रहस्यमई आँखें complete

Jemsbond
Super member
Posts: 4291
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: रहस्यमई आँखें

Post by Jemsbond » 16 Oct 2016 15:55


"तुम बहुत खूबसूरत हो." उसने कहा. मैं बस मुस्कुरा दी. वास्तव में मैं थोड़ी खूबसूरत तो थी. मेरा रंग बचपन से ही गोरा था और नैन नक़्श भी अच्छे थे.

"संभल कर रहना." उसने आगे कहा.

"क्या?"

"खूबसूरती बहुत महंगा गहना हैं, जल्दी चोरी होता हैं." मैं कुछ देर उसे देखती रही और फिर वापस अपना सामान ज़माने लगी. "तुम नहाकर प्रार्थना के लिए आ जाओ." उसने मुड़ते हुए कहा.

"प्रार्थना?" मेरे मुंह से निकला. मैं अब तक के सफर से बहुत थक चुकी थी. मैंने सोचा था कि अब कुछ देर आराम करुँगी. मगर इनकी* तो कुछ और ही योजना लग रही थी.

"हां प्रार्थना. हम प्रार्थना करने के बाद ही भोजन ग्रहण करते हैं. तुम्हे भूख भी लगी होगी न?" उसके खाने का नाम लेने के बाद ही मुझे याद आया था की मुझे खाना भी खाना हैं, वरना मैं तो थकान के आगे खाने के बारें में भी भूल गयी थी. "मगर नहाना कहा हैं?" मैंने आसपास नज़र डालते हुए कहा. यहाँ कही भी कोई गुसलखाना नज़र नही आ रहा था.

"हम लोग तो सुबह-सुबह* घाट पर ही नहाते हैं, मगर तुम अभी पीछे बने गुसलखाने में नहा लो." उसके बाद मैंने अपने कपडे लिए और पीछे-पीछे चल दी. वो किसी कुशल पथ-प्रदर्शक(गाइड) की तरह मुझे इस जगह का परिचय करवा रही थी. ऐसा लग रहा था मुझे देख कर वो भी बहुत खुश थी. रास्ते में मिलने वाला हर व्यक्ति मुझे कोतूहल की दृष्टि से देख रहा था. शायद उनमें से किसी को भी मेरे बारें में कुछ पता नहीं था.

स्नान के बाद देवप्रभा मुझे नीचे बने बड़े हॉल में ले गयी. यहाँ पर सभी लोग एक साथ पंक्तिवार एकत्रित हुए थे, बिलकुल जैसे किसी विद्यालय के छात्र हो. मैं और देवप्रभा भी लड़कियों की बनी एक लाइन में खड़े हो गए. उसमें कुछ स्त्रियां थी और कुछ हमारी उम्र की ही लड़कियां थी.

सामने एक ऊँचा आसान लगा था. जिसके पास ही दो सेवादार खड़े थे. कुछ देर बाद वहां नित्यानंद जी आये. सभी लोगो ने उन्हें प्रणाम किया. उन्होंने अपनी आँखे बंद की और मंत्र का जाप किया बाकि सब लोग भी आँखे बंद कर साथ-साथ जाप कर रहे थे.

"नमःस्ते अस्तु भगवन
विश्वेश्वराय
महादेवाय
त्रयंबकाय
त्रिपुरान्तकाय
त्रिकाग्निकलाय
कलाग्निरूद्राय
नीलकंठाय
मृत्युंजयाय्
सर्वेश्वराय
सदाशिवाय
श्रीमन् महादेवाय नमः

||ॐ शांतिः||"

मैंने कही पढ़ा था यह भगवान रूद्र का नमस्कार्थ मंत्र था, जिसे रूद्र की स्तुति में पढ़ा जाता था. इसके बाद सबने आँखे खोली. आखे खोलने पर मुझे लगा कि कोई मुझे घूर रहा हैं. यह कोई 16-17 साल का लड़का था पुरुषो की पंक्ति में जो मुझे देख कर भद्दी सी हंसी निकाल रहा था. अजीब बात हैं सब यहाँ प्रार्थना कर रहे थे और वो लड़का मुझे देख रहा था.

"मित्रो मैं आज आप सबको एक नए मेहमान से मिलवाना चाहता हूँ." तभी* नित्यानंद जी ने कहा.
"अवंतिका..." उन्होंने मेरी और देखते हुए मुझे ऊपर मंच पर आने के लिए कहा.* मैं क़तार से बाहर निकल कर ऊपर चली गयी.

"यह बच्ची यहाँ की नई विद्यार्थी हैं, अब यह यहीं रह कर ज्ञानार्जन करेगी. सभी लोग ख्याल रखे की इसे कोई तकलीफ नही होनी चाहिए." इसके बाद सभा समाप्त हुई और सब खाना खाने लगे. मैंने देखा कि वो लड़का अब भी रह-रह कर मुझे घूर रहा था. देवप्रभा मेरी नज़रो को भांप गयी.* उसने मुझे चुपचाप* खाना खाने का इशारा किया.*

खाना खाने के बाद हम वापस अपने कमरे की तरफ जाने लगे. तभी वो लड़का दौड़ते हुए मेरी तरफ आया. "अवंतिका..मेरा नाम रवि हैं. मुझसे दोस्ती करोगी." उसने अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए कहा. मैंने देवप्रभा की ओर देखा. उसने कहा तो कुछ नही मगर उसके चेहरे ने कह दिया कि न कर दो. मगर अचानक मेरा हाथ आगे बढ़ गया. उसने मेरे हाथ अपने हाथ में लिया और अजीब तरीके से मसलने लगा. मैंने अपना हाथ खींच लिया और वहां से भाग गयी. वो वहां खड़ा-खड़ा हंसने लगा.

अवन्तिका भी मेरे पीछे-पीछे ही आ गयी. "मैंने कहा था खूबसूरती महंगा गहना हैं. तुम्हे इन्ही चोरो से बचना हैं." उसने मेरे कमरे में आते हुए कहा.

"कौन था वो कमीना?"

"वो रवि हैं. नित्यानंद गुरु का लड़का हैं. मगर ऐसा लगता हैं देवता के घर राक्षस पैदा हुआ हैं. एक-दो बार मेरे साथ भी इसने ऐसा ही किया था. उसके बाद तो मैं उससे दूर ही रहती हूँ, तुम भी उससे सम्भल कर ही रहना" उसके बाद वो चली गयी.

मैं कुछ देर सोई और जब उठी तो* वो वापस मेरे कमरे में आ गयी. "चल तुझे घाट घुमा कर लाती हूँ." उसने मुझे पकड़कर खींचते हुए कहा.

"हम अकेली?"

"तो क्या पूरा शहर जाएगा? सुबह चार बजे उठकर हमें वहां नहाने जाना होता हैं. मगर सुबह तो वहां कुछ दिखेगा ही नही सो अभी घूम कर आते हैं." उसने एक चंचल आवाज में कहा, मगर मुझे कुछ समझ में नही आया।

हम दोनों घूमने निकल गए. घाट यहाँ से कोई दो-तीन किलोमीटर दूर था. वहां जाने में ही आधा-पौन घंटा लग गया. यह गंगा के किनारे विशाल घाट थे. कुछ लोग वहां अभी भी नहा रहे थे. उनमें से कुछ साधू थे. कुछ नागा साधू भी थे.जिन्हें देख कर मैं शरमा गयी.

"हा..हा...ऐसे नज़ारे यहाँ रोज देखने को मिलते हैं." देवप्रभा ने मुझे आँख मारते हुए कहा.

"मगर हम सुबह यहाँ कैसे नहायेंगे? यहाँ तो इतने सारे लोग रहते हैं." मैंने आशंकित होते हुए पूछा.

"हम सुबह जल्दी आएंगे. तब यहाँ कोई नही रहता सिर्फ स्त्रियां ही आती हैं. पुरुष उजाला होने के बाद ही आते हैं." उसने मुझे सारी व्यवस्था समझाते हुए कहा.

कुछ देर वहां और घूमने के बाद हम वहीँ पास के ही बाजार में गए. वहां तरह-तरह की दुकाने थी. मैं वो सब निहारने लगी. तभी मैं एक कंगन की दूकान पर रुकी.

"क्या हुआ?" देवप्रभा ने कहा.

"देख न कितने खूबसूरत कंगन हैं?" मैंने एक कंगन का सेट हाथ में लेते हुए कहा.

"तुझे पसंद हैं? मगर हम पैसे तो लाये ही नही!" उसने मायूस होते हुए कहा. मैंने कंगन का सेट वापस रख दिया और आगे बढ़ गयी।

"हम दिलवा दे कंगन?" तभी पीछे से आवाज आई. मैंने पीछे मुड़कर देखा तो यह वही लड़का था रवि.

"चल यहां से..." देवप्रभा ने मुझे खींचते हुए कहा. हम उसके बाद आश्रम आ गए. मुझे अपने कमरे में छोड़ने के बाद देवप्रभा चली गयी.

मैं अपना सामान देखने लगी. तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. मैंने दरवाजा खोला। यह रवि था.

"क्या हैं?" मैंने थोडा गुस्से से कहा.

"हम तुम्हारे लिए कंगन लाये हैं." उसने वही कंगन का सेट दिखाते हुए कहा जो मैं वहां छोड़ आई थी। वो अब तक कमरे के अंदर आ चूका था.

"मुझे नही चाहिए." मैंने उसी गुस्से में कहा. मेरे सर पर पसीना आ गया था.

"कैसे नही चाहिए? हम इतने प्यार से लाये हैं और तुम्हे पसंद भी तो थे."

"बोला न नहीं चाहिए....बाहर निकलो यहाँ से..." मैंने बाहर की तरफ इशारा करते हुए कहा.

"चलो न चाहिए तो न सही...एक बार पहन कर ही दिखा दो..." उसने जबरदस्ती मेरा एक हाथ पकड़ा और और उसमें कंगन पहनाने* लगा. मैं दूसरे हाथ से उसे रोकने लगी. इसी हाथापाई में एक कंगन टूट गया और मेरे हाथ में चुभ गया. वहां से खून बहने लगा लेकिन वो रुका ही नही जैसे उस पर कोई भुत सवार हो.

"रवि! यह क्या कर रहे हो?" तभी पीछे से एक आवाज आई. यह पन्दरह-सोलह साल का एक मोटा सा लड़का था. उसने पास में आकर रवि का गिरेबान पकड़कर उसे को दूर फेंक दिया.

"वीरेंद्र तु हमेशा मेरे फटे में टाँग अड़ाता हैं..." रवि न गुस्से से कहा.

"अभी तो तेरा कुछ फटा नही हैं...इससे पहले की* फटे चुपचाप निकल ले." वीरेन्द्र ने उसे आँखे दिखाते हुए कहा. रवि वहां से भाग खड़ा हुआ.* मेरे हाथ से खून बह रहा था और आँखों से आंसू... मैं सिसक कर रोने लगी।

"ओह! तुम्हे तो चोट लगी हैं." उसने मेरा हाथ देखते हुए कहा.

"देव..." मैंने रोते हुए ही कहा. "देवप्रभा को बुलाओ..."

वो कुछ देर में देवप्रभा को बुलाकर ले आया. वो अपने साथ में मलहम पट्टी भी लाई थी. मैंने पट्टी करवाते हुए उसे सारी बात बता दी.

"वो तो हैं ही राक्षस...आज ही गुरूजी से उसकी शिकायत करती हूँ."

"ये कौन था?" मैंने विरेन्द्र के बारें में पूछा.

"ये वीरेंद्र हैं....वीरेंद्र राणा!"

"अब तू आराम कर और दरवाजा अंदर से बंद कर देना, उस कमीने का कोई भरोसा नही है फिर से आ सकता हैं." देवप्रभा ने कहा और* उसके बाद देवप्रभा अपने कमरे में चली गयी. कुछ देर बाद मैं भी सो गई.

सुबह चार बजे के आस पास कोई जोर की आवाज हुई जिससे मेरी नींद खुली. यह एक घंटे की आवाज थी जो बाहर गार्डन में लगा हुआ था. उसकी आवाज इतनी तेज थी की इस इमारत के आखिर छोर तक भी सुनाई दे सकती थी. वो घंटा आठ-दस बार लगातार बजा. जिसके बाद वापस सो पाना लगभग असंभव था. मेरा सर भी दर्द करने लगा था. तभी मेरे दरवाजे पर दस्तक हुई.

"कौन?" मैंने डरते हुए ही पूछा.

"मैं देवी...हमें नहाने जाना हैं." मुझे याद आया कि यहाँ तो रोज सुबह घाट पर नहाने जाते हैं. लेकिन इतनी ठण्ड में सुबह सुबह घाटे पर नहाने जाने के बारें में सोच कर ही सिहरन हो गई थी. फिर भी मैंने अपने कपडे उठाये और बाहर आ गयी.

"जल्दी चल सारी स्त्रियां निकल चुकी हैं." वो आगे चल दी. मैंने दरवाजा बंद किया और* दौड़ कर उसके पीछे हो गयी. फिर वही आधे-पौन घंटे के बाद हम घाट पर पहुंचे मगर इतनी देर चलने के बाद अच्छी खासी वर्जिश हो गई थी जिससे अब ठण्ड लगना कम हो गई थी. मैंने देखा कि घाट के दूसरे किनारे और भी काफी सारी स्त्रियां नहा रही हैं. उनमें से अधिकतर अर्धनग्न थी.* मैं पानी के पास गई और उसे हाथ लगा के देखा.

"अरे बाप रे! यह तो बहुत ठंडा हैं." मैंने डरते हुए कहा.

"जब तक हम पानी में नही उतरते वो ठंडा ही लगता हैं." मैंने उसकी तरफ देखा तो भौचक्की रह गयी. उसने भी अपने आधे कपडे उतार दिए थे और अर्धनग्न हो गयी थी.* वो मेरी और देख कर मुस्कुराई और फिर पानी में उतर गयी.

"ये क्या हैं?" मैंने उसे आँखे फाड़कर देखते हुए कहा.**

"यहाँ कोई नही देख रहा हैं." उसने पानी में डुबकी लेते हुए कहा. कोई नही का क्या मतलब? मैं तो देख रही थी. वैसे मैंने ध्यान दिया कि हम घाट के जिस किनारे थे वहां काफी अंधेरा था और एकांत भी था यहाँ किसी के द्वारा हमें देखे जाने की संभावना बहुत कम थी. मगर फिर भी मैं कैसे अर्धनग्न हो सकती हूँ? मैंने सिर्फ अपनी साडी उतारी और पानी में उतर गयी. पानी वास्तव में ठंडा था मगर कुछ ही देर में शरीर ने खुद का ताप बड़ा कर पानी के अनुकूल बना लिया था.

नहाकर हम लोग वापस लौटे. फिर से दो-तीन किलोमीटर चलने से मेरी तो थक कर हालत खराब हो चुकी थी.* आश्रम पहुँच कर नाश्ता वगेरह किया ही था कि फिर से एक घंटा बजा. यह घंटा योग के लिए था. सब लोग बाहर गार्डन में इक्कठे हो गए थे. कुछ देर बाद एक बूढ़ा सा व्यक्ति आया. उसने कुछ मन्त्र बोले और योग करवाना शुरू कर दिया.* यहाँ कोई एक से डेढ़ घंटे तक उसने योग करवाया था. फिर उसके बाद प्रार्थना का समय हो गया था. मेरी तो इस सब दिनचर्या से हालत खराब होने लगी थी. मैं सोचने लगी की अभी से ही यह हालत हैं तो आगे क्या होगा? प्रार्थना में आज गुरूजी ने कोई नया श्लोक सुनाया था, जिसका अर्थ तो मुझे नही मालुम था मगर शायद यह माँ दुर्गा की स्तुति थी. स्तुति ख़त्म होने के बाद गुरूजी की नज़रे इधर उधर घूमने लगी जैसे किसी को ढूंढ रही हो. जब उनकी नज़रे मुझ पर पड़ी तो वो हल्का सा मुस्कुराये...जवाब में मैं भी मुस्कुरा दी, लेकिन तभी उनके चेहरे पर चिंता की लकीरे उभर पड़ी.* प्रार्थना ख़त्म होने के बाद हम सब खाना खाने चले गए. खाना खाते समय कोई देवप्रभा को बुलाने आया.

"मैं आती हूँ." उसने कहा और खाना बीच में ही छोड़ कर चल दी. कुछ देर बाद वो वापस आई.

"तूने खाना खा लिया?" उसने पूछा.

"क्यों?"

"जल्दी खा. गुरूजी ने बुलाया हैं." ऐसा लग रहा था कुछ गंभीर मामला* हैं अपने खाने के बारें में तो वो भूल ही चुकी थी. मैं वैसे भी खाना खा चुकी थी सो जल्दी से उठी और उसके पीछे-पीछे चल दी.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Re: रहस्यमई आँखें

Sponsor

Sponsor
 

Jemsbond
Super member
Posts: 4291
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: रहस्यमई आँखें

Post by Jemsbond » 16 Oct 2016 15:56


कुछ ही देर में हम गुरूजी के कक्ष में पहुचे. वहां गुरु जी के अलावा दो लोग और थे* सम्भवतः यह गुरु जी के सेवादार थे. मैंने गुरूजी प्रणाम किया और वही खड़ी हो गयी.

"तुम्हे यह चोट कैसे लगी अवंतिका?" गुरुजी ने मेरे हाथ की तरफ इशारा करते हुए कहा.

"जी वो...कल...." मैं इससे आगे कुछ कह नही पाई. मुझे डर था कि यहाँ आने के पहले ही दिन मेरे साथ यह हादसा हो गया था और अब अगर मैं रवि का नाम लूँगी तो गुरूजी पता नही मेरे बारें में क्या सोचेंगे?

"क्या देवप्रभा ने जो बताया वो सत्य हैं? रवि ने कल शाम को तुम्हारे साथ* जबरदस्ती की थी." गुरूजी के चेहरे पर गुस्से के भाव साफ़ पढ़े जा सकते थे.

"हां..वो लेकिन..." मैं इससे ज्यादा और कुछ नही कह पाई.

"तुम्हे तुरंत ही मुझे बता देना चाहिए था." उन्होंने मुझसे कहा और फिर एक सेवक को आदेश दिया. "जाओ रवि को बुलाकर लाओ." वो सेवक गया और कुछ ही देर में रवि को बुलाकर ले आया. रवि अंदर आया. उसने एक बार मुझे और देवप्रभा को देखा और फिर गुरूजी को प्रणाम किया. उसका चेहरा झुका हुआ था मगर कही भी वो अपने किये पर शर्मिंदा हो ऐसा नहीं लग रहा था.

"रवि! क्या यह सत्य हैं कि अवंतिका को यह चोट तुम्हारे कारण लगी?" गुरुजी ने अपनी जगह से उठते हुए कहा. रवि कुछ नही बोला बस अपनी जगह जड़वत खड़ा रहा.

"जवाब दो रवि!" उन्होंने अपनी आवाज मे कठोरता लाते हुए कहा.

"जी हां यह सत्य हैं." रवि ने झुकी नज़रो से ही मेरी ओर देखते हुए कहा.

"और ऐसा तुमने क्यों किया?" गुरुजी ने रवि के पास आते हुए लगभग उसके कान में ही कहा.

"मैं इनसे प्रेम करता हैं."

"प्रेम! तुम प्रेम का अर्थ भी जानते हो? प्रेम समर्पण मांगता हैं, त्याग मांगता हैं. यह किसी को दर्द नही देता हैं बल्कि चेहरे पर मुस्कान लाता हैं. तुम्हारी आयु में सिर्फ आकर्षक होता है और तुम्हे जो हुआ हैं वो तो सम्भवतः लालसा मात्र हैं." गुरूजी ने एक ही सांस में सारी बात कह दी. रवि अब भी वैसे का वैसे खड़ा था.

"अवंतिका से अभी क्षमा मांगो." गुरूजी ने आदेश दिया. रवि कुछ नही बोला. वो बस ज़मीन में देखता रहा.

"तुमने सुना नही?" गुरूजी ने इतनी जोर से कहा कि एक बार तो मैं भी सिहर गयी.

"मैं उसकी कोई* आवश्यकता नही समझता हूँ." रवि ने नज़रे उठाकर मेरी और देखते हुए कहा.

गुरु जी की आँखे लाल हो गयी. "संगठन में गुरू की अवज्ञा का परिणाम* जानते हो न तुम? तुम्हे संगठन छोड़ कर जाना पड़ सकता हैं."

"संगठन मेरा परिवार हैं, मैं इसे छोड़कर कही नही जाऊँगा." रवि ने नज़रे उठाकर कहा और वापस नज़रे झुक ली.

"उत्तम...संगठन की प्रति तुम्हारा प्रेम अच्छा लगा किन्तु अपने किये की सजा तो तुम्हे भुगतनी ही होगी." उन्होंने वापस अपने आसान पर बैठते हुए कहा.

"अनिकेत! एक सामान्य इंसान बिना जल के कितने समय तक जीवित रह सकता हैं?" उन्होंने अपने एक सेवक से पूछा.

"तीन के सिद्धान्त के अनुसार एक आम इंसान तीन मिनट बिना वायु के, तीन दिन बिना जल के और तीन सप्ताह बिना भोजन के रह सकता हैं. किन्तु अनुकूल परिस्थितियों में कोई व्यक्ति बिना पानी के 8-10 दिन तक जीवित रह सकता हैं."

"किन्तु वो सामान्य इंसान हैं. हमारे गुरु श्री अनंत देव जी* तंत्र की शक्ति से अपनी इन्द्रियों को नियंत्रित करके बिना जल के 17 दिन तक जीवित रहे थे, हम जांचना चाहते है कि तंत्र शास्त्र का तुम्हे कितना ज्ञान* हैं रवि? क्या तुम बिना जल के 17 दिनों तक जीवित रह सकते हो?"*गुरु जी ने किसी आदेश की तरह कहा.

रवि कुछ नही बोला.

"या फिर तुम संगठन छोड़ कर जाना पसंद करोगे?" गुरूजी ने निश्वास लेते हुए कहा.

"मैं मृत्यु से लड़ना पसंद करूँगा." रवि ने नित्यानंद जी* की आँखों में देखते हुए कहा.
"जैसी तुम्हारी इच्छा...अनिकेत! इन्हें ऊपर वाले कमरे में बंद करके ताले चाबी मुझे दे दो."

"जो आज्ञा.." सेवक रवि को लेकर चला गया.* उसके बाद हम दोनों भी वापस अपने कमरे में आ गए.

"तुझे गुरूजी को कल के बारें में बताने की क्या जरुरत थी?" मैंने देवप्रभा को डपटते हुए कहा.

"उन्होंने प्रार्थना के समय तुम्हारे हाथ का ज़ख्म देख लिया था...उन्होंने मुझसे पूछा था तो मैं और क्या कहती?" उसने मासूमियत से कहा.

"कुछ भी कह देती की गिर गयी हैं...चाकू से लग गयी हैं." मैंने उसे बहाने बताये.

"तब उस कोठारी में मैं बंद होती...." उसने जैसे मन ही मन में कहा.

"क्या?"

"नहीं कुछ नही...अब तू अब आराम कर हम शाम को मिलते हैं. " वो कह कर चली गयी.

शाम को हम सब लोग खाना खा रहे थे. खाना खाने से पहले देवी ने पानी का एक लौटा मेरी तरफ किया.

"यह क्या हैं?" मैंने पूछा.

"यह गंगा जल हैं, खाना खाने से पहले हम इसे जरूर पीते हैं." मैंने गौर किया सबके सामने वैसा लौटा जरूर पड़ा था. मैंने वो लौटा लिया और उसका एक घूंट भरा. घूंट भरते ही मैंने उसे फ़ौरन उसे थूक दिया.

"छी: ये कितना कड़वा हैं." मैंने बुरा सा मुंह बनाते हुए कहा.

"गंगा का शुद्ध जल तो ऐसा ही होता हैं. धीरे-धीरे तुझे इसकी आदत पढ़ जाएगी." उसने मेरे हाथ से लौटा लिया और घट-घट करके सारा पानी पी गयी. मैं सिर्फ उसका चेहरा देख रही थी. कहीं से भी ऐसा नही लग रहा था कि पानी उसे ज़रा सा भी कड़वा लगा होगा. पानी पीने के बाद उसने शान से मेरी और देखा.

"यहाँ खा खाना भी कितना फीका हैं...ऐसा लगता हैं कागज़ चबा रहे हैं.." मैंने फिर से बुरा मुंह बनाते हुए कहा.

"अत्यधिक मसालेदार खाना तामसिक खाने में आते हैं जो हमारे शरीर के लिए सही नही होता हैं....फिर भी मेरे पास तुम्हारे लिए कुछ हैं." उसने अपने आँचल से नींबू निकालकर मेरी और बढ़ाते* हुए कहा.

"तेरा भला हो...कुछ तो स्वाद आएगा...ला चाकू दे." मैंने उसके हाथ से निम्बू लेते हुए कहा. उसके बाद हम दोनों खाना खाने लगे. तभी हमारे पास एक लड़का आया.

"ये तुमने ठीक नही किया." उसने मेरी और देखते हुए कहा. मैं असमंजस में उसे देखती रही. भला मेरे नींबू काटने से उसे क्या दिक्कत हो सकती हैं?

"रवि को कोठरी में डलवाकर तुम्हे क्या हासिल हुआ?" उसने मुझे घूरते हुए ही कहा. ओह! तो यह मामला है. ये रवि का कोई दोस्त था और इसे रवि के कमरे में बंद होने से गहरा सदमा पहुँचा था.

"रवि को कोठरी में मैंने नही उसके कर्मो ने डलवाया हैं." मैंने अपने चेहरे पर गंम्भीरता लाते हुए कहा.

"उसकी क्या गलती थी? वो सिर्फ तुमसे प्यार ही तो करता था..कितने प्यार से कंगन लाया था बेचारा तुम्हारे लिए..." उसने थोड़े गुस्से और थोड़ी बेचारगी* से कहा.

"प्यार! ये देखो तुम्हारे दोस्त के प्यार ने क्या किया?" मैंने उसे अपनी कलाई दिखाते हुए कहा.

"हां तो हो सकता हैं उसका तरीका गलत हो मगर इसका ये तो मतलब नही की वो गलत था." उसने मेरी कलाई की तरफ बिना देखे ही कहा. अब मेरा दिमाग फिरने लगा था. एक तो चोरी और ऊपर से सीना जोरी...ये तो माथे ही चढ़े जा रहा था.* मैंने अपने सामने पड़ा चाकू उठाया और उसके हाथ पर एक रेखा खिंच दी. वो हड़बड़ाहट में पीछे हटा. उसके हाथ से खून बहने लगा था.

"पागल हो क्या? ये क्या किया?" वो जोर से चिल्लाया. देवप्रभा मुझे आँखे फाड़ कर देखने लगी. बाकि के लोग भी हमारी और देखने लगे थे.

"अब ज़रा मेरे प्यार को महसूस कर के बताओ." मैंने एक झूठी मुस्कान लाते हुए कहा.

"तुम पछताओगी." उसने एक दूसरे हाथ से अपने ज़ख्म को दबाते हुए धमकी दी.

"वो फिलहाल तो तुम रहे हो." मैं वापस मुड़ी और खाना खाने लगी जैसे कुछ हुआ ही नही हो.

वो कुछ देर वहां खड़ा रहा और फिर वहां से निकल गया.

"ये तुमने क्या किया?" देवप्रभा ने पूछा.

"इन कमीनो को सबक सिखाना जरुरी हैं वरना एक के बाद एक आते ही रहेंगे." मैंने उसकी और देख कर कहा.

"मगर इतनी हिम्मत कहाँ से लाई?"

"मुझे नही मालुम...शायद पैदायशी हैं." मैंने मुस्कुराते हुए कहा.
------------------------

उसके बाद खाना खाकर हम मेरे कमरे में आ गये. कुछ देर बात करने के बाद देवप्रभा अपने कमरे में चली गयी. मैं भी सो गयी.

आधी रात को* मेरे दरवाजे पर दस्तक हुई. यह कोई रात के दो बज रहे थे. अभी कौन हो सकता हैं? मैंने मन ही मन सोचा.* देवप्रभा होगी. मगर अभी तो घंटा भी नही बजा था. "कौन हैं?" मैंने डरते हुए पूछा.

"हम हैं अवंतिका दरवाजा खोलो." बाहर से किसी पुरुष की आवाज आई. यह आवज जानी पहचानी लग रही थी. यह तो नित्यानंद जी थे!

मैंने खुद को व्यवस्थित किया और दरवाजा खोला.
"आप इस वक्त?" मैंने घबराते हुए पूछा.

"मेरे साथ चलो." उन्होंने मुझे अपने साथ चलने का इशारा करते हुए कहा.

"लेकिन...अभी..कहाँ..." मैंने घबराते हुए अधूरा सवाल पूछा. मुझे इस वक्त अचानक उनके साथ चलने में डर लग रहा था.

"डरने वाली कोई बात नही हैं, हम तुम्हे सब बताते हैं...आओ..." उन्होंने मेरे मन का डर भांपते हुए कहा. मैं उनके पीछे-पीछे चल दी.

"तुम्हे यहाँ कैसा लग रहा हैं?" उन्होंने चलते-चलते ही पूछा.

"ठीक..." मैंने धीरे से कहा.

"मैं समझ सकता हूँ, तुम्हारे लिए खुद को अचानक इस माहौल के अनुरूप ढालना थोडा मुश्किल होगा. अवंतिका हमें तुम्हे एक सत्य बताना हैं." गुरुजी ने धीरे होते हुए कहा. जिससे अब मैं उनके बराबर आ गयी थी.

"सत्य!" मैंने चोंक कर कहा. एक तो मैं अचानक नींद से उठी थी दूसरा गुरूजी मुझे इस तरह से अपने साथ ले जा रहे थे. मेरा सर घूमने लगा था.

"दरअसल यह संस्था* सिर्फ योग सिखाने और धर्म की दीक्षा देने के लिए नहीं हैं, इसका एक और गूढ़ रहस्य भी हैं..." वो कहते कहते रुक गए और मेरी प्रतिक्रिया देखने लगे.

"कैसा रहस्य?" मैंने शांत बने रहते हुए ही कहा.

"इस संस्था के आवरण में तांत्रिको की एक संस्था चलती हैं.."

"तांत्रिक..." मैं अचानक रुक गयी. अब मेरी नींद उड़ चुकी थी. मैं उनका चेहरा देखने लगी.

"मैं खुद एक तांत्रिक हूँ और इस संस्था एक अन्य कई अध्यापक तांत्रिक हैं जो तुम जैसे विद्यार्थियो को तंत्र शास्त्र की विद्या देते हैं." उन्होंने मेरा चेहरा देखा जो डर के मारें पीला पड चूका था. हम अब तक उनके कक्ष में आ चुके थे.

"मैं तुम्हारा डर समझ सकता हूँ, तुम्हारा यह डर तांत्रिको की समाज में जो नकारात्मक छवि हैं उसके कारण हैं. तंत्र विद्या का अधिकतर नकारात्मक प्रयोग ही किया गया हैं. उससे भी अधिक कुछ ढोंगी तांत्रिको ने हमारी छवि को और भी अधिक बिगाड़ा हैं. उन्होंने लोगो को मुर्ख बनाकर लालच देकर धन ऐंठा हैं जिससे लोगो को लगता हैं सभी तांत्रिक एक जैसे होते हैं." वो सामने बैठ गए और मुझे नीचे बैठने का इशारा किया. मैं वही बैठ गयी और चुपचाप उनकी बात सुनती रही.

"दरअसल तंत्र शास्त्र के बारें में ही लोगो को बहुत सी गलतफहमियां हैं, तंत्र योग का परिष्कृत रूप ही हैं,* वास्तव में यह ऊर्जा के प्रयोग से अधिक और कुछ नही हैं. ध्यान में हम अपनी आंतरिक ऊर्जा की पहचान करते हैं उसे केंद्रित करते हैं जबकि तंत्र शास्त्र में हम इसका प्रयोग करते हैं. यह बिलकुल वैसे ही हैं जैसे हम अपने घर में विद्युत(बिजली) का प्रयोग करते हैं, अब अगर किसी को बिजली से झटका लगता हैं तो इसमें गलती उस व्यक्ति की होगी न की विद्युत की क्योंकि विद्युत तो बस अपना काम कर रही हैं."

"मगर तांत्रिक तो काला जादू करते है न!" मैंने एक मासूम सा सवाल पूछा.

"हा हा...जादू जैसा कुछ नही होता हैं. हम हर अजीब लगने वाली चीज को चमत्कार का नाम दे देते हैं और जब कोई किसी चमत्कार को व्यवस्थित तरीके से हमारे सामने प्रस्तुत करता हैं तो हम उसे जादू कहते हैं. जैसा की मैंने कहा कि ऊर्जा का सकारात्मक और नकारात्मक दोनों तरह से प्रयोग संभव हैं तो जब इस ऊर्जा का कोई तांत्रिक नकारात्मक प्रयोग करता हैं तो हम उसे काला जादू कह देते हैं. विज्ञान ने भी तो परमाणु बम और बारूद* जैसे आविष्कार किये हैं तो इसका यह मतलब थोड़े ही की विज्ञान बुरा हो गया."

"...तो तांत्रिको ने कुछ अच्छे काम भी किये हैं?" मैंने सवाल किया.

" 1962 में भारतीय ज्योतिषियों ने समवेत स्वर में भविष्यवाणी की कि 3 फ़रवरी को शाम 5:30 बजे संसार में सारा जीवन समाप्त हो जाएगा, क्योंकि उस पल आठ ग्रह एक सीध में आ जाएंगे।* स्कूल–कॉलेज बंद रहे, बसें, ट्रेनें और हवाई जहाज़ ख़ाली रहे। लोग घरों में ही रहे, ताकि प्रलय के वक्त्त परिवार के साथ रहें। तीन फ़रवरी आई और चली गई। कुछ नहीं हुआ। लोगो को आश्चर्य हुआ की यह कैसे हुआ? हम तांत्रिको की वजह से...हमने उस दिन से पहले हफ़्तों तक रूद्र साधना की थी. जिससे उस संकट को टालने में हम सफल रहे थे." उन्होंने एक गर्व के साथ कहा. फिर उन्होंने मुझे ध्यान से देखा मैं बस चुपचाप सुन रही थी.

"तुम्हारा जन्म कब हुआ अवंतिका?" उन्होंने अचानक पूछा तो मैं चोंक सी गयी.

"3 फरवरी...1962.." मैंने स्वयं एक अंतर्द्वंद में कहा. गुरूजी के चेहरे पर एक रहस्यमयी मुस्कान थी.

" वास्तव में रूद्र यानी की शिव ही त्तन्त्र विद्या और योग के जन्मदाता हैं, आदि योगी शिव ने ही इस संभावना को जन्म दिया कि मानव जाति अपने मौजूदा अस्तित्व की सीमाओं से भी आगे जा सकती है।* अपने शरीर और दिमाग को हर संभव इस्तेमाल करना है, लेकिन उसके कष्टों को भोगने की ज़रूरत नहीं है। कहने का मतलब यह है कि जीने का एक और भी तरीका है। हमारे यहां योगिक संस्कृति में शिव को ईश्वर के तौर पर नहीं पूजा जाता है। इस संस्कति में शिव को आदि योगी माना जाता है। यह शिव ही थे जिन्होंने मानव मन में योग का बीज बोया था. जब हमने रूद्र साधना की थी तो उसका एक अन्य परिणाम भी रहा था. दुनिया का हर योगी योग करने के लिए किसी न को गुरु मानता हैं लेकिन इस संसार में सिर्फ दो ही कालगुरु हुए हैं एक तो स्वयं आदि योगी शिव और दूसरे योग गुरु श्री कृष्ण. रूद्र साधना से हमने स्वयं रूद्र से सम्पर्क किया था, और उस प्रलय को रोकने की विनती की थी. लेकिन उस दौरान हमें एक और बात पता चला थी..." उन्होंने एक पल रुक कर मेरी तरफ देखा. मैं मंत्रमुग्ध सी उनकी बातें सुन रही थी.*

"हमें पता चला था कि स्वयं आदि योगी शिव को गुरु बना कर दीक्षा लेना संभव हैं. परंतु इसके लिए एक उपयुक्त पात्र की आवश्यकता थी. शिव की कृपा से उस दिन वो पात्र भी हमें मिल गया जिसने की उसी दिन इन धरती पर जन्म लिया था मगर हमें यह नही मालुम था कि वो पात्र कौन था, उस दिन जब हम तुम्हारे घर आये थे हमने तुम्हारी हथेली को देखा था. उस पर दो रेखाएं जो सामान्यतः अंग्रेजी वर्णमाला के "Y" अक्षर की भांति होती हैं वो एक त्रिशूल के आकार की थी, यह वास्तव में उस पात्र की निशानी हैं. जब हमने तुम्हारी कुंडली मंगवा कर देखा तो पता चला कि तुम्हारा जन्म* 3 फरवरी,1962 को हुआ हैं... शाम को 5.30 बजे....ठीक उस समय जब इस संसार के ख़त्म होने की भविष्य वाणी की गयी थी."
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4291
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: रहस्यमई आँखें

Post by Jemsbond » 16 Oct 2016 15:57


वो कुछ देर रुके और फिर बोले. "हम इसीलिए तुम्हे यहाँ लेकर आये ताकि तुम्हे उचित दीक्षा देकर आदिगुरु से साक्षात्कार के लिए तैयार कर सके."

"लेकिन यह कैसे हो सकता हैं? आप जानते हैं यह कितना खतरनाक हैं. मैंने लगभग उछलते हुए कहा. स्वयं माँ शक्ति भगवान शिव से तंत्र- योग की दीक्षा लेने में असफल रही थी और परिणाम स्वरुप उन्हें माँ पार्वती के रूप में पुनः जन्म लेना पड़ा था तो भला कोई आम इंसान कैसे शिव से दीक्षा ले सकता हैं? किसी आम इंसान की चेतना के लिए तो यह संभव ही नही हैं कि वो उस ज्ञान स्वयं में गर्भित कर सके." मैंने अपनी शंका जाहिर की.

"हमें ज्ञात हैं मगर उसका भी एक उपाय हैं, हम चेतनाओं का संयोजन करेंगे." उन्होंने सीधा होते हुए कहा.

"चेतनाओं का संयोजन?" मैंने आँखे फाड़कर पूछा.

"हां..महाभारत में वर्णन हैं कि की आदि योगी* श्री कृष्ण हज़ारो साधको(गोपियों) के संग सामूहिक साधना करते थे जिसे आम जन रासलीला के नाम से जानती हैं, इसमें श्रीकृष्ण बिना स्पर्श किये भी साधक को कुण्डलिनी ऊर्जा के अंतिम स्तर तक पंहुचा देते थे, जिससे साधक परम आनन्द की अवस्था तक पहुँच जाता हैं. परम आनन्द* मानव का अंतिम लक्ष्य!" उन्होंने मुस्कुरा कर मेरी ओर देखा क्योंकि यह बात तो मैंने ही उन्हें बताई थी.

"मगर कृष्ण एक अवतार थे, उनके लिए यह एक लीला मात्र थी, हम इंसानो के लिए यह* कैसे संभव हैं?"

"संभव हैं...सूत्र साधना..." उन्होंने शांत रहते हुए कहा.

"सूत्र साधना?"

"तुमने सही कहा कि किसी व्यक्ति के लिए यह संभव नही है कि वो शिव से दीक्षा ले सके* इसलिए हम ग्यारह सूत्रो की चेतनाओं का संयोजन करके* एक जाल(network) स्थापित*करेंगे इसमें तुम मुख्य सूत्र होगी जिसे ग्यारहवां सूत्र कहा जाता हैं बाकि दस अन्य लड़कियां होगी. जो इस साधना के लिए विशेष रूप से तैयार की जाएगी." उन्होने मेरी और गर्व से* देखा मगर* उन्हें जल्द ही समझ में आ गया की मैने चतुराई पकड़ ली हैं.

"यह एक प्रयोग मात्र हैं!" मैंने उनकी आँखों में देखते हुए कहा.

"निश्चित कुछ भी नही हैं. यह प्रयोग मानव मात्र की भलाई के लिए होगा, जो अगर सफल हो गया तो हम ज्ञान के उस अद्भुत भंडार को प्राप्त करेंगे जिसके लिए समस्त संसार सदियो से प्रयासरत रहा हैं. विज्ञान, कला, आध्यात्म सब क्षेत्रो में एक नई क्रान्ति आ जाएगी."

"...और अगर असफल रहा तो? मेरे साथ-साथ उन दस मासूम लड़कियो की भी जान जाएगी. किसी की ज़िन्दगी को दांव लगा कर हम क्या हासिल करेंगे?"

"हमें इतने बड़े लक्ष्य की प्राप्ति के लिए थोडा बहुत खतरा तो उठाना ही होगा. अवंतिका तुम्हारा जन्म हमारे लिए वरदान हैं हम इसे ऐसे ही व्यर्थ तो नही जाने दे सकते हैं? " वो मेरी और देखने लगे जैसे मेरे उत्तर की प्रतीक्षा कर रहे हो. मैंने अपना सर हिलाया और एक निःश्वास छोड़ी. जैसे मैं उनकी बातो को बस एक नादानी मान रही हूँ.

"फिर भी यह तुम्हारा जीवन हैं. निर्णय पूर्णतः तुम्हारे ऊपर हैं अगर तुम ऐसा नही चाहती तो हम कल ही* तुम्हारे घर जाने का प्रबंध कर देंगे... अभी तुम अपने कमरे में जा सकती हो." उन्होंने उठते हुए कहा.

उसके बाद मैं अपने कमरे में आ गयी. मेरा सर अभी भी गोल गोल घूम रहा था. गुरूजी ने जो कुछ भी कहा था वो मुझे किसी कहानी की तरह लग रहा था, मगर फिर भी मुझे उनकी बातो पर विश्वास था. मैंने खुद काफी कुछ पढ़ा था और उन्होंने जो कहा था वो मेरे ज्ञान की कसौटी पर खरा उतरता था. मेरी माँ ने एक बार कहा था कि जब मेरा जन्म हुआ था उससे एक दिन पहले सपने में उन्हें शिव जी के दर्शन हुए थे मगर उनकी बात को हमारें परिवार में किसी ने भी गंभीरता से नही लिया था. हम वास्तव में सकारात्मक चीजो को काफी गंभीरता से लेते ही नही हैं वही अगर कोई नकारात्मक बात होती हैं तो हम सब दौड़ पड़ते हैं. मैं सोचते-सोचते अपने हाथ कि हथेली को देखने लगी. इसमें वाकई तीन* रेखाए त्रिशूल की आकृति में थी जबकि दूसरे हाथ में दो रेखाएं थी. पिताजी अक्सर कहा करते थे कि इंसान की रेखाए उसके भाग्य का निर्माण करती है लेकिन मैं कभी उनकी बात से सहमत नही थी क्योंकि मेरा मानना था कि इंसान का कर्म ही उसकी हाथ की रेखाओ का निर्माण करता हैं. अगर कोई व्यक्ति पुरे दिन आराम करता रहता है तो उसके हाथ की रेखाए उस व्यक्ति से पूर्णतयः अलग होगी जो पुरे दिन मज़दूरी करता हैं. किसी व्यक्ति के हाथ की रेखाएं उसके भविष्य का दर्पण न होकर उसके इतिहास की किताब मात्र हैं. परंतु यह रेखाएं किसी के दैवीय होने का भी सबूत हो सकती हैं यह मुझे गुरूजी ने सोचने पर मजबूर कर दिया था.

अभी कोई आधा घंटा भी न गुजरा होगा कि घंटा बजा मैं समझ गयी थी की चार बज गए हैं और कुछ ही देर में देवप्रभा मेरे दरवाजे पर होगी. मैंने मुंह-वुंह धोया और तैयार होकर बैठ गयी. अपेक्षानुरुप कुछ ही देर में देवप्रभा ने दरवाजा खटखटाया. मैंने दरवाजा खोला.

"क्या बात हैं आज तो पहले ही तैयार होकर बैठी हैं?" उसने मुझे देखते ही कहा.

"हां..आज कुछ देर पहले ही नींद खुल गयी थी." जब ओखली में सर दे ही दिया हैं तो फिर मूसल के क्या डरना? मैंने मन ही मन सोचा. फिर हम दोनों नहाने चले गए.

"अरे! तेरे हाथ का ज़ख्म तो बिलकुल ही ठीक हो गया." जब मैं साड़ी उतार रही थी तो उसने मेरा हाथ देखते हुए कहा.

"हां..ज्यादा गहरी चोट नही थी." मैंने नज़रअंदाज करते हुए कहा. मैं अब भी गुरुजी की बातो में ही खोई हुई थी. वैसे मेरे ज़ख्म कुछ जल्दी ही भरते थे.

"क्या ज्यादा नही थी? मैंने पट्टी की थी मुझे पता हैं और तेरे तो निशान भी गायब हो गए." उसने मेरे हाथ को अपने हाथ में लेकर देखते हुए कहा. "यह तो जादू हैं!" उसने आँखे फाड़ते हुए कहां.

उसकी अंतिम बात ने मुझे चोंका दिया. कहीं यह ज़ख्मो का जल्दी भरना मेरे 'ख़ास' की वजह से तो नही हैं. जब भी हमारे दिमाग में कोई किसी चीज का बीज डाल देता हैं हम बार-बार* उसी के बारें में सोचने लगते हैं और हर छोटी-बड़ी चीज को उसीसे जोड़ने लगते हैं.

"ये क्या कर रही हैं?" देवप्रभा फिर से अर्धनग्न हो गयी थी. "तू कपडे पहन कर नही नहा सकती?" मैंने उसे झिड़कते हुए कहा.

"तेरे लिए यह नया होगा, मैं तो रोज ही ऐसे ही नहाती हूँ." उसने अपने चेहरे पर एक कटीली मुस्कान लाते हुए कहा.

"रोज नहाती हैं इसका यह मतलब थोड़ी हो गया कि यह सही हो गया. गंगा हमारी माँ हैं उसमें ऐसे नंगे नहाते हुए तुम्हे शर्म नही आती?" मैंने अपना विरोध थोडा प्रखर करते हुए कहा.

"गंगा हमारी माँ हैं तो फिर माँ से कैसी शर्म और कपड़ो के अंदर भी तो हम सभी नंगे ही हैं न?" उसने पानी में उतरते हुए कहा. यह देवप्रभा मुझे कोई विद्वान सी लगती थी, इसके मासूम से तर्क मुझे कई बार लाजवाब कर देते थे. "मेरी बात मान तू भी ऐसे ही आ जा, ज़रा महसूस तो कर यह जल जब हमारे बदन को छूता हैं तो कैसा महसूस होता हैं?" उसने मुस्कान के साथ मुझे न्योता* देते हुए कहा. मुझे ऐसा लग रहा था कि वो मेरी हया का आनंद उठा रही हैं.

"तू ही महसूस कर यह स्पर्श, मैं यहाँ नहाने आती हूँ कुछ महसूस करने नही..." मैं भी अब तक पानी में उतर चुकी थी. वो पानी में डुबकियां लेने लगी. मेरे तो एक डुबकी बाद ही साँस फूलने लगती थी. हम नहा कर वापस आश्रम के लिए निकल पड़े.

"क्या हुआ आज तु इतनी चुप क्यों हैं? कल तो बड़ी सारी बातें कर रही थी." उसने मुझे घुमसुम देखकर कहा. मैं अब भी दुविधा में थी कि गुरु जी की बात मानूं या न मानूं. वास्तव में मुझे इस सब से डर भी लग रहा था और* एक अनजाना सा आकर्षण मुझे अपनी ओर खींच भी रहा था.

"तुम गंगा में कितनी गहराई तक गई हुई हैं?" मैंने अपनी दुविधा एक पहेली के रूप में देवप्रभा से पूछी.

"मतलब?" उसने चोंकते हुए कहा. शायद उसे मेरी बात का संदर्भ समझ में नही आया था. "मेरा मतलब हैं कि हम लोग जहा पर नहाते हैं वहां तो समतल सीढ़ियां हैं, आगे गहरा पानी भी होगा, कीचड भी होगा?" मैने उसकी आँखों में देखते हुए कहा जैसे वही से पढ़ने की कोशिश कर रही हूँ की उसे समझ में आया की नही?

"मुझे तैरना आता हैं..." उसने अपनी चीर परिचित मासूमियत के साथ कहा. "हमें गहराई और कीचड से तब तक डरने की जरूरत नही हैं जब तक हमें तैरना आता हो, बस किनारे से इतना* दूर नही जाना चाहिए कि वापस लौटने की ताकत ही न बचे." उसने अपनी आँखों को नचाते हुए ही कहा. मुझे अपने सवालो के जवाब मिल चुके थे. देवप्रभा ने अनजाने में ही मेरी सबसे बड़ी समस्या हल कर दी थी.
---------------------------------------

आज पुरे दिन में गुरुजी मुझे एक बार ही दिखे थे प्रार्थना के समय. वो बार-बार मुझे ही देख रहे थे, जैसे मेरे चेहरे से कुछ अंदाजा लगाने की कोशिश कर रहे हो. मगर मैं बिलकुल शांत थी जिससे उन्हें कुछ भी अंदाजा लगाना नामुमकिन था.

पूरा दिन ऐसा ही निकल गया. अब मुझे यहाँ की दिनचर्या के बारें में पता चलने लग गया था. कब क्या होता था, कहाँ होता था, सब दिमाग में नक्शा बनने लग गया था. मुझे वैसे अब यह सब अच्छा भी लगने लगा था. यहाँ का अनुशासन, यहाँ की शान्ति लगता था मैं इसी सब के लिए बनी हूँ.

रात को लगभग बारह बजे मेरे कमरे पर दस्तक हुई. मैं अब तक जाग ही रही थी. शायद मुझे मालुम था वो आएंगे इसलिए मेरी नींद पहले से ही उड़ी हुई थी.

"तो तुमने क्या निर्णय किया हैं?" उन्होंने दरवाजा खुलते ही मुझसे पूछा. शायद मुझसे ज्यादा तो वो बैचेन थे.

"मैं तैयार हूँ मगर एक शर्त पर!" मैंने दृढ़ता के साथ कहा. उन्होंने मुझे अचरज से देखा जैसे उन्हें मेरे 'शर्त' कहने के बारे में सुनकर कर झटका लगा हो. वो मेरा मुंह ताकने लगे.

"अगर कभी मुझे ऐसा लगा कि कही कुछ गलत हैं तो मैं वापस अपने घर लौट जाउंगी. किसी को बिना कुछ कहे हुए." मैंने कहा.

"निश्चित रूप से..." उन्होंने बिलकुल शांत रहते हुए कहा. उनका चेहरा देखकर नही लग रहा था कि उनके व्यक्तव में लेश मात्र भी सन्देह था.

"मेरे साथ चलो." उन्होंने इशारा करके कहा. मैं फिर से चुपचाप उनके पीछे चल दी. हम उनके* कक्ष तक पहुंचे तब तक हम दोनों खामोश ही थे जैसे हम दोनों ही अपने निर्णय पर मंथन कर रहे हो.

"दरवाजा बंद कर दो." उन्होंने अंदर पहुँच कर कहा. मैंने आशंकित होकर उन्हें देखा जैसे पूछ रही हूँ इसकी क्या जरूरत हैं?

"डरो मत हम यहाँ अकेले नही हैं." उन्होंने अपने आसन के पीछे की दीवार को एक तरफ धकेलते हुए कहा. दिवार एक तरफ सरक गयी. यह एक गुप्त रास्ता था. उन्होंने मेरी तरफ देखा में भी उनके पीछे पीछे चलने लगी. आगे एक संकरा गलियारा था जो फिर जाकर एक बड़े से हॉल में खुलता था. हम जहाँ निकले थे यह एक छत जैसा था जहाँ पर बैठने के लिए एक आसन लगा हुआ था. नीचे हॉल में चालीस-पचास लोग थे जिसमें पुरुष-स्त्रियां और कुछ बच्चे भी थे. उन सबने सामान्य कपडे पहन रखे थे मगर सबके कपड़ो का रंग काला था. ऐसा लगता था इस हॉल तक पहुँचने के और रास्ते भी थे जहाँ से ये सब लोग आये थे.

"जय महाकाल!" नित्यानंद जी ने अंदर पहुँचते ही इतनी जोर से कहा कि एक बार तो मैं काँप गयी. जवाब नीचे खड़े सभी लोगो ने भी 'जय महाकाल' कहा.

इनमें* आगे की पंक्ति में राणा भी खड़ा था उसने मुझे देखकर अभिवादन किया.
"संगठन में तुम्हारा स्वागत हैं अवंतिका!" गुरुजी ने मेरी ओर देख कर कहा. "तुम आज से इस संगठन का हिस्सा हो, इसके प्रति तुम्हारा भी उतना ही कर्त्तव्य हैं जितना की अन्य लोगो के लिए हैं. मगर तुम्हे* संगठन से जुड़ने से पहले एक शपथ लेनी होगी कि तुम चाहे संगठन में रहो या न रहो संगठन के बारें में कोई भी जानकारी यहाँ से बाहर नही जानी चाहिए, हमारा पहला कर्त्तव्य संगठन की के रहस्य की रक्षा करना हैं चाहे इसके लिए प्राण देने पड़े या फिर लेने पड़े." मैंने बस हां मैं सर हिला दिया.


"मित्रो वर्षो की प्रतीक्षा के बाद आज हमें वो वरदान मिल गया हैं जो हमारे महान उद्देश्य की प्राप्ति के लिए आवश्यक हैं 'ग्यारहवाँ सूत्र'. वर्षो से हमारे तांत्रिक समाज ने इस क्षण की प्रतीक्षा की हैं और यह हमारा सौभाग्य हैं की हम सब इस सुअवसर के साक्षी बने हैं. अवंतिका की उचित दीक्षा हम सब की जिमेदारी हैं और हमें यह देखना हैं की इसे किसी भी प्रकार की तकलीफ न हो." सभी लोगो ने गुरजी की बात से सहमत होते हुए हुंकार भरी, उसके बाद हम मंच से नीचे उतर गए. मुझे सब से मिलवाया गए और सगंठन एवं इसके नियमो के बारें में जानकारी दी गयी. घंटे भर तक वहां रुकने के बाद में वापस अपने कमरे में आ गयी और फिर सो गई.

सुबह घंटे की आवाज से मेरी नींद खुली और मैं देवप्रभा के साथ घाट पर नहाने गयी. मैं आज भी गुमसुम ही थी मगर मेरे चेहरे पर ख़ुशी के भाव थे. संगठन के लोगो द्वारा मुझे जो सम्मान मिला था उससे मुझे काफी अच्छा लगा था. घाट पर पहुँचने पर देवप्रभा ने रोज की भाति अपने कपडे उतारे और पानी में उतर गयी. कुछ देर बाद मैं भी पानी में उतर गयी. उसने एक डुबकी ली और बाहर आई. मैं उसकी और देख कर मुस्कुरा रही थी. "क्या हुआ?" उसने मेरी आँखों की चमक देख कर पूछा.

"पानी का स्पर्श!" मैंने पानी से अपना अँगिया(blouse) निकाल कर उसे दिखाते हुए कहा.

इसके बाद संगठन में मेरी दीक्षा प्रारम्भ हो गयी. रोज रात को हम सब उस हॉल में इकठ्ठा होते और हमें तंत्र शास्त्र से जुड़े विभिन्न विषयो के बारें में पढाया जाता. अभी यह हमारे सिखने की प्रारम्भिक अवस्था थी, जिसमें कुण्डलिनी ऊर्जा, नाड़ियों, ऊर्जा के प्रवाह, चक्र इत्यादि के बारें में बताया जा रहा था. शुरू में संगठन के लोगो से मिलने-जुलने में मुझे थोड़ी दिक्कत हो रही थी क्योंकि मुझे उनसे एक तरह से डर लगता था मगर धीरे-धीरे मैं उनमें घुल-मिल गयी. वास्तव में हम किसी चीज के बारें में जितना कम जानते हैं उससे उतना ही अधिक डरते हैं, जैसे-जैसे हम उसके बारें में जानने लगते हैं हमारा डर भी ख़त्म होने लगता हैं. इस सब में वीरेन्द्र मेरी काफी मदद कर रहा था. संगठन में गुरूजी के बाद सबसे ज्यादा मुझे उस पर ही विश्वास था. वो यूँ तो थोडा गंभीर स्वाभाव का था मगर फिर भी मुझसे वो खुल कर बात करता था और मेरी सारी आशंकाओ का निवारण भी करता था.

रवि को कमरे में बंद किये हुए 13 दिन बीत गए थे और ज्यो-ज्यो दिन बीतती जा रहे थे गुरुजी के चेहरे पर चिंता बढ़ती जा रही थी. बाहर से भले ही वो काफी मजबूत दीखते थे और अपनी चिंता किसी को जाहिर नही करते थे मगर फिर भी अंदर से वो शायद घुट रहे थे. उस रोज़ हम सुबह प्रार्थना कर रहे थे तभी एक व्यक्ति गुरूजी को बुलाने आया. उसने प्रार्थना ख़त्म होने का इंतजार किया और जैसे ही प्रार्थना ख़त्म हुई गुरूजी के पास जाकर उनके कान में कुछ कहा. गुरुजी तत्काल उठ कर चले गए. उसके बाद हम सब खाना खाने चले गए. आज माहौल में मुझे एक अजीब सा सन्नाटा लग रहा था. कुछ देर बाद देवप्रभा दौड़ती हुए आई.

"अवंतिका! वो मोहन....." वो हांफती हुई आई थी. मैं उसकी और देखने लगी. "मोहन मर गया.." उसने कुछ देर रुककर सांस ली और फिर कहा.

"कौन मोहन...?" मैंने चोंकते हुए कहा.

"अरे वही जिसका उस दिन तुमने हाथ काट दिया था...रवि का दोस्त.." उसने मुझे घूरते हुए कहा, जैसे उसे आश्चर्य हो की मैं मोहन को कैसे नही जानती?

"ओह वो..क्या हुआ उसे?" मैंने उसी तरह शांत रहते हुए ही कहा.

"वो कही से गिर गया था, उसके सर में चोट आई हैं , शायद गुरूजी को सुबह से ही पता था मगर उन्होंने किसी को बताया नही."

"ओह! यह तो बहुत बुरा हुआ." मैंने भी दुःखी होते हुए कहा. वैसे मुझे यह समझ में नही आ रहा था कि मैं दुखी किस बात पर हो रही हूँ? क्योंकि मोहन से मेरा जितना भी रिश्ता था वो तो बुरा ही था. उसके बाद मैं अपने कमरे में आ गयी. कमरे में आते ही मैं हमेशा सो जाया करती हूँ क्योंकि मैं रात की नींद अभी ही पूरी करती हूँ लेकिन आज मैं मोहन के बारें में सोच रही थी इसलिए सो नही पा रही थी. तभी मेरे दरवाजे पर किसी ने दस्तक दी. यह देवप्रभा थी. उसके साथ एक लड़का और भी था, वो पूरी जर्जर हालत में था, ऐसा लग रहा था वो अभी बहुत रोया हैं.* मैं उन्हें सवालिया नज़र से घूरकर देखने लगी.

"अवनी यह मंथन* हैं... मोहन का दोस्त...इसे तुमसे कुछ बात करनी थी." देवप्रभा ने कहा. मैं अब मंथन का चेहरा ताकने लगी.

"वो मोहन..." उसकी आवाज ही नही निकल रही थी. ऐसा लग रहा था रोने से उसकी आवाज भारी हो गयी हैं और उसकी आँखों से आंसू भी निकलने लगे थे. वो उससे आगे कुछ नही बोल पाया और फफक कर रोने लगा. देवप्रभा ने मामला बिगड़ते देख खुद बोलना ही उचित समझा.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4291
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: रहस्यमई आँखें

Post by Jemsbond » 16 Oct 2016 15:58


"मोहन और रवि काफी अच्छे दोस्त थे. मोहन के इस दुनिया में न रहने का सबसे ज्यादा दुःख रवि को ही होता. क्योंकि रवि अभी कमरे में बंद हैं वो मोहन को आखिरी बार भी नही देख पायेगा. इसने गुरूजी से बात की थी लेकिन वो मानने को तैयार ही नही हैं, अगर तुम गुरूजी से बात कर सको तो रवि आखिरी बार...." देवप्रभा कहते कहते रुक गयी. मुझे सब वैसे ही समझ में आ गया था. मुझे मंथन की हिम्मत पर आश्चर्य हो रहा था जो इतना सब होने के बाद भी पहले गुरूजी और बाद में मुझ तक आ गया था.

"ठीक हैं...मैं बात करुँगी." मैंने धीरे से कहा. मंथन और जोर से रोने लगा. शायद वो शुक्रिया कह रहा था.*

-------------------------------------------------

मैं* उठकर बाहर गुरूजी के पास गयी, देवप्रभा और मंथन भी मेरी पीछे-पीछे ही आ गए. गुरूजी मोहन के अंतिम संस्कार की तैयारी करवा रहे थे.

"..पुलिस वालो से तुम बात कर लेना, मैं नही चाहता कि बच्चे के शरीर के साथ किसी भी तरह की चीर-फाड़ हो, समझे?"* गुरूजी ने अपने सेवक को समझाते हुए कहा. वो बिलकुल धीरे बोल रहे थे और उनकी आवाज भी कांप रही थी जिससे पता चलता था कि उन्हें इस घटना का गहरा दुःख हैं.

"अवंतिका तुम! कहो क्या हुआ?" उन्होंने मुझे देखकर खुद को सँभालते हुए थोड़ी तेज आवाज में कहा.

"गुरूजी वो मैं यह कहना चाहती थी कि..." मुझे समझ में नही आ रहा था कि में अपनी बात कैसे रखूं? "...मोहन और रवि काफी अच्छे दोस्त थे, अगर रवि को मोहन के अंतिम दर्शन का अवसर मिल जाता तो...?"

"तुम चाहती हो कि हम रवि को समाधी से उठाये?" उन्होंने मोहन की तरफ देखते हुए कहा.

"जी गुरूजी...रवि को वैसे भी अपने किये की सजा मिल ही चुकी हैं और वो अगर अब तक* जीवित हैं तो उसका तन्त्र के प्रति समर्पण भी सिद्ध हो चूका हैं..." मुझे 'अगर' कहने में थोड़ी झिझक महसूस हुई थी. गुरूजी ने एक बार मुझे घुरा और फिर मोहन और देवप्रभा की तरफ देखकर इशारा किया. वो वहां से चले गए.

"अवंतिका! तुम तंत्र के बारे में क्या समझती हो? यह कोई खेल हैं कि अगर कोई समस्या हुई तो समय थोडा सा कम कर दिया. तंत्र एक व्यवस्था हैं, अनुशासन हैं. यह कुछ सिद्ध करने के लिए नही होता, यह सिद्धि के लिए हो होता हैं. यह कोई अंगिया नही हैं जो किसी के बहकावे में आकर उतार कर फेंक दिया जाए...यह हमारी आत्मा हैं जो मृत्युपरंत हमारे साथ रहती हैं."

उनकी अंतिम बात सुनकर में सिहर गयी. भला गुरूजी को अँगिया वाली बात के बारें में कैसे पता चला? कही देवप्रभा ने तो नही....उनकी यह बात सुनकर मेरी नज़रे नीचे जमींन में ही गढ़ गयी. आगे कुछ और बोलने की तो क्या मेरी ऊपर देखने की हिम्मत भी नही हो रही थी.* मैं चुपचाप वहां से चली आई. कुछ दूर ही देवप्रभा और मंथन मेरा इंतज़ार कर रहे थे. मैंने देवप्रभा को गुस्से से देखा और चुपचाप आगे बढ़ गयी. वो दोनों मेरे पीछे-पीछे दौड़ने लगे.

"अवनी! गुरुजी माने क्या?" देवप्रभा ने दौड़ कर मेरे बराबर आते हुए कहा.

"नही लेकिन वो अँगिया वाली बात..." मैंने गुस्से में कहा मगर फिर मंथन को देख कर रुक गयी.

"माफ़ करना मैंने काफी कोशिश की, मगर गुरूजी कुछ सुनने को ही तैयार नही थे." मैंने मंथन की और देखकर कहा.

"कोई बात नही...तुमने कोशिश तो की...शुक्रिया!" मंथन ने धीरे से कहा और वो वहां से चला गया. देवप्रभा वही नज़रे झुकाये खड़ी थी जैसे उसे मेरे डांट खिलाने का इंतज़ार हो. मैं उसका हाथ पकड़ उसे घसीटते हुए अपने कमरे में लेकर आ गई.

"गुरूजी को मेरी अँगिया वाली बात के बारें में कैसे पता चला?" मैंने पुरे गुस्से से चिल्लाते हुए एक-एक शब्द पर जोर देते हुए कहा.

"गुरूजी अंतर्यामी हैं, उन्हें सब पता हैं." देवप्रभा ने नज़रे झुकाये ही कहा.

"बकवास मत कर..गुरूजी अंतर्यामी हो सकते हैं मगर मैं इतनी पागल नही हूँ जो यह सब न समझ पाऊं. तू गुरूजी के लिए मेरी जासूसी करती हैं." मैंने गुस्से से कहा.

"मैं कुछ नही जानती, तु गुरूजी से ही पूछ लेना..." उसने दबी हुई आवाज में कहा और जाने लगी.

"मेरी दोस्त गुरूजी हैं या तू हैं?" मैंने फिर से चिल्लाते हुए कहा. "मैंने तुझ पर इतना विश्वास किया और तूने मेरे साथ यह किया? छीः! तुझे शर्म नही आई?" मेरा गुस्सा अब सातवे आसमान तक पहुच चूका था.

"मैं क्या करती..मुझे गुरूजी ने ही यह सब करने के लिए कहा था." उसने भर्राते हुए कहा उसकी आँखों से आंसू झर रहे थे. ऐसा लग रहा था वो खुद भी इस सब से बुरी तरह से दुखी हैं. "...जब से तू यहाँ आई हैं गुरूजी ने मुझे तेरे पीछे लगा रखा हैं. तू कहा जाती हैं? क्या खाती हैं? किससे क्या बात करती हैं? हर बात का मुझे लेखा रख कर उन्हें बताना पड़ता हैं. मुझे खुद को यह सब अच्छा नही लगता मगर क्या करूँ, गुरूजी का आदेश था मानना पड़ा. " उसने रोते-रोते कहा. मुझे कुछ समझ में नही आ रहा था कि मैं उससे क्या कहूँ?

"तू जा अभी यहाँ से मैं बाद में बात करुँगी." मैंने बिना उसकी ओर देखे ही झल्लाते हुए कहा. वास्तव में मेरी आँखों में भी आंसू आ गए थे जो मैं उसे दिखाना नही चाहती थी. वो कुछ देर वहां खड़ी रही और फिर चुपचाप चली गयी.

मोहन के अंतिम संस्कार के दौरान भी मैं उससे दूर-दूर ही रही. वो मुझे सुखी* नज़रो से देख रही थी, जिससे साफ़ पता चल रहा था कि वो अपने किये पर कितना शर्मिंदा हैं! मुझे भी अब गुस्सा देवी की बजाए गुरूजी पर आ रहा था, आखिर इस सब के कर्ता-धर्ता तो वहीँ थे.

---------------------------------------------------------
मोहन अंतिम संस्कार* के बाद में अपने कमरे में जाकर सो गयी. मैं शाम का खाना भी नही खाया था. रात को मैं संगठन के हॉल में पहुची. गुरूजी एक जगह बैठ कर कुछ पढ़ रहे थे.

"अवंतिका! तुमने भोजन किया?" उन्होंने बिना मेरी ओर देखे ही कहा.

"मैंने भोजन किया या नही किया, क्यों नही किया? देवी ने आपको सब बता ही दिया होगा!" मैंने गुस्से से कहा. गुरूजी ने एक बार मेरी ओर देखा और फिर पढ़ने लगे जैसे उन्हें इस बात से कोई खास फर्क ही नही पड़ा हो.

"आप ऐसा कैसे कर सकते हैं? आप देवी से मेरी जासूसी करवा रहे थे?"

"संगठन के कुछ नियम होते हैं अवंतिका." उन्होंने बिना मेरी ओर देखे ही कहा.

"...और उनमें किसी की जासूसी करना भी आता हैं." मैं उनका जवाब जानने के लिए आतुर हो रही थी. उन्होंने अपना हाथ किताब को लगाया, फिर माथे को लगा कर कुछ बुदबुदाया और फिर किताब बन्द कर दी.

"तुम हमारे लिए महत्वपूर्ण हो, इतनी की हम तुम्हे किसी भी प्रकार के खतरे में नही पड़ने दे सकते हैं. देवप्रभा तुम्हारी अंगरक्षिका की भांति थी. अगर हम तुम्हारी जासूसी कर रहे होते* तो क्या हम स्वयं इसे तुम्हारे बारे में बताते?"

"आपने स्वयं बता दिया इसका यह अर्थ तो नही हैं कि यह सही हो गया. देवी को मैं अपनी सखी मानती हूँ और आपने उसी को मेरे खिलाफ इस्तेमाल किया?" मुझे अब खीझ हो रही थी.

"देवप्रभा भी तुम्हे उतनी ही अच्छी सहेली मानती हैं जितना की तुम उसे मानती हो. अभी हाल ही में उसने मुझे आकर यह सब करने से मना कर दिया था. मैंने भी उसकी मनोस्थिति को समझते हुए उसे इस जिम्मेदारी से मुक्त कर दिया था...तो वास्तव में हमें अभी नही पता हैं कि तुमने खाना खाया हैं या नही? वो तो आज काफी लोगो ने दुःख में खाना नही खाया था इसलिए हमने तुमसे भी पूछ लिया." उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा. अजीब बात थी मैं यहाँ गुस्से से आग बबूला हो रही थी और गुरूजी मुस्कुरा रहे थे. मैं गुस्से में ही वापस अपने कमरे में गयी.

___________________________________________

धीरे-धीरे दिन गुज़रने लगे. मैंने देवप्रभा को भी माफ़ कर दिया. था जब उसकी कोई गलती थी ही नही तो उससे किस बात का गुस्सा होना? और वैसे भी मैं अब यह समझ गयी थी कि जिस संगठन का मैं हिस्सा थी उसमें यह सब कोई बड़ी बात नही थी.

आज रवि को कमरे में बंद किये हुए. सत्रह दिन हो गए थे. गुरूजी सुबह से ही काफी परेशान लग रहे थे. उनकी चिंता साफ़ समझी जा सकती थी क्योंकि आज उनका बेटा इस दुनिया से विदा लेगा या फिर पुनर्जन्म लेगा इस बात का निर्णय होने वाला था और किसी भी पिता के लिए इससे बड़ी और कोई बात हो ही नही सकती हैं.

प्रार्थना के पहले नियत समय पर उस कक्ष का दरवाजा खोला गया. गुरूजी समेत सब लोग बाहर ही खड़े रहे. सिर्फ तीन-चार सेवादार अंदर गए. अंदर से काफी बदबू आ रही थी. एक तरफ बिस्तर पर रवि पड़ा हुआ था. वो बिलकुल हड्डियों का ढांचा बन चूका था. एक सेवादार ने उसकी धड़कन जाँची और जोर से चिल्लाया "गुरूजी! यह जीवित हैं!"
यह सुनते ही गुरूजी अंदर दौड़ पड़े. वो रवि से लिपट कर फफक-फफक रोने लगे.

"रवि ने मृत्यु पर विजय हासिल की हैं, यह मृत्यंजय हैं." एक बूढ़े से व्यक्ति ने कहा. यह एक वरिष्ठ तांत्रिक था, जिसका संगठन में काफी सम्मान था. "रवि मृत्यंजय हैं!" सब लोग चिल्लाने लगे जैसे किसी की जय-जयकार कर रहे हो.

इसके बाद रवि को पानी और ज्यूस पिलाया गया. हम सब बाहर ही खड़े थे. दो सेवादार रवि को कंधे का सहारा देकर बाहर लाये. रवि की हालत बिलकुल दयनीय हो गयी थी, उसकी आँखे भी आधी ही खुल रही थी, वो पूरा झुक कर चल रहा था मगर जब वो मेरे सामने से गुज़रा तो उसने अपनी आँखे पूरी खोली और मुझे देख कर अपने चेहरे पर एक शातिर मुस्कान लाया और फिर आँख मारी...

मुझे रवि की इस हरकत पर आश्चर्य हुआ, किसी ने सच ही कहा हैं कुते की दुम को 12 साल तक नली में रखोगे तब भी वो टेड़ी ही रहेगी.

एक दिन में खाना खाने के बाद देवी से कुछ बात कर रही थी की गुरूजी ने मुझे बुलाया. मैं उनके पास गयी.

"यह फलरस रवि को दे आओ." उन्होंने मेरे हाथ में एक गिलास थमाते हुए कहा.

"मैं?" मैंने उन्हें अचरज से देखते हुए कहा. गुरूजी को अच्छी तरह से पता था कि हम दोनों के बीच कैसा रिश्ता था फिर भी वो मुझे ही भेज रहे थे, बल्कि वहां कई सारे अन्य लोग भी थे जो यह काम कर सकते थे. शायद वो चाहते थे कि हमारे सम्बन्ध कुछ सुधर जाए. मगर पानी और आग का भला कभी मेल हुआ हैं?

खैर गुरूजी की आज्ञा सिर-माथे पर धर कर में ज्यूस ले कर चल दी. मैं उसके कमरे के बाहर पहुंची तो दरवाजा आधा खुला हुआ था वो अन्दर बिस्तर पर बैठ कर कुछ पढ़ रहा था.

"आज खुद महारानी ने एक सेवक के लिए इतना कष्ट कैसे उठा लिया?" उसने मुझे देखते ही सचेत होते हुए कहा.

"गुरूजी का आदेश था." मैंने सूखी आवाज में बिना उसकी तरफ देखे ही ज्युज मेज* पर रखते हुए कहा.

"गुरूजी का आदेश..." उसने निःश्वास छोड़ते हुए कहा. "गुरूजी का आदेश न किसी को जीने देता हैं और न ही मरने देता हैं." वो लगातार मुझे ही घूर रहा था. उसकी तीखी नज़रे में अपने जिस्म पर महसूस कर सकती थी.

"चलो अब आ ही गई हो तो थोड़ी सी सेवा और कर दो." उसने मुझे घूरते हुए ही कहा. मैंने चौक कर उसकी तरफ* देखा. "तकिया! नीचे गिर गया था, ऊपर रख दो." उसने नीचे पड़े तकिये की तरफ इशारा करते हुए कहा.* मैं तकिये को घूरने लगी. वास्तव में जब मैं कमरे में आई थी तब तकिया अपनी जगह पर ही था. शायद रवि ने जानबूझकर तकिया गिराया था ताकि वो इसी बहाने मुझे पास से देख सके. मैंने तकिया उठाया और पास की टेबल पर ही रख दिया.

"गन्दा हो गया हैं धुलवाने दे दूंगी, तुम्हारे लिए नया भिजवाती हूँ." मैंने उसे उसी तरह से उसे घूरते हुए कहा.

"तुम क्या-क्या धुलवाओगी अवंतिका? यहाँ तो सब कुछ गन्दा हुआ पड़ा हैं." उसकी नज़रे लगातार मेरा पीछा कर रही थी. मुझे घुटन सी होने लगी.

"तुम इतने दिन जीवित कैसे बचे?" मैंने विषय बदलते हुए कहा.

"प्रेम के सहारे..." उसके चेहरे पर एक छोटी सी मुस्कान आई और फिर गायब हो गयी. "प्रेम में बड़ी ताकत होती है,* यह किसी को मरवा भी सकता हैं और जीवनदान भी दे सकता हैं. तुम्हारे प्रेम ने मुझे* मृत्यु की तरफ धकेल दिया और किसी के प्रेम ने मुझे मौत के मुंह से बचा लिया." मैं उसका चेहरा देखने लगी, किसी को इससे भी प्यार हो सकता हैं यह मेरी समझ से बाहर था. उसने ज्यूस का गिलास उठा लिया था.

"अच्छा हैं.. मैं प्रार्थना करुँगी कि तुम्हे जीवन भर ऐसा ही प्रेम मिलता रहे." मैंने मुड़ते हुए कहा.

"अब नही मिल सकता...उसे तो तुमने छीन लिया हैं." तभी छन्न की आवाज आई. मैंने मुड़कर देखा तो ज्यूस का गिलास फर्श पर गिरा हुआ था.

"कड़वा हो गया था." उसने गुस्से से मेरी तरफ देखते हुए कहा. मैं चुपचाप बाहर आ गई.
*
----------------------------------------------------------------

धीरे-धीर समय गुजरने लगा. सब कुछ काफी अच्छे से चल रहा था. राणा, मैं और देवप्रभा काफी अच्छे दोस्त थे. संगठन में भी मैं सबकुछ काफी तेजी से सीख रही थी, इसलिए सब मेरा काफी सम्मान करते थे. मृत्युंजय मुझसे अब भी उतनी ही नफरत करता था मगर उसके बाद उसने कभी मुझसे न तो कुछ कहा और न ही कोई उल्टी सीधी हरकत की थी. वो शायद कोई बड़ा मौका तलाश रहा था.

आश्रम में काफी दिनों से एक लड़के की मुझ पर नज़र थी. यह कोई मुझसे एक साल बड़ा होगा. दिखने में और व्यवहार में मुझे भी अच्छा लगा था. कभी उससे बात तो नही हुई मगर उसकी आँखे जैसे हज़ारो बाते करती थी. जब भी मेरा उससे आमना-सामना होता था वो सांस रोक कर खड़ा हो जाता था और बार-बार नज़रे चुरा कर मुझे देखता था. जब मैं उसकी तरफ देखती वो नीचे देखने लगता. मैंने कई बार उसे मुझे देखते हुए पाया था लेकिन कभी बात करने की मेरी भी हिम्मत नही हुई थी.

"यह लड़का कौन हैं?" एक दिन खाना खाते वक्त* मैंने देवप्रभा से पूछा. वास्तव में मैं आश्रम में बहुत कम ही लोगो को जानती थी मगर देवी इस काम में शातिर थी यहाँ के हर व्यक्ति का कच्चा-चिट्ठा उसके पास था.

"कौन लड़का?" उसने मेरी आँखों को देख उसी दिशा में देखा मगर वहां तीन चार लड़के खड़े थे, इसलिए शायद उसे कुछ समझ में नही आया.

"वो...सफेद कमीज वाला.." मेरी आँखों में चमक साफ़ देखी जा सकती थी.

"यहाँ तो सभी ने सफ़ेद कमीज पहन रखी हैं, तेरी सफ़ेद कमीज कौनसी हैं?" उसने मेरी तरफ देखते हुए ही कहा. मैंने देखा की वो मुझे देखकर मुस्कुरा रही हैं. शायद उसे सारा माज़रा समझ में आ गया था. मैं शरमा गयी. "क्या तू भी...वो जिसके गले में माला हैं." मैंने नीचे देखते हुए कहा.

"रणवीर! देख रही हूँ कि राजकुमारी का काफी दिनों से नैन-मटका चल रहा हैं राजकुमार के साथ..." वो लगातार मुझे घूरे जा रही थी और मैं यहां शर्म से गड़ी जा रही थी. "तू कहे तो उसके साथ कुछ* सेटिंग-वेटिंग करवाऊँ?" उसने हँसते हुए कहा.

"हट! मुझे कोई सेटिंग-वेटिंग नही करनी हैं." मगर मैं बार-बार नज़रे चुरा कर उसे ही देख रही थी और देवी मुझे, जैसे वो मेरे मजे ले रही हो.

"देवी!" मैंने बिना उसकी तरफ देखे ही कहा. "हां बोलो राजकुमारी." देवी को जब भी मुझे चिढ़ाना होता तो वो मुझे राजकुमारी ही बुलाती थी.

"बात करवा सकती हैं." मैंने रणवीर की* तरफ देखते हुए कहा, वो भी मेरी तरफ ही देख रहा था.

"काजर की कोठरी में कैसा ही सयानो जाय, एक लीक काजर की तो लागे ही लागे..." देवी ने गाते हुए मुझे चिढ़ाते हुए कहा. "करती हूँ, तेरा भी कुछ न कुछ करती हूँ." उसने मुस्कुराते हुए कहा.*

--------------------------------------------------

दिन को सोने के बाद में उठी ही थी की देवी मेरे कमरे में आ गई.

"टिक-टिक, टीक-टीक घड़िया कटना,
गर यार मिले तो कुछ बात बने...
घोर-घनघोर घटा का घटना,
बरसात गिरे तो कुछ बात बने...
नीर विहीन नैनो का झरना,
गम चार मिले तो कुछ बात बने...
पल-पल मुश्किल दिन दिल करे,
अंग यार मिले तो कुछ बात हैं." ♀

देवी ने दरवाजे पर खड़े खड़े ही कहा.

"क्या बात हैं आज बड़ी कविताएँ सूझ रही हैं तुझे?"

"हम जो सोचते थे अक्सर,
वो बात कहीं पर हुई तो हैं..
दूर कहीं उठता हैं धुँआ,
ये आग कहीं पर लगी तो हैं." ◆

"क्या हैं? क्यों परेशान कर रही हैं? सीधे-सीधे बोल न क्या हुआ?"* मैंने खीजते हुए कहा. उसने दरवाजा बंद किया और अंदर आ गई.

"आपके राजकुमार से मिली थी राजकुमारी! आग* दोनों तरफ बराबर जल रही हैं."* उसने बिस्तर पर बैठते हुए कहा.

"राजकुमार! मतलब?" मैंने अपने चेहरे की ख़ुशी छुपाते हुए कहा.

"अबे नोटंकी! नाटक बंद कर, तुझसे आज शाम को मिलने आएगा."

"क्या शाम को? कौन.. कब...कहाँ?" मैंने चोंकते हुए कहा. मुझे इतनी जल्दी यह सब होने की उम्मीद नही थी.

"वो तो वो जाने और तू जाने. मैं तो बस इतना ही जानती हूँ कि आज शाम को चाँद अकेला नही होगा...हाय! मेरा चाँद कहाँ हैं?" उसने आह भरते हुए कहा.

"तेरा चाँद भी दीख रहा हैं. बस लपकने की देर हैं."

"मतलब?" अब उसने चोंकते हुए कहा.

"मंथन! तेरी भी तो उससे सेटिंग-वेटिंग हैं न!" मैंने भी उसी के टोन में कहा.

"न..नही...ऐसा कुछ नही हैं. वो तो बस.."

"बस..बस रहने दे. मुझे सब पता हैं. दोस्त हूँ इसलिए पूछ रही हूँ. कोई मदद चाहिए हो तो बता देना, बदला चूका दूंगी."

उसके बाद वो चली गयी. शाम को मैंने खाना खाया और अपने कमरे में आ गई. मुझे काफी बैचैनी हो रही थी. पता नही उससे कैसे बात करुँगी, वो मेरे बारे में क्या सोचता होगा? मैंने देवी को उसके पास भेजा था तो कहीं वो मुझे गलत न समझ ले. इस तरह के कई सारे विचार मेरे मन में आ रहे थे. मैं कब से ही तैयार होकर बैठी थी. मैंने कोई खास श्रृंगार तो नही किया था मगर खुद को संवार कर हो सके जितना खूबसूरत दिखने की कोशिश कर रही थी.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4291
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: रहस्यमई आँखें

Post by Jemsbond » 16 Oct 2016 16:01


इंतज़ार करते-करते रात की साढ़े दस बज गयी थी. तभी दरवाजे पर दस्तक हुई. मैं अचानक सिहर गयी. मैं उठी और खुद को ठीक किया. मेरी धड़कन रेलगाडी से भी तेज चल रही थी. मैंने आँखे बंद करके ही दरवाजा खोला.

"अवंतिका!"

ये आवाज सुनकर मैं चौक गयी. यह तो कोई जानी-पहचानी आवाज थी. मैंने आँखे खोली तो सामने गुरूजी खड़े थे. मैं सकपका गयी. उन्होंने मुझे ऊपर से नीचे तक देखा मगर ऐसा नही लगा की उन्हें कोई ख़ास फर्क पड़ा हो.

"हमारे साथ चलो, एक* महत्वपूर्ण बात हैं." उन्होंने मुड़ते हुए कहा. मैं उनके पीछे-पीछे हो ली.

हम दोनों संग़ठन के हॉल में पहुंचे. वहां पर सब लोग इकठ्ठा हुए थे. हम दोनों ऊपर मंच पर थे.

"मित्रो! हम जिस महत्वपूर्ण क्षण की प्रतीक्षा कर रहे थे, वो क्षण आने वाला हैं. अगले माह की पूर्णिमा को वो शुभ घडी हैं जब हम सूत्र साधना कर सकते हैं." उन्होंने मेरी और देखकर मुस्कुराते हुए कहा. मैं यह सुनकर चोंक गयी. वास्तव में मैंने उस दिन के बाद आजतक कभी सूत्र साधना के बारें में सोचा ही नही था. सब कुछ इतने अच्छे से चल रहा था कि मैं इस सब में ही रम गयी थी. अचानक इसके बारे में सुनकर मुझे झटका लगा.

"मित्रो हमें आज से ही इस अनुष्ठान के लिए तैयारी शुरू कर देनी होगी. मैं इसमें किसी भी तरफ की भूल नही चाहता हूँ. हमने वर्षो तक इसके लिए प्रतीक्षा की हैं और अगर यह अवसर हमारे हाथ से निकल गया तो शायद मैं अपने जीवन में दुबारा इसका साक्षी न बन सकूँ." मैं चुपचाप खड़ी यह सब सुन रही थी.

"आ..छु...!" तभी एक आवाज आई. हम सब चोंक गए क्योंकि यह हमसे किसी के भी छींकने की आवाज नही थी. यह दरअसल गुरूजी के कमरे से यहाँ तक आने का जो गलियारा था वहां से आई थी. हम सब उधर ही देखने लगे.

"कौन हैं वहां?" एक तांत्रिक तेजी से मच पर चढ़ा और उस गलियारे की तरफ लपका. हम सब की नज़रे उधर ही जमी हुई थी. वो तांत्रिक किसी को खींचते हुए* लाया जिसे देखकर मेरी साँसे अटक गयी. यह तो रणवीर था. आखिर यह यहाँ तक कैसे पहुँचा ? जरुर मुझसे मिलने के लिए आया होगा और मेरे पीछे-पीछे यहाँ तक आ गया होगा ।
“रणवीर तुम ?” गुरूजी ने उसे देखकर चौंकते हुए कहा ।
“तुम यहाँ क्या कर रहे हो ?” रणवीर आश्रम का एक होनहार लड़का था, इसलिए गुरूजी उसे अच्छी तरह से जानते थे, मगर रणवीर का इस तरह से यहाँ आना उनकी भी समझ से परे था । जवाब में रणवीर ने बस आश्चर्य से मेरी तरफ देखा। गुरूजी ने भी उसकी नजरो का पीछा करते हुए मेरी तरफ देखा। अब शायद उन्हें सारा मामला समझ में आ गया था। उनके मुझे बुलाने आते वक़्त मेरा इस तरह तैयार होकर रहना, मेरा आँखे बंद करके दरवाजा खोलना, उन्हें देखकर चौक जाना और फिर रणवीर का अचानक यहाँ आ जाना। उनके दीमाग में एक के बाद एक कड़ी जुड़ती गयी और पूरी कहानी बन गयी।

“तू यहाँ क्या कर रहा है ? जानता है न बिना आज्ञा के हमारे कमरे में आना सख्त मना है ?”
“जी मै तो वो.......” रणवीर कहते-कहते इधर-उधर देखने लगा। जल्द ही उसे समझ आ गया कि यह आश्रम की कोई गुप्त सभा है और उसने यहाँ आकर कोई बड़ी गलती कर दी है।
“ये जरुर कोई जासूस है और यहाँ पर जासूसी करने आया है।” भीड़ में से एक तांत्रिक ने कहा।
यह शब्द सुनते ही सब आपस में गुटुर-गु करने लगे।
“संगठन के शत्रु को सख्त सजा मिलनी चाहिए।” एक दुसरे तांत्रिक ने सुर में सुर मिलाते हुए कहा।
“हम संगठन के रहस्यों की रक्षा के लिए प्राण ले भी सकते है और प्राण दे भी सकते है।” यह रवि था। शायद गुरूजी की तरह वो भी असली माजरा समझ गया था या फिर वो पहले से ही हम दोनों के बारे में जानता था, इसलिए वो मौके का पूरा फायदा उठाने की फिराक में था और आग में घी डाल रहा था।
“पहले हम सुन तो ले की रणवीर कहना क्या चाहता है ?” राणा ने मामला सम्भालते हुए कहा।
“हम एक चोर से ये अपेक्षा करे की वो अपनी चोरी स्वीकार करेगा ।” रवि ने राणा की आवाज को दबाते हुए कहा।
“शान्ति...........” गुरूजी ने सख्त आवाज में कहा।
“हम पहले रणवीर से बात करना चाहेंगे।” गुरूजी ने रणवीर पर एक पैनी निगाह डालते हुए कहा।
“लेकिन गुरूजी............” मौका हाथ से जाता देखकर रवि छटपटाया।
“बस हम निर्णय कर चुके है, आप सब प्रतीक्षा करे।” गुरूजी ने रवि का मुह बंद करते हुए कहा।
“अवन्तिका आप भी हमारे साथ आइये ।” गुरूजी ने इशारा किया। मै भी गुरूजी के पीछे-पीछे चल दी।

------------------------------------------X-------------------------------------------------X-----------------------------------------------------X---------------------------------------------

गुरूजी के कमरे में सामने गुरूजी खड़े थे और इधर रणवीर और मै दोनो सर झुकाए खड़े थे।
“अवन्तिका! क्या रणवीर तुमसे मिलने आया था ?” गुरूजी ने रणवीर की बजाय मुझसे पूछा। शायद वो जानते थे की मै झूठ नहीं बोल सकती हूँ। मै बस सिर झुकाए खड़ी रही।
“तुम समझ रही हो न यह मामला कितना गंभीर है ? यह रणवीर के जीवन का सवाल है। इसलिए मै जो पूछ रहा हूँ उसका ठीक-ठीक जवाब दो। क्या तुम रणवीर से मिलने वाली थी ?”
जान का खतरा सुनकर रणवीर हक्का-बक्का गुरूजी को देखने लगा। उसे समझ में नहीं आ रहा था की उसने ऐसा क्या गुनाह कर दिया की इतना कोहराम मचा हुआ है ? मैंने हाँ में सर हिला दिया।
“गुरूजी वो तो मैंने अवन्तिका को आपके साथ देखा था तो मै भी पीछे-पीछे चला आया था और फिर आपके कमरे में एक गुप्त द्वार देखा तो जिज्ञासवस वहां तक पहुच गया।” रणवीर ने एक ही सांस में पूरी सफाई पेश कर दी।
मुझे अब समझ में आया यह मामला कितना गंभीर है।
“गुरूजी! गलती हमारी है की हमने समय से पहले ही सभा बुलायी और ऊपर से द्वार भी खुला छोड़ दिया, हमारी गलती की सजा एक निर्दोष को नहीं मिल सकती है।”मैंने रणवीर का बचाव करते हुए कहा। रणवीर ने एक नजर उठाकर मुझे देखा, जैसे मन ही मन शुक्रिया कह रहा हो।
“अवन्तिका, समस्या यह नहीं है की रणवीर सभा तक पंहुचा, बल्कि समस्या यह है की वो तुम्हारे पीछे वहां तक पंहुचा था। संगठन में कुछ लोग यह बात समझ चुके है और इसे तुम्हारे विरुद्ध इस्तेमाल करेंगे। मैंने तुमसे पहले ही कहा था कि सूत्र साधना की सफलता के लिए सूत्रों का ब्रम्हचर्य पालन अनिवार्य है। अगर मै सच बताता हूँ तो ये रणवीर के लिए और भी घातक होगा, क्योकि संगठन का कोइ भी व्यक्ति सूत्र साधना की असफलता के कारक को निर्दोष नहीं मानेगा। गुरूजी ने मुझे पूरा मामला समझाया। रणवीर हमें इस तरह देख रहा था जैसे की हम दोनों किसी विदेशी भाषा में बात कर रहे थे।
“लेकिन गुरूजी हम दोनों के बिच ऐसा कुछ भी नहीं है।” मैंने गिडगिडाते हुए कहा।
“.....और यह सिद्ध कैसे होगा ? चलो मै तो एक क्षण के लिए मान भी लु लेकिन निचे खड़े उन लोगो में से कोइ भी यह मानने के लिए तैयार नहीं होगा।” गुरूजी ने मुझे दबाते हुए कहा।
“तो आप कहना क्या चाहते है की रणवीर को.........” मै कहते-कहते रुक गयी। वास्तव में, मै रणवीर को और नहीं डराना चाहती थी।
“मै किसी भी हाल में सूत्र साधना को खतरे में नहीं डाल सकता हूँ।”
“लेकीन इतनी सी भूल के लिए भला कैसे रणवीर को ............?” मै फिर से रुक गयी मगर इस वक्त इसका कारण मेरे दीमाग में चल रहा डर का बवंडर था।
“हम प्रतिबद्ध हैं, स्वयं तुमने संगठन से जुड़ने से पहले संगठन के रहस्य की रक्षा के लिए प्रण लिया था।” गुरूजी ने अंतिम तर्क पेश किया। वो शायद इस मामले को यहीं ख़त्म करना चाहते थे। मुझे ये समझ में नहीं आ रहा था की गुरूजी ऐसा कैसे कह सकते है ? एक छोटी सी भूल के लिए कैसे रणवीर को इतनी बड़ी सजा मिल सकती है , और सबसे ज्यादा दुःख मुझे इस बात का हो रहा था की रणवीर मेरी वजह से इस मुसीबत में फसा था, वो बेचारा तो सिर्फ मुझसे मिलने आया था।
“मगर संगठन से जुडने से पहले मैंने एक शर्त भी रखी थी” मैंने अपना ब्रम्हास्त्र फेंका। शर्त के बारे में सुनकर गुरूजी के रोंगटे खड़े हो गए। शायद वो इस बारे में भूल ही चुके थे। “अगर रणवीर को खरोंच भी आती है तो मै इसी वक़्त संगठन और यह आश्रम छोड़ कर चली जाउंगी।” मैंने लगभग धमकी देते कहा।
“अवंतिका......” अब गिडगिडाने की बारी गुरूजी की थी। उन्हें आश्चर्य हो रहा था की सीधी-साधी दिखने वाली अवन्तिका इतनी शातिर भी हो सकती है।
“सूत्र साधना तो वैसे भी खतरे में है, बेहतर है आप रणवीर को जाने दे।” मैंने अंतिम तीर फेंका। गुरूजी अपनी दाढ़ी को सवाँरते हुए सोचने लगें।

------------------------------------------X-------------------------------------------------X-----------------------------------------------------X---------------------------------------------

बाहर सभी लोग बेसब्री से हमारा इंतजार कर रहे थे। गुरूजी मेरे और रणवीर के साथ मंच पर पहुँचे, सब हमारी तरफ देखने लगे।
“हम रणवीर से बात करने के बाद इस निष्कर्ष पर पहुंचे है कि वो निर्दोष है और यहाँ सिर्फ भूलवश पहुँच गया था।” गुरूजी ने घोषणा करते हुए कहा।
“लेकिन फिर भी यह संगठन के रहस्यों को जान चूका है, इसे ऐसे ही तो नहीं जाने दे सकते हैं।”
“इसकी जिम्मेदारी मै लेती हूँ।” मैंने कहा, “रणवीर कोइ भी जानकारी किसी को भी नहीं देगा।”
“और तुम्हारी जिम्मेदारी कौन लेगा ?” यह रवि था। सब उसकी तरफ देखने लगे।
“क्या यह सत्य नहीं है कि तुम रणवीर से प्यार करती हो और वो तुम्हारे पीछे ही यहाँ आया है ?” रवि ने अपनी चाल चली।
“नहीं ऐसा कुछ नहीं है, रणवीर बस भूलवश यहाँ आया था।” मैंने गुरूजी की तरफ देखते हुए कहा व गुरूजी ने आँखों ही आँखों में मुझे झूठ कहने की स्वीकृति दे दी।
“लेकिन मैंने तो......”
“बस रवि !” वो आगे कुछ और कहना चाहता था, मगर गुरूजी ने उसे वहीं रोक दिया। “हम निर्णय कर चुके है। रणवीर तुम जा सकते हो।” गुरूजी ने रणवीर की तरफ देखते हुए कहा। रवि अब भी मुझे गुस्से से घुर रहा था।

------------------------------------------X-------------------------------------------------X-----------------------------------------------------X---------------------------------------------
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply