छिपा भेड़िया

Post Reply
User avatar
rajaarkey
Super member
Posts: 6844
Joined: 10 Oct 2014 10:09
Contact:

छिपा भेड़िया

Post by rajaarkey » 16 Feb 2017 13:27

छिपा भेड़िया


सारिका ने कभी सोचा भी न था कि शादी के बाद उस की जिंदगी इतनी बदल जाएगी. शादी से पहले वह कितनी हंसमुख व मिलनसार थी. उस की न जाने कितनी सहेलियां थीं. किसी भी उत्सव, पार्टी वगैरह में उस के जाते ही जैसे जान आ जाती थी. उस के गीत, चुटकुले, कहकहे और खूबसूरती हरेक को उस के आसपास रहने को मजबूर कर देती थी.
लेकिन अब तो वह ऐसी पार्टियों में जाने से कतराती थी. पर समाज से कट कर भी तो नहीं रहा जा सकता, इसलिए जब कभी मजबूरी में जाती भी तो ऐसी कुछ बातें उस के कानों से टकरा ही जातीं, जो उसे विचलित कर देतीं. जैसे, ‘‘मोहितजी कितने अच्छे और हंसमुख हैं और उन की बीवी... नाक पर मक्खी तक नहीं बैठने देती, हर समय उस के तेवर चढ़े रहते हैं.’’
‘‘भई, खूबसूरत भी तो बहुत है. इसी का घमंड होगा,’’ कोई कहती.
‘‘अरे मोहितजी भी किसी से कम हैं क्या? जरा भी घमंड नहीं करते,’’ तुरंत कोई उन की तरफदारी के लिए खड़ा हो जाता.
‘‘मोहितजी किसी से भी हंसतेबोलते नजर आ जाएं तो ऐसे देखती है, जैसे अभी निगाहों से ही भस्म कर देगी और सामने वाले की भी ऐसी बेइज्जती कर देती है कि वह उसे देखता ही रह जाता है,’’ एक और आवाज सारिका की बुराई में उभरी.
‘‘सुना है मोहितजी ने कालेज के किसी मेले में उसे देखा था और फिर ऐसे फिदा हुए कि उस की तलाश में जमीनआसमान एक कर दिए और फिर उसे अपनी दुलहन बना कर ही माने. फिर उस की खूबसूरती के आगे ऐसे झुके कि आज तक सिर झुकाए हुए हैं. वे कहीं फिर से किसी की खूबसूरती के आगे न झुक जाएं, यही सोच कर सारिका सैलाब आने से पहले ही उसे रोक देती है,’’ ऐसी शोख बात पर हर कोई मुसकरा उठता और सारिका मन ही मन कट कर रह जाती.
‘‘बेचारे मोहितजी, कितने शरीफ हैं. हलकी सी मुसकराहट के साथ कितनी शराफत से बात करते हैं. कभी गलत निगाह से नहीं देखते और उन की बीवी... काश, वे मुझे पहले मिल जाते तो इतने शानदार इंसान को मैं अपना बना लेती.’’
‘‘अच्छा, तो अब कोशिश कर लो. तुम भी कम खूबसूरत नहीं हो.’’
‘‘अच्छा... उन की बीवी को देखा है? जान से ही मार डालेगी मुझ को...’’
‘‘हां भई, यह तो ठीक कहती हो तुम. फिर तो हम यही शुभकामनाएं दे सकते हैं कि तुम्हें भी ऐसा ही कोई इंसान मिल जाए.’’
‘‘हां भई, हमारी भी यही कामना है,’’ शरारत भरी आवाज आती.
सारिका धीरे से गरदन मोड़ कर उन की तरफ देखती. फिर मन ही मन उन से कहती, ‘उफ यह कैसी शुभकामनाएं दे रही हो नादान लड़कियों. तुम्हारा भला तो इसी में है कि तुम्हें मोहित जैसा इंसान न मिले.’
मोहित की तारीफ सुन कर सारिका का मुंह कड़वा हो जाता. दोस्त, पड़ोसियों व रिश्तेदारों सभी की यही राय थी कि मोहित अपने नाम के अनुसार हैं. सब को अपने हंसमुख, सरल स्वभाव से आकर्षित करने वाले और सारिका हद से ज्यादा घमंडी, शक्की और बुरा व्यवहार करने वाली महिला है. इस तरह की बातें सारिका के लिए नई नहीं थीं. उसे अकसर इसी तरह की बातें किसी न किसी रूप में सुनने को मिल ही जाती थीं. सब का यही सोचना था कि मोहित एक शरीफ, जिंदादिल इंसान हैं और अपने प्यार के हाथों मजबूर हो कर पत्नी से रिश्ता निभा रहे हैं, वरना सारिका जैसी पत्नी को तो तलाक दे देना चाहिए था. हरेक की हमदर्दी मोहित के साथ थी.
मोहित का बाहरी रूप सारी दुनिया के सामने बहुत प्रभावशाली था पर पत्नी होने के नाते सारिका अच्छी तरह जानती थी कि वे किस तरह के इंसान हैं. अगर बुराई, धोखा, मन के छल और हवस का इंसानी रूप दिया जा सकता तो उस की सूरत मोहित से अलग न होती. हां, यही सोच थी सारिका की अपने पति के बारे में. वह मोहित से नफरत करती थी फिर भी अपनी बेटी के कारण ही उस के साथ रहती थी, क्योंकि वह जानती थी कि मांबाप का अलगाव बच्चों के लिए बहुत दुखदायी होता है. इस से उन का सही विकास नहीं हो पाता. वह अपनी बेटी को सशक्त और सफल इंसान के रूप में देखना चाहती थी.
सारिका के मन में, बातों में कड़वाहट का कारण मोहित ही थे. पहले सारिका उन्हें बहुत अच्छा इंसान मानती थी. उसे याद था कि जब मोहित की तरफ से उस के लिए रिश्ता आया था, तो वह हैरान रह गई थी. उन के दोस्त की बीवी ने जब उस के प्रति मोहित की दीवानगी का बखान किया था तब सारिका ने हैरानी से आईने से पूछा था कि क्या मैं सच में इतनी सुंदर हूं?
मोहित अकेले रहते थे. अपना घर, शानदार नौकरी, कंपनी से मिली गाड़ी. उन के बारे में सारिका के पापा ने अच्छी तरह जानकारी लेने के बाद संतुष्ट हो कर रिश्ते के लिए हां कर दी थी.
और जब बरात सारिका के दरवाजे पर आई तो देखने वाले ‘वाह’ कर उठे. कामदार शेरवानी में मोहित चांद की तरह चमक रहे थे. महिलाओं और लड़कियों में मोहित की स्मार्टनैस के ही चर्चे थे. खूबसूरती में तो सारिका भी कम नहीं थी. इस लुभावनी जोड़ी पर से लोगों की आंखें नहीं हट रही थीं.
शादी के बाद सारिका ने जाना कि वाकई मोहित कमाल के इंसान हैं. वे देखने में तो खूबसूरत थे ही, उन की बातें भी बहुत खूबसूरत होती थीं. यों भी मोहित से पहले सारिका के मन में किसी और का खयाल नहीं आया था, इसलिए जल्दी ही मोहित के प्यार में रचबस कर वह खुद को दुनिया की सब से सुखी पत्नी समझने लगी थी.
घर में ज्यादा काम तो था नहीं. सफाई, बरतन, कपड़ों का काम नौकरानी ही कर जाती थी. मोहित ने तो कहा था कि खाना बनाने वाली भी रख लो, तुम्हें कोई काम करने की जरूरत नहीं, पर सारिका ने रसोई का काम खुद ही संभाल लिया था. मोहित का ध्यान रखना उसे अच्छा लगता था. इस से उस का समय भी आसानी से गुजर जाता, वरना घर में और था ही कौन?
मोहित के मातापिता में जल्दी ही अलगाव हो गया था. उस की मां उसे बचपन में ही पिता के हवाले कर कर किसी पूर्व प्रेमी के साथ चली गई थीं. फिर मोहित की देखभाल नौकरों के हवाले कर दी गई. पत्नी की बेवफाई के दुख ने उस के पिता को नशे का आदी बना दिया, जिस के चलते वे बहुत ही कम समय में दुनिया से चल बसे थे. पर सारिका जानती थी कि मोहित की परवरिश सही तरीके से न होने का प्रभाव उस की जिंदगी में उथलपुथल मचा देगा.
एक बार मोहित के रिश्ते की बहन मिलने आईं, तो सारिका को बहुत अच्छा लगा था. उस ने जोर डाल कर उन्हें रात के खाने तक रोक लिया था. दीदी की 12 साल की बेटी बहुत चुलबुली थी. सारे घर में चहकती फिर रही थी. घर में रौनक सी हो गई थी. मोहित भी दीदी से बातों में व्यस्त थे. फिर दीदी सारिका के पास रसोई में आ गईं और बेटी स्वीटी के कहने पर मोहित उसे छत पर ले गए. उन की हंसी की आवाजें रसोई तक आ रही थीं. कुछ देर बाद सारिका उन्हें बुलाने सीढि़यों पर चढ़ी तो देखा मोहित स्वीटी की कमर में हाथ डाले उस से सट कर खड़े थे. स्वीटी इधरउधर हाथ से इशारा कर के अपनी बात कहने में लगी थी, पर मोहित की आंखें भूखे भेडि़ए की तरह उसे देख रही थीं.
सारिका का दिल धड़क सा उठा. उस ने एकदम से स्वीटी को आवाज दी, तो मोहित ने अचकचा कर उसे एकदम छोड़ दिया. उस 12 साल की कमसिन लड़की को समझ ही नहीं आया कि उस के अंकल को अचानक क्या हुआ.

‘‘तुम्हें दीदी बुला रही हैं,’’ कह कर सारिका ने एक नजर मोहित पर डाली. वे कुछ घबराए से थे, जैसे चोरी करते पकड़े गए हों.
पर खाने के समय सारिका ने ध्यान दिया कि मोहित सामान्य ढंग से ही बात कर रहे थे, जबकि स्वीटी अंकलअंकल कहती उन के आगेपीछे घूम रही थी. मोहित के चेहरे पर कोई भाव नहीं था. सारिका को अपनी सोच पर शर्मिंदगी सी होने लगी थी.
धीरेधीरे मोहित की बातों का जादू सारिका के पूरे परिवार पर चल गया. शब्दों की मिठास और अपनेपन से हर कोई उन से प्रभावित हो उठता. मां तो मोहित पर निछावर थीं. उन्हें लगता था कि उन का दामाद नखरों और अकड़ से दूर बेटे जैसा है और सारिका की बहन निहारिका तो उन के आगेपीछे ही घूमती रहती. मोहित निहारिका के लिए आइसक्रीम, चौकलेट, बर्गर जैसी ढेरों चीजें ले जाते तो वह खिल उठती. दोनों जीजासाली की खूब छेड़छाड़ चलती. सारिका खुश थी कि मोहित उस के परिवार को अपना मानते हैं और खूब घुलमिल गए हैं.
पर कुछ ही समय बीता था कि मोहित की सचाई सारिका के सामने खुलने लगी. वे जबान से जितने मीठे थे, उन की सोच उतनी ही जहरीली थी. औरत उन के लिए ऐसा खिलौना थी, जो मर्दों के खेलने के लिए बनाई गई थी. उन के दिल में रिश्तों की कोई इज्जत नहीं थी. उन की मां की लापरवाही के कारण उन के पिता के मुंह से निकले अपशब्दों ने इस रिश्ते की इज्जत भी खत्म कर दी थी. फिर उन की कोई बहन भी नहीं थी. नौकरों की संगत और आजाद माहौल ने उन की सोच को गलत दिशा दे दी थी.
एक बार किसी गर्भवती स्त्री को देख उन्होंने इतना भद्दा मजाक किया कि सारिका शर्म से गड़ गई. पर उस के बाद तो जैसे मोहित की सारी झिझक खत्म हो गई. वे राह चलती लड़कियों व फिल्मी हीरोइनों पर ऐसीऐसी बातें कहते कि सारिका का खून खौल उठता, उस की नाराजगी देख कर वे बात को मजाक में टाल देते. मोहित को देख कर कोई भी यह अंदाजा नहीं लगा सकता था कि ऊपर से इतना शानदार व्यक्तित्व रखने वाला इंसान अंदर से इतनी घटिया सोच रखने वाला है. लेकिन सारिका जानती थी कि औरतों से बाहरी तौर पर बहुत सलीके से बात करने वाला यह इंसान जब सारिका से बात करने वाली महिलाओं को छिपछिप कर घूरता है, तो उस की निगाहों में क्या होता है.
वह नहीं चाहती कि ऐसी अप्रिय स्थिति कभी भूले से भी किसी के सामने आए. इसीलिए वह महल्लेपड़ोस की औरतों से ज्यादा मतलब नहीं रखना चाहती थी. न खुद किसी के घर जाती थी, न किसी का आना पसंद करती थी और लोग उसे शक्की, घमंडी व बदमिजाज कहने लगे थे.
सारिका मन से तो उदास रहती ही पर कुछ दिनों से उस का तन भी शिथिल सा होने लगा था. आखिर एक दिन चक्कर खा कर गिर ही गई, तो मोहित उसे डाक्टर के पास ले गए. चैकअप के बाद डाक्टर ने खुशखबरी होने की बधाई दी तो मोहित खुश हो गए और उस के नाजनखरे उठाने लगे. यह मत करो, वह मत करना, वजन मत उठाना जैसी ढेरों बातें. कभीकभी सारिका झुंझला भी जाती पर मोहित उस का जरूरत से ज्यादा ही खयाल रखते. लेकिन सारिका के मन में मोहित के लिए जहर भरता जा रहा था, क्योंकि मोहित ने उसे अपने दोस्तों के सामने आने से मना कर रखा था. उन के हिसाब से उन के दोस्त ऐसी स्त्रियों का मजाक बनाते हैं. दूसरों की पत्नियों को ऐसी गंदी नजर से देखने वाले को अब अपनी पत्नी की चिंता सताने लगी थी. पतिपत्नी के रिश्ते का कितना घिनौना रूप था उन के मन में. सारिका का मन कसैला हो उठता था.
पर धीरेधीरे सारिका की तबीयत ज्यादा खराब रहने लगी, तो मोहित ने निहारिका को घर के कामों में मदद के लिए बुला लिया. निहारिका चंचल लड़की थी. घर आते ही उस ने सारे काम संभाल लिए.
सारिका और मोहित दोनों के काम वह पूरे मन से करती थी. उस के आने से सारिका कुछ निश्चिंत सी हो गई थी. निहारिका अकेले में डरती थी इसलिए वह सारिका के पास ही सोती थी. काम कर के थक कर वह ऐसी बेसुध हो कर सोती कि उसे अपना ही होश नहीं रहता था कि उस के कपड़े कैसे अस्तव्यस्त हो रहे हैं. सारिका ही उस की चादर ठीक करती रहती.
मोहित बराबर वाले कमरे में सोते थे पर बाहर निकलने का रास्ता सारिका के कमरे में से ही था, इसलिए सारिका निहारिका का विशेष ध्यान रखती थी.
एक दिन मोहित किसी दोस्त के साथ घर आए और सारिका से बोले, ‘‘निहारिका से कहो चायनाश्ता ले आए. मेरा दोस्त आया है और हां, तुम मत आना.’’
सारिका निहारिका को बुलाने गई, तो देखा वह गहरी नींद में सो रही थी. उसे देख सारिका का स्नेह उमड़ आया. उस ने निहारिका को उठाने का इरादा छोड़ दिया और उसे धीरे से चूम कर रसोई में आ कर चाय बनाने लगी. चाय की ट्रे ले कर वह ड्राइंगरूम का दरवाजा खटखटाने जा ही रही थी कि अंदर से आती आवाज को सुन कर उस के हाथ थम गए.
‘‘हां, साली आई हुई है. इतनी खूबसूरत है कि मैं तो मदहोश होने लगता हूं. कभीकभी इतने करीब होती है कि सांसें रुकने लगती हैं. कयामत है यार वह भी.’’
सारिका के हाथ कांप गए, उस के कानों में धमाके होने लगे. यह आवाज तो वह लाखों में पहचान सकती थी. यह आवाज निहारिका के प्यारे जीजू की थी, जो उन्हें अपने बड़े भाई की तरह मानती थी और मोहित भी उसे बच्ची, गुडि़या कह कर बात करते थे. मोहित की स्त्रीजाति के प्रति घटिया सोच को सारिका समझती थी, लेकिन उस ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि अपनों के प्रति भी वे ऐसी ही सोच रखते हैं. यह उन की घटिया सोच का हद से गुजरना था.
‘‘क्या वह सच में बहुत हसीन है?’’ दोस्त पूछ रहा था.
‘‘हां, कच्ची कली है,’’ मोहित आह भर रहा था.
‘‘वाह यार, सामने अप्सरा है और तू तरस रहा है,’’ दोस्त बेहूदगी से हंस रहा था.
‘‘नहीं यार, मैं ऐसा कुछ नहीं कर सकता. वैसे भी वह अभी बहुत छोटी है,’’ मोहित जैसे अपनी मजबूरी पर दुखी था.
सारिका के तनमन में जैसे अंगारे सुलग उठे थे. भ्रम के सारे शीशे चूरचूर हो गए थे. वह अपने बैडरूम में आ कर पलंग पर ढह गई. उस की नजर सोती हुई मासूम बहन पर पड़ी, जो शायद सपने में भी रिश्तों के सुनहरे फ्रेम में कैद उस शैतान की असली सूरत कभी नहीं देख सकती थी. सारिका की आंखों से झरझर आंसू बह रहे थे. शर्मिंदगी से सिर झुका था और वे सारी शर्मनाक बातें उस के दिमाग पर हथौड़े की तरह चोट कर रही थीं. उसे अपना होश नहीं रहा.
‘‘क्या हुआ, क्या हुआ? आंखें खोलो,’’ मोहित उस का कंधा पकड़े हुए थे. सारिका ने आंखें खोलीं तो मोहित को देख कर उसे लगा जैसे उस के सामने भेडि़या अपनी लाल जबान बाहर निकाले लार टपकाते हुए खड़ा है. उस के मुंह से जोर की चीख निकली और फिर वह बेहोश हो गई. न जाने कितनी देर में उसे होश आया. निहारिका उस के पास ही बैठी थी. उस की आंखों में आंसू भरे थे. सारिका ने मुश्किल से खुद को संभाला. उस का सिर अभी भी दर्द से फटा जा रहा था.
‘‘दीदी, क्या हुआ आप को? डाक्टर कह रहे थे कोई गहरा सदमा पहुंचा है आप को?’’ निहारिका परेशानी से पूछ रही थी.
सारिका ने प्यार से उस का हाथ थाम लिया. उस की आंखों से फिर आंसू बहने लगे थे. उस के कारण ही उस की प्यारी छोटी बहन घर के भेडि़ए का निशाना बनी थी. सारिका को रोता देख निहारिका भी उस के कंधे से लग कर रोने लगी. तभी मोहित अंदर आ गए और निहारिका को कंधे से पकड़ कर उठाते हुए पूछने लगे, ‘‘क्या हुआ बच्चे?’’
तभी सारिका ने नफरत के साथ मोहित के हाथ झटक दिए और जलती आंखों से मोहित को देखा. वह उसे उस हिंसक जानवर की तरह लग रहा था, जो अपने शिकार की तरफ घात लगाए बैठा रहता है और अवसर मिलते ही वार कर के अपनी भूख मिटा लेता है. सारिका के इस व्यवहार से मोहित सिर झुकाए बाहर निकल गए और निहारिका हैरानी से सारिका से पूछने लगी, ‘‘दीदी, क्या हो गया? आप ने ऐसा क्यों किया?’’
सारिका शून्य में देख कर बोली, ‘‘शुक्र करो अभी कुछ नहीं हुआ. बस अपना सामान समेट लो, तुम्हें वापस घर जाना है.’’
‘‘पर दीदी, अभी तो आप की तबीयत भी ठीक नहीं है. क्या मुझ से कोई गलती हो गई है?’’ निहारिका ने इतने भोलेपन से पूछा कि सारिका मन ही मन रो उठी. ‘गलती तुम से नहीं मुझ से हुई है, जो एक शैतान को इंसान समझ बैठी.’ पर प्रत्यक्ष में बोली, ‘‘अब मुझे तुम्हारी नहीं किसी बड़े की जरूरत है. अगर कल फिर मेरी तबीयत खराब हो गई तो तुम कैसे संभालोगी?’’ एक बेजान सी मुसकराहट लिए सारिका ने बहन को समझाना चाहा.
‘‘दीदी, आज तो जीजू मुझे घुमाने ले जाएंगे और आइसक्रीम भी खिलाने का प्रोग्राम है,’’ निहारिका बच्चों की तरह ठुनक रही थी.
‘‘नहीं, आज ही चलना है,’’ सारिका सख्ती से बोली और सामान समेटने लगी. फिर पहली बार वह मोहित को बिना बताए मायके आ गई.
उस के आने से सब खुश थे पर अकेले आने के कारण कुछ चिंतित भी. फिर भी सारिका की चुप्पी को बीमारी का कारण जान कर कोई कुछ नहीं बोला.
रात में, अपने कमरे में पहुंचते ही उस के सब्र का बांध फिर से टूट गया. मोहित की बातें उस के मनमस्तिष्क में तूफान उठा रही थीं. यह ऐसा दुख था जिसे वह आसानी से किसी से कह भी नहीं सकती थी. खुद से ही लड़तेलड़ते न जाने कब उस की आंख लग गई पता ही नहीं चला. सुबह उठी तो उस का चेहरा उतरा हुआ था और आंखें सूजी हुई थीं.
मां की अनुभवी आंखें बहुत कुछ समझ रही थीं. उन्होंने सारिका से जानने की कोशिश भी की पर उस ने तबीयत का बहाना बना कर बात टाल दी, तो मां ने फिर कहा, ‘‘बेटा, मोहित आए हैं. बहुत परेशान हैं. तुम उन से कह कर भी नहीं आईं.’’
सारिका का पूरा अस्तित्व जैसे नफरत से भर गया, ‘‘क्या जरूरी है हर सांस उन की मरजी से ली जाए?’’
मां ने गौर से सारिका के चेहरे को देखा, ‘‘मुझे लग रहा है बेटा जैसे कुछ ठीक नहीं है. तुम कुछ अपसैट सी हो. क्या बात है मुझे बताओ?’’
सारिका सिर झुकाए बैठी रही. मां का अपनापन उस की चुप्पी तोड़ने को तैयार था.
‘‘बेटा, अगर मोहित से कुछ नाराजगी है, तो मिलबैठ कर गिलेशिकवे दूर कर लो. मियांबीवी में खटपट तो हो ही जाती है. ऐसे में मायके आ बैठना ठीक नहीं है.’’
‘‘तो क्या मैं कुछ दिन भी मायके में नहीं रह सकती?’’ सारिका की आवाज में तीखापन आ गया था.
‘‘क्यों नहीं रह सकतीं. यह भी तुम्हारा घर है. चाहे जब आओ, पर ऐसे झगड़ा कर के रूठ कर नहीं, राजीखुशी से,’’ मां प्यार से समझा रही थीं.
उन के ममता भरे स्पर्श से सारिका रोने को हो आई, ‘‘नहीं मां, बस मन एकदम से उचट गया. अकेले दिल घबराता है. मोहित बाहर रहते हैं और मेरा अकसर ब्लडप्रैशर लो हो जाता है, जैसे अभी हो गया था. अगर फिर से ऐसा ही हो गया तो मुझे कौन संभालेगा? बस इसीलिए ही. आप पूछ लो मोहित से, हमारा कोई झगड़ा नहीं हुआ?’’ सारिका मां के सीने से लग कर रो दी थी. अब हलकापन महसूस कर रही थी.
‘‘ओहो, इतनी सी बात है. कोई बात नहीं, पहली बार है न इसलिए ऐसा कभीकभी हो जाता है. तुम चिंता न करो, मैं मोहित से बात कर लूंगी. चलो, अब फ्रैश हो कर बाहर आ जाओ.’’
मोहित अकसर उस से मिलने आते थे. लेकिन सारिका दिल की नफरत और चेहरे की उदासीनता को कम नहीं कर पाती थी.
‘‘ओह दीदी, कितनी प्यारी गुडि़या है,’’ प्रसव के बाद जब निहारिका की चहकती आवाज उस के कानों में पड़ी तो उस के अंदर संतोष सा उतर आया. थोड़ी देर बाद वह मासूम आंखें बंद किए उस की बांहों में थी. तभी मोहित ने भी अंदर आ कर मम्मीपापा के पैर छुए तो सारिका ने आंखें बंद कर लीं.
‘‘लीजिए अपनी प्यारी गुडि़या को,’’ निहारिका ने गुडि़या को मोहित की ओर बढ़ाया तो उन्होंने झिझक कर मम्मीपापा को देखा. वे मुसकरा कर बाहर चले गए.
‘‘अब आप हमें नया सूट दिलवाएंगे और आइसक्रीम भी खिलाएंगे,’’ निहारिका मोहित के बहुत करीब खड़ी फरमाइश कर रही थी.
यह देख सारिका के तनबदन में आग लग गई. वह जोर से बोल पड़ी, ‘‘निहारिका, इतनी बड़ी हो गई है तू, अक्ल नाम की चीज नहीं है. दूर हट कर तमीज से बात कर.’’
‘‘तुम्हें क्या हो गया है?’’ मोहित ने धीमे से पूछा.
‘‘जाओ बस, मुझे आराम करना है,’’ रूखाई से कह कर सारिका ने आंखें बंद कर लीं, तो मोहित कुछ पल उसे देखते रहे फिर होंठ भींच कर बाहर निकल आए.
अस्पताल से सारिका मां के घर आ गई थी. 1 महीने बाद जब वह अपने घर वापस गई, तो उस के बदन में खून की जगह नफरत का जहर भर चुका था. अब वह अपने जहर भरे शब्दों का प्रयोग बिना हिचक करती थी. मोहित उस की हालत से दुखी थे. उस को बहुत प्यार करते थे, हर जरूरत का खयाल रखते थे पर सारिका उस दिल का क्या करती जिस में मोहित के लिए कोई नर्म कोना नहीं बचा था. वह उस इंसान को, जो उस का पति था सिर्फ अपनी बेटी की खातिर बरदाश्त कर रही थी.
अब मोहित किसी से बात करते तो वह मोहित को कुछ नहीं कहती थी, लेकिन उस औरत को जरूर तीखी बातें सुना देती थी. लड़कियां मोहित की लच्छेदार बातों से प्रभावित हो कर चहकतीं, तो सारिका की तीखी नजरें उन्हें ऐसा एहसास दिलातीं कि वे उस से दोबारा बात करने की हिम्मत न करतीं.
मोहित को वह अपनी चुप्पी से मारती थी. मोहित धीरेधीरे गुमसुम हो रहे थे और वह लड़ाका के रूप में मशहूर हो रही थी. इसी कारण मोहित ने लड़कियों, महिलाओं से घुलनामिलना बंद कर दिया था. पर सारिका जानती थी कि बीमार मस्तिष्क वाला इंसान इतनी आसानी से नहीं सुधर सकता. उसे समय चाहिए.
आज इन लड़कियों की बातें सुन कर उस के जख्म फिर से हरे हो गए थे. पर कोई नहीं जानता था कि शोख हंसतीखिलखिलाती सारिका में यह बदलाव क्यों आया था.
सारिका ने बच्ची का नाम किरण रखा था. उसे यकीन था कि उस की बेटी उस की अंधेरी जिंदगी में उजाले की किरण बन कर आएगी, जो मोहित की काली सोच के अंधेरे को भी मिटाएगी. मोहित को एहसास दिलाएगी कि लड़कियां सिर्फ मन बहलाने का सामान नहीं होतीं. उन्हें एहसास होगा कि वे भी एक बेटी के पिता हैं, जिसे पुरुष खिलौना समझते हैं. जिन लड़कियों की नादानी और मासूमियत का मोहित ने फायदा उठाया वे भी किसी की बेटियां हैं. फिर शायद वे रिश्तों की, स्त्रीजाति की इज्जत करना सीख जाएंगे.
बेटी का अस्तित्व उन्हें उजली राह दिखाएगा, जिस से सारिका के मन की कड़वाहट भी घुल जाएगी. सारिका को पूरी उम्मीद थी कि एक दिन ऐसा अवश्य होगा.


(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &;
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

छिपा भेड़िया

Sponsor

Sponsor
 

Post Reply