आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 05 Dec 2017 13:30

rajsharma wrote:
04 Dec 2017 14:38
Dost lazabaaw kahani hai
Ankit wrote:
04 Dec 2017 18:50
Superb update bhai..................
Smoothdad wrote:
04 Dec 2017 22:39
mitr aj hi maine is novel ko padhna shuru kiya hai yakin maniye Imran bahut hi lajawab shakhs hai.......... ab mujhe apke sare novel padhne padenge
thanks for supporting me
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Sponsor

Sponsor
 

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 05 Dec 2017 13:35

dusri subah Imran ne seiko mansion se rahman sahab ko phone kiya….

Doctor shahid ka suraag mil gaya hai….unhone ittilaa di….

Kahan hai….? Imran ne pucha

kuch der pahle uski call ayi thi….shaher hi mein hai….malaiqa ki agawaa ki bina par usne mujhse contact karna pada….!

Kya kehta hai….?

Filhaal itna hi bataya hai ke us agawaa ka taalluk uske istife se hi ho sakta hai….kuch log chahte hai ke wo istifa wapas le le….!

Shayad….maine bhi yei kaha tha….Imran bola

lekin shahid ne ye nahi bataya ke wo kahan hai….ab call ayi to exchange se maalum kar liya jayega….
Lekin
usne sirf yahi batane ke liye phone kiya tha….ke malaiqa ke agawaa ka taalluk uske istife se hai….uske alawa aur kuch nahi bataya tha….un logon ki nashan dehi bhi nahi kar saka jo istife ki wapsi ke chahte hai….!

Akhar kehta kya hai….?

Kuch bhi nahi….meri guzarish par bas itna hi kaha tha ke wo kisi waqt khud hi mujh tak pahunchne ki koshish karega….
Aur
usse pahle phone par ittilaa kar dega….!

Aqal ka bhi doctor hi maalum hota hai….uski call ayi to kahe di jiye ke wo khud zehmat (kasht) na kare….
Balki
us jagah ki nashan dehi kar de jahan choopa hua hai….khud bahar nikalne ka khatra mol na le….behad bakhabar aur khatarnaak log maalum hote hai….!
Tum akhar kya kar rahe ho….?

Maine maalum kar liya hai ke malaiqa kahan le jayi gayi thi….
Lekin
zaroori nahi ke ab bhi wahan ho….!

Kahan le jayi gayi thi….?

Harlem house mein….aap jaante hai ke wahan us embassy ka press attach rehta hai….!

Ye kiss se maalum kiya….?

Mat puchiye….agar aap ke mahekme se mera taalluk hota to aap tareekhkaar (prakriyaon) ki bina par mujhe goli maar dete….!

Aur shayad….itni jaldi maalum bhi na kar sakta….rahman sahab murda si awaaz mein bole

Imran ne muskura kar left aankh dabayi….rahman sahab ke qabool shakishiyath par shayad dil baagh-baagh ho gaya tha….

Nahi aisi koi baat nahi daddy….usne badi saadgi se kaha….
Darasal
tareekhon se bada farq padhta hai….bazaabta kaarwaahiyon mein zyada waqt lagta hai….!

Ab kya karoge….?

Kal jin do afraad ne mera picha kiya tha….wo press hi ke matahath sabeet hue hai….
Lihaazaa
ab tamaamtar tawajjo (dhyaan) harlem house hi ki taraf hai….!

Bahut savdhaan rehna….!

Fikr na ki jiye….haa us teetar ke silsile mein kya hua….?

Kuch bhi nahi….mulazim par sakhti karna nahi chahta….!

Sirf khader ko tatolein….

Kyun….?

Wo aaj-kal bahut bada zaroorat mand ban gaya hai….

Kya matlab….?

Tofein khareedta hua dekha gaya hai….

Pata nahi kya bak rahe ho….

Gulrukh ke do candidate hai….ek khader dusra suleman….!

Oohhhh….

Bas khader par nazar rakhiye….kisi ne bomb to rakhwana nahi tha….aadha teetar aur ek lifafa itni si baat ke liye 100, 200 kya bure hai….!

Tum thik kahte ho….main dekh lunga….

Ho sakta hai aadha teetar shahid ke liye ho….
Aur
lifafa aap ke liye….!
Main nahi samjha….

Main use mahez ek ahmaqaana harkat samajhne ke liye taiyaar nahi….aap ke liye sirf lifafa hi kaafi tha….yaqeen ki jiye bahut bakhabar log maalum hote hai….is had tak jaante hai ke aap ko teetar pasand hai….
Aur
sirf aap hi ke saamne rakhe jate hai….
Aur
unki maalumaat ka zariya ghar ka koi mulazim hi ho sakta hai….!

Main bhi yahi soch raha hu ke aadha teetar kisi wahem (bhram) ki alaamat (prateek) hi ho sakta hai….
Lekin
sirf isi liye jo usse sarokaar rakhta ho….!

Mumkin hai….shahid is alaamat (prateek) ko pehchaanta ho….zaahir hai wo dhamki malaiqa ke agawaa ke silsile mein chaan-been hi karne ki bina par mujhe mili thi….
Lihaazaa
aap shahid se uska zikr zaroor karenge….saamne ki baat hai….!

Shahid tak pahuchna zaroori ho gaya hai….uski dusri call ke intezar mein hu….tumhare mashware par amal kiya jayega….!

Shukriya daddy….main har aadhe ghante baad aap se contact karta rahunga….phone number isliye nahi de sakta ke kisi ek jagah par ruka nahi rahe sakta….

Achhi baat hai….rahman sahab ne kaha….
Aur
silsila cut hone ki awaaz ayi….!

Imran seiko mansion se readymade make-up mein nikla….fuli hui naak ke niche thuddi tak jhuka hua moonchon ka failau pahli nazar mein khaasa daravna lag raha tha….

Harlem house ki nigrani safdar, chauhan aur siddiq kar rahe the….kornila ki kothi khud ke zimme daal li thi….

Imran harlem house ka jayeza bahar se lena chahta tha….ye imaarat shaher ke us hisse mein thi jahan daulatmand tabkhe ke log abaad the….
Aur
saari imaarat ek dusre se khaase faasle par thi….chaaron taraf ghoom-fir kar usne harlem house ka jayeza liya….
Aur
fir ek restro mein aa baitha….yahin se usne ek baar fir rahman sahab ke number dial kiye….dusri taraf se fauran jawaab mila….

Rahman sahab ne uski awaaz pehchan li….
Aur
sirf itna kahe kar silsila kaat diya….beach view….hut number 83….!

Imran ne sar ko jhumbish di….
Aur
receiver rakha kar apni mez par palat aya….coffee order ki thi….
Aur
20 minute baad bill aada kar ke uth gaya….!
Ab uski gaadi beach sea view ki taraf jaa rahi thi….behathreen sahil tafreehgaahon beach-view) mein uska shumaar hota tha….hut kiraaye par diye jate the….
Aur
kisi na kisi hotel se taalluk the….!

83 number ka hut gulbar hotel ke zariye intezaam tha wahin se usne phone number haasil kiya….wahan jane se pahle dr shahid se phone par guftgu karna chahta tha…..

Hello….k….ka….kaun….? Dusri taraf se khaufzada si awaaz ayi….ye jumla angrezi mein aada kiya gaya tha….
Aur
saath hi ye koshish ki gayi thi ke lahja khaalis amrici maalum ho….!

Main tumhara hone wala….wala bol raha hu….Imran ne urdu mein kaha

wala….wala….kya hai….? Besakhti mein is baar urdu hi istemaal ki gayi….

Saala kahte hue sharm mehsoos hoti hai….

Achha….achha….samajh gaya

naam mat lena….main pahunch raha hu….



दूसरी सुबह इमरान ने सेइको मॅन्षन से रहमान साहब को फोन किया….

डॉक्टर शाहिद का सुराग मिल गया है….उन्होने इत्तिला दी….

कहाँ है….? इमरान ने पूछा

कुछ देर पहले उसकी कॉल आई थी….शहेर ही में है….मलइक़ा की अगवा की बिना पर उसे मुझसे कॉंटॅक्ट करना पड़ा….!

क्या कहता है….?

फिलहाल इतना ही बताया है कि उस अगवा का ताल्लुक उसके इस्तीफ़े से ही हो सकता है….कुछ लोग चाहते है कि वो इस्तीफ़ा वापस ले ले….!

शायद….मैने भी यही कहा था….इमरान बोला

लेकिन शाहिद ने ये नही बताया कि वो कहाँ है….अब कॉल आई तो एक्सचेंज से मालूम कर लिया जाएगा….
लेकिन
उसने सिर्फ़ यही बताने के लिए फोन किया था….कि मलइक़ा के अगवा का ताल्लुक उसके इस्तीफ़े से है….उसके अलावा और कुछ नही बताया था….उन लोगों की निशान देहि भी नही कर सका जो इस्तीफ़े की वापसी चाहते है….!

आख़िर कहता क्या है….?

कुछ भी नही….मेरी गुज़ारिश पर बस इतना ही कहा था कि वो किसी वक़्त खुद ही मुझ तक पहुँचने की कोशिश करेगा….
और
उसे पहले फोन पर इत्तिला कर देगा….!

अक़ल का भी डॉक्टर ही मालूम होता है….उसकी कॉल आई तो कहे दी जिए कि वो खुद ज़हमत (कष्ट) ना करे….
बल्कि
उस जगह की निशान देहि कर दे जहाँ छुपा हुआ है….खुद बाहर निकलने का ख़तरा मोल ना ले….बेहद बाख़बर और ख़तरनाक लोग मालूम होते है….!

तुम आखर क्या कर रहे हो….?

मैने मालूम कर लिया है कि मलइक़ा कहाँ ले जाई गयी थी….
लेकिन ज़रूरी नही कि अब भी वहाँ हो….!

कहाँ ले जाई गयी थी….?

हर्लें हाउस में….आप जानते है कि वहाँ उस एंबसी का प्रेस अटॅच रहता है….!

ये किस से मालूम किया….?

मत पूछिए….अगर आप के माहेक्मे से मेरा ताल्लुक होता तो आप तारीखकार (प्रक्रियाओं) की बिना पर मुझे गोली मार देते….!

और शायद….इतनी जल्दी मालूम भी ना कर सकता….रहमान साहब मुर्दा सी आवाज़ में बोले

इमरान ने मुस्कुरा कर लेफ्ट आँख दबाई….रहमान साहब के क़बूल शिकस्त पर शायद दिल बाग-बाग हो गया था….

नही ऐसी कोई बात नही डॅडी….उसने बड़ी सादगी से कहा….
दरअसल
तारीखों से बड़ा फ़र्क़ पड़ता है….बाज़ाबता कारवाहियों में ज़्यादा वक़्त लगता है….!

अब क्या करोगे….?

कल जिन दो अफ्राद ने मेरा पीछा किया था….वो प्रेस ही के मातहत साबित हुए है….
लिहाज़ा अब तमांतर तवज्जो (ध्यान) हर्लें हाउस ही की तरफ है….!

बहुत सावधान रहना….!

फ़िक्र ना की जिए….हाँ उस तीतर के सिलसिले में क्या हुआ….?

कुछ भी नही….मुलाज़िम पर सख्ती करना नही चाहता….!

सिर्फ़ खादर को टटॉलें….

क्यूँ….?

वो आज-कल बहुत बड़ा ज़रूरत मंद बन गया है….

क्या मतलब….?

टिफिन खरीदता हुआ देखा गया है….

पता नही क्या बक रहे हो….

गुलरुख के दो कॅंडिडेट है….एक खादर दूसरा सुलेमान….!

ऊहह….

बस खादर पर नज़र रखिए….किसी ने बॉम्ब तो रखवाना नही था….आधा तीतर और एक लिफ़ाफ़ा इतनी सी बात के लिए 100, 200 क्या बुरे है….!

तुम ठीक कहते हो….मैं देख लूँगा….

हो सकता है आधा तीतर शाहिद के लिए हो….
और
लिफ़ाफ़ा आप के लिए….!
मैं नही समझा….

मैं उसे महेज़ एक अहमाक़ाना हरकत समझने के लिए तैयार नही….आप के लिए सिर्फ़ लिफ़ाफ़ा ही काफ़ी था….यक़ीन की जिए बहुत बाख़बर लोग मालूम होते है….इस हद तक जानते है कि आप को तीतर पसंद है….
और
सिर्फ़ आप ही के सामने रखे जाते है….
और
उनकी मालूमात का ज़रिया घर का कोई मुलाज़िम ही हो सकता है….!

मैं भी यही सोंच रहा हू के आधा तीतर किसी वाहें (भ्रम) की अलामत (प्रतीक) ही हो सकता है….
लेकिन
सिर्फ़ इसी लिए जो उससे सरोकार रखता हो….!

मुमकीन है….शाहिद इस अलामत (प्रतीक) को पहचानता हो….ज़ाहिर है वो धमकी मलइक़ा के अगवा के सिलसिले में छान-बीन ही करने की बिना पर मुझे मिली थी….
लिहाज़ा आप शाहिद से उसका ज़िक्र ज़रूर करेंगे….सामने की बात है….!

शाहिद तक पहुचना ज़रूरी हो गया है….उसकी दूसरी कॉल के इंतेज़ार में हूँ….तुम्हारे मशवरे पर अमल किया जाएगा….!

शुक्रिया डॅडी….मैं हर आधे घंटे बाद आप से कॉंटॅक्ट करता रहूँगा….फोन नंबर इसलिए नही दे सकता के किसी एक जगाह पर रुका नही रहे सकता….

अच्छी बात है….रहमान साहब ने कहा….
और सिलसिला कट होने की आवाज़ आई….!

इमरान सेइको मॅन्षन से रेडीमेड मेक-अप में निकला….फूली हुई नाक के नीचे ठुड्डी तक झुका हुआ मूँछों का फैलाव पहली नज़र में ख़ासा डरावना लग रहा था….

हर्लें हाउस की निगरानी सफदार, चौहान और सिद्दीक़ कर रहे थे….कॉर्निला की कोठी खुद के ज़िम्मे डाल ली थी….

इमरान हर्लें हाउस का जायेज़ा बाहर से लेना चाहता था….ये इमारत शहेर के उस हिस्से में थी जहाँ दौलतमंद तबके के लोग आबाद थे….
और
सारी इमारत एक दूसरे से ख़ासे फ़ासले पर थी….चारों तरफ घूम-फिर कर उसने हर्लें हाउस का जायेज़ा लिया….
और
फिर एक रेस्तरो में आ बैठा….यहीं से उसने एक बार फिर रहमान साहब के नंबर डाइयल किए….दूसरी तरफ से फ़ौरन जवाब मिला….

रहमान साहब ने उसकी आवाज़ पहचान ली….
और
सिर्फ़ इतना कह कर सिलसिला काट दिया….बीच व्यू….हट नंबर 83….!

इमरान ने सर को जुम्बिश दी….
और
रिसीवर रखा कर अपनी मेज़ पर पलट आया….कॉफी ऑर्डर की थी….
और
20 मिनिट बाद बिल अदा कर के उठ गया….!

अब उसकी गाड़ी बीच सी व्यू की तरफ जा रही थी….बेहतरीन साहिल तफरीहगाहो बीच-व्यू) में उसका शुमार होता था….हट किराए पर दिए जाते थे….
और
किसी ना किसी होटेल से ताल्लुक थे….!

83 नंबर का हट गुलबर होटेल के ज़रिए इंतज़ाम था वहीं से उसने फोन नंबर हासिल किया….वहाँ जाने से पहले डॉक्टर शाहिद से फोन पर गुफ्तगू करना चाहता था…..

हेलो….क….का….कौन….? दूसरी तरफ से ख़ौफज़दा सी आवाज़ आई….ये जुमला अँग्रेज़ी में अदा किया गया था….
और
साथ ही ये कोशिश की गयी थी कि लहज़ा खालिस अमरीकी मालूम हो….!

मैं तुम्हारा होने वाला….वाला बोल रहा हूँ….इमरान ने उर्दू में कहा

वला….वला….क्या है….? बेसखती में इस बार उर्दू ही इस्तेमाल की गयी….

साला कहते हुए शर्म महसूस होती है….

अच्छा….अच्छा….समझ गया

नाम मत लेना….मैं पहुँच रहा हूँ….
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 05 Dec 2017 13:35



Aaiye….aaiye….aajaiye….main khatre mein hu….
Shayad
unhone mera suraagh paa liya hai….hut ke chaaron taraf ek aadh aadmi maujood hai….!

Gair mulki (videshi)….?

Ek videshi bhi hai….

Fikr na karo….main zyada dur nahi hu….gulbar se bol raha hu….abhi pahunchta hu….

Hotel se nikal kar Imran paidal hi hut number 83 ki taraf chal pada….gaadi wahin park rahne di….

Hut tak pahunchne mein 3,4 minute se zyada nahi lage….
Lekin
usne hut ka darwaaza khula dekha….
Aur
kareeb hi teen-chaar aadmi khade nazar aye….
Aur
darwaaze ki taraf badha hi tha ke unme se ek aadmi ne unchi awaaz mein kaha….wahan koi nahi hai….!
Main nahi samjha….aap kya kahe rahe hai….? Imran palat kar bola

beemaar ko wo ambulance gaadi mein le gaye….

Koi na koi to hoga….

Jee nahi….wo tanha tha….
Aur
pata nahi kab se beemaar tha….ghaashi taari uspar….shayad mission hospital wale le gaye hai….do angrez bhi the gaadi par….!

Gaadi kidhar gayi hai….?

Hospital hi gayi hogi….

Guftgu ko aage badhana waqt hi barbaad karna tha….Imran fir gulbar ki taraf muda….is baar raasta tai karne mein dedh minute se bhi kam laga….

Gaadi start ki aur main road ki taraf chal pada….
Aur
fir use wo safed gaadi nazar aa gayi jiss par red-cross bana hua tha….thoda dur faasle se uska picha karne laga….
Lekin
wo shaher ki taraf nahi jaa rahi thi….!

Shahid ki guftgu se to yei pata chalta tha ke wo puri tarah hoshiyaar hai zaahir hai ke usne darwaaza bhi band rakha hoga….
Fir
wo is asaani se uspar kaise khaabu paa gaye….!

Khud use itna mauqa nahi mil saka tha ke us hut ka tafseeli jayeza le sakta….
Baherhaal
wo ab un na-maalum aadmiyon ke khabze mein tha….

Beach piche rahe gaya…. Dono gaadiyan viraane ki taraf nikal ayi….ambulance ki raftaar ab kis kadar tez ho gayi….

Imran is waqt seiko mansion ki ek gaadi drive kar raha tha….aam gaadiyon se alag thi….dashboard ke ek button par ungli rakhte hi uske kareeb hi ek chota sa screen roshan ho gaya jiss par ambulance ka pichla hissa dikhayi de raha tha….
Fir
usne ek red button ko gardish deni shuru kar di….
Aur
screen par nazar aane wali gaadi ka ek pahiye (tyre) ka close-up dikhayi dene laga….ahista-ahista pure screen par sirf pahiye ka close-up hi baki rahe gaya….!
Imran ne fir ek button daba diya….
Aur
agli gaadi ka wo pichla pahiya zordar awaaz ke saath fatt gaya….jiss ki tasveer screen par nazar aa rahi thi….!

Ambulance left janib ghumi….
Aur
sadak se utar kar reth mein dhansti chali gayi….!

Imran apni gaadi aage leta chala gaya….raftaar pahle se kahin zyada tez thi kuch dur jaa kar palta….is baar uske right hand mein long range ka silencer laga pistol bhi tha jo us gaadi ke dashboard ke ek khaane mein baramad hua….pistol god mein rakh kar usne gaadi ki raftaar kam ki….
Aur
ambulance se thode faasle par jaa ruka….!

Kya main koi madad kar sakta hu….? Usne unchi awaaz mein un logon se pucha….jo ambulance ke niche jack lagane ki koshish kar rahe the….!

Ek desi tha aur do videshi….

Ek videshi ne seedhe khade ho kar Imran ki gaadi ki taraf dekha….
Aur
ahista-ahista chalta hua kareeb aa khada hua….!

Imran na silencer laga hua pistol uske dil ka nashana le raha tha….

Sab thik hai….Imran ahista se bola

k….ky….kya matlab….tum kaun ho….? Videshi haklaya

beemaar ko ambulance se meri gaadi ki pichli seat par shift kara do….

Wo thook nigal kar rahe gaya….

Mudo….aur do kadam aage badh kar khade ho jao….Imran ne ahista se kaha….tum dekh hi chuke ho ke naal mein silencer laga hua hai….!

Usne chupa-chaap hukm ki taamil ki….

Imran ne gaadi se utarte utarte ambulance ke dusre pahiye (tyre) par bhi fire kiya….
Aur
wo dhaamke ke saath faat gaya….!

Wo dono uchal padhe jo jack laga rahe the….
Aur
fir unhone us taraf dekha unke teesre saathi par kya guzar rahi hai….!

Shareef aadmiyon….Imran ne unchi awaaz mein kaha….tumhara saathi be-awaaz pistol ki nok par hai….barahe karam beemaar ko gaadi se nikaalo….
Aur
meri gaadi ki pichli seat par daal do….!

Wo dono haath uthaye khade rahe….

Jaldi karo….
Varna
ye kaam khud mujhe hi anjaam dena padhega….
Aur
tum teeno mujhe rokne ke liye zinda nahi rahoge….!
Tum kaun ho….? Kareeb khade aadmi ne fir pucha….uski awaaz kaamp rahi thi

khudai faujdar….dhamp naam hai….Imran bola….apne aadmiyon se kaho wahi jo main kahe raha hu….
Varna
khatl kar dena mera dilchasp tareen shauq hai….!

Usne apne aadmiyon se kaha ke wahi kare jo kaha jaa raha hai….!

Gaadi ka pichla darwaaza khol kar unhone strecher nikala….
Aur
use uthate hue Imran ki gaadi tak aye….!

Strecher se utha kar pichli seat par daal do….Imran ne kaha….wo puri tarah hoshiyaar tha….
Aur….shayad….
Un teeno ne bhi mehsoos kar liya tha….
Isliye
chup-chaap hukm ki taamil karte rahe….!

Ab tum dono apne dono haath upar uthaye hue mud kar khade ho jao….Imran ne pichli seat ka darwaaza band karte hue kaha

tum jo koi bhi ho….tumhe pachtana padhega….unme se ek ghurraya….
Lekin
saath hi unhone hukm ki taamil bhi ki….!

Aur….main tumhe aagaah kar raha hu ke….
Agar
24 ghante ke andar-andar doctor ki bahan apne ghar na pahunchi to tum mein ek bhi zinda nahi bachega….ab seedha daudte chale jao….chalo jaldi karo….mud kar dekha….
Aur
maine fire kiya….!

Usse kya faida….? Unme ek bola….humari gaadi bekaar ho chuki hai….hum tumhara picha to kar sakte nahi….!

Chalo….Imran ne cheekh kar kaha….
Aur
unhone daud laga di….!

Chalte jao….daudte jao….kadam na rukne paaye….kahe kar Imran gaadi mein baitha….aur….engine start kar ke accelerator par dabau daala….
Aur
gaadi jhapat kar aage badh gayi….!

Dr shahid pichli seat par behosh pada tha….beach ke kareeb pahunchte hi Imran ne fir dashboard ka button dabaya….
Aur
gaadi ki number plate badal gayi….!
Hosh aate hi dr shahid uchal pada….
Aur
hairaan-hairaan aankhon se chaaron taraf dekhta hua bistar se bhi utar aya….
Fir
darwaaze ki taraf jhapta aur uske handle par zor aazmayish karne laga…..
Lekin
darwaaza band tha….thak haar kar dobara bistar par aa baitha….uski aankhon mein shadeed tareen uljhan ke asaar the….
Achhanak
utha aur darwaaza peet-peet kar cheekhne laga….arey main kahan hu….koi yahan hai….? Darwaaza kholo….!

Piche hat jao….bahar se ghurrayi hui si awaaz ayi

usne khamoshi se taamil ki….khufal mein kunji (key) ghumaane ki awaaz ayi
aur
darwaaza khul gaya….

Saamne ek khatarnaak aadmi khada dikhayi diya….
Aur
shahid aur do kadam piche hat gaya
आइए….आइए….आजाईए….मैं ख़तरे में हूँ….
शायद
उन्होने मेरा सुराग पा लिया है….हट के चारों तरफ एक आध आदमी मौजूद है….!

गैर मुल्की (विदेशी)….?

एक विदेशी भी है….

फ़िक्र ना करो….मैं ज़्यादा दूर नही हूँ….गुलबर से बोल रहा हूँ….अभी पहुँचता हूँ….

होटेल से निकल कर इमरान पैदल ही हट नंबर 83 की तरफ चल पड़ा….गाड़ी वहीं पार्क रहने दी….

हट तक पहुँचने में 3,4 मिनिट से ज़्यादा नही लगे….
लेकिन
उसने हट का दरवाज़ा खुला देखा….
और
करीब ही तीन-चार आदमी खड़े नज़र आए….
और
दरवाज़े की तरफ बढ़ा ही था कि उनमे से एक आदमी ने उँची आवाज़ में कहा….वहाँ कोई नही है….!

मैं नही समझा….आप क्या कहे रहे है….? इमरान पलट कर बोला

बीमार को वो आंब्युलेन्स गाड़ी में ले गये….

कोई ना कोई तो होगा….

जी नही….वो तन्हा था….
और
पता नही कब से बीमार था….घाशी तारि उसपर….शायद मिशन हॉस्पिटल वाले ले गये है….दो अँग्रेज़ भी थे गाड़ी पर….!

गाड़ी किधर गयी है….?

हॉस्पिटल ही गयी होगी….

गुफ्तगू को आगे बढ़ाना वक़्त ही बर्बाद करना था….इमरान फिर गुलबर की तरफ मुड़ा….इस बार रास्ता तय करने में डेढ़ मिनिट से भी कम लगा….

गाड़ी स्टार्ट की और मेन रोड की तरफ चल पड़ा….
और
फिर उसे वो सफेद गाड़ी नज़र आ गयी जिस पर रेड-क्रॉस बना हुआ था….थोड़ा दूर फ़ासले से उसका पीछा करने लगा….
लेकिन वो शहर की तरफ नही जा रही थी….!

शाहिद की गुफ्तगू से तो यही पता चलता था कि वो पूरी तरह होशियार है ज़ाहिर है कि उसने दरवाज़ा भी बंद रखा होगा….
फिर
वो इस आसानी से उसपर कैसे खाबू पा गये….!

खुद उसे इतना मौक़ा नही मिल सका था कि उस हट का तफ़सीलि जायेज़ा ले सकता….
बहेरहाल
वो अब उन ना-मालूम आदमियों के कब्ज़े में था….

बीच पीछे रह गया…. दोनो गाड़ियाँ वीराने की तरफ निकल आई….आंब्युलेन्स की रफ़्तार अब किस कदर तेज़ हो गयी….

इमरान इस वक़्त सेइको मॅन्षन की एक गाड़ी ड्राइव कर रहा था….आम गाड़ियों से अलग थी….डॅशबोर्ड के एक बटन पर उंगली रखते ही उसके करीब ही एक छोटा सा स्क्रीन रोशन हो गया जिस पर आंब्युलेन्स का पिछला हिस्सा दिखाई दे रहा था….
फिर उसने एक रेड बटन को गर्दिश देनी शुरू कर दी….
और
स्क्रीन पर नज़र आने वाली गाड़ी के एक पहिए (टाइयर) का क्लोज़-अप दिखाई देने लगा….आहिस्ता-आहिस्ता पूरे स्क्रीन पर सिर्फ़ पहिए का क्लोज़-अप ही बाकी रह गया….!
इमरान ने फिर एक बटन दबा दिया….
और
अगली गाड़ी का वो पिछला पहिया ज़ोरदार आवाज़ के साथ फट गया….जिस की तस्वीर स्क्रीन पर नज़र आ रही थी….!

आंब्युलेन्स लेफ्ट जानिब घूमी….
और
सड़क से उतर कर रेत में धँसती चली गयी….!

इमरान अपनी गाड़ी आगे लेता चला गया….रफ़्तार पहले से कहीं ज़्यादा तेज़ थी कुछ दूर जा कर पलटा….इस बार उसके राइट हॅंड में लोंग रेंज का साइलेनसर लगा पिस्टल भी था जो उस गाड़ी के डॅशबोर्ड के एक खाने में बरामद हुआ….पिस्टल गोद में रख कर उसने गाड़ी की रफ़्तार कम की….
और
आंब्युलेन्स से थोड़े फ़ासले पर जा रुका….!

क्या मैं कोई मदद कर सकता हूँ….? उसने उँची आवाज़ में उन लोगों से पूछा….जो आंब्युलेन्स के नीचे जॅक लगाने की कोशिश कर रहे थे….!

एक देसी था और दो विदेशी….

एक विदेशी ने सीधे खड़े हो कर इमरान की गाड़ी की तरफ देखा….
और
आहिस्ता-आहिस्ता चलता हुआ करीब आ खड़ा हुआ….!

इमरान ने साइलेनसर लगा हुआ पिस्टल से उसके दिल का निशाना ले रखा था….

सब ठीक है….इमरान आहिस्ता से बोला

क….क्य….क्या मतलब….तुम कौन हो….? विदेशी हकलाया

बीमार को आंब्युलेन्स से मेरी गाड़ी की पिछली सीट पर शिफ्ट करा दो….

वो थूक निगल कर रह गया….

मुड़ो….और दो कदम आगे बढ़ कर खड़े हो जाओ….इमरान ने आहिस्ता से कहा….तुम देख ही चुके हो कि नाल में साइलेनसर लगा हुआ है….!

उसने चुप-चाप हुक्म की तामील की….

इमरान ने गाड़ी से उतरते उतरते आंब्युलेन्स के दूसरे पहिए (टाइयर) पर भी फाइयर किया….
और
वो धमाके के साथ फॅट गया….!

वो दोनो उछल पड़े जो जॅक लगा रहे थे….
और
फिर उन्होने उस तरफ देखा उनके तीसरे साथी पर क्या गुज़र रही है….!

शरीफ आदमियों….इमरान ने उँची आवाज़ में कहा….तुम्हारा साथी बे-आवाज़ पिस्टल की नोक पर है….बारहे करम बीमार को गाड़ी से निकालो….
और मेरी गाड़ी की पिछली सीट पर डाल दो….!

वो दोनो हाथ उठाए खड़े रहे….

जल्दी करो….
वरना
ये काम खुद मुझे ही अंजाम देना पढ़ेगा….
और
तुम तीनो मुझे रोकने के लिए ज़िंदा नही रहोगे….!

तुम कौन हो….? करीब खड़े आदमी ने फिर पूछा….उसकी आवाज़ काँप रही थी

खुदाई फ़ौजदार….ढांप नाम है….इमरान बोला….अपने आदमियों से कहो वही जो मैं कह रहा हूँ….
वरना
कत्ल कर देना मेरा दिलचस्प तरीन शौक़ है….!

उसने अपने आदमियों से कहा कि वही करे जो कहा जा रहा है….!

गाड़ी का पिछला दरवाज़ा खोल कर उन्होने स्ट्रेचएर निकाला….
और उसे उठाते हुए इमरान की गाड़ी तक आए….!

स्ट्रेचएर से उठा कर पिछली सीट पर डाल दो….इमरान ने कहा….वो पूरी तरह होशियार था….
और….शायद…. उन तीनो ने भी महसूस कर लिया था….
इसलिए
चुप-चाप हुक्म की तामील करते रहे….!

अब तुम दोनो अपने दोनो हाथ उपर उठाए हुए मूड़ कर खड़े हो जाओ….इमरान ने पिछली सीट का दरवाज़ा बंद करते हुए कहा

तुम जो कोई भी हो….तुम्हे पछताना पड़ेगा….उनमे से एक घुर्राया….
लेकिन
साथ ही उन्होने हुक्म की तामील भी की….!

और….मैं तुम्हे आगाह कर रहा हूँ कि….
अगर
24 घंटे के अंदर-अंदर डॉक्टर की बहन अपने घर ना पहुँची तो तुम में एक भी ज़िंदा नही बचेगा….अब सीधा दौड़ते चले जाओ….चलो जल्दी करो….मूड़ कर देखा….
और
मैने फाइयर किया….!

उससे क्या फ़ायदा….? उनमे एक बोला….हमारी गाड़ी बेकार हो चुकी है….हम तुम्हारा पीछा तो कर सकते नही….!

चलो….इमरान ने चीख कर कहा….
और
उन्होने दौड़ लगा दी….!

चलते जाओ….दौड़ते जाओ….कदम ना रुकने पाए….कहे कर इमरान गाड़ी में बैठा….और….एंजिन स्टार्ट कर के आक्सेलरेटर पर दबाव डाला….
और गाड़ी झपट कर आगे बढ़ गयी….!

डॉक्टर शाहिद पिछली सीट पर बेहोश पड़ा था….बीच के करीब पहुँचते ही इमरान ने फिर डॅशबोर्ड का बटन दबाया….
और गाड़ी की नंबर प्लेट बदल गयी….!

होश आते ही डॉक्टर शाहिद उछल पड़ा….
और हैरान-हैरान आँखों से चारों तरफ देखता हुआ बिस्तर से भी उतर आया….
फिर
दरवाज़े की तरफ झपटा और उसके हॅंडल पर ज़ोर आज़माइश करने लगा…..
लेकिन
दरवाज़ा बंद था….थक हार कर दोबारा बिस्तर पर आ बैठा….उसकी आँखों में शदीद तरीन उलझन के आसार थे….
अचानक उठा और दरवाज़ा पीट-पीट कर चीखने लगा….अरे मैं कहाँ हूँ….कोई यहाँ है….? दरवाज़ा खोलो….!

पीछे हट जाओ….बाहर से गुर्राति हुई सी आवाज़ आई

उसने खामोशी से तामील की….खुफाल में कुंजी (के) घुमाने की आवाज़ आई
और
दरवाज़ा खुल गया….

सामने एक ख़तरनाक आदमी खड़ा दिखाई दिया….
और
शाहिद और दो कदम पीछे हट गया
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 05 Dec 2017 13:40

aane wale ne darwaaza band kar ke dobara andar se lock kar diya….shahid use khaufzada nazron se dekhe jaa raha tha….!

Khatarnaak aadmi use ghurta raha….

M….ma….main kaun hu….? Shahid haklaya

kya matlab….khatarnaak aadmi ghurraya

haa….haa….batao….main kaun hu….?

Rani victoria ke alawa aur koi bhi ho sakte ho….!

Khuda ke liye mera mazaaq na udhao….mujhe batao ke main kaun hu….
Aur
mera naam kya hai….pata nahi kab se puchta fir raha hu….koi batata hi nahi….!

Nahi chalegi….ajnabi sar hila kar bola

kya nahi chalegi….?

Yahi jo tum chalana chahte ho….tumhari yaadasht par koi asar nahi pada

yaadasht….? Shahid is tarah bola jaise khwaab mein bol raha ho

baith jao….ajnabi bistar ki taraf ishara kar ke bola….main abhi tumhari yaadasht wapas launga

main tumhara shukr guzaar rahunga….
Agar
aisa kar sako….!

Tumhe istifa wapas lena padhega….ajnabi ne use ghurte hue kaha

kaisa istifa….? Yaqeen karo main kuch nahi jaanta

kya tum dr shahid nahi ho….?

Mere liye ye naam bilkul naya hai….shahid kuch sochta hua badhbadhaya

to fir dr malaiqa tumhari bahan bhi nahi hogi….?

Main kya janu wo kaun hai….

Jo koi bhi hai badi takleef mein hai….

Shahid ki aankhon mein pal bhar ke liye khauf ki jhalkiyan nazar ayi….
Aur fir
gaayab ho gayi….
Fir
usne thook nigal kar kaha….tum jo koi bhi ho khuda ke liye mujhe bata do ke main kaun hu….?

Mr.rahman ke hone wale damaad….

Aur tum kaun ho….?

Dhamp…."aadha teetar" wala….!

"aadha teetar"….shahid bekhasta uchal pada
Aur tumhe wahi karna padhega jo tum se kaha jaa raha hai….tum achhi tarah jaante ho….!

Main kuch nahi jaanta….yaqeen karo

kya tum ise pasand karoge ke malaiqa ko tumhare saamne hi koi nukhsaan pahuncha diya jaye

mere khuda….main kya karu

wahi jo kaha jaa raha hai….

Kya kaha jaa raha hai….?

Tum achhi tarah jaante ho….

Main kuch nahi jaanta….yaqeen karo
wo saamne phone rakha hua hai….health department ke secretary ko bata do ke tum apna istifa wapis lena chahte ho

main use nahi jaanta….arey main yei nahi jaanta ke main kaun hu….

Ek shakhs ne tumhe rihaayi dilaane ki koshish ki thi humne use bhi pakad liya hai….!

Mujhe rihaayi dilane ki koshish ki thi….to kya maine kisi jail se faraar hone ki koshish ki thi….?

Main abhi use bijhwata hu….
Shayad
tumhari yaadasht wapas aa jaye use dekh kar….ajnabi ne darwaaze ki taraf badhte hue kaha….shahid bhi utha
tum wahin baithe raho….
Varna
goli maar dunga….ajnabi mud kar bola

fir wo chala gaya….shahid dam saadhe baitha band darwaaze ko ajeeb nazron se dekhta raha….
Aur
uski aankhon mein bebasi ke asaar the….!

Thodi der baad Imran boukhlaya hua andar daakhil hua….shahid uth gaya

mujhe afsos hai doctor….usne kaha….

K….ky….kya tum mujhe jaante ho….?

Kya baat hui….? Imran ne hairat se kaha

agar jaante ho to batao main kaun hu….?

Arey tum dr shahid ho….meri bahan suraiya se tumhari shaadi hone wali hai….!
Kaash….maine ye naam pahle bhi kabhi suna hota….!

Bahut achha….Imran has pada

meri samajh mein kuch nahi aata….shahid apni paishani masalte hue bola

yaar….badi achhi adaakaari kar rahe ho….Imran aage badh kar bola….thik hai….isi tarah tum bach sakte ho

pata nahi tum log kya kahe rahe ho….?

Main tumhari tarah kaidi hu….

Kiss ke kaidi….? Kyun kaidi ho….?

Main tumhe un logon se cheen lena chahta tha….
Lekin
khud bhi pakda gaya….!

Kin logon se cheen lena chahte the….? Mujhe to kuch bhi yaad nahi aa raha….

Tum kohe-kaaf ke shahzade ho….neelam pari ke ek laute bete….Imran left aankh daba kar muskuraya

kuch bhi yaad nahi aata….

Chitakbar dev ki khaala se tumhara jhagdha ho gaya tha….

Fir….kya hua tha….? Jaldi se meri uljhan rafa kar do….

Chitakbar dev ne ek jhaapad raseed kar diya tha….
Aur
tum apni yaadasht kho baithe….

Dr shahid kisi soch mein padh gaya….!

Thodi der baad Imran ne pucha….kuch yaad aya….?

Shahid ne mayusana andaaz mein sar ko na mein hilaya

nahi yaad ayega to tumhe guleba sunghaya jaye….

Kuch karo….khuda ke liye kuch karo….!

Aise halaath mein sabr ke alawa aur kuch nahi kar sakta dr shahid….!

Wo bhi yahi kahe raha tha ke dr shahid hu….

Bakwaas kar raha tha….tum to made of zareena begum ho….

Mera mazaaq na udhao….dr shahid halakh ke bal cheekha

Imran khamosh ho gaya….soch raha tha ke is baar usse sach-mooch himaakhat hi sarzad hui hai….dhamp ke roop mein uske saamne nahi aana chahiye tha….
Waise
maqsad yahi tha ke shayad wo Imran ki haisiyath mein kuch na kuch maalum kar sake….
Agar
asliyath zaahir karni hoti to wo rahman sahab hi se karta….
Aur
baat is had tak na badhti….

Isse pahle bhi wo isi technic ke zariye kornila se sachchi baat ugalwa chuka tha….shahid ke maamle mein bhi yahi technic apnayi….
Lekin
yahan use mayusi hui….
Albatta
aadhe teetar ke hawaale par uski pratikriya aasha janak thi….wo shahid ko gour se dekhta hua ek taraf badh gaya….!
Kornila ko Imran ki talaash thi….khattai apne taur par kisi ne use aisa karne ko nahi kaha tha….wo thane uska pata haasil kar ke flat tak jaa pahunchi….yahan joseph se muth-bhed hui….wo use hairat se dekhne lagi….
Kyun ke
wo is waqt fauji wardi mein tha
aur
dono taraf ke hostler mein revolver ke daste saaf nazar aa rahe the….!

M….ma….main mr.Imran ko talaash kar rahi hu….kornila haklayi

kyun….? Joseph surkh-surkh aankhein nikaal kar bola

wo mere humdard hai….dost hai….

Hum nahi jaante wo kahan honge….

Tum kaun ho….?

Main unka bodyguard hu….!

Tab to tumhe unke saath hona chahiye tha….

Na jane kyun joseph khilaaf maamul muskura diya….

Tum ne meri baat ka jawaab nahi diya….?

Shaukh hai bodyguard rakhne ka….
Varna
wo itne masoom aur bezarar aadmi hai ki unhe bodyguard rakhne ki zaroorat hi nahi….!

Is par mujhe bhi hairat hui….

Kiss baat par miss….? Joseph use gour se dekhta hua bola

isi par ke us bhole aadmi ne itna khufnaak bodyguard kyun rakh chhoda hai….

Is par to khud mujhe bhi hairat hai miss….aaj tak in dono revolveron se ek goli bhi nahi chali….
Aur
mera mizaaj bhi kisi kadar shayarana ho gaya hai….!

Kya tum kabhi heavy-weight champion bhi rahe ho….?

Mere jaanne walon ka yahi khayal hai….
Darasal
boss ko bhi boxing ka shaukh hai….!

Achha….achha….main samajh gayi….kya ab bhi ladhte ho….?

Sirf boss se….

Wo….yani….ke wo….!

Haa….jab bhi mere sitaare gardish mein aate hai….mujhe dastane pahenne hi padhte hai….

Tumhare sitaare gardish mein aate hai….? Kornila ne hairat se kaha

haa miss….ek fight ke baad 3 din tak apne chehre ki seenkhayi karta rehta hu….

Imran ke mukhable par….

Haa miss….lekin….aaj tak mera ek mukka bhi unke chehre par nahi padh saka….

Tum lehaaz kar jaate hoge….?

Nahi miss….aisi koi baat nahi hai….khuda gawaah hai jo aakhirath mein mujh par puri tarah haavi hoga….

Yaqeen nahi aata….

Joseph kuch na bola….

Kornila khamosh baithi rahi….!
Suleman is waqt flat mein maujood nahi tha….

Thodi der baad joseph bola….tum apna card chhod jao miss….wo jab ayenge unhe bata dunga….!

Main intezar kyun na kar lu….?

Agle hafte tak….

Kya matlab….?

3 din se to maine unki shakl nahi dekhi….

Aha….to kya kahi aur bhi thikaana hai….?

Is flat se aage ki baat main nahi jaanta….

Achhi baat hai….to tum mera card rakhlo….wo apna card de kar chali gayi….!

Joseph ne uske jaate hi Imran ke bataye hue number phone number dial kiya….

Kya khabar hai….? Dusri taraf se Imran ki awaaz ayi….

Ek videshi ladki tumhari talaash mein hai boss….kornila naam hai….!

Kya flat mein ayi thi….?

Haa….boss….apna card de gayi hai….

Aas-paas ki position batao….

Nigrani kar rahe hai wo log….dutiyan badalti rahti hai….desi aadmi hai kisi videshi ko maine abhi tak nahi dekha….suleman nahi maanta wo fir chala gaya hai….naashte ke baad abhi tak gaayab hai….!

Ye usne achha nahi kiya….wo log meri talaash mein hai….
Aur
buri tarah paagal ho rahe hai….!

Kahe raha tha meri mohabbat khatre mein hai….

Main samajh gaya….khair dekha jayega….Imran ki awaaz ayi aur silsila cut ho gaya

joseph reciever rakh kar bolcony par aa nikla….
Aur
kankhaniyon se us mokhaam ka jayeza lene laga jahan uski samajh mein nigrani karne wale maujood the…..
Fir
wo shayad sixth-sense hi thi jiss ki bina par wo uchal kar piche hat gaya….
Aur
uski baayi (left) jaanib wali deewar ka plaster udhad gaya….be-awaaz fire usi taraf se hua tha jidhar kankhaniyon se dekhta jaa raha tha….!
Wo chup-chaap kamre mein chal aya….
Lekin
uski aankhein khuafnaak lagne lagi thi….chandh lamhe khada kuch sochta raha….fir….
Phone ki taraf badha….Imran ke number dail kiya….
Aur
dusri taraf se jawaab milne par ghurraya….paani sar se uncha ho gaya hai boss….ab mujhe flat se nikalne ki ijazath do….!



आने वाले ने दरवाज़ा बंद कर के दोबारा अंदर से लॉक कर दिया….शाहिद उसे ख़ौफज़दा नज़रों से देखे जा रहा था….!

ख़तरनाक आदमी उसे घूरता रहा….

म….मा….मैं कौन हूँ….? शाहिद हकलाया

क्या मतलब….ख़तरनाक आदमी घुर्राया

हाँ….हाँ….बताओ….मैं कौन हूँ….?

रानी विक्टोरीया के अलावा और कोई भी हो सकते हो….!

खुदा के लिए मेरा मज़ाक़ ना उड़ाओ….मुझे बताओ के मैं कौन हूँ….
और
मेरा नाम क्या है….पता नही कब से पूछता फिर रहा हूँ….कोई बताता ही नही….!

नही चलेगी….अजनबी सर हिला कर बोला

क्या नही चलेगी….?

यही जो तुम चलाना चाहते हो….तुम्हारी यादश्त पर कोई असर नही पड़ा

यादश्त….? शाहिद इस तरह बोला जैसे ख्वाब में बोल रहा हो

बैठ जाओ….अजनबी बिस्तर की तरफ इशारा कर के बोला….मैं अभी तुम्हारी यादश्त वापस लाउन्गा

मैं तुम्हारा शुक्र गुज़ार रहूँगा….
अगर ऐसा कर सको….!

तुम्हे इस्तीफ़ा वापस लेना पड़ेगा….अजनबी ने उसे घूरते हुए कहा

कैसा इस्तीफ़ा….? यक़ीन करो मैं कुछ नही जानता

क्या तुम डॉक्टर शाहिद नही हो….?

मेरे लिए ये नाम बिल्कुल नया है….शाहिद कुछ सोचता हुआ बड़बड़ाया

तो फिर डॉक्टर मलइक़ा तुम्हारी बहन भी नही होगी….?

मैं क्या जानू वो कौन है….

जो कोई भी है बड़ी तकलीफ़ में है….

शाहिद की आँखों में पल भर के लिए ख़ौफ़ की झलकियाँ नज़र आई….
और फिर
गायब हो गयी….
फिर
उसने थूक निगल कर कहा….तुम जो कोई भी हो खुदा के लिए मुझे बता दो कि मैं कौन हूँ….?

मिस्टर.रहमान के होने वाले दामाद….

और तुम कौन हो….?

ढांप…."आधा तीतर" वाला….!

"आधा तीतर"….शाहिद बेखास्ता उछल पड़ा
और तुम्हे वही करना पड़ेगा जो तुम से कहा जा रहा है….तुम अच्छी तरह जानते हो….!

मैं कुछ नही जानता….यक़ीन करो

क्या तुम इसे पसंद करोगे कि मलइक़ा को तुम्हारे सामने ही कोई नुकसान पहुँचा दिया जाए

मेरे खुदा….मैं क्या करूँ

वही जो कहा जा रहा है….

क्या कहा जा रहा है….?

तुम अच्छी तरह जानते हो….

मैं कुछ नही जानता….यक़ीन करो
वो सामने फोन रखा हुआ है….हेल्त डिपार्टमेंट के सेक्रेटरी को बता दो कि तुम अपना इस्तीफ़ा वापिस लेना चाहते हो

मैं उसे नही जानता….अरे मैं येई नही जानता कि मैं कौन हूँ….

एक शख्स ने तुम्हे रिहाई दिलाने की कोशिश की थी हम ने उसे भी पकड़ लिया है….!

मुझे रिहाई दिलाने की कोशिश की थी….तो क्या मैने किसी जैल से फरार होने की कोशिश की थी….?

मैं अभी उसे बिझवाता हूँ….
शायद तुम्हारी यादश्त वापस आ जाए उसे देख कर….अजनबी ने दरवाज़े की तरफ बढ़ते हुए कहा….शाहिद भी उठा
तुम वहीं बैठे रहो….
वरना गोली मार दूँगा….अजनबी मूड कर बोला

फिर वो चला गया….शाहिद दम साधे बैठा बंद दरवाज़े को अजीब नज़रों से देखता रहा….
और
उसकी आँखों में बेबसी के आसार थे….!

थोड़ी देर बाद इमरान बौखलाया हुआ अंदर दाखिल हुआ….शाहिद उठ गया

मुझे अफ़सोस है डॉक्टर….उसने कहा….

क….क्य….क्या तुम मुझे जानते हो….?

क्या बात हुई….? इमरान ने हैरत से कहा

अगर जानते हो तो बताओ मैं कौन हूँ….?

अरे तुम डॉक्टर शाहिद हो….मेरी बहन सुरैया से तुम्हारी शादी होने वाली है….!
काश….मैने ये नाम पहले भी कभी सुना होता….!

बहुत अच्छा….इमरान हंस पड़ा

मेरी समझ में कुछ नही आता….शाहिद अपनी पैशानि मसल्ते हुए बोला

यार….बड़ी अच्छी अदाकारी कर रहे हो….इमरान आगे बढ़ कर बोला….ठीक है….इसी तरह तुम बच सकते हो

पता नही तुम लोग क्या कहे रहे हो….?

मैं तुम्हारी तरह कैदी हूँ….

किस के कैदी….? क्यूँ कैदी हो….?

मैं तुम्हे उन लोगों से छीन लेना चाहता था….
लेकिन
खुद भी पकड़ा गया….!

किन लोगों से छीन लेना चाहते थे….? मुझे तो कुछ भी याद नही आ रहा….

तुम कोहे-काफ के शहज़ादे हो….नीलम परी के एक लौते बेटे….इमरान लेफ्ट आँख दबा कर मुस्कुराया

कुछ भी याद नही आता….

चितकबार देव की खाला से तुम्हारा झगड़ा हो गया था….

फिर….क्या हुआ था….? जल्दी से मेरी उलझन रफ़ा कर दो….

चितकबार देव ने एक झापड़ रसीद कर दिया था….
और
तुम अपनी यादश्त खो बैठे….

डॉक्टर शाहिद किसी सोंच में पड़ गया….!

थोड़ी देर बाद इमरान ने पूछा….कुछ याद आया….?

शाहिद ने मायूसाना अंदाज़ में सर को ना में हिलाया

नही याद आएगा तो तुम्हे गुलेबा सूँघाया जाए….

कुछ करो….खुदा के लिए कुछ करो….!

ऐसे हालात में सब्र के अलावा और कुछ नही कर सकता डॉक्टर शाहिद….!

वो भी यही कह रहा था कि डॉक्टर शाहिद हूँ….

बकवास कर रहा था….तुम तो मेड ऑफ ज़रीना बेगम हो….

मेरा मज़ाक़ ना उड़ाओ….डॉक्टर शाहिद हलक के बल चीखा

इमरान खामोश हो गया….सोंच रहा था कि इस बार उससे सच-मूच हिमाकत ही सर्ज़ाद हुई है….ढांप के रूप में उसके सामने नही आना चाहिए था….
वैसे
मक़सद यही था कि शायद वो इमरान की हैसियत में कुछ ना कुछ मालूम कर सके….
अगर
असलियत ज़ाहिर करनी होती तो वो रहमान साहब ही से करता….
और
बात इस हद तक ना बढ़ती….

इससे पहले भी वो इसी टेक्निक के ज़रिए कॉर्निला से सच्ची बात उगलवा चुका था….शाहिद के मामले में भी यही टेक्निक अपनाई….
लेकिन
यहाँ उसे मायूसी हुई….
अलबत्ता
आधे तीतर के हवाले पर उसकी प्रतिक्रिया आशा जनक थी….वो शाहिद को गौर से देखता हुआ एक तरफ बढ़ गया….!

कॉर्निला को इमरान की तलाश थी….कतई अपने तौर पर किसी ने उसे ऐसा करने को नही कहा था….वो थाने उसका पता हासिल कर के फ्लॅट तक जा पहुँची….यहाँ जोसेफ से मूठ-भेड़ हुई….वो उसे हैरत से देखने लगी….
क्यूँ कि
वो इस वक़्त फ़ौजी वर्दी में था
और
दोनो तरफ के होलेस्टर में रिवॉल्वार के दस्ते सॉफ नज़र आ रहे थे….!

म….मा….मैं मिस्टर.इमरान को तलाश कर रही हूँ….कॉर्निला हक्लाई

क्यूँ….? जोसेफ सुर्ख-सुर्ख आँखें निकाल कर बोला

वो मेरे हमदर्द है….दोस्त है….

हम नही जानते वो कहाँ होंगे….

तुम कौन हो….?

मैं उनका बॉडीगार्ड हूँ….!

तब तो तुम्हे उनके साथ होना चाहिए था….

ना जाने क्यूँ जोसेफ खिलाफ मामूल मुस्कुरा दिया….

तुम ने मेरी बात का जवाब नही दिया….?

शौक है बॉडीगार्ड रखने का….
वरना
वो इतने मासूम और बेज़रर आदमी है कि उन्हे बॉडीगार्ड रखने की ज़रूरत ही नही….!

इस पर मुझे भी हैरत हुई….

किस बात पर मिस….? जोसेफ उसे गौर से देखता हुआ बोला

इसी पर कि उस भोले आदमी ने इतना खौफनाक बॉडीगार्ड क्यूँ रख छोड़ा है….

इस पर तो खुद मुझे भी हैरत है मिस….आज तक इन दोनो रिवाल्वरों से एक गोली भी नही चली….
और मेरा मिज़ाज भी किसी कदर शायराना हो गया है….!

क्या तुम कभी हेवी-वेट चॅंपियन भी रहे हो….?

मेरे जानने वालों का यही ख़याल है….
दरअसल
बॉस को भी बॉक्सिंग का शौक है….!

अच्छा….अच्छा….मैं समझ गयी….क्या अब भी लड़ते हो….?

सिर्फ़ बॉस से….

वो….यानी….के वो….!

हाँ….जब भी मेरे सितारे गर्दिश में आते है….मुझे दस्ताने पहेन्ने ही पड़ते है….

तुम्हारे सितारे गर्दिश में आते है….? कॉर्निला ने हैरत से कहा

हाँ मिस….एक फाइट के बाद 3 दिन तक अपने चेहरे की सिकाई करता रहता हूँ….

इमरान के मुकावले पर….

हाँ मिस….लेकिन….आज तक मेरा एक मुक्का भी उनके चेहरे पर नही पड़ सका….

तुम लिहाज कर जाते होगे….?

नही मिस….ऐसी कोई बात नही है….खुदा गवाह है जो आख़िरथ में मुझ पर पूरी तरह हावी होगा….

यक़ीन नही आता….

जोसेफ कुछ ना बोला….

कॉर्निला खामोश बैठी रही….!
सुलेमान इस वक़्त फ्लॅट में मौजूद नही था….

थोड़ी देर बाद जोसेफ बोला….तुम अपना कार्ड छोड़ जाओ मिस….वो जब आएँगे उन्हे बता दूँगा….!

मैं इंतेज़ार क्यूँ ना कर लूँ….?

अगले हफ्ते तक….

क्या मतलब….?

3 दिन से तो मैने उनकी शक्ल नही देखी….

आहा….तो क्या कहीं और भी ठिकाना है….?

इस फ्लॅट से आगे की बात मैं नही जानता….

अच्छी बात है….तो तुम मेरा कार्ड रखलो….वो अपना कार्ड दे कर चली गयी….!

जोसेफ ने उसके जाते ही इमरान के बताए हुए नंबर फोन नंबर डाइयल किया….

क्या खबर है….? दूसरी तरफ से इमरान की आवाज़ आई….

एक विदेशी लड़की तुम्हारी तलाश में है बॉस….कॉर्निला नाम है….!

क्या फ्लॅट में आई थी….?

हाँ….बॉस….अपना कार्ड दे गयी है….

आस-पास की पोज़िशन बताओ….

निगरानी कर रहे है वो लोग….ड्यूटी बदलती रहती है….देसी आदमी है किसी विदेशी को मैने अभी तक नही देखा….सुलेमान नही मानता वो फिर चला गया है….नाश्ते के बाद अभी तक गायब है….!

ये उसने अच्छा नही किया….वो लोग मेरी तलाश में है….
और
बुरी तरह पागल हो रहे है….!

कह रहा था मेरी मोहब्बत ख़तरे में है….

मैं समझ गया….खैर देखा जाएगा….इमरान की आवाज़ आई और सिलसिला कट हो गया

जोसेफ रिसेवर रख कर बोलकोनी पर आ निकला….
और
कंखनियों से उस मुकाम का जायेज़ा लेने लगा जहाँ उसकी समझ में निगरानी करने वाले मौजूद थे…..
फिर
वो शायद सिक्स्त-सेन्स ही थी जिस की बिना पर वो उछल कर पीछे हट गया….
और
उसकी बाई (लेफ्ट) जानिब वाली दीवार का प्लास्टर उधड गया….बे-आवाज़ फाइयर उसी तरफ से हुआ था जिधर कंखनियों से देखता जा रहा था….!
वो चुप-चाप कमरे में चला आया….
लेकिन
उसकी आँखें खौफनाक लगने लगी थी….चन्द लम्हे खड़ा कुछ सोचता रहा….फिर….
फोन की तरफ बढ़ा….इमरान के नंबर डायल किया….
और
दूसरी तरफ से जवाब मिलने पर गुर्राया….पानी सर से उँचा हो गया है बॉस….अब मुझे फ्लॅट से निकलने की इजाज़त दो….!
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 05 Dec 2017 13:40



Kya hua….?

Main bolcony mein khada hua tha ke mujh par be-awaaz fire hua….usi taraf se wo log maujood hai….!

Tum zakhmi to nahi hue….?

Baal-baal bach gaya….

Suleman wapis aya ya nahi….?

Nahi boss….

Tum bolcony mein bhi nahi jaoge….

Ye zulm hai boss….

Bakwaas mat karo….7vi bottle ki ijazath de sakta hu….
Lekin
bahar nikalne ki nahi….!

7vi bottle….joseph khush ho kar bola….kya humesha ke liye boss….?

Nahi jab tak tum par paabandi hai….!

Tumhari marzi boss….joseph murda si awaaz mein bola
aur
dusri taraf se silsila cut hone ki awaaz sun kar receiver rakh diya

suleman ke silsile mein uski chinta badh gayi thi….us be-awaaz fire ka matlab yahi tha ke wo log unme se kisi ko ghar se bahar nikaalna chahte the….Imran na sahi koi sahi jiss par khaabu paa kar wo maalumaat haasil kar sake….
Lekin
unki kam khayali thi….kya joseph ko ilm tha ke Imran kahan hai….mahez phone number the uske paas….
Aur
use yaqeen tha ke phone directory mein wo number nahi mil sakenge….!

Achhanak kisi ne darwaaze par dastak di….
Aur
wo chaunk pada….
Fir
khayal aya ke dastak dene wala suleman ke alawa aur koi nahi ho sakta….darwaaza wahi peethta hai….dusre to call bell ka button dabaya karte hai….!
Usne jhapat kar darwaaza khol diya….suleman hi tha….
Aur
behad khush nazar aa raha tha….daant nikle padhe the….!

Kidhar tha saala….? Joseph ghurraya….boss phone par bhi bola….mat niklo bahar

abe is waqt tu 10 hazaar gaaliyan de tab bhi bardasht kar lunga….!

Achha….kya baat ho gaya….?

Ultha latka hua tha saala aur maar padh rahi thi….

Kiss ka baat karta….?

Khader….kothi par mulazim hai….kuch ghapla kiya saale ne….
Aur
ab kabool kar raha hai….!

Kya kiya tha….?

Bade sahab ke saath 420 si ki thi….

Bade sahab ke saath….joseph ke lahje mein hairat thi

haa….ab to saala band ho jayega ya nikaala jayega….!

Tum saala kaiko khush hota….?

Wo mujhe chahti thi….ye beech mein aa kooda….hai thoda naqshebaaz….main thahera seedha-saada aadmi….!

Tou wo tumhara rival hai….?

Rival kya….?

Wo hota….dusra aadmi….tumhara laundiya ka lover….!

Haa….haa….yahi baat thi….!

Laundiya kya bolta hai….

Usse mulakhaat hi na ho saki….

Tum saala ullu hai….

Kyun….kyun….?

Bas hai….tumhara shaadi nahi banega….!

Abe kyun bakwaas karta hai….

Laundiya bhi tum ko ullu samajhta….

Dekh be….zubaan sambhaal kar….

Ab tum bahar nahi jayega….

Kyun nahi jayega….koi dhons hai teri….?

Boss bola phone par….jayega to marega….
Fir
usne bolcony ke kareeb le jaa kar deewar ka udhda hua plaster dikhaya
aur
wo goli dikhayi jo wahin farsh par padee hui thi….
Achhanak
usi waqt unhone shor suna….niche sadak par bhagdadh mach gayi thi….jidhar jiss ke samajh mein aa raha tha nikla jaa raha tha….
Fir
unhone fire ki awaaz bhi suni….!

Joseph ne piche hat kar darwaaza band kar diya….

Ye kya ho raha hai….suleman use ghoorta hua bola

jiss ne mujh par goli chalaya tha….ab us par chalta….

Tune thik kaha tha….meri shaadi nahi ho sakegi….suleman thandi saans le kar bola

bahadur log ka na shaadi banta….
Aur
na unka naukar log ka….!

Abe jaa….bada bahadur log hai….khwamkhaah dusron ke paddhe mein taang aadhate firte hai….!

Hum nahi samjha….paddhe mein taang aadhata firta kya matbal hota hai….?

Matbal nahi matlab….suleman ne chidaane ke se andaaz mein kaha

wahi….wahi….

Wahi….wahi ke bachche bahar goliyan chal rahi hai

hum kya kare….chalta hai to chale….joseph ne kaha
aur
kamre ki taraf chal pada….
Shayad
uski pyaas jaag uthi thi….
Aur
wo 6vi bottle ki bachhi-kuchi ke saath 7vi ke khayaal mein magan tha….!
Opration room se Imran ki call uske kamre mein direct kar di gayi….wo abhi seiko mansion hi mein tha….

Dusri taraf se safdar ki awaaz sunayi di….abhi-abhi ek ambulance harlem house ke compound mein daakhil hui hai….maine socha shayad uski koi ahmiyath ho aap ki nazron mein….

Ho bhi sakti hai….aur….nahi bhi….Imran bola….kya uska number t.z 2411 hai….?

Nahi….t.z 1120 hai….

Kisi khaas medical institution ka naam hai us par….?

Nahi….sirf red cross bana hua hai us par….

Tum mein se koi uska picha na kare….sirf uski rawaangi ki disha ke baare mein ittilaa dena kaafi hoga….
Agar
wo compound se bahar aye….!

Bahut behtar….

Kya number bataya tha….?

T.z 1120….

Main intezar mein rahunga….

Bahut behtar….

That’s all….Imran ne kaha aur call disconnect kar diya

reciever rakha hi tha ke fir ghanti baji….is baar joseph ki awaaz ayi

sabse pahle 7vi bottle ka shukriya boss….uske baad ye khabar hai ke flat ke bahar firing hui thi….padosiyon ne bataya ke do zakhmi aadmi ek car mein baith kar faraar ho gaye hai koi nahi jaanta ke unpar kiss ne fire kiye the

7vi bottle ne….? Imran sar hila kar bola

yaqeen karo boss 7vi bottle ke sirf do ghunt ne mujhe is had tak pur sakoon kar diya tha ke maine bolcony mein jhaankna bhi gawaara nahi kiya….
Aur
teesri khabar….ye hai ke suleman ki mohabbat jeet gayi….wo kothi par gaya tha wahan usne apne raqeeb ko ultha dekha tha….!

To usne bhi ibrath pakad li hogi….

Nahi boss….wo bahut khush hai….
Aur
chauti khabar….ye hai ke jab aas-paas goliyan chal rahi ho to mujhe apni parda nasheeni khulne lagti hai….!

Parda nasheeni behtar hai kafan poshi se….Imran ne kaha aur silsila kaat diya….fir….
30 sec baad hi safdar ki call ayi….!
Ambulance porch mein khadi hai….
Aur
ek strecher andar se laya gaya hai….koi us par leta hua hai….sar se pair tak kambal se dhaka hua hai….!

Picha hargiz na karna….Imran bola….jane do….!

Ho sakta hai wo lady doctor ho….

Uske bawajood bhi wo karo jo main kahu….ye jaal bhi ho sakta hai….
Shayad
wo andaaza karna chahte hai ke harlem house nigrani mein hai ya nahi….is wajuhaath (kaarnon) mein….!

Jaisi aap ki marzi….

Lekin….rawaangi ki disha se aagaah karna….

Bahut behtar….aa….wo….zara...thaheriye….hold ki jiye….

Awaaz aani band ho gayi….Imran reciever kaan se lagaye raha

safdar ki awaaz fir ayi….hello

sun raha hu….

Chauhan ittilaa de raha hai ke ambulance compound se nikal kar 11vi shahra par west ki jaanib mud gayi hai….

Thik hai….tanveer tum logon ki jagah lene ke liye aadhe ghante baad pahunch jayega….ab ek hi aadmi kaafi hoga….tum teeno aaram kar sakte ho….that’s all
receiver rakh kar wo ahista se badhbadhaya….11vi sadak west ki jaanib….khoob to fir shayad idhar hi jayenge….!

Ambulance ki agli gaadi par do afraad the….
Aur
dono hi safed faam videshi the….unme se ek drive kar raha tha

gaadi ke piche dur tak sadak sunsaan aur veeran thi….drive karne wale ne rear mirror par nazar daalte hue kaha….koi bhi nahi hai….shaher se yahan tak koi aisi gaadi nazar nahi ayi jiss par picha karne ka shak kiya jaa sakta hai….!

Chief bachchon ki si harkatein kar raha hai….dusra bola

andar strecher par kaun hai….?

Main nahi jaanta….zaroori nahi ke koi aadmi ho….dummy ho sakta hai….!

Akhar ye kaun shaksh hai jo is tarah humare muqable aya hai….police to kuch bhi nahi kar rahi….!

Main nahi jaanta….

Kya naam hai….?

Imran…..

Lekin….herman ne dhamp naam bataya tha….

Us shaksh ka naam bataya tha jo qaidi ko chin le gaya tha….cheif ka khayal hai ke wo Imran hi ka koi aadmi ho sakta hai….!

Imran ki kya haisiyath hai….?

Yahan ke intelligence-department ke director-general ka ladka hai

aur usi ke mahekme se taalluk rakhta hai….

Nahi….mahekme se uska koi taalluk nahi….ek awaara gardh aadmi hai….!
Ohoo….ab ek gaadi dikhayi di hai….

Wo humari hi gaadi hogi….paanch mile faasla tai kar lene ke baad picha karne wali koi gaadi nahi ho sakti….picha shuru hota to harlem house ke kareeb hi se ho jata….cheif ka andaaza galat bhi ho sakta hai….!

Agar….humari hi gaadi hai to itni der baad kyun dikhayi di….?

To fir….koi dusra aadmi hoga….is sadak par sirf hum hi to nahi chal rahe….!

Ye sahili tafreehgaah ki roshniyan hai shayad….

Haa….

Pichli gaadi raaste ke liye horn de rahi thi….
Aur
ambulance ek taraf kar li gayi….
Aur
tez raftaar gaadi uske barabar se nikalti chali gayi….

Herman ne yahi to bataya tha ke pahle wo gaadi aage nikal gayi thi….

Kyun mare jaa rahe ho apni gaadiyan bhi piche hongi…..!

To dikhayi kyun nahi deti….!

Veeran hisse mein daakhil hote hi headlights buja di gayi hongi….!

Wo dekho….driver cheekh pada….wo palat rahi hai….!

Saamne se kisi gaadi ki head lights dikhayi di…..

Aane do….humari bhi gaadiyan….

Saamne wali gaadi ki raftaar mein kami nahi hui….wo ambulance ke kareeb se guzarti chali gayi….!

Oh….driver ne lambi saans li….

Khwamkha nervous ho rahe ho tum….bas ab hum wahan pahunchne hi wale hai….

क्या हुआ….?

मैं बोलकोनी में खड़ा हुआ था कि मुझ पर बे-आवाज़ फाइयर हुआ….उसी तरफ से वो लोग मौजूद है….!

तुम ज़ख़्मी तो नही हुए….?

बाल-बाल बच गया….

सुलेमान वापिस आया या नही….?

नही बॉस….

तुम बोलकोनी में भी नही जाओगे….

ये ज़ुल्म है बॉस….

बकवास मत करो….7वी बॉटल की इजाज़त दे सकता हूँ….
लेकिन बाहर निकलने की नही….!

7वी बॉटल….जोसेफ खुश हो कर बोला….क्या हमेशा के लिए बॉस….?

नही जब तक तुम पर पाबंदी है….!

तुम्हारी मर्ज़ी बॉस….जोसेफ मुर्दा सी आवाज़ में बोला
और
दूसरी तरफ से सिलसिला कट होने की आवाज़ सुन कर रिसीवर रख दिया

सुलेमान के सिलसिले में उसकी चिंता बढ़ गयी थी….उस बे-आवाज़ फाइयर का मतलब यही था कि वो लोग उनमे से किसी को घर से बाहर निकालना चाहते थे….इमरान ना सही कोई सही जिस पर काबू पा कर वो मालूमात हासिल कर सके….
लेकिन उनकी कम ख़याली थी….क्या जोसेफ को इल्म था कि इमरान कहाँ है….महेज़ फोन नंबर थे उसके पास….
और उसे यक़ीन था कि फोन डाइरेक्टरी में वो नंबर नही मिल सकेंगे….!

अचानक किसी ने दरवाज़े पर दस्तक दी….
और
वो चौंक पड़ा….
फिर
ख़याल आया कि दस्तक देने वाला सुलेमान के अलावा और कोई नही हो सकता….दरवाज़ा वही पीटता है….दूसरे तो कॉल बेल का बटन दबाया करते है….!
उसने झपट कर दरवाज़ा खोल दिया….सुलेमान ही था….
और
बेहद खुश नज़र आ रहा था….दाँत निकले पड़े थे….!

किधर था साला….? जोसेफ घुर्राया….बॉस फोन पर भी बोला….मत निकलो बाहर

अबे इस वक़्त तू 10 हज़ार गालियाँ दे तब भी बर्दाश्त कर लूँगा….!

अच्छा….क्या बात हो गया….?

उल्टा लटका हुआ था साला और मार पड़ रही थी….

किस का बात करता….?

कादर….कोठी पर मुलाज़िम है….कुछ घपला किया साले ने….
और अब कबूल कर रहा है….!

क्या किया था….?

बड़े साहब के साथ 420 सी की थी….

बड़े साहब के साथ….जोसेफ के लहजे में हैरत थी

हाँ….अब तो साला बंद हो जाएगा या निकाला जाएगा….!

तुम साला काको खुश होता….?

वो मुझे चाहती थी….ये बीच में आ कूदा….है थोड़ा नक़्शेबाज़….मैं ठहेरा सीधा-सादा आदमी….!

तो वो तुम्हारा राइवल है….?

राइवल क्या….?

वो होता….दूसरा आदमी….तुम्हारा लौंडिया का लवर….!

हाँ….हाँ….यही बात थी….!

लौंडिया क्या बोलता है….

उससे मुलाकात ही ना हो सकी….

तुम साला उल्लू है….

क्यूँ….क्यूँ….?

बस है….तुम्हारा शादी नही बनेगा….!

आबे क्यूँ बकवास करता है….

लौंडिया भी तुम को उल्लू समझता….

देख बे….ज़ुबान संभाल कर….

अब तुम बाहर नही जाएगा….

क्यूँ नही जाएगा….कोई धोंस है तेरी….?

बॉस बोला फोन पर….जाएगा तो मरेगा….
फिर
उसने बोलकोनी के करीब ले जा कर दीवार का उधड़ा हुआ प्लास्टर दिखाया
और
वो गोली दिखाई जो वहीं फर्श पर पड़ी हुई थी….
अचानक
उसी वक़्त उन्होने शोर सुना….नीचे सड़क पर भगदड़ मच गयी थी….जिधर जिस के समझ में आ रहा था निकला जा रहा था….
फिर
उन्होने फाइयर की आवाज़ भी सुनी….!

जोसेफ ने पीछे हट कर दरवाज़ा बंद कर दिया….

ये क्या हो रहा है….सुलेमान उसे घूरता हुआ बोला

जिस ने मुझ पर गोली चलाया था….अब उस पर चलता….

तूने ठीक कहा था….मेरी शादी नही हो सकेगी….सुलेमान ठंडी साँस ले कर बोला

बहादुर लोग का ना शादी बनता….
और
ना उनका नौकर लोग का….!

अबे जा….बड़ा बहादुर लोग है….ख्वंखाह दूसरों के पचडे में टाँग अड़ाते फिरते है….!

हम नही समझा….पच्डे में टाँग अडाता फिरता क्या मातबल होता है….?

मातबल नही मतलब….सुलेमान ने चिडाने के से अंदाज़ में कहा

वही….वही….

वही….वही के बच्चे बाहर गोलियाँ चल रही है

हम क्या करे….चलता है तो चले….जोसेफ ने कहा
और
कमरे की तरफ चल पड़ा….
शायद
उसकी प्यास जाग उठी थी….
और
वो 6वी बॉटल की बची-कूची के साथ 7वी के ख़याल में मगन था….!

ओप्रेशन रूम से इमरान की कॉल उसके कमरे में डाइरेक्ट कर दी गयी….वो अभी सेइको मॅन्षन ही में था….

दूसरी तरफ से सफदार की आवाज़ सुनाई दी….अभी-अभी एक आंब्युलेन्स हर्लें हाउस के कॉंपाउंड में दाखिल हुई है….मैने सोचा शायद उसकी कोई अहमियत हो आप की नज़रों में….

हो भी सकती है….और….नही भी….इमरान बोला….क्या उसका नंबर टी.ज़् 2411 है….?

नही….टी.ज़् 1120 है….

किसी ख़ास मेडिकल इन्स्टिट्यूशन का नाम है उस पर….?

नही….सिर्फ़ रेड क्रॉस बना हुआ है उस पर….

तुम में से कोई उसका पीछा ना करे….सिर्फ़ उसकी रवानगी की दिशा के बारे में इत्तिला देना काफ़ी होगा….
अगर वो कॉंपाउंड से बाहर आए….!

बहुत बेहतर….

क्या नंबर बताया था….?

टी.ज़् 1120….

मैं इंतेज़ार में रहूँगा….

बहुत बेहतर….

दट’स ऑल….इमरान ने कहा और कॉल डिसकनेक्ट कर दिया

रिसेवर रखा ही था के फिर घंटी बजी….इस बार जोसेफ की आवाज़ आई

सबसे पहले 7वी बॉटल का शुक्रिया बॉस….उसके बाद ये खबर है कि फ्लॅट के बाहर फाइरिंग हुई थी….पड़ोसियों ने बताया के दो ज़ख़्मी आदमी एक कार में बैठ कर फरार हो गये है कोई नही जानता कि उनपर किस ने फाइयर किए थे

7वी बॉटल ने….? इमरान सर हिला कर बोला

यक़ीन करो बॉस 7वी बॉटल के सिर्फ़ दो घूँट ने मुझे इस हद तक पूर सकून कर दिया था कि मैने बोलकोनी में झाँकना भी गवारा नही किया….
और
तीसरी खबर….ये है कि सुलेमान की मोहब्बत जीत गयी….वो कोठी पर गया था वहाँ उसने अपने रक़ीब को उल्टा देखा था….!

तो उसने भी इब्रात पकड़ ली होगी….

नही बॉस….वो बहुत खुश है….
और
चौथी खबर….ये है कि जब आस-पास गोलियाँ चल रही हो तो मुझे अपनी परदा नशीनी खुलने लगती है….!

परदा नशीनी बेहतर है कफ़न पोशी से….इमरान ने कहा और सिलसिला काट दिया….फिर….
30 सेक बाद ही सफदार की कॉल आई….!
आंब्युलेन्स पोर्च में खड़ी है….
और
एक स्ट्रेचएर अंदर से लाया गया है….कोई उस पर लेटा हुआ है….सर से पैर तक कंबल से ढका हुआ है….!

पीछा हरगिज़ ना करना….इमरान बोला….जाने दो….!

हो सकता है वो लेडी डॉक्टर हो….

उसके बावजूद भी वो करो जो मैं कहूँ….ये जाल भी हो सकता है….
शायद
वो अंदाज़ा करना चाहते है कि हर्लें हाउस निगरानी में है या नही….इस वजुहात (कारणों) में….!

जैसी आप की मर्ज़ी….

लेकिन….रवानगी की दिशा से आगाह करना….

बहुत बेहतर….आ….वो….ज़रा...ठहेरिए….होल्ड की जिए….

आवाज़ आनी बंद हो गयी….इमरान रिसेवर कान से लगाए रहा

सफदार की आवाज़ फिर आई….हेलो

सुन रहा हूँ….

चौहान इत्तिला दे रहा है कि आंब्युलेन्स कॉंपाउंड से निकल कर 11वी शहरा पर वेस्ट की जानिब मूड गयी है….

ठीक है….तनवीर तुम लोगों की जगह लेने के लिए आधे घंटे बाद पहुँच जाएगा….अब एक ही आदमी काफ़ी होगा….तुम तीनो आराम कर सकते हो….दट’स ऑल
रिसीवर रख कर वो आहिस्ता से बड़बड़ाया….11वी सड़क वेस्ट की जानिब….खूब तो फिर शायद इधर ही जाएँगे….!

आंब्युलेन्स की अगली गाड़ी पर दो अफराद थे….
और
दोनो ही सफेद फाम विदेशी थे….उनमे से एक ड्राइव कर रहा था

गाड़ी के पीछे दूर तक सड़क सुनसान और वीरान थी….ड्राइव करने वाले ने रिवर मिरर पर नज़र डालते हुए कहा….कोई भी नही है….शहेर से यहाँ तक कोई ऐसी गाड़ी नज़र नही आई जिस पर पीछा करने का शक किया जा सकता है….!

चीफ बच्चों की सी हरकतें कर रहा है….दूसरा बोला

अंदर स्ट्रेचएर पर कौन है….?

मैं नही जानता….ज़रूरी नही कि कोई आदमी हो….डमी हो सकता है….!

आख़िर ये कौन शक्श है जो इस तरह हमारे मुक़ाबले आया है….पोलीस तो कुछ भी नही कर रही….!

मैं नही जानता….

क्या नाम है….?

इमरान…..

लेकिन….हर्मन ने ढांप नाम बताया था….

उस शक्श का नाम बताया था जो क़ैदी को छीन ले गया था….चीफ़ का ख़याल है कि वो इमरान ही का कोई आदमी हो सकता है….!

इमरान की क्या हैसियत है….?

यहाँ के इंटेलिजेन्स-डिपार्टमेंट के डाइरेक्टर-जनरल का लड़का है

और उसी के महकमे से ताल्लुक रखता है….

नही….महकमे से उसका कोई ताल्लुक नही….एक आवारा गर्द आदमी है….!
ओहू….अब एक गाड़ी दिखाई दी है….

वो हमारी ही गाड़ी होगी….पाँच मील फासला तय कर लेने के बाद पीछा करने वाली कोई गाड़ी नही हो सकती….पीछा शुरू होता तो हर्लें हाउस के करीब ही से हो जाता….चीफ़ का अंदाज़ा ग़लत भी हो सकता है….!

अगर….हमारी ही गाड़ी है तो इतनी देर बाद क्यूँ दिखाई दी….?

तो फिर….कोई दूसरा आदमी होगा….इस सड़क पर सिर्फ़ हम ही तो नही चल रहे….!

ये साहिली तफरीहगाह की रोशनियाँ है शायद….

हाँ….

पिछली गाड़ी रास्ते के लिए हॉर्न दे रही थी….
और
आंब्युलेन्स एक तरफ कर ली गयी….
और
तेज़ रफ़्तार गाड़ी उसके बराबर से निकलती चली गयी….

हर्मन ने यही तो बताया था कि पहले वो गाड़ी आगे निकल गयी थी….

क्यूँ मरे जा रहे हो अपनी गाड़ियाँ भी पीछे होंगी…..!

तो दिखाई क्यूँ नही देती….!

वीरान हिस्से में दाखिल होते ही हेडलाइट्स बुझा दी गयी होंगी….!

वो देखो….ड्राइवर चीख पड़ा….वो पलट रही है….!

सामने से किसी गाड़ी की हेड लाइट्स दिखाई दी…..

आने दो….हमारी भी गाड़ियाँ….

सामने वाली गाड़ी की रफ़्तार में कमी नही हुई….वो आंब्युलेन्स के करीब से गुज़रती चली गयी….!

ओह….ड्राइवर ने लंबी साँस ली….

खाम्खा नर्वस हो रहे हो तुम….बस अब हम वहाँ पहुँचने ही वाले है….
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply