पीड़ा

Post Reply
User avatar
rangila
Super member
Posts: 3098
Joined: 17 Aug 2015 16:50

पीड़ा

Post by rangila » 05 Jul 2016 17:06

पीड़ा

वो बिस्तर पर बार-बार करवटें लेती है, सोने का प्रयत्न करती है किन्तु असफल होती है। उसकी आंखों में नींद नहीं है, नींद की जगह तो उसके चेहरे ने ले ली है, खुली आंखों से वो उसके ख्वाब देख रही है, आंखे बन्द करती है तो लगता है बिस्तर पे वो अकेली नहीं साथ में वो भी लेटा है, उसके बदन को सहलाते हुए और वो उसकी बाहों में पिघलती जा रही है। वो झट से आंखे खोल देती है, इधर-उधर नीम अंधेरे में नजर गड़ाती है, वो दिखाई नहीं देता है।
उसी का सहपाठी है, विदेश एम.ए. हिन्दी साहित्य, दोनों के सेम सबजेक्ट, सेम सेक्शन। पूरी यूनिवर्सटी में उसकी शायरी और कविता के चर्चे हैं, तमाम लड़कियां उस पर मरती है।
पर वो उस पर मरता है। हां वो दोनों दोस्त है, पर वो उससे दोस्ती से कुछ ज्यादा मांगता है।
आज उसकी किताब में, एक पर्ची मिली थी, कुछ पक्तियां लिखी थी शायद कविता थी-
सीमा जी-
सेक्सी तू सेक्सी
सरापा तू सेक्सी…..
पढ़कर रोम-रोम सिहर जाता है सीमा का, जरूर विरेश ने रखा होगा उसके बाद सीमा का मन यूनिवर्सटी में नहीं लगता है।
बेचैन होकर वो उठती है किताब खोलकर वो पेज निकालती है, वापस पढ़ती है-
सेक्सी तू सेक्सी
सरापा तू सेक्सी
उसकी आंखे अपने आप बंद हों जाती है, अजब सी गुदगुदी वो महसूस करती है।
विरेश को बचपन से जानती है सीमा, बचपन न सही टीनऐज से तो जानती है। नाइन्थ से दोनों साथ पढ़ रहे है, विरेश को बचपन से शौक है कविताएँ लिखने का पढ़ने का।
उस पर आरोप है, वो बल्गर कविताएँ लिखता है। सीमा के पिता भी कवि है, प्रतिष्ठित कवि और वो विरेश को कवि नहीं मानते।
सीमा वापस किताब खोलती है बेड पर आकर अधलेटी स्थिति में वो कविता की आगे की लाइने पढ़ती है।
तेरी आंखे है कजरारी
तेरी बाते प्यारी-प्यारी
लगती आग का है गोला
तू जब बांधती है साड़ी
सीमा की वापस आंखे बन्द हो जाती है। वो याद करती है, यूनिवर्सटी के पिछले साल का वार्षिक समारोह उसने बी0ए0 फाइनल में टॉप किया था और विरेश किसी तरह से पास हुआ था। उस दिन सीमा ने साड़ी बांधी थी फिरोजी रंग और उसी रंग का स्लीवलेस ब्लाउज। उसने मैंचिग के सैंडल पाव में और हांथो में बैंगल पहने थे।
उस दिन विरेश उसे बार-बार देख रहा था, करीब आ रहा था और बगल से निकलने के बहाने उसके शरीर से अपने शरीर को टच कर रहा था।
उस दिन विरेश भी कविता पाठ करता है-
स्नेह तुम्ही से मेरी प्रिया
तुम मन को मेरे देखो तुम
फंक्शन के दौरान जब सीमा चाय पी रही थी तो उसे अकेला देखकर विरेश उसके पास आ गया था, और उसे ये बोलते हुए कि वो साड़ी में बहुत खूबसूरत लग रही हो, बेहिचक अपने प्यार का इजहार कर दिया था।
-कुछ देर सीमा चुप रह गई थी, तो विरेश ने उसके गाल पर आई एक जुल्फ की लट संवार दी थी।
-सीमा फिर भी चुप रही थी, तभी वहां उसकी कुछ सहेलियां आ गई थी वो विरेश इधर-उधर की बातें करने लगा था।
सीमा को विरेश की ये डेयरिंग थोड़ी-थोड़ी अच्छी लगी थी, पर वो थोड़ा सा डर भी गई थी।
सीमा, विरेश के हाथ का स्पर्श अपने गाल पर याद करके सिहर जाती है, वो एक तकियो को सीने से लगा कर और एक तकिये को अपनी मांसल जांघो के बीच रख कर सोने की कोशिश करती है।
उसे महसूस होता है मानो, उसके सीने से विरेश चिपका हुआ और उसने अपनी टांगो को उसकी जांघो के बीच फंसा रखी है।
ये महसूस करते ही उसके होंठांे पर मादक हंसी तैर जाती है, और मुस्कराते हुये दोहराती है-
सेक्सी तू सेक्सी
सरापा तू सेक्सी
आज सीमा को यूनिवर्सटी जाने की देर हो गई है, सुबह देर से आंख खुली थी। रात देर से जोे सोई थी वो। आदमकद आईने के आगे खड़े होकर बाल बनाते हैं वो, हल्के घुंघराले काले बाल कांधे तक बिखरे हुए।
बाल बनाते हुए वो गुन गुनाती है-
सेक्सी तू सेक्सी
सरापा तू सेक्सी
-मां उसे आवाज देती है-सीमा आ बेटे नाश्ता तैयार है।
-सीमा शायद सुन नहीं पाती है या सुन कर अनसुना कर देती है। वैसे ही वो कविता की लाइने गुनगुनाती रहती है। कोई पीछे से आकर उसके कांधे हिला देता है, वो चौक कर पलटती है। सामने मां है, पूछती है-क्योंरी सीमा आजकल तेरा ध्यान किधर रहता है, वे पलट कर वापस आईना देखते हुए बोलती है, कुछ नहीं मां तू चल मैं आती हूं।
आज उसे विरेश कहीं दिखाई नहीं पड़ रहा है, वैसे तो वो उसे यूनिवर्सटी आते ही दिखाई दे जाता है मानो वो उसका ही इन्तजार करता रहता है, वो यूनिवर्सटी के हॉस्टल में रहता है सो कभी लेट नहीं होता।
वो चारों तरफ निगाहों से ढूंढती हुई क्लास तक आती है। उसकी नजर ग्रीन बोर्ड पर जाती है। जहां सफेद चाक से लिखा था।
-दिल ने किया हमनवा एक बिरहमने बुत को-
पढ़कर कर सीमा थोड़ा लजाती है, क्लास में ओर भी स्टूडेन्टस बैठे हैं। सीमा अपने होंठों में अपना दंउ लेती है-सीमा मिश्रा, वो दो तीन बार दोहराती है-सीमा मिश्रा। हां वो भी तो ब्राह्मण है तो क्या विरेश ने उसके लिए लिखा है। हां सीमा पहचानती है विरेश की राइटिंग को, क्या सुन्दर लिखता है वो।
विरेश, क्लासरूम में आता है। हाफ बांह का कुर्ता और पायजामा पहना है उसने, हां आज दिखने में कवि लगता है। वो क्लास में पीछे बैठता है और सीमा आगे।
अपनी सीट की तरफ जाने से पहले वो सीमा के पास रूकता है। उसकी किताब पर हाथ रखते हुए बोला, कविता पढ़ी थी सीमा।
सीमा के हृदय में गुदगदी होती है पर वो चुप रहती है। विरेश गुनगुनाता है-
सेक्सी तू सेक्सी
सरापा तू सेक्सी
-विरेश जाकर अपनी सीट पर बैठ जाता है तो सीमा की धड़कन थोड़ी नियन्त्रित होती है। वो विरेश की डेयरिंग पर अक्सर डर जाती है।
आज यूनिवर्सटी में थोड़ा हंगामा हो जाता है। ग्रीन बोर्ड पर लिखी कविता की लाइन-
दिल ने किया हमनवा एक बिरहमन बुत को-
सारी यूनिवर्सटी में चर्चा कि विषय है। चर्चा इस बात की नहीं कि कविता में शास्त्रीयता है या नहीं, चर्चा इस बात की है, ब्राह्मण की लड़की को कोई नीची जात वाला हमनवा कैसे कर सकता है। हां विरेश, नीची जाति का है।
विरेश-विरेश गौतम।
सीमा को पता चलता है, तमाम अगड़ी जात के प्रोफसरांे के ये कृत्म भाया नहीं हैै और वो लामबन्द हो रहे है। सीमा थोड़ी चिन्तित होती है।
विरेश के लिए, उसकी चिन्ता विरेश के लिए क्यों है वो नहीं समझ पाती है।
क्या लगता है आखिर विरेश उसका।
उधर, शेडयूल कास्ट के लोग भी लामबन्द हो रहे है। विरेश के फेवर में, वो विरेश को न डरने की सलाह देते है। विरेश, उन बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं देता है। उसे लगता है उसे ये फील होता है वो सीमा को प्यार करने लगा है।
उसने तो सीमा को प्रपोज भी किया है, पर उसने अब तक उसे कोई जवाब नहीं दिया है। विरेश थोड़ा निराश होता है। ये सोचकर उसे थोड़ी तसल्ली होती है सीमा ने उसे मना भी तो नहीं किया था।
आज घर में सीमा को कुछ आंखे चुभती हुई लगती है। उनमें दो आंखे उसके पिता की है, जो यूनिवर्सटी मंे हिन्दी के प्रोफेसर हैं, दबंग, लब्ध प्रतिष्ठित कवि। उनकी दबंगई उनकी कविताओं मंे आसानी से देखी जा सकती है।
और दो आंखे उसके भाई की हैं
जो एक प्रकाशक है, वो भी दबंग। आज तक उसके प्रकाशन से किसी निम्न जाति के लेखक की कोई पुस्तक प्रकाशित नहीं हुई है।
पिता, सीमा को देखकर कड़क कर अपनी पत्नी को बोलते हैं, जरा समझा दो छोकरी को, अपने पांव संभाले, वरना वो अपने पांव पर चल न सकेगी।
सीमा देखती है उसकी भाई अपनी बांहे चढ़ाता है, जिसका अर्थ वो ये लगाती है, मतलब वो पिता की कही बात का सर्मथन कर रहा है।
सीमा चुप रहती है और अपने कमरे में आ जाती है। निढ़ाल बिस्तर पर ढ़ेर हो जाती है। कुछ पलांे बाद उसे महसूस होता है उसके गाल गीले हो रहे है, हथेली ले जाकर देखती है तो कुछ बंूदे वहां आंखों के कोने से निकल कर वहां ढलक रही थी।
वो अश्रु थे, पर क्यों किसके लिए।
सीमा खुद अचम्भित है, अपनी आंखो के इस कृत्य पद;चंतद्ध। क्यों आखिर क्यों आंखो से उसकी आंसू निकल पड़े है। क्या विरेश के लिए। क्या ये सोचकर कि उसका अहित होने वाला है उसकी आंखे रो पड़ी हैं।
वो विरेश से प्रेम करने लगी है क्या, हां उस दिन वो बोल रहा था ऐ सेक्सी एक बार आई लव यू बोल दे। सीमा के मन में विरेश की बात से बहुत गुदगुदी होती है। उसके गुलाबी अधरों पर मुस्कान तैरना चाहती है पर वो रोक लेती है। उसे शांत देखकर विरेश उसके हाथ पकड़ लेता था। उसकी इस डेयंरिग पे सीमा हड़बड़ा जाती है। नजरे नीची करके बोलती है विरेश जी हाथ छोड़ दीजिए, मैं आपकी एक अच्छी मित्र हूं।
-फिर बोल दो न आई लव यू-विरेश उसके हाथ पर अपने हाथ की सख्ती बढ़ाते हुए बोलता है। सीमा को तनिक दर्द होता है, पर उसे ये दर्द बड़ा भला लगता है।
तभी सीमा की सहेली मीता वहां आ जाती है, तो विरेश उसका हाथ छोड़ देता है। मीता थोड़ी चंचलता से विरेश से कहती है, क्या यार विरेश ऐसी ही गोल्डन नाईट को सीमा का हाथ छोड़ देंगे क्या।
मीता की बात पर विरेश हंस देता है और सीमा उसको तो लाज से कान की लौ लाल हो जाती है।
सीमा सोचती है नहीं वो प्रेम नहीं करती है विरेश से और अगर करती भी है तो वो उससे कभी बोल नहीं सकती वो जानती है उसे समाज के बनाये अंधे तिलिस्म में ही जीना है।
आज यूनिवर्सटी में बड़ा बवाल हुआ है, और शाम होते-होते वो अपने कमरे में और विरेश हॉस्पिटल में होता है।
आज सुबह एम.ए. फर्स्ट ईयर हिन्दी साहित्य के क्लास के ग्रीन बोर्ड पर लिखा होता है-
‘‘दिल ने किया हमनवा एक बिरहमने बुत को तो कौम के फरजन्दो की नजरें बदल गई’’
पढ़ कर सीमा लरज जाती है। मीता बताती है उसे कल शाम कुछ लोगों ने, विरेश को डराया-धमकाया है और तुमसे बात न करने की सख्त हिदायत दी है।
विरेश क्लास रूम में आता है, सीमा के पास रूक कर बोेलता है, हैलो सेक्सी आई लव यू-
आई लव यू बोलने के समय विरेश की आवाज थोड़ा तेज हो जाती है और वो शब्द सारे क्लास में गूंज जाते हैं।
पूरा दिन सीमा, विरेश से बचने का प्रयास करती है। वो जानती है विरेश की डेयरिग को, वो जरूर उसे छेड़ेगा। ये बात अलग है विरेश का छेड़ना उसे अब बहुत भला लगता है।
सीमा देखती है आज पूरी यूनिवर्सटी में तनाव है। लोग जगह-जगह, झुन्ड बना कर बातें कर रहे है। वो इस तनाव के कारण का अंदाजा लगाती है, जरूर उसके और विरेश के बारे में बाते हो रही होंगी।
सीमा थोड़ा सहम जाती है वो आज घर जल्दी आ जाती है, उसके पिता और भाई दोनों पे समय घर पर नहीं है।
मां की दी चाय तिपाई पर पड़े-पड़े शरबत हो जाती है। सीमा इस वक्त अपने होश-ओ-हवाश में नहीं है। मीता के फोन ने उसे तोड़ कर रख दिया है। आज शाम यूनिवर्सटी के बाहर कुछ लोगों ने अचानक विरेश पर हमला कर दिया है, उसे काफी चोटे आई हैं, और उसे पास के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उसका मन विरेश को देखने का करता है, ऐसा कर नहीं पाती है। कहीं न कहीं उसके मन में अपने पिता और भाई का डर बैठा है। वो जानती है ये कृत्य किसका है।
खाने की मेज पर आज रात उसके पिता और भाई ठहाके लगाते है, ये ठहाके सीमा के हृदय में नश्तर की तरह चुभते है, वो मां से तबियत खराब होने की बात करके खाने की मेज से उठ जाती है।
उसके कानों में पिता की आवाज सुनाई पड़ती है, अब अगर वो सीमा से मिला तो दुनिया से उठ जायेगा। सीमा झुरझुरी लेती है।
रात भर बिस्तर पर वो करवटंे लेकर बिताती है, विरेश के बारे में सोचती है। उसके दर्द के बारे में अदांजा लगाती है।
आज उसे यूनिवर्सटी अधूरी लगती है। विरेश नजर नहीं आता है, कैसे आयेगा वो तो अस्पताल में है। क्लास का ग्रीन बोर्ड आज सूना पड़ा है।
लंच टाईम में मीता उससे बोलती है, चल विरेश को देखने चलते है। सीमा मनाकर देती है। दो कारण है विरेश के पास न जाने के एक तो वो सोचती है नजर कैसे मिलायेगी विरेश से और दूसरा पिता और भाई का डर सताता है उसे।
मीता हॉस्पिटल जाती है, तो सीमा घर वापस आ जाती है। वो मीता के फोन का इन्तजार करती है, जानना चाहती है विरेश के बारे में। बार-बार मोबाईल उठा कर चेक करती है उस पर उसमंे कोई फोन कॉल नहीं है।
सारी रात सीमा आंखो में काटती है, आज सीने से तकिया लगा कर, जांघो के बीच तकिया रखकर भी नींद नहीं आती है। मीता उसे फोन नहीं करती है। सीमा सारी रात आंखो में काटती है। वो इन्तजार करती है रात ढ़लने का, सवेरा होने का। उसे जल्दी है यूनिवर्सटी जाने की, विरेश के बारे में जानने की। वो एक-दो बार मीता को फोन करती है, पर उधर से कोई जवाब नहीं मिलता है।
आज यूनिवर्सटी में रोज जैसी चहल-पहल नहीं है, कल की घटना का असर साफ दिखाई पड़ता है। आज यूनिवर्सटी में बहुत सी आंखे उसे चुभती हुई महसूस होती है। मानो कह रहीं है वही अपराधी है विरेश के इस हाल के लिए। वो मीता को खोजती है पर वो नजर नहीं आती है। सीमा का मन क्लास में नहीं लगता है।
वो लाइर्बेरी में आ जाती है, उसे किताब सबमिट करनी है। पुस्तक जमा करने से पहले वो उसे चेक करती है तो उसमें से एक कागज का पुर्जा उसे मिलता है। उसकी लिखावट को पहचानती हैं वो विरेश ने ही लिखा है।
सीमा वहीं लाइब्रेरी में बैठकर वो लिखावट पढ़ती है, वो एक छोटी सी कविता है। जिसका अर्थ ये है, नायिका, नायक को इसलिए तिरस्कृत करती है क्योंकि वो निम्न जाती का है। कविता पढ़कर सीमा की आंखे डबडबा जाती है।
शाम ढ़लते-ढ़लते और सीमा के यूनिवर्सटी से निकलने के समय पर उसे एक और खबर मिलती है।
यूनिवर्सटी के मैनेजमेन्ट काउंसिल ने निर्णय लिया है विरेश को यूनिवर्सटी से निकालने का। वजह में कहा गया कि विरेश, यूनिवर्सटी का माहौल बिगाड़ रहा है। वो पढ़ाई से ज्यादा समय लड़कियों को फ्लर्ट करने में लगाता है। इन बातों का ताकीद उसके अंकपत्र भी करते हैं। सीमा के लिए ये खबर नहीं वज्रपात है। उसको अपना दिल बैठता हुआ महसूस होता है और टांगे लरजती हुई।
उसके घर का माहौल आज शाम खुशनुमा है। पिता और भाई किसी बात पे ठहाका लगा रहे हैं। ये ठहाके सीमा के कान में पिघले शीशे की तरह उतरते हैं। वो डिनर में मुश्किल से एक चपाती खाती है, वो भी उसके हलक से नहीं उतरती है। किसी तरह से वो उसे पानी के साथ हलक से नीचे उतारती है। फिर वो पिता और भाई की नजर बचा कर अपने कमरे में आ जाती है।
आज रात भी नींद सीमा की दुश्मन बनी हुई है। सीमा सोचती है जिंदादिली की ये सजा मिली है विरेश को। जरूर इस सजा की वजह खुद सीमा है। वो विरेश के सारे खतो को ढूढंती है जो विरेश ने कोई न कोई बहाने से सीमा की किताब में रखे थे। सीमा बारी-बारी से सारे खत पढ़ती है और आखिरी खत पढ़ते-पढ़ते उसे लगता है, वो विरेश को प्यार करती है, उसी को चाहती है। वो होंठों में बोलती है-विरेश आई लव यू। यही सेनेटेन्स को कई बार दोहराती है और लजाती है और एक निर्णय लेती है।
दो महीने बीत चुके है, विरेश स्वस्थ हो गया है, पर टूट गया है, एक भाड़े के कमरे में रहता है। वो बच्चो को ट्यूशन पढ़ाने लगा है। सीमा, उसका एड्रेस मीता से हासिल कर लेती है और एक शाम विरेश के कमरे तक पहुँच जाती है। विरेश उसे अपने कमरे पर देखकर सरप्राइज हो जाता है और सीमा उसके गले में बाहें डाल कर आई लव यू बोलकर उसे और सरप्राईज कर देती है।
तमाम गिले शिकवे के बाद जब उस सुहानी शाम सीमा प्रथम अमिसार की पीड़ा झेल रही थी, उस समय उसे लग रहा था, वो अपने पिता और भाई से विरेश की पीड़ा का बदला ले रही है।

पीड़ा

Sponsor

Sponsor
 

Post Reply