रहस्यमई आँखें complete

Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 14 Jul 2016 06:18


नंदिनी ने जैसे ही पैकेट टेबल पर खाली किया एक चीज पर उसकी नज़र रुक गयी. यह गले में पहनने की चांदी की माला थी, जिसमें हु-ब-हु वहीँ त्रिशूल था जो उसने राणा के गले में देखा था.

हम्म...तो ये बात हैं. नंदिनी ने वापस हवालदार को बुलाया.

एक काम करो, मुझे भारत सेवा संस्थान के बारें में पूरी डिटेल निकालकर दो.

जी मैडम.

हवालदार के जाने के बाद नंदिनी ने फोन निकाला और किसी को फोन किया. विजय चुपचाप यह सब देख रहा था.

- नमस्ते राणा साहब! नंदिनी ने एक बनावटी मुस्कान लाते हुए कहा.

- नमस्ते एसीपी साहिबा. आज हमारी याद कैसे आ गयी? उधर से राणा ने भी उसी अंदाज़ में कहा.

- जी आपको शुक्रिया कहना था.

- शुक्रिया..मगर किस बात का?

- आपने हवलदार के हमलावरों को पकडवाने में हमारी मदद की इसलिए.

- इसमें शुक्रियां वाली कौनसी बात हैं? आप मेरी मदद करते रहिये, मैं आपकी मदद करता रहूँगा.

- हम्म...मगर राणा साहब आपने मेरा एक काम नही किया.

- कैसा काम मिस नंदिनी?

- वो त्रिशूल वाला लॉकेट आपने अब तक नही भिजवाया. नंदिनी ने अपनी आवाज में एक कुटिलता लाते हुए कहा.

- मुझे लगा था आपने उसके लिए मना कर दिया था.

- हां..मना तो कर दिया था. खैर मुझे अब एक मिल चूका हैं.

- मिल चूका हैं...कहाँ से मिला हैं आपको?

- उस ड्राईवर की लाश से जिसे आपने पकड़वाया था. शायद वो भी शिवभक्त था.

- ड्राईवर...लाश...वो ड्राईवर मर चूका हैं? राणा ने अचरज में पूछा.

- जी हाँ...उस ड्राईवर ने आत्महत्या कर ली थी. शायद किसी को बचाना चाहता था.

- आप कहना क्या चाहती हैं नंदिनी?

- क्या यह भी एक संयोग ही हैं कि उस ड्राईवर के गले में भी वैसा का वैसा त्रिशूल था, जैसा आपके गले में हैं. जिस ड्राईवर को पूरा पुलिस डिपार्टमेंट नही ढूंढ पाया उसके बारें में भला आपको कैसे पता?

- तो आपको लगता हैं कि वो मेरा आदमी था! भला मैं अपने ही आदमी को क्यों पकडवाऊंगा?

- यह तो मैं नहीं जानती कि उस आदमी को पकड़वाकर आपको क्या मिला मगर जिस दिन में जान गयी यह आपके लिए अच्छा नही होगा.

- मैं आपकी मदद करना चाह रहा हूँ और आप उल्टा मुझ ही पर शक कर रही हैं? अगर कोई दोस्ती का हाथ बढाए तो उसके हाथ में खंजर घौपना अच्छी बात नही मैडम.

- मेरा भला-बुरा मैं अच्छी तरह से समझती हूँ, बेहतर हैं आप अपनी फिकर करे.

-शुक्रिया मुझे बताने के लिए, मैं आगे से ध्यान रखूँगा.

इसके बाद राणा ने फोन रख दिया. विजय इतनी देर नंदिनी की सारी बातों को सुन रहा था.

- ये तुमने क्या किया नंदिनी? राणा से दुश्मनी ठीक नही हैं.

- हम यहाँ पुलिस की नौकरी करने आये हैं विजय, दोस्त बनाने नही.

- वो तो ठीक हैं, फिर भी राणा ने तो ड्राईवर के बारें बता कर तुम्हारी मदद ही की थी.

- विजय, राणा के गले में भी मैंने ऐसा ही लॉकेट देखा था. नंदिनी ने ड्राईवर के लॉकेट की तरफ इशारा करते हुए कहा.

- ऐसा भी तो हो सकता हैं, कि यह मात्र एक संयोग हो.

- और अंतस के पास भी ऐसा ही लॉकेट था. उस ड्राईवर ने किसी संगठन का जिक्र किया था, ऐसे ही एक संगठन का जिक्र ताश्री की डायरी में भी था, उसने लिखा था कि राणा उस संगठन से जुड़ा हुआ हैं.

- नंदिनी वो एक डायरी हैं और यह हकीकत हैं, तुम दोनों को एक कैसे कर सकती हो?

- ...और अगर वो डायरी भी एक हकीकत ही हुई तो?

- मतलब?

- मतलब यह की अब तक इस केस की तहकीकात यह मान कर हुई हैं कि ताश्री का खून अंतस ने किया हैं, पर अगर उसका खून अंतस ने न किया हो और राणा ने किया हो तो?

- यह सिर्फ एक थ्योरी हैं, और हमारे लिए किसी थ्योरी का तबतक कोई मतलब नही हैं जब तक हमारे पास पर्याप्त सबुत न हो.

- वही तो...अब हमें केवल सबुत ढूंढने हैं...खैर छोड़ो..आज तुम खाना मेरे घर पर ही खाओगे. नंदिनी ने उठते हुए कहा. और उस टिफ़िन वाले को भी मना कर देना.

- क्यों कोई ख़ास वजह हैं? विजय ने मुस्कुराते हुए कहा.

- हां अब मैं तुम्हे और बाहर खाना नही खाने दूंगी. वैसे भी तुम अपनी हेल्थ काफी बिगड़ चुके हो.

- जो आज्ञा मैडम. विजय ने हँसते हुए कहा.

विजय और नंदिनी दोनों केबिन से बाहर आ गये.

- तुमने बिएसएस के बारें में डिटेल्स निकाली? नंदिनी ने हवलदार से कहा.

- जी मैडम. इसकी स्थापना सन १९२७ में हुई देश में धर्म की स्थापना, प्रचार और रक्षा के लिए हुए थी...

- बकवास मत करो, इसके प्रमुखों के बारे में बताओ.

- पहले इसके प्रमुख नित्यानंद महाराज थे कुछ साल पहले उनकी मौत हो गयी थी, फिर उनके बेटे मृत्युंजय महाराज बने थे, अभी वो जेल में हो और...

- जेल में? मगर किस आरोप में?

- मोरल ट्रेफिकिंग मैडम...

- मोरल ट्रेफिकिंग! भला इतने बड़े संगठन के प्रमुख को लड़कियों की तस्करी करने की कहाँ जरुरत पड़ गई?

- जी मैडम. दो साल पहले पुलिस ने इन्हें रंगे हाथो इनके हरिद्वार की शाखा से कुछ लडकियों के साथ पकड़ा था. अभी यह हरिद्वार की जेल में हैं.

- हम्म... नंदिनी ने कुछ सोचते हुए कहा. और अभी संगठन का प्रमुख कौन हैं?

- अभी...मैडम अभी तो कोई वेद सागर नाम का व्यक्ति हैं.

- क्या...वेद! इस वेद के बारें में और डिटेल्स निकालो.

- और डिटेल्स! और तो कोई डिटेल्स नही हैं मैडम.

- इतने बड़े संगठन के प्रमुख के बारें में कोई जानकारी नही हैं?

- वो दरअसल मैडम इनके तीन साल का दीक्षा काल होता हैं, बोले तो प्रोबेशन पीरियड, इस समय के दौरान इनके बारें में कोई भी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जाती हैं.

- वाह क्या बात हैं? फिर भी इसके बारें में हो सके जितना पता करो.

- इस वेदसागर महराज में तुम्हे इतनी दिलचस्पी क्यों हैं नंदिनी? विजय ने पूछा।

- पूजा ने बताया था कि अंतस किसी वेद नाम के आदमी से फोन पर बात कर रहा था। हो न हो यह वहीं वेद हैं।

- जहाँ तक मुझे याद हैं पुजा ने हमें ऐसा कुछ नही बताया था।

- हां, वो मेरी पूजा से एक और मुलाकात हुई थी, उसने तभी बताया था।

इसके बाद नंदिनी वापस अपने केबिन में चली गयी.

----------------------
शाम को थाने से घर जाने का समय था. नंदिनी अपने केबिन में घर जाने की तयारी कर रही थी. विजय केबिन में आता हैं.

-तुम भुलना मत आज तुम्हे खाना खाने मेरे घर पर आना है । नंदिनी ने विजय को देखकर कहा।

-बिलकुल मुझे याद हैं। तुम्हे कुछ चाहिए तो नही, मैं आते हुए लेता आऊंगा।

-नहीं, बस तुम आ जाना। नंदीनी ने मुस्कुराते हुए कहा।

- तुम कहो तो तुम्हारे साथ ही आ जाऊं। विजय ने चुटकी ली।

- रहने दो। इतना भी जरूरी नहीं हैं। नंदिनी उसके बाद थाने से निकल गयी।

रास्ते में वो विजय के बारें में ही सोचते हुए जा रही थी। यह उसके लिये एक नई ज़िन्दगी की शुरूआत थी। ऐसा लग रहा था जैसे उसे कोई नया जन्म मिला हो। सबकुछ जैसे नया नया लग रहा था। नंदिनी का इस दुनिया को देखने का नज़रिया ही बदल गया था।

तभी नंदिनी को लगा की कोई उसका पीछा कर रहा हैं। काफी समय से एक वैन उसके पीछे लगी हुई थी। नंदिनी ने अपनी जीप रोकी तो वो वैन भी रुक गयी। अचानक उस वैन से एक गोली चली । नंदिनी नीचे झुकी, उसने अपनी जीप के ड्रावर से पिस्तौल निकाली, और वापस उस वैन पर गोली चलाई। मगर ये क्या! नंदिनी की पिस्तौल तो खाली थी। नन्दीनी ने देखा कि उस वैन से चार नकाबपोश लोग उतरे हैं। नंदिनी भी अपनी जीप से उतर गयी। वो लोग चलकर जीप के पास आ गए। वैन भी धीरे धीरे पास आ गयी थी।

-नमस्कार, एसीपी साहिबा! एक नकाबपोश ने कहा और दो नकाबपाशो ने नंदिनी को जबरदस्ती पकड़ कर वैन में डाल दिया।


………

*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 16 Oct 2016 15:48

विजय थाने से घर आया था और वापस नंदिनी के घर जाने की तैयारी कर ही रहा था तभी उसको एक फोन आया. उसने फोन उठाया, यह थाने से एक कांस्टेबल का फोन था.
“सर वो एसीपी साहिबा....” सामने से कांस्टेबल ने कहा.
“क्या हुआ नंदिनी को?” विजय ने चौंकते हुए पूछा.
“एसीपी साहिबा का अपहरण हो गया हैं स .”
“क्या अपहरण...मगर कब? कैसे?”
“घर जाते वक्त अजमेर रोड पर कुछ गुंडों ने उनका अपहरण कर लिया हैं. किसी ने गुंडों को जबरदस्ती उन्हें वैन में डालते देखा था तो थाने फोन किया.”
तुम उस जगह पर पहुँचो, मैं भी आ ही रहा हूँ...और सुनो यह बात किसी भी हाल में थाने से बाहर नही पहुंचनी चाहिए, समझे?”
“जी सर.”
कुछ वक्त बाद विजय घटनास्थल पर पहुंचा. वहां सिर्फ नंदिनी की जीप पड़ी थी. पास ही उसे खाली पिस्तौल भी मिली. लेकिन उन्हें यह पता नही चला था कि पिस्तौलें पहले से खाली थी. उन्होंने यहीं माना था कि शायद बचाव में नंदिनी ने भी फायर किया होगा जिससे पिस्तौल खाली हो गयी होगी. नंदिनी के जीप के ऊपर फायरिंग के दो निशान भी मिले थे. वहां कुछ देर तफ्तीश करने के बाद विजय ने अलग अलग टीमे बनायीं और जगह-जगह ढूँढने भेजा. पुरे शहर में नाकाबंदी करवा दी गयी. पूरी रात विजय और उसकी टीम जगह जगह ढूंढती रही मगर उन्हें कुछ भी हासिल नही हुआ. सुबह वो वापस थाने आ गये. विजय एक कुर्सी पर निराश सा बैठा था. पास ही एक हवलदार भी खड़ा था.
“सर यह किसका काम हो सकता हैं? मैडम को तो यहाँ आये ही कुछ दिन हुए थे, आखिर उनकी किससे दुश्मनी हो सकती हैं?” हवालदार ने विजय से कहा.
“एक इंसान था जिसके साथ उसकी दुश्मनी हुई थी...चलो मेरे साथ...” विजय ने उठते हुए कहा.
“कहाँ सर?”
“राणा साहब के यहाँ... उनसे मुलाकात करने का वक्त आ गया हैं.”

____________________________________________________________

गुंडों ने नंदिनी को वैन में डालने के बाद क्लोरोफोम सुंघा कर बेहोश कर दिया. वो पूरी रात उस वैन में पीछे बेहोश पड़ी थी. गुंडों ने उसका मुंह और हाथ बाँध दिए थे. सुबह जब उसको होश आया तो वो अब भी उस वैन के पीछे ही थी, होश आने पर भी नंदिनी ने आँखे बंद ही रखी जिससे कि उन गुंडों को पता न चले की उसे होश आ गया हैं.
“...मुझे तो लगा था इसे उठाने में काफी दिक्कत होगी, मगर ये काम काफी आसानी से हो गया.” उनमें से एक गुंडे ने कहा.
“वो तो अच्छा हुआ इसकी गन खाली थी, वरना इसको पकड़ने मे फट कर हाथ में आ जाती.” दुसरे गुंडे ने कहा.
“हां भाई काम तो काफी मुश्किल था, एक एसीपी को किडनैप करना कोई मजाक काम थोड़ी हैं, मगर आखिर संगठन का सवाल था, खुद मृत्युंजय महाराज का आदेश था तो करना ही था.” तीसरे ने कहा.
“लेकिन आखिर इसे उठाने की जरुरत ही क्यों पड़ी?” पहले वाले ने पूछा.
“शायद यह सगठन के बारें में बहुत कुछ जान रही थी और खुद संगठन के लिए एक खतरा बन सकती थी.”
“तो अब?”
“अभी तक तो बस इसे उठाने के लिए कहा गया हैं बाकि अगले आदेश का इंतज़ार करना हैं...फिलहाल तो बहुत जोर से भूख लग रही हैं, पूरी रात से गाडी चला रहा हूँ.” ड्राईवर ने कहा.
“मगर आदेश हैं कि हमें बीच में कहीं नही रुकना हैं.” पास ही बैठे व्यक्ति ने कहा.
“भाई आदेश तो ठीक हैं मगर मेरे पेट में समस्या हो रही हैं उसका क्या? वो तो आदेश नही समझता हैं न? तीसरे न कहा.
“हम्म...ठीक हैं किन्तु सिर्फ आधा घंटा...और सुनो तुम यही रुको.” ड्राईवर के पास वाले आदमी ने एक आदमी की तरफ इशारा करते हुए कहा.
“जी महोदय...”
उसके बाद वैन एक ढाबे पर रुकी और सारें गुण्डे उतरकर ढाबे पर चले गए. कुछ देर बाद वो व्यक्ति भी वैन से उतारकर बाहर आ गया. उसके उतरने के बाद नंदिनी थोड़ी सी हिली मगर उसके हाथ पीछे बंधे हुए थे और पैर भी बंधे हुए थे. उसे ट्रेनिंग के दौरान ऐसी परिस्थिति से निपटना सिखाया गया था. वो सीधी लेटी और अपने हाथो को ऊँचा कर धीरे-धीरे आगे लाने लगी. यह काफी दर्दनाक प्रक्रिया थी यही एक मात्र रास्ता हैं, कुछ देर बाद उसके हाथ उसके सर से होते हुए उसके मुंह के सामने आ गए, उसने अपने मुंह से हाथो की रस्सी खोली और फिर पैरो की रस्सी भी खोली, उसने वैन में इधर उधर देखा, वहां एक लोहे का जैक पड़ा था, उसने उसे उठाया और धीरे से वैन के आगे आ गयी.वो आदमी कुछ देर खड़ा होकर फोन पर किसी से बात कर रहा था. नंदिनी धीरे से वैन से बाहर निकली और उस आदमी के सर पर जैक से वार किया. वो वही ढेर हो गया. नंदिनी तेजी से वहां से भागी.
उसका मोबाइल शायद उसकी जीप में ही रह गया था, थोडा थोडा उजाला हो गया था, जिससे उसने अनुमान लगाया कि शायद सुबह की छह-सात बज रही हैं. आगे जाकर एक गाँव आया, कोई औरत मटका लेकर पानी लेने जा रही थी.
“यह कौनसी जगह हैं?” नंदिनी ने उस औरत से पूछा.
“फालना गाँव...” उस औरत ने नंदिनी को घूरते हुए कहा.
“जिला कौनसा हैं?”
“हरिद्वार!” उस औरत ने कहा.

राणा ठाकुर उठने के बाद सुबह-सुबह जॉगिंग के लिए गए थे, वहां से वापस आकर नहाने के बाद नाश्ता कर रहे थे.
“काका...” उन्होंने अपने नौकर को आवाज लगाई.
“जी होकम.” एक नौकर दौड़ता हुआ आया.
“प्रताप अभी तक उठा नही?”
“होकम वो रात को देर से ही आये थे.”
“हम्म..यह इसका रोज का हो गया हैं, कल होटल से भी जल्दी ही निकल गया था... जाइए उसको उठाइये और यहाँ नीचे भेजिए.”
“होकम वो...” नौकर नज़रे नीची किये वहीँ खड़ा रहा. राणा समझ गये कि प्रताप को नींद से उठाने की जुर्रत नौकर नही कर सकते हैं.
“ठीक हैं...आप जाइए मैं खुद उठा लूँगा उसे” राणा वापस पेपर पढने लगे. तभी एक पहरेदार अन्दर आया.
“होकम वो इंस्पेक्टर विजय आपसे मिलने आये हैं.” पहरेदार ने कहा.
“इंस्पेक्टर विजय! वो इतनी सुबह यहाँ क्या करने आया हैं...ठीक हैं उसे अन्दर भेजिए.”
थोड़ी देर बाद विजय दो हवलदार के साथ अन्दर आया.
“विजय साहब..क्या बात हैं आज सुबह सुबह कैसे दर्शन दे दिए?” राणा ने उन्हें बिठाते हुए कहा. “काका...मेहमानों के लिए नाश्ता लाना.”
“नही राणा साहब उसकी कोई जरुरत नही हैं, हम यहाँ नंदिनी...आई मीन एसीपी साहिबा के बारें में पूछने के लिए आये हैं.”
“नंदिनी के बारे में! मैं कुछ समझा नही विजय.”
“एसीपी साहिबा का कल शाम को अपहरण हो गया हैं.”
“क्या! मिस नंदिनी का अपहरण हो गया हैं?” राणा ने चौंक कर कहा. “कमाल की बात हैं विजय हमारें शहर में खुद एसीपी सुरक्षित नही हैं तो बाकी जनता का क्या होगा? ...और आप इस बारें में मुझसे क्या पूछताछ करना चाहते हैं? कहीं आपका शक मुझ पर तो नही हैं?”
“राणा साहब...एसीपी साहिबा इस शहर में नयी आई थी और उनकी किसी और से दुश्मनी नही थी. अभी हाल ही में हमारे थाने में एक ड्राईवर ने आत्महत्या की थी और नंदिनी को लगता हैं कि इसके पीछे आपका हाथ था. कल आपकी नंदिनी से कुछ बहस हुई थी न?”
“हां वो उन्हें कुछ गलत फहमी हुई थी मगर इसका यह मतलब तो नही हैं कि मैं उनका अपहरण कर लूँगा.”
“हमें अभी तो सिर्फ आपके ऊपर ही शक हैं...आपको थाने चलना होगा.” विजय ने दृढ़ता से कहा.
“आप मुझे गिरफ्तार करने आये हैं?” राणा ने आखे तरेरते हुए कहा.
“गिरफ्तार नही बस पूछताछ के लिए.”
“आप किसी इज्जतदार व्यक्ति को ऐसे थाने नही ले जा सकते हैं.”
“मेरे पास इसका वारंट हैं...राणा साहब मैं आपकी बात समझता हूँ, मगर मामला काफी गंभीर हैं...”
“प्रताप उठ जाए तो उससे कहना हम किसी जरूरी काम से बाहर गए हैं.” राणा ने अपने नौकर से कहा.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 16 Oct 2016 15:50

नंदिनी किसी तरह से शहर में एक थाने तक पहुंची.
“यहाँ का इनचार्ज कौन हैं?” नंदिनी ने अन्दर जाकर एक हवलदार से पूछा.
हवलदार ने एक बार नंदिनी को ऊपर से नीचे घुरा. नंदिनी पूरी अस्त-व्यस्त थी. बाल बिखरे हुए थे. रात को ठीक से न सो पाने की वजह से उसकी आँखे भी सूजी हुई थी.
“आप कौन मेडम? क्या काम हैं आपको?” उस हवलदार ने पूछा.
“मैं जयपुर ब्लाक डी से एसीपी नंदिनी हूँ.” नंदिनी ने अपनी जेब से आईडी कार्ड निकाल कर दिखाते हुए कहा. यह तो गनीमत थी की नंदिनी आईडी कार्ड अपनी जेब में ही रखती थी वरना उसका पर्स, मोबाइल सब तो वही जीप में ही रह गया था.
“जय हिन्द मैडम....” उस हवलदार ने सैल्यूट करते हुए कहा. “माय सेल्फ कांस्टेबल मनीष.”
“जय हिन्द! मुझे यहाँ के इंचार्ज से मिलना हैं.” नंदिनी ने कहा.
“मैडम वो अभी आते ही होंगे, मैं अभी उन्हें फोन कर देता हूँ. आप यहाँ अचानक?” हवलदार ने वापस नंदिनी की हालत को देखते हुए पूछा. उसे यह समझ में नही आ रहा था कि नंदिनी यहाँ इस हालत में क्यों आई हैं.
“किसी केस के सिलसिले में मिलना हैं. मैं एक फोन कर सकती हूँ?”
“ जी बिलकुल मैडम...आप अन्दर केबिन में बेठिये, मैं चाय भिजवाता हूँ.” कांस्टेबल किसी को फोन करता हुआ बाहर चला गया.

______________________________________________________________


जयपुर के थाने में केबिन में सामने एक तरफ राणा ठाकुर बैठे थे तो दूसरी तरफ विजय बैठा था. विजय राणा ठाकुर के व्यक्तित्व को जानता था इसलिए उन्हें लॉकअप में रखने की बजाय एसी केबिन में बिठाया था.
“आपको उन ट्रक ड्राइवर्स के बारें में कैसे पता चला? क्या वो ट्रक आपके थे?” विजय ने पूछा.
“कैसी बात कर रहे हो विजय? हम तुम्हे इतने पागल लगते हैं कि खुद अपनी ट्रक पकडवाएंगे. वो तो उस ढाबे का मालिक हमारा दोस्त था, उसने उन ड्राइवरो को बात करते हुए सुना तो उसे कुछ शक हुआ, तो उसने हमको बता दिया.”
“हां...लेकिन ऐसे मामलो में तो अमूमन लोग पुलिस वालो को फोन करते हैं, उसने आपको क्यों बताया और उस ड्राईवर ने आत्महत्या क्यों की?”
“हमें क्या पता उस ड्राईवर ने आत्महत्या क्यों की और पुलिस की मदद करना कोई अपराध हैं क्या?” राणा ने थोडा सा गंभीर होते हुए कहा.
“हम्म...नही ऐसा तो नही हैं. नंदिनी की किडनेपिंग के बारें में आप क्या जानते हैं?”
“इस बारें में हम कुछ नही जानते हैं.” राणा ने सधा सा जवाब दिया.
“क्या ताश्री के केस का इससे कोई लेना देना हैं?”
“हम तुम्हे पहले ही बता चुके हैं कि हम ताश्री के मामले में कुछ नही जानते हैं.”
“हां...मगर आपने यह नही बताया कि ताश्री की मौत के बाद उसकी माँ आपकी ही एक होटल में काम करती थी.”
“क्या...?” राणा ने हडबडाते हुए पूछा.
“मुझे पता हैं राणा साहब...शुक्र मनाइए कि आपका लिहाज था कि की मैंने नंदिनी को इस बारें में अब तक कुछ नही बताया. ताश्री की माँ अब कहा हैं?”
“उनका नंदिनी के अपहरण से कुछ भी लेना देना नही हैं.”
“इस सब का एक दुसरे से कुछ न कुछ तो लेना देना हैं राणा साहब...यह नंदिनी की ज़िन्दगी का सवाल हैं, बेहतर हैं आप मुझे सबकुछ सच सच बता दे, वरना मेरे पास दुसरे तरीके भी हैं.”
“ठीक हैं मैं उन्हें जानता हूँ... मैं ताश्री को भी जानता था. मगर उस सबका अब क्या करना हैं? अगर नंदिनी की जान खतरे में हैं, तो बेहतर हैं कि मुझसे नही उससे सवाल करो जिसको इस केस के खुलने से सबसे ज्यादा खतरा हैं.”
“आपकी किसकी बात कर रहे हैं?”
“संगठन के अध्यक्ष मृत्युंजय महाराज.”
“मृत्युंजय महाराज जेल में हैं. वो नंदिनी का अपहरण कैसे करवा सकते हैं?”
“तो फिर तुम संगठन के वर्तमान अध्यक्ष को पकड़ो.”
“वेद सागर..उसके बारें में कोई कुछ नही जानता हैं. मैं सिर्फ शक की बिनाह पर एक राष्ट्रिय संस्था के खिलाफ कार्यवाही नही कर सकता हूँ. मेरे लिए अभी नंदिनी को बचाना बहुत जरुरी हैं, और अगर इसमें संगठन का हाथ हैं तो मेरी मदद सिर्फ दो लोग कर सकते हैं या तो आप या फिर ताश्री की माँ!”
“तुम नंदिनी से प्यार करते हो न?”
अचानक राणा के पूछे गये इस सवाल से विजय झेंप गया. “मुझे तो उसी दिन पता चल गया था, जब तुम पहली बार नंदिनी के साथ मेरे घर आये थे.” राणा कुछ देर रुका. “मैं वेद के बारें में कुछ नही जानता हूँ लेकिन जो सकता हैं ताश्री की माँ जानती हो...वो इस वक्त जोधपुर में हैं. मेरे एक मित्र के होटल धोराराणी में काम करती हैं.”
“शुक्रिया राणा साहब, मैं आपका अहसानमंद हूँ.”
तभी विजय का फोन बजा.
“हेल्लो कौन? इंस्पेक्टर विजय हियर.”
“विजय में नंदिनी बोल रही हूँ.”
“नंदिनी! तुम कहाँ हो नंदिनी?” विजय ने चौंकते हुए कहा. राणा ने भी आश्चर्य से विजय की और देखा.
“मैं अभी हरिद्वार मैं हूँ, बड़ी मुश्किल से उन गुंडों के चुंगल से भाग कर आई हूँ. अभी यहाँ एक पुलिस स्टेशन से फोन किया हैं.”
“तुम ठीक तो हो न?” विजय ने चैन की सांस लेते हुए कहा.
“हां मैं बिलकुल ठीक हूँ. मुझे कुछ पैसो और एक फोन की जरूरत हैं.”
“ठीक हैं वहां के इनचार्ज से मेरी बात करवा दो. मैं सब कुछ करवा दूंगा और तुम्हारे लिए आज शाम का फ्लाइट का टिकट भी करवा देता हूँ.”
“ठीक हैं.”
“ठीक हैं अपना ख्याल रखना.”
इसके बाद विजय ने फोन रखा. राणा उसे घुर रहा था जैसे बिना ईद के कोई बकरा कट गया हो.
“मिस नंदिनी कैसी हैं?” राणा ने संयत होते हुए पूछा.
“वो ठीक हैं. किसी तरह से उन गुंडों की गिरफ्त से भाग छुटने में कामयाब रही.”
“हम्म...तो मैं अब जा सकता हूँ?”
“जी...बिलकुल...मैं आपको जो तकलीफ हुई उसके लिये माफ़ी चाहता हूँ.” राणा ने एक बार फिर विजय को घुरा और बाहर चला गया.
___________________________________________________________________


इंस्पेक्टर यशपाल ने केबिन में प्रवेश किया. अन्दर नंदिनी ने अभी फोन रखा ही था.
“जय हिन्द मैडम...मैं इंस्पेक्टर शर्मा यहाँ का इनचार्ज...” इंस्पेक्टर ने नंदिनी से हाथ मिलाते हुए कहा.
“मैं एसीपी नंदिनी...” नंदिनी को अपनी हालत पर तरस आ रहा था. वो इससे ज्यादा कुछ नही बोल पाई.
“जी कहिये मैडम मैं आपके लिए क्या कर सकता हूँ. इंस्पेक्टर ने अपनी सीट पर बैठते हुए कहा.
“आप इस नंबर पर बात कर लीजये वो आपको सब समझा देगा.” नंदिनी ने एक नंबर डायल करते हुए कहा.
“जी मैडम...”
नंदिनी ने विजय को फोन किया था, विजय ने उस इंस्पेक्टर को सब समझा दिया.
“मैडम यह मेरा क्रेडिट कार्ड हैं..२५२५ इसके पिन हैं..आपको जितना कैश चाहिए आप इसके जरिये निकाल सकती हैं...मैं यही पास ही एक होटल में कमरा बुक करवा रहा हूँ और आपको एक फोन भी दिलवा देता हूँ...”
“थैंक यू..” नंदिनी ने बस इतना ही कहा. इंस्पेक्टर कुछ देर के लिए बाहर गया और वापस आया.
“सब हो गया हैं मैडम...टैक्सी कुछ देर में आती ही होगी. और कुछ...”
“थैंक्स अगेन...मुझे एक हेल्प और चाहिए थी. यहाँ किसी जेल में मृत्यंजय महाराज करके कोई कैदी हैं, आप मुझे उसके बारें में डिटेल्स दे सकते हैं?”
“आप कही बिएसएस के अध्यक्ष श्री मृत्युंजय जी महाराज की बात तो नहीं कर रही हैं?”
“जी वहीँ...आप जानते हैं उनके बारें में?”
“उनके बारें में कौन नही जानता...२०१३ का सबसे हाई प्रोफाइल केस रहा हैं यहाँ का... मुझे तो अब तक विश्वास नही होता की मृत्युंजय जी महाराज ऐसा काम कर सकते हैं.”
“वो इस वक्त कौनसी जेल में हैं?”
“शायद सेंट्रल जेल में होंगे. वैसे उनका केस पास ही के एक थाने में था. मैं वहां के इनचार्ज से बात कर लेता हूँ वो आपको सारी जानकारी दे देंगे.”
“जी शुक्रिया..”
तभी एक हवलदार आया.
“सर...वो टैक्सी आ गयी हैं.”
“मैं चलती हूँ.” नंदिनी ने कहा और टैक्सी में बैठ गयी.
नंदिनी के जाने के बाद इंस्पेक्टर ने अपना फोन निकाला और किसी को फोन किया.
“जय महाकाल. हम नागपाल बोल रहे हैं.”
“जय महाकाल”
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 16 Oct 2016 15:50

“हमें श्री वेद सागर जी से बात करनी हैं.”
“वेद सागर जी से?” सामने वाले ने चौंकते हुए कहा. “कोई विशेष प्रायोजन?”
“यह उस एसीपी नंदिनी के बारें में हैं.”
“एसीपी नंदिनी...ठहरिये अभी बात करवाते हैं.”
इतना कहकर सामने वाले ने फोन काट दिया. कुछ देर बाद वापस फोन आया.
“जय महाकाल...हम वेद सागर बोल रहे हैं.”
जय महाकाल...मैं राजपाल यहाँ हरिद्वार के....”
“हमें ज्ञात हैं...नंदिनी के बारें क्या जानते हो?”
“वो यहाँ आई थी. श्री मृत्युंजय महाराज से मिलने के लिए कह रही थी.”
“अवश्य...स्वयं मृत्यंजय महाराज भी यही चाहते हैं. उसे सुविधापूर्वक महाराज से मिलवाया जाए.”
“जी महोदय...और उसके बाद अगर कहे तो वापस उसे....”
“नही...उसकी कोई आवश्यकता नही हैं. उसे मुक्त रहने दीजिये. हमारा प्रायोजन पूरा हुआ.”
“जैसी आपकी आज्ञा.”
“आपका आभार.”
नंदिनी होटल गयी और वहां से वापस थाने गयी। इंस्पेक्टर ने पहले ही दूसरे थाने में बात कर रखी थी, वहां से एक* हवलदार आया हुआ था जो नंदिनी को जेल लेकर गया। वहां गेट पर एक पहरेदार ने एंट्री की और एक दूसरे व्यक्ति ने उन्हें अपने पीछे आने को कहा।

'तुम यही रुको मैं उससे अकेले में मिलना चाहती हूँ।" नंदिनी ने अपने साथ आये हवलदार से कहा।
वो व्यक्ति नंदिनी को अंदर एक बैरक में लेकर गया। "यहीं हैं वो" उसने सामने एक आदमी की तरफ इशारा करते हुए कहा।
नंदिनी ने देखा कि सलाखों के पीछे एक आदमी बैठा हुआ था। उसने सामने दिवार की तरफ मुंह कर रखा था।

"महाभारत का युद्ध जितना पांडवों के लिए असंभव था अगर श्री कृष्णा उनके साथ न होते...श्री कृष्ण ने स्वयं शस्त्र नहीं उठाया बल्कि वे मात्र अर्जुन के सारथि थे, किन्तु क्या यह सत्य था? शतरंज में चाल हमेशा मोहरे से चली जाती हैं इसका यह अर्थ तो नही कि खेल मोहरा खेल रहा हैं। वह तो एक माध्यम मात्र हैं, असली खेल तो खिलाडी खेलता हैं। तो युद्ध कौन लड़ रहा था, अर्जुन या कृष्ण?" उसने बिना नंदिनी की ओर देखे ही कहा।

"उससे फर्क क्या पड़ता हैं?" नंदिनी ने पास जाते हुए कहा।

"फर्क पड़ता हैं नंदिनी...तुम कौन हो कृष्ण या अर्जुन?" उसने मुड़ते हुए कहा। यह एक 55 साल का प्रौढ़ आदमी था। लंबी दाढ़ी, सफेद बाल, चेहरे पर हलकी झुर्रियां मगर आँखो में एक चमक...ऐसा लगता था मानो किसी तेज तर्रार* सांप को टोकरी में बंद कर रखा हो। नंदिनी* एक बारगी तो अपना नाम सुनकर चौंकी मगर फिर उसे लगा कि अगर मृत्यंजय ने उसका अपहरण करवाया है तो ज़रूर वो उसके बारे में जानता होगा।

"मैं कोई युद्ध नही लड़ रही हूँ।" नंदिनी ने उसकी आँखों में देखते हुए।

"हम सब लड़ रहे हैं। कोई अपना युद्ध तो कोई दूसरे का, कोई कृष्ण है, कोई पार्थ हैं, कोई दुर्योधन हैं तो कोई कर्ण हैं। कोई जीतने के लिए लड़ रहा हैं तो कोई जीत कर भी लड़ रहा हैं।"

"तुम किसकी तरफ से युद्ध लड़ रहे हो?"

"मैं! नही नही...मैं कारक हूँ कर्ता नही। मैं धृतराष्ट्र हूँ जो सिर्फ युद्ध होते हुए देख रहा हूँ।"

"तब तो सबसे ज्यादा नुकसान भी तुम्हारा ही होगा।"

"हानि की चिंता वो करता हैं जिसके पास खोने के लिए कुछ होता हैं। शून्य हमेशा अविभाज्य होता हैं।" मृत्यंजय पहेलियों में बात कर रहा था, तो नंदिनी भी पहेलियों से ही जवाब ढूंढ रही थी। मगर जब बात बनती नज़र नही आई तो उसने सीधा सवाल पूछा।

"मेरे अपहरण के पीछे तुम्हारा हाथ था?"

"जिन प्रश्नो के उत्तर ज्ञात हो उन प्रश्नो में समय क्यों व्यर्थ करना।"

"तो फिर मुझे वो बताओ जो ज्ञात नहीं हैं, तुमने ताश्री को क्यों मारा?"

"नैनं छिन्दन्ति शस्त्राणि नैनं दहति पावकः ।
न चैनं क्लेदयन्त्यापो न शोषयति मारुतः ।

आत्मा अजर-अमर हैं। हम किसी के प्राण नही हर सकते हैं। कब, किसको, कैसे मरना हैं, यह उस महान ईश्वर के हाथ में हैं। मैं कौन होता हूँ किसी को मारने वाला, सब उसकी इच्छा पर हैं।"

"....और वो लडकिया जो तुम्हारे आश्रम से मिली थी, वो वहां क्या कर रही थी?"

"साधना...ईश्वर से साक्षात्कार का एक मार्ग हैं। कोई भी इस मार्ग पर चल सकता हैं। अगर कुछ बालिकाएँ मेरे सानिध्य में,* ईश्वर की साधना करना चाहती थी तो इसमें आपत्ति क्या हैं? कोई युवा स्त्री अगर पुरुष के संग हो तो इसका यह अर्थ तो नही की हमेशा कुछ अनुचित ही होगा।"

"बेशक! मगर यह उद्देश्य पर निर्भर करता हैं। यह किस तरह की साधना थी, जिसमें मासूम लड़कियों की जान खतरे में आ गयी थी।" नंदिनी ने मृत्युंजय की फ़ाइल पढ़ी थी, जिससे उसे मृत्यंजय की गिरफ्तारी के वक्त उन लड़कियों की हालत के बारें में पता चला था।

"कुछ रास्ते बहुत ही दुर्भर होते हैं। ईश्वर की प्राप्ति आसान नहीं होती हैं।"

"ईश्वर की आड़ में तुम क्या करना चाहते थे यह कौन जानता हैं? वैसे भी तुम्हे तुम्हारे किये की सजा मिल ही रही हैं।" नंदिनी कह कर जाने के लिए मुड़ी।

"तुम यहाँ क्यों आई थी? अपने सवालो के जवाब जानने के लिए...मगर तुम तो अब भी अनुत्तरित ही हो।"

"मुझे दीवारो से सर पटकने का कोई शौक नही हैं। मैं जानती हूँ तुम मुझे कुछ नही बताने वाले हो। कोई अपनी चिता की लकड़ियाँ खुद नही जमाता।"

"हां, परन्तु कुछ महान लोग समाधि भी लेते हैं...हाहाहा.." मृत्युंजय ने ठहाका लगाया। "तुम सत्य को पाना चाहती हो, मगर सत्य की प्राप्ति आसान नही हैं। तुम साधना कर रही हो, मगर बिन गुरु के साधना कठिन हैं। तुम अपना गुरु ढूंढो।"

"तूम किसकी बात कर रहे हो?" नंदिनी ने चोंकते हुए कहा।


मृत्यंजय मुस्कुराया और वापस पीछे मुड़कर बैठ गया।

"जगतीमवितुं कलिताकृतयो विचरन्ति महामहसश्छलतः ।
अहिमांशुरिवात्र विभासि गुरो भव शंकर देशिक मे शरणम् ॥"

नंदिनी* बाहर आ गयी।

--------------------------------------------

नंदिनी ने शाम को फ्लाइट पकड़ी और वापस जयपुर आ गयी। एअरपोर्ट पर विजय पहले से ही खड़ा था। नंदिनी को देखते ही उसने गले से लगा लिया।

"तुम ठीक तो हो।" विजय ने नंदिनी को देखते हुए पूछा।

"हां...अब ठीक हूँ।" नंदिनी और विजय दोनों जीप में बैठ गए।

"कुछ पता चला यह किसका काम हैं?" विजय ने पूछा

"हां उसी संगठन का..."

"मगर संगठन ऐसा क्यों करेगा?"

"शायद वो नही चाहते की उनके बारे में किसी को ज्यादा पता चले। लेकिन मुझे एक बात समझ में नही आई मेरी पिस्तौल खाली कैसे थी?"

"क्या? तुम्हारी पिस्तौल खाली थी!"

"हां...मैंने जब अपने बचाव में फायरिंग करने की कोशिश की तो मुझे पिस्तौल खाली मिली और अजीब बात हैं कि किडनैपर्स को यह बात पहले से ही पता थी।"

"हम्म...यह जरूर दिनेश का काम होना चाहिए।"

"दिनेश का?" दिनेश उनका पहरेदार था।

"हां, वो आज सुबह ड्यूटी पर नही आया हैं, मैंने फोन किया तो उसका फोन बंद आ रहा था, घर पर फोन किया तो वहां भी कुछ* जवाब नही मिला। ऐसा लग रहा हैं कहीं भाग गया हैं।"

"उस दिन जब उस ड्राईवर ने आत्महत्या की थी वो तब भी ड्यूटी पर ही था।" नंदिनी ने आशंका व्यक्त की।

"हो न हो यह उसी का ही काम होगा। मैं सीसीटीवी फुटेज चेक करवाता हूँ।"

नंदिनी और विजय दोनों घर पहुंचे।

--------------------------------------------


"....तुम मृत्यंजय से मिली थी?" नंदिनी और विजय खाना खाते हुए बात कर रहे थे।

"हां...मगर आश्चर्य की बात यह हैं कि उसे पहले से ही पता था कि मैं वहां आने वाली हूँ।"

"तुम्हारे अपहरण के पीछे भी उसी का हाथ था?"

"उसने कबूल तो नही किया मगर उसकी बातों से लग रहा था कि हो न हो यह उसी का काम हैं।"

"उससे और कुछ पता चला?"

"कुछ ख़ास नही ऐसा लगता हैं यह सब वो किसी और से करवा रहा है। लगता है वेद सागर भी मृत्यंजय के इशारो पर काम कर रहा है, और अप्रत्यक्ष रूप से पूरा संगठन ही मृत्युंजय के हाथ में हैं...वो मुझे कोई गुरु ढूंढने को कह रहा था।" नंदिनी ने अचानक विजय से पूछा जैसे वो इस पहली का मतलब जानना चाहती हो।

"गुरु! मगर क्यों?"

"वो कह रहा था, अगर सत्य को पाना चाहती हो तो कोई गुरु ढूंढो। भला मुझे कौनसा सत्य जानना हैं?"

"सत्य कोई तथ्य न होकर तत्व हैं, यह एक उद्देश्य हैं, हम सब किसी उद्देश्य की और काम करते हैं, उस उद्देश्य का भान ही सत्य की प्राप्ति हैं।" विजय ने गंभीरता से कहा तो नंदिनी उसे घूरने लगी।

"मेरा उद्देश्य अब तुम ही हो।" नंदिनी ने विजय के हाथ के हाथ रखते हुए, प्यार से कहा। "जब उन गुंडों ने मेरा अपहरण किया था तब मैं तुम्हारे बारें में ही सोच रही थी कि अगर मुझे कुछ हो गया तो हमारा प्यार सिर्फ एक दिन की दास्ताँ बन कर ही रह जाएगा।"

"हा हा...नही ऐसा कुछ नही होगा, अभी हमें अपनी ज़िन्दगी में बहुत कुछ करना बाकि हैं। तुम अब बहुत थक गयी होगी, आराम कर लो।"

"हम्म...दो दिन से नींद पूरी नही हुई हैं, मुझे अब सो जाना चाहिए।"

"गुड़ नाइट।"

-------------------------------

सुबह नंदिनी और विजय दोनों थाने पहुंचे।

"...मगर तुम राणा को थाने क्यों लाये?" केबिन में बैठे दोनों बातें कर रहे थे।

"मुझे शक था कि तुम्हारे अपहरण के बारें राणा कुछ न कुछ जरुर जानता हैं और न भी जानता हो तब भी कुछ न कुछ मदद कर सकता हैं।"

"तो फिर उसने कुछ मदद की?"

"नही...उसने ताश्री की माँ के बारें में भी गलत बताया था।"

"ताश्री की माँ के बारें में! वो ताश्री की माँ के बारें में क्या जानता है?"

"नंदिनी...मैंने तुम्हे बताया नही था पर ताश्री की मौत के बाद ताश्री की माँ राणा के ही एक होटल में। काम करती थी।"

"लगा ही था।" नंदिनी ने शांत रहते हुए कहा। "तो उसने क्या बताया?"

"मैंने उससे पूछा था कि वो अब कहाँ हैं? उसने एक एड्रेस दिया था वो भी गलत निकला।"

"संगठन का हर व्यक्ति एक बात अच्छी तरह से जानता हैं और वो हैं छल करना, राणा अगर सचमुच संगठन का आदमी हैं तो वो तुम्हे कभी सही जानकारी नही देगा।"

"मुझे लगा ही था, इसलिए मैंने दूसरा तरीका अपनाया।"

"दूसरा तरीका?"

"हां मैंने राणा की कॉल डिटेल्स निकलवाई थी। और तुम जानती हो उसने यहाँ से बाहर निकलते ही किसे फोन किया था? ताश्री की माँ को।"

"तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मेरी बेटी के पास भी भटकने की?" मेरी माँ ने अंदर आते हुए कहा. अंतस एक तरफ खड़ा हो गया जैसे किसी को सम्मान में आने के लिए रास्ता दे रहा हो. "मैं जानती थी मृत्यंजय किसी न किसी को तो भेजेगा मगर ये तुम होंगे मुझे विश्वास नहीं हो रहा हैं, मेरा नहीं तो कम से कम ताश्री के पिता का तो ख्याल किया होता, तुम्हे ज़रा सी भी शर्म नही आई." उन्होंने अंतस को किसी छोटे बच्चे की तरफ डाँटते हुए कहा. मुझे इस बात का आश्चर्य हो रहा था, कि माँ सच में अंतस को जानती थी. इसका मतलब था कि अंतस जो कुछ कह रहा था वो सब सच था. दूसरा माँ कह रही थी कि मृत्युंजय किसी न किसी को जरूर भेजेगा. मृत्यंजय भला किसी को क्यों भेजेगा.

"माँ आप मेरी बात तो सुनिए..." अंतस जैसे मिमियाया. ऐसा लग रहा था इस परिस्थिति में क्या कहना हैं उसे भी समझ में नही आ रहा हैं. उसकी सारी वाकपटुता माँ के सामने जैसे सुन्न पड़ गयी थी.
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 16 Oct 2016 15:51


"कोयल को कौआ पाले तब भी वो रहती तो कोयल ही हैं, तुम तो अपनी जात तक भूल गए. ऐसा कौनसा लालच दिया मृत्यंजय ने तुम्हे जो तुम इस हद तक गिर गए..."

"आप जैसा सोच रही हैं वैसा कुछ नही हैं, मैं तो बस ताश्री..."

"...ताश्री संगठन के बारें में जानती हैं?" अंतस अपनी बात भी नही कह पाया था कि माँ ने सवाल दागा. माँ ने अब तक मेरी और देखा तक नही था, जैसे मुझसे उन्हें कोई मतलब ही नही हो.

"मुझे बताना पड़ा, राणा के लोगो ने कल मुझ पर हमला किया था."

मैंने अंतस का बचाव करते हुए कहा. वैसे मुझे कुछ समझ में तो नही आ रहा था पर इस तरह से अंतस का बेइज्जत होना अच्छा नही लगा रहां था.

"मैं गलत समझ रही हूँ? और तुम क्या जानती हो इसके बारें में, तुम तो इसका सही नाम तक नही जानती हो. क्यों ऋषि क्या नाम बताया तुमने इसे "अन्तस" और यह नही बताया कि तुम कौन हो और यहाँ क्यों आये हो?"

"मैं जानती हूँ माँ यह तांत्रिक हैं.." अब मैं भी गुस्से में थी, आखिर मेरी माँ ने मुझसे इतने लंबे वक्त तक झूठ बोला था और ऊपर से वो अंतस को ही डांटे जा रही थी. "...और यह कौन हैं उससे ज्यादा मतलब मुझे इस बात से हैं कि आप कौन हैं और इस तस्वीर में आपके साथ यह आदमी कौन हैं?" मैंने अपने पर्स से वो तस्वीर निकालकर माँ को दिखाते हुए कहा.

"यह तस्वीर इसे तुमने दी?" माँ ने मुझे नज़रअंदाज करते हुए अन्तस से पूछा. वो चुपचाप बिना कुछ बोले खड़ा था.

"आपने मुझे मेरे पिता के बारें में क्यों नही बताया माँ?" मैंने गुस्से से चिल्लाते हुए कहा.

"तुम अपने पिता के बारें में सबकुछ जानती हो, रणवीर ही तुम्हारे पिता हैं." मेरी माँ ने मुझे घूरते हुए कहा.

"तो फिर तस्वीर में आपके साथ यह आदमी कौन हैं?" मैंने भी उन्हें घूरते हुए ही कहा.

"मैं तुम्हे बताती ताश्री, अगर तुमने यह सवाल किसी अजनबी की बजाय, सीधा मुझसे ही पूछा होता, मगर तुम समझने की बजाय जानने में विश्वास रखती हो . इसीलिए आज तुम सबकुछ जानकर भी अनजान हो. ना तुम मुझे जानती हो, न ऋषि को और न ही अपने पिता के बारें मे...

"माँ मेरा कोई भी गलत इरादा नही था, अगर आप मौका दे तो मैं आपको समझा सकता हूँ." अंतस ने अपनी चुप्पी तोड़ते हुए कहा, वो जानता था माँ ने मुझे शब्दों के चक्रव्यूह में फंसा दिया था जिससे निकलना मेरे लिए असंभव था.

"मुझे अब कुछ भी जानना और समझना नही हैं. सिर्फ एक बात तुम अच्छी से समझ लो, अगर आज के बाद मेरी बेटी के आसपास नज़र भी आये तो यह तुम्हारे और तुम्हारे संगठन दोनों के लिए अच्छा नही होगा, तुम जानते हो मैं क्या कर सकती हूँ." माँ ने अंतस को धमकी देते हुए कहा. "चलो यहाँ से ताश्री."

"माँ...मगर...वो.." मैंने माँ को रोकते हुए कहा.

"ताश्री....चलो.." माँ ने जैसे आदेश देते हुए कहा. मेरे पास उसे मानने के अलावा और कोई रास्ता नही था. अन्तस ने मेरी और देखा और वापस अपनी नज़रे झुका ली. वो कुछ नही बोला.

मैं माँ के साथ बाहर आ गयी. होटल के नीचे आकर हम दोनों खड़े हो गए. माँ ने फोन निकाला और किसी को फोन किया. मुझे मैं असमंजस में थी कि हम दोनों यहाँ क्यों खड़े हैं, ऑटो तो बाहर से ही मिलना हैं. तभी हमारे सामने एक लंबी सी कार आकर रुकी. यह शायद जैगुआर थी.

"अंदर बैठो." मैं कार को निहार ही रही थी, तभी माँ ने कार का दरवाजा खोलते हुए कहा. मैंने माँ को आँखे फाड़ कर देखा कि अब यह कौनसा नया बखेड़ा हैं, मगर वो बिलकुल सामान्य बनी हुई थी जैसे यह कोई बड़ी बात नही हैं.

"ताश्री..." माँ ने मेरी तन्द्रा तोड़ते हुए कहा. मैं चुपचाप कार में बैठ गयी. कार कोई ड्राईवर चला रहा था, मैं पीछे की सीट पर थी इसलिए उसका चेहरा नही देख पाई.

काफी देर तक हम दोनों खामोश बैठे रहे. कोई कुछ नही बोला.

"तुमने ऋषि की आँखों में क्यों नही देखा?" माँ ने चुप्पी तोड़ते हुए कहा.

मैंने कुछ नही कहा बस चुपचाप बैठी रही. शायद इस सवाल का जवाब में खुद नही जानती थी या जानती भी थी तो बता नही सकती थी.

"क्या बेहतरीन चाल चली हैं मृत्युंजय ने, हमारे ही मोहरे से हमें ही मात दे दी. सबसे बेहतरीन ढाल के लिए सबसे बेहतरीन तलवार.."

"आप अंतस को कैसे जानती हैं?" मुझे उसे ऋषि बुलाना अच्छा नही लग रहा था. मैंने उसे शुरूसे ही अंतस ही माना था और वो मेरे लिए अंतस ही रहेगा, चाहे यह झूठ ही क्यों न हो.

"तुम्हे याद हैं उस दिन तुमने मुझसे कहा था कि तुमने अपने सपने में अपने पिता के साथ एक लड़का देखा हैं आठ साल का...वो ऋषि ही था. तुम उसे जानती हो ताश्री, तुम उसे तब से जानती हो जब से तुम पैदा हुई थी, तुम दोनों साथ में खेले हुए हो.

"तब तुम चार साल की थी, यह सब कुछ याद रखने के लिए तुम बहुत ही छोटी थी. उस वक्त तुम्हारा सिर्फ एक ही दोस्त था ऋषि, तुम पुरे दिन उसी के साथ खेलती रहती थी. जब तुम पैदा हुई थी ऋषि सिर्फ चार साल का था मगर किसी बड़े की तरह तुम्हारी देखभाल करता था.
वो तुम्हे अब याद नही होगा मगर तुम उसे पूरी तरह से भूली भी नही हो, तुम्हारे अंतर्मन में वो अब भी कहीं बसा हुआ हैं, वो तुम्हारा अंतस ही हैं. मृत्युंजय यह बात अच्छी तरह से जानता था. उसने तुम्हे अपने अंतर्मन से ही लड़ने पर मजबूर कर दिया. तुम्हारी ताकत को ही तुम्हारी कमजोरी बना दिया. अगर ऋषि की जगह कोई भी और होता तो तुम उसकी आँखों में झांक कर सारा सच जान लेती मगर तुम चाहकर भी उसकी आँखों में नही देख पाई क्योंकि अगर तुम ऐसा करती तो तुम हमेशा के लिए उसे खो देती. तुम्हारे इसी डर का उसने ने फायदा उठाया."

"मगर मृत्यंजय को मुझसे क्या चाहिए."

"उसे तुमसे कुछ नही चाहिए...बल्कि खुद तुम चाहिए...तुम ग्यारहवा सूत्र हो. "

"ग्यारहवा सूत्र ! मैं सुनकर सिहर गयी. मतलब की मेरे वो सपने सच थे. कही ऐसा तो नही की मेरे सपनो में आने वाला वो तांत्रिक अंतस न होकर मृत्यंजय हो.

तभी गाडी रुकी.

तभी गाडी रुकी. "मैडम घर आ गय." ड्राईवर ने पीछे मुड़कर कहा. उसे देखकर मेरे होश उड़ गए. यह उनमें से एक था जो कल अंतस को पीटने के लिए आये थे.

"माँ ये तो..." मैंने डरते हुए उसकी तरफ इशारा करत हुए कहा. वो एक बार मुझे देख कर हल्का सा मुस्कुराया और वापस आगे देखने लगा.

"घर में चलो ताश्री!" माँ ने गाड़ी से उतरते हुए कहा.

मैं चुपचाप उतरकर अंदर चली गयी. मुझे अब लगने लगा था कि हो न हो, मेरी माँ राणा को जानती हैं, और यह गाडी भी राणा की हैं. मेरे मन में तरह तरह के विचार आने लगे की कहीं मेरी माँ का राणा के साथ कुछ चक्कर तो नही हैं. मैं सोचते सोचते ही अंदर गयी. अंदर मैने देखा कि सामने सोफे पर राणा ठाकुर बैठ हुआ था. वो हमें देखकर खड़ा हो गया. अब मुझे ये माज़रा कुछ कुछ समझ में आने लगा था. राणा ने माँ को अंतस और मेरे बारें में बताया था.

"ये आदमी यहाँ क्या कर रहा हैं? इसी ने तो कल अंतस पर हमला करवाया था." मैं राणा की तरफ लपकी.

"तमीज से बात करो ताश्री...राणा तुम्हारे मामा हैं.

*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************
Jemsbond
Super member
Posts: 4040
Joined: 18 Dec 2014 12:09
Contact:

Re: रहस्यमई आँखें

Postby Jemsbond » 16 Oct 2016 15:52

मामा! मुझे लगा की अब मेरा सर फटने वाला हैं. मैं वहीं सोफे पर ही बैठ गयी. एक-एक कर मेरे सामने इतने राज आ रहे थे कि मेरे लिए यह कुछ समझ पाना नामुमकिन हो रहा था. मुझे लग रहा था जैसे मैं किसी दूसरी दुनिया से आई हूँ. हर शख्स जो मुझसे मिल रहा था मुझे अजनबी लग रहा था.

"उसने क्या कहा?" राणा ने मेरी माँ से पूछा.

"वो क्या कहता, कुछ कहने के लायक बचा ही नहीं था. कह रहा था मैं उसे गलत समझ रही हूँ. हूँ...मैं भला होती ही कौन हूँ उसे समझने वाली...उसे समझने जाने का ठेका तो मृत्युंजय ने ले रखा हैं.

"मुझे उसी दिन समझ जाना चाहिए था जब उसने मेरे भतीजे को पीटा था. मैंने उसे ताश्री का कोई आम दोस्त मान कर नज़रअंदाज कर दिया था." माँ और राणा इतनी गंभीरता से बातें कर रहे थे जैसे अंतस कोई आतंकवादी हो.

"...मैं ऋषि को हॉस्पिटल में देखते ही पहचान गयी थी. कोई चाहे कितना भी बड़ा चल कर ले, उसकी आँखे हमेशा सच बोलती हैं, मैं उन आँखों को बचपन से जानती हूँ.

"बेहतर होगा ताश्री के साथ तुम कुछ दिनों के लिये मेरे घर पर आ जाओ, वहां तुम ज्यादा सुरक्षित रहोगे." राणा ने प्रस्ताव रखा.

"ऋषि की इतनी हिम्मत नही हैं कि मेरे होते हुए अब वो ताश्री के पास भी फटक सके. "

"मुझे कोई समझायेगा कि यह हो क्या रहा हैं?" मैंने दोनों हाथो में अपना सर पकड़ते हुए कहा.

"तुम अपने कमरे में जाओ ताश्री." मेरी माँ ने रुखा सा जवाब दिया.

"क्या?" यहाँ मेरा दिमाग तरह तरह के सवालो से फटा जा रहा था और माँ मुझे अपने कमरे में जाने के लिए बोल रही थी.

"बेटा आप अभी अपने कमरे में जाइए, आपकी माँ आपको बाद में सब समझा देगी. राणा ने इतने प्यार से कहा जैसे चाशनी में डुबो कर शब्द निकाले हो.

मैं वहां से चुपचाप उठकर अपने कमरे में आ गयी. अंदर आते ही मैं पेड़ से ऐसे गिर पड़ी जैसे किसी पेड़ से कोई डाली टूट कर गिरी हो. मेरी आँखों से आंसू बाह पड़े. सबकुछ जानने का दावा करने वाली ताश्री आज खुद के बारें में कुछ नही जानती हैं. मैं जिनसे प्यार करती थी, जिनपर विश्वास करती थी सब के सब झूठे निकले.

तभी मुझे डोरबेल की आवाज सुनाई दी. इस वक्त कौन हो सकता हैं? मैं देखने के लिए वापस नीचे गयी और आधी सीढ़ियां उतरकर वही खड़ी हो गयी. राणा ने एक नज़र मुझे देखा और फिर नज़रअंदाज कर दिया. दरवाजा माँ ने खोला.

यह अंतस था!

तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई यहाँ आने की. मेरे आदमी बाहर ही हैं. राणा ठाकुर ने अंतस की और लपकते हुए कहा. मैं भी सीढ़ियों से उतरकर नीचे आ गयी.

"आपके आदमी बाहर विश्राम कर रहे हैं और अब शायद प्राथमिक चिकित्सा मिलने पर ही उठ पाएंगे. अंतस ने अपनी आवाज में कुछ तीव्रता लाकर कहा तो राणा कुछ ठन्डे पड़े.

"तुम्हे आखिर चाहिए क्या?" मेरी माँ ने पूछा.

"मुझे ताश्री चाहिए." अंतस ने आत्मविश्वास से मेरी और देखते हुए कहा.

"लगता हैं तुम्हे अपनी ज़िन्दगी प्यारी नही हैं. मेरे होते हुए तुम ताश्री को छु तक नही सकते हो." राणा ने आगे आते हुए कहा.

"मुझे अपनी नहीं उन मासूमो की ज़िन्दगी की परवाह हैं."

"मतलब." माँ और राणा दोनों चोंक गए.

"मृत्यंजय फिर से सूत्र साधना कर रहा हैं." अंतस ने जवाब दिया.
"हां मैंने राणा की कॉल डिटेल्स निकलवाई थी। और तुम जानती हो उसने यहाँ से बाहर निकलते ही किसे फोन किया था? ताश्री की माँ को।"

"तुम जानते हो यह गैर कानूनी हैं, राणा को अगर इस बारें में पता चल गया तो वो हमारी बैंड बजा देगा, तुम्हे ताश्री की माँ की लोकेशन पता चली?"

"हां वो यही हैं जयपुर में...अपने किसी रिश्तेदार के यहां रह रही हैं."

"हम्म...ठीक हैं मैं उनसे आज ही मिल लेती हूँ...दिनेश के बारें में कुछ पता चला. सीसीटीवी से कुछ जानकारी मिली?"

"नही, कोई फायदा नहीं हैं...वो तो हमारे कंप्यूटर की हार्डडिस्क निकालकर ले गया."

"बहुत बढ़िया...पहले एक ड्राईवर जेल में आत्महत्या कर लेता हैं, फिर कोई मेरी पिस्तौल से गोलियां निकाल लेता हैं और अब हमारे कंप्यूटर्स की हार्डडिस्क ही गायब हैं, आखिर हो क्या रहा हैं इस थाने में?"

"अगर आसितन में ही सांप छुपा बैठा हो तो कोई भला कर भी क्या सकता हैं? मैं आज ही एसपी से बात करके दिनेश का सस्पेंशन करवाता हूँ."

"नही उसकी कोई जरुरत नही हैं...इससे बात और भी ज्यादा फैलेगी. अभी जब तक हम यह सारी गुत्थी सुलझा नही लेते यह बात ज्यादा न फैले तो ही बेहतर हैं."
---------------------------------------------------------
शाम का वक्त था. विजय और नंदिनी दोनों ताश्री की माँ से मिलने के लिए थाने से निकले.

"मुझे उम्मीद हैं आज इस केस के बारें में सबकुछ पता चल ही जाएगा. वैसे तुम लोगो ने डायरी के आधार पर ताश्री की माँ से पूछताछ की थी क्या? क्योंकि कम से कम वो तो अपनी बेटी की डायरी को झूठा नही बता सकती थी."

"उनसे सारी पूछताछ खुद चतुर्वेदी सर ने की थी. उनका कहना था कि उनकी बेटी ताश्री एक बहुत ही लेख़क भी थी, हो सकता हैं उसकी डायरी कोई फिक्शनल ऑटोबायोग्राफी हो. उसे रोमांच पसंद था तो वो अपनी डायरी में भी अपनी ज़िन्दगी रोमांचक तरीके से लिखती थी."

"और उसकी सम्मोहन की शक्ति के बारें में..."

"उनका कहना था कि ऐसा कुछ नही हैं...उसे बस आँखों की दिक्कत थी, सो डॉक्टर ने उसे हमेशा चश्मा लगाए रखने के लिए कहा था."

"काला चश्मा! ...और तुम लोगो ने उनकी बात पर विश्वास कर लिया?"

"हमारे पास और कोई रास्ता भी नही था, भला हम एक हाल ही में मरी हुई लड़की की माँ से ऐसे सवाल कैसे करते जिनका कोई आधार ही नही था?"


"हां लेकिन अब आधार हैं, एक काल्पनिक संगठन ने मेरा अपहरण किया हैं. मैं इस संगठन का पर्दाफाश करके ही रहूंगी. अंतस पर ताश्री की माँ ने शक जताया था?"

"शक तो नही जताया था पर यह जरूर कहा था अंतिम बार उसे उसी लड़के के साथ देखा था, वो उसके साथ कही बाहर गयी थी."

"यह अजीब नही हैं, कोई भी माँ अपनी बेटी को किसी अनजान लड़के के साथ क्यों जाने देंगी?"

तभी गाडी एक मकान के सामने जाकर रुकी.

"यहीं मकान हैं?" नंदिनी ने पूछा.

"हां कॉल लोकेशन के हिसाब से तो यही होना चाहिए. चलो पूछते हैं."

दोनों जीप से उतरे और डोरबेल बजायी. एक महिला ने दरवाजा खोला. यह ताश्री की माँ ही थी, एक 50 साल की प्रौढ महिला थी, एक आम भारतीय साड़ी, श्रृंगार के नाम माथे पर एक बिंदी, किन्तु पहनावा बिलकुल व्यवस्थित, उनके चेहरे से एक अलग ही तेज झलक रहा था.

"जी कहिये." नंदिनी और विजय सादे कपड़ो में थे, शायद इसलिए ताश्री की माँ उन दोनों को पहचान नही पाई.

"मैं इंस्पेक्टर विजय हूँ और यह हैं एसीपी नंदिनी...हम ताश्री के मामले कुछ पूछताछ करने आये हैं..."

"कौन हैं अवंतिका?" पीछे से किसी औरत की आवाज आई.

"पुलिस वाले हैं, ताश्री के बारें में पूछताछ करने आये हैं."

नंदिनी और विजय अंदर आ गए. तभी किचन से वो दूसरी महिला निकलकर आई. उसे देखते ही नंदिनी खड़ी हो गयी....यह उसकी अंजनी माँ थी.

"अंजनी माँ आप?" नंदिनी ने चोंकते हुए कहा. वो अंजनी के पास में गयी. अंजनी को एक बार तो कुछ समझ में नही आया, फिर उसने पहचान लिया की यह नंदिनी हैं.

"नंदिनी बेटा तुम! बहुत दिनों बाद दिखी हो." अंजनी ने उसे गले से लगा लिया.

"आप यहाँ...?" नंदिनी ने अवंतिका की और देखते हुए अंजनी से पउच्च.. विजय चुपचाप खड़ा खड़ा यह सब देख रहा था.

"अवंतिका मेरी बहन हैं, ताश्री की मौत के बाद वो यहीं रहती हैं."


विजय, नंदिनी और अंजनी तीनो सोफे पर बैठ गए. अवंतिका अंदर चाय लेने के लिए चली गयी.

"आपने अनाथालय आना क्यों छोड़ दिया?" नंदिनी ने अंजनी से पूछा.

"बेटा उस वक्त अचानक ताश्री के साथ यह सब कुछ हुआ जिससे अवंतिका पूरी तरह से टूट गयी थी, उसे सँभालने वाला मेरे अलावा और कोई नहीं था. इस लिए मैंने नोकरी छोड़ दी थी, अभी अवंतिका और मैं यही पास में ही एक स्कूल में पढ़ाने का काम करती हैं."

"मैं यहाँ पर जोइनिंग होते ही अनाथालय आई थी, लेकिन मुझे पता चला कि आप छोड़ कर जा चुकी हैं. मैंने पता करने की कोशिश भी की थी मगर किसी को आपके बारें में कुछ भी पता नही था."

"हां...फिर मैं कभी वापस वहां गयी भी नही थी." तभी अवंतिका चाय लेकर आ गई.

"अंजनी तुम इन्हें कैसे जानती हो?" अवंतिका ने पूछा.

"अरे यह नंदिनी हैं, मैंने तुम्हे बताया तो था मेरे अनाथालय में सबसे होनहार लड़की थी यह...और देखो आज पुलिस इंस्पेक्टर बन कर आई हैं." यह सुनकर विजय थोडा सा मुस्कुरा दिया.

"पोलिस इंस्पेक्टर नही माँ, एसीपी!" नंदिनी ने हँसते हुए कहा.

"जो भी हो, तूने मेरे सपने को साकार कर दिया बेटा." अंजनी ने कुछ भावुक होते हुए कहा.

"यह सब आपकी ही दुआओं का असर हैं."

तभी विजय का फोन बजा.

"हेल्लो...हां कहो."

"क्या...कहाँ पर?"

"ठीक हैं...हम अभी पहुँचते है."

"क्या हुआ?" विजय के फोन रखते ही नंदिनी ने पूछा.

"दिनेश के बारें में कुछ पता चला हैं. एक खबरी ने उसे एमआई रोड के आस पास उसे कहीं देखा हैं."

"ओह...लेकिन...." नंदिनी ने अंजनी माँ की और देखते हुए कहा. विजय नन्दिनी की स्थिति समझ गया.

"कोई बात नही तुम इनसे बात करो, मैं उसे देखता हूँ." विजय चलने के लिए उठ खड़ा हुआ.

"ओके..थैंक्स.." नन्दीनी ने कहा. विजय इसके बाद निकल गया.

"बेटा तुम ताश्री के बारें में कुछ कह रही थी." अवन्तिका ने कहा.

"हां मैं ताश्री के मर्डर केस की फिर से जांच कर रही हूँ." नंदिनी ने पास ही पड़ी ताश्री की एक तस्वीर उठा ली और उसे निहारने लगी. लंबे बाल तीखे नैन नक्श वाली, पतली सी लड़की थी, कोई भी एक बार देखे तो पलक झपकाना भूल जाए. ननंदिनी उसको कुछ देर देखती रही .

"उस लड़के के बारें में कुछ पता चला क्या?" अवंतिका ने कहा तो नंदिनी की तन्द्रा टूटी.

"अभी तो नही लेकिन जल्द ही चल जाएगा, मगर उसके लिए आपको पहले सब सच बताना होगा." नंदिनी ने अवंतिका की आँखों में झांकते हुए कहा.

"सच...मगर कैसा सच?" अंजनी और अवंतिका दोनों चौक गये.

"संगठन के बारें में..."

"मैं पहले ही पुलिस को बता चुकी हूँ. संग़ठन जैसा कुछ नही ताश्री ने अपनी डायरी में कोई काल्पनिक कहानी लिखी थी."

"मैं मृत्युंजय से मिली हूँ, अवंतिका जी. उसी काल्पनिक संगठन ने मेरा अपहरण करने की कोशिश की थी. मैं राणा साहब से भी मिली हूँ. मैं इस केस से जुड़े हर शख्स से मिली हूँ. मगर ऐसा लगता हैं हर शख्श कुछ न कुछ छिपाने की कोशिश कर रहा हैं. कम से कम आप तो सच बोलिये. मैं बस आपकी बेटी को न्याय दिलवाना चाहती हूँ. " नंदिनी थोड़ी सी रुआंसी हो गयी थी. उसे समझ में नही आ रहा था कि क्यों हर व्यक्ति उसे बेवकूफ बनाने पर तुला था.

अवंतिका कुछ देर नंदिनी को देखती रही और फिर उसने अंजनी की और देखा. अंजनी ने अपनी पलके झपका कर मौन सहमति दी.

"नंदिनी बेटा तुम नही जानती तुम किनके खिलाफ लड़ रही हो, वो बहुत ही खतरनाक लोग हैं." अवंतिका ने कुछ पल बाद कहा.

*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Return to “Thriller Stories”

Who is online

Users browsing this forum: No registered users and 1 guest