Page 9 of 13

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Posted: 07 Dec 2017 11:56
by Jemsbond
Kiss bina par shak hua tha tumhe….? Imran ne use gour se dekhte hue pucha
Wahan mareez bhi hote the….main jab wahan tha usi dauraan ek afriki mulk ka shahzada apne kisi mareez ka ilaaj karane ke liye daakhil hua tha….wahan ke baadshah ka bhaanjha tha….dawaiyon ka aadhi tha….jinsi (sex) ka shikaar….
Aur
asaadharan shakti ke hasool ka khwahishmand tha….wo log uska poshida (cheepa) taur par uska kisi khism ka treatment karne lage….ek din wo nashe ki jhonk mein rone laga….
Aur
bola….ke wo is baar apne mamu yani us africi mulk ke baadshah ki saalgiraah ke jashn mein shirkath (bhaag) nahi kar sakega….sanstha ke therapists ne use itminaan dilaate hue waada kiya ke wo wahin se saalgiraah ke jashn barpaa kar ke uske liye sanskaar ki aadayegi ka mauqa farhaam kar denge….aap yaqeen ki jiye Imran sahab ke itni si baat ke liye unhone bahut badi rakhm kharch kar di thi….ba-khaida darbaar ka set lagaya tha….
Aur
ek aisa aadmi bhi unhone dhund nikaala tha….jo uske mamu ka humshakl tha….jashn saalgiraah hui….mubarakbad dene ki rasam ke waqt shahzada uske kareeb pahuncha….
Aur
revolver nikaal kar us par firing shuru kar di….kaartoos nakhli the….baat hasi mein tal gayi….logon ne zor-zor se khahekhahe lagaye the….
Aur
taaliyan bajayi thi….
Lekin
mujhe aisa hi laga tha….jaise us waqt wo shahzada machhaini (machhine) taur par harkath karta raha ho….kuch soche samjhe bagair mein uljhan mein mubtela ho gaya tha….dusre din mauqa nikaal kar maine usse baat ki thi….
Yaqeen ki jiye….
Wo hairat se muh khole mujhe dekhta raha tha….kuch bhi to yaad nahi tha use….fir wo has kar bola….shayad tumne khwaab dekha tha….dr shahid khamosh ho kar kuch sochne laga….

Saalgiraah ki baat khud usne shuru ki thi….
Aur
ro diya tha….? Imran ne sawaal kiya

nahi….uske mulk ki rasmon riwaaj ki baatein chidhi hui thi….baadshah ki saalgiraah ka bhi zikr shuru hua tha….
Aur
usne rona shuru kar diya tha….khair ab se ek saal pahle ka waqiya yaad ki jiye….africa ke usi mulk ke baadshah ka uske usi bhaanje ne khatl kar diya tha….jiss ne 3 maah pahle us sanstha mein goya uske khatl ka rehearsal kiya tha….bilkul usi tarah saalgiraah ki mubarakbad dete waqt usne apne mamu par 4 fire kiye the….
Aur
wo usi jagah gir kar thanda ho gaya tha….!

Haa….mujhe yaad hai….Imran ne kaha
Ab….aap khud sochiye main kaise khatarnaak logon ke changool mein fas gaya hu….!

Lekin….sawaal to ye hai ke tumne istifa kyun diya….?

Kya aap ko meri position ka ilm nahi hai….

Haa….main jaanta hu ke tum kin shakshiyathon ke therapist ho….!

Bas….to fir….meri maujooda position ka andaaza laga li jiye….main mar jana pasand karunga….
Lekin
unka khilona nahi banunga….!

Kya tum se unhone kuch karne ko kaha tha….?

Abhi tak to nahi kaha….
Lekin
aap bata di jiye ke achhanak mujhe meri khatarnaak position ka ehsaas dilaane ki koshish karna kya maane rakhta hai….goya mujhe pahle hi dikhana chahte hai ke agar maine unki koi baat na maani to wo mere social haisiyath ko tabaah karenge….!

Huh….Imran sar hila kar bola….ho sakta hai….!

Aur….maine istifa de kar unhe jatana chaha tha ke main khud hi apni is haisiyath ko khatm kar deta hu….
Fir
tum advertise kiya karo un behuda tasveer ki….uske baad unhone dusra tareeka azmaaya….malaiqa ko agawaa kar liya….
Aur
use bandak bana kar istifa wapas lene ke liye dabao daalne lage….!

Mera mashwara hai ke tum istifa wapas le lo….
Aur
dekho ke unki maang kya hai….Imran ne kaha

ye mujh se nahi ho sekega….!

Aisa kar ke tum mulk-o-khaum ki ek behathreen khidmath anjaam do ge….!

Main nahi samjha….?

Wo tum se jo kuch bhi karana chahte hai….tumhari taraf se mayoos ho kar kisi aur tarah karne ki koshish karenge….ho sakta hai ke kaamyaab bhi ho jaye….kyun ke….tum andhere mein ho gaye….!

Ye baat to hai….shahid kuch sochta hua bola

istifa wapas le lo….
Aur
intezar karo….!
Lekin….unhe ab shak bhi to ho sakta hai ke maine unka raaz faash kar diya hoga….!

Main unka shak bhi dur karne ki koshish karunga….
Baherhaal
ye bahut zaroori hai ke unka mansooba hum par zaahir ho jaye….!

Jaisi aap ki marzi….
Lekin
aap unka shak kaise dur karenge….?

Dhamp….Imran baayi (left) aankh daba kar muskuraya

dusri subah ke akhbaraat mein dr malaiqa ki wapsi ki khabar bade hurfon mein chapi hui thi….

Police ke bayaan ke mutabeekh usne shaher ki ek imaarat par chaapa maar kar….na sirf malaiqa ko balki uske bhai shahid ko bhi baramad kar liya tha….wo dono dhamp naami kisi aadmi ki khaid mein the….isse pahle undono ko is wajah ka maqsad zaahir hota police un tak pahunchne mein kaamyaab ho gayi….dhamp giraftaar nahi ho saka….dhamp ka huliya bhi chapa tha….

Police ne public se darkhwaast ki thi ke….
Agar
koi dhamp ke baare mein kisi khism ki maalumaat ko farhaam karna chahe to kisi hichkichahath ke bagair saamne aaye….uska naam raaz rakha jayega….
Aur
us sahaayata ke sile mein inaam ka haqdar bhi karaar payega….!

Dr shahid aur malaiqa apne ghar pahuch gaye the….aane-jane walon ka tanta sa baanda hua tha….

Rahman sahab bhi khairiyat dariyaaft karne aaye the….

Mujhe sab kuch maalum ho chuka hai….tum befikr rahi….rahman sahab ne kaha

Imran bhai ki inayath hai….shahid bola

kisi ke saamne uska naam bhi mat lena….

Sawaal hi paida nahi hota….

Aur kal se tum apni duty par jaoge….!

Bahut behtar….!

Mujhe halaath se bakhabar rakhna….

Aisa hi hoga….

Malaiqa ko hidayath (nirdesh) kar do ke dhamp ke alawa aur kisi ka naam na le….!

Wo bhi achhi tarah samajh chuki hai ke use kya karna hai….!

Kuch der baith kar wo chale gaye….

Shahid aaram karna chahta tha….
Lekin
aane-jane walon ki wajah se mumkin nahi ho raha tha….

3 baje usne usi na maalum videshi ki phone call receive ki thi….jo pahle bhi usse phone par guftgu karta raha tha….!
Tum ne bahut aqalmandi ka saboot diya hai doctor….dusri taraf se awaaz ayi

shukriya….shahid ka lahja ghusela tha

istifa bhi wapas le lo….!

Kal se duty par jaunga….
Akhar
tum mujhse chahte kya ho….?

Bas yahi ke tum istifa wapas le lo….

Aur….uske baad….?

Jaldbaazi nahi….tum tassavoor nahi kar sakte ke bhavishye mein tum kya banne walo ho….
Agar
apno hi ki tarah sahyog karoge to bade martabe paaoge….tumhare mulk mein tum se zyada daulathmand aadmi kaun hoga….!

Yaqeen karo ke mujhse koi napasandida kaam na kara sakoge….!

Tum pahle se ye kaise samajh liya ke wo kaam tumhare liye napasandida hoga….?

Agar….tum ye samajhte ho ke director-general ki beti se mera rishta ho jane ke baad mujhse koi sarkaari raaz haasil kar loge to ye tumhari kam khayali hai….main tumhare haathon apni zillat gawaara karunga….
Lekin
gaddaari mujhse nahi ho sakegi….!

Shayad….tum kisi kadar zehni mareez bhi ho gaye ho….fizool baatein soch rahe ho….humare liye tumhare sarkaari raaz koi ahmiyath nahi rakhte….wo sire se raaz hi nahi humare liye….!

Fir….kya chahte ho….?

Kuch bhi nahi….

To fir….tumhe mere istife se kya sarokaar….?

Bahuttar baatein aamne-saamne ki jaa sakti hai….

To aamne-saamne karlo….

Abhi waqt nahi aya….
Aur
haa….apni bahan se kahe do ke dhamp ke alawa aur kisi ki kahani na sunaye….!

Pahle hi taakid kar di hai….shahid ne nakhushgawaar lahje mein kaha

tum se yahi umeed thi….tumne khwaamkha baat badha di doctor….
Varna
baat kuch bhi na thi….!

Main uljhan mein mubtela hu….

Kya main tumhari uljhan abhi dur nahi kar saka….?

Nahi….bilkul nahi….!

Imran kahan hai….?

Main nahi jaanta….mulakhaat nahi hui….!

Achha….khuda hafiz….kahe kar dusri taraf se silsila khatm kar diya gaya….!
Udhar us videshi ne shahid se Imran ke baare mein pucha tha….
Aur
idhar Imran phone par hans ke number dial kar raha tha….

Dusri taraf se kornila ki awaaz sunai di….main Imran hu….usne kaha

oh….maine tumhe kitna talaash kiya hai….kahan ho tum….?

Jahan bhi hu….khatre mein hu….!

Kyun….tumhe kya khatra hai….?

Pata nahi kyun….us dauraan mein kuch na maalum log mere dushman ho gaye hai….!

Main nahi samajh sakti ke tum kya kahe rahe ho….

Fikr na karo….ye batao police ne tumhara picha chhoda ya nahi….?

Beshak chhodegi….kya tum ne aaj ka akhbaar nahi dekha….?

Main wahan hu jahan akhbaraat nahi pahunchte….

Kornila ne use malaiqa ki wapsi ki khabar akhbaaraat ki tippaniyon sameth sunai….

Ajeeb naam hai….dhamp….Imran bola




किस बिना पर शक हुआ था तुम्हे….? इमरान ने उसे गौर से देखते हुए पूछा

वहाँ मरीज़ भी होते थे….मैं जब वहाँ था उसी दौरान एक अफ्रीकी मुल्क का शहज़ादा अपने किसी मरीज़ का इलाज करने के लिए दाखिल हुआ था….वहाँ के बादशाह का भांजा था….दवाइयों का आदि था….जिन्सी (सेक्स) का शिकार….

और असाधारण शक्ति के केप्सूल का ख्वहिश्मन्द था….वो लोग उसका पोषीदा (छिपा) तौर पर उसका किसी किस्म का ट्रीटमेंट करने लगे….एक दिन वो नशे की झोंक में रोने लगा….

और बोला….कि वो इस बार अपने मामू यानी उस अफ्रीकी मुल्क के बादशाह की सालगिराह के जश्न में शिरकत (भाग) नही कर सकेगा….संस्था के थेरपिस्ट्स ने उसे इतमीनान दिलाते हुए वादा किया कि वो वहीं से सालगिराह के जश्न बरपा कर के उसके लिए संस्कार की आदाएगी का मौक़ा फरहाम कर देंगे….आप यक़ीन की जिए इमरान साहब कि इतनी सी बात के लिए उन्होने बहुत बड़ी रकम खर्च कर दी थी….बा-क़ायदा दरबार का सेट लगाया था….
और एक ऐसा आदमी भी उन्होने ढूंड निकाला था….जो उसके मामू का हमशक्ल था….जश्न सालगिरह हुई….मुबारकबाद देने की रसम के वक़्त शहज़ादा उसके करीब पहुँचा….

और रेवोल्वेर निकाल कर उस पर फाइरिंग शुरू कर दी….कारतूस नकली थे….बात हसी में टल गयी….लोगों ने ज़ोर-ज़ोर से क़हक़हे लगाए थे….
और तालियाँ बजाई थी….
लेकिन
मुझे ऐसा ही लगा था….जैसे उस वक़्त वो शहज़ादा मशीनी तौर पर हरकत करता रहा हो….कुछ सोचे समझे बगैर में उलझन में मुब्तेला हो गया था….दूसरे दिन मौक़ा निकाल कर मैने उससे बात की थी….
यक़ीन की जिए….

वो हैरत से मूह खोले मुझे देखता रहा था….कुछ भी तो याद नही था उसे….फिर वो हँस कर बोला….शायद तुमने ख्वाब देखा था….डॉक्टर शाहिद खामोश हो कर कुछ सोचने लगा….

सालगिराह की बात खुद उसने शुरू की थी….
और रो दिया था….? इमरान ने सवाल किया

नही….उसके मुल्क की रस्मों रिवाज की बातें छिड़ी हुई थी….बादशाह की सालगिराह का भी ज़िक्र शुरू हुआ था….
और
उसने रोना शुरू कर दिया था….खैर अब से एक साल पहले का वक़ीया याद की जिए….आफ्रिका के उसी मुल्क के बादशाह का उसके उसी भानजे ने कत्ल कर दिया था….जिस ने 3 माह पहले उस संस्था में गोया उसके कत्ल का रिहर्सल किया था….बिल्कुल उसी तरह सालगिराह की मुबारकबाद देते वक़्त उसने अपने मामू पर 4 फाइयर किए थे….
और वो उसी जगह गिर कर ठंडा हो गया था….!

हाँ….मुझे याद है….इमरान ने कहा

अब….आप खुद सोचिए मैं कैसे ख़तरनाक लोगों के चन्गूल में फस गया हूँ….!

लेकिन….सवाल तो ये है कि तुमने इस्तीफ़ा क्यूँ दिया….?

क्या आप को मेरी पोज़िशन का इल्म नही है….

हाँ….मैं जानता हूँ कि तुम किन शख्सियतो के थेरपिस्ट हो….!

बस….तो फिर….मेरी मौजूदा पोज़िशन का अंदाज़ा लगा ली जिए….मैं मर जाना पसंद करूँगा….
लेकिन उनका खिलोना नही बनूंगा….!

क्या तुम से उन्होने कुछ करने को कहा था….?

अभी तक तो नही कहा….
लेकिन आप बता दी जिए कि अचानक मुझे मेरी ख़तरनाक पोज़िशन का एहसास दिलाने की कोशिश करना क्या माने रखता है….गोया मुझे पहले ही दिखाना चाहते है कि अगर मैने उनकी कोई बात ना मानी तो वो मेरे सोशियल हैसियत को तबाह करेंगे….!

हुहम….इमरान सर हिला कर बोला….हो सकता है….!

और….मैने इस्तीफ़ा दे कर उन्हे जताना चाहा था कि मैं खुद ही अपनी इस हैसियत को ख़त्म कर देता हूँ….
फिर तुम अड्वरटाइज़ किया करो उन बेहूदा तस्वीर की….उसके बाद उन्होने दूसरा तरीका आज़माया….मलइक़ा को अगवा कर लिया….
और उसे बंधक बना कर इस्तीफ़ा वापस लेने के लिए दबाव डालने लगे….!

मेरा मशवरा है कि तुम इस्तीफ़ा वापस ले लो….
और देखो कि उनकी माँग क्या है….इमरान ने कहा

ये मुझ से नही हो सेकेगा….!

ऐसा कर के तुम मुल्क-ओ-क़ौम की एक बेहतरीन खिदमत अंजाम दो गे….!

मैं नही समझा….?

वो तुम से जो कुछ भी करना चाहते है….तुम्हारी तरफ से मायूस हो कर किसी और तरह करने की कोशिश करेंगे….हो सकता है कि कामयाब भी हो जाए….क्यूँ कि….तुम अंधेरे में हो गये….!

ये बात तो है….शाहिद कुछ सोचता हुआ बोला

इस्तीफ़ा वापस ले लो….
और इंतेज़ार करो….!

लेकिन….उन्हे अब शक भी तो हो सकता है कि मैने उनका राज़ फ़ाश कर दिया होगा….!

मैं उनका शक भी दूर करने की कोशिश करूँगा….
बहेरहाल ये बहुत ज़रूरी है कि उनका मंसूबा हम पर ज़ाहिर हो जाए….!

जैसी आप की मर्ज़ी….
लेकिन आप उनका शक कैसे दूर करेंगे….?

ढांप….इमरान बाई (लेफ्ट) आँख दबा कर मुस्कुराया

दूसरी सुबह के अख़बारात में डॉक्टर मलइक़ा की वापसी की खबर बड़े हरफो में छपी हुई थी….

पोलीस के बयान के मुताबिक उसने शहर की एक इमारत पर छापा मार कर….ना सिर्फ़ मलइक़ा को बल्कि उसके भाई शाहिद को भी बरामद कर लिया था….वो दोनो ढांप नामी किसी आदमी की क़ैद में थे….इससे पहले उन्दोनो को इस वजह का मक़सद ज़ाहिर होता पोलीस उन तक पहुँचने में कामयाब हो गयी….ढांप गिरफ्तार नही हो सका….ढांप का हुलिया भी छापा था….

पोलीस ने पब्लिक से दरख़्वास्त की थी कि….
अगर कोई ढांप के बारे में किसी किस्म की मालूमात को फरहाम करना चाहे तो किसी हिचकिचाहट के बगैर सामने आए….उसका नाम राज़ रखा जाएगा….
और उस सहायता के सिले में इनाम का हक़दार भी करार पाएगा….!

डॉक्टर शाहिद और मलइक़ा अपने घर पहुच गये थे….आने-जाने वालों का ताँता सा बँधा हुआ था….

रहमान साहब भी ख़ैरियत दरियाफ़्त करने आए थे….

मुझे सब कुछ मालूम हो चुका है….तुम बेफ़िक्र रहो….रहमान साहब ने कहा

इमरान भाई की इनायत है….शाहिद बोला

किसी के सामने उसका नाम भी मत लेना….

सवाल ही पैदा नही होता….

और कल से तुम अपनी ड्यूटी पर जाओगे….!

बहुत बेहतर….!

मुझे हालात से बाख़बर रखना….

ऐसा ही होगा….

मलइक़ा को हिदायत (निर्देश) कर दो के ढांप के अलावा और किसी का नाम ना ले….!

वो भी अच्छी तरह समझ चुकी है कि उसे क्या करना है….!

कुछ देर बैठ कर वो चले गये….

शाहिद आराम करना चाहता था….
लेकिन आने-जाने वालों की वजह से मुमकीन नही हो रहा था….

3 बजे उसने उसी ना मालूम विदेशी की फोन कॉल रिसीव की थी….जो पहले भी उससे फोन पर गुफ्तगू करता रहा था….!
तुम ने बहुत अक़ल्मंदी का सबूत दिया है डॉक्टर….दूसरी तरफ से आवाज़ आई

शुक्रिया….शाहिद का लहज़ा गुस्सैला था

इस्तीफ़ा भी वापस ले लो….!

कल से ड्यूटी पर जाउन्गा….
आख़िर तुम मुझसे चाहते क्या हो….?

बस यही की तुम इस्तीफ़ा वापस ले लो….

और….उसके बाद….?

जल्दबाज़ी नही….तुम तस्सउूर नही कर सकते कि भविष्य में तुम क्या बनने वालो हो….
अगर अपनो ही की तरह सहयोग करोगे तो बड़े मर्तबे पाओगे….तुम्हारे मुल्क में तुम से ज़्यादा दौलतमंद आदमी कौन होगा….!

यक़ीन करो कि मुझसे कोई नापसंदीदा काम नही करा सकोगे….!

तुमने पहले से ये कैसे समझ लिया कि वो काम तुम्हारे लिए नापसंदीदा होगा….?

अगर….तुम ये समझते हो कि डाइरेक्टर-जनरल की बेटी से मेरा रिश्ता हो जाने के बाद मुझसे कोई सरकारी राज़ हासिल कर लोगे तो ये तुम्हारी कम ख़याली है….मैं तुम्हारे हाथों अपनी ज़िल्लत गवारा करूँगा….
लेकिन गद्दारी मुझसे नही हो सकेगी….!

शायद….तुम किसी कदर ज़हनी मरीज़ भी हो गये हो….फ़िज़ूल बातें सोंच रहे हो….हमारे लिए तुम्हारे सरकारी राज़ कोई अहमियत नही रखते….वो सिरे से राज़ ही नही हमारे लिए….!

फिर….क्या चाहते हो….?

कुछ भी नही….

तो फिर….तुम्हे मेरे इस्तीफ़े से क्या सरोकार….?

बहुतर बातें आमने-सामने की जा सकती है….

तो आमने-सामने कर्लो….

अभी वक़्त नही आया….
और हाँ….अपनी बहन से कहे दो कि ढांप के अलावा और किसी की कहानी ना सुनाए….!

पहले ही ताकीद कर दी है….शाहिद ने नाखुशगवार लहजे में कहा

तुम से यही उम्मीद थी….तुमने ख्वांखा बात बढ़ा दी डॉक्टर….
वरना बात कुछ भी ना थी….!

मैं उलझन में मुब्तेला हूँ….

क्या मैं तुम्हारी उलझन अभी दूर नही कर सका….?

नही….बिल्कुल नही….!

इमरान कहाँ है….?

मैं नही जानता….मुलाकात नही हुई….!

अच्छा….खुदा हाफ़िज़….कह कर दूसरी तरफ से सिलसिला ख़त्म कर दिया गया….!
उधर उस विदेशी ने शाहिद से इमरान के बारे में पूछा था….
और इधर इमरान फोन पर हंस के नंबर डाइयल कर रहा था….

दूसरी तरफ से कॉर्निला की आवाज़ सुनाई दी….मैं इमरान हूँ….उसने कहा

ओह….मैने तुम्हे कितना तलाश किया है….कहाँ हो तुम….?

जहाँ भी हूँ….ख़तरे में हूँ….!

क्यूँ….तुम्हे क्या ख़तरा है….?

पता नही क्यूँ….उस दौरान में कुछ ना मालूम लोग मेरे दुश्मन हो गये है….!

मैं नही समझ सकती कि तुम क्या कहे रहे हो….

फ़िक्र ना करो….ये बताओ पोलीस ने तुम्हारा पीछा छोड़ा या नही….?

बेशक छोड़ेगी….क्या तुम ने आज का अख़बार नही देखा….?

मैं वहाँ हूँ जहाँ अख़बारात नही पहुँचते….

कॉर्निला ने उसे मलइक़ा की वापसी की खबर अख़बारात की टिप्पणियों समेत सुनाई….

अजीब नाम है….ढांप….इमरान बोला

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Posted: 07 Dec 2017 11:58
by Jemsbond

naam hi se khaufnaak lagta hai….
Baherhaal
ab police mera picha chhodegi….
Aur
haa….mujhe maalum hua hai ke tum intellegence-department ke sab se bade officer ke bete ho….!

To fir….kya soch rahi ho….mujhse dosti khatm kar dogi….?

Sawaal hi paida nahi hota….ab to main tum se ye darkhwaast karungi ke mujhe aur mere baap ko us musibath se najaath dilaane ki koshish karo….!

Zaroor….zaroor….har khidmath ke liye haazir hu….!

To fir mujhe batao….main aau….ya tum mere ghar aa rahe ho….?

Ek ghante baad phone par bata dunga….ok….Imran ne phone kaat diya….wo rahman sahab se guftgu karna chahta tha….
Lihaazaa
ghar ke number dial kuye….is waqt wo office se wapas aa chuke the….dusri taraf se call unhone receive ki….

Aap apne office ke telephone exchange ki khabar li jiye….Imran ne kaha

mera bhi yahi khayal hai….rahman sahab ki awaaz ayi….shahid ke hut ka number un logon tak isi tarah pahuncha hoga….humari guftgu se pahle wo khattai taur par anjaan the….!

Lekin….aap bhi is silsile ki chaanbeen na shuru kar di jiyega….!

Kyun….?

Isi tarah hum unhe galat raaston par daal kar be-naqaab kar sakenge….!
Khayaal to thik hai….achhi baat hai….filhaal us maamle ko aise rakhta hu….!

Khader ne kya bataya….?

300 rupiye ke ewaz usne khaab mein lifafa aur aadha teetar rakha tha….kisi ke bawarchi ne ye kahe kar ke use us kaam par aamada kiya tha….wo mere ek kareebi dost ka bawarchi hai….
Aur
wo kareebi dost mujhse ek dilchasp mazaaq karna chahta hai….!

Kiss ka bawarchi tha….?

Khader nashaandehi na kar saka….
Baherhaal
maine khader ko nikaal diya hai….!

Sulaiman ke liye kya hai….

Kya wo bhi is maamle mein sanjeeda hai….?

Mar jaane ki had tak….

Achhi baat hai….main dekhunga….!

Aur haa….kingston ke thane ke incharge ko hidayath kar di jiye….wo hans ki ladki ka picha na chhode….is silsile mein puch-gaach jaari rakhe ke wo car kiss ki thi jiss mein malaiqa ko le gayi thi….!

Wo to hota hi rahega….us gaadi ki wajah se case khatm nahi ho sakta….!

Main yahi chahta hu….!

Fir dusri taraf se silsila cut hone ki awaaz sun kar Imran ne receiver rakh diya….wo ab bhi seiko mansion mein hi tha….

Kuch der baad usne apne flat ke number dial kiye….

Joseph ne call receive ki….
Sulaiman ko phone par bulao….

Mera usse jhagdha ho gaya hai boss….main usse ittilaa nahi nahi de sakta….

Kiss baat par jhagdha hua tha….?

Shaadi ke masle par….

Aaha….to kya aap bhi candidate hai….?

Sawaal hi paida nahi hota….

Fir….kya baat hai….?

Wo kahe raha tha ke apni biwi ko bhi is flat mein laa kar rakhega….!

Achha to kya kisi aur ke supurd kar ke ayega….?

Ye baat nahi hai boss….flat mein main bhi rehta hu….!

Arey….to kya tujhe khud par bharosa nahi hai….?

Kyun nahi hai….boss main aisi jagah nahi rahe sakta jahan koi aurat bhi rehti ho….!

Aurat ke pet mein kaise raha tha….?

Apni marzi se nahi raha tha….

Arey….kya mujhse bhi jhagdha karoge….?

Dekho boss….samajhne ki koshish karo….ya yahan wo rahegi ya main rahunga….!

Agar ye baat hai….
To….
Pahle hi bata deta….sulaiman ko kisi tarah is par raazi kar leta ke tujhse shaadi kar le….ab to kuch bhi nahi kar sakta uski baat pakki ho gayi hai….!

Main apna sar deewar se takra kar chaknachur kar lunga….

Receiver rakhne ke baad….!

Haaain….main kya karu….?

Zyada bakwaas karega to 7 ki 4 hi bottlein rahe jayengi….!

Main tum se thode hi kuch kahe raha hu….khuda se fariyaad kar raha hu….!

Waqai usne tujhe aurat na bana kar bada zulm kiya hai….
Aur
joseph dahade maar-maar kar rone laga….

Abe-o-kambakht….receiver rakh de….rakh de receiver….!

Nahi….tumhe sunna padhega….wo rota hua bola

khuda ghaarath kare….Imran ne receiver patak kar kaha….khopdi paka kar rakh di nalayakhon ne….
Aur
is tarah sar hilaane laga jaise garmi chad gayi ho….!

नाम ही से खौफनाक लगता है….
बहेरहाल
अब पोलीस मेरा पीछा छोड़ेगी….
और हाँ….मुझे मालूम हुआ है कि तुम इंटेलेजेन्स-डिपार्टमेंट के सब से बड़े ऑफीसर के बेटे हो….!

तो फिर….क्या सोंच रही हो….मुझसे दोस्ती ख़त्म कर दोगि….?

सवाल ही पैदा नही होता….अब तो मैं तुम से ये दरख़्वास्त करूँगी कि मुझे और मेरे बाप को उस मुसीबत से निजात दिलाने की कोशिश करो….!

ज़रूर….ज़रूर….हर खिदमत के लिए हाज़िर हूँ….!

तो फिर मुझे बताओ….मैं आउ….या तुम मेरे घर आ रहे हो….?

एक घंटे बाद फोन पर बता दूँगा….ओके….इमरान ने फोन काट दिया….वो रहमान साहब से गुफ्तगू करना चाहता था….
लिहाज़ा घर के नंबर डाइयल किया….इस वक़्त वो ऑफीस से वापस आ चुके थे….दूसरी तरफ से कॉल उन्होने रिसीव की….

आप अपने ऑफीस के टेलिफोन एक्सचेंज की खबर ली जिए….इमरान ने कहा

मेरा भी यही ख़याल है….रहमान साहब की आवाज़ आई….शाहिद के हट का नंबर उन लोगों तक इसी तरह पहुँचा होगा….हमारी गुफ्तगू से पहले वो कतई तौर पर अंजान थे….!

लेकिन….आप भी इस सिलसिले की छानबीन ना शुरू कर दी जिएगा….!

क्यूँ….?

इसी तरह हम उन्हे ग़लत रास्तों पर डाल कर बे-नक़ाब कर सकेंगे….!

ख़याल तो ठीक है….अच्छी बात है….फिलहाल उस मामले को ऐसे रखता हूँ….!

क़ादिर ने क्या बताया….?

300 रूपीए के एवज़ उसने खाब में लिफ़ाफ़ा और आधा तीतर रखा था….किसी के बावरची ने ये कह कर के उसे उस काम पर आमादा किया था….वो मेरे एक करीबी दोस्त का बावरची है….
और वो करीबी दोस्त मुझसे एक दिलचस्प मज़ाक़ करना चाहता है….!

किस का बावरची था….?

क़ादिर नशानदेही ना कर सका….
बहेरहाल मैने क़ादिर को निकाल दिया है….!

सुलेमान के लिए क्या है….

क्या वो भी इस मामले में संजीदा है….?

मर जाने की हद तक….

अच्छी बात है….मैं देखूँगा….!

और हाँ….किंग्सटन के थाने के इंचार्ज को हिदायत कर दी जिए….वो हंस की लड़की का पीछा ना छोड़े….इस सिलसिले में पूछ-गाच जारी रखे कि वो कार किस की थी जिस में मलइक़ा को ले गयी थी….!

वो तो होता ही रहेगा….उस गाड़ी की वजह से केस ख़त्म नही हो सकता….!

मैं यही चाहता हूँ….!

फिर दूसरी तरफ से सिलसिला कट होने की आवाज़ सुन कर इमरान ने रिसीवर रख दिया….वो अब भी सेइको मॅन्षन में ही था….

कुछ देर बाद उसने अपने फ्लॅट के नंबर डाइयल किए….

जोसेफ ने कॉल रिसीव की….
शुलैमान को फोन पर बुलाओ….

मेरा उससे झगड़ा हो गया है बॉस….मैं उससे इत्तिला नही नही दे सकता….

किस बात पर झगड़ा हुआ था….?

शादी के मसले पर….

आहा….तो क्या आप भी कॅंडिडेट है….?

सवाल ही पैदा नही होता….

फिर….क्या बात है….?

वो कह रहा था कि अपनी बीवी को भी इस फ्लॅट में ला कर रखेगा….!

अच्छा तो क्या किसी और के सुपुर्द कर के आएगा….?

ये बात नही है बॉस….फ्लॅट में मैं भी रहता हूँ….!

अरे….तो क्या तुझे खुद पर भरोसा नही है….?

क्यूँ नही है….बॉस मैं ऐसी जगह नही रह सकता जहाँ कोई औरत भी रहती हो….!

औरत के पेट में कैसे रहा था….?

अपनी मर्ज़ी से नही रहा था….

अरे….क्या मुझसे भी झगड़ा करोगे….?

देखो बॉस….समझने की कोशिश करो….या यहाँ वो रहेगी या मैं रहूँगा….!

अगर ये बात है….
तो….
पहले ही बता देता….सुलेमान को किसी तरह इस पर राज़ी कर लेता कि तुझसे शादी कर ले….अब तो कुछ भी नही कर सकता उसकी बात पक्की हो गयी है….!

मैं अपना सर दीवार से टकरा कर चकनाचूर कर लूँगा….

रिसीवर रखने के बाद….!

हाऐं….मैं क्या करूँ….?

ज़्यादा बकवास करेगा तो 7 की 4 ही बोतलें रहे जाएँगी….!

मैं तुम से थोड़े ही कुछ कह रहा हूँ….खुदा से फरियाद कर रहा हूँ….!

वाक़ई उसने तुझे औरत ना बना कर बड़ा ज़ुल्म किया है….
और
जोसेफ दहाड़े मार-मार कर रोने लगा….

अबे-ओ-कम्बख़्त….रिसीवर रख दे….रख दे रिसीवर….!

नही….तुम्हे सुनना पड़ेगा….वो रोता हुआ बोला

खुदा गारत करे….इमरान ने रिसीवर पटक कर कहा….खोपड़ी पका कर रख दी नालयकों ने….
और इस तरह सर हिलाने लगा जैसे गर्मी चढ़ गयी हो….!



Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Posted: 07 Dec 2017 12:02
by Ankit
superb update

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Posted: 07 Dec 2017 12:05
by Kamini
Mast update

Re: आधा तीतर आधा बटेर (Aadha teetar Aadha bater)

Posted: 08 Dec 2017 21:44
by Jemsbond
Embassy ka grobar dagmore samaaji zindagi mein khaase rakh rakhau wala aadmi mashahoor tha….
Aur
mokaami sanskruti sargarmiyon mein is tarah hissa leta tha….jaise uska samaaji bhavishye isi mulk se sambhand ho….kabhi-kabhi salwaar suit aur khadi kali topi se bhi shaukh karta….urdu achhi khaasi bol leta tha….
Lekin jab urdu mein hi sanjeedgi par utar aane ki koshish karta to mazaaqiya khair ho jata….!

Harlem house uski residence ka naam tha….
Lekin andaaza karna dushwaar tha ke us imarath mein uske kitne afraad rahte hai….roz hi naye-naye surtein dikhayi deti….!

Videshi auraton ke saath-saath daulatmand tabkhe ki mokaami aurton mein bhi lokpriye tha….khush shakl, sehathmand….
Aur hatta-katta aadmi tha….guftgu ke dauraan honthon par muskurahath khili rehti….uski roshan khayaali aur khush mizaaji ke charche the….
Lekin uski biwi afliya dagmore utni hi tang nazar, shakki….
Aur cheedh-cheedhi thi….aurton mein apne pati ki lokpriyeta use ek aankh nahi bhaati thi….uska khayal tha ke wo uski aankhon mein dhool jhonk raha hai….bazaaher mahez khush tabi (foreplay) tak simit rahne wala baatuni aurton ka bahut bada shikaari hai….kabhi-kabhi wo do took apne khayalaat ka izhaar bhi kar baithti thi….
Lekin
fauran use challenge kar diya jata….saabit karo….

Shikaari chor hota hai….wo kahti….saboot nahi Chodhta….!

Agar….main itna hi bura hu to tum mujhse alag ho sakti ho….dagmore ka aakhri jumla hota….
Aur
wo daant pees kar rahe jati….khud kisi badi haisiyath wale khandaan se taalluk nahi rakhti thi….
Lehaza
maujooda social status ko khatre mein daalna bhi kam akhlaakhi hi hoti….uska khayal tha ke wo kabhi-na-kabhi uske khilaaf koi pokhta saboot zaroor farhaam kar ke ghutne tekne par majboor kar degi….!

Dagmore waqai bahut chaalaak tha….sach-mooch saboot nahi Chodhta tha….
Aur
wo tamaam aurtein bhi usse sahyog karti thi….jin se uska taalluk hota tha…..behad savdhaan rahti….!

In dinon wo apne embassy ke first secretary ki biwi se uljha hua tha….bahut dino baad use ek aisi aurat mili thi….jo uski umeed par puri utri thi….wo bahut khush tha….!

Monika bhi us par toot kar giri thi….
Shayad
first secretary uski umeed par pura nahi utar saka tha….!

Dagmore ki nazar hi aisi aurton par rehti thi….jo apne pati se khush na ho….baherhaal….wo is waqt bhi monika ke baare mein soch raha tha….
Achanak
phone ki ghanti baji….
Aur
wo chaunk kar intrument ko ghurne laga….
Fir
haath badha kar receiver ko uthaya….hello….dagmore speaking….

Bahut behtar….dusri taraf se awaaz ayi….bahut acha hai ke tum hi ho….kya tum apni daak dekh chuke ho….?

Nahi….usne gair iraadi taur par kaha….
Fir
jhalla kar bola….tum kaun ho….?

Tumhari daak mein ek laal rang ka lifafa hai….kahin tumhari biwi ke haath na lag jaye….!

Kya bak rahe ho….? Tum kaun ho….?
Lekin
jawaab milne ki bajaye silsila cut hone ki awaaz ayi….

Dagmore ki bhavein sikhudi aur usne receiver rakhta hue aaj ki daak par nazar daali….kayi lifafe tray mein rakhe hue the….gair iraadi taur par haath uski taraf badh gaya….dar haqeeqat ek laal lifafa maujood tha….usne lifafa chaak kar diya….
Aur….fir
uski aankhein fati-ki-fati rahe gayi….!

Phone ki ghanti fir baji….
Aur
usne chaunk kar chor nazron se chaaron taraf dekha….
Aur
lifafe ko us tasveer sameth jaldi se coat ke andruni jeb mein rakh liya….jo lifafe se baramad hui thi….!

Phone ki ghanti bajti rahi….

Usne khud ko sambhaalne ki koshish karte hue receiver uthaya….hello….ba mushkil awaaz nikal saki

kya khayal hai….dusri taraf se awaaz ayi

hello….kaun hai….?

Andaaza lagane ki koshish karo….

Yeh kya bakwaas hai….

Tasveer sambhaal kar rakhna….kahin tumhari biwi ki nazar mein na pad jaye….!

T….t….tum kaun ho….batate kyun nahi….

Samajhne ki koshish karo….

Main nahi samjha….

Bahut jaldi samajh jaoge….yeh tasveer kuch zyada hairat angez nahi hai….usse bhi kahin zyada sansani khaiz tasveer mere khabze mein hai….
Aur
sab tumhari zaat se taalluk rakhti hai….
Achanak
silsila cut ho gaya….

Dagmore hello….hello….karta rahe gaya….receiver rakh kar wo apni kursi mein dher ho gaya….wo is tarah haamp raha tha….jaise milon lambi daud laga kar yahan tak pahuncha ho….saare jism se paseena choot pada tha….aankhon mein khauff ke saath nafrath ki jhalkiyan bhi thi….!
Kuch der tak wo aise hi halath mein baitha raha….ahista-ahista is haijaani kaifiyath (tense situation) par khaboo paane ki koshish karta raha

thodi der baad usne receiver utha kar kisi ke number dial kiya….
Aur
mouth peace mein bola….dagmore

kya baat hai….? Dusri taraf se awaaz ayi

kya tum mujhe apni is harkat ka matlab samjha sakoge….? Dagmore ghuseli awaaz mein bola

kya kissa hai….tum sanjeeda maalum hote ho….?

Aakhir mujhse chahte kya ho….?

Khool kar baat karo….meri samajh mein kuch nahi aa raha….dusri taraf se awaaz ayi

laal lifafe ka kya matlab hai….?

Kaisa laal lifafa….?

Tum awaaz badalne ke bhi maahir ho….main achhi tarah jaanta hu….kya tumne abhi phone par mujhe dhamki nahi di thi….?

Kya tum nashe mein dagmore….?

Fauri yahan pahuncho….dagmore ghurraya

filhaal main ise munaseeb nahi samajhta ke apni jagaah ko Chod du….!

Main aamne-saamne guftgu karna chahta hu….dagmore cheekh kar bola

apna lehja durust karo….tumhe pata nahi kya ho gaya hai….?

Jiss tarah bhi mumkin ho yeh mulakhaat zaroori hai….!

Tum kisi laal lifafe ki baat kar rahe the….?

Anjaan banne ki koi zaroorat nahi….


एंबसी का ग्रॉबार डगमोरे सामाज़ी ज़िंदगी में ख़ासे रख रखाव वाला आदमी मशहूर था….
और मुकामी संस्कृति सरगर्मियों में इस तरह हिस्सा लेता था….जैसे उसका सामाज़ी भविष्य इसी मुल्क से संबंध हो….कभी-कभी सलवार सूट और खड़ी काली टोपी से भी शौक करता….उर्दू अच्छी ख़ासी बोल लेता था….

लेकिन जब उर्दू में ही संजीदगी पर उतर आने की कोशिश करता तो मज़ाक़िया खैर हो जाता….!

हर्लें हाउस उसकी रेसिडेन्स का नाम था….
लेकिन अंदाज़ा करना दुश्वार था कि उस इमारत में उसके कितने अफ्राद रहते है….रोज़ ही नयी-नयी सूरतें दिखाई देती….!

विदेशी औरतों के साथ-साथ दौलतमंद तबके की मुकामी औरतों में भी लोकप्रिय था….खुश शक्ल, सेहतमंद….
और हट्टा-कट्टा आदमी था….गुफ्तगू के दौरान होंठों पर मुस्कुरहत खिली रहती….उसकी रोशन ख़याली और खुश मिज़ाजी के चर्चे थे….

लेकिन उसकी बीवी अफलिया डगमोरे उतनी ही तंग नज़र, शक्की….
और छिड़-चीढ़ी थी….औरतों में अपने पति की लोकप्रियता उसे एक आँख नही भाती थी….उसका ख़याल था कि वो उसकी आँखों में धूल झोंक रहा है….बाज़ाहेर महेज़ खुश तबी (फोरप्ले) तक सीमित रहने वाला बातुनी औरतों का बहुत बड़ा शिकारी है….कभी-कभी वो दो टुक अपने ख़यालात का इज़हार भी कर बैठती थी….
लेकिन फ़ौरन उसे चॅलेंज कर दिया जाता….साबित करो….

शिकारी चोर होता है….वो कहती….सबूत नही छोड़ता….!

अगर….मैं इतना ही बुरा हूँ तो तुम मुझसे अलग हो सकती हो….डगमोरे का आखरी जुमला होता….
और वो दाँत पीस कर रह जाती….खुद किसी बड़ी हैसियत वाले खानदान से ताल्लुक नही रखती थी….
लहज़ा
मौजूदा सोशियल स्टेटस को ख़तरे में डालना भी कम अखलाखी ही होती….उसका ख़याल था कि वो कभी-ना-कभी उसके खिलाफ कोई पुख़्ता सबूत ज़रूर फरहाम कर के घुटने टेकने पर मजबूर कर देगी….!

डगमोरे वाक़ई बहुत चालाक था….सच-मूच सबूत नही छोड़ता था….
और वो तमाम औरतें भी उससे सहयोग करती थी….जिन से उसका ताल्लुक होता था…..बेहद सावधान रहती….!

इन दिनों वो अपने एंबसी के फर्स्ट सेक्रेटरी की बीवी से उलझा हुआ था….बहुत दिनो बाद उसे एक ऐसी औरत मिली थी….जो उसकी उम्मीद पर पूरी उतरी थी….वो बहुत खुश था….!

मोनिका भी उस पर टूट कर गिरी थी….
शायद
फर्स्ट सेक्रेटरी उसकी उम्मीद पर पूरा नही उतर सका था….!

डगमोरे की नज़र ही ऐसी औरतों पर रहती थी….जो अपने पति से खुश ना हो….बहेरहाल….वो इस वक़्त भी मोनिका के बारे में सोच रहा था….
अचानक
फोन की घंटी बजी….
और वो चौंक कर फ़ोन को घूर्ने लगा….
फिर हाथ बढ़ा कर रिसीवर को उठाया….हेलो….डगमोरे स्पीकिंग….

बहुत बेहतर….दूसरी तरफ से आवाज़ आई….बहुत अच्छा है कि तुम ही हो….क्या तुम अपनी डाक देख चुके हो….?

नही….उसने गैर इरादि तौर पर कहा….
फिर झल्ला कर बोला….तुम कौन हो….?

तुम्हारी डाक में एक लाल रंग का लिफ़ाफ़ा है….कहीं तुम्हारी बीवी के हाथ ना लग जाए….!

क्या बक रहे हो….? तुम कौन हो….?
लेकिन जवाब मिलने की बजाए सिलसिला कट होने की आवाज़ आई….

डगमोरे की भवें सिकुड़ी और उसने रिसीवर रखता हुए आज की डाक पर नज़र डाली….कयि लिफाफे ट्रे में रखे हुए थे….गैर इरादि तौर पर हाथ उसकी तरफ बढ़ गया….दर हक़ीक़त एक लाल लिफ़ाफ़ा मौजूद था….उसने लिफ़ाफ़ा चाक कर दिया….
और….फिर
उसकी आँखें फटी-की-फटी रह गयी….!

फोन की घंटी फिर बजी….
और उसने चौंक कर चोर नज़रों से चारों तरफ देखा….
और लिफाफे को उस तस्वीर समेत जल्दी से कोट के अन्द्रुनि जेब में रख लिया….जो लिफाफे से बरामद हुई थी….!

फोन की घंटी बजती रही….

उसने खुद को संभालने की कोशिश करते हुए रिसीवर उठाया….हेलो….ब मुश्किल आवाज़ निकल सकी

क्या ख़याल है….दूसरी तरफ से आवाज़ आई

हेलो….कौन है….?

अंदाज़ा लगाने की कोशिश करो….

यह क्या बकवास है….

तस्वीर संभाल कर रखना….कहीं तुम्हारी बीवी की नज़र में ना पड़ जाए….!

त….त….तुम कौन हो….बताते क्यूँ नही….

समझने की कोशिश करो….

मैं नही समझा….

बहुत जल्दी समझ जाओगे….यह तस्वीर कुछ ज़्यादा हैरत अंगेज़ नही है….उससे भी कहीं ज़्यादा सनसनी खेज तस्वीर मेरे कब्ज़े में है….
और सब तुम्हारी ज़ात से तालूक रखती है….
अचानक सिलसिला कट हो गया….

डगमोरे हेलो….हेलो….करता रह गया….रिसीवर रख कर वो अपनी कुर्सी में ढेर हो गया….वो इस तरह हाँप रहा था….जैसे मीलों लंबी दौड़ लगा कर यहाँ तक पहुँचा हो….सारे जिस्म से पसीना छूट पड़ा था….आँखों में ख़ौफ्फ के साथ नफ़रत की झलकियाँ भी थी….!

कुछ देर तक वो ऐसे ही हालत में बैठा रहा….आहिस्ता-आहिस्ता इस हैज कैफियत (टेन्स सिचुयेशन) पर काबू पाने की कोशिश करता रहा

थोड़ी देर बाद उसने रिसीवर उठा कर किसी के नंबर डाइयल किया….
और माउत पीस में बोला….डगमोरे

क्या बात है….? दूसरी तरफ से आवाज़ आई

क्या तुम मुझे अपनी इस हरकत का मतलब समझा सकोगे….? डगमोरे गुस्सैली आवाज़ में बोला

क्या किस्सा है….तुम संजीदा मालूम होते हो….?

आख़िर मुझसे चाहते क्या हो….?

खूल कर बात करो….मेरी समझ में कुछ नही आ रहा….दूसरी तरफ से आवाज़ आई

लाल लिफाफे का क्या मतलब है….?

कैसा लाल लिफ़ाफ़ा….?

तुम आवाज़ बदलने के भी माहिर हो….मैं अच्छी तरह जानता हूँ….क्या तुमने अभी फोन पर मुझे धमकी नही दी थी….?

क्या तुम नशे में डगमोरे….?

फ़ौरन यहाँ पहुँचो….डगमोरे घुर्राया

फिलहाल मैं इसे मुनासीब नही समझता कि अपनी जगाह को छोड़ दूं….!

मैं आमने-सामने गुफ्तगू करना चाहता हूँ….डगमोरे चीख कर बोला

अपना लहज़ा दुरुस्त करो….तुम्हे पता नही क्या हो गया है….?

जिस तरह भी मुमकिन हो यह मुलाकात ज़रूरी है….!

तुम किसी लाल लिफाफे की बात कर रहे थे….?

अंजान बनने की कोई ज़रूरत नही….