Page 1 of 1

गोरी सी चूत खून जैसी लाल हो गई

Posted: 17 Nov 2017 20:06
by Ankit
गोरी सी चूत खून जैसी लाल हो गई

में अर्पित दिल्ली का रहने वाला हूँ और में में पिछले कुछ सालों से सेक्सी कहानियाँ पढ़ता आ रहा हूँ, जिसकी वजह से मुझे एक संतुष्टि एक बहुत अच्छा मज़ा मिलता है। मैंने अब तक बहुत सारी सच्ची कहानियाँ पढ़ी और उनको पढ़कर एक दिन मैंने अपने साथ भी घटित उस सच्ची घटना के बारे में विचार किया और उसको आप सभी लोगों के सामने आज लेकर भी आया हूँ और में उम्मीद करता हूँ कि यह आप लोगों को पढ़ने में बहुत अच्छी लगेगी और आपके दिल में अपनी एक छाप छोड़ जाएगी, क्योंकि यह है ही इतनी रोमांचक कामुकता से भरी हुई। वैसे यह कहानी थोड़ी लंबी है, लेकिन में जानता हूँ कि आपको जरुर पसंद आएगी और अब आप लोगों का ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए में कहानी की तरफ बढ़ता हूँ और पूरी विस्तार से आप सभी को सुनाता हूँ। दोस्तों यह बात आज से करीब 5 साल पहले की है, जब में उस समय कॉलेज में अपनी पढ़ाई कर रहा था और मेरा कॉलेज में दूसरा साल था, में अपनी पढ़ाई में बहुत होशियार था और वो वक़्त जिस समय मेरे साथ यह घटना घटी, वो सर्दियों का समय था और वो जनवरी का महिना था।

उस दिन एक जनवरी थी और जब में नया साल मनाने के लिए अपने मामा के घर पर गया। दोस्तों में यह बात सोचकर वहाँ पर गया था कि वहां पर मेरे मामा के बच्चे भी होंगे तो मुझे उनके साथ बहुत मज़ा आएगा और हम सभी मिलकर उस ख़ुशी का मज़ा लेंगे। में बहुत खुश था और फिर में अपने घरवालों से कहकर सुबह 11 बजे ही अपने मामा के घर पर पहुंच गया और मुझे अचानक से देखकर घर के सभी लोग बहुत खुश हुए। कुछ देर बाद मेरी मामी ने मुझे मुहं हाथ धोने के बाद नाश्ता कराया और फिर हम सभी बैठकर हंसी मजाक इधर उधर की बातें करने लगे और उसके बाद हम शाम की पार्टी के बारे में विचार करने लगे थे। फिर इतने में मामी के फोन पर किसी का कॉल आ गया और वो बात करने के लिए हमारे बीच से उठकर बाहर चली गई। करीब 15 मिनट बात करने के बाद मामी वापस अंदर आ गई, वो बहुत खुश थी और अचानक से ना जाने उनको ऐसा क्या मिल गया था, वो मुझे उनके चेहरे से साफ साफ पता चल रहा था, वो अपने चेहरे पर हल्की सी मुस्कान लेकर अंदर आई थी और अब वो अंदर आकर कहने लगी कि उनकी चचेरी बहन नीलू भी शाम को यहाँ पर आ रही है।

अब हम सभी लोग उनकी यह बात सुनकर बहुत खुश हुए सिवाए मेरे, क्योंकि में इससे पहले कभी नीलू से कभी नहीं मिला था और ना मैंने उसको कभी देखा था कि वो कैसी दिखती है, उसकी उम्र क्या है, उसका रंग कैसा है, ऐसी बहुत सारी बातें थी और आप लोग मेरे कहने का मतलब जरुर समझ सकते हो। अब इन सबके बाद में सभी सामान लाने के लिए बाजार चला गया, क्योंकि हमें शाम की बहुत सारी तैयारियां भी करनी थी और हमारे पास अब बहुत कम समय बचा था। फिर करीब दो घंटे के बाद में वापस घर पर आ गया और वापस आते ही मामी ने खुश होते हुए मुझसे कहा कि नीलू घर आने वाली है, इसलिए तुम्हारे मामा उसे लेने के लिए स्टेशन गये है, वो बस कुछ देर में घर पहुंच जाएगें। दोस्तों में बाजार में घूमने फिरने की वजह से बहुत थक चुका था, इसलिए मैंने उनकी बात पर ज्यादा ध्यान ना दिया और मैंने बाथरूम में जाकर गीज़र को चालू किया और फिर में नहाने चला गया। उसके कुछ देर के बाद में नहाकर टावल बांधकर बाथरूम से बाहर निकलकर सीधा अपने रूम में गया और तब मैंने देखा कि मेरे सामने नीलू बैठी हुई है। वैसे मैंने पहले उन्हें कभी नहीं देखा था, लेकिन सुबह से घर में उनके आने की बातें हो रही थी तो इसलिए मुझे देखकर पता चल गया कि यह वही है और मुझे इस तरह टावल में देखकर उनकी आँखे खुली की खुली रह गई, क्योंकि वो टावल जो मैंने अपने बदन पर लपेटा हुआ था, वो बहुत पतला था और उसके गीला होने की वजह से सब कुछ पारदर्शी सा हो गया था। अब में भी वहीं का वहीं खड़ा रह गया और वो लगातार मुझे देख रही थी और में उसकी सुन्दरता को मेरी नजर उस सुंदर चेहरे से हटने को बिल्कुल भी तैयार नहीं थी और में लगातार देखता रहा। उनकी भूरी बड़ी सी आँखे जैसे इनमें अभी अभी शाम ढली हो, काले लंबे घने बाल मानो हिमालय की चोटी से बहता हुआ कोई झरना हो, भरा हुआ बदन जैसे ऊपर वाले ने सारी सुन्दरता के साथ साथ कामुकता भी इनके अंदर ही भर दी हो। में तो बस पहली नज़र में बिल्कुल दीवाना हो गया। तभी इतने में बाहर से मामी ने नीलू को आवाज़ लगाई और वो तुरंत बाहर चली गई। फिर मैंने दरवाजे को बंद किया और कपड़े पहनकर बाहर आ गया।

अब मामी ने मुझे नीलू से मिलवाया और मैंने नीलू को देखकर हाए कहा और उसने भी मुझसे हैल्लो कहा, लेकिन दोस्तों मुझसे हैल्लो कहते समय उसके चेहरे के एक कोने में एक दबी हुई सी हंसी थी, जिसे मैंने बहुत अच्छी तरह से देखकर समझ लिया था। फिर हम सबने कुछ देर बाद पार्टी शुरू की खाना, पीना और डांस सब कुछ था। दोस्तों डांस करते समय में कई बार जानबूझ कर नीलू के पास आकर उसे छूने की कोशिश कर रहा था और कई बार ऐसा किया भी। पहले तो उसने मेरी इस हरकत पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया, लेकिन मेरे बार बार हाथ पकड़ने से और छूने की वजह से वो अब समझ गई और थोड़ी देर बाद उसने खुद मुझे डांस करने के लिए कहा और में उसके साथ डांस करने लगा और अब हम दोनों बहुत करीब थे। में लगातार उसकी आखों में देख रहा था और वो मेरी आखों में देख रही थी। फिर हम बहुत देर तक एक दूसरे से कुछ नहीं बोले। फिर में धीरे से अपने एक हाथ को उसके बूब्स के पास ले गया और फिर में धीरे धीरे से सहलाने लगा, वो तो पहले एकदम चकित हो गई, लेकिन फिर मुस्कुराने लगी और इतने में मैंने उससे कहा कि नीलू तुम बहुत सुंदर हो और मैंने आज तक तुमसे ज्यादा सुंदर, सेक्सी लड़की नहीं देखी और मेरे मुहं से इतना सुनते ही वो हंसने लगी। फिर मैंने उससे पूछा कि तुम इस तरह से क्यों हंस रही हो? तभी उसने मुस्कुराते हुए कहा कि वो सब जो तुमने अभी अभी मुझसे कहा है, वो तो तुम्हारी आँखो से भी दिख रहा है।

फिर मैंने उससे पूछा कि तुम्हें और क्या क्या दिख रहा है? तो नीलू ने कहा कि वही सब जो तुम मुझ में इस तरह से लगातार घूर घूरकर देख रहे हो? और फिर उसके मुहं से यह बात सुनकर हम दोनों हंसने लगे और डांस खत्म करने के बाद हमने खाना भी एक साथ ही खाया और कुछ ही समय में हम एक दूसरे के बहुत करीब आ गए थे और हम दोनों को ऐसा लग रहा था कि हमें वो मिल गया, जिसकी हम दोनों को तलाश थी। दोस्तों यह कहानी प्यार और कामुकता दोनों की तरफ एक साथ ही बढ़ रही थी। मेरे मन में कई सवाल थे, लेकिन मैंने सोचा कि जो हो रहा है होने दो ना जाने ऐसा पल फिर कब आए? हमारी पार्टी करीब एक बजे खत्म हुई और मेरे भाई बहन सोने चले गए। उसके बाद मामी के कमरे में मामी, नीलू और में बैठकर बातें करने लगे और कुछ ही देर में मामी भी सो गई। अब में और नीलू ही वहाँ अकेले रह गए थे। मैंने धीरे से अपने पैरों को एक तरफ किया और नीलू के पैरों को छू दिया तो उसने तुरंत मेरी तरफ देखा लेकिन उसने मुझसे कुछ नहीं कहा। फिर में कुछ देर वैसे ही उसके पैरों को महसूस करता रहा। मैंने उस समय मोज़े पहन रखे थे और उनको देखकर नीलू ने मुझसे कहा कि क्या तुम्हें गर्मी नहीं लग रही है? तो मैंने कहा कि हाँ, लेकिन थोड़ी थोड़ी और अब नीलू ने मुझसे कहा कि चलो हम गेस्ट रूम में चलते है और हम दोनों वहाँ पर चले गये। गेस्ट रूम में एक छोटे आकार का बेड था और एक कुर्सी भी थी। नीलू बेड पर जाकर लेट गई और में कुर्सी पर बैठ गया और उस गेस्ट रूम का मुहं रोड की तरफ था और उसकी एक खिड़की खुली हुई थी, इसलिए वहाँ पर बहुत ठंड थी। फिर कुछ ही देर में नीलू ने तो तुरंत पास में पड़े कंबल को अपने ऊपर डालकर खुद को उससे ढक लिया, लेकिन में कुर्सी पर बैठा था, इसलिए मुझे बहुत ठंड लग रही थी और अब मुझे हल्की सी कंपकपी छूटने लगी। नीलू ने मुझे ऐसे देखकर तुरंत मुझसे कहा कि पागल है क्या वहाँ पर क्या कर रहा? और फिर उसने मुझे बेड पर अपने पास बुला लिया और में अब बेड पर लेट तो गया, लेकिन नीलू से अभी थोड़ा सा दूर था और काँप रहा था। नीलू तुरंत मेरे करीब आ गई और उसने मुझे ज़ोर से अपनी बाहों में भर लिया। दोस्तों सच में उसका वो सेक्सी बदन इतना गरम था कि जैसे में किसी तंदूर के पास खड़ा हूँ। मेरा चेहरा उसकी गर्दन के पास था। फिर मैंने धीरे से उसे गर्दन पर किस करना शुरू किया और फिर उसने पीछे से मेरी टी-शर्ट के अंदर अपना एक हाथ डाल दिया और अब वो मेरी पीठ पर अपना गरम मुलायम हाथ फेरने लगी और में उसकी गोरी गर्दन से उसकी छाती पर किस करने लगा। अब हम दोनों में आग लग चुकी थी। फिर मैंने अपने चेहरे को ऊपर किया और उसके गुलाबी रसीले होंठो को चूसना शुरू कर दिया। करीब 5 मिनट तक बिना रुके हमने स्मूच किया और फिर वो हल्का सा पीछे हटी और मुझे देखने लगी और फिर धीरे से मुझसे बोली, आज की रात में बस तुम्हारी हूँ और तुम मुझे इतना प्यार करो कि में यह रात कभी ना भूलूँ और फिर वो इतना कहकर मुझे पागलों की तरह किस करने लगी। अब मैंने बिना देर किए उसके टॉप को उतार दिया और अब वो मेरे सामने बस ब्रा में थी और उसके बड़े बड़े बूब्स मानो ब्रा से बाहर निकलने के लिए बेताब थे। में नीचे झुककर उसकी गोरी पतली कमर पर किस करने लगा और मैंने अपनी जीभ से उसकी नाभि को पूरा गीला किया और फिर उसकी छाती को पूरा गीला कर दिया और किस करने लगा।

अब नीलू की साँसे धीरे धीरे तेज हो रही थी और वो अपने एक हाथ से मुझे पकड़ी हुई थी और उसने अपने एक हाथ से बेडशीट को पकड़ रखा था और उसकी दोनों आँखे बंद थी, मानो वो हर एक लम्हे को बस जी भरकर जी रही थी और उसके पूरे पूरे मज़े ले रही थी। अब में उसके ऊपर आ गया और उसकी छाती पर लीक करने लगा और उसके दोनों बूब्स के बीच में अपनी जीभ को डालकर में लगातार आगे पीछे करना लगा, वो भी पूरी गीली हो गई थी और में उसके हर एक अंग को बस खा रहा था और उसके जिस्म के हर एक हिस्से का स्वाद ले रहा था और उसके बाद मैंने दांतो से उसकी ब्रा को दोनों तरफ से खींचकर थोड़ा नीचे किया, जिसकी वजह से उसके निप्पल बाहर आ गए। दोस्तों इतने सख्त बिल्कुल गोल और बड़े आकार के निप्पल में पहली बार देख रहा था और उसके निप्पल तीखी तलवार की तरह लग रहे थे, जो अब बस मुझे काट देंगे। अब में भी बेकाबू होकर उन पर टूट पड़ा और उसके बूब्स को अपने मुहं में भरकर चूसने लगा। उसने मेरे एक हाथ को अपने दूसरे बूब्स पर रख दिया और अब दोस्तों में तुरंत उसका इशारा समझ गया था कि वो अब मुझसे क्या चाहती है और में उसके एक बूब्स को चूसने लगा और दूसरे को अपना पूरा ज़ोर लगाकर मसलने निचोड़ने लगा था। फिर इतने में नीलू ने पूरी तरह से गरम होकर मेरे मुहं को अपने निप्पल पर दबाकर अपना एक हाथ पीछे करके ब्रा का हुक खोल दिया और फिर उसके दोनों बूब्स अब पूरी तरह से मेरे सामने थे। दोस्तों उसके वाह क्या मस्त बूब्स थे, इतने बड़े आकार के थे कि उसके आधे बूब्स भी मेरे मुहं में नहीं आ रहे थे, एकदम गोरे बूब्स और उस पर गहरे रंग के और टाईट निप्पल मेरे लिए तो वो स्वर्ग बन गया। फिर मैंने करीब 15 मिनट तक उसके बूब्स से मज़े किए और अब उसके बूब्स की वजह से वो गरम हो चुकी थी और अब वो पूरी तरह से तैयार हो गई थी। फिर में उसकी छाती पर, पेट पर लीक करते हुए धीरे धीरे नीचे आ गया। उसने नीचे लोवर पहन रखा था और मैंने अपने दांतो से उसके लोवर को नीचे खींच दिया और फिर अपने एक हाथ से पूरा नीचे उतार दिया। अब वो मेरे सामने बस अपनी काली कलर की पेंटी में थी और में उसके दोनों पैरों के बीच में आ गया और उसकी गीली पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सूंघने और चूमने लगा। दोस्तों उसकी महक ऐसी थी कि मुझे बस ना जाने कैसा नशा सा होने लगा था और में उसकी महक से पूरा मदहोश हो गया था। कुछ देर बाद मैंने उसकी पेंटी को भी अपने दांतो से पकड़कर खींचकर उतार दिया। अब उसकी पूरी सुन्दरता और पूरी जवानी मेरे सामने थी, वो भी पूरी नंगी उसको देखकर ऐसा लग रहा था कि आज एक भूखे शेर को खाने के लिए दावत में दुनिया भर का माँस मिल गया हो। अब में उसकी चूत के पास आ गया और ध्यान से देखा तो वो पूरी चिकनी थी और उस पर एक भी बाल नहीं था। वो बाहर से गोरी चिकनी और अंदर से गुलाबी कलर की इतनी मदमस्त चूत मैंने अभी तक बस पॉर्नफिल्म में ही देखी थी। दोस्तों आज तो सच में मेरी किस्मत सुनहरे पेन से लिखी गई थी। फिर मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और फिर में उसकी गोरी भरी हुई जाँघो को चूमने, सहलाने लगा और मैंने उसके पेट से लेकर उसकी चूत के साईड तक दोनों तरफ अच्छे से उसको पूरा चाटा, जिसकी वजह से नीलू अब तक बहुत मस्त हो गई थी और वो पागलों की तरह छटपटा रही थी और वो पूरी तरह से जोश में थी।

दोस्तों मैंने महसूस किया कि अब तक उसकी चूत पहले से भी ज्यादा गीली हो चुकी थी और मुझे उसका चूत रस साफ साफ नजर आ रहा था और शेर का माँस अब बहुत अच्छी तरह से पक चुका था और अब बस उस पर टूट पड़ने की देरी थी। मैंने सोचा कि क्यों ना इसे कुर्बान किया जाए तो मैंने उसके दोनों पैरों के बीच में आकर उसकी चूत पर अपना मुहं रख दिया और चूत को चाटने लगा। मेरी जीभ को उसकी चूत का स्वाद मिलते ही मेरा लंड तो सांप की तरह तनकर खड़ा हो गया, करीब 6 इंच लंबा मेरे पूरे बदन में करंट सा दौड़ने लगा और नीलू ने तो मेरे बालों को पकड़कर मेरे मुहं को अपनी चूत में घुसा दिया। अब में भी सारी हदे पार करते हुए उसकी झील का पानी पीने लगा और मैंने अपनी जीभ को उसकी चूत में डाल दिया और मैंने उनकी चूत को तब तक चाटा जब तक उसकी चूत का पानी निकलना कम नहीं हो गया, उसकी गोरी सी चूत एकदम खून जैसी लाल हो गई थी और मैंने उसकी चूत को हर तरह से चाटा और काटा भी। फिर इन सबके बाद उसने मेरे लंड को अपने हाथ में ले लिया और मुझे अपने ऊपर बुलाया और अब उसने मेरे लंड को अपने मुहं में लेकर चूसना शुरू कर दिया था और मैंने भी उसके मुहं में अपना 6 इंच का लंबा मोटा लंड डाल दिया, उसका मुहं पूरा सलाइवा से भर गया और फिर उसने उसे बाहर किया।

दोस्तों अब हम दोनों को बहुत अच्छी तरह से पता था कि अब हमे क्या करना है। फिर उसने अपने पैरों को ऊपर उठा दिया और मैंने उसके पैरों को अपने कंधे पर रख लिया और अपने लंड को उसकी चूत पर सेट किया और फिर धीरे से धक्का देकर अंदर डाल दिया, चूत गीली होने की वजह से लंड फिसलता हुआ पूरा अंदर तक जा पहुंचा और उसके अंदर जाते ही हम दोनों एकदम पागल हो गए और मैंने महसूस किया कि उसकी चूत की गर्मी ऐसी थी, जैसे किसी ने मुझे जलती हुई आग में खड़ा कर दिया हो और मेरा लंड इस तरह से टाईट था, जैसे वो कोई लोहे का सरिया हो। दोस्तों अब शेर ने अपना शिकार करना शुरू कर दिया था और मैंने अपने पेट उसके कूल्हों से सटा दिया था और उसके दोनों पैर मेरे कंधे पर थे, में पहले करीब 15 मिनट तक अपने लंड को पूरा अंदर डाल रहा था और फिर पूरा बाहर निकाल रहा था और यह क्रिया में धीरे धीरे कर रहा था, जिससे कि वो और गरम हो जाए। अब 15 मिनट बीतने के बाद नीलू ने मुझसे कहा कि अब तुम मुझे अपने लंड का असली दम दिखाओ और आज फाड़ दो इसे, में इससे बहुत परेशान हूँ, यह मुझे बहुत तड़पाती तरसाती है। फिर मैंने उसके दोनों पैरों को साईड में किया और उसकी तरफ झुका और अपने दोनों हाथों से उसकी कमर को पकड़ा और फिर उसकी चुदाई करना शुरू किया। अब मेरी रफ़्तार तो एक रेस की कार से भी ज़्यादा थी। में ज़ोर ज़ोर से झटके पे झटके मार रहा था और वो मेरे नीचे मेरे धक्कों से हिल रही थी और ऊपर उसके मस्त बूब्स हिचकोले खा रहे थे। मैंने उसको इस तरह से जकड़ रखा था कि वो कहीं हिल भी नहीं सकती थी, वो बस चीख रही थी और चिल्ला रही थी और उसकी सिसकियों की आवाज मुझे और भी ज्यादा जोश दिला रही थी। मैंने उसकी चूत को फाड़ने में बहुत व्यस्त हो रहा था और साथ ही कभी उसके निप्पल को तो कभी उसके होंठो को काट रहा था। नीलू ज़्यादा तेज चिल्ला नहीं सकती थी तो वो मेरी पीठ पर अपने नाख़ून चुभा रही थी और मुझे होंठो पर, गर्दन पर और कंघो पर ज़ोर ज़ोर से काट रही थी। करीब 25 मिनट तक में उसकी चूत में लगातार धक्के मारता रहा और वो मस्त होकर अपनी चुदाई मुझसे करवाती रही। फिर कुछ देर बाद मुझे लगने लगा कि अब में झड़ने वाला हूँ तो मैंने उसे अपने शिकंजे से आजाद किया और फिर में कुछ देर सीधा होकर बैठ गया। उसके बाद मैंने लंड को दोबारा अंदर सरका दिया और उसके बाद में अब ज़्यादा तेजी से धक्के देकर चोदने लगा। अब तो हमारा पूरा बेड हिल रहा था और साथ साथ नीलू भी हिल रही थी। करीब 2 मिनट के बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसके बूब्स के ऊपर रखकर आगे पीछे करके हिलाकर मैंने अपना पूरा वीर्य निकाल दिया और अब उसके बूब्स पूरे मेरे वीर्य से रंग गए और उसने उसे अपने निप्पल पर लगाया और फिर लीक भी किया। उसके बाद हम दोनों एक साथ में बाथरूम में जाकर नहाए और फिर वापस आकर हम दोनों एक साथ में सोए। दोस्तों यह थी मेरी पहली रात जिसमें मैंने अपनी सर्द रात को उसके साथ गरम किया और उसकी चुदाई के मज़े लिये ।।