiya. Wo teji se terte hue mummy ke pass pahuncha. Deepti ki bikini ki panty piche se sirf nitambon ke beech ki darar ko dhak rahi thi. Uske bade bade nitamb bilkul nange the. Rahul ne nazdeeq pahunchkar Mummy ke nagn nitambon par ek thappad jad diya. Aur hanste hur dur bhag gaya. Ye pahli baar tha jab Rahul ne apni mummy ke nagn nitambon par hath lagaya tha. Mummy ke gore aur mulayam nitambon ka sparsh use bahut accha laga. Ab ye khel ho gaya aur thodi der tak dono ek dusre ke sath aise hi khelte rahe.

Kuch minute baad Rahul aise hi mummy ka picha kar raha tha , lekin is baar Deepti uske hath nahi aa rahi thi. Wo teji se pani mein use chakma de de rahi thi. Lekin Rahul ne haar nahi mani wo mummy ka picha karte raha aur mummy ko kamar se pakad liya. Deepti uski pakad se apne ko chudane ko palti to Rahul ke hath uski kamar se fisalkar uski bra par aa gaye aur galti se Rahul ke hathon se Deepti ke bade bade boobs jor se dab gaye. Deepti ki bra uske boobs ke sirf nipple ko hi dhak rahi thi. Mummy ke boobs apne hathon se dabte hi Rahul ko jhatka sa laga. Naram boobs ka makhmali sparsh use bahut acchalaga. Lekin galti ka ehsas hote hi usne turant apne hath hata liye. Use achanak dar lagne laga ki ab mummy gussa ho jayegi aur use jhidak degi. Aur wo pani mein mummy se dur chala gaya.
Bete ke hathon se apne boobs ke dabne se ek pal ko Deepti bhi sann rah gayi ki ye kya hua. Lekin use malum tha ki Rahul ne aisa janboojhkar nahi kiya tha. Rahul ko dur jate dekhkar wo uska terte hue picha karne lagi.

Mummy ko apna picha karte dekhkar Rahul bhi relax ho gaya ki mummy ne use galat nahi samjha aur uska dar bhi dur ho gaya.

Bete dwara apne boobs daba diye jane se ab Deepti bhi badmashi par utar aayi. Badla lene ke liye wo teji se terti hui Rahul ke pass aayi aur uski peeth par sawar hokar apne daye hath se Rahul ke underwear ke bahar se uska khada lund pakad liya. Rahul ko apni peeth par mummy ke boobs dabte mehsoos hue. Mummy ke lund pakad lene se Rahul sann raha gaya, mummy aisa kuch karegi ye to usne sapne mein bhi nahi socha tha. Uski kuch samajh mein nahi aaya ki wo kya reaction de.

Rahul ko sann dekhkar Deepti badmashi mein ek kadam aur aage bad gayi. Aur usne piche hat te hue dono hathon se Rahul ka underwear niche ko khinchkar pairon se nikaal diya. Rahul ab puri tarah se nanga tha. Uska 7 inch ka lund tankar mummy ki aankhon ke samne aa gaya. Deepti ne Rahul ke khade lund ko dekha , use malum tha ki mummy ke badan ko dekhkar hi bete ka lund khada hua hai. Deepti Rahul ka nangu nangu kehkar majak udate hue jor jor se hasne lagi.

Pehle to Rahul sharma gaya aur hathon se lund dhakne ki koshish karne laga. Lekin apni sexy mummy ko apna mazak udate dekhkar use bhi josh chad gaya aur wo mummy ki aur jhapta. Deepti jitni tej ho sakta tha ter kar dur jane lagi. Lekin Rahul teji se terte hue uske pass aaya aur mummy ki peeth se bra ki dori khol kar bra alag kar di. Ab Deepti ke bade bade boobs pani mein latak rahe the. Rahul ne nazar bharkar mummy ke boobs ko dekha phir piche ko palatkar dono hathon se mummy ki panty bhi khinchkar nikaal di. Ab Deepti bhi puri nangi ho gayi thi.

Rahul ne pahli baar apni mummy ki choot ko dekha. Choot bilkul clean shaved thi .
Apni sundar mummy ko apne samne bilkul nangi dekhkar Rahul ne control kho diya aur Mummy ko pakadkar uske hothon ka chumban le liya. Ab dono pani mein ek dusre se chipte hue nange khade the. Rahul ne ek hath se mummy ka ek boob pakadkar dabana shuru kiya aur dusre hath se mummy ka sar pakadkar use hothon par betahasha choomne laga. Deepti ne bhi kamottezit hokar bete ka lund pakad liya aur use hothon par choomne lagi. dono premi jode ki tarah pool mein ek dusre ko hothon par choomne lage. Thodi der aise hi chomney ke baad Deepti ko hosh aaya , usne apne ko Rahul se alag kiya aur andar room mein bhag gayi.

Rahul bhi apni nangi mummy ke piche dauda aur room ke andar aakar mummy ko piche se pakad liya. Wo kamwasna mein madhosh hokar dono hathon se mummy ke boobs dabate hue uski gardan chomney laga. Phir usne mummy ko bed mein gira diya.

Bed mein mummy ko litakar Rahul uske mathe ko chomney laga , phir niche ko badte hue mummy ki naak, uske gaalon , uske hothon aur gardan ko chomney laga. Phir mummy ke boobs ko bari bari se munh mein bharkar nipple ko chosney laga. Rahul ke nipple chosne se Deepti kamotezzna se siskariyan lene lagi …..aaaaahhhhhhh……ooooohhhhh…………….. aaj kai salon ke baad kisi purush ne uske nange badan ko chua tha. Uski dabi hui kaam bhawnao ko uske apne bete ne bhadka diya tha.

Kafi der tak boobs ko chomney aur chosney ke baad Rahul niche ko bada aur mummy ki nabhi ko chomney laga. Mummy ki nabhi aur pet ko choomney ke baad Rahul ne mummy ki dono janghon ke andruni bhag ko chooma. Janghon ke sensitive are ko chomte hi Deepti ki siski nikal gayi……oooohhhhhh…….
Phir janghon ko chomte hue rahul upar ko munh laya aur mummy ki chikni choot ke hothon ka ek chumban le liya. Dono hathon se mummy ke nitambon ko pakadkar usne choot ke andar jeebh daal di. Deepti ki choot gili hokar ras bahane lagi thi. Rahul ne jeebh dalkar mummy ka ras chat liya. Choot mein rahul ke jeebh ghumane se uttezit hokar Deepti apni gand upar ko uchalne lagi. kuch hi der mein use pehla orgasm aa gaya aur jor se siskariyan lete hue wo jhad gayi………..aaaahhhhhh…..oooohhhhhh…..uffffffffff…unnnggggg……ohhhhhhhhh……………

Jhadne ke baad Deepti ne Rahul ka munh apni choot se hata diya. Rahul kuch der tak mummy ko orgasm ka anand lete dekhta raha. Jab mummy shant pad gayi to usne mummy ko bed par palat diya. Ab Deepti ko pet ke bal litakar Rahul uski piche se gardan choomne laga phir peeth ko choomte hue niche kamar ko chomney laga. Chomte aut chat te hue usne mummy ke pure badan ko apni laar se gila kar diya. Uske baad Rahul apni mummy ke bade bade nitambon ko chomne aur chatne laga . nitambon ko je bharkar chomney ke baad usne hathon se nitambon ko failakar unke beech ki darar mein jeebh dalkar mummy ki gand ke ched ko chat liya. Apni gand ke ched par Rahul ki jeebh lagte hi Deepti chihunk uthi , usse ab aur sahan nahi hua aur wo sidhe palatkar baith gayi.

Ab maza dene ki bari Deepti ki thi. Usne Rahul ke chehre uski chati ko chuma aur phir uske lund ke supade ka chumban liya. Phir supade ko munh mein bharkar choosne lagi. Mummy ke lund choosne se Rahul maze se sisakne laga. Kuch der baad use laga aise to mai bina mummy ko chode hi jhad jaunga to usne Deepti ke munh se lund nikaal liya. Aur Deepti ko piche ko lita diya. Deepti samjh gayi Rahul ab use chodna chahta hai. Usne piche ko letkar apni tange thodi faila li. Rahul ne apna lund pakadkar mummy ki choot ke phoole hue hothon ke beech fansaya. , choot gili hone se lund fisalkar bahar aa gaya. Deepti ne apne hath se bete ka lund pakda aur use apni choot ke ched par lagaya aur bete ki or dekha. Rahul ne ek dhakka lagaya aur mummy ki gili choot mein supada andar ghusta chala gaya. Dhire dhire uska pura lund Deepti ki choot ke andar ghus gaya. Ab Rahul ne dhakke lagakar choot mein lund ko andar bahar karna suru kiya.

Deepti siskariyan lene lagi …..aaahhhhhhhhhh………….ooooohhhhhh………………
Dhire dhire Rahul ne speed badayi aur ab tej tej stroke lagane laga. Deepti ka badan rahul ke dhakkon se jor jor se hilne laga. Mummy ke upar niche hilte boobs ko dekhkar Rahul unhe pakadkar masalne laga. Rahul ke har dhakke ke sath Deepti ki siskariyan badte gayi. ….aaaaahhhhh…..uhhh…ufffffff….unngggg…ooohhhhh…….

Rahul apni mummy ko chodte hue maze mein satve asmaan mein udne laga. Ab jawani ke josh mein wo puri takat se mummy ko chodne laga. Bete ke Jawan lund ki ragdayi se Deepti ki choot ne pani chod diya aur dusri baar orgasm aakar wo jhad gayi. Aaj do baar bete se kaamsukh prapt karke wo kaamtript ho gayi. Mummy ko jhadte dekh Rahul bhi jyada der nahi ruk paya aur usne mummy ki choot ko apne garam viry se labalab bhar diya. Deepti ne apni choot mein bete ke garam viry ko mehsoos kiya.

Thakan se chur hokar Rahul mummy ke badan ke upar hi let gaya. Dono Ma bete pasine se bhig gaye the. Deepti bete ke balon ko sahlane lagi. kuch der baad jab Rahul ki sans lauti to usne apna chehra upar uthaya aur mummy ki aankho mein dekha. Dono ma bete muskurane lage. Phir Rahul ne mummy ke hothon par apne hoth rakh diye aur unhe pyar se chomney laga. Thodi der tak ma bete ek dusre ko pyar se chomte rahe.

Uske baad ek baar phir se Rahul mummy ke boobs munh mein bharkar choosne laga. Unhe chomte chomte uska mann hi nahi bhar raha tha. Phir ek dusre ki banhon mein Ma bete nange hi so gaye. Kaamtript hokar dono ko nind aa gayi.
Ab unke beech ki sabhi dewarein tut chuki thi. Goa mein baki bache hue dino mein unhone ghomne ke sath sath jamkar chudai ka maza liya.

Phir wo Goa se apne ghar laut aaye. Ghar aane ke baad sabse pahle Rahul ne mummy se adhura pada swimming pool banwane ko kaha.

Agli subah Deepti nasta bana rahi thi. Rahul pani pine kitchen mein aaya. Rahul mummy ke piche aaya aur blouse ke bahar se mummy ke boobs dabane laga. Deepti ko apni gand mein Rahul ka khada lund chubhta hua mehsoos hua.

Deepti boli,” nahi dear , abhi naste ka time hai. Mujhe nasta banane do.”

“nahi mummy nujhe pyar karne do na.”

“are pyar phir kar lena , abhi nasta banane do.”

Lekin Goa se aakar Rahul ab badal gaya tha. Wo mummy ki sunne ke mood mein nahi tha. Usne fatafat mummy ki saree aur petticoat kitchen mein hi utar diya.
Uske baad usne blouse utarna chaha to uske hook kholne mein use babal mehsoos hua. Usne jor lagakar blouse ke hook tod dale aur blouse utar diya. Ab Deepti bete ke samne kitchen mein bra aur panty mein khadi thi. Rahul ka kaamwasna se dimaag band ho gaya tha. Usne mummy ki bra aur panty kholkar mummy ko puri nangi kar diya aur apne pasandida mummy ke bade bade boobs munh mein bharkar choosne laga. Uske hath mummy ki badi gaand ko masal rahe the. Deepti apne bete ka utawalapan dekh kar maze le rahi thi.

Phir Rahul mummy ko bedroom mein le gaya aur apne kapde utarkar mummy ke upar chad gaya. Mummy ko ji bharkar chodne ke baad hi usne mummy ko bed se uthne diya. Bete se mast chudwakar Deepti bhi kaamtript ho gayi.

Dono Ma bete pehle bhi ek dusre ka khyal rakhte the aur doston ki tarah rahte the. par ab ek premi jode ki tarah rahne lage. Rahul to apni sexy mummy se bharta hi nahi tha. Jitna bhi chode utna ki kam padta tha.

Ek din Rahul bola, “ mummy swimming pool banne mein to bahut time lag jane wala hai. Aap phir se wahi orange wali bikini pahno na.”

“ Bina swimming pool ke mai bikini pahan kar kya karungi.”

“mere liye please mummy. Aaj se jab bhi tum mere liye nasta banaogi usi bikini ko pahankar banaogi. Mujhe aap us bikini mein bahut acchi lagti ho.”

Deepti ne kuch der socha , phir boli , “ theek hai. jab tak tumhari summer vacation chal rahi hain tab tak. Do mahine baad jab tum college mein admission loge to phir tumhara pura dhyan padayi mein hona chahiye. Padayi ke mamle mein mai kuch bhi nahi sunungi , samjhe.”

Rahul mummy ke man jane se khush ho gaya.

“ thank you mummy. College khulne ke baad mai mann lagakar padayi karunga.”

Kuch samay baad unka swimming pool bankar tayyar ho gaya. Dono ma bete ek dusre ka sath enjoy karte rahe. Dono ab premi jode ki tarah rehte the. lekin Deepti ne Rahul ke upar se control kabhi nahi khoya. Use malum tha kab Rahul se sakhti se pesh aana hai aur kab use pyar karna hai. Rahul ne bhi apni mummy ke liye pehle jaisi respect barkarar rakhi. Mummy use apne sath pyar karne deti hai yahi uske liye badi baat thi. Balki uska pyar mummy ke liye aur bhi gehra ho gaya tha. Mummy ke bina ab use chain hi nahi aata tha.

Phir uske 12th board exams ka result aa gaya. Rahul bahut acche numbaron se pass hua aur usne college mein admission le liya. Deepti ki dekhrekh mein wo college mein bhi acche numbers se pass hote raha. Agle saal college ka 1 saal pura hone ke baad chuttiyon mein Rahul aur Deepti phir se Goa gaye aur apne naye pyar ki pehli varshganth manate hue Goa mein jamkar chudai ke maze liye.


The End
Read my other stories




(ज़िद (जो चाहा वो पाया) running).
(वक्त का तमाशा running)..
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Post Reply