Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post Reply
User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

दिलीप- जब तक मैं सिमिता मौसी की नाराज़गी की वजह नही जान जाता,और उन्हे मना नही लेता

विदू- वानु और एलीना को भी ले आते तो

दिलीप- मुझे खुद नही पता कि कितने दिन लगेंगे
और वँया की पढ़ाई का क्या होता

विदू- पढ़ते तो आप भी हैं

दिलीप- सिर्फ़ तीन महीने पढ़ुंगा तो पास हो जाउन्गा
और क्या सोचा था क्या हो गया

विदू- क्या सोचा था आपने

दिलीप- बता के क्या फ़ायदा आज तो नही कर सकता ना

विदू- बताइए ना प्लीज़

दिलीप- सोचा था आज

विदू- नही बोलेंगे तो बात नही करूँगी

दिलीप- वो मैने सोचा था कि आज आपको इटॅलियन ट्रडीशनल स्टाइल में चोदुन्गा

[यह. सुनते ही विदू बुरी तरह से शरमा गयी,उसके गाल एक दम लाल हो गये

विदू- ऐसा कुछ नही होता सब एक जैसा प्यार करते हैं

दिलीप- अरे सच कह रहा हूँ,देखिए मैं आप को बताता हूँ
वहाँ कैसे प्यार करते हैं,शायद दूसरा वर्ड यूज़ करने से आप नाराज़ हो

[विदू शरमाते हुए बोली,, मैं नाराज़ नही होउंगी

दिलीप- हां तो सुनिए,
नही रहने दीजिए वरना मैं मजबूर हो जाउन्गा आपके साथ वो सब करने से

विदू- ठीक है

दिलीप- मैं जानता हूँ अब रात भर आप यही सोचेंगी
इसी लिए चुप चाप सो जाइए

[फिर विदू अपने आप मेरे होंठ पे किस की और मुझे अपनी बाहो में लेके सो गयी,सुबह जब मेरी आँख खुली तो,विदू मुझसे एक दम लिपट के सोई हुई थी

मैने विदू के माथे को चूमा,और फिर उसके गुलाबी रस भरे होंठो को चूसने लगा

कुछ ही देर बाद विदू जाग गयी और मेरे होंठ चूसने लगी

तभी मेरा फोन बजने लगा
मैने फोन की तरफ देखा,और झट से फोन उठा लिया
और बातें करने लगा

फिर विदू वँया से बातें करने लगी
मैं अपना नहा धोके तय्यार हो गया

रूम में देखा तो विदू नही थी,शायद नाश्ता बनाने गयी थी
मैं भी रूम से बाहर आया, प्रीति टीवी देख रही थी

मैं प्रीति के बगल में बैठ गया
वो मुझे गुड मॉर्निंग विश की
फिर वो मुझे अजीब नज़रो से देखने लगी

दिलीप- ऐसे क्या देख रही हो

प्रीति- यह आपने क्या पहना हुआ है

दिलीप- कोट और पॅंट

प्रीति- वोही तो आपने 19 साल के हॅंडसम डॅशिंग

दिलीप- बस बस मैं 26 साल का हूँ

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

प्रीति- आपके पास वो कपड़े नही है
जीन्स टीशर्ट और ब्लॅक जॅकेट

दिलीप- मुझे कौनसा किसी लड़की को इंप्रेस करना है

प्रीति- एक बार पहेन कर देखिए विद्या दी का चेहरा खिल उठेगा

दिलीप- सच

प्रीति- हाँ

[फिर मैं विदू के पास गया

दिलीप- आप मेरे स्टाइलिश कपड़े लाई हैं

विदू- हां ब्लॅक बॅग में हैं

[फिर क्या था मैने रूम में आके ब्लॅक बॅग खोला,और एक टीशर्ट जीन्स पहन के एक ब्लॅक जॅकेट पहेन लिया
साथ में अपने शूस भी बदल दिया

और जब मैं रूम से बाहर निकला विदू मुझे देखते ही खो सी गयी

प्रीति- वाउ भैया आप तो पूरे हीरो दिख रहे हो
आज आप मुझे कॉलेज छोड़ने आएँगे

दिलीप- ज़रूर आउन्गा
कल तो इतना दुखी थी

प्रीति- वो दी ने बताया कि किसीने शर्त लगाया था
कौन ज़्यादा पी ता है
और दी को अगर कोई चेलेंज दे,तो वो पीछे नही हट ती

[यही बेवकूफी की सबसे बड़ी पहचान है
क्यूंकी मुझे पूरा यकीन था कि कल वो लड़का प्रिया की इज़्ज़त से खेलना चाहता था...


User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

क्यूंकी मुझे पूरा यकीन था कि कल वो लड़का प्रिया की इज़्ज़त से खेलना चाहता था...
यही बेवकूफी की सबसे बड़ी पहचान है

क्यूंकी मुझे पूरा यकीन था कि कल वो लड़का प्रिया की इज़्ज़त से खेलना चाहता था

क्यूंकी जब मैने उस लड़के को बोला कि प्रिया मेरी बहेन है,अगर वो प्रिया का दोस्त होता तो बिना मेरी पूरी सच्चाई जाने,प्रिया को वहाँ से ले जाने नही देता

मैं यह सब सोच ही रहा था,कि प्रीति मुझे ज़ोर से हिला दी

प्रीति- कहाँ खो गये

दिलीप- कही नही
चलो नाश्ता करते हैं

और प्रिया को भी बुला लाओ

प्रीति- वो अपने रूम में ही नाश्ता करती हैं

दिलीप- तुम दोनो एक ही कॉलेज में हो

प्रीति- हां लेकिन मैं अपनी फ़्रेंड के साथ जाती हूँ

दिलीप- तो अपने फ़्रेंड को फोन करो,और उससे कहो कि आज तुम्हारा भाई तुम्हे छोड़ने जाएगा

[प्रीति अपने फ़्रेंड को फोन कर दी,और हम सब नाश्ता करने लगे
उसके बाद प्रीति चेंज करने चली गयी

मैं इशारे से विदू को अपने रूम में बुलाया,जैसे ही विदू रूम में मैने उसे ज़ोर से अपनी बाहो में भींच लिया

User avatar
rangila
Super member
Posts: 5649
Joined: 17 Aug 2015 16:50

Re: Incest मैं अपने परिवार का दीवाना

Post by rangila »

दिलीप- हां तो आप मुझे कुछ कहना चाहती थी

विदू- आप ऐसे ही कपड़े पहना कीजिए

दिलीप- ठीक है
[और मैं विदू के होंठो को चूमने लगा

फिर प्रीति मुझे आवाज़ देने लगी
[उसके बाद मैं प्रीति को छोड़ने उसके कॉलेज गया

फिर प्रीति बाइ कहके अपनी फ़्रेंड'स के साथ चली गयी

मैने अपना मोबाइल चेक किया
जिसने अपने आप को प्रिया का फ़्रेंड बताया था,उसकी फोटो उसका नाम उसके बाप का नाम उसका मोबाइल नंबर कहाँ पढ़ता है कहाँ जाता है
सब डीटेल्स एसएमएस में था

मैं तो देव का फॅन हो गया

डीटेल के हिसाब से वो लड़का ठीक 1 घंटे बाद किसी लड़की से मिलने जाने वाला था
तो मैं वहीं पहुँच गया जहाँ वो आने वाला था

टाइम बीता और वो लड़का अपनी बाइक पे आया और एक घर के बाहर रुका,और उसने डोरबेल बजाया
जैसे ही गेट खुला मैं शॉक हो गया

यह तो नेहा है विदू की फ़्रेंड जो मुझपे लाइन मार रही थी उस दिन
यह लड़का प्रिया का दोस्त
और नेहा विदू की फ़्रेंड
खैर कुछ देर तक मैं वेट करता रहा

फिर मैं नेहा के घर बाहर खड़ा हो गया,और डोर बेल बजाया
गेट खुला और नेहा के होश उड़ गये

मैं अंदर गया और गेट लॉक कर दिया
तभी वो लड़का रूम से निकला,इन दोनो का तो प्रोग्राम चल रहा था
लेकिन उस लड़के ने मुझे अभी तक नही देखा था

नेहा के मुँह से तो आवाज़ नही निकल रही थी

मैं नेहा के मुँह पे हाथ रखा,और उसके माथे की नस दबाने लगा
कुछ ही देर में नेहा बेहोश हो गयी

फिर मैं उस लड़के के पास गया,और उसके कंधे पे हाथ रखा वो पीछे मुड़ा और इससे पहले वो कुछ कहता,एक पंच उसके जबड़े पे पड़ चुका था

फिर दूसरा फिर तीसरा और फिर चौथा
और वो लड़का बेहोश हो गया

सबसे पहले मैने नेहा का और उसका मोबाइल चेक किया
कुच्छ नही मिला

फिर मैं घर चेक करने लगा
घर में भी कुछ नही था
मैं नेहा को रूम में ले गया
और कबाड़ में से एक साड़ी निकालके उसे बेड से बाँध दिया

दूसरी साड़ी से उस लड़के को भी बाँध दिया

Post Reply