वारदात complete novel

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

वारदात complete novel

Post by 007 » 11 Jun 2017 15:04

वारदात

दौलत का दीवाना देवराज चौहान ....


..........जो दौलत की खातिर जान हथेली पर रखकर लाशों के ढेर लगाने मे भी गुरेज नही करता।


.......लेकिन हर बार दौलत .....

.............किसी बेवफा प्रेमिका की तरह उसके पहलू से निकल जाती है ।



लेकिन इस बार देवराज चौहान की दौलत के लिए दीवानगी कुछ ऐसा रंग लाई कि .....


( ऐसी दीवानगी देखी नही नावॅल नही नावॅल का भी बाप )



वारदात


अनिल मोहन

बैक डकैती का ऐसा मास्टर पीस प्लान जिसने बड़े बड़े धुरधरो के भी छक्के छूडा दिए ।


(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

वारदात complete novel

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: वारदात

Post by 007 » 11 Jun 2017 15:05

अन्य रातों की अपेक्षा वह ज्यादा ही भयानक रात थी ।


आकाश मे गहरे काले बादल छा जाने की वजह से… रात का कालापन और भी बढ गया था । हवा सांय-सांय करकें चल रही थी । पहले की अपेक्षा सन्नाटा कुछ और भी वढ़ गया था । शहर कै बाहरी हिस्से में स्थित शमशान की चारदीवारी कै साथ लगे लम्बे-लम्बे पेड हवा के संग झूम रहे ये । उनकें पतों की खड़खड़ाहट दिल को धड़का रही थी ।


शमशान का डरावनापन देखकर वदन में कंपकंपाहट-सी दौड जाती थी ।


शमशान के आसपास दूर दूर तक खाली जगह और जंगल हीं था । मेन रोड से सिर्फ एक ही सडक शमशान तक आ रही थी ।



~ ~ इस भयानक अंधेरी रात में एक कार शमशान के बाहर आकर रूकी । कार का इंजन बन्द होते ही हवा की सांय-सांय आवाजें कानों में स्पष्ट पडने लगीं । कार की हेडलाइट पहले से ही बन्द थी ।



तभी कार का स्टेयरिंग डोर खुला और स्वस्थ वदन वाले व्यक्ति ने बाहर कदम रखा जिसने सिर से पांव तक खुद को काले लबादे में ढक रखा था ।



चेहरे पर नकाब पडा था जिसमें से सिर्फ आंखें ही खतरनाक भेडिये कौ भांति चमक रही थीं i


क्षणभर ठिठकक्रर उसने दाएं-वाएं देखा फिर तेज तेज कदम उठाता हुआ शमशान में प्रवेश कर गया ।

उसी समय शमशान के ठीक बीचोंबीच स्थित पीपल के धने और बहुत ही भयानक-से पेड पर से उल्लू के चीखने की आवाज ने शमशान कै सन्नाटे क्रो तोडते हुए वहां की खामोशी में छाए भयानतापन क्रो और मी बढा दिया ।



परन्तु स्पष्ट लग रहा था कि नकाबपोश पर शमशान के खतरनाक माहौल और उल्लू कै चीखने जैसी आवाज का कोई असर नहीं हुआ था ।



वह अपनी स्थिर चाल से आगे बढता रहा । वहां कोई भी बल्ब नहीं जल रहा था । धटाघोप अंधेरा था । लेकिन नकाबपोश बिना ठोकर खाए चलता रहा था ।



शमशान कै कोने में वने पक्के कमरे के सामने जाकर नकाबपोश ठिठका ओऱ आसपास देखा । हर तरफ मरघट का सन्नाटा काटता था ।



फिर नकाबपोश ने कमरे कै बन्द दरवाजे को थपथपाया । तीसरी बार की थपथपाहट पर जाकर दरवाजा खुला ।



दरवाजा खोलने वाता मुर्दों का क्रियाकर्म करने वाला साठ वर्ष का बूढा था । कमरे के भीतर मध्यम रोशनी का बल्ब जल रहा था । आखों पर उसने नज़र का चश्मा चढा रखा था, जिसके मोटे-मोटे शीशे थे और उन शीशों में से उसकी आंखें बहुत ही मोटीं मोटी सी होकर सामने वाले को दिखाई दे रही थी l सिर के सफेद बाल वहुत छोटे छोटे से थे और पिछले हिस्से में पतली-सी चुटिया थी, जिसमें गांठ बांध रखी थी ।



"कौन हो तुम?" बूढे ने जब सामने किसी नकाबपोश को देखा तो उसने हैरानी से पूछा ।



"मैँ वही हुं, जिसने शाम को तुमसे बात की थी।" नकाबपोश ने भारी स्वर मे कहा ।


"तु....म......तुम वह मुर्दा लेने आए हो?" बूढे के होठों से निकला ।



“हां । शाम को दस हजार की गड्डी दे गया था और दस हजार अब देने को कहा था।"



"अब चेहरा ढककर क्यों आए हो?"


"मर्जी मेरी ।”


"मुझे समझ में नहीं आता किं मुर्दे का तुम क्या करोगे?”



"मैं डॉक्टर हू। चीर-फाढ़ करता हू।”



"डाक्टर इस तरह नकाब में लिपटकर मरघटों में मुर्दों की तलाश नहीं करते फिरते, ना ही इस तरह मुर्दे का बीस हजार देते हैं l” बूढे के स्वर में हत्का-सा तीखापन आ गया ।


" तुम अपने काम से मतलब रखो, तुम्हें बीस हजार मिल रहा है I”


"ठोक कह रहे हो तुम । बीस हजार रुपये की खातिर ही तो मैं तुम्हें शमशान में आज ज़लने वाला मुर्दा दे रहा दूं । क्या करू, मजबूर भी तो हू I जबान बेटी की शादी करनी है I पैसे की जरूरत न होती तो ऐसा घिनौना काम कभी न करता I" बूढे ने धीमे किंन्तु भारी -स्वर में कहा I


“मुर्दा कहां है?”
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: वारदात

Post by 007 » 11 Jun 2017 15:05

"वह मुर्दा चिता पर ही पड़ा है l आओ मेरे साथ ।" कहते हुए आचार्य उस तरफ बढा जहां मुर्दों की चिता सजाई जाती थी…“शाम को दस-बारह लोग थे उस मुर्दे के साथ । चिता क्रो आग दी ही जाने वाली थी कि बूंदा-बांदी शुरू हो गई I ऊपर से तुमने मेरे कान में फूक मार दी थी कि किसी प्रकार मुर्दे को सही सलामत बचाकर तुम्हारे हवाले कर दूं तो तुम मुझे बीस हजार दोगे, इसके साथ ही दस हजार की गड्डी तुमने मेरे कपडों में सरका दी थी I इसलिए हल्की बरसात के आरम्भ होते ही मैंने उन लोगों से कह दिया कि अभी चिता र्कों आग देने का कोई फायदा नहीं I क्योंकि बरसात आने वाली है l” चलते हुए वह बूढा बोले जा रहां था । "आखिरकार मैंने उन्हें वायदा दिया कि बरसात के थमते ही चिता को आग दे दूंगा । गीली लकडियों को भी किसी प्रकार जला दूंगा । आप लोग चौथे दिन आकर फूल ले जायें I इस प्रकार वह मुर्दा जलने से बच गया । और बरसात भी उन लोगों कै जाने कै पांच मिनट कै बाद ही थम सी गई थी I" नकाबपोश की आंखों में अब पैशाचिक चमक लहरा उठी I

"अब अन्य जले मुर्दों कै फूलों में हैराफेरी करके, उन्हें फूलों का थैला दूंगा । चौथे दिन वह लोग आयेंगे । भगवान ही जाने तुम इस मुर्दे का क्या करोगे ।" इतना कहकर उधर बढ़ गया जिधर लकडियां सजाकर चिता बना रखी थी । बूढ़े ने चिता से लकडियां उठाकर नीचे रखनी शुरू कर दीं । कुछ दूर अन्य चिता सुलग रही थी ।



ऊपर से चन्द लकडियां हटाने पर, कफन में लिपटा मुर्दा चमक उठा l कफन को मौली से अच्छी तरह बांध रखा था ।




"यह रहा तुम्हारा बीस हजार का मुर्दा.... I कैसे ले जाओगे?" बूढे ने पूछा I



"बाहर मेरी कार खडी है ।"



"चलो , मैँ इसे उठाकर तुम्हारी कार तक… I"


"जरूरत नहीं, मै खुद ले जाऊंगा ।" कहने कै साथ ही नकाबपोश ने जेब से नोटों की दस हजार की गड्डी निकालकर बूढे को थमाई-"यह लो बाकी कै दस… I"



इसके पश्चात् नकाबपोश ने आगे बढकर चिता पर पडे मुर्दे को उठाया जो कि खम्बे कै भांति अकड़ा पड़ा था I मुर्दे को उसने अपनी बांहों मेँ सीधा उठाया और पलटकर तेज-तेज कदम उठाता हुआ बाहर निकलता चला गया । उसकी चाल में बला की फुर्ती भर चुकी थी I


@@@@@
फिनिश
@@@@@


रात के तीन बज रहे थे I हल्की हल्की बरसात आरम्भ हो चुकी थी I आसमान में चहकती बिजली इस बात का सन्देश दे रही थी कि, जल्द ही भयानक बरसात होने वाली है । ऐसे खराब और खतरनाक मौसम में गहरे अन्धेरे कै बीच वह नकाबपोश कफन में लिपटे खम्बे कै समान अकडे मुर्दे को बांहों पें उठाए पहाडी इलाके में सावधानी से आगे बढा जा रहा था I वहां चारों तरफ चट्टानों के टुकड़े फेले हुए थे । कहीं-कहीं पहाड के ऊंचे टीले थे I हरियाली का नामो-निशान ही नहीं था ।


नकाबपोश कै चलने का अन्दाज बता रहा था कि इन रास्तों से वह अच्छी तरह परिचित है और वहां पर वह पहले भी कई बार आ चुका है ।


अपनी कार से उतरकर नकाबपोश इस प्रकार करीब रुका । जिसके भीतर जाने कै लिए बेहद छोटा व सकरा सा रास्ता था । इंसान अपना जिस्म सिकोड़कर ही भीतर प्रवेश कर सकता था। नकाबपोश ने पहले कफन मेँ लिपटे मुर्दे को खोह में सरकाकर आगे किया । तत्पश्चात् खुद भी भीतर प्रवेश कर गया । बाहर से देखकर कहना कठिन था कि यहां कोई रास्ता भी हे । देखने पर छोटा सा टीला ही लगता था वह I



भीतर से चट्टान खोखली थी । बहुत खुली जगह थी ।



. वहां पर चार मशालें जल रही थी l रोशनी पर्याप्त थी । भीतर प्रवेश करते ही नकाबपोश ठिठका । फिर उसकी निगाहें दायीं तरफ धूम गई जहां खतरनाक सा नजर आने वाता तांत्रिक बैठा था I



गंजा सिर I सिर पर लाल सुर्ख रंग की कपड़े की टोपी ।



कमर तक वह नंगा था और गले में इन्सानी हड्डियों की माला पहन रखी थी I कुछ इन्सानी हड्डियों को धागे में मूंथकर .
बांह और कमर पर बाँध रखी थीं I उसकी आँखें लाल सुर्ख थी, जैसे शराब की पूरी बोलत पी रखी हो I वह आधा फीट उची लकडी की चौकी पर लाल रंग का कपड़ा बिछाए आसन की मुद्रा में बैठा था I दायीं तरफ लोहे का बहुत बड़ा सन्दूक रखा था । ठीक सामने काले रंग कै कपडे पर तीन इंसानी खोपड्रियां रखी थी ! खोह में अजीब सी दुर्गन्ध फैली थी ।



"प्रणाम गुरुदेव I" नकाबपोश ने आगे बढकर तांत्रिक के पावों को छूते हुए आदर भरे स्वर में कहा ।



तांत्रिक की मुद्रा में कोई फर्क नहीं आया ।
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: वारदात

Post by 007 » 11 Jun 2017 15:06

"आखिर आ ही गए तुम?” तांत्रिक की आबाज में खुरदरापन था I



"हां I"


. , "जिद छोड दे बच्चे I नादानी मत कर l"

तांत्रिक के स्वर मे गुर्राहट आगई ---" जो
तू चाहता हे, वह ठीक नहीं हे । भूल जा सबझुछ l”



‘जो हो रहा है, वह ठीक ही हो रहा है गुरुदेव ।" नकाबपोश ने दृढ़त्ता भरे लहजे में कहा ।



"अक्ल नहीं हे तेरे मेँ I तेरे को नहीं मालूम कि इस कदम का अन्त क्या होगा l" तांत्रिक ने सख्त स्वर में कहा --- “मौत को बुला रहा है तू अपनी… l"





नकाबपोश ने तांत्रिक कै शब्दों की परवाह नहीं की और पलटकर नीचे पड़े मुर्दे के पास पहुंचा अँरि नीचे झुकते हुए मुर्दे के जिस्म से कफन उतारने लगा ।



तांत्रिक लाल सुर्ख आंखों से उस नकाबपोश को घूरता रहा I



देखते ही देखते नकाबपोश ने मुर्दे के जिस्म से कफन उतार फेंका ।



वह मुर्दा राजीब मल्होत्रा का था । मुर्दे का चेहरा हल्दी की तरह पीला पड़ा हुआ था ।



नकाबपोश ने सिर घुमाकर तांत्रिक को देखा l



"आइए गुरुदेव I"



"तो तू मेरी बात नहीं मानेगा I” तांत्रिक गुर्राया।



"गुरुदेव आप मुझे वचन दे चुके हैं I"



"मुझे समझा मत नादान कि हम वचन दे चुके हैँ कि नहीं ।" तांत्रिक एकाएक गला फाड़कर चिल्ला पड़ा-"बल्कि हम जो समझा रहे हैं, उसे समझने का प्रयत्न कर । तू आग से खेलने जा रहा हे । वह आग है जिससे तू भी नहीं बच पाएगा t यह तुझे भी जला देगी । अभी भी वक्त है, जा अपने घर । सम्भल जा-नहीं तो..... ।"



"गुरुदेव !!" नकाबपोश की आवाज में दृढ़ता थी…" आप अपना काम शुरू कीजिए l"



"नहीं मानेगा। तू कहर बरपाकर ही रहेगा I तू कुदरत कै कानून कं खिलाफ चल रहा है । याद रख एक दिन तू पछताएगा ।" इस बार तांत्रिक का स्वर बेहद घीमा-बुदबुदाहट के रूप में था । होंठ हिलाते हुए उसने खोह की छत को देखा ।

फिर चौकी से उठकर नीचे उतरा और नंगे पांव ही आगे बढा ! उसकी आंखों की सुर्खी में बढोत्तरी हो चुकी थी ।



राजीव मल्होत्रा के मुर्दा जिस्म कै करीब पहुंचकर तांत्रिक ठिठका ।



कई पल वह मुर्दे को घूरता रहा । फिर नंगे'पांव से ही मुर्दे को उलट-पलटकर देखा ।



"यह तो अकड़ा पड़ा हे ।"



"गुरुदेव मरने के बाद तो सब ही अकड जाते हैं I"



"बहुत् मेहनत करनी पड़ेगी l"


"आपके इन शब्दों को वादा खिलाफी समझू गुरुदेव?” नकाबपोश बोला ।।



"नादान.....!" त्तात्रिक पलटकर गर्जा---"मैंने इन्कार नहीँ . . किया । आने बाली कठिनाई के बारे में बता रहा हू। अपनी बद्जुबान को सम्भाल, वरना मुझे क्रोध आ जाएगा ।"



"क्षमा गुरुदेव !" तांत्रिक भिंचे दातों से वापस चौकी कै करीब पहुच और उसकें होठ हिलने लगे । स्पष्ट जाहिर था कि वह कोई मत्र पढ़ रहा हैं ।


मंत्र की समाप्ति पर उसने नीचे लाल कपडे पर रखीं तीनों खोपांड़ेयों पर हाथ फेरा तो वह भक्क से जल उठी ।



इसके साथ ही तांत्रिक पलटा और नकाबपोश को खूनी निगाहों से देखने लगा ।



"तेरी इच्छा तो मैं पूरी करने जा रहा हू परन्तु याद रख, याद रख एक दिन तू मेरे सामने गिड़गिड़ायेगा. कि मैं सब ठीक कर दूं....लेकिन लेकिन शायद तब मैँ भी कुछ न कर सकूंगा l अभी भी वक्त है सम्भल जाने का ।”



नकाबपोश खामोश रहा । कुछ भी न बोला ।।


" उठा मुर्दे को i” तांत्रिक गला फाडकर दहाड़ा-"मैं वचन दे चुका हूं इसलिए अब पीछे नहीं हटूंगा । बाबा भेरोनाथ सबका भला करेगा । इसे उठाकर खोह कै पीछे वाले हिस्से में रख दे । वहीँ पर सब-कुछ करना पडेगा l”


नकाबपोश ने फौरन नीचे पड़े राजीब मल्होत्रा के मुर्दे को दोनों बांहों में उठाकर सम्भाला और एक तरफ बढ गया ।।




एक तरफ खोह काटकर दरवाजे जितना रास्ता बनाया हुआ था, नकाबपोश मुर्दे को उठाए उसी में प्रवेश करता चला गया I
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

User avatar
007
Super member
Posts: 3997
Joined: 14 Oct 2014 17:28

Re: वारदात

Post by 007 » 11 Jun 2017 15:06

तांत्रिक बेचैनी से वहीं पर चहल-कदमी करने लगा। उसकी आंखों में सुखीं पल-प्रतिपल बढती जा रही यी । होठों ही होठों में जाने वह क्या बुदबुदा उठता था ।





लगभग पांच मिनट बाद, नकाबपोश की वापसी हुईं ।



वह खाली हाथ था ।



राजीव का मुर्दा वह कहीं भीतर रख आया था ।



"आज्ञा गुरुदेव ।" नकाबपोश ने हाथ बांधकर आदर के भाव से कहा ।



"फिलहाल हमें अकेला छोड़ दे । हमारी साधना का वक्त है।" तात्रिक क्रोध भरे स्वर में बोला।


“कल आऊ गुरुदेव?”



"आ जाना । लेकिन अब जा " तांत्रिक के स्वर मे अप्रसन्नता थी l



नकाबपोश जिस रास्ते से खोह में आया था उसी रास्ते से बाहर निकलता चला गया । बाहर आते ही वह भीग गया ।



बरसात जोरों पर थी ।



इस घटना से चन्द रोज पहले की घटनाएं कुछ इस प्रकार रहीँ ।


@@@@@
फीनिश 2
@@@@@


अन्तिम-संस्कार की क्रिया पूरी करने कै बाद तीनों वापस उसी कमरे में आ पहुचे, जो उन्होंने किराए पर ले रखा था I सुबह से उन्होंने स्मैक का नशा नहीँ किया था; इसलिए पहले उन्होंने अपने नशे को पूरा किया फिर अरुण खेडा बोला ।



"हम लोग दो बार बड़े खतरों से निकले हैं । पहला खतरा था बैंक में डाका डालने का और दूसरा था राजीव की लाश का, अनजाने में जो दिवाकर के हाथों मारा गया । "



" बीती बात न करो I खासतौर से राजीव की I” दिवाकर उखड़े लहजे में बोला-"सुनकर अच्छा नहीं लगता । इस समय हमें यह सोचना चाहिए कि वह पैंतीस लाख कहां हैं?”



"उसकी महबूबा तो उसकी मौत पर नहीं आई I"


" क्या मालूम उसे राजीव की मौत की ख़बर ही न पहुची हो वह दूर रहती हो I"



"यह भी हो सकता हैं ।" अरुण खेड़ा ने दोनों के चेहरों पर निगाह मारी-“वह आईं हो, परन्तु हमारी निगाहों कै सामने आना उसने ठीक न समझा हो ।"


" क्यों ?"



"राजीव ने उसे हमारे बारे सब-कुछ बता रखा होंगा कि हम लोगों के साथ मिलकर उसने डकैती की है । लडकी ने ठीक ही सोचा होगा कि हमेँ बैंक से लूटी दीलत की तलाश होगी और हम सोच सकते हैं कि वह दौलत उसके पास भी रखीं हो सकती है और राजीव की मौत के पश्चात् उसका दिल बेईमान हो गया हो । वह हमें दौलत देना न चाहती हो I इसी कारण उसने सामने आना ही ठीक न समझा होगा I” अरुण खेड़ा बोला ।



"यह ठीक कहता है, हो सकता है।" हेगडे ने सिर हिलाया ।
(¨`·.·´¨) Always

`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &

(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !

`·.¸.·´
-- 007

>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>>

Post Reply