आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

User avatar
jay
Super member
Posts: 7129
Joined: 15 Oct 2014 22:49
Contact:

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by jay » 05 Dec 2017 14:52

superb bro
Read my other stories




(ज़िन्दगी एक सफ़र है बेगाना running.......).
(वक्त का तमाशा running)..
(ज़िद (जो चाहा वो पाया) complete).
(दास्तान ए चुदाई (माँ बेटी बेटा और किरायेदार ) complete) .. (सातवें साल की खुजली complete)
(एक राजा और चार रानियाँ complete).............(माया complete...)-----(तवायफ़ complete).............
(मेरी सेक्सी बहनें compleet)........(दोस्त की माँ नशीली बहन छबीली compleet)............(माँ का आँचल और बहन की लाज़ compleet)..........(दीवानगी compleet )....... (मेरी बर्बादी या आबादी (?) की ओर पहला कदमcompleet)........(मेले के रंग सास,बहू और ननद के संग)........


Read my fev stories

(कोई तो रोक लो)
(ननद की ट्रैनिंग compleet)..............( सियासत और साजिश)..........(सोलहवां सावन)...........(जोरू का गुलाम या जे के जी).........(मेरा प्यार मेरी सौतेली माँ और बेहन)........(कैसे भड़की मेरे जिस्म की प्यास)........(काले जादू की दुनिया)....................(वो शाम कुछ अजीब थी)

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Sponsor

Sponsor
 

User avatar
Dolly sharma
Gold Member
Posts: 782
Joined: 03 Apr 2016 16:34

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Dolly sharma » 05 Dec 2017 20:04

nice update

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 06 Dec 2017 11:58

thanks all dear friends
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 06 Dec 2017 12:06

Ambulance ki raftaar kisi kadar tez ho gayi….sahili tafreehgaah bahut piche rahe gaya….
Aur
ye wahi sadak thi jiss par unki ambulance ke tyre flat kar diye gaye the….
Aur
dhamp naami aadmi ne unke kaidi par haath saaf kar diya tha….

Aur ek mile faasla tai kar ke ambulance un imaaraton ke kareeb jaa pahunchi jahan nuclear bijli ghar ka staff rehta tha….
Fir
wo ek alag-thalag imaarat ke compound mein daakhil ho hui….!

Ab hume kya karna hai….? Driver ne pucha
gaadi ko porch mein lete chalo….
Aur
wahan khadi kar do….!

Uske baad….?

Main nahi jaanta….mujhe to ye bhi nahi maalum ke gaadi hi par baithe rehna hai ya utarna hai….

Ye kya baat hui….?

Engine band kar do aur chup-chaap baithe raho….!

Gaadi porch mein pahunch kar roki aur engine band kar diya gaya….wo dono baithe rahe….
Achhanak
ambulance ke andar se kisi ne pichle partition par zor-zor se haath maarna shuru kar diya….!
Dummy nahi thi….chalo utro niche….darwaaza kholo….driver ne kaha

dusre aadmi ne niche utar kar gaadi ka pichla darwaaza khola….
Aur
boukhla kar piche hathte hue kaha….chief

kuch nahi hua….? Usne gaadi se utarte hue pucha

nahi chief….kuch bhi nahi….!

Itne mein do gaadiyan aur bhi compound mein daakhil hui….un par se 4 safed faam videshi utre….
Aur
porch ki taraf badhte chale gaye….!

Kya khabar hai….? Khashk lahje mein chief ne unse sawaal kiya

khattai nahi chief….picha kiya hi nahi gaya

lekin….maine do gaadiyon ki awaazein suni thi….!

Ek gaadi tafreehgaah se is taraf ayi thi….
Aur
dusri alag disha se….unhi ki awaazein aap ne suni….!

Ho sakta hai tafreehgaah se picha shuru kiya gaya ho….ambulance ke driver ne kaha

ahmaqaana khayal hai….chief bola….chalo andar chalo

wo imaarat mein daakhil hue….

Chief mazboot jism wala ek lamba aadmi tha….aankhein badi jaandar thi….apne matahaton par chaya hua sa lagta tha….!

Ek bade kamre mein pahunch kar usne unhe baith jane ka ishara kiya….chandh lamhe unhe ghoorta raha fir bola….tum sab nakaara sabeet ho rahe ho….!

Wo sab khamosh rahe….

Chief thodi der baad ghurraya….dono desi aadmi zakhmi ho kar wapas aye hai….

Kaun desi aadmi….ek bola

main sirf howard se mukhateeb hu….

Howard naami aadmi ne use khaufzada nazron se dekha….

Imran ke flat ke kareeb un par fire kiye gaye the….?

Mujhe ilm hai chief….howard bola….unse bhi ghalthi hui thi….unme se ek ne nigro par fire kar diya tha….jo flat ki bolcony mein khada hua tha….!

Kyun….? Chief use ghoorta hua ghurraya

fire be-awaaz tha….
Aur
is umeed par kiya gaya tha ke shayad is tarah Imran flat se nikal aye….!

Tum ahmaq ko…..tum galat aadmiyon ka chunau kiya tha flat ki nigrani ke liye….Imran flat mein maujood nahi hai….rana palace mein bhi nahi….
Aur
apne baap ke ghar mein bhi nahi hai….!

Hum intehai koshish kar rahe hai boss….mujhe ittilaa mili thi ke aaj koi safed faam videshi ladki Imran ke flat mein gayi thi….!

Kornila thi….chief khashk lahje mein bola

kornila….? Howard ke lahje mein hairat thi

haa….wahi thi….
Aur
ab usi par nazar rakho wo Imran ki talaash mein hai….!

Magar….chief zaroori to nahi ke wo use mil hi jaye….?

Gair zaroori baatein nahi….!

Ok chief….howard ne gehri saans li

chief uth gaya….

Lambi raahdari se guzar kar wo ek kamre ke saamne ruka….khufal (lock) khol kar andar daakhil hua….
Aur
saamne baithi hui aurat use dekh kar uchal padee….!
Daro nahi….chief ahista se bola

darungi kyun….? Aurat ne ghussele lahje mein kaha

jab tak tumhara bhai hume na mil jaye tumhari rihayi namumkin hai….!

Aakhir tum log mere bhai se kya chahte ho….?

Wo karzdaar hai mera….jaise hi maine is sar zameen par kadam rakha wo gaayab ho gaya….!

Kitni rakhm hai….? Aurat ne use ghurte hue pucha

tum tassavoor bhi nahi kar sakti….mere mulk mein shahzadon ki si zindagi basar karta tha….!

Aakhir tumne kiss umeed par use koi badi rakhm de di thi….?

Tafseel mein nahi jaa sakta….ye batao kya dhamp naami kisi aadmi se waqif ho….?

Ye naam hi pahli baar sun rahi hu….!

Ho sakta hai ke tum use naam se na jaanti ho….
Lekin
kabhi apne bhai ke saath dekha ho….wo ek badhda sa aadmi hai bahut zyada fuli hui naak wala….
Aur
moonchein honthon par latki hui itni ghani ke honth chup rahe gaya ho….!

Nahi maine aise kisi aadmi ko apne bhai ke saath nahi dekha….



आंब्युलेन्स की रफ़्तार किसी कदर तेज़ हो गयी….साहिली तफरीहगाह बहुत पीछे रह गया….
और
ये वही सड़क थी जिस पर उनकी आंब्युलेन्स के टाइयर फ्लॅट कर दिए गये थे….
और
ढांप नामी आदमी ने उनके कैदी पर हाथ सॉफ कर दिया था….

और एक मील फासला तय कर के आंब्युलेन्स उन इमारतों के करीब जा पहुँची जहाँ न्यूक्लियर बिजली घर का स्टाफ रहता था….
फिर
वो एक अलग-थलग इमारत के कॉंपाउंड में दाखिल हो हुई….!

अब हमें क्या करना है….? ड्राइवर ने पूछा
गाड़ी को पोर्च में लेते चलो….
और
वहाँ खड़ी कर दो….!

उसके बाद….?

मैं नही जानता….मुझे तो ये भी नही मालूम कि गाड़ी ही पर बैठे रहना है या उतरना है….

ये क्या बात हुई….?

एंजिन बंद कर दो और चुप-चाप बैठे रहो….!

गाड़ी पोर्च में पहुँच कर रोकी और एंजिन बंद कर दिया गया….वो दोनो बैठे रहे….
अचानक
आंब्युलेन्स के अंदर से किसी ने पिछले पारटिशन पर ज़ोर-ज़ोर से हाथ मारना शुरू कर दिया….!
डमी नही थी….चलो उतरो नीचे….दरवाज़ा खोलो….ड्राइवर ने कहा

दूसरे आदमी ने नीचे उतर कर गाड़ी का पिछला दरवाज़ा खोला….
और
बौखला कर पीछे हटते हुए कहा….चीफ

कुछ नही हुआ….? उसने गाड़ी से उतरते हुए पूछा

नही चीफ….कुछ भी नही….!

इतने में दो गाड़ियाँ और भी कॉंपाउंड में दाखिल हुई….उन पर से 4 सफेद फाम विदेशी उतरे….
और
पोर्च की तरफ बढ़ते चले गये….!

क्या खबर है….? खुश्क लहजे में चीफ ने उनसे सवाल किया

कतई नही चीफ….पीछा किया ही नही गया

लेकिन….मैने दो गाड़ियों की आवाज़ें सुनी थी….!

एक गाड़ी तफरीहगाह से इस तरफ आई थी….
और
दूसरी अलग दिशा से….उन्ही की आवाज़ें आप ने सुनी….!

हो सकता है तफरीहगाह से पीछा शुरू किया गया हो….आंब्युलेन्स के ड्राइवर ने कहा

अहमाक़ाना ख़याल है….चीफ बोला….चलो अंदर चलो

वो इमारत में दाखिल हुए….

चीफ मज़बूत जिस्म वाला एक लंबा आदमी था….आँखें बड़ी जानदार थी….अपने मातहतों पर छाया हुआ सा लगता था….!

एक बड़े कमरे में पहुँच कर उसने उन्हे बैठ जाने का इशारा किया….चन्द लम्हे उन्हे घूरता रहा फिर बोला….तुम सब नकारा साबित हो रहे हो….!

वो सब खामोश रहे….

चीफ थोड़ी देर बाद घुर्राया….दोनो देसी आदमी ज़ख़्मी हो कर वापस आए है….

कौन देसी आदमी….एक बोला

मैं सिर्फ़ हवर्ड से मुखातीब हूँ….

हवर्ड नामी आदमी ने उसे ख़ौफज़दा नज़रों से देखा….

इमरान के फ्लॅट के करीब उन पर फाइयर किए गये थे….?

मुझे इल्म है चीफ….हवर्ड बोला….उनसे भी ग़लती हुई थी….उनमे से एक ने नीग्रो पर फाइयर कर दिया था….जो फ्लॅट की बोलकोनी में खड़ा हुआ था….!

क्यूँ….? चीफ उसे घूरता हुआ घुर्राया

फाइयर बे-आवाज़ था….
और
इस उम्मीद पर किया गया था कि शायद इस तरह इमरान फ्लॅट से निकल आए….!

तुम अहमक को…..तुम ग़लत आदमियों का चुनाव किया था फ्लॅट की निगरानी के लिए….इमरान फ्लॅट में मौजूद नही है….राणा पॅलेस में भी नही….
और
अपने बाप के घर में भी नही है….!

हम इंतिहाई कोशिश कर रहे है बॉस….मुझे इत्तिला मिली थी कि आज कोई सफेद फाम विदेशी लड़की इमरान के फ्लॅट में गयी थी….!

कॉर्निला थी….चीफ खुश्क लहजे में बोला

कॉर्निला….? हवर्ड के लहजे में हैरत थी

हाँ….वही थी….
और
अब उसी पर नज़र रखो वो इमरान की तलाश में है….!

मगर….चीफ ज़रूरी तो नही कि वो उसे मिल ही जाए….?

गैर ज़रूरी बातें नही….!

ओके चीफ….हवर्ड ने गहरी साँस ली

चीफ उठ गया….

लंबी राहदारी से गुज़र कर वो एक कमरे के सामने रुका….खुफाल (लॉक) खोल कर अंदर दाखिल हुआ….
और
सामने बैठी हुई औरत उसे देख कर उछल पड़ी….!
डरो नही….चीफ आहिस्ता से बोला

डरूँ क्यूँ….? औरत ने गुस्सैले लहजे में कहा

जब तक तुम्हारा भाई हमे ना मिल जाए तुम्हारी रिहाई नामुमकीन है….!

आख़िर तुम लोग मेरे भाई से क्या चाहते हो….?

वो कर्ज़दार है मेरा….जैसे ही मैने इस सर ज़मीन पर कदम रखा वो गायब हो गया….!

कितनी रकम है….? औरत ने उसे घूरते हुए पूछा

तुम तस्सउूर भी नही कर सकती….मेरे मुल्क में शहज़ादों की सी ज़िंदगी बसर करता था….!

आख़िर तुमने किस उम्मीद पर उसे कोई बड़ी रकम दे दी थी….?

तफ़सील में नही जा सकता….ये बताओ क्या ढांप नामी किसी आदमी से वाक़िफ़ हो….?

ये नाम ही पहली बार सुन रही हूँ….!

हो सकता है कि तुम उसे नाम से ना जानती हो….
लेकिन
कभी अपने भाई के साथ देखा हो….वो एक बुड्ढ़ा सा आदमी है बहुत ज़्यादा फूली हुई नाक वाला….
और
मूँछें होंठों पर लटकी हुई इतनी घनी के होंठ छुप गया हो….!
नही मैने ऐसे किसी आदमी को अपने भाई के साथ नही देखा….
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 06 Dec 2017 12:08


Chief thodi der khamosh rahe kar bola….
Baherhaal
tumhara bhai is position mein nahi ke mera karz aada kar sake….
Isliye
istifa de kar gaayab ho gaya hai….!

Ohoo….to kya isi liye istifa bhi….?

Haa…. Isi liye

kya tum yahan ke khanooni taur par apna karz paa sakoge….?

Main nahi samjha….?

Kya tumhare paas unki koi aisi tahreer (lekhan) hai….jiss ki bina par unka karzdaar hona sabeet ho sake….?

Nahi….

To fir….unhe tum se khaufzada hone ki kya zaroorat thi….?

Wo achhi tarah jaanta hai ke agar usne karz aada na kiya to uske dono kaan kaat diye jayenge….!

Huh….is mulk mein….? Aurat ne ghussele lahje mein pucha

usme hairat ki kya baat hai….yahi dekhlo ke tum humari khaid mein ho….is mulk mein….tumhare khanoon ne humara kya bigaadha hai….tumhare agawaa ki khabar se pure shaher mein sansani fael gayi hai….akhbaraat cheekh rahe hai
lekin
tum dekh rahi ho….!

Aurat kuch na boli….

Chief thodi der khamosh rahe kar bola….tumhara bhai jahan bhi hoga tumhare agawaa ki khabar us tak zaroor pahunchi hogi….
Aur
ye bhi jaanta hoga ke unme kiss ka haath hai….
Lekin
use tumhara zarra barabar bhi khayal nahi hai….!

Aurat khamosh rahi….

Achhanak….kisi ne darwaaze par dastak di….
Aur
chief chaunk kar muda….
Fir
usne ghussele andaaz mein uth kar darwaaza khola….saamne howard khada nazar aya….!
Ch….che….cheif….wo haklaya….compound mein koi hai….

Kaun hai….?

Pata nahi….

Tumhara dimaagh to chal nahi gaya….oh….apni shakl dekho….kaun hai compound mein….oh….main samjha….tum shayad ye kahna chahte ho ke unhi logon mein se koi hai….?

Howard ne haa mein sar ko hilaya….

Tumhe kaise maalum hua….?

Kutte bhonkne lage hai….

Gate band kar ke unhe khol do….
Lekin
pahle aaine mein apni shakl zaroor dekh lena….kahin tumhe hi goli na maar du….tum darr rahe ho….?

N….na….nahi to chief….wo piche hathta hua bola….main kutte khulwa deta hu….

Thik usi waqt puri imaarat mein andhera chaa gaya….
Aur
chief unchi awaaz mein bola….khabardar tum kamre hi mein khamosh baithi rehna….varna….goli maar di jayegi….
Fir
usne khinch kar darwaaza band kiya….
Aur
taatol kar khufal (lock) mein kunji lagayi….andhere mein daudte hue khadmon ki awaazein gunj rahi thi….!

Kutte….kutte….chief zor se cheekha….kutte khol dene ki koshish karo….wo deewar taatolta hua aage badh raha tha….!

Baghdadh ki awaaz ab bhi sunayi de rahi thi….un logon ke aane se pahle bhi is imaarat mein kuch afraad maujood the….
Aur
ab unki tadaad 11 thi….!

Chief badhte-badhte sadar darwaaze tak aa pahucha….compound mein use torch ki roshni dikhayi di….
Aur
kuch aise log bhi aye jinhone bull-dog ki zanjeerein thaam rakhi thi….!

Jaldi karo….chief dahada….unhe chhod do….!
Kutte chhod diye gaye….
Aur
wo ek hi taraf daudte chale gaye….!

Chief porch mein khada apne aadmiyon ko hidayath (nirdesh) diye jaa raha tha….
Lekin
abhi tak kisi ne bhi dobara roshni ke intezam ki fikr nahi ki….pata nahi wo itne badhhawaas ho gaye the….ya generator on nahi karna chahte the….sirf do adad torch ki roshniyan compound ke andhere mein gardish kar rahi thi….

Achhanak….kutte khamosh ho gaye….
Aur
aisa laga jaise usse pahle kisi khism ki awaazein na rahi ho….
Fir….shayad
kisi ne vishisht andaaz mein seeti bajayi….
Lekin
uski awaaz sannate mein madgham (ekikrut) ho gayi….
Aur
kutton ki taraf se kisi pratikriya ka izhar nahi hua….!

Dekho….kya hua….? Chief dahada
Jiss tarah kutte maare gaye hai….isi tarah dekhne wale bhi maar diye jayenge….kisi ki awaaz do-rafta hisse se ayi….awaaz ki disha mein fauran kisi ne fire jhonk diya….!

Chief tezi se hat gaya….wo samajh hi nahi saka ke wo awaaz usi ke kisi ke aadmi ki thi….ya koi aur tha….jiss ne uski baat ka jawaab diya tha 2 fire fir hue….
Aur….
Wo sadar darwaaze ke kareeb deewar se laga khada tha….

Itne mein koi daudta hua porch mein aya….
Aur
seedhiyon par chadta hua fir ludak gaya….chief ne uska dhundhla se huliya dekha….
Lekin….
Apni jagah se hila bhi nahi….!

Pe dar pe fire fir hue….iske baad hi police ki kisi patrol car ka siren sunayi dene laga….!

Chalo sab….andar chalo….chief halakh faadh kar bola….roshni….main-switch dekho….!

Sab kuch thik hai….left taraf se awaaz ayi….aisa lagta hai jaise pole par se gayi ho….

Power house phone karo….chief ne kaha
aur
fir….use yaad aya ke abhi koi porch ki seedhiyon par se ludak gaya tha….dekho….udhar kaun hai….torch idhar lao….!

Dusre hi lamhe mein torch chief ke chehre par padee….

Mujhe torch do….wo jhunjhula kar bola

aane wale ne torch uski taraf badha diya….
Aur
usne seedhiyon par roshni daali….usi ka ek aadmi niche seedhi par aundha pada nazar aya….
Aur
uske niche se khoon ki patli si laher nikal kar dur tak bal khaati chali gayi….

Ise utha kar fauran andar le chalo….chief bola….
Aur
khoon ka nishaan tak yahan na milna chahiye….jaldi karo….main fatak par jaa raha hu….police idhar hi aa rahi hai….bahar ke log is imaarat ki nashandehi kar denge….kayi fire hue the….

Oh…chief….bayi taraf se awaaz ayi….main-switch ki ek fuse group gaayab hai….!

Jaldi se dusri lagao….kehta hua gate ki taraf badh gaya….!
Uske andaaze ke mutabikh patrol car gate ki disha mein ruki thi….
Aur
use fire ke baare mein pucha gaya….

Awaazein humne bhi suni thi….
Lekin
disha ka nirdharit nahi kar sakte….yahan ki bijli mein koi nukhs ho gaya hai….chief ne jawaab diya

car aage badh gayi….
Shayad
wo log uski shakshiyath se prabavit ho gaye the….!

Wo tezi se imaarat ki taraf palta….abhi porch mein bhi nahi pahuncha ke imaarat roshan ho gayi….do aadmi seedhiyon ke kareeb khoon ke dhabbe dho rahe the….

Kya wo mar gaya….? Chief ne pucha

nahi chief….jawaab mila….shaane par goli lagi hai….behosh hai

kutton ka kya hashr hua….unhe bhi dekho….
Fir
zara si der mein use maalum ho gaya ke kutte park mein behosh padhe hai….unhe goli nahi maari gayi thi….
Balki
behosh kar dene wali kaartoos ka shikaar hue the….is ittilaa par wo chaunk pada….
Aur
kaidi aurat wale kamre ki taraf chal pada….


चीफ थोड़ी देर खामोश रहे कर बोला….
बहेरहाल
तुम्हारा भाई इस पोज़िशन में नही कि मेरा क़र्ज़ अदा कर सके….
इसलिए
इस्तीफ़ा दे कर गायब हो गया है….!

ओहू….तो क्या इसी लिए इस्तीफ़ा भी….?

हा…. इसी लिए

क्या तुम यहाँ के क़ानूनी तौर पर अपना क़र्ज़ पा सकोगे….?

मैं नही समझा….?

क्या तुम्हारे पास उनकी कोई ऐसी तहरीर (लेखन) है….जिस की बिना पर उनका कर्ज़दार होना साबित हो सके….?

नही….

तो फिर….उन्हे तुम से ख़ौफज़दा होने की क्या ज़रूरत थी….?

वो अच्छी तरह जानता है कि अगर उसने क़र्ज़ अदा ना किया तो उसके दोनो कान काट दिए जाएँगे….!

हुह….इस मुल्क में….? औरत ने गुस्सैले लहजे में पूछा

उसमे हैरत की क्या बात है….यही देखलो कि तुम हमारी क़ैद में हो….इस मुल्क में….तुम्हारे क़ानून ने हमारा क्या बिगाड़ा है….तुम्हारे अगवा की खबर से पूरे शहेर में सनसनी फैल गयी है….अख़बारात चीख रहे है
लेकिन
तुम देख रही हो….!

औरत कुछ ना बोली….

चीफ थोड़ी देर खामोश रह कर बोला….तुम्हारा भाई जहाँ भी होगा तुम्हारे अगवा की खबर उस तक ज़रूर पहुँची होगी….
और
ये भी जानता होगा कि उनमे किस का हाथ है….
लेकिन
उसे तुम्हारा ज़ररा बराबर भी ख़याल नही है….!

औरत खामोश रही….

अचानक….किसी ने दरवाज़े पर दस्तक दी….
और
चीफ चौंक कर मुड़ा….
फिर
उसने गुस्सैले अंदाज़ में उठ कर दरवाज़ा खोला….सामने हवर्ड खड़ा नज़र आया….!
च….चे….चीफ़….वो हकलाया….कॉंपाउंड में कोई है….

कौन है….?

पता नही….

तुम्हारा दिमाग़ तो चल नही गया….ओह….अपनी शक्ल देखो….कौन है कॉंपाउंड में….ओह….मैं समझा….तुम शायद ये कहना चाहते हो कि उन्ही लोगों में से कोई है….?

हवर्ड ने हाँ में सर को हिलाया….

तुम्हे कैसे मालूम हुआ….?

कुत्ते भोंकने लगे है….

गेट बाँध कर के उन्हे खोल दो….
लेकिन
पहले आईने में अपनी शक्ल ज़रूर देख लेना….कहीं तुम्हे ही गोली ना मार दूं….तुम डर रहे हो….?

न….ना….नही तो चीफ….वो पीछे हटता हुआ बोला….मैं कुत्ते खुलवा देता हूँ….

ठीक उसी वक़्त पूरी इमारत में अंधेरा छा गया….
और
चीफ उँची आवाज़ में बोला….खबरदार तुम कमरे ही में खामोश बैठी रहना….वरना….गोली मार दी जाएगी….
फिर
उसने खींच कर दरवाज़ा बंद किया….
और
टटोल कर खुफाल (लॉक) में कुंजी लगाई….अंधेरे में दौड़ते हुए कदमों की आवाज़ें गूँज रही थी….!

कुत्ते….कुत्ते….चीफ ज़ोर से चीखा….कुत्ते खोल देने की कोशिश करो….वो दीवार टाटोलता हुआ आगे बढ़ रहा था….!

भगदड़ की आवाज़ अब भी सुनाई दे रही थी….उन लोगों के आने से पहले भी इस इमारत में कुछ अफ्राद मौजूद थे….
और
अब उनकी तादाद 11 थी….!

चीफ बढ़ते-बढ़ते सदर दरवाज़े तक आ पहुचा….कॉंपाउंड में उसे टॉर्च की रोशनी दिखाई दी….
और
कुछ ऐसे लोग भी आए जिन्होने बुल-डॉग की ज़ंजीरें थाम रखी थी….!

जल्दी करो….चीफ दहाडा….उन्हे छोड़ दो….!
कुत्ते छोड़ दिए गये….
और
वो एक ही तरफ दौड़ते चले गये….!

चीफ पोर्च में खड़ा अपने आदमियों को हिदायत (निर्देश) दिए जा रहा था….
लेकिन
अभी तक किसी ने भी दोबारा रोशनी के इंतेज़ाम की फ़िक्र नही की….पता नही वो इतने बढ़हवास हो गये थे….या जेनरेटर ऑन नही करना चाहते थे….सिर्फ़ दो अदद टॉर्च की रोशनियाँ कॉंपाउंड के अंधेरे में गर्दिश कर रही थी….

अचानक….कुत्ते खामोश हो गये….
और
ऐसा लगा जैसे उससे पहले किसी किस्म की आवाज़ें ना रही हो….
फिर….शायद
किसी ने विशिष्ट अंदाज़ में सीटी बजाई….
लेकिन
उसकी आवाज़ सन्नाटे में मद्गम (एकीकृत) हो गयी….
और
कुत्तों की तरफ से किसी प्रतिक्रिया का इज़हार नही हुआ….!

देखो….क्या हुआ….? चीफ दहाडा

जिस तरह कुत्ते मारे गये है….इसी तरह देखने वाले भी मार दिए जाएँगे….किसी की आवाज़ दो-रफ़्ता हिस्से से आई….आवाज़ की दिशा में फ़ौरन किसी ने फाइयर झोंक दिया….!

चीफ तेज़ी से हट गया….वो समझ ही नही सका कि वो आवाज़ उसी के किसी के आदमी की थी….या कोई और था….जिस ने उसकी बात का जवाब दिया था 2 फाइयर फिर हुए….
और….
वो सदर दरवाज़े के करीब दीवार से लगा खड़ा था….

इतने में कोई दौड़ता हुआ पोर्च में आया….
और
सीढ़ियों पर चढ़ता हुआ फिर लूड़क गया….चीफ ने उसका धुँधला सा हुलिया देखा….
लेकिन….
अपनी जगह से हिला भी नही….!

पे दर पे फाइयर फिर हुए….इसके बाद ही पोलीस की किसी पेट्रोल कार का साइरन सुनाई देने लगा….!

चलो सब….अंदर चलो….चीफ हलाक फाड़ कर बोला….रोशनी….मेन-स्विच देखो….!

सब कुछ ठीक है….लेफ्ट तरफ से आवाज़ आई….ऐसा लगता है जैसे पॉल पर से गयी हो….

पवर हाउस फोन करो….चीफ ने कहा
और
फिर….उसे याद आया कि अभी कोई पोर्च की सीढ़ियों पर से लूड़क गया था….देखो….उधर कौन है….टॉर्च इधर लाओ….!

दूसरे ही लम्हे में टॉर्च चीफ के चेहरे पर पड़ी….

मुझे टॉर्च दो….वो झुनझूला कर बोला

आने वाले ने टॉर्च उसकी तरफ बढ़ा दिया….
और
उसने सीढ़ियों पर रोशनी डाली….उसी का एक आदमी नीचे सीढ़ी पर औंधा पड़ा नज़र आया….
और
उसके नीचे से खून की पतली सी लहेर निकल कर दूर तक बल खाती चली गयी….

इसे उठा कर फ़ौरन अंदर ले चलो….चीफ बोला….
और
खून का निशान तक यहाँ ना मिलना चाहिए….जल्दी करो….मैं फाटक पर जा रहा हूँ….पोलीस इधर ही आ रही है….बाहर के लोग इस इमारत की नशानदेही कर देंगे….कयि फाइयर हुए थे….

ओह…चीफ….बाई तरफ से आवाज़ आई….मेन-स्विच की एक फ्यूज़ ग्रूप गायब है….!

जल्दी से दूसरी लगाओ….कहता हुआ गेट की तरफ बढ़ गया….!
उसके अंदाज़े के मुताबिक पेट्रोल कार गेट की दिशा में रुकी थी….
और
उसे फाइयर के बारे में पूछा गया….

आवाज़ें हम ने भी सुनी थी….
लेकिन
दिशा का निर्धारित नही कर सकते….यहाँ की बिजली में कोई नुखस हो गया है….चीफ ने जवाब दिया

कार आगे बढ़ गयी….
शायद
वो लोग उसकी शक्षियात से प्रभावित हो गये थे….!

वो तेज़ी से इमारत की तरफ पलटा….अभी पोर्च में भी नही पहुँचा कि इमारत रोशन हो गयी….दो आदमी सीढ़ियों के करीब खून के धब्बे धो रहे थे….

क्या वो मर गया….? चीफ ने पूछा

नही चीफ….जवाब मिला….शाने पर गोली लगी है….बेहोश है

कुत्तों का क्या हश्र हुआ….उन्हे भी देखो….
फिर ज़रा सी देर में उसे मालूम हो गया कि कुत्ते पार्क में बेहोश पड़े है….उन्हे गोली नही मारी गयी थी….
बल्कि बेहोश कर देने वाली कारतूस का शिकार हुए थे….इस इत्तिला पर वो चौंक पड़ा….
और कैदी औरत वाले कमरे की तरफ चल पड़ा….
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply