आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 06 Dec 2017 12:12

Darwaaza khula hua mila….kamra khaali tha….jiss kursi par use baithi hui chhod kar gaya ulthi padee dikhayi di….uske kareeb hi kaagaz ka ek tukda pada mila….jiss par mote-mote hurf mein
“dhamp”
likha tha….!

Oh….khabeeson….oh….mardoodon….wo kamre se dahadta hua nikla….tum sab is khaabil ho ke be-dardi se khatl kar diye jao….wo use bhi nikaal le gaya

thodi der baad wo sab chief ke saamne sar jhukaye khade nazar aye….

Wo un par buri tarah garaj raha tha….!
Dr malaiqa ko sirf itna hi yaad tha ke kamre mein achhanak andhera ho gaya….
Aur
usse puch-gaach karne wala kamre ko dobara band kar gaya tha….saath hi dhamki bhi di thi ke nikal bhaagne ki surat mein goli maar di jayegi….

Wo der tak andhere mein baithi rahi….
Fir
darwaaza khulne ki awaaz sun kar kursi se uthi hi thi….thik usi waqt us par pencil torch ki roshni padee thi….
Aur
kisi ne ahista se kaha tha ke wo uska dost hai….use rihaayi dilaana chahta hai….ye baat urdu mein kahi gayi thi….isliye wo kisi naye kashmakash mein padh jane ki bajaye uske saath kamre se nikal chali gayi thi….

Wo uska haath pakdhe hue tha….park mein pahunch kar usne use kaandhe par uthaya tha….
Aur
ek taraf daud lagadi thi…..usi dauraan mein usne ye mehsoos kiya tha jaise wo apne ek haath se uski kanpatthi dabaane ki koshish karta raha ho….
Fir
kya hua tha….uska hosh nahi….dobara kuch sochne samajhne ke khaabil hui thi….to fir….
Khud ko ek kamre mein paaya….
Lekin
wo kamra hargiz nahi tha jiss mein khaid rahi thi….ye kamra usse zyada bada tha….aur….
Us mein nakaasi ke darwaaze the….usne uth kar ek darwaaza kholne ki koshish ki….fir….dusre ko aazmaya dusra handle ghumaate hi khul gaya….
Aur
dusre hi lamhe mein cheekh padee… “bhai jaan”

ye bhi ek kamra hi tha….
Aur
uske saamne dr shahid ek aaramdeh kursi par nazar aya….!

M….m….main nahi jaanta ke aap kaun hai….? Shahid seedha baithta hua bola

malaiqa thithak kar rahe gayi….

Agar….bhai jaan hu to batao ke main hu kaun….? Mera ghar kahan hai….?

Arey bhai jaan…..wo khaufzada lahje mein kuch kahte-kahte ruk gayi….

Thik usi waqt piche se awaaz ayi….ye aap ke bhai jaan nahi….
Balki
mere azaab jaan hai….!
Malaiqa chaunk kar piche mudi….saamne Imran khada tha….!

Dr shahid bhi kursi se uth gaya….

Mera naam ali Imran hai mohatarma….

Main jaanti hu….wo lambi saans le kar boli….aap ki tasveer dekhi thi….!

Pichli raat main hi tha jiss ne aap ko rihaayi dilwayi thi….

Aur khud pakde gaye….dr shahid beskhta bol pada….

Ab to waqai pakde gaye….Imran baayi aankh daba kar hasa
aur
shahid ke muh par hawaaiya udhne lagi….!

Parwaah mat karo….main isi tarah yaadasht wapas laata hu….Imran bola

m….m….ma….main nahi samjha….?

Tum mehfooz ho doctor….dhamp mera hi aadmi hai

oh….wo log bhi kisi dhamp ka zikr kar rahe the….malaiqa boli

unhe karna bhi chahiye….

Main kahan hu….? Shahid ne sawaal kiya

ek mehfooz moqaam par….suraksha hi ke liye tumhe yahan rakha gaya hai….
Balki….
Meri hirasath mein ho ab dholak bajwa hi di jiye….!

Agar….wo aap ka aadmi tha to usne aadhe teetar ka hawaala kyun diya tha….shahid Imran ko gour se dekhta hua bola

aap log aaram se baith jaiye….Imran haath hila kar bola
fir
malaiqa se kaha….main pahle aap ki kahani sununga….!

Mmm….meri kahani….ye hai ke ek videshi ladki mazreezah ko dekhne ke bahane mujhe harlem house le gayi thi….
Aur
mujhe band kar diya gaya tha….
Fir
main nahi jaanti ke dusri imaarat mein kaise pahuchi thi….unhone mujhe bataur kaidi rakha hua tha….!

Kiss silsile mein….?

Dr shahid zor se khaakara….jaise malaiqa ko bolne se rok raha ho….
Lekin
malaiqa khud usi se sawaal kar baithi….kya tum kisi ke bahut zyada karzdar ho….?

Nahi….to….sawaal hi paida nahi hota….shahid bola

lekin….wo kahe raha tha ke koi bahut badi rakhm hai….isi liye gaayab ho gaye ho….

Shahid kuch na bola….malaiqa use gour se dekhti hui kahti rahi….tum ne usse ye rakhm usi ke mulk mein li thi….jab tumhe maalum ho gaya ke wo yahan aa gaya to tum gaayab ho gaye….!

Kyun doctor sahab….? Imran ne pucha

ho sakta hai….shahid ne jhooti muskurahat ke saath kaha

lekin…. “aadha teetar”….?

Pata nahi….aap kya kahe rahe hai Imran bhai….

Abhi thodi der pahle dhamp ke silsile mein hairat zaahir ki thi ke agar wo mera aadmi tha to usne aadha teetar ka hawaala kaise diya tha….!
Oh….darasal….wo jiss ka main karzdar hu….wahan aadha teetar kahe laata hai….!

Kyun mohatarma….kya wo aadha teetar tha….Imran ne sanjeedgi se pucha

main nahi samajh sakti ke ye kiss khism ki guftgu shuru ho gayi hai….malaiqa ne na-khushgawaar lahje mein kaha

matlab ye ke wo aadha teetar ki naql rakhta tha….?

Main nahi jaanti….

Kya usne aap ki aankhon par patti baandh kar guftgu ki thi….?

Jee nahi….

Naam bataya tha….?

Bhala wo naam kyun batata….jab ke usse ek gair khanooni harkat sarzad hui thi….!

Ye bhi thik hai….
Achha
uska huliya hi bataiye….?

Lamba khad aur achkala chauda aadmi hai….!

Koi makhsoos (vishisht) pehchaan….?

Thahiriye….mujhe sochne di jiye….ek nashaan jo sabhi ko ajeeb laga hai….paishaani par bayein (left) jaanib cross ki shakl mein zakhm ka nashaan saaf aur itna bada ke dur se bhi nazar aata hai….!

Ye hui na baat….Imran sar hilaata hua bola….ab uska karz aada karne ki koshish karunga….!

Shahid uski taraf dekh kar rahe gaya….

Imran ke honthon par ajeeb si muskurahat thi….
Aur
kuch puchna hai aap ko doctor shahid se….? Usne malaiqa se sawaal kiya



दरवाज़ा खुला हुआ मिला….कमरा खाली था….जिस कुर्सी पर उसे बैठी हुई छोड़ कर गया उल्टी पड़ी दिखाई दी….उसके करीब ही काग़ज़ का एक टुकड़ा पड़ा मिला….जिस पर मोटे-मोटे हर्फ में
“ढांप”
लिखा था….!

ओह….खबीसों….ओह….मरदूदों….वो कमरे से दहाड़ता हुआ निकला….तुम सब इस काबिल हो कि बे-दरदी से कत्ल कर दिए जाओ….वो उसे भी निकाल ले गया

थोड़ी देर बाद वो सब चीफ के सामने सर झुकाए खड़े नज़र आए….

वो उन पर बुरी तरह गरज रहा था….!
.....................,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

डॉक्टर मलइक़ा को सिर्फ़ इतना ही याद था कि कमरे में अचानक अंधेरा हो गया….
और
उससे पूछ-गाच करने वाला कमरे को दोबारा बंद कर गया था….साथ ही धमकी भी दी थी कि निकल भागने की सूरत में गोली मार दी जाएगी….

वो देर तक अंधेरे में बैठी रही….
फिर
दरवाज़ा खुलने की आवाज़ सुन कर कुर्सी से उठी ही थी….ठीक उसी वक़्त उस पर पेन्सिल टॉर्च की रोशनी पड़ी थी….
और
किसी ने आहिस्ता से कहा था कि वो उसका दोस्त है….उसे रिहाई दिलाना चाहता है….ये बात उर्दू में कही गयी थी….इसलिए वो किसी नये कशमकश में पड़ जाने की बजाए उसके साथ कमरे से निकलती चली गयी थी….

वो उसका हाथ पकड़े हुए था….पार्क में पहुँच कर उसने उसे काँधे पर उठाया था….
और एक तरफ दौड़ लगा दी थी…..उसी दौरान में उसने ये महसूस किया था जैसे वो अपने एक हाथ से उसकी कनपटी दबाने की कोशिश करता रहा हो….
फिर
क्या हुआ था….उसका होश नही….दोबारा कुछ सोचे समझने के काबिल हुई थी….तो फिर….
खुद को एक कमरे में पाया….
लेकिन
वो कमरा हरगिज़ नही था जिस में क़ैद रही थी….ये कमरा उससे ज़्यादा बड़ा था….और….
उस में नकासी के दरवाज़े थे….उसने उठ कर एक दरवाज़ा खोलने की कोशिश की….फिर….दूसरे को आज़माया दूसरा हॅंडल घुमाते ही खुल गया….
और
दूसरे ही लम्हे में चीख पड़ी… “भाई जान”

ये भी एक कमरा ही था….
और उसके सामने डॉक्टर शाहिद एक आरामदेह कुर्सी पर नज़र आया….!

म….म….मैं नही जानता कि आप कौन है….? शाहिद सीधा बैठता हुआ बोला

मलइक़ा ठिठक कर रह गयी….

अगर….भाई जान हूँ तो बताओ कि मैं हूँ कौन….? मेरा घर कहाँ है….?

अरे भाई जान…..वो ख़ौफज़दा लहजे में कुछ कहते-कहते रुक गयी….

ठीक उसी वक़्त पीछे से आवाज़ आई….ये आप के भाई जान नही….
बल्कि मेरे अज़ाब जान है….!
मलइक़ा चौंक कर पीछे मूडी….सामने इमरान खड़ा था….!

डॉक्टर शाहिद भी कुर्सी से उठ गया….

मेरा नाम अली इमरान है मोहतर्मा….

मैं जानती हूँ….वो लंबी साँस ले कर बोली….आप की तस्वीर देखी थी….!

पिछली रात मैं ही था जिस ने आप को रिहाई दिलवाई थी….

और खुद पकड़े गये….डॉक्टर शाहिद बेस्खता बोल पड़ा….

अब तो वाक़ई पकड़े गये….इमरान बाई आँख दबा कर हंसा
और शाहिद के मूह पर हवाइया उड़ने लगी….!

परवाह मत करो….मैं इसी तरह यादश्त वापस लाता हूँ….इमरान बोला

म….म….मा….मैं नही समझा….?

तुम महफूज़ हो डॉक्टर….ढांप मेरा ही आदमी है

ओह….वो लोग भी किसी ढांप का ज़िक्र कर रहे थे….मलइक़ा बोली

उन्हे करना भी चाहिए….

मैं कहाँ हूँ….? शाहिद ने सवाल किया

एक महफूज़ मुकाम पर….सुरक्षा ही के लिए तुम्हे यहाँ रखा गया है….
बल्कि…. मेरी हिरासत में हो अब ढोलक बजवा ही दी जिए….!

अगर….वो आप का आदमी था तो उसने आधे तीतर का हवाला क्यूँ दिया था….शाहिद इमरान को गौर से देखता हुआ बोला

आप लोग आराम से बैठ जाइए….इमरान हाथ हिला कर बोला
फिर मलइक़ा से कहा….मैं पहले आप की कहानी सुनूँगा….!

एम्म….मेरी कहानी….ये है कि एक विदेशी लड़की मरीजा को देखने के बहाने मुझे हर्लें हाउस ले गयी थी….
और
मुझे बंद कर दिया गया था….
फिर
मैं नही जानती कि दूसरी इमारत में कैसे पहुचि थी….उन्होने मुझे बतौर कैदी रखा हुआ था….!

किस सिलसिले में….?

डॉक्टर शाहिद ज़ोर से खंकारा….जैसे मलइक़ा को बोलने से रोक रहा हो….
लेकिन
मलइक़ा खुद उसी से सवाल कर बैठी….क्या तुम किसी के बहुत ज़्यादा कर्ज़दार हो….?

नही….तो….सवाल ही पैदा नही होता….शाहिद बोला

लेकिन….वो कहे रहा था कि कोई बहुत बड़ी रकम है….इसी लिए गायब हो गये हो….

शाहिद कुछ ना बोला….मलइक़ा उसे गौर से देखती हुई कहती रही….तुम ने उससे ये रकम उसी के मुल्क में ली थी….जब तुम्हे मालूम हो गया कि वो यहाँ आ गया तो तुम गायब हो गये….!

क्यूँ डॉक्टर साहब….? इमरान ने पूछा

हो सकता है….शाहिद ने झूठी मुस्कुराहट के साथ कहा

लेकिन…. “आधा तीतर”….?

पता नही….आप क्या कहे रहे है इमरान भाई….

अभी थोड़ी देर पहले ढांप के सिलसिले में हैरत ज़ाहिर की थी कि अगर वो मेरा आदमी था तो उसने आधा तीतर का हवाला कैसे दिया था….!
ओह….दरअसल….वो जिस का मैं कर्ज़दार हूँ….वहाँ आधा तीतर कह लाता है….!

क्यूँ मोहतर्मा….क्या वो आधा तीतर था….इमरान ने संजीदगी से पूछा

मैं नही समझ सकती कि ये किस किस्म की गुफ्तगू शुरू हो गयी है….मलइक़ा ने ना-ख़ुशगवार लहजे में कहा

मतलब ये कि वो आधा तीतर की नकल रखता था….?

मैं नही जानती….

क्या उसने आप की आँखों पर पट्टी बाँध कर गुफ्तगू की थी….?

जी नही….

नाम बताया था….?

भला वो नाम क्यूँ बताता….जब कि उससे एक गैर क़ानूनी हरकत सर्ज़ाद हुई थी….!

ये भी ठीक है….
अच्छा उसका हुलिया ही बताइए….?

लंबा कद और लंबा चौड़ा आदमी है….!

कोई मख़सूस (विशिष्ट) पहचान….?

ठहरिए….मुझे सोचने दी जिए….एक निशान जो सभी को अजीब लगा है….पैशानी पर बायें (लेफ्ट) जानिब क्रॉस की शक्ल में ज़ख़्म का निशान सॉफ और इतना बड़ा है कि दूर से भी नज़र आता है….!

ये हुई ना बात….इमरान सर हिलाता हुआ बोला….अब उसका क़र्ज़ अदा करने की कोशिश करूँगा….!

शाहिद उसकी तरफ देख कर रह गया….

इमरान के होंठों पर अजीब सी मुस्कुराहट थी….
और कुछ पूछना है आप को डॉक्टर शाहिद से….? उसने मलइक़ा से सवाल किया
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Sponsor

Sponsor
 

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 06 Dec 2017 12:12


yaqeenan….gaayab hone ki wajah karz ho sakti hai….
Lekin
istifa…..?

Munaseeb yahi hoga ke ye sawaal aap mere liye chhod de….

Main nahi samjhi….?

Bahuttar baatein khawateenon ke ilm mein laane wali nahi hoti….

Shahid ne boukhla kar Imran ki taraf dekha….

Lihaazaa….aap aaram ki jiye….Imran bola

main apne ghar wapis jana chahti hu….!

Abhi nahi….zara halaath ko mere khaabu mein aa jane di jiye….
Varna
aap dekh hi chuki hai ke police aap ka suraag nahi paa saki thi….
Aur
wo ladki ab bhi azaad hai jo aap ko harlem house le gayi thi….!

To….iska matlab ye hua ke yahan khanoon ki hukmrani (shaasan) nahi hai….?

Khanoon ki hukmrani to hai….
Lekin
siyasat bhi baherhaal ek thos haqeeqat hai….!

Kya isliye ke wo safed faam videshi hai….?

Agar….wo safed faam videshi bhi hote to halaath ke tahath yahi surat hoti….karz dene wale videshi behad surat haraam hote hai….
Lekin
iske bawajood bhi unke husn ki tareef karni padhti hai….!

Main samajh gayi….

Yahi baat hai….
To fir….
Bas jaa kar aaram ki jiye….!

Shukriya….malaiqa ne kaha
aur
usi kamre mein wapas chali gayi jahan se wo gehri neend se jaagi thi….!

Imran ne aage badh kar darwaaza band kar diya….

Agar….aap yahin saamne aa jate to yaadasht kho baithne ka dhong na rachta….shahid ne ahista se kaha
Agar….aap yahin saamne aa jate to yaadasht kho baithne ka dhong na rachta….shahid ne ahista se kaha….main us khaufnaak aadmi ko dekh yahi samjha tha ke wo unhi logon aadmi hai….aap ki call receive karne ke baad main unke changool mein fas gaya….wo hut ki khidki todh kar andar daakhil hue the….

Fir….tumhe behosh kar ke ek ambulance mein daala tha….
Aur
nikal jana chahte the….

Aur….mujhe yahan hosh aaya tha….isliye galatfehmi mein mubtela ho gaya….!

Khair….ab aa jao asal maamle ki taraf….

Main abhi is position mein nahi hu ke uska karz aada kar saku….

Agar….lakh….do lakh ki baat hai to main de sakta hu….Imran bade khuloos se kaha

pure 10 lakh….

Do din ke andar-andar intezam kar dunga….

Aap nahi….shahid khisiyaani hasi ke saath bola

haa….haa….kyun nahi….bas aap istifa wapas le lo….Imran chahek kar bola

shahid kuch na bola….ahmaqaana andaaz mein Imran ki surat taakta raha

jiss shaksh ka huliya tumhari bahan ne bataya hai….wo karz nahi deta….
Balki
hukumaton ke takhte ulathta hai….!

Aap kya jane….shahid uchal pada

apne baap ke muqaable mein maine zyada duniya dekhi hai….aaj se do saal pahle usne ek africi mulk ko jahunnum bana diya tha….!

Imran sahab….main ek bebas chuhe ki tarah khaufzada hu….

Agar….sachchi baat bata do to….
Shayad
main tumhari kuch madad kar saku….!

Shahid ne dono haathon se apna chehra dhaamp liya….
Aur
bharrayi hui awaaz mein bola….agar….main aap ko apni bebasi ki wajah batau to aap mujh se niraash ho jayenge….
Lekin
khuda ki kasam….mujhe khattai yaad nahi ke main kab un harkat ka doshi hua tha….!

Tum jo kuch bhi kahoge main us par yaqeen kar lunga….main to sirf ek tamaashayi hu….mohabbat aur nafrath ka haq mujh se cheen liya gaya hai….!

Main nahi samjha….shahid ne chehre se haath hata liya

ek aisa tamaashayi jo khud bhi tamaashe hi ka ek kirdaar hai….

Ab bhi nahi samjha….

Main sirf kaam karta hu….mohabbat, nafrath karna mera maslak (panth), (view) nahi hai….
Balki….
Usi darakht (tree) ki tarah jo sirf fal deta hai….fal todhne walon par patthar nahi chalata….!
Talib-ilm (chaatr jeevan) ke zamane mein unke changool mein fas gaya tha….medicine and surgery ka bahut achha student tha….
Aur
syllabus se bahar nikal kar bhi talaash justju ki lagan rakhta tha….mere usi junoon se unhe faida uthane ka mauq mil gaya….mera ek classmate jo wahin ke ek bade sarmayedar (capitalist) ka ladka tha….ek din kahne laga ke main tumhe ek aise sanstha introduce kar sakta hu jahan shamta badhane ke behtar mauqe maujood hai….main uski baaton mein aa gaya….waqai wo ajeeb duniya thi….maine wahan aise-aise accessory dekhe jin ka tassavoor bhi nahi kar sakta tha….kitaabon ka ek aisa zakhirah ke aankhein khul gayi….sanstha ka head ek mashfikh aadmi (caring-man) tha….usne mujhe haathon haath le liya tha….uska kahna tha ke zahniyath ki koi khaumiyath (nationality) nahi hoti….khuda ka daan hai….ise saari duniya ke kaam aana chahiye….ye aadha teetar usi sanstha ka nashaan aur monogram ka ek hissa hai….
Lekin
mere liye ye nashaan sohaan rooh (kasht-dayak) ban gaya hai….do maah se wo log kisi na kisi tarah se ye nashaan mujh tak pahunchate rahe hai….uska maqsad yaad dahani hai ke ab mujhe unka khilona banna padhega….!

Sawaal to ye hai ke tum wahan apni shamta badhate-badhate kya karne lage the….jiss ki bina par wo tumhe blackmail karne ki koshish kar rahe hai….? Imran ne sawaal kiya

kaash mujhe yaqeen hota ke main wo sab kuch kiya hota….jiss ke khule hue saboot unhone mere saamne pesh kiye the….!

Doctor ho kar aisi baatein karte ho….? Imran uski aankhon mein aankhein daalta hua bola….main tumhe ek aisa injection de sakta hu ke tum sach-mooch apne baare mein sab kuch bhool jaoge….
Aur
injection ka asar khatm hone ke baad tumhe khattai yaad na rahega ke tum is dauraan mein kya kar chuke ho….!

Aap jaante hai….? Dr shahid ne anandit lahje mein cheekha

jaanta hi nahi hu….
Balki
aise bahutar tareekhe mere paas bhi hai….!

Lekin….logon ki badi tadaad iske baare mein nahi jaanti….dr shahid lambi saans le kar bola….unke paas meri aisi behooda tasveer hai ke main unka tassavoor bhi nahi kar sakta….!

Ladki jaan-pehchaan wali hogi….?

Hargiz nahi….ladki nahi….ladkiyan kahiye….
Lekin
mere farishton ko bhi maalum nahi ke wo kaun thi….ya main unse kab mila tha….!

Mujhe yaqeen hai….

Wo tasveer mujhe dikhane ke baad kaha gaya tha ke main puri tarah unke giraft mein hu….jahan bhi rahunga unka paaband rahunga….!

To kya kuch dinon tak wahan ruke the….?

6 maah tak….taleem mukaamal karne ke baad wapsi ka khayal tha ke us sanstha ke head ne mujhe 6 maah special training dene ka offer diya….kharcha sanstha hi ke zimme hota….
Lihaazaa
mujhe kya aitraaz ho sakta tha….
Aur
yaqeen ki jiye ke main dil ki surgery ka specialist usi sanstha mein 6 maah ke andar-hi-andar ban gaya tha….
Aur
usi dauraan mein hi unhone mere saath wo harkath kar daali jiss ka mujhe ilm hi na ho saka….
Lekin
mujhe usse pahle hi shak ho gaya tha ke main galat logon ke haathon mein padh gaya hu….
Aur
ye us mulk ki wahi sanghatan hai jo vikaashil deshon mein resha kiya karti hai….!

यक़ीनन….गायब होने की वजह क़र्ज़ हो सकती है….
लेकिन
इस्तीफ़ा…..?

मुनासीब यही होगा कि ये सवाल आप मेरे लिए छोड़ दे….

मैं नही समझी….?

बहुतर बातें खावतीनों के इल्म में लाने वाली नही होती….

शाहिद ने बौखला कर इमरान की तरफ देखा….

लिहाज़ा….आप आराम की जिए….इमरान बोला

मैं अपने घर वापिस जाना चाहती हूँ….!

अभी नही….ज़रा हालात को मेरे काबू में आ जाने दी जिए….
वरना
आप देख ही चुकी है कि पोलीस आप का सुराग नही पा सकी थी….
और वो लड़की अब भी आज़ाद है जो आप को हर्लें हाउस ले गयी थी….!

तो….इसका मतलब ये हुआ कि यहाँ क़ानून की हुक्मरानी (शासन) नही है….?

क़ानून की हुक्मरानी तो है….
लेकिन
सियासत भी बहेरहाल एक ठोस हक़ीक़त है….!

क्या इसलिए कि वो सफेद फाम विदेशी है….?

अगर….वो सफेद फॉम विदेशी भी होते तो हालात के तहत यही सूरत होती….क़र्ज़ देने वाले विदेशी बेहद सूरत हराम होते है….
लेकिन इसके बावजूद भी उनके हुस्न की तारीफ करनी पड़ती है….!

मैं समझ गयी….

यही बात है….
तो फिर….
बस जा कर आराम की जिए….!

शुक्रिया….मलइक़ा ने कहा
और उसी कमरे में वापस चली गयी जहाँ से वो गहरी नींद से जागी थी….!

इमरान ने आगे बढ़ कर दरवाज़ा बंद कर दिया….



अगर….आप यहीं सामने आ जाते तो यादश्त खो बैठने का ढोंग ना रचता….शाहिद ने आहिस्ता से कहा….मैं उस खौफनाक आदमी को देख यही समझा था कि वो उन्ही लोगों आदमी है….आप की कॉल रिसीव करने के बाद मैं उनके चन्गूल में फस गया….वो हट की खिड़की तोड़ कर अंदर दाखिल हुए थे….

फिर….तुम्हे बेहोश कर के एक आंब्युलेन्स में डाला था….
और
निकल जाना चाहते थे….

और….मुझे यहाँ होश आया था….इसलिए ग़लतफहमी में मुब्तेला हो गया….!

खैर….अब आ जाओ असल मामले की तरफ….

मैं अभी इस पोज़िशन में नही हूँ कि उसका क़र्ज़ अदा कर सकूँ….

अगर….लाख….दो लाख की बात है तो मैं दे सकता हूँ….इमरान बड़े खूलूस से कहा

पूरे 10 लाख….

दो दिन के अंदर-अंदर इंतेज़ाम कर दूँगा….

आप नही….शाहिद खिसियानी हसी के साथ बोला

हा….हा….क्यूँ नही….बस आप इस्तीफ़ा वापस ले लो….इमरान चहक कर बोला

शाहिद कुछ ना बोला….अहमाक़ाना अंदाज़ में इमरान की सूरत ताकता रहा

जिस शक्श का हुलिया तुम्हारी बहन ने बताया है….वो क़र्ज़ नही देता….
बल्कि
हुकूमतों के तख्ते उलटता है….!

आप क्या जाने….शाहिद उछल पड़ा

अपने बाप के मुक़ाबले में मैने ज़्यादा दुनिया देखी है….आज से दो साल पहले उसने एक अफरीसी मुल्क को जहन्नुम बना दिया था….!

इमरान साहब….मैं एक बेबस चूहे की तरह ख़ौफज़दा हूँ….

अगर….सच्ची बात बता दो तो….
शायद
मैं तुम्हारी कुछ मदद कर सकूँ….!

शाहिद ने दोनो हाथों से अपना चेहरा ढांप लिया….
और
भर्राई हुई आवाज़ में बोला….अगर….मैं आप को अपनी बेबसी की वजह बताऊ तो आप मुझ से निराश हो जाएँगे….
लेकिन खुदा की कसम….मुझे कतई याद नही कि मैं कब उन हरकत का दोषी हुआ था….!

तुम जो कुछ भी कहोगे मैं उस पर यक़ीन कर लूँगा….मैं तो सिर्फ़ एक तमाशायी हूँ….मोहब्बत और नफ़रत का हक़ मुझ से छीन लिया गया है….!

मैं नही समझा….शाहिद ने चेहरे से हाथ हटा लिया

एक ऐसा तमाशायी जो जो खुद भी तमाशे ही का एक किरदार है….

अब भी नही समझा….

मैं सिर्फ़ काम करता हूँ….मोहब्बत, नफ़रत करना मेरा मसलक (पंत), (व्यू) नही है….
बल्कि…. उसी दरख़्त (ट्री) की तरह जो सिर्फ़ फल देता है….फल तोड़ने वालों पर पत्थर नही चलाता….!

तालिब-इल्म (छात्र जीवन) के ज़माने में उनके चन्गूल में फस गया था….मेडिसिन आंड सर्जरी का बहुत अच्छा स्टूडेंट था….
और सिलेबस से बाहर निकल कर भी तलाश जूस्तजू की लगन रखता था….मेरे उसी जुनून से उन्हे फ़ायदा उठाने का मौक़ा मिल गया….मेरा एक क्लासमेट जो वहीं के एक बड़े सरमयेदार (कॅपिटलिस्ट) का लड़का था….एक दिन कहने लगा कि मैं तुम्हे एक ऐसी संस्था इंट्रोड्यूस कर सकता हूँ जहाँ क्षमता बढ़ाने के बेहतर मौक़े मौजूद है….मैं उसकी बातों में आ गया….वाक़ई वो अजीब दुनिया थी….मैने वहाँ ऐसे-ऐसे आक्सेसरी देखे जिन का तस्सउूर भी नही कर सकता था….किताबों का एक ऐसा ज़ख़िराह कि आँखें खुल गयी….संस्था का हेड एक मश्फिख आदमी (केरिंग-मॅन) था….उसने मुझे हाथों हाथ ले लिया था….उसका कहना था कि ज़हनीयत की कोई कौमियत (नॅशनॅलिटी) नही होती….खुदा का दान है….इसे सारी दुनिया के काम आना चाहिए….ये आधा तीतर उसी संस्था का निशान और मॉनोग्रॅम का एक हिस्सा है….

लेकिन मेरे लिए ये निशान सोहान रूह (कष्ट-दायक) बन गया है….दो माह से वो लोग किसी ना किसी तरह से ये निशान मुझ तक पहुँचाते रहे है….उसका मक़सद याद दिलाना है कि अब मुझे उनका खिलोना बनना पड़ेगा….!

सवाल तो ये है कि तुम वहाँ अपनी क्षमता बढ़ाते-बढ़ाते क्या करने लगे थे….जिस की बिना पर वो तुम्हे ब्लॅकमेल करने की कोशिश कर रहे है….? इमरान ने सवाल किया

काश मुझे यक़ीन होता कि मैने वो सब कुछ किया होता….जिस के खुले हुए सबूत उन्होने मेरे सामने पेश किए थे….!

डॉक्टर हो कर ऐसी बातें करते हो….? इमरान उसकी आँखों में आँखें डालता हुआ बोला….मैं तुम्हे एक ऐसा इंजेक्षन दे सकता हूँ के तुम सच-मूच अपने बारे में सब कुछ भूल जाओगे….
और इंजेक्षन का असर ख़त्म होने के बाद तुम्हे कतई याद नही रहेगा कि तुम इस दौरान में क्या कर चुके हो….!

आप जानते है….? डॉक्टर शाहिद आनंदित लहजे में चीखा

जानता ही नही हूँ….
बल्कि ऐसे बहुतर तरीके मेरे पास भी है….!

लेकिन….लोगों की बड़ी तादाद इसके बारे में नही जानती….डॉक्टर शाहिद लंबी साँस ले कर बोला….उनके पास मेरी ऐसी बेहूदा तस्वीर है कि मैं उनका तस्सउूर भी नही कर सकता….!

लड़की जान-पहचान वाली होगी….?

हरगिज़ नही….लड़की नही….लड़कियाँ कहिए….
लेकिन मेरे फरिश्तों को भी मालूम नही कि वो कौन थी….या मैं उनसे कब मिला था….!

मुझे यक़ीन है….

वो तस्वीर मुझे दिखाने के बाद कहा गया था कि मैं पूरी तरह उनके गिरफ़्त में हूँ….जहाँ भी रहूँगा उनका पाबंद रहूँगा….!

तो क्या कुछ दिनों तक वहाँ रुके थे….?

6 माह तक….तालीम मुकम्मल करने के बाद वापसी का ख़याल था कि उस संस्था के हेड ने मुझे 6 माह स्पेशल ट्रैनिंग देने का ऑफर दिया….खर्चा संस्था ही के ज़िम्मे होता….
लिहाज़ा मुझे क्या ऐतराज़ हो सकता था….
और यक़ीन की जिए कि मैं दिल की सर्जरी का स्पेशलिस्ट उसी संस्था में 6 माह के अंदर-ही-अंदर बन गया था….
और उसी दौरान में ही उन्होने मेरे साथ वो हरकत कर डाली जिस का मुझे इल्म ही ना हो सका….
लेकिन मुझे उससे पहले ही शक हो गया था कि मैं ग़लत लोगों के हाथों में पड़ गया हूँ….
और ये उस मुल्क की वही संघटन है जो विकाशील देशों में रेशा किया करती है….!
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

User avatar
rajsharma
Super member
Posts: 6119
Joined: 10 Oct 2014 07:07

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by rajsharma » 06 Dec 2017 12:42

achha update hai dost
साधू सा आलाप कर लेता हूँ ,
मंदिर जाकर जाप भी कर लेता हूँ ..
मानव से देव ना बन जाऊं कहीं,,,,
बस यही सोचकर थोडा सा पाप भी कर लेता हूँ
(¨`·.·´¨) Always
`·.¸(¨`·.·´¨) Keep Loving &
(¨`·.·´¨)¸.·´ Keep Smiling !
`·.¸.·´ -- raj sharma

User avatar
Kamini
Gold Member
Posts: 1173
Joined: 12 Jan 2017 13:15

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Kamini » 06 Dec 2017 22:09

Mast update

Jemsbond
Super member
Posts: 4277
Joined: 18 Dec 2014 12:09

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Post by Jemsbond » 07 Dec 2017 11:48

rajsharma wrote:
06 Dec 2017 12:42
achha update hai dost
rajsharma wrote:
06 Dec 2017 12:42
achha update hai dost
thanks for supporting me
*****************
दिल से दिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

तुफानो में साहिल बड़ी मुश्किल से मिलते हैं!

यूँ तो मिल जाता है हर कोई!

मगर आप जैसे दोस्त नसीब वालों को मिलते हैं!
*****************

Post Reply