हीरों का फरेब कॉम्प्लीट हिन्दी नॉवल

Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 16 Nov 2015 21:44



"Aap ajeeb aadmi hain...kisi baat ka dhang se jawaab hi nahin dete."

"Pariksha me bhi hamaara yahi haal hota hai. Isi liye ham fourth year me paanch saal se viraajmaan hain. Kisi ko bhi ham me kisi tarah ka dhang dikhayi nahin deta."

"Aap ke pitaji kya karte hain?"

"Jhak maara karte hain....meri balaa se. Itni motee si baat unki samajh me nahin aati ki agar ham ne BA pass kar liya tab bhi ham Shahzaade hi kahlaayenge aur na kiya tab bhi Shahzaade hi kahlaayenge."

"Ohh.....to shahzaade hain aap...."

"Pukaaru naam hai hamaara..." Imran ne sharma kar sar jhuka liyaa.

"Main us kaale aadmi ke baare me puchh rahi thi."

"Sab usi ke baare me puchhte hain.....ham to ulloo ke patthe thahre....."

"Aap samjhe nahin.....mera matlab ki aise naukar kewal bade aadmi hi rakhte hain. Maine to yahaan kisi ke paas bhi negro naukar nahin dekha...."

"Wo sab bade aadmi hain......jo negro nahin rakhte.....isne to hamaara satyanash kar rakha hai. Kabhi kahta hai boss oont ki sawaari bahut labhdaayak hai. Kabhi kahta hai TB se bachna ho to bakriyaan paalna shuru kar do...."

"Ohho....." achanak ladki uchhal padi. Lekin Imran ki baat par nahin.....wo to shayad uski baat sun bhi nahin rahi thi. Uske dhyaan ka kendra ek apaahij aadmi tha. Wheel chair par wo usi taraf aa raha tha.

"Dekha suwar ko...." Ladki barbadaayi. "Ab aisa ban gaya hai jaise mujhe dekha hi na ho..."

Apahij vyakti prakat me khaata peeta vyakti lag raha tha. Jism par keemti libaas aur ungaliyon me heeron ki anguthiyaan. Ghani aur chadhi huyi moochhon me achha khaasa robdaar lag raha tha.

Wo unke nikat se guzar gaya.....aur Mona jale kate dhang se dhire dhire use gaaliyaan deti rahi.

"Arre nahin...." Imran bola...."Chhuchhundar ka bachcha nahin ho sakta. Zaraa uski muchhen to dekho...."

"Mera wash chale to uski muchhen ukhaad loon. Kameena kahin ka...."

"Mazboot hoti hain....." Imran ne nirasha bhare dhang se sar hila kar kaha.

"Tum puchhte bhi nahin ki main usay gaaliyaan kyon de rahi hun?" Mona jhunjhla gayi.

"Puchhna chaahiye?" Imran ne maasoom sa shakal bana kar puchha.

"Natural baat hai......pata nahin tum kaise vyakti ho....."

"Aahaa......ab samjha...." Imran sar hila kar bola. "Ab ham samjhe ki hamaari aunty pichhle saal ham se kyon naaraz hain...."

"Kya matlab?"

"Unhone uncle ko gaaliyaan bhi di thin aur chappal utha kar maarne bhi daudi thin. Lekin ham ne un se iska kaaran nahin puchha tha. Shayad isi liye wo ham se naaraz hain."

Ladki kuchh boli nahin. Bas usay ghoorti rahi. Phir kuchh der ke baad us ne kaha....."Ye langdaa bahut buraa aadmi lagta hai. Kal se mujhe tang kar rakha hai usne...."

"Ohh...."

"Apni taraf aakrisht karne keliye seetiyaan bajaata hai.....behudaa aawaz me gaata hai.....bahut kameena hai. Main usay sabak sikhaana chaahti hun. Ab is samay tumhen dekh kar is tarah anjaan banaa hua qareeb se guzar gaya jaise koi baat hi na ho."

"Ham se dar gayaa....." Imran khush ho kar bolaa.

"Aur kyaa.......iske alaawa aur kya kahaa ja saktaa hai."

"Tab phir ham usay zaroor maarenge....." Imran ne apni baahen chadhaate huye kaha.

"Nahin.....aise nahin. Mere paas dusri scheme hai....."

"Kyaa...?" Imran ne raazdaari bhare dhang se dhire se puchha.

"Maar peet bekaar kaam hai. Aisa sabak diya jaaye jo hamesha yaad rahe."

"Achhaa...." Imran ne apni palken jhapkaayin.

"Agar tum madad karo to sambhav hai....."

"Zaroor karenge.....magar bataao bhi to....."

"Abhi nahin shaam ko. Maine tumhaara cottage dekha hai. Khud hi aa jaaungi. Tata...." wo uthi aur ek taraf chali gayi.

Imran ungali se zamin par aadi tirchhi lakeeren banaane laga. Us ne apahij ko yunhi sarsari dhang se dekha tha.....aur ladki ki bakwaas uski nazar me koi mahattva nahin rakhti thi. Thodi hi der me wo sab kuchh bhool gaya.

Ghaat par thahaake goonjte rahe. Shaam tak mausam bhi badal gaya. Pashchim se kaale kaale baadal uthe aur dekhte hi dekhte poore ilaake par chha gaye. Toofan ki aashanka thi.

Yahaan aandhi to aati hi rahti thi. Lekin ye aandhi ka mausam nahin tha. Isliye sthaaniye logon ke chahron par bhi chinta ke bhaav paaye jaa rahe the.

Mausam ke iss achanak badlaao ke kaaran cottage samay se pahle hi aabaad ho gaye. Warnaa aam taur se andheraa phailna tak log khule me kayi prakar ke manoranjan me vyast rahte the.

Imran jaise hi apne cottage ke nikat pahucha Josef ki karkash aawaz sunaayi padi. Wo shayad kisi se lad raha tha. Phir kisi mahila ki aawaz sunayi di. Wo bhi kam gusse me nahin lagti thi. Cottage me kadam rakhte hi Mona dikhayi di.

Imran ki aahat par wo darwaze ki taraf aakrisht huyi.

"Ye bahut behudaa hai. Bahut bad-tameez hai." Mona halaq phaad kar chilaayi.

"Zubaan sambhaal kar...." Josef gurraaya.

"Shut uppp..." Imran ghoonsaa dikha kar kaha. "Donon khamosh raho. Warnaa ham kutton ki tarah bhaukna shuru kar denge. Bhaari aur sureeli aawazon ki 'myaaunn.....myaaunn....aur bhonn...bhonn hamaare mastishk par bahut buraa prabhaav daalti hai."

Donon ek pal keliye khamosh ho gaye. Phir Josef ne kaha...."Main isay bardaasht nahin kar saktaa...."

"Ye bakwaas kar raha hai...." Mona bol padi.

"Tum meri taraf dekh kar is tarah nahin muskuraayi thi?" Josef ne jhallaaye huye dhang se uski muskuraahat ki nakal utaari. "kyon muskuraayi thin?"

"Is se kahon apna muh band kare warna goli maar dungi..." Mona biphaar gayi.

"Thik hai..." Imran sar hila kar bola."Pahle tum isay goli maaro......phir ham aaram se baaten karenge....."

"Boss.....main khud hi apna galaa ghont loonga agar tum is safed bandariyaa ki tarafdaari karoge..."

"Abhi tum daur kar Star se chawingum ke ek darzan packet le aao...." Imran ne jeb se 100 ka ek note nikaal kar Josef ki taraf badhaate huye kaha.

Josef ne note lete samay bahut buraa sa muh banaaya.......aur phir Mona ko khunkhaar nigaahon se ghoorta hua cottage se nikal gaya.

"Tum pata nahin kaise aadmi ho...." Mona boli. "Main to aise bad-tameez naukar ko kabhi bardaasht nahin kar sakti."

"Baat kya thi?"

"Kuchh bhi nahin....main tumhaari talash meaayi thi. Be-matlab laal peela ho gaya. Kahne laga ki main yahaan akelaa hun. Tum aawaz diye binaa kyon ghus aayi. Main shor macha kar padosiyon ko jamaa kar lunga. Pata nahin kis prakar ka jaanwar hai."

"Us jaanwar ki maada nahin hoti. Aisa dusra nahin milega. Magar tum hamaari talash me kyon aayi thi?"

"Tum ne bhi waisi hi betuki baaten shuru kar din...."

"Achhi baat hai......tum shuru se yahaan aayi hi nahin thin....."

Wo donon hath se sar than kar canvas ki folding chair par baithti huyi barbadaayi. "Tum donon mujhe paagal bana doge...."

Imran ne pahli baar usay tatolne waali nazron se dekha. Ladki ka sar jhukaa hua tha warna wo bhi nishchit taur par uski aankhon me hairat ke bhaav dekhti.

Wo kuchh der tak usi tarah baithi rahi phir boli....."Agar mujhe us langade ko nicha nahin dikhaana hota to main shayad tum logon se baat bhi nahin karti."

"Ohho....magar kaise nicha dikhaaogi?"

"Bas tum cottage ke baahar khade rahna....main andar jaa kar samajh lungi."

"Ham baahar kyon khade rahenge?" Imran ne hairat prakat ki.

"Dekhte rahna ki koi udhar aa to nahin raha."

Imran ka interest jaagne laga tha. Lekin chehre par pahle ki hi tarah murkhta chhaayi rahi.

"Maan lo ki koi aa hi gaya.....to?"

"Seeti baja kar muchhe suchit kar dena."

Imran ne hont sikod kar seeti bajaane ki koshish ki......lekin aawaz nahin nikli.

"Mushkil hai...." Usne nirasha bhare andaaz me kaha. "Magar tum andar jaakar kya karogi?"

"Ye na puchho..." ladki hans padi. "Subah jab wo muh par hath pheregaa to muchhen hath hi me rah jaayegi."

"My Godd....ham bilkul nahin samjhe...."

"bas subah uski shakal dekh lena.....muchhen nahin hongin...."

"Ham apni akal ko kahan de maaren.....ab bhi hamaari samajh me kuchh nahin aaya."

"Samajhne ki zarurat bhi kya hai. Bas tum baahar khade rahna. Kisi ke aa jaane par seeti na bajaa sako to jhopade me thokar maar dena.....main samajh jaaungi."

"Kya wo langdaa akela hai?"

"Pata nahin......main kya jaanun. Ok....thik 10 baje.....yaad rakhna aaungi."

Wo chali gayi. Lekin 10 baje to wahaan toofan jhande gaad raha tha. Kis me himmat thi ki cottage ki khidki khol kar baahar jhaank hi saktaa.

Hawaayen cheekh rahi thin. Bijli ke kadaake pahaadiyon me aisi goonj paida kar rahe the jaise unki jaden hil gayi hon......aur dekhte hi dekhte wo jaron se ukhad kar toofani jhakkaron me chakraati phirengi.

Cottages hil rahe the......aur unke daraaron se paani risne laga tha. Haalaki chhaten surakshit thin.

Toofan ki shuruwaat 9.30 baje huyi thi aur hawaa ka zor 11 baje se pahle kam nahin hua tha. Phir raat bhar baarish hoti rahi thi.

Lekin dusri subah ye kahna bhi kathin ho gaya ki pichhli raat boonda-baandi bhi huyi hogi. Pahadiyaan sukhi padi thin......aur suraj ki pahli kirnen jheel ke bhare seene par naarangi rang ka jaal bun rahi thin. Ghaat phir aabad ho gaya tha.
Josef bahur sawere apne botalon ki khoj me Star hotel ki taraf nikal gaya tha.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 16 Nov 2015 22:00


वापसी पर इमरान ने उसके चेहरे पर भूकंप के प्रभाव देखे. होन्ट हिल रहे थे......पलकें दुख से झुकी जा रही थीं. उसकी ये हालत तभी होती थी जब वो दया और सहानुभूति की भावनाओं से ओवर-लोड हो जाता था.

"बॉस.......ये बहुत मनहूस सुबह है. इसलिए मैने तुम्हें गुड मॉर्निंग नहीं कहा...." उसने भर्रयि हुई आवाज़ मे कहा.

इमरान ने इस तरह हाथ हिलाया जैसे कान पर बैठी हुई मक्खी उड़ाई हो और दूसरी तरफ देखने लगा.

"वो.....बॉस बड़ा दर्दनाक सीन था.....बेचारा अपाहिज...."

"अपाहिज.....?क्या मतलब?" इमरान चौंक कर उसकी तरफ मुड़ा.

"दोनों पैर बेकार थे.....कल मैने उसे व्हील चेर पर झील के किनारे फिरते देखा था."

"फिर.......? क्या हुआ उसे?"

"ख़तम हो गया......व्हील चेर समेत खड्ड मे गिरा पड़ा है...."

"वही.......बड़ी मुच्छों वाला?"

"हां बॉस.....लंगड़ा ना होता तो शानदार आदमी होता. आँखों से बड़ा बहादुर लगता था."

थोड़ी देर बाद इमरान भी उसी भीड़ मे दिखाई दिया......जो लाश के आस पास इकट्ठा हो गयी थी.

सबका ख़याल था कि वो पिच्छली रात किसी समय अपनी व्हील चेर पर बैठ कर कॉटेज से निकला होगा......अंधेरे मे रास्ता ना दिख पाने के कारण खड्ड मे जा गिरा.

*************

सरदारगढ का एसपी मेट्रो होटेल के मॅनेजर को घूर रहा था.

"वो अपाहिज नहीं था....." उस ने कुच्छ देर बाद कहा.

"हज़ारों आदमी उन्हें अपाहिज समझते थे सर.....अगर नहीं थे तो इसमे मेरा क्या दोष....." मॅनेजर बोला.

"उसकी मुच्छें भी नकली थीं...."

"अब तो सब कुच्छ ही संभव है. लेकिन ये आप मुझ से क्यों कह रहे हैं?"

"क्योंकि वो अपना अधिकतर समय तुम्हारे साथ बिताने की कोशिश करता था."

"वो हमारे पुराने कस्टमर थे सर. उनका कॉटेज हमेशा उन्हीं केलिए रिज़र्व रहता था. चाहे वो यहाः हों या ना हों. मन्थलि किराया पाबंदी से अदा करते थे. अगर कभी नहीं आ सके तो मनी-ऑर्डर से पैसे भेज देते थे."

"और हमेशा अकेले ही आता था?"

"जी हां.......मैने कभी उनके साथ किसी को नहीं देखा."

"क्या ये अजीब बात नहीं थी?" एसपी उसकी आँखों मे देखता हुआ बोला. "वो ऐसा ही धनी व्यक्ति था कि खाली कॉटेज का किराया देना उसके लिए बड़ी बात ना थी. लेकिन क्या वो अपनी देख भाल केलिए एक आदमी नहीं रख सकता था?"

"अक्सर मैने भी इस पर आश्चर्य प्रकट किया था......लेकिन उनका यही उत्तर होता था कि वो खुद को बेचारा नहीं समझते."

"यहाः आता किस तरह था?"

"एक बड़ी सी वॅन होती थी जिस मे उनका सामान भी होता था. जब उन्हें वापस जाना होता था तो वॅन आ जाती थी."

"और आप ने कभी ये जानने की कोशिश नहीं की कि वो कों था......और कहाँ से आता था......"

"कोशिश तो की थी सर......लेकिन कभी कामयाब नहीं हो सका. मनी-ऑर्डर भी किसी एक जगह से नहीं आते थे.....और रिसीट पोस्ट-मास्टर के अड्रेस पर वापस जाती थी. अगर वो अपाहिज नहीं थे और उनकी मुच्छें नकली थीं तो भी किसी को कभी उन से कोई शिकायत नहीं हुई. उनके चारों तरफ हर समय नौजवानों की भीड़ रहती थी......और उनके बीच वो ऐसे लगते थे जैसे कोई महात्मा अपने शिष्यों के साथ हों."

"खूब..." एसपी की मुस्कुराहट मे व्यंग था. कुच्छ देर खामोशी से मॅनेजर की आँखों मे देखता रहा फिर बोला..."कब से यहाः ठहरे हुए थे?"

"परसों आए थे...सर."

"क्या उन लोगों मे से कोई मिल सकेगा जो उसके आस पास जमा रहते थे?" एसपी ने आस पास खड़े लोगों पर नज़र डालते हुए पुच्छा.

ये बातें घाट के ही एक भाग मे हो रही थीं......और उनके चारों तरफ अच्छी ख़ासी भीड़ थी. हो स्कता है यहाँ खुले मे पुच्छ ताच्छ करने का कोई विशेष उद्देश्य रहा हो.

एस पी को अपनी तरफ आकृषित पा कर भीड़ के बहुत से चहरों पर बेचैनी च्छा गयी थी.

इमरान के चेहरे पर तो बोखलाहट और मूर्खता दोनों ही अटखेलियाँ कर रही थीं. अंत-तह एसपी की निगाह उस पर टिक ही गयी. वो कुच्छ पल उसे घूरता रहा. फिर बोला...."क्यों श्रीमान.....वो किस किस्म की बातें करता था आप लोगों से?'

"स.....सीटियाँ बजाता था...." इमरान ने बोखला कर हड़बड़ी मे उत्तर दिया.

"क्या मतलब....?" एसपी ने आँखें निकालीं.

"म्म....मतलब ये कि सीटियों को देख कर लड़कियाँ बजाता था.....ब्ब....हप्प्प...."

"क्या बकवास है...."

"ज़.....ज़ुबान लरखड़ाती है....मतलब ये कि लड़कियों को देख कर सीटियाँ बजाता था...."

"बकवास कर रहा है...." भीड़ मे से काई क्रोध भरी आवाज़ें आईं.



फिर कुच्छ पल सन्नाटा रहा उसके बाद एसपी ने भीड़ पर नज़र डालते हुए कहा. "जो महाशय इसे बकवास समझते हों वो सामने आएँ...."

तीन चार आदमी आगे बढ़ आए. वो इमरान को क्रोध भारी निगाहों से देख रहे थे.

"ये श्रीमान शायद नशे मे हैं." एक आदमी बोला...."डावर साहब फिलोसफेर थे. मैं भी अक्सर यहाँ आता रहता हूँ,. डावर साहब से काई बार मिलने का संयोग हुआ है. इन साहब ने बेहुदगि दिखाई है और डावर साहब की प्रतिष्ठा के खिलाफ अपमान जनक बात कही है...."

एसपी ने दूसरों की तरफ देखा. उन्होने ने भी उस आदमी का समर्थन किया.

"क्यों साहब....?" वो इमरान से संबोधित होकर गुर्राया.

"सत्यानाश हो...." इमरान मूह बीसूर कर बुदबूदाया.

"क्या बक रहे हैं आप?"

"उस लड़की का सत्यानाश हो जिस ने हमें ये सूचना दी थी." इमरान भी झल्ला कर बोला.

लोगों ने ठहाके लगाए......और इमरान भी उन्हें चिढ़ाने के अंदाज़ मे हंस पड़ा. मगर उसकी हँसी मे झुंझलाहट थी.

"किस लड़की ने सूचना दी थी?" एसपी ने पुछा.

"अगर वो हमारे सामने आई तो हम ज़रूर पहचान लेंगे...."

एसपी ने एक सब-इनस्पेक्टर की तरफ मूड कर कहा "इन्हें अपने साथ ले जाओ......मैं अभी आ रहा हूँ....."

बस फिर ऐसा लगा जैसे इमरान का हार्ट फैल हो जाएगा. चेहरे पर मुर्दानी सी छा गयी....और वो बार बार होंटो पर ज़ुबान फेरने लगा. साँस धौकनी की तरह चलने लगी.

"चलिए मिस्टर....." एसआइ ने इमरान के कंधे छु कर कहा.

दूसरी तरफ जोसेफ उस लड़की को सारे कॉटेजस मे ढूंढता फिर रहा था.....जिस से पिच्छले दिन उसकी झड़प हुई थी. लेकिन वो नहीं जानता था कि इस तलाश का मकसद क्या है. इमरान ने उसे आदेश दिया था......और वो बे-मन से पालन कर रहा था. वरना पता नहीं क्यों वो तो उसकी शकल भी नहीं देखना चाहता था.

इमरान को शायद आधे घंटे तक एसपी के आने का इंतेज़ार करना पड़ा. कॉटेज मे उसके अलावा एक एसआइ और दो कॉन्स्टेबल भी थे. एसआइ वही था जिसके साथ वो यहाँ आया था.

उन्होने उस से किसी प्रकार की बात नहीं की थी. इमरान भी कुच्छ नहीं बोला था. बस ऐसे ही भयभीत ढंग से बैठा रहा जैसे एसपी के आने पर उसे फाँसी पर ही लटका दिया जाएगा.

फिर एसपी आया. उसकी आँखों मे उलझन के भाव थे. कुच्छ देर इमरान को चिंता भरी निगाह से देखता रहा फिर बोला "आप कहाँ से आए हैं?"

"राजधानी से ...." इमरान ने थूक निगल कर कहा.

"नाम...."

"नाम जो कुच्छ भी हो लेकिन अब हम एम.एससी., फ.डी.ऑक्सन बिल्कुल नहीं हैं. एकदम गधे हैं. आख़िर हमें ज़रूरत ही क्या थी कि ख़ामाखा बोल पड़ते."

"क्या मतलब?"

"अगर वो फिलोसफेर था तो हमे क्या मतलब? अगर वो लड़कियों को देख कर लिलियाँ.....अर्ररर....हप्प्प.....मतलब ये कि लड़कियों को देख कर सीटियाँ बजाता था तो हमारा क्या बिगाड़ा. लानत है.....किस मुसीबत मे पड़ गये. मम्मी ठीक ही कहती हैं कि बे-ज़रूरत बकवास नहीं करनी चाहिए...."

सब इनस्पेक्टर और कॉन्स्टेबल मूह फेर कर मुस्कुराने लगे.......और एसपी ने चकित हो कर अपनी पलकें झपकाइं. शायद उसकी समझ मे नहीं आ रहा था कि इस व्यक्ति से किस प्रकार पेश आना चाहिए.

"अगर आप सीधी तरह बात नहीं करेंगे तो आप के हाथों मे हथकड़ियाँ होंगी.....समझे."

"ऐसे अवसरों पर अगर हमें मम्मी डॅडी याद आ जाएँ तो हम क्या करें.....कुच्छ और कमज़ोर दिल के होते तो पेशाब भी छूट सकती थी. किस तरह विश्वास दिलाएँ कि वो बेहूदा बात हमें कल एक लड़की ने ही बताई थी."

फिर इमरान उस लड़की के बारे मे कुच्छ और कहने ही वाला था कि एक एसआइ ने कॉटेज मे प्रवेश किया.

"क्यों....?" एसपी उसकी तरफ मुड़ा.

एसआइ के हाथ मे कोई अख़बार था. उस ने उसका एक पन्ना उलट कर एसपी की तरफ बढ़ाते हुए कहा...."एक नयी इन्फर्मेशन है सर.....मुझे तो लाश और इस तस्वीर मे थोड़ा सा भी कोई अंतर नहीं नहीं दिखाई देता. अब लाश के चेहरे पर भी मुच्छें नहीं हैं."

एसपी ने अख़बार लेकर पेज पर नज़र डाली. इमरान तस्वीर तो नहीं देख सका था लेकिन अख़बार के बारे मे उसका अंदाज़ था कि वो 'डेली मैल' ही होगा. आज का डेली मैल वो देख चुका था. मगर तस्वीर.......उसने झुरजुरी सी ली.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 16 Nov 2015 22:01


Wapasi par Imran ne uske chehre par bhukamp ke prabhaav dekhe. Hont hil rahe the......palken dukh se jhuki jaa rahi thin. Uski ye haalat tabhi hoti thi jab wo dayaa aur sahaanubhuti ki bhaavanaaon se over-load ho jaata tha.

"Boss.......ye bahut manhoos subah hai. Isliye maine tumhen Good Morning nahin kaha...." Usne bharrayi huyi aawaz me kaha.

Imran ne iss tarah hath hilaaya jaise kaan par baithi huyi makkhi udaayi ho aur dusri taraf dekhne laga.

"Wo.....boss bada dardnaak scene tha.....bechaara apaahij...."

"Apahij.....?Kya matlab?" Imran chaunk kar uski taraf mudaa.

"Donon pair bekaar the.....kal maine usay wheel chair par jheel ke kinaare phirte dekha tha."

"Phir.......? Kya hua usay?"

"Khatam ho gaya......wheel chair samet khadd me giraa padaa hai...."

"Wahi.......badi muchhon waala?"

"Haan boss.....langdaa na hota to shandar aadmi hota. Aankhon se bada bahadur lagta tha."

Thodi der baad Imran bhi usi bheed me dikhayi diya......jo laash ke aas paas ikattha ho gayi thi.

Sabka khayal tha ki wo pichhli raat kisi samay apni wheel chair par baith kar cottage se niklaa hoga......andhere me raasta na dikh paane ke kaaran khadd me jaa giraa.

*************

Sardaargadh ka SP Metro Hotel ke manager ko ghoor raha tha.

"Wo apahij nahin tha....." Us ne kuchh der baad kaha.

"Hazaaron aadmi unhen apahij samajhte the sir.....agar nahin the to isme mera kya dosh....." Manager bola.

"Uski muchhen bhi nakli thin...."

"Ab to sab kuchh hi sambhav hai. Lekin ye aap mujh se kyon kah rahe hain?"

"Kyonki wo apana adhiktar samay tumhaare sath bitaane ki koshish karta tha."

"Wo hamaare puraane customer the sir. Unka cottage hamesha unhin keliye reserve rahta tha. Chaahe wo yahaah hon ya na hon. Monthly kiraaya paabandi se adaa karte the. Agar kabhi nahin aa sake to many-order se paise bhej dete the."

"Aur hamesha akele hi aata tha?"

"Ji haan.......maine kabhi unke sath kisi ko nahin dekha."

"Kya ye ajeeb baat nahin thi?" SP uski aankhon me dekhta hua bola. "Wo aisa hi dhani vyakti tha ki khaali cottage ka kiraaya dena uske liye badi baat na thi. Lekin kya wo apni dekh bhaal keliye ek aadmi nahin rakh sakta tha?"

"Aksar maine bhi is par aashchrya prakat kiya tha......lekin unka yahi uttar hota tha ki wo khud ko bechaara nahin samajhte."

"Yahaah aata kis tarah tha?"

"Ek badi si van hoti thi jis me unka saaman bhi hota tha. Jab unhen waapas jaana hota tha to van aa jaati thi."

"Aur aap ne kabhi ye jaanne ki koshish nahin ki ki wo kon tha......aur kahaan se aata tha......"

"Koshish to ki thi sir......lekin kabhi kaamyab nahin ho saka. Maney-order bhi kisi ek jagah se nahin aate the.....aur receipt post-master ke address par waapas jaati thi. Agar wo apahij nahin the aur unki muchhen nakli thin to bhi kisi ko kabhi un se koi shikayat nahin huyi. Unke charon taraf har samay naujawaanon ki bheed rahti thi......aur unke bich wo aise lagte the jaise koi mahaatma apne shishyon ke sath hon."

"khoob..." SP ki muskuraahat me vyang tha. Kuchh der khamoshi se manager ki aankhon me dekhta raha phir bola..."Kab se yahaah thahre huye the?"

"Parson aaye the...sir."

"Kya un logon me se koi mil sakega jo uske aas paas jamaa rahte the?" Sp ne aas paas khade logon par nazar daalte huye puchha.

Ye baaten ghaat ke hi ek bhaag me ho rahi thin......aur unke chaaron taraf achhi khaasi bheed thi. Ho skata hai yahaan khule me puchh taachh karne ka koi vishesh uddeshya raha ho.

SP ko apni taraf aakrisht paa kar bheed ke bahut se chahron par bechaini chha gayi thi.

Imran ke chehre par to bokhlaahat aur murkhta donon hi atkheliyaan kar rahi thin. Ant-tah SP ki nigaah us par tik hi gayi. Wo kuchh pal usay ghoorta raha. Phir bola...."Kyon shrimaan.....wo kis kism ki baaten karta tha aap logon se?'

"ss.....seetiyaan bajaata tha...." Imran ne boklaa kar harbadi me uttar diya.

"Kya matlab....?" SP ne aankhen nikaalin.

"mm....matlab ye ki seetiyon ko dekh kar ladkiyaan bajaata tha.....bb....happp...."

"Kya bakwaas hai...."

"zz.....Zubaan larkhadaati hai....matlab ye ki ladkiyon ko dekh kar seetiyaan bajaata tha...."

"Bakwaas kar raha hai...." Bheed me se kayi krodh bhari aawazen aayin.

"Bakwaas kar raha hai...." Bheed me se kayi krodh bhari aawazen aayin.

Phir kuchh pal sannaata raha uske baad SP ne bheed par nazar daalte huye kaha. "Jo mahashay isay bakwaas samajhte hon wo saamne aayen...."

Teen chaar aadmi age badh aaye. Wo Imran ko krodh bhari nigaahon se dekh rahe the.

"Ye shrimaan shayad nashe me hain." Ek aadmi bola...."Dawar sahab philospher the. Main bhi aksar yahaan aata rahta hun,. Dawar sahab se kayi baar milne ka sanyog hua hai. In sahab ne behudagi dikhaya hai aur Dawar sahab ki pratishtha ke khilaaf apmaan janak baat kahi hai...."

SP ne dusron ki taraf dekha. Unhone ne bhi us aadmi ka samarthan kiya.

"Kyon sahab....?" wo Imran se sambodhit hokar gurraaya.

"Satyanash ho...." Imran muh bisoor kar barbadaaya.

"Kya bak rahe hain aap?"

"Us ladki ka satyanash ho jis ne hamen ye suchna di thi." Imran bhi jhalla kar bola.

Logon ne thahaake lagaaye......aur Imran bhi unhen chidhaane ke andaaz me hans pada. Magar uski hansi me jhunjhlaahat thi.

"Kis ladki ne suchna di thi?" SP ne puchha.

"Agar wo hamaare saamne aayi to ham zaroor pahchaan lenge...."

SP ne ek sub-inspector ki taraf mud kar kaha "Inhen apne sath le jaao......main abhi aa raha hun....."

Bas phir aisa laga jaise Imran ka heart fail ho jaayega. Chehre par murdani si chhaa gayi....aur wo baar baar honton par zubaan pherene laga. Saans dhaukani ki tarah chalne lagi.

"Chaliye mister....." SI ne Imran ke kandhe chhu kar kaha.

Dusri taraf Josef us ladki ko saare cottages me dhoondta phir raha tha.....jis se pichhle din uski jhadap huyi thi. Lekin wo nahin jaanta tha ki is talash ka maksad kya hai. Imran ne usay aadesh diya tha......aur wo be-man se paalan kar raha tha. Warna pata nahin kyon wo to uski shakal bhi nahin dekhna chaahta tha.

Imran ko shayad aadhe ghante tak SP ke aane ka intezaar karna padaa. Cottage me uske alaawa ek SI aur do constable bhi the. SI wahi tha jiske sath wo yahaan aaya tha.

Unhone us se kisi parakar ki baat nahin ki thi. Imran bhi kuchh nahin bola tha. Bas aise hi bhaybheet dhang se baitha raha jaise SP ke aane par usay phaansi par hi latka diya jaayega.

Phir SP aaya. Uski aankhon me uljhan ke bhaav the. Kuchh der Imran ko chinta bhari nigaah se dekhta raha phir bola "Aap kahaan se aaye hain?"

"Rajdhani se ...." Imran ne thook nigal kar kaha.

"Naam...."

"Naam jo kuchh bhi ho lekin ab ham M.Sc., Ph.D.oxun bilkul nahin hain. Ekdam gadhe hain. Aakhir hamen zarurat hi kya thi ki khaamakhaa bol padte."

"Kya matlab?"

"Agar wo philospher tha to hame kya matlab? Agar wo ladkiyon ko dekh kar liliyaan.....arrrr....hppp.....matlab ye ki ladkiyon ko dekh kar sitiyaan bajaata tha to hamaara kya bigaada. Laanat hai.....kis musibat me pad gaye. Mummy thik hi kahti hain ki be-zarurat bakwaas nahin karni chaahiye...."

Sub Inspector aur constable muh pher kar muskuraane lage.......aur SP ne chakit ho kar apni palken jhapkaayin. Shayad uski samajh me nahin aa raha tha ki is vyakti se kis prakar pesh aana chaahiye.

"Agar aap sidhi tarah baat nahin karenge to aap ke hathon me hathkadiyaan hongi.....samjhe."

"Aise awasaron par agar hamen mummy daddy yaad aa jaayen to ham kya karen.....kuchh aur kamzor dil ke hote to peshaab bhi chhut sakti thi. Kis tarah vishwaas dilaayen ki wo behooda baat hamen kal ek ladki ne hi bataayi thi."

Phir Imran us ladki ke baare me kuchh aur kahne hi waala tha ki ek SI cottage me prawesh kiya.

"Kyon....?" SP uski taraf mudaa.

SI ke hath me koi akhbaar tha. Us ne uska ek panna ulat kar SP ki taraf badhaahte huye kaha...."Ek nayi information hai sir.....mujhe to laash aur iss tasweer me thoda sa bhi koi antar nahin nahin dikhayi deta. Ab laash ke chehre par bhi muchhen nahin hain."

SP ne akhbaar lekar page par nazar daali. Imran tasweer to nahin dekh saka tha lekin akhbaar ke baare me uska andaaz tha ki wo 'Daily Mail' hi hoga. Aaj ka Daily Mail wo dekh chuka tha. Magar Tasweer.......usne jhurjhuri si li.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 18 Nov 2015 15:28

आज के अंक मे केवल एक ही तस्वीर थी और उसका संबंध भी एक विगयापन से था. मगर लाश......उसने अभी तक लाश तो नहीं देखी थी.......और ना मरने वाले को ज़िंदगी मे ही अच्छी तरह देख सका था. दिमाग़ मे उसके नैन नक्श भी स्पष्ट नहीं थे. हां मुच्छें ज़रूर याद थीं. वो भी इसलिए की मुच्छों की छाओ से सीटियों के निकालने की हास्यास्पद कल्पना जुड़ी हुई थी.

एसपी अख़बार पर निगाह जमाए रहा. फिर इमरान की तरफ मूड कर बोला...."आप यहीं ठहरेंगे........"

इमरान उसे एसआइ के साथ बाहर जाते देखता रहा.

क्या सच मुच उस से मूर्खता हुई थी? इस समय वो खुद भी इसका फ़ैसला नहीं कर सका. जैसे प्रकट मे एसपी के पुच्छ ताच्छ पर बोल पड़ना मूर्खता ही मालूम हुई थी. वो अपना मूह बंद भी रख सकता था. घाट पर उसके अलावा दर्ज़नों नौजवान मौजूद थे. जवाब देने की ज़िम्मेदारी उसी ने अपने सर क्यों ली?

उसने उस सब इनस्पेक्टर की तरफ देखा जो पहले भी उसके साथ कॉटेज मे मौजूद रहा था. इमरान ने महसूस किया कि वो कुच्छ पुछ्ने केलिए बेताब सा है.

तभी सब इनस्पेक्टर बोल पड़ा...."आप साड़ी & सन्स के यहाँ कब से नौकर हैं?"

इमरान ने सोचा.....ज़हीन आदमी लगता है. लेकिन परिणाम निकालने मे जल्दी करता है. इस प्रकार साड़ी & सन्स के रिफ्रन्स पर उसका संदेह विश्वास मे बदल गया.

"हम नौकर हैं....." इमरान गुस्से भरे लहजे मे बोला "कभी नहीं.........हम क्यों किसी की नौकरी करने लगें.....वाहह...."

एसआइ ने सख्ती से अपना मूह बंद कर लिया. शायद उसे एसपी का ख़याल आ गया था.

साड़ी & सन्स के हवाला पर इमरान को आज का डेली मैल मे प्रकाशित होने वाला विगयापन याद आ गया था जो इसी फर्म की तरफ से प्रकाशित करवाया गया था.

साड़ी & सन्स हीरे और टॉप क्वालिटी की ज्वेल्लेरी सप्लाइ करता था. उसका बिज़्नेस राजधानी मे ही था. उन्होने अपने एक ट्रॅवेलिंग एजेंट की गुमशुदगी की विगयापन छप्वायि थी जो चालीस लाख की ज्वेल्लेरी उनके शो रूम से उड़ा ले गया था.

घटना परसों की थी. विगयापन के साथ ट्रॅवेलिंग एजेंट की तस्वीर भी थी और उसका पता बताने वाले केलिए 50 हज़ार इनाम का वादा भी किया गया था.

मेट्रो के मॅनेजर के बयान के अनुसार मरने वाला भी परसों ही यहाँ पहुचा था. लेकिन वो उसके लिए एकदम अपरिचित था. ये और बात है कि उसने हमेशा एक बड़ी मुच्छों वाले अपाहिज के रोल मे ही देखा था.

विगयापन वाली तस्वीर बिना मुछ वाली थी. और ये भी संभव नहीं था कि कोई अपाहिज किसी फर्म के ट्रॅवेलिंग एजेंट की ड्यूटी अंजाम दे सकता.

अगर सब इनस्पेक्टर ने लाश की शिनाख्त मे ग़लती नहीं की थी तो ये केस काफ़ी दिलचस्प था. पेचिदगियों की संभावनाएँ भी पैदा हो गयी थीं.

मगर वो लड़की और ये घटना.....इमरान सोचता रहा.....ओह्ह लड़की ने भी मुच्छों की सफाई का ही इरादा किया था........तो वो उसकी असलीयत को जानती थी.

मगर अभी इतना आगे बढ़ जाना भी बेवक़ूफी ही है. जब तक ट्रॅवेलिंग एजेंट और अपाहिज एक ही आदमी ना साबित हो जाएँ......आगे और कुच्छ सोचना बेकार ही होता.

इमरान ने अपनी सोचों से पिछा छुड़ाने केलिए अपने सर को एक हल्का झटका दिया.

"च्विन्गम...." उसने जेब से चेविन्गुम का पॅकेट निकाल कर एसआइ की तरफ बढ़ाते हुए कहा.

"नो थॅंक्स...." एसआइ ने उसे हैरत से देखा.

इमरान ने पॅकेट फाड़ कर एक पीस निकाला और उसे मूह मे डाल कर धीरे धीरे कुचलने लगा.

**********

जूलीया ने वॉशरूम से ही फोन की बेल सुनी और तेज़ी से रूम मे आई. कॉल X2 की भी हो सकती थी.......इसलिए रिसीव करने मे सुस्ती मुसीबत का कारण बन सकती थी.

उसका अनुमान ग़लत नहीं था. दूसरी तरफ से उसके रहस्सयमयी चीफ ही की आवाज़ थी. ये और बात है कि दूसरी तरफ ब्लॅक ज़ीरो रहा हो जो इमरान के आब्सेन्स मे X2 का रोल प्ले करता था.

"इमरान एक प्राब्लम मे फँस गया है." दूसरी तरफ से कहा गया......और जूलीया ने लंबी साँस ली.

"कहाँ सर....?"

"सरदारगढ़ के हॉलिडे कॅंप मे. उसका नौकर जोसेफ ये सूचना लाया है. तुम्हें और सफदार को वहाँ पहुचना है."

"कब पहुचना है सर?"

"आधे घंटे के अंदर अंदर रवाना हो जाओ...."

जूलीया ने बुरा सा मूह बनाया फिर बोली...."ओके सर..."

"लेकिन तुम दोनों उस से दूर ही रहोगे....हो सकता है पोलीस उसकी निगरानी कर रही हो. जोसेफ ने फोन पर उसका मेसेज पढ़ कर सुनाया था. वो खुद ही किसी ना किसी तरह तुम से संपर्क कर लेगा, ग्रीन कॉटेज मे है, नंबर178.....बॅस अब जल्दी करो...."

दूसरी तरफ से फोन कट हो गया.

जूलीया ने सफदार के नंबर डाइयल किए.

"यस प्लीज़...." दूसरी तरफ से आवाज़ आई.

"मुसीबत..." जूलीया क्रोध भरे लहजे मे बोली. "ये कम्बख़्त मुसीबतें खोजता रहता है."

"ओह्ह....जूलीया.....किस कम्बख़्त की बात कर रही हो?"

"इमरान की........सरदारगढ़ के हॉलिडे कॅंप मे कुच्छ कर बैठा है. चीफ का ऑर्डर है कि हम दोनों आधे घंटे मे वहाँ केलिए डिपार्ट करें."

"क्या क़िस्सा है?"

"मैं नहीं जान सकी.....लेकिन X2 ने कहा था कि पोलीस उसकी निगरानी कर रही है."

"ओह्ह,,,,,तो फिर कोई हिमाकत कर बैठे होंगे ये श्रीमान...."

"मैं नहीं समझ सकती कि इस आदमी से कैसे पिछा छुड़ाया जाए....ज़रूरी नहीं कि वो जिस प्राब्लम का शिकार हुआ हो वो हमारे डिपार्टमेंट से संबंध रखती हो. लेकिन X2 भी उसके लिए अक्सर अपने प्रिन्सिपल से हट जाता है."

"हटना ही पड़ेगा.......हम मे से कॉन है जिस ने X2 केलिए उस से अधिक कारनामे अंजाम दिए हों?"

"कुच्छ भी हो.....इस प्रकार की ड्यूटीस मुझे बोझ लगती हैं."

"तो फिर क्या ख़याल है?"

"भुगतेन्गे भाई....जल्दी से तैयार हो जाओ....मैं आउ या तुम ही इधर आओगे?"

"मैं आ रहा हूँ...."

जूलीया ने फोन कट कर दिया.

********

जोसेफ काला पहाड़ ही सही लेकिन इशारों का अर्थ समझने मे उसका जोड़ नहीं. उसने दूर ही से इमरान को पोलीस के घेरे मे देखा और ठिठक गया. इमरान ने इशारा किया कि वो उस से दूर ही रहे. फिर भला वो वहाँ कैसे रुकता....!

पोलीस की पुच्छ ताच्छ से जल्दी ही छुटकारा मिल गया.......क्योंकि एसपी भी एसआइ के उस विचार से सहमत हो गया था कि मरने वाला साड़ी & सन्स के ट्रॅवेलिंग एजेंट के अलावा और कोई नहीं. हो सकता. उसका फ़ैसला इमरान की जानकारी मे भी आ गया था......क्योंकि वापसी पर लाश के बारे मे बात चीत उसकी मौजूदगी मे ही हुई थी.

एसपी ने फिर उस लड़की की चर्चा निकाली थी. लेकिन इस बार वो इमरान का मूह नहीं खुलवा सका. आख़िर थक हार कर उसे कहना ही पड़ा कि वो जा सकता है. लेकिन कॅंप उस टाइम तक नहीं छोड़ सकता जब तक कि उसे पोलीस की तरफ से परमिशन नहीं मिले.

वास्तव मे अभी लाश की पहचान की समस्या भी सामने थी. इस बारे मे साड़ी & सन्स के किसी ज़िम्मेदार आदमी का बयान ही अंतिम माना जाता. इसलिए उस इंपॉर्टेंट काम को छोड़ कर छोटी बातों पर कोन ध्यान देता.

इमरान अपने कॉटेज मे वापस आ गया था....और अच्छी तरह संतुष्ट होने के बाद कि उसकी निगरानी नहीं हो रही जोसेफ को शहर भेज दिया था.

जोसेफ मोना की तलाश मे असफल रहा था इसलिए अब इमरान खुद ही उठा. लड़की ने उसे ना तो कॉटेज का नंबर बताया था और ना यही बताया था कि उसका समबंध किस होटेल से है. अगर किसी जगह से सुराग मिलने की आशा थी तो वो कॅंप का इकलौता गेरेज़ ही हो सकता था.

इमरान की मेमोरी मे पता नहीं कैसे उस गाड़ी का नंबर सुरक्षित रह गया था. उसने सोचा कि गेरेज़ मे चाहे उसने अपना नाम सही लिखवाया हो या नहीं लेकिन नंबर तो वही दर्ज होंगे जो उसे याद है.

अनुमान सही निकला. ग़लती की संभावना ही नहीं थी. लेकिन गेरेज़ के रिजिस्टर मे नाम भी मोना पीटरसन ही लिखवाया था....और मेट्रो होटेल के कॉटेज111 उसके नाम दर्ज था. गाड़ी अब गेरेज़ मे नहीं थी. गेरेज़ वाले के बयान के अनुसार कार पिच्छली शाम तक ठीक हो गयी थी......और उसी समय पेमेंट के बाद लड़की उसे ले गयी थी.

रेड कलर की कॉटेज नो111 मे भी कोई विशेष परेशानी नहीं हुई. लेकिन वहाँ मोना की बजाए एक बूढ़ा व्यक्ति दिखाई दिया.

इमरान ने उसे आँखें फाड़ कर देखा और इस तरह बीसूरने लगा जैसे ज़बरदस्ती कोई कड़वी चीज़ खिला दी गयी हो.

"क्या बात है? आप क्या देख रहे हैं?" बुड्ढे ने झल्ला कर पुछा.

"मैं देख रहा हूँ कि आप लाइफ इन्षुरेन्स कराने से पहले ही बूढ़ी हो गयीं...."

"क्या बकवास है...." बूढ़े ने आँखें निकालीं.

"मतलब ये कि मिस मोना पीटरसन ने पिछले दिन अपने कॉटेज का यही नंबर बताया था और वादा किया था कि वो अपनी लाइफ इन्षुरेन्स ज़रूर करवाएँगी."

"ओह्ह.....सत्यानाश हो......वही लड़की तो नहीं जिसके बाल ब्राउन थे.....?"

"जी हां वही वही."

"उसने तुम्हें भी उल्लू बनाया है. तुमने उसे कुच्छ क़र्ज़ तो नहीं दिया?"

"साढ़े तीन रुपये...." इमरान ने मूर्खतापूर्ण ढंग से कहा.

"ओह्ह.....कम ही पर पड़ा...." बूढ़े ने सर हिला कर कहा....."वो बराबर वाले कॉटेज नो110 मे ठहरी थी. ऐसी बिंदास लड़की मैने आज तक नही देखी."

"अच्छाअ...."

"अब क्या बताउ......कैसी सीटियाँ बजाती थी मुझे देख कर.....ज़रा मेरी उमर तो देखो."

इमरान ने हल्के से अपनी खोपड़ी सहलाई.....लेकिन आँखों की पुतलियाँ नचाने का इरादा पोस्टपोंड कर दिया. क्योंकि बूढ़ा उसे बहुत ध्यान से देख रहा था.

:आप इन्षुरेन्स एजेंट हैं...." बूढ़े ने फिर पुछा.

"नहीं...."

"अभी तो आप ने कहा था...."

"फिर क्या कहता कि मैं......यानी कि....हप्प्प....क्या बक रहा हूँ. जी बस मैने यूँही कह दिया था.....इनफॅक्ट मुझे उन से मिलना था और बॅस......ज्ज.....जी हान्ं...."

"लेकिन कुच्छ बात भी तो हो.....वो अब उस कॉटेज मे नहीं है......बिल्कुल सवेरे कहीं चली गयी है. मेरे विचार से सामान भी ले गयी है. मैं किसी ऐसे आदमी की तलाश मे ही था जिस से उसके बारे मे कुच्छ पता कर सकूँ. आइए भीतर आइए...."

इमरान बेहिचक उसके साथ अंदर चला गया.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 18 Nov 2015 15:28

Aaj ke ank me kewal ek hi tasweer thi aur uska sambandh bhi ek vigyaapan se tha. Magar laash......usne abhi tak lash to nahin dekhi thi.......aur na marne waale ko zindagi me hi achhi tarah dekh saka tha. Dimaag me uske nain naksh bhi spasht nahin the. Haan muchhen zaroor yaad thin. Wo bhi isliye ki muchhon ki chhaaon se seetiyon ke nikalne ka haasyaaspad kalpana judi huyi thi.

SP akhbaar par nigaah jamaaye raha. Phir Imran ki taraf mud kar bolaa...."Aap yahin thahrenge........"

Imran usay SI ke sath baahar jaate dekhta raha.

Kya sach much us se murkhta huyi thi? Iss samay wo khud bhi iska faisla nahin kar saka. Jaise prakat me SP ke puchh taachh par bol padna murkhta hi maloom huyi thi. Wo apna muh band bhi rakh sakta tha. Ghaat par uske alaawa darzanon naujawaan maujood the. Jawaab dene ki zimmedari usi ne pane sar kyon li?

Usne us sun inspector ki taraf dekha jo pahle bhi uske sath cottage me maujood raha tha. Imran ne mahsoos kiya ki wo kuchh puchhne keliye betaab sa hai.

Tabhi sun inspector bol pada...."Aap Saadi & Sons ke yahaan kab se naukar hain?"

Imran ne socha.....zaheen aadmi lagta hai. Lekin parinaam nikaalne me jaldi karta hai. Is prakar Saadi & Sons ke refrance par uska sandeh vishwaas me badal gaya.

"Ham naukar hain....." Imran gusse bhare lahje me bola "Kabhi nahin.........ham kyon kisi ki naukari karne lagen.....waahh...."

SI ne sakhti se apna muh band kar liya. Shayad usay SP ka khayaal aa gaya tha.

Saadi & Sons ke hawaala par Imran ko aaj ka Daily mail me prakashit hone waala vigyaapan yaad aa gaya tha jo isi firm ki taraf se prakashit karwaaya gaya tha.

Saadi & Sons heere aur top quality ki jwellery supply karta tha. Uska business rajdhani me hi tha. Unhone apne ek travelling agent ki gumshudgi ki vigyapan chhapwaayi thi jo chaalis laakh ki jwellery unke show room se udaa le gaya tha.

Ghatna parson ki thi. Vigyapan ke sath travelling agent ki tasweer bhi thi aur uska pata bataane waale keliye 50 hazaar inaam ka waada bhi kiya gaya tha.

Metro ke manager ke bayaan ke anusaar marne waala bhi parson hi yahaan pahuchaa tha. Lekin wo uske liye ekdam aprichit tha. Ye aur baat hai ki usne hamesha ek badi muchhon waale apahij ke role me hi dekha tha.

Vigyapan waali tasweer binaa muchh waali thi. Aur ye bhi sambhav nahin tha ki koi apahij kisi firm ke travelling agent ki duty anjaam de sakta.

Agar sub inspector nr laash ki shinaakht me galati nahin ki thi to ye case kaafi dilchasp tha. Pechidgiyon ki sambhavanaayen bhi paida ho gayi thin.

Magar wo ladki aur ye ghatnaa.....Imran sochta raha.....Ohh ladki ne bhi muchhon ki safaayi ka hi iraada kiyaa tha........to wo uski asleeyat ko jaanti thi.

Magar abhi itnaa age badh jaana bhi bewaqoofi hi hai. Jab tak travelling agent aur apaahij ek hi aadmi na saabit ho jaayen......age aur kuchh sochna bekaar hi hota.

Imran ne apni sochon se pichha chhudaane keliye apne sar ko ek halka jhtkaa diya.

"Chewingum...." usne jeb se chewingum ka packet nikaal kar SI ki taraf badhaate huye kaha.

"No thanks...." SI ne usay hairat se dekha.

Imran ne packet phaad kar ek piece nikaala aur usay muh me daal kar dhire dhire kuchalne laga.

**********

Julia ne washroom se hi phone ki bell suni aur tezi se room me aayi. Call X2 ki bhi ho sakti thi.......isliye receive karne me susti musibat ka kaaran ban sakti thi.

Uska anumaan galat nahin tha. Dusri taraf se uske rahassyamayi chief hi ki aawaz thi. Ye aur baat hai ki dusri taraf black zero raha ho jo Imran ke absence me X2 ka role play karta tha.

"Imran ek problem me phans gaya hai." Dusri taraf se kaha gaya......aur Julia ne lambi saans li.

"Kahaan sir....?"

"Sardargadh ke Holiday camp me. Uska naukar Josef ye suchna laaya hai. Tumhen aur Safdar ko wahaan pahuchna hai."

"Kab pahuchna hai sir?"

"Aadhe ghante ke andar andar rawaana ho jaao...."

Julia ne buraa sa muh banaaya phir boli...."Ok sir..."

"Lekin tum donon us se door hi rahoge....ho sakta hai police uski nigraani kar rahi ho. Josef ne phone par uska message padh kar sunaaya tha. Wo khud hi kisi na kisi tarah tum se sampark kar lega, Green cottage me hai, number178.....bass ab jaldi karo...."

Dusri taraf se phone dc ho gaya.

Julia ne Safdar ke number dial kiye.

"Yes please...." Dusri taraf se aawaz aayi.

"Musibatttt..." Julia krodh bhare lahje me boli. "Ye kambakht musibaten khojta rahta hai."

"Ohh....Julia.....kis kambakht ki baat kar rahi ho?"

"Imran ki........Sardargadh ke Holiday Camp me kuchh kar baitha hai. Chief ka order hai ki ham donon aadhe ghante me wahaan keliye depart karen."

"Kya qissaa hai?"

"Main nahin jaan saki.....lekin X2 ne kaha tha ki police uski nigraani kar rahi hai."

"Ohh,,,,,to phir koi himaakat kar baithe honge ye shrimaan...."

"Main nahin samjh sakti ki is aadmi se kaise pichha chhudaaya jaaye....zaroori nahin ki wo jis problem ka shikaar hua ho wo hamaare department se sambandh rakhti ho. Lekin X2 bhi uske liye aksar apne principle se hat jaata hai."

"Hatnaa hi padegaa.......ham me se kon hai jis ne X2 keliye us se adhik kaarnaame anjaam diye hon?"

"Kuchh bhi ho.....is prakar ki duties mujhe bojh lagti hain."

"To phir kya khayaal hai?"

"Bhugatenge bhai....jaldi se taiyar ho jaao....main aaun ya tum hi idhar aaoge?"

"Main aa raha hun...."

Julia ne phone dc kar diya.

********

Josef kaala pahaad hi sahi lekin ishaaron ka arth samajhne me uska jodaa nahin. Usne door hi se Imran ko police ke ghere me dekha aur thithak gaya. Imran ne ishara kiya ki wo us se door hi rahe. Phir bhala wo wahaan kaise ruktaa....!

Police ki puchh taachh se jaldi hi chhutkaara mil gaya.......kyonki SP bhi SI ke uss vichaar se sahmat ho gaya tha ki marne waala Saadi & Sons ke travelling agent ke alaawa aur koi nahin. ho sakta. Uska faislaa Imran ki jaankaari me bhi aa gaya tha......kyonki waapasi par laash ke baare me baat cheet uski maujoodagi me hi huyi thi.

SP ne phir us ladki ki charcha nikaali thi. Lekin is baar wo Imran ka muh nahin khulwaa saka. Aakhir thak haar kar usay kahna hi pada ki wo jaa sakta hai. Lekin Camp us time tak nahin chhod sakta jab tak ki usay police ki taraf se pemission nahin mile.

Vastav me abhi laash ki pahchaan ki samassya bhi saamne thi. Iss baare me Saadi & Sons ke kisi zimmedar aadmi ka bayaan hi antim maana jaata. Isliye us important kaam ko chhod kar chhoti baaton par kon dhyaan deta.

Imran apne cottage me waapas aa gaya tha....aur achhi tarah santusht hone ke baad ki uski nigraani nahin ho rahi Josef ko shahar bhej diya tha.

Josef Mona ki talash me asafal raha tha isliye ab Imran khud hi utha. Ladki ne usay na to cottage ka number bataaya tha aur na yahi bataaya tha ki uska samabandh kis hotel se hai. Agar kisi jagah se suraag milne ki aasha thi to wo camp ka iklautaa garrage hi ho sakta tha.

Imran ki memory me pata nahin kaise us gaadi ka number surakshit rah gaya tha. Usne socha ki garrage me chaahe usne apna naam sahi likhwaaya ho ya nahin lekin number to wahi darj honge jo usay yaad hai.

Anumaan sahi niklaa. Galati ki sambhaavna hi nahin thi. Lekin garrage ke register me naam bhi Mona Peterson hi likhwaaya tha....aur Metro hotel ke cottage111 uske naam darj tha. Gaadi ab garrage me nahin thi. Garrage waale ke bayaan ke anusaar car pichhli shaam tak thik ho gayi thi......aur usi samay payment ke baad ladki usay le gayi thi.

Red colour ke cottage No111 me bhi koi vishesh pareshani nahin huyi. Lekin wahaan Mona ke bajaaye ek budha vyakti dikhayi diya.

Imran ne usay aankhen phaad kar dekha aur is tarah bisoorne laga jaise zabardasti koi kadwi chiz khilaa di gayi ho.

"Kya baat hai? Aap kya dekh rahe hain?" Buddhe ne jhalla kar puchha.

"Main dekh raha hun ki aap life insurance karaane se pahle hi budhi ho gayin...."

"Kya bakwaas hai...." budhe ne aankhen nikaalin.

"Matlab ye ki miss Mona peterson ne pichhke din apne cottage ka yahi number bataaya tha aur waada kiya tha ki wo apni life insurance zaroor karwaayengi."

"Ohh.....satyanash ho......wahi ladki to nahin jiske baal brown the.....?"

"Ji haan wahi wahi."

"Usne tumhen bhi ulloo banaya hai. Tumne usay kuchh karz to nahin diya?"

"Saadhe teen rupiye...." Imran ne murkhtapurn dhang se kaha.

"Ohh.....kam hi par pada...." Budhe ne sar hila kar kaha....."Wo barabar waale cottage No110 me thahri thi. Aisi bindaas ladki maine aaj tak nahi dekhi."

"Achhaaa...."

"Ab kya bataaun......kaisi seetiyaan bajaati thi mujhe dekh kar.....zara meri umar to dekho."

Imran ne halke se apni khopadi sahlaayi.....lekin aankhon ki putliyaan nachaane ka iraata postpond kar diya. Kyonki budha usay bahut dhyaan se dekh raha tha.

:Aap insurance agent hain...." Budhe ne phir puchha.

"Nahin...."

"Abhi to aap ne kaha tha...."

"Phir kya kahta ki main......yaani ki....hppp....kya bak raha hun. Ji bas maine yunhi kah diya tha.....infact mujhe un se milna tha aur bass......jj.....ji haann...."

"Lekin kuchh baat bhi to ho.....wo ab us cottage me nahin hai......bilkul sawere kahin chali gayi hai. Mere vichaar se saaman bhi le gayi hai. Main kisi aise aadmi ki talash me hi tha jis se uske baare me kuchh pata kar sakun. Aaiye bhitar aaiye...."

Imran behichak uske sath andar chala gaya.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: हीरों का फरेब

Postby Jemsbond » 18 Nov 2015 15:43



"बैठिए...." बूढ़े ने कहा और तब तक खड़ा ही रहा जब तक इमरान बैठ नहीं गया.

इमरान उसे टटोलने वाली नज़र से देख रहा था और सोच रहा था कि अब उसे सतर्क हो जाना चाहिए. शायद वो किसी ऐसे आदमी से आ टकराया है जिसका उस लड़की से कुच्छ ना कुच्छ संबंध ज़रूर था.

"वो लड़की...." बूढ़े ने लंबी साँस ली...."या तो पागल थी या जल्दी ही हो जाएगी. जब उसने मुझे देख कर इशारे किए थे और सीटियाँ बजाई थीं तो मुझे गुस्सा आ गया था. मैं सख़्त बातें कही थी और वो बोली थी कि वो तो बदला ले रही है. फिर बताया कि एक सीधा और शरीफ आदमी चूँकि उसे इसी तरह परेशान करता था इस लिए वो भी ऐसे आदमियों को बोर करती फ़िरेगी......जो उस से ऐसी उम्मीद ना रखते हों."

"उफ्फॉ....." इमरान ने अहमकों की तरह अपनी आँखें फाडी "लेकिन पोलीस...."

"पोलीस......मैं समझा नहीं...."

इमरान ने लड़की की कहानी दुहराई और बूढ़ा हैरत से सुनता रहा. फिर बोला.

"ओह्ह.....वो अपाहिज आदमी......जिसकी लाश पाई गयी है....."

"हां.....मोना ने यही बताया था कि उसे देख कर सीटियाँ बजाता था और इशारे करता था...."

"मगर वो तुम्हें उसके कॉटेज तक क्यों ले जाना चाहती थी?"

"पता नहीं...."

"रूको.....ये बताओ कि उसने ये बातें तो तुम से की थीं......पोलीस को इसकी सूचना कैसे हुई?"

"लोग कह रहे थे कि अपाहिज अच्छा आदमी था.......वो क्या कहते हैं उसे जो बड़ी घूमाओ फिराव वाली बातें करते हैं...."

"फिलोसफेर....."

"हां....हां....वही......वो कह रहे थे कि वो फिलोसफेर था. बस मुझे ताओ आ गया. मैने कह दिया......पक्का सूअर था. लड़कियों को देख कर सीटियाँ बजाता था......आवाज़ें कसता था. बस पोलीस ऑफीसर ने धर लिया मुझे."

"धर लिया......मतलब?"

"अर्रे बड़ी मुश्किल से जान छूटी है....वो मुझ से पुच्छ रहे थे कि बताओ किस लड़की ने ये बकवास की थी. मैने कहा बस एक लड़की को कहते सुना था.......अगर वो मेरे सामने लाई जाए तो ज़रूर पहचान लूँगा."

"तुम ने ये भी बताया था कि लन्गडे के कॉटेज तक ले जाना चाहती थी?"

अचानक इमरान दोनों हाथों से अपना सर पीटने लगा. ज़ोर ज़ोर से गालों पर दो चार थप्पड़ भी लगाए.

"अर्रे......अर्रे...." बूढ़ा सच मुच बोखला गया.

"क्यों बता दिया......तुम्हें ही क्यों बताया.....हाए मेरी ज़ुबान....फिसल ही गयी....." इमरान फिर से अपने सर पर दोहत्थड चलाने लगा.

"रूको....रूको....." बूढ़े ने उठ कर उसके हाथ पकड़ लिए.

"क्या रुकु......मुझ से बड़ा गधा शायद ही आज तक पैदा हुआ हो...."

"नहीं चिंता मत करो.....क्या तुम ने पोलीस को नहीं बताया था?"

"बता कर गर्दन कटवाता अपनी...."

"बहुत अच्छा किया......भला तुम उसे कहाँ ढूँढते फिरते.....परिणाम यही होता कि पोलीस तुम्हें ही पकड़ती. अच्छा तो क्या वो पिच्छली रात तुम्हारे पास गयी थी?"

"नहिन्न...." इमरान गुस्से वाले लहजे मे कहा.

"तो फिर अब तुम उसे क्यों तलाश कर रहे हो?"

"ये भी पागलपन ही है...." इमरान ने ठंडी साँस ली. शुद्ध आशिक़ाना अंदाज़ था.

"तुम क्या सोचते हो.....लन्गडे की मौत मे लड़की का हाथ हो सकता है....."

"यार बड़े मियाँ....ऐसी दिल दहला देने वाली बातें मत करो." इमरान ने सीने पर हाथ रख कर होंटो पर ज़ुबान फेरी और धीरे से बडबडाया....."कहीं मेरा हार्ट फैल ना हो जाए."

"नहीं नहीं......वो ऐसा नहीं कर सकती. मुझे विश्वास है......मगर महाशय....." वो अर्थ-पूर्ण ढंग से सर हिला कर मुस्कुराया......और बाईं आँख दबा कर बोला...."दिल दे बैठे हो शायद."

अचानक इमरान के चेहरे पर भूकंप के लक्षण दिखाई दिए. नथुने फडक रहे थे....होन्ट काँप रहे थे.......और फिर आँखों मे आँसू भी तैरने लगे......और उसने झपाक से मूह छुपा कर रोना भी शुरू कर दिया. बस अंदाज़ ऐसा था जैसे इस तरह रो पड़ने पर शर्मिंदगी भी हो.....लेकिन रुलाई को रोकना उसके वश से बाहर हो.

"अर्रे.....अर्रे.....नहीं.....रूको सुनो....नन्हे बच्चे......" बूढ़ा उठ कर उसका कंधा थपकने लगा. "आहह....मैं जानता हूँ.....ये पल कितने जान-लेवा होते हैं. मुझे तुम से हमदर्दी है. हर उस आदमी से हमदर्दी है जो मुहब्बत करता है.......ये आँसू नहीं हैं.....सितारे हैं....."

इमरान फूट फूट कर रोता रहा और सोचता रहा........बड़ी मेहनत करनी पड़ रही है तुम्हारे लिए बूढ़े बेटे.....सौदा महँगा रहेगा. पता नहीं तुम लोग मुझे किस चक्कर मे फसाना चाहते थे. मगर आँधी ने खेल बिगाड़ दिया. और अब भी तुम किसी चक्कर मे हो. मतलब तुम्हें आशा थी कि गेरेज़ के द्वारा कॉटेज का पता लगा कर मैं यहाँ ज़रूर आउन्गा. हो सकता है कि लड़की से मुलाकात संयोग ही रही हो.......लेकिन बाद मे निश्चित रूप से मुझे किसी साज़िश का मोहरा बनाने की स्कीम तैयार की गयी थी.

"ओह्ह.....अब चुप भी हो जाओ.....लड़की सचमुच नटखट थी......लेकिन वो किसी को क़तल नहीं कर सकती थी. मैं अपने 60 साल के अनुभव के आधार पर कह सकता हूँ कि वो निर्दोष थी. संभव है कि शरारत से उस लन्गडे की मुछ सॉफ कर देने की स्कीम बनाई हो. मगर तुम कहते हो कि उसकी मुच्छें नकली थीं."

"हां हां....वो ऑफीसर यही कह रहा था. वो तो कह रहा था कि वो आदमी अपाहिज भी नहीं था. दोनों टाँगें ठीक थीं."

"पता नहीं भाई.....मगर वो लड़की कोई बुरी लड़की नहीं थी.......बस तुम उसे नटखट कह सकते हो."

"मगर अब मैं क्या करूँ?" इमरान दर्दनाक आवाज़ मे बोला. "पोलीस ने मुझ पर पाबंदी लगा दी है. मैं कॅंप से तब तक नहीं जा सकता जब तक पोलीस अनुमति नहीं दे. अर्थात क़ैदी हूँ. मेरा नौकर भी भाग निकला."

"भाग निकला....?"

"जी हां.....मुझे पोलीस के घेरे मे देख कर खिसक गया. नालयक हबशी.....आइन्दा के लिए कान पाकडूं कि अब किसी नीग्रो को कभी नौकर नहीं रखूँगा. कम्बख़्त सीधा घर जाएगा....लेकिन नहीं. ऐसी मूर्खता नहीं करेगा. घर जाकर बताएगा तो उसी की खाल उधेड़ दी जाएगी......कि वो मुझे इस मुसीबत मे छोड़ कर भाग क्यों आया."

"मुझे तुम से हमदर्दी है नौजवान. खुदा करे तुम पोलीस के चक्कर से सुरक्षित रहो. वैसे पुलिस से कोई बात छुपाना अच्छा नहीं होता. अच्छा रूको.....मुझे सोचने दो."

इमरान ऐसे भक्तों की तरह उसको देखने लगा जैसे वो वो ही उसे चुटकारे का रास्ता दिखाने वाला हो.

कुच्छ देर बाद बूढ़ा चुटकी बजा कर बोला....."उन्ह....क्या बड़ी बात है......मैं गवाही दूँगा कि उसी ने अपाहिज के बारे मे यहाँ अफवाहें फैलाई थीं. और हम दोनों ही को इस बात पर राज़ी किया था कि हम उसकी बदला लेने मे उसकी मदद करेंगे......क्यो कैसी रही?"

"नहीं...." इमरान कानों पर हाथ रखता हुआ बोला...."बिना मतलब कोई नयी मुसीबत खड़ी हो जाएगी....."

"ऐज यू विश......वैसे मैं वादा करता हूँ कि तुम्हें पोलीस ने परेशान किया तो मैं हर तरह से तुम्हारी मदद करूँगा. केयी बड़े बड़े ऑफिसर्स से मेरे अच्छे संबंध हैं. मगर तुम कहाँ रहते हो, क्या करते हो और किस परिवार से संबंध है तुम्हारा?"

"मैं पढ़ता हूँ......लेकिन ये कभी नहीं बताउन्गा कि किस परिवार का हूँ......परिवार की बदनामी होगी. मैने पोलीस को भी नहीं बताया. कभी नहीं बताउन्गा चाहे फाँसी ही पर क्यों ना चढ़ जाउ....."

"शरीफ आदमी लगते हो."

"अच्छा तो फिर अब मैं जाउ?" इमरान ने मूर्खों की तरह पुछा.

"ओके....." बूढ़ा उठ कर हाथ बढ़ाता हुआ बोला. "अगर कभी कठिनाई आ पड़े तो मुझे मत भूलना...."

इमरान बाहर निकल आया. वो जानता था कि अब पोलीस विशेष तौर पर उसमे रूचि लेगी. साज़िश करने वाले पूरी तरह फँसाने की कोशिश करेंगे.

पुच्छ ताछ के दौरान वो खुद ही बोल पड़ा था इसलिए पोलीस की निगाह मे आया था. अगर ना बोलता तब भी ऐसी परिस्थिति पैदा की जाती कि पोलीस उसकी तरफ आकृषित हो जाती.

अब वो अपनी समझ से एक रोचक खेल शुरू करने जा रहा था.

उसे साजिश का शक पहले ही से था. इसलिए जोसेफ को शहर भेजने से पहले अच्छी तरह समझा दिया था कि वो गाड़ी से मेक-अप का सामान निकाल कर कहाँ छुपा देगा. और इस समय कॉटेज से निकलने से पहले वो सारी चीज़ें साथ ले ली थीं......जिन से उसके व्यक्तित्व पर प्रकाश पड़ सकता. शेष सामान वहीं पड़ा रहने दिया था. जोसेफ गाड़ी ले गया था और अब उसे वापस नहीं आना था.

***************
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Return to “Thriller Stories”

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest