हीरों का फरेब कॉम्प्लीट हिन्दी नॉवल

Jemsbond
Super member
Posts: 4047
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: हीरों का फरेब

Post by Jemsbond » 02 Dec 2015 10:02

Imran ne ujaale me pahuch kar cigret ka packet kholaa. Lekin wo khaali tha. Haan......usay andar ek be sar pair ki likhawat dikhaayi di.

"Surkh (red) zulfon ki chhaaon me surkh gardan hi munaasib rahegi......"

To ye kisi prakar ka sandesh tha. Imran ne socha. Aur phir us lambi naak waale ki taraf aakrisht ho gaya jo ab budhe ke sath recreation hall se nikal raha tha. Un ke pichhe Safdar bhi dikhaayi diya.

Phir wo thik wahin pahuch kar ruke jahaan Imran lambi naak waale se takraaya tha.

Usne un donon ki baaten bhi suni......aur anumaan laga liya ki budha is ghatna ko jaan jaane ke baad kisi had tak nervous ho gaya hai.

Phir jab budhe ne lambi naak waale ko uske cottage hi tak seemit rahne ka aadesh diyaa tab Imran ne socha ki ab budhe par khud hi nazar rakhni chaahiye.

Dusri taraf safdar cottage ki oat me chhupa hua kadmon ki aahat se dishaa tai karne ki koshish kar raha tha. Achanak usne Imran ki bharraayi huyi aawaz suni "Ab tum apne cottage me waapas jaao...."

Lekin is se pahle ki Safdar kuchh kahtaa.......Imran tezi se age badh gaya.

Ab wo khud hi budhe ka pichha kar raha tha.

Budha apne cottage ki taraf jaane ke bajaaye taxi-stand ki taraf aaya. Us samay Imran uske nikat hi tha lekin bhalaa pahchaana kaise jaa sakta tha.....jabki uski naak ki banawat bilkul badal gayi thi.......aur ghani muchhon ne nichle hont ka bhi kuchh bhaag chhipaa liyaa tha.

"Sardargadh....." Budhe ne ek taxi me baithte huye driver se kaha aur taxi harkat me aa gayi.

Kareeb hi ki dusri taxi Imran ke kaam aayi.

"Us taxi ke pichhe lage raho.....double kiraaya....." Usne driver ko nirdesh diyaa.

********

Budhe ne Sardargadh ki seema me prawesh karte hi ek public tel booth ke nikat taxi rukwaayi aur utar kar booth me chala gaya.

Yahaan kisi ke number dial kiye aur mouth piece me bolaa...."Hello....Mona.....dekho main 28 bol raha hun. Rendal me turant pahucho....main wahin milungaa....."

Wo phone dc karke booth se baahar aaya aur taxi me baith gaya.

Ab taxi Sardargadh ki sab se adhik raunak waali sadak par daud rahi thi. Kuchh der baad ek aisi imaarat ke compound me prawesh ki jis ke sign board par Rendal likha hua tha.

Rendal Sardargadh ke behtareen Night clubs me se tha. Teen baje se pahle yahaan ki raunak aur gahmaa gahmi dekne layak hoti thi. Lekin ye kewal unche warg ke logon keliye thi.

Budha taxi se utar kar hall me aaya. Kuchh waiters ne uska welcome is dhang se kiya jaise wo wahaan ka permanent member ho. Usne ek aisi mez ka chunaav kiya jiske aas paas ki mezen bhi khaali thin. Das minut se adhik intezaar nahin karna pada. Surkh baalon waali ladki teer ki tarah mez ki taraf aayi.

"Koi khaas baat?" usne baithte huye puchha.

"Bahut hi khaas...." Budhe ne uski taraf dekhe binaa uttar diya. Lekin ladki usay ghoorti rahi. Kuchh pal khamoshi rahi. Phir budhe ne kaha...."Kis gadhe ne tum se kaha tha ki tum kisi aise aadmi ko uljhaane ki koshish karo jo khud hi police ko sab kuchh bataa baithe...."

"Kyaa matlab?"

"Scheme ye thi ki ham us tak police ko raah dikhaate aur tab wo bayaan detaa...."

"Magar ye hua kaise?"

"Pahle usne sab kuchh bak diyaa tha. Phir tumhaari talash me niklaa tha. Aur tum se ye galti huyi thi ki tum ne garrage me mere cottage ka nuber likhwaa diya tha."

"Tumhaare cottage ka number....! Nahin to.....maine 111 likhwaaya tha."

"Stupidddd......110 tha tumhare cottage ka number....."

"Ohh.....tab to.....really....." Ladki ne kuchh sochte huye kaha. Phir chaunk kar boli...."Kya police ne check kiya tha?"

"Nahin wahi talash karta hua pahucha tha...."

"Aur police ko bayaan dene wo khud hi daudaa gaya tha?"

"Nahin......police Metro ke manager se puchh rahi thi. Ye apni taang adaa baitha......aur khaamakhaa bol pada." budhe ne puri ghatnaa duhraaya aur ladki hans padi. Phir kuchh der baad gambhirta se boli...."Main nahin jaanti thi ki wo itna adhik murkh saabit hogaa. Bas sanyog se ek aisa aadmi mil gaya tha jis ki talash thi. Maine socha chalo....chalegaa....magar...tum us par apna jaal mazboot kar sakte the agar wo tumhaare paas pahuch gaya tha."

"Hunhh.....kya tum samajhti ho ki maine aisa nahin kiyaa hogaa?"

"Phir ab kya samassya hai?"

"Wo gayab ho gaya.......halaaki SP ne usay nirdesh diya tha ki police ko suchna diye binaa camp na chhode."

"Ohh.....to isme pareshani ki kyaa baat hai. Ab to police har haal me uske pichhe padegi...."

"Hmmm...." budha kuchh sochta hua bolaa..."Dekhaa jaayega.....chalo utho....ab dusri scheme hai."

"Ab kahaan chalna hai?"

"Aaj dusri jagah meeting hogi...."

Wo donon uth gaye. Budhe ne is baar taxi nahin li. Halaaki compound ke baahar kayi khali taxiyaan maujood thin. Wo ek taraf paidal hi chal pade.

Sardargadh ki shahri aabadi ka phailaao bahut adhik nahin tha. Jaldi hi wo sunsaan aur andhere pahaadiyon ke bich nazar aaye. Budhe ne torch jalaa li thi.

"Kahaan jaana hai bhai..." Ladki minminaayi.

"Bas pahuch gaye...."

Torch ki raushni ek chhoti si imaarat par padi.

"Ohho...." Ladki ke swar me hairat thi...."Main to yahaan pahle kabhi nahin aayi."

"Na aayi hogi...." Budhe ne laparwaahi se kaha. "Bahut si jagah ke baare me sab nahin jaante...."

Darwaaza locked tha. Budhe ne jeb se kunjiyon ka guchha nikaala......ek kunji chun kar lock khola aur phir darwaaza halki charcharaahat ke sath khulaa. Aisa lag raha tha jaise bahut dinon se nahin khulaa ho.

"Ohh.....to ham sab se pahle pahuche hain...." ladki barbadaayi...."Dusre log kab aayenge?"

"Aa hi jaayenge...."

Achanak ladki uchhal kar pichhe hat gayi.

"Kya baat hai?" budha uski taraf mudaa.

"Main bhitar nahin jaaungi...."

"Kyon....?" Awaaz me halki gurrahat thi.

"Tum mujhe yahaan kyon laaye ho?"

"Chalo...." budhe ne uska hath pakad kar khichte huye kaha.

"Nahin jaaungi...." Ladki galaa phaad kar cheekhi.

Lekin budha usay kisi bakri ke bachche ki tarah ghaseet'ta hua andar le jaa raha tha. Na usne torch jalaayi thi aur na darwaaza band karne keliye rukaa tha.

Ek jagah usne torch jalaayi aur ruk gaya. Ye ek kaafi bada sa kamra tha. Ladki ab bhi hath chhudaa lene keliye zor laga rahi thi.

Achanak budha hans pada.

"Stupid.....tum bilkul nanhi....munni bachchi ho. Mujhe aise mazaak bahut pasand hain.....jo achanak dusron ko bokhlaa den. Tum sach much dar gayin."

Budha hanstaa raha aur ladki barbadaati rahi. Budhe ne usla hath chhod diya tha.

"Achha.....ab zara wo karocene lamp jalaa do. Main dusron ke liye signal laga aaun....yahaan se signal mile binaa wo yahaan nahin aayenge."

Budhe ne salaai ki dibiyaa nikaal kar uski taraf badhaa di.

"Main is tarah ka mazaak pasand nahin karti...." Ladki ne krodh bhare dhang se kaha aur kerocene lamp jalaane keliye age badhi.

Budha tab tak torch jalaaye raha jab tak ki wahaan kerocene lamp ki peeli raushni nahin phail gayi. Phir wo darwaaze se nikal gaya.

Ladki wahin khadi rahi. Uski aankhon me uljhan ke bhaav the. Phir shyad wo darwaaza band hone ki hi aawaz thi jise sun kar wo uchhal padi. Ek pal keliye uske chehre par bhay ki parchhaayi si dikhaayi di.

Budha shayad waapas aa raha tha. Wo kadmon ki aawaz sun rahi thi. Uski mutthiyaan na jaane kyon kathortaa se band hoti chali gayin.

Wo kamre me prawesh kiya. Ladki ne jhurjhuri si li.

"Baalon ke baare me tumhen kya nirdesh mile the?" budha gurraaya.

"Maine zaroori nahin samjha ki unhen bigaad lun...."

"Hunn.....lekin ye bahut aawashyak tha. Surkh baal yahaan aam nahin hote. Agar ye kuchh samay ke liye rang kar kaale kar liye jaate to kathinaaiyaan paida na hotin."

"Kon si kathinaaiyaan paida huyi hain?" Ladki ka swar vyang bhara tha.

"Surkh baal common nahin hain.....kaala gulaam common nahin hai......aur mere vichar se wo murkh bhi asadharan hi tha."

"Main nahin samjhi ki tum kya kahna chaahte ho?" Ladki jhunjlaa gayi.

"Main ye kahna chaahta hun ki tum camp me bahut adhik dekhi gayi ho. Kuchh ligon ne tumhen us murkh ke sath bhi dekha tha. Murkh ke sath unhone do asadharan chizen dekhi thin......Surkh baal aur habshi(Kaala) gulaam. Police teenon ki khoj me hai. Tum se kaha gaya tha ki tum kisi aise aadmi ki chunaav karo jo jaldi apni taraf logon ka dhyaan aakarshit karne waala na ho. Lekin tummmm......"

Budha khamosh hokar usay ghoorne laga. Ladki bhi chup thi. Achanak ladki ki aankhon se khauf jhaankne laga. Kuchh bolna chaahi lekin hont thartharaa kar rah gaye.

"Iski zaroorat nahin ki tum safaayi prastut karo." Budha hath utha kar bolaa.

"Mujhe yahaan kyon laaye ho??" ladki paagalon ki tarah cheekhi.

"Bataata hun...." budhe ne jeb se ek chaaku nikaala.

"Kyaaaa??" Ladki ki aankhen bhay se phati ki phati rah gayin.

Chaku khulne ki kadkadaahat kamre me goonji......aur ladki nahin.....nahin....kah kar itni tezi se pichhe hati ki diwaar se jaa takraayi. Budha dhire dhire age badh raha tha. Aisa lag raha tha jaise wo ladki ki pareshani ka maza le raha ho.

"Nahinnn.....nahinnn.....pichhe hato...." Ladki ki cheekhen dil hilaa dene waali thin. Lekin wo usi tarah dhire dhire age badhta raha.

Phir achanak poori imaarat me ajeeb sa shor goonjne laga. Budha khushi se uchhal kar bolaa..."Wo maara....ab bataao...."

Wo ruk gaya tha. Ladki diwaar se tiki huyi haanf rahi thi. Uski bhaybheet nigaahen ab bhi budhe ke chehre par thin.

Imaarat me goonjne waala shor aisa hi tha jaise bahut se log ek dusre par pill pade hon.

"Ab bataao.....wo kon tha......aur tum kiske liye kaam kar rahi ho?" budhe ne chaaku ki nok jhukaate huye kaha.

"kk......kya matlab...?"

Budhe ki aankhen pahle se bhi adhik sholay barsaa rahi thin. Garaj kar bolaa....."Tum jhuti ho.....maine camp se tumhaare liye kisi ko sandesh bhejaa tha......jo No.18 ki jeb se udaa liyaa gaya. Mujhe dekhna tha ki wo kon hai.......isliye main khud hi chal pada. Tumhen yahaan laane ka ek maksad ye bhi tha ki usay pakdaa jaa sake. Usne camp se mera pichha shuru kiya tha aur ab......"

*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4047
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: हीरों का फरेब

Post by Jemsbond » 10 Jan 2016 15:03


बूढ़ा खामोश होकर मुस्कुराया फिर बोला...."क्या तुम शोर नहीं सुन रहीं. मेरे आदमियों ने उसे घेर लिया है...."

"पता नहीं तुम क्या कह रहे हो.....मैं कुच्छ नहीं जानती...."

"मरने से पहले तुम्हें संतुष्ट कर दिया जाएगा....कि तुम ग़लत नहीं मर रहीं...."

"क्या बक रहे हो तुम....?" लड़की फिर चीखी.

ठीक तभी चार आदमी कमरे मे घुसे उन्होने एक आदमी को पकड़ रखा था.

"म्म....मैं तुम्हारे लिए काम करती हूँ......तुम शायद पागल हो गये हो......."

"ओह्ह.....वेल्डन...." बूढ़े ने हंस कर कहा.

लड़की ने भी क़ैदी की तरफ देखा और आँखें फाड़ने लगी.

"हुन्न...." बूढ़े ने कहा...."पहचान रही हो ना?"

"मैं नहीं जानती ये कॉन है......कभी नहीं देखा...."

"फिर झूट...." बूढ़े ने कहा.....और क़ैदी की तरफ मुड़ा...."कॉन हो तुम?"

"बहुत कीमती गधा हूँ...." क़ैदी हांफता हुआ बोला.

"हुन्न.....बातों मे उड़ाने की कोशिश करोगे....अच्छा...." बूढ़ा चुप होकर उसे घूर्ने लगा. फिर अपने आदमियों से बोला...."गिरा कर गर्दन रेत दो...."

"ज़बाह करने से पहले पानी भी पिला दो......मैने कहा हां....याद दिला दूं तुम्हें..." क़ैदी बोला.

लड़की फिर उस फूली हुई नाक वाले को घूर्ने लगी......जिसकी मूच्छें भी उसे बहुत बुरी लग रही थीं. लेकिन याददाश्त पर लाख ज़ोर देने पर भी उसे नहीं याद आ सका कि पहले कभी उस से मिली हो.

बूढ़े के साथी उसे गिरा देने केलिए झाकोले देते रहे लेकिन सफल नहीं हुए.

फिर अचानक पता नहीं किस तरह....खुद उसने ही उन्हें चकरा कर रख दिया. और वो एक दूसरे से टकरा कर धपा धप्प फर्श पर गिरे. अचानक बूढ़े ने भी उस पर छलान्ग लगाई. चाकू का एक भरपूर वार. लेकिन दूसरे ही पल बूढ़ा भी चाकू समेत फर्श पर गिरा. फिर इस से पहले की क़ैदी पर दुबारा हमला होता.......उसने चाकू पर क़ब्ज़ा कर लिया. लेकिन उसे इतना मौका नहीं मिल सका कि उसे इस्तेमाल भी करता. चारों किसी दरिंदे की तरह उस पर झपटे थे.......और उसे हाथ उठाने का भी मौका नहीं मिल सका. उन्होने उसे फिर जाकड़ लिया. चाकू वाला हाथ मज़बूती से पकड़ा गया था. बूढ़े का चहरा अत्यंत भयानक लग रहा था. वो तेज़ी से क़ैदी की तरफ झपटा और चाकू वाले हाथ पर ज़ोर लगाने लगा. इस से पहले वो चारों भी बारी बारी से चाकू छीनने की कोशिश कर चुके थे.

"इंपॉसिबल...." क़ैदी ने ठहाका लगाया. "कोई मर्द आज तक मेरी मुट्ठी नहीं खोल सका. लड़की से कहो.....वही छीन सकेगी चाकू...."

"बूढ़े ने झल्ला कर उल्टा हाथ उसके चेहरे पर मारा. चोट आई हो या नहीं.....लेकिन क़ैदी घाटे मे रहा. उसकी फूली हुई नाक मुच्छों समेत उखड कर फर्श पर गिर पड़ी...और काई चकित आवाज़ें कमरे मे गूँजी.

"ओह्ह.....ये तो वही है....." बूढ़ा गला फाड़ कर दहाड़ा.

"अहमाक़.......!!!" लड़की चीखी.(अहमाक़=मूर्ख)

"खुदा तुम्हारा सत्यानाश करे.......तुम खुद अहमाक़.....अहमाक़ कहने वालों को मैने आज तक माफ़ नहीं किया...." अहमाक़ ने हांक लगाई. और फिर ऐसा लगा जैसे सभी रब्बर के बने हों. उच्छल उच्छल कर गिरते और चीखते. चाकू कहीं दूर जा पड़ा था और वो सब उस पर इस बुरी तरह उलझ गये थे कि किसी को होश नहीं था.

लड़की एक कोने मे सहमी हुई खड़ी इस हैरत भरे हंगामे को देख रही थी. फिर आख़िर उसे होश आ ही गया.......और वो धीरे धीरे दरवाज़े की तरफ खिसकने लगी.

बूढ़ा भी अपने आदमियों के हाथ बटा रहा था और अहमाक़ के हाथ खा रहा था.

लड़की बाहर तो निकल गयी थी लेकिन अब उस ने सोचा कि जिस के कारण बच निकलने मे सफल हुई है उसे खूनियों के घेरे मे छोड़ कर इस तरह भाग निकलना अच्छी बात तो नहीं.

फिर वो क्या करे. अगर दूसरी बार उनके चंगुल मे जा फाँसी तो बचने की कोई संभावना नहीं होगी.

लेकिन ये मूर्ख.................ये अहमाक़......!! इस समय एक अनहोनी उसकी निगाहों के सामने हुई थी. वो अहमाक़ अपनी जान बचाने की बजाने उन लोगों के पिछे लग गया था......जिन्होने उसके खिलाफ साज़िश की थी. अब उसके पिछे एक तरफ पोलीस थी और दूसरी तरफ ये लोग.

"लेकिन ये है कॉन? अंजाने मे वो उस से जा टकराई थी. कोई भी हो......उसे अपना रक्षक ही समझना चाहिए.....वारना इस समय वो बूढ़ा उसे कब ज़िंदा छोड़ता.

वो उस इमारत के समीप ही एक चट्टान की आड़ मे छुप गयी. चारों तरफ गहरा अंधेरा था. लेकिन यहाँ लड़ने वालों का शोर नहीं सुनाई दे रहा था. इमारत के बाहर कदम रखते ही वो लगातार बहुत मद्धिम होता गया था. हो सकता है इमारत की बनावट ही साउंड प्रूफ ढंग की रही हो. वैसे ये इमारत लड़की केलिए नयी ही थी. इस से पहले यहाँ आने का संयोग नहीं हुआ था.

वो उलझन मे पड़ी हुई थी. उसे क्या करना चाहिए ये आशंका भी थी भागने पर रास्ते मे किसी से मुठभेड़ ना हो जाए. बूढ़े ने मूर्ख नौजवान को फाँसने ही केलिए जाल बिच्छाया था. ये और बात है कि इस से पहले सोचा भी नहीं होगा कि इस बेढंगे मेक-अप मे वही मूर्ख होगा. तो फिर ज़रूरी नहीं की उसने केवल चार ही आदमियों से काम लिया होगा. हो सकता है कि कुच्छ लोग बाहर भी इधर उधर छिपे बैठे हों.

पहाड़ियाँ ऐसी थीं कि यहाँ पूरी फौज बहुत आसानी से छुप सकती थी.

अचानक उसने दौड़ते हुए कदमों की आवाज़ें सुनी.......और एक कोने मे दुबक गयी. फिर समीप ही उसे एक चिंघाड़ सुनाई दी....."ठहरो......ठहरो.....ये अपना चाकू तो लेते जाओ....नहीं तो आलू कैसे छीलोगे...."

ओह...माइ गॉड......"लड़की काँप उठी. ये आवाज़ उस मूर्ख के अलावा किसी की नहीं हो सकती थी.

फिर वो शायद उसी के करीब ही आकर रुक गया. भागते हुए कदमों की आवाज़ें धीरे धीरे सन्नाटे मे विलीन हो गयीं.

उसे विश्वास था कि अपने करीब जो धुन्दलि सी परछाई देख रही थी वो अहमाक़ ही की हो सकती थी. लेकिन फिर भी वो उसे आवाज़ देने की हिम्मत नहीं कर सकी.

लेकिन जैसे ही वो आगे बढ़ा अनायास उसके मूह से निकल पड़ा...."रूको...." साया ठिठका और फिर उसकी आवाज़ आई...."अब किस मुसीबत मे फन्साओगि?"

"ये राई दूँगी कि सर पर पैर रख कर भागो......वरना जल्दी ही कोई दूसरी आफ़त भी प्रकट हो सकती है."

साया भद्द से चट्टान पर बैठ गया.......और लड़की उसे अजीब अजीब किस्म की हरकतें करते देखती रही.

"क्या कर रहे हो?" उसने अंत-तह पुछा.

"नहीं बनता...." साए ने निराशा से कहा.

"क्या नहीं बनता?"

"सर पर पैर रख कर भागने की कोशिश कर रहा हूँ." साए ने कराहते हुए कहा.

"उठो......मूर्ख कहीं के.......!" लड़की ने झपट कर उसका हाथ पकड़ लिया. "उठो......पता नहीं यूँ क्या बला हो...."

वो उठ गया और फिर वो तेज़ी से ढलान मे उतरने लगे.

"कहाँ चलोगे.....?" लड़की ने पुछा.

"तुम्हें घर पहुचा कर रूई का मार्केट देखूँगा....सुना है दाम फिर चढ़ रहे हैं."

"क्या तुम ने सुना नहीं कि वो मुझे मार डालना चाहते थे."

"घर पर मरने से फ़ायदा है...........लाश आसानी से पोलीस के हाथ आ जाएगी."

"मुझे परेशान मत करो.....तुम्हारे लिए भी ख़तरा है. वो ज़रूर वापस आएँगे. मगर वो तुम्हें छोड़ कर भाग क्यों गये?"

"बस क्या बताउ....खफा हो गये. पुकारता ही रह गया. कह रहे थे कॉफी हाउस चलो.....मैने इनकार कर दिया....! तफरीह का मूड नहीं था."

"तुम कॉन हो?"

"तुम कॉन हो?"

"बताता हूँ......" परछाई ने कहा और अचानक झुक कर उसे कंधे पर उठा लिया.

"अर्रे.....अर्रे....." लड़की धीरे से मिन्मीनाई. लेकिन परच्छाई ने तेज़ी से दौड़ना शुरू कर दिया. अंधेरे मे इस तरह दौड़ना ख़तरे से खाली नहीं था लेकिन ऐसा लग रहा था जैसे रास्ता उसका अच्छी तरह देखा भाला हो.......फिर लड़की ने महसूस किया कि वो उसके कदमों की आवाज़ भी नहीं सुन रही.

वो बिल्कुल निश्चिंत सी उसके कंधों पर चुप चाप पड़ी रही. उसे इसकी चिंता भी नहीं थी कि वो उसे कहाँ ले जा रहा है.

वो चुप चाप दौड़ता रहा. कभी कभी रफ़्तार कम हो जाती थी और इस तरह बच बच कर चलने लगता था जैसे अंधेरे मे भी उबड़ खाबड़ रास्ते उसे भली भाँति दिखाई दे रहे हों.

कुच्छ देर बाद उसने टॉर्च जला ली.......और लड़की धीरे से बोली......"ये क्या कर रहे हो.....अगर उन्होने देख लिया तो?"

"चिंता मत करो...." मूर्ख एक गुफा मे प्रवेश कर रहा था.

थोड़ी दूर चलने के बाद मूर्ख ने उसे नीचे उतार दिया. टॉर्च की रौशनी मे काफ़ी विस्तृत जगह दिखाई दी. ज़मीन बराबर थी और एक तरफ थोड़ा सा सामान भी पड़ा हुआ दिखाई दिया.

"ओह्ह......तो तुम ने पोलीस की डर से यहीं पनाह ली है...."

मूर्ख ने कोई उत्तर नहीं दिया. दियासलाई खीच कर एक छोटा सा कारबाइड लॅंप जलाने लगा था.

"अब मैं थोड़ा अपनी टूट फूट को चेक कर लूँ....." मूर्ख ज़मीन पर बैठ कर अपना शरीर टटोलने लगा फिर कराह कर बोला....."कोई कोई निर्दयी इतने ज़ोर से मारते हैं कि......माइ गॉड...."

"मुझे इसी पर हैरत है कि तुम ज़िंदा कैसे बचे? वो सब बड़े ख़ूँख़ार लोग थे.....और वो शैतान.....मैने पहले कभी उसे उस रूप मे नहीं देखा."

"वो बूढ़ा?" मूर्ख ने पुछा.

"हां वही बूढ़ा.....ये सोचा भी नहीं जा सकता था की वो किसी पर जान लेवा हमला भी कर सकता है."

"हलाकी उस बेचारे अपाहिज को तुम सबों ने मिल कर मार डाला......"

"मैं कुच्छ भी नहीं जानती. ये तो मुझे आज के अख़बार से पता चला है कि वो मार डाला गया और वो अपाहिज नहीं था. मेक-अप मे था और उसने अपने मालिक के हीरे चुराए थे....."

"हो सकता है कि तुम उसके बारे मे कुच्छ नहीं जानती रही हो........लेकिन इतना तो जानती ही थीं कि वो मार डाला जाएगा और हत्या का आरोपी बनाने केलिए तुम्हें मुझ जैसे आदमी को फाँसना है....."


*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4047
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: हीरों का फरेब

Post by Jemsbond » 10 Jan 2016 15:04

"अर्रे....." लड़की हैरत से बोली....."तुम तो इस समय बुद्धिमानों जैसी बातें कर रहे हो....."

"पोलीस तो गधों को भी फ्रेंच बोलने पर मजबूर कर देती है...." मूर्ख ने ठंडी साँस ली....."तुम ने मुझे बड़ी मुसीबत मे फँसा दिया....."

"तुम खुद ही क्यों बोल पड़े थे.......बूढ़ा कह रहा था."

"हां........बस बोल ही पड़ा था.......सितारे अच्छे थे......ना बोलता तो तुम लोग किसी दूसरी तरह फसाने की कोशिश करते और मैं इस समय जैल मे होता.......क्यों?"

"स्कीम तो यही थी शायद......" लड़की मुस्कुराइ.

"और तुम इस पर खुश हो रही हो?" मूर्ख ने गुस्सा भरे ढंग से पुछा.

"मेरी समझ मे नहीं आता कि तुम्हें किस प्रकार संतुष्ट कर सकूँगी. मगर पहले तुम मुझे अपने बारे मे बताओ.....कि ये पागलपन नहीं है कि तुम अपने बचाव की चिंता करने की बजाए उन्हीं लोगों से आ भिड़े हो जो तुम्हें फसाना चाहते थे. तुम से बहुत बड़ी मूर्खता हुई है."

"अक्सर इस से भी बड़ी मूर्खता होती रहती है..............अच्छा तो तुम्हें विश्वास था कि मैं फाँसी का फँदा अपनी ही गर्दन मे डाल लूँगा?"

"वो बहुत चालाक हैं.....मैं तो कहती हूँ कि इस तरह भाग निकलने मे भी कोई चाल रही होगी. अब वो शायद ये देखना चाहते हैं कि तुम अकेले हो या तुम्हारे साथ भी कोई गिरोह है. तुम ने ये समझ कर बूढ़े का पिछा किया था कि वो अंजान है.......हलाकी वो ये देखना चाहता था कि उसकी ताक मे है कॉन..............आहा.....ज़रा बताओ तो वो संदेश क्या था जो तुम ने उसके किसी साथी की जेब से उड़ा लिया था?"

"संदेश नहीं शायरी........" वो ठंडी साँस लेकर बोला...."सुर्ख ज़ुल्फो की छाओ मे सुर्ख गर्दन ही मुनासिब रहेगी...."

"ओ माइ गॉड........" लड़की अचानक भयभीत दिखाई देने लगी. "उस संदेश का मतलब यही हो सकता है कि मुझे ज़बाह कर दिया जाए....."

"मगर वो संदेश था किस के लिए? वो आदमी उसे कहाँ ले जाता?"

"ये बताना कठिन है......" लड़की किसी सोच मे पड़ गयी.

मूर्ख उसे टटोलने वाली नज़रों से देख रहा था. लड़की खामोश रही. फिर मूर्ख ने पुछा.

"हीरे कहाँ हैं?"

"मैं नहीं जानती. ये मामला मेरी समझ मे ही नहीं आ सका. मुझ से केवल इतना ही कहा गया था कि मैं किसी को उसके कॉटेज तक ले जाउ. खुद भीतर जाउ.....फिर वापस आकर कहूँ कि मैं अपना काम कर चुकी हूँ....."

"तुम्हें अंदर जाकर क्या करना था?"

"कुच्छ भी नहीं......मुझ से तो कहा गया था कि वो उस समय कॉटेज मे होगा ही नहीं. मैं कुच्छ देर रुक कर वापस आ जाउ. ये सोच भी नहीं सकती थी कि वो इस तरह क़तल कर दिया जाएगा. आज का अख़बार देखने के बाद ही पूरी साज़िश मेरी समझ मे आ सकी है. परसों रात तूफान आ गया था. बूढ़ा ठीक उसी टाइम मेरे कॉटेज मे आया था जब मुझे वहाँ से चलना था. उसने कहा कि अब तूफान के कारण स्कीम दूसरी रात पर टाल दी गयी है. मैं अब सो जाउ. मैने खुदा का शूकर अदा किया कि अब इस तूफान मे बाहर नहीं निकलना पड़ेगा. चैन से सो गयी. लेकिन फिर एकदम सुबह सवेरे ही मुझे उठा दिया गया कि मैं सरदार गढ़ चली जाउ और उस समय तक दुबारा कॅंप का रुख़ ना करूँ जब तक कि ऐसा निर्देश ना मिले. सरदार गढ़ मे भी उनके कयि ठिकाने हैं."

"हुन्न्ं....." इमरान ने कुच्छ सोचते हुए सर हिलाया. फिर उसकी आँखों मे देखता हुआ बोला...."गोरो का सरगना कॉन है?"

"हो सकता है बूढ़ा ही सरगना हो.....क्योंकि वो जो काम भी हम से लेता है....उनके मकसद से अच्छी तरह परिचित होता है."

"क्या मतलब?"

"उन्ह.....समझने की कोशिश करो.....मतलब ये की वो हम से केवल काम लेता है. हम किसी काम के उद्देश्य से परिचित नहीं होते हैं. हमे तो उसकी हवा भी नहीं लगने दी जाती. अक्सर ऐसा होता है कि उन कामों के परिणाम से हम किसी हद तक मामले का अंदाज़ लगा लेते हैं. उदाहरण के तौर पर अपना केस ले लो. जब अपाहिज मर गया और अख़बारों मे उसके बारे मे खबरें आईं तब मुझे पता चल सका कि तुम्हें फाँसने का क्या मकसद था."

"क्या मकसद था....?"

"अर्रे.......यही कि अपाहिज की हत्या का आरोप तुम्हारे सर पर डाल दिया जाता."

"मगर कैसे?" इमरान ने झल्लाए हुए लहज़ा मे कहा....."अगर मैं अपना मूह बंद रखता...."

"तुम्हें बार बार मूर्ख कहते हुए भी उलझन होती है. तोड़ा खोपड़ी का इस्तेमाल करो. जब तुम उस मंज़िल से गुज़रे ही नहीं तो कैसे कह सकते हो कि उस समय परिस्थिति क्या होती. या कोई तुम्हें उसी समय वहीं देख लेता जब मैं कॉटेज मे घुसती और तुम बाहर मेरा इंतेज़ार कर रहे होते. फिर अगली सुबह क्या होता......जब उसकी लाश मिलती. मैं भी वहाँ से हटा दी जाती. फिर तुम रो रो कर कहते कि तुम्हें कोई लड़की वहाँ ले गयी थी. मगर किसे विश्वास होता? तुम्हारे सामने फाँसी का फँदा होता."

"अर्रे बाप रे...." इमरान उच्छल कर अपनी गर्दन सहलाने लगा और लड़की हंस पड़ी. फिर अचानक गंभीर होकर बोली...."फिर वो मुझे भी रास्ते से हटा देते क्योंकि मैं खुद को छुपा ना सकती.....केवल इस कारण पोलीस मेरी तलाश मे भी है कि मैं तुम्हारे साथ देखी गयी थी. इस तरह पोलीस तुम्हें पकड़ लेती और मुझे ना पा सकती. फिर वही होता जो अभी कह चुकी हूँ. लेकिन एक बात समझ मे नहीं आई."

वो चुप होकर कुच्छ सोचने लगी फिर बोली "डावर सच मच था कॉन?"

"ये भी तुम्हीं बता सकोगी...."

"मैं क्या जानू.....मैं जानना चाहती हूँ. वो साड़ी & सोंस का ट्रॅवेलिंग एजेंट था. लेकिन साड़ी वाले उसे अपाहिज के रूप मे नहीं जानते थे......और वास्तव मे अपाहिज था भी नहीं........फिर आख़िर वो दोहरी ज़िंदगी क्यों गुज़ार रहा था. अगर वो पहली बार उस रूप मे लोगों को मिला होता तो कहा जा सकता था कि चोरी के बाद पोलीस से बचने केलिए अपाहिज बना होगा."

"मेरी गर्दन काटने केलिए अपाहिज बना था." इमरान झल्ला कर बोला. "अभी ये मत सोचो कि वो अपाहिज क्यों था."

"फिर तुम ही बताओ कि क्या सोचूँ? मैं तो बड़ी मुसीबत मे फँस गयी हूँ...."

इमरान खामोश होकर कुच्छ सोचने लगा. फिर बोला..."क्या ये चोरों और हत्यारों का गिरोह है?"

"मैं आज तक नहीं समझ सकी कि ये किस प्रकार के लोगों का गिरोह है."

"मैं अपना पैदाइशी मूर्ख होना स्वीकार करता हूँ....फिर क्यों उल्लू बना रही हो?"

"विश्वास करो मैं नहीं जानती."

"क्या डावर की हत्या उन हीरों केलिए नहीं हुई थी?"

"हो सकता है कि यही बात रही हो.....काश तुम समझ सकते.....हम सब बुरी तरह फँस गये हैं. अब इस जाल से किसी तरह नहीं निकल सकते."

"मैं समझा नहीं.....तुम क्या कहना चाहती हो."

"तो सुनो........लंबी कहानी है. हम सब शांति प्रिय नागरिक थे. तुम जानते ही होगे कि इंसान ज़िंदगी की एकरूपता से उकता जाता है......और परिवर्तन केलिए क्या कुच्छ नहीं कर बैठता. ऐसे पल भी आते हैं जब गंभीरता की कल्पना से भी डर लगने लगता है. हम आठ दोस्तों ने एक क्लब बनाया था और खाली समय मे दिन भर की बोरियत दूर करने केलिए तरह तरह की हरकतें करते थे. अक्सर कोई अजनबी भी हमारी शरारतों का शिकार हो जाता था. लेकिन शरारातें ऐसी नहीं होतीं कि कोई बुरा मान जाता. वो अजनबी भी कुच्छ समय केलिए हमारी दिलचस्पीयों मे शामिल हो जाता. कहने का मतलब ये है कि हम कभी क़ानून की सीमा से बाहर कदम नहीं निकालते थे. क्लब की स्थापना का मकसद केवल मनोरंजन था.

एक दिन ये बूढ़ा पता नहीं कहाँ से आ फँसा. ये भी हमारी एक शरारत का शिकार हुआ था. फिर उसने हम से रिक्वेस्ट किया कि हम उसे भी क्लब का मेंबर बना लें. आदमी बहुत ज़िंदा-दिल साबित हुआ था. इसलिए हमें क्या आपत्ति हो सकती थी. कुच्छ दिनों बाद हम ने महसूस किया कि वो तो हम सबों से तेज़ है. नित नयी नयी शरारतों के प्रोग्राम बड़ी सफाई और बुद्धिमानी से बनाता. धीरे धीरे वो हम सबों पर छाता चला गया. और कुच्छ दिन बीतने पर हम सब महसूस करने लगे की शरारतों के बहाने हम सब से काई गैर क़ानूनी हरकतें भी हो चुकी हैं. हम मे से कोई भी ऐसा नहीं था जिसके हाथ अंजाने मे कभी ना कभी क़ानून को ना तोड़ा हो.......और बूढ़े के पास हमारे खिलाफ क्लियर प्रूफ थे. वो किसी भी समय हमारी गर्दने फँसा सकता था.

अब हम उसके इशारों पर नाचने लगे. क्लब एक ऐसे गिरोह मे बदल गया जिस का सरगना वो बूढ़ा था. अब हमे काम के बदले उस से पैसे भी मिलते हैं. लेकिन हम उसके जाल से किसी भी तरह नहीं निकल सकते. वो कहता है कि उसी समय तक सुरक्षित है जब तक उसके अधीन ज़िंदगी जीवन गुज़ारते रहें. उस से अलग होने की कोशिश ही हमें जैल का दरवाज़ा दिखा देगा. हम मजबूर हैं. जैल जाना कॉन पसंद करेगा?"

"अच्छा तो वो लोग जिन्होने मुझ पर हमला किया था तुम्हारे उसी क्लब के मेंबर थे?"

"बिल्कुल नहीं......वो तो बड़े ख़तरनाक लोग थे. पहले भी कयि बार उन्हें देख चुकी हूँ. पता नहीं और भी कितने लोग हैं जिन्हें मैं नहीं जानती. वो बूढ़े ही केलिए काम करते हैं. हम तो केवल दस हैं लेकिन हम से कभी धिन्गा-मुष्टि किस्म के काम नहीं लिए गये."

"क्या मुझ पर पहले ही से तुम लोगों की नज़र थी?"

"नहीं......तुम से रंडोंली मुलाकात हुई थी. राजधानी से कॅंप आते समय सच मुच गाड़ी खराब हो गयी थी. उस समय तो मुझे ये भी नहीं पता था कि मैं वहाँ क्यों बुलाई गयी हूँ? कॅंप मे पहुच कर बूढ़े की स्कीम मालूम हुई थी. मैने सोचा कि इस काम केलिए तुम जैसा अहमाक़ बहुत मुनासिब साबित होगा. लेकिन सच बताओ.....क्या तुम सच मच अहमाक़ हो?"

"अब अहमाक़ कहा तो थप्पड़ मार दूँगा." इमरान नथुने फूला कर बोला...."मैं अहमाक़ नहीं हूँ....."

इमरान थोड़ी देर खामोश रहा फिर नरम लहजे मे बोला...."बस अक्सर ये होता है कि मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो जाती है......समझ मे नहीं आता कि किस बात के जवाब मे क्या कहना या करना चाहिए.......ओके लीव इट......ये बताओ कि अब तुम ने अपने बारे मे क्या सोचा है?"

"अगर बुद्धि भ्रष्ट ना हो गयी हो तो तुम्हीं कुछ बताओ.....लेकिन....ये बताओ कि क्या तुम्हें पता था कि मैं इस समय उसी इमारत मे लाई जाउन्गि......ये गुफा वहाँ से अधिक दूर तो नहीं लग रहा."

"हम इस समय हॉलिडे कॅंप के निकट ही हैं. इमारत भी हॉलिडे कॅंप से अधिक दूर नहीं है. उसको चूँकि मुझे फाँसना था इसलिए उस ने इतने घुमाव फिराव वाला रास्ता चुना था."

"एनीवे.......अब वो लोग तुम्हारी तलाश मे होंगे......मैं फिर कहती हूँ कि उनके इस तरह निकल भागने मे भी कोई ना कोई चाल ज़रूर होगी."

"बूढ़े का नाम क्या है?"

"शातिर..........अजीब बेतुका नाम है. वो कहता है कि शायर हूँ और शातिर 'तखल्लुस' है. हम सब उसे शातिर ही के नाम से जानते हैं. चंदे की दलाली करता है."

"पर्मनेंट रेसिडेन्स कहाँ है."
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4047
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: हीरों का फरेब

Post by Jemsbond » 10 Jan 2016 15:04


Budha khamosh hokar muskuraaya phir bolaa...."Kya tum shor nahin sun rahin. Mere aadmiyon ne usay gher liyaa hai...."

"Pata nahin tum kyaa kah rahe ho.....main kuchh nahin jaanti...."

"Marne se pahle tumhen santusht kar diyaa jaayega....ki tum galat nahin mar rahin...."

"Kya bak rahe ho tum....?" Ladki phir cheekhi.

Thik tabhi chaar aadmi kamre me ghuse unhone ek aadmi ko pakad rakha tha.

"mm....main tumhaare liye kaam karti hun......tum shayad paagal ho gaye ho......."

"Ohh.....weldone...." budhe ne hans kar kaha.

Ladki ne bhi qaidi ki taraf dekha aur aankhen phaadne lagi.

"Hunn...." Budhe ne kaha...."Pahchaan rahi ho naa?"

"Main nahin jaanti ye kon hai......kabhi nahin dekha...."

"Phir jhoot...." budhe ne kaha.....aur qaidi ki taraf mudaa...."Kon ho tum?"

"Bahut keemti gadhaa hun...." Qaidi haanfta hua bolaa.

"Hunn.....baaton me udaane ki koshish karoge....achha...." budha chup hokar usay ghoorne laga. Phir apne aadmiyon se bolaa...."Giraa kar gardan ret do...."

"Zabah karne se pahle paani bhi pilaa do......maine kaha haan....yaad dilaa dun tumhen..." Qaidi bola.

Ladki phir us phooli huyi naak waale ko ghoorne lagi......jiski moochhen bhi usay bahut burii lag rahi thin. Lekin yaddaasht par lakh zor dene par bhi usay nahin yaad aa saka ki pahle kabhi us se mili ho.

Budhe ke sathi usay giraa dene keliye jhakole dete rahe lekin safal nahin huye.

Phir achanak pata nahin kis tarah....khud usne hi unhen chakraa kar rakh diyaa. Aur wo ek dusre se takraa kar dhapaa dhapp farsh par gire. Achanak budhe ne bhi us par chhalaang lagaayi. Chaaku ka ek bharpoor waar. Lekin dusre hi pal budha bhi chaku samet farsh par giraa. Phir is se pahle ki qaidi par dubaara hamlaa hota.......usne chaaku par qabzaa kar liyaa. Lekin usay itna maukaa nahin mil saka ki usay istemaal bhi kartaa. Chaaron kisi darinde ki tarah us par jhapte the.......aur usay hath uthaane ka bhi maukaa nahin mil saka. Unhone usay phir jakad liyaa. Chaaku waala hath mazbuti se pakdaa gaya tha. Budhe ka chahra atyant bhayanak lag raha tha. Wo tezi se qaidi ki taraf jhaptaa aur chaaku waale hath par zor lagaane laga. Is se pahle wo chaaron bhi baari baari se chaaku chheenne ki koshish kar chuke the.

"Impossible...." Qaidi ne thahaaka lagaaya. "Koi mard aaj tak meri mutthi nahin khol sakaa. Ladki se kaho.....wahi chheen sakegi chaaku...."

"Budhe ne jhallaa kar ultaa hath uske chehre par maara. Chot aayi ho nahin.....lekin qaidi ghaate me raha. Uski phooli huyi naak muchhon samet ukhad kar farsh par gir padi...aur kayi chakit aawazen kamren me goonji.

"Ohh.....ye to wahi hai....." budha galaa phaad kar dahaada.

"Ahmaq.......!!!" Ladki cheekhi.(Ahmaq=murkh)

"Khudaa tumhaara satyaanash kare.......tum khud ahmaq.....ahmaq kahne waalon ko maine aaj tak maaf nahin kiyaa...." Ahmaq ne haank lagaayi. Aur phir aisa laga jaise sabhi rubber ke bane hon. Uchhal uchhal kar girte aur cheekhte. Chaaku kahin door jaa pada tha aur wo sab us par is buri tarah ulajh gaye the ki kisi ko hosh nahin tha.

Ladki ek kone me sahmi huyi khadi iss hairat bhare hangaame ko dekh rahi thi. Phir aakhir usay hosh aa hi gaya.......aur wo dhire dhire darwaaze ki taraf khisakne lagi.

Budha bhi apne aadmiyon ke hath bata raha tha aur Ahmaq ke hath kha raha tha.

Ladki baahar to nikal gayi thi lekin ab us ne socha ki jis ke kaaran bach nikalne me safal huyi hai usay khooniyon ke ghere me chhod kar is tarah bhaag nikalnaa achhi baat to nahin.

Phir wo kyaa kare. Agar dusri baar unke changul me jaa phansi to bachne ki koi sambhaavana nahin hogi.

Lekin ye murkh.................Ye ahmaq......!! Is samay ek anhoni uski nigaahon ke saamne huyi thi. Wo ahmaq apni jaan bachaane ki bajaaye un logon ke pichhe lag gaya tha......jinhone uske khilaaf saazish ki thi. Ab uske pichhe ek taraf police thi aur dusri taraf ye log.

"Lekin ye hai kon? Anjaane me wo us se jaa takraayi thi. Koi bhi ho......usay apna rakshak hi samajhna chaahiye.....warana is samay wo budha usay kab zinda chhodta.

Wo us imaarat ke sameep hi ek chattaan ki aad me chhup gayi. Chaaron taraf gahra andhera tha. Lekin yahaan ladne waalon ka shor nahin sunaayi de raha tha. Imaarat ke baahar kadam rakhte hi wo lagataar bahut maddhim hota gaya tha. Ho sakta hai imaarat ki banawat hi sound proof dhang ki rahi ho. Waise ye imaarat ladki keliye nayi hi thi. Is se pahle yahaan aane ka sanyog nahin hua tha.

Wo uljhan me padi huyi thi. Usay kya karna chaahiye Ye aashanka bhi thi bhaagne par raaste me kisi se muthbhed na ho jaaye. Budhe ne murkh naujawaan ko phaansne hi keliye jaal bichhaaya tha. Ye aur baat hai ki is se pahle socha bhi nahin hoga ki is bedhange make-up me wahi murkh hoga. To phir zaroori nahin ki usne kewal chaar hi aadmiyon se kaam liya hoga. Ho sakta hai ki kuchh log baahar bhi idhar udhar chhipe baithe hon.

Pahaadiyaan aisi thin ki yahaan poori fauj bahut aasani se chhup sakti thi.

Achanak usne daudte huye kadmon ki aawazen suni.......aur ek kone me dubak gayi. Phir sameep hi usay ek chinghaad sunaayi di....."Thahro......thahro.....ye apna chaaku to lete jaao....nahin to aaloo kaise chhiloge...."

Oh...my Godddd......"Ladki kaanp uthi. Ye aawaz us murkh ke alawa kisi ki nahin ho sakti thi.

Phir wo shayad usi ke kareeb hi aakar ruk gaya. Bhaagte huye kadmon ki aawazen dhire dhire sannaate me wileen ho gayin.

Usay vishwaas tha ki apne kareeb jo dhundali si parchaayi dekh rahi thi wo ahmaq hi ki ho sakti thi. Lekin phir bhi wo usay aawaz dene ki himaat nahin kar saki.

Lekin jaise hi wo age badha anayaas uske muh se nikal pada...."Ruko...." Chhaaya thithakaa aur phir uski aawaz aayi...."Ab kis musibat me phansaaogi?"

"Ye raai dungi ki sar par pair rakh kar bhaago......warna jaldi hi koi dusri aafat bhi prakat ho sakti hai."

Chhaaya bhadd se chattaan par baith gaya.......aur ladki usay ajeeb ajeeb kism ki harkaten karte dekhti rahi.

"Kya kar rahe ho?" usne ant-tah puchha.

"Nahin banta...." chhaaya ne niraasha se kaha.

"Kya nahin banta?"

"Sar par pair rakh kar bhaagne ki koshish kar raha hun." Chhaaya ne karaahte huye kaha.

"Utho......murkh kahin ke.......!" Ladki ne jhapat kar uska hath pakad liyaa. "Utho......pata nahin yum kyaa balaa ho...."

Wo uth gaya aur phir wo tezi se dhalaan me utarne lage.

"Kahaan chaloge.....?" Ladki ne puchha.

"Tumhen ghar pahucha kar rooii ka market dekhunga....suna hai daam phir chadh rahe hain."

"Kya tum ne suna nahin ki wo mujhe maar daalna chaahte the."

"Ghar par marne se faaida hai...........laash aasani se police ke hath aa jaayegi."

"Mujhe pareshaan mat karo.....tumhaare liye bhi khatraa hai. Wo zaroor waapas aayenge. Magar wo tumhen chhod kar bhaag kyon gaye?"

"Bas kya bataaun....khafaa ho gaye. Pukaarta hi rah gaya. Kah rahe the coffee house chalo.....maine inkaar kar diya....! Tafreeh ka mood nahin tha."

"Tum kon ho?"

"Tum kon ho?"

"Bataata hun......" Parchaayi ne kaha aur achanak jhuk kar usay kandhe par utha liya.

"Arre.....arre....." Ladki dhire se minminaayi. Lekin parchhaayi ne tezi se daudna shuru kar diya. Andhere me is tarah daudnaa khatre se khali nahin tha lekin aisa lag raha tha jaise raasta uska achhi tarah dekha bhaala ho.......phir ladki ne mahsoos kiya ki wo uske kadmon ki aawaz bhi nahin sun rahi.

Wo bilkul nishchint si uske kandhon par chup chaap padi rahi. Usay iski chinta bhi nahin thi ki wo usay kahaan le jaa raha hai.

Wo chup chaap daudta raha. Kabhi kabhi raftaar kam ho jaati thi aur is tarah bach bach kar chalne lagta tha jaise andhere me bhi ubad khaabar raaste usay bhali bhaanti dikhayi de rahe hon.

Kuchh der baad usne torch jalaa li.......aur ladki dhire se boli......"Ye kya kar rahe ho.....agar unhone dekh liya to?"

"Chinta mat karo...." Murkh ek gufaa me prawesh kar raha tha.

Thodi door chalne ke baad murkh ne usay niche utaar diyaa. Torch ki raushni me kaafi vistrit jagah dikhayi di. Zameen barabar thi aur ek taraf thoda sa saaman bhi pada hua dikhayi diyaa.

"Ohh......to tum ne police ki dar se yahin panaah li hai...."

Murkh ne koi uttar nahin diya. Diyasalaayi khich kar ek chhota sa carbide lamp jalaane laga tha.

"Ab main thoda apni toot phoot ko check kar lun....." Murkh zamin par baith kar apna sharir tatolne laga phir karaah kar bola....."Koi koi nirdayi itne zor se maarte hain ki......my goddd...."

"Mujhe isi par hairat hai ki tum zinda kaise bache? Wo sab bade khunkhaar log the.....aur wo shaitaan.....maine pahle kabhi usay us roop me nahin dekha."

"Wo budhaa?" murkh ne puchha.

"Haan wahi budha.....ye socha bhi nahin jaa sakta tha ki wo kisi par jaan lewa hamla bhi kar sakta hai."

"Halaaki us bechaare apahij ko tum sabon ne mil kar maar daala......"

"Main kuchh bhi nahin jaanti. Ye to mujhe aaj ke akhbaar se pata chala hai ki wo maar daala gaya aur wo apahij nahin tha. Make-up me tha aur usne apne maalik ke heere churaaye the....."

"Ho sakta hai ki tum uske baare me kuchh nahin jaanti rahi ho........lekin itna to jaanti hi thin ki wo maar daala jaayega aur hatyaa ka aaropi banaane keliye tumhen mujh jaise aadmi ko phaansnaa hai....."

"Arre....." Ladki hairat se boli....."Tum to is samay buddhimaanon jaisi baaten kar rahe ho....."

"Police to gadhon ko bhi French bolne par majboor kar deti hai...." Murkh ne thandi saans li....."Tum ne mujhe badi musibat me phansaa diyaa....."

"Tum khud hi kyon bol pade the.......budha kah raha tha."

"Haan........bas bol hi pada tha.......sitaare achhe the......na bolta to tum log kisi dusri tarah phasaane ki koshish karte aur main is samay jail me hota.......kyon?"

"Scheme to yahi thi shayad......" Ladki muskuraayi.

"Aur tum is par khush ho rahi ho?" Murkh ne gussa bhare dhang se puchha.

"Meri samajh me nahin aata ki tumhen kis prakar santusht kar sakungi. Magar pahle tum mujhe apne baare me bataao.....ki ye paagalpan nahin hai ki tum apni bachaao ki chintaa karne ke bajaaye unhin logon se aa bhide ho jo tumhen phasaana chaahte the. Tum se bahut badi murkhtaa huyi hai."

"Aksar is se bhi badi murkhta hoti rahti hai..............achha to tumhen vishwas tha ki main phansi ka phanda apni hi gardan me daal lungaa?"

"Wo bahut chaalak hain.....main to kahti hun ki is tarah bhaag nikalne me bhi koi chaal rahi hogi. Ab wo shayad ye dekhna chaahte hain ki tum akele ho ya tumhaare sath bhi koi giroh hai. Tum ne ye samajh kar budhe ka pichha kiya tha ki wo anjaan hai.......halaaki wo ye dekhna chaahta tha ki uski taak me hai kon..............aaha.....zara bataao to wo sandesh kya tha jo tum ne uske kisi sathi ki jeb se udaaya liyaa tha?"

"Sandesh nahin shayari........" Wo thandi saans lekar bolaa...."Surkh zulfon ki chhaaon me surkh gardan hi munaasib rahegi...."

"O my god........" Ladki achanak bhaybheet dikhayi dene lagi. "Us sandesh ka matlab yahi ho sakta hai ki mujhe zabah kar diyaa jaaye....."

"Magar wo sandesh tha kis ke liye? Wo aadmi usay kahaan le jaata?"

"Ye bataana kathin hai......" Ladki kisi soch me pad gayi.

Murkh usay tatolne waali nazron se dekh raha tha. Ladki khamosh rahi. Phir murkh ne puchha.

"Heere kahaan hain?"

"Main nahin jaanti. Ye maamla meri samajh me hi nahin aa saka. Mujh se kewal itna hi kaha gaya tha ki main kisi ko uske cottage tak le jaaun. Khud bhitar jaaun.....phir waapas aakar kahun ki main apna kaam kar chuki hun....."

"Tumhen andar jaakar kya karna tha?"

"Kuchh bhi nahin......mujh se to kaha gaya tha ki wo us samay cottage me hoga hi nahin. Main kuchh der ruk kar waapas aa jaaun. Ye soch bhi nahin sakti thi ki wo is tarah qatal kar diyaa jayega. Aaj ka akhbaar dekhne ke baad hi poori saazish meri samajh me aa saki hai. Parson raat toofan aa gaya tha. Budha thik usi time mere cottage me aaya tha jab mujhe wahaan se chalna tha. Usne kaha ki ab toofan ke kaaran scheme dusri raat par taal di gayi hai. Main ab so jaaun. Maine khuda ka shukar ada kiya ki ab is toofan me baahar nahin nikalna padega. Chain se so gayi. Lekin phir ekdam subah sawere hi mujhe utha diya gaya ki main Sardargadh chali jaaun aur us samay tak dubaara camp ka rukh na karun jab tak ki aisa nirdesh na mile. Sardargadh me bhi unke kayi thikaane hain."

"Hunnn....." Imran kuchh sochte huye sar hilaaya. Phir uski aankhon me dekhta hua bola...."Goroh ka sargana kon hai?"

"Ho sakta hai budha hi sargana ho.....kyonki wo jo kaam bhi ham se leta hai....unke maksad se achhi tarah parichit hota hai."

"Kya matlab?"

"Unhhh.....samajhne ki koshish karo.....matlab ye ki wo ham se kewal kaam leta hai. Ham kisi kaam ke uddeshya se paricit nahin hote hain. Hame to uski hawa bhi nahin lagne di jaati. Aksar aisa hota hai ki un kaamon ke parinaam se ham kisi had tak maamle ka andaaz laga lete hain. Udaharan ke taur par apna case le lo. Jab apahij mar gaya aur akhbaaron me uske baare me khabren aayin tab mujhe pata chal saka ki tumhen phaansne ka kya maksad tha."

"Kya maksad tha....?"

"Arre.......yahi ki apahij ki hatyaa ka aarop tumhare sar par daal diya jaata."

"Magar kaise?" Imran ne jhallaaye huye lahja me kaha....."Agar main apna muh band rakhtaa...."

"Tumhen baar baar murkh kahte huye bhi uljhan hoti hai. Thoda khopadi ka istemaal karo. Jab tum us manzil se guzre hi nahin to kaise kah sakte ho ki us samay paristhiti kya hoti. Ya koi tumhen usi samay wahin dekh leta jab main cottage me ghusti aur tum baahar mera intezaar kar rahe hote. Phir agli subah kya hota......jab uski laash milti. Main bhi wahaan se hataa di jaati. Phir tum ro ro kar kahte ki tumhen koi ladki wahaan le gayi thi. Magar kise vishwaas hota? Tumhare saamne phaansi ka phandaa hotaa."

"Arre baap re...." Imran uchhal kar apni gardan sahlaane laga aur ladki hans padi. Phir achanak gambhir hokar boli...."Phir wo mujhe bhi raaste se hata dete kyonki main khud ko chhupaa na sakti.....kewal is kaaran police meri talash me bhi hai ki main tumhaare sath dekhi gayi thi. Is tarah police tumhen pakad leti aur mujhe na paa sakti. Phir wahi hota jo abhi kah chuki hun. Lekin ek baat samajh me nahin aayi."

Wo chup hokar kuchh sochne lagi phir boli "Dawar sach much tha kon?"

"Ye bhi tumhin bata sakogi...."

"Main kya jaanu.....main jaanna chaahti hun. Wo Saadi & Sons ka travelling agent tha. Lekin Saadi waale usay apaahij ke roop me nahin jaante the......aur waastav me apaahij tha bhi nahin........phir aakhir wo dohri zindagi kyon guzaar raha tha. Agar wo pahli baar us roop me logon ko milaa hota to kaha jaa sakta tha ki chori ke baad police se bachne keliye apahij bana hogaa."

"Meri gardan kaatne keliye apahij bana tha." Imran jhallaa kar bolaa. "Abhi ye mat socho ki wo apaahij kyon tha."

"Phir tum hi bataao ki kyaa sochun? Main to badi musibat me phans gayi hun...."

Imran khamosh hokar kuchh sochne laga. Phir bolaa..."Kya ye choron aur hatyaaron ka giroh hai?"

"Main aaj tak nahin samajh saki ki ye kis prakar ke logon ka giroh hai."

"Main apna paidaishi murkh hona sweekar karta hun....phir kyon ulloo bana rahi ho?"

"Vishwaas karo main nahin jaanti."

"Kya Dawar ki hatyaa un heeron keliye nahin huyi thi?"

"Ho sakta hai ki yahi baat rahi ho.....kaash tum samajh sakte.....ham sab buri tarah phans gaye hain. Ab is jaal se kisi tarah nahin nikal sakte."

"Main samjha nahin.....tum kya kahna chaahti ho."

"To suno........lambi kahani hai. Ham sab shanti priye naagarik the. Tum jaante hi hge ki insaan zindagi ki ekroopta se uktaa jaata hai......aur parivartan keliye kya kuchh nahin kar baithta. Aise pal bhi aate hain jab gambhirtaa ki kalpana se bhi dar lagne lagta hai. Ham aath doston ne ek club banaaya tha aur khaali samay me din bhar ki boriyat door karne keliye tarah tarah ki harkaten karte the. Aksar koi ajnabi bhi hamaari shararaton ka shikaar ho jaate the. Lekin shararaten aisi nahin hotin ki koi buraa maan jaata. Wo ajnabi bhi kuchh samay keliye hamaari dilchaspiyon me shaamil ho jaata. kahne ka matlab ye hai ki ham kabhi kanoon ki seema se baahar kadam nahin nikaalte the. Club ki sthaapana ka maksad kewal manoranjan tha.

Ek din ye budha pata nahin kahaan se aa phansaa. Ye bhi hamaari ek shararat ka shikaar hua tha. Phir usne ham se request kiya ki ham usay bhi club ka member bana len. Aadmi bahut zinda-dil saabit hua tha. Isliye hamen kya aapatti ho sakti thi. Kuchh dinon baad ham ne mahsoos kiya ki wo to ham sabon se tez hai. Nit nayi nayi shararaton ke programme badi safaayi aur buddhimaani se banaata. Dhire dhire wo ham sabon par chhaata chala gaya. Aur kuchh din beetne par ham sab mahsoos karne lage ki shararaton ke bahaane ham sab se kayi gair kanooni harkaten bhi ho chuki hain. Ham me se koi bhi aisa nahin tha jiske hath anjaane me kabhi na kabhi kanoon ko na toda ho.......aur budhe ka paas hamaare khilaaf clear proof the. Wo kisi bhi samay hamaari gardanen phansaa sakta tha.

Ab ham uske ishaaron par naachne lage. Club ek aise giroh me badal gaya jis ka sargana wo budha tha. Ab hame kaam ke badle us se paise bhi milte hain. Lekin ham uske jaal se kisi bhi tarah nahin nikal sakte. Wo kahta hai ki usi samay tak surakshit hai jab tak uske adheen zindagi jeewan guzaarte rahen. Us se alag hone ki koshish hi hamen jail ka darwaaza dikha dega. Ham majboor hain. Jail jaana kon pasand karega?"

"Achha to wo log jinhone mujh par hamlaa kiya tha tumhaare usi club ke member the?"

"Bilkul nahin......wo to bade khatarnak log the. Pahle bhi kayi baar unhen dekh chuki hun. Pata nahin aur bhi kitne log hain jinhen main nahin jaanti. Wo budhe hi keliye kaam karte hain. Ham to kewal das hain lekin ham se kabhi dhinga-mushti kism ke kaam nahin liye gaye."

"Kya mujh par pahle hi se tum logon ki nazar thi?"

"Nahin......tum se ramdomly mulaakat huyi thi. Rajdhani se Camp aate samay sach much gaadi kharab ho gayi thi. Us samay to mujhe ye bhi nahin pata tha ki main wahaan kyon bulaayi gayi hun? Camp me pahuch kar budhe ki scheme maloom huyi thi. Maine socha ki is kaam keliye tum jaisa ahmaq bahut munasib saabit hoga. Lekin sach bataao.....kya tum sach much ahmaq ho?"

"Ab ahmaq kaha to thappar maar dunga." Imran nathune phulaa kar bolaa...."Main ahmaq nahin hun....."

Imran thodi der khamosh raha phir naram lahje me bolaa...."Bas aksar ye hota hai ki meri buddhi bhrasht ho jaati hai......samajh me nahin aata ki kis baat ke jawaab me kya kahna ya karna chaahiye.......ok leave it......ye bataao ki ab tum ne apne baare me kya socha hai?"

"Agar buddhi bhrasht na ho gayi ho to tumhinkuchh bataao.....lekin....ye bataao ki kya tumhen pata tha ki main is samay usi imaarat me laayi jaaungi......ye gufaa wahaan se adhik door to nahin lag raha."

"Ham is samay Holiday Camp ke nikat hi hain. Imaarat bhi Holiday Camp se adhik door nahin hai. Usko chunki mujhe phaansna tha isliye us ne itne ghumaao phiraao waala raasta chuna tha."

"Anyway.......ab wo log tumhari talash me honge......main phir kahti hun ki unke is tarah nikal bhaagne me bhi koi na koi chaal zaroor hogi."

"Budhe ka naam kya hai?"

"Shaatir..........ajeeb betukaa naam hai. Wo kahta hai ki shayar hun aur Shaatir 'takhallus' hai. Ham sab usay Shaatir hi ke naam se jaante hain. Chamde ki dalaali karta hai."

"Permanent residence kahaan hai."
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4047
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: हीरों का फरेब

Post by Jemsbond » 10 Jan 2016 15:20



"राजधानी मे .......13प्रिन्स स्ट्रीट. बड़ी शान से रहता है."

"हुन्न्ं...." इमरान थोड़ी देर तक कुच्छ सोचता रहा फिर उठता हुआ बोला....."तुम यहीं ठहरो....मैं अभी आया....मेरे आब्सेन्स मे गुफा से बाहर कदम भी निकालने की हिम्मत मत करना...."

***********

दूसरी सुबह इमरान हॉलिडे कॅंप मे नज़र आया. अब वो दूसरे मेक-अप मे था. सफदार और जूलीया पूरी कहानी सुन चुके थे......और अब खामोशी से उसके किसी पहलू पर शायद गौर कर रहे थे.

कुच्छ देर बाद जूलीया बोली......"तो तुम केवल इसलिए इस केस मे रूचि ले रहे हो कि किसी ने तुम्हें किसी अपराध मे फसाने की कोशिश की थी......!"

"मैं केवल इस लिए रूचि ले रहा हूँ कि X2 ने मुझ से रिक्वेस्ट किया था."

"बकवास है...." जूलीया बुरा सा मूह बना कर बोली. "भला X2 को किसी चोर की हत्या से क्या रूचि हो सकती है.....!"

"ये तो वही बता सकेगा...."

"ज़रा रुकिये...." सफदार ने हाथ उठा कर कहा....."आप के बयान के अनुसार उस रात आँधी के कारण आप उस कॉटेज तक नहीं ले जाए गये थे."

"शायद यही कारण हो." इमरान उसकी आँखों मे देखता हुआ बोला.

"मकसद यही था कि आप पर उस हत्या का आरोप आए.....लेकिन क्या वो आँधी के कारण हत्या का प्रोग्राम पोस्पोंड नहीं कर सकते थे? ये बात तो क्लियर है कि उसी रात उसकी हत्या कर देने से पूरी स्कीम पर काम नहीं हो सकता था."

"गुड.....!" इमरान सर हिला कर बोला. "इस बारे मे सब से इंपॉर्टेंट सवाल यही है."

"लेकिन स्कीम मे हत्या वाला भाग........आप पर आरोप मंधने वाले भाग से अधिक इंपॉर्टेंट था. अर्थात उस रात आपको उलझाया जाता या ना उलझाया जाता लेकिन हत्या होना मस्ट था."

"फाइन....शायद तुम ने उसका कारण भी खोज लिया होगा?"

"हीरों की चोरी की खबर......."

"बहुत अच्छे.......!!" इमरान उसकी पीठ ठोकता हुआ बोला. "शायद यही कारण है कि X2 तुम्हें हर मामले मे आगे बढ़ा देता है."

जूलीया ने बुरा सा मूह बना कर कहा...."पता नहीं मैं किस मर्ज़ की दवा हूँ.....!"

"तुम्हें देख लेने से हर तरह का नज़ला-ज़ुकाम दूर हो जाता है........मैं तो यहाँ तक कहने को तैयार हूँ कि तुम वायु-गोला के लिए भी अक्सीर(रामबाण) हो.....!"

"गोली मार दूँगी अगर बकवास की...." जूलीया ने झल्लाए हुए लहजे मे कहा.

लेकिन इमरान सफदार की तरफ मुखातिब हो गया.

"अब मुझे साड़ी & सोंस के मॅनेजिंग डाइरेक्टर के बारे मे रिपोर्ट की प्रतीक्षा है....."

"हीरों की चोरी की खबर से तुम्हारा क्या मतलब था.....?" जूलीया ने सफदार से पुछा.

"अगर वो उस रात हत्या नहीं कर दिया जाता तो दूसरी सुबह डेली-मैल मे वो एड उसकी नज़र से भी गुज़रता. और फिर शायद वो किसी तरह भी हत्यारों के जाल मे नहीं आता." इमरान ने कहा.

"मेरी बात सुनो...." जूलीया ने झल्लाए हुए लहजे मे कहा, "हत्यारे उसकी दोनों हैसियतों को जानते थे और उन्हें ये भी पता था कि वो हीरे चुरा लाया है."

"चलो अभी ये मान लेता हूँ.....फिर?"

"उन्होने उसे उसी रात क्यों नहीं मार दिया?"

"मैं इस सवाल का जवाब नहीं दे सकता......तुम्हारे दिमाग़ मे क्या है?"

"इस बारे मे यही कहा जा सकता है की उन्हें किसी ऐसे आदमी की तलाश थी जिस पर हत्या का आरोप मॅंडा जा सके. लेकिन फिर उन्होने तीसरी रात का प्रतीक्षा नहीं किया. उस आदमी को बीच मे लाए बिना ही उसकी हत्या कर दिया."

"सफदार ने भी यही कहा था...."

"मैं कहना चाहती हूँ कि हत्या का जो कारण प्रकट किया गया है......वो नहीं हो सकता."

"गॉड..." इमरान ने आँखें फाडी. "अब तुम ने भी एक काम की बात की है."

जूलीया बुरा सा मूह बना कर दूसरी तरफ देखने लगी.......और इमरान ने खुश हो कर कहा...."इसी लिए X2 मुझे तुम्हारे बारे मे एक फालतू सा सजेशन दिया करता है...."

"क्या सजेशन....?" सफदार ने मुस्कुरा का पुछा.

"तुम दोनों गधे हो...." जूलीया ने खिसिया कर कहा. फिर उठी और कॉटेज से बाहर निकल गयी.......और इमरान एक लंबी साँस लेकर सफदार की तरफ देखने लगा. वो कुच्छ सोच रहा था. थोड़ी देर बाद उस ने कहा...."ये भी संभव है कि डावर अपने बारे मे चोरी की खबर पढ़ कर उन के काबू मे ना आता."

"एनीवे.........आपका भी यही ख़याल है कि हत्या हीरों केलिए नहीं हुआ."

"हां......सोचना ही पड़ेगा. हीरे उस से उस रात भी हासिल किए जा सकते थे जिस शाम वो यहाँ पहुचा था. वो कयि थे. ज़बरदस्ती छीन लेते. हत्या की ज़रूरत ही नहीं थी. वो किसी से कंप्लेन भी नहीं कर सकता.......क्योंकि हीरे चोरी के थे."


"ये लॉजिक भी बढ़िया है."

"इसलिए इसके अलावा और क्या कहा जा सकता है की हत्या का कारण हीरे नहीं हो सकते. इसे ऐसे देखो.....एक अपाहिज की हत्या कर दी गयी. वो भी ऐसे की अपनी व्हील चेर समेत खड्ड मे पाया गया. नॅचुरल बात है कि लोग सब से पहले यही सोचेंगे कि वो अंधेरे मे बाहर निकला होगा. अंदाज़ की ग़लती के कारण खड्ड मे जा गिरा."

"ये आपका सोचना है..."

"नहीं........पोलीस का. हमलावरों ने पोलीस को यही समझाना चाहा था......जो वो समझ रही है. अब वो मेरी खोज मे हैं. जानते हो........मेरे और मक़तूल के बारे मे पोलीस का क्या विचार है....? उन्होने ये थियरी बनाया है कि डावर यहाँ कॅंप मे चोरियाँ किया करता था......और मैं उसका सहयोगी था. दिखाने केलिए हम दोनो एक दूसरे के लिए अजनबी थे लेकिन वास्तव मे मैं उसके लिए सूचनाएँ जमा करता था........और वो चोरियाँ करता था. मुझे पता था कि वो 40 लाख के हीरे चुरा कर लाया है. मेरी नियत खराब हो गयी....और मैने उसे मार डाला."

"मगर उन्होने बेमतलब ऐसी थियरी क्यों बना ली?"

"मैने भी यही कोशिश की थी कि वो यही सोचें. वरना पहले तो वो मुझे केवल एक मूर्ख समझ कर चुप हो गये थे. फिर जब मैं गायब हो गया तो उन्हें अपना विचार बदल देना पड़ा."

"लेकिन आप ने ऐसा क्यों किया था कि पोलीस आप के खिलाफ ऐसी धारणा बनाए?"

"इसलिए कि हत्या हीरों के कारण नहीं हुई थी. हत्यारे इसका असली कारण छुपाना चाहते हैं. वो इसे साधारण चोरी का केस बनाना चाहते हैं. उन्होने एक हत्यारा भी अवेलबल कर लिया था. लेकिन संयोग से आँधी ने खेल बिगाड़ दिया. ऐसा कब होता है सफदार साहब?"

सफदार खामोशी के साथ कुच्छ सोचता रहा फिर बोला...."मेरा ख़याल है कि इस प्रकार के प्लॉट अक्सर इसलिए बनाए जाते हैं कि केस के बारे मे अधिक छान-बीन ना की जाए."

"सही दिशा मे अब पहुचे हो तुम....." इमरान सर हिला कर बोला. "वो यही चाहते हैं कि मरने वाले के बारे मे अधिक इन्वेस्टिगेशन ना हो."

"साड़ी & सोंस का मालिक नज़मी के बारे मे चौहान की रिपोर्ट मिल चुकी है. ये देखिए...."


*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply

Who is online

Users browsing this forum: Google [Bot] and 2 guests