Incest खाला जमीला

Post Reply
Reich Pinto
Novice User
Posts: 375
Joined: 10 Jun 2017 21:06

Re: Incest खाला जमीला

Post by Reich Pinto »

zabardast hot story hai
User avatar
Rohit Kapoor
Pro Member
Posts: 2816
Joined: 16 Mar 2015 19:16

Re: Incest खाला जमीला

Post by Rohit Kapoor »

कुछ देर बाद अम्मी ने कहा- "बात कर दो... और अम्मी उठकर बैठी तो उन्होंने कहा- "चलो तुम। लैंट जाओं तुमको भी दबा दूं। आखीरकार, तुम मेरा इतना खयाल करते हो तो, मुझे भी तुम्हारा खपाल रखना चाहिए." ऐसा कहकर अम्मी ने मुझे पकड़कर लिटा दिया।

मैं सोचता ही रह गया। मैं अब डर रहा था कि अम्मी का हाथ खड़े लण्ड पे ना लग जाए। मैं सीधा लेटा हुवा था अम्मी भी मुझे जांघों पे दबा रही थी। एक-दो मिनट गुजरे तो कुछ ना हुआ और में रिलॅक्स होने लगा। लेकिन अब इसके साथ-साथ लण्ड भी झटके मार रहा था। अम्मी के हाथ अब मेरे लण्ड के आस-पास दबा रहे थे। उनके हाथों का एहसास मेरे मजे को बढ़ा रहा था। मुझे लग रहा था मैं ऐसे ही फारिग हो जाऊँगा।

जब मेरी बर्दाश्त से बाहर हो गया तो मैंने कहा- "अम्मी बस कर दें। मैं ठीक है अभी..."

अम्मी ने मेरी टांगें छोड़ी और मेरे साथ लेट गई। मुझं अपने साथ लगातं हमें मुझे चूमा और कहा- "मेरा बेटा मेरा कितना खयाल रखता है..."

मैंने मुँह ऊपर किया और इस दौरान अम्मी शायद दुबारा चूमने लगी थी। हमारे होठ आपस में टकरा गये।

अम्मी मुश्कुराई और कहा- "अंधेरा है, और देखो क्या हो गया है."

मैंने भी मुश्कुराते हुये कहा "अच्छा है अंधेरा है तो इस बहाने आपके होठों का भी टेस्ट हो गया है.."

अम्मी- "ऊहह... बच्चू इतने भी शेर ना बनो... ऐमा अंधेरे की वजह से हुआ है..."

मैंने अम्मी को सीधा किया। उनके ऊपर चट गया और दोनों हाथों में उनका चेहरा ले लकर कहा- "बताओ अब करू? किस होंठों पे?"

अम्मी के ऊपर लेटने से लण्ड सीधा अम्मी के जांघों में घुस गया। जिसका अम्मी ने मुझे कुछ नहीं कहा। बस नार्मल रिएक्ट कर रही थी। मैं अम्मी के मुँह में किस करने लगा होठों को छोड़कर। अम्मी भी पूरा मजे में किस करवा रही थी।

अम्मी सिसकती हुई- "ओह... मेरा प्यारा बेटा मुझे इतना प्यार ना करो कि नजर लग जाए हमको..'

में अम्मी को चूमते हये- "नहीं अम्मी, नहीं लगती नजर। इस अंधेरे में हमको खुद नजर नहीं आ रहा तो नजर क्या लगनी है....

मैंने अब मुँह थोड़ा नीचे किया और अम्मी के नंगे सोने का चूमने लगा। जब आधे नंगे मम्मा पे मेरे होठ पहँचे तो मेरा मजे से लण्ड झटका खाने लगा अम्मी की टांगों में। मैंने वहां दो-तीन किस की और मुंह उठा लिया।

अम्मी ने कहा "क्या हुआ बेटा, थक गये हा?"

मैंने कहा- "नहीं अम्मी बस ऐसे ही मुँह हटा लिया.."

अम्मी ने कहा- "तो चलो कर लो दुबारा किस, कुछ नहीं होता..."

अम्मी के होसला बढ़ाने वाले शब्दों से मुझे भी होसला मिला और मैं दुबारा उनके आधे नंगे मम्मे होंठों में ले लिए। अब मैंने रिस्क लेते हय अम्मी के मम्मों की लाइन पे होंठ रखा और जुबान सीधा लाइन में घुसा दी।

अम्मी हिली और हँसती हुई बोली- "मुझे गुदगुदी हो रही है बेटा यहां..."

मैंने कहा- "लेकिन मुझे तो मजा आया यहां जुबान लगाकर..." और मैंने दुबारा वहां जुबान घुसा दी।

अम्मी के नर म मम्मे मुझे बहुत मजा दे रहे थे। जोश से बुरा हाल था। मैं हल्के-हल्के धक्के मारने लगा था अभी। अम्मी की आइ, निकल गई मेरी क्योंकी में सलवार में ही अम्मी की जांघों में फारिग हो गया था। जब पानी निकाल रहा था, मैंने जोर में अम्मी के आधे नंगे मम्मे अपने होंठों में दबा लिए।

अम्मी मुझे थपक रही थी। कुछ देर बाद अम्मी की आवाज आई- "चलो बेटा अब नीचे चलते हैं। बहुत टाइम हो गया है...
फिर हम उठे
और नीचे आ गये।

समाप्त ****
Post Reply