Fantasy SAAJAN (Family Love FANTASY)

Post Reply
Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

Fantasy SAAJAN (Family Love FANTASY)

Post by Fan of RSS »

SAAJAN (Family Love FANTASY)




Lekhak-- Anand singh

Hello friends 😆

friends i want to share some fantastic stories with you . these stories is not mine it's only collecting internet .

Are you ready?





इंट्रोडक्षन :-
हीरो फॅमिली…..
(1). ठाकुर राजेंद्र सिंग – एज..45 य्र..एक बिज़्नेस मॅन

(2). ममता सिंग- एज..40 य्र..(36-28-38)..एक शुद्ध भारतीय
हाउस वाइफ

(3). रूचि सिंग- एज..23 य्र..(34-26-36)..ममता और राजेंद्र की बड़ी बेटी..इनको अभी अभी पोलीस इनस्पेक्टर की जॉब मिली है.

(4). पायल सिंग- एज..22 य्र..(32-28-34)..मझली बेटी..एमबीबीएस कर रही है.

(5). महक सिंग- एज..18 य्र..(34-28-36)..सबसे छोटी बेटी..12थ का एग्ज़ॅम दिया है अभी..

(6). राज- एज..21 य्र (मैं हीरो & मैं विलेन ऑफ दा स्टोरी)..इसका कॅरक्टर एक राज है जिसके बारे मे कोई नही जानता.


बड़े चाचा की फॅमिली…..

(1). ठाकुर उदय सिंग- एज..43 य्र…एक बिज़्नेसमॅन

(2). नेहा सिंग…एज..39 य्र.(36-28-36)..हाउस वाइफ आंड वाइफ ऑफ उदय.

(3). परिधि- एज..22 य्र.(34-28-36)..उदय और नेहा की बड़ी बेटी

(4). दीक्षा- एज..20 य्र.(32-26-34)..उदय और नेहा की छोटी बेटी


छोटे चाचा की फॅमिली…

(1). ठाकुर अवधेश सिंग-एज..40 य्र..दोनो भाई को बिज़्नेस मे सपोर्ट करते हैं

(2). मिताली ठाकुर- एज..36 य्र.(34-28-36)..हाउस वाइफ & वाइफ ऑफ अवधेश.


बुआ फॅमिली…

(1). काजल- एज..42 य्र (34-28-36)..बड़ी बुआ

(2). मनोज- एज..45 य्र..हज़्बेंड ऑफ काजल.

(3). संध्या- एज..21 य्र.(34-28-36).. काजल और मनोज की एकलौती बेटी

(4). मीरा- एज..36..य्र (34-26-36)..छोटी बुआ

(5). राकेश- एज..42 य्र..हज़्बेंड ऑफ मीरा (डेड).



मामा फॅमिली…

(1). राजेश्वरी देवी- एज..55 य्र.(34-28-36)..नानी

(2). वीरेंद्र सिंग- एज..38 य्र..बड़े मामा..इनका रियल एस्टेट का बिज़्नेस है.

(3). रूपाली सिंग- एज..37 य्र.(34-28-36)..बड़ी मामी

(4). किरण- एज..20 य्र (34-26-34)..बड़ी बेटी

(5). पूजा- एज..19 य्र.(34-28-36)..छोटी बेटी

(6). निरंजन सिंग- एज..36 य्र..मझले मामा

(7). गीता सिंग- एज..36 य्र.(32-26-34)..मझली मामी

(8). कविता- एज..18 य्र.(34-28-36)..एकलौती बेटी

(9). विनय सिंग- एज..34 य्र..छोटे मामा

(10). मधु सिंग- एज..29 य्र.(34-28-36)..छोटी मामी

बाकी कॅरेक्टर्स स्टोरी मे जैसे जैसे आते जाएँगे उनका परिचय दे दिया जाएगा.


INTRODUCTION :-
Hero Family…..
(1). Thakur Rajendra Singh – age..45 yr..ek business man

(2). Mamta Singh- age..40 yr..(36-28-38)..ek shuddhya bhartiya
house wife

(3). Ruchi Singh- age..23 yr..(34-26-36)..mamta aur rajendra ki badi beti..inko Abhi abhi police inspector ki job mili hai.

(4). Payal Singh- age..22 yr..(32-28-34)..majhali beti..MBBS kar rahi hai.

(5). Mahak Singh- age..18 yr..(34-28-36)..sabse chhoti beti..12th ka exam diya Hai abhi..

(6). Raaj- age..21 yr (Main Hero & Main villain of the story)..iska character ek Raaj h jiske baare me koi nahi janta.

Bade Chacha ki family…..

(1). Thakur Uday Singh- age..43 yr…ek businessman

(2). Neha Singh…age..39 yr.(36-28-36)..house wife and wife of uday.

(3). Paridhi- age..22 yr.(34-28-36)..uday aur neha ki badi beti

(4). Diksha- age..20 yr.(32-26-34)..uday aur neha ki chhoti beti

Chhote chacha ki family…

(1). Thakur Awadhesh Singh-age..40 yr..dono bhai ko business me support karte h

(2). Mitaly Thakur- age..36 yr.(34-28-36)..house wife & wife of awadhesh.

Bua family…

(1). Kajal- age..42 yr (34-28-36)..badi bua

(2). Manoj- age..45 yr..husband of kajal.

(3). Sandhya- age..21 yr.(34-28-36).. kajal aur manoj ki eklouti beti

(4). Meera- age..36..yr (34-26-36)..chhoti bua

(5). Rakesh- age..42 yr..husband of meera (dead).

Mama family…

(1). Rajeshwari Devi- age..55 yr.(34-28-36)..nani

(2). Virendra Singh- age..38 yr..bade mama..inka real estate ka business hai.

(3). Rupaly Singh- age..37 yr.(34-28-36)..badi mami

(4). Kiran- age..20 yr (34-26-34)..badi beti

(5). Pooja- age..19 yr.(34-28-36)..chhoti beti

(6). Niranjan Singh- age..36 yr..majhle mama

(7). Geeta Singh- age..36 yr.(32-26-34)..majhli mami

(8). Kavita- age..18 yr.(34-28-36)..eklouti beti

(9). Vinay Singh- age..34 yr..chhote mama

(10). Madhu Singh- age..29 yr.(34-28-36)..chhoti mami

Baki characters story me jaise jaise aate jayenge unka parichay de diya jayega.

Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

Re: SAAJAN (Family Love FANTASY)

Post by Fan of RSS »

ABOUT THEME CONCEPT OF THE STORY

Chapter*1

Past of Raj, Dreams of Mahak, Illusion of characters,Suspense,Thrill

Chapter*2

Family Love, Dosti, Starting Love Between Two Love Birds, Adultary,Suspense,Horror,Thrill

Chapter*3

6th Janam ki Love Story, Family Love, Entry of Super Power, Thrill, Suspense,

Chapter*4

5th Janam ki Love Story, Family Love, Adultary, Thrill, Suspense

Chapter*5

4th Janam ki Love Story

Chapter*6

3rd Janam ki Love Story

Chapter*7

2nd Janam ki Love Story

Chapter*8

1st Janam ki Love Story

Chapter*9

Raj ke Raaz, Super Power, Family Love, Thrill

Chapter*10

Transformaton of Raj as "Saajan"

End of Part 1

Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

SAAJAN (Family Love FANTASY) UPDATE *1

Post by Fan of RSS »

अपडेट *1

मुंबई जैसे भीड़ भाड़ वाले शहर मे लड़ाई झगड़ा होना एक आम बात है. जहाँ यहा फिल्म नगरी की चमक धमक वहीं दूसरी तरफ अंडरवर्ल्ड का भी जाल बिच्छा हुआ है.आइए चलते है ऐसी ही एक जगह पर जहाँ डब्ल्यूडब्ल्यूई फाइट चल रही है.

सामने रिंग मे एक दैत्याकार आदमी जिसकी हाइट लगभग 6’5” होगी अपने विरोधी प्रतिद्वंदी को एक हाथ से उसकी गर्दन दबोचे हुए दूसरे हाथ से लगातार पेट मे नोन स्टॉप पंच मारे जा रहा है उस दूसरे आदमी के मूह और नाक से खून की तेज धार बह रही है मगर फिर भी उसको मारना बंद नही करता. आख़िर जब मारते मारते थक गया तो उसको छोड़ दिया बेचारा दूसरा फाइटर लहू लुहान होकर नीचे गिर गया लेकिन फिर से पहले आदमी ने उसको दोनो हाथो से उसको उपर उठाया और अपने घुटनो पे पीठ के बल दे मारा पूरी जगह पर दूसरे फाइटर की एक दर्दनाक चीख गूँज गयी खून से सना हुआ नीचे पड़े हुए वो उठने की कोशिश करता है मगर उठ नही पाता शायद उसकी रीढ़ की हड्डी टूट चुकी है.

रिंग के बाहर जमा लोग ज़ोर ज़ोर से शेरा शेरा के नारे लगा रहे हैं. जी हाँ इस पहले फाइटर का नाम जो सांड की तरह दिखता है उसी का नाम शेरा है, ये अंडरवर्ल्ड डॉन बख्तावर का खास आदमी है, शेरा की बॉडी अच्छि ख़ासी मस्क्युलर है जिसे देखकर ऐसा लगता है कि आफ्रिका के घने जंगल से भाग कर आया हो.

शेरा ने आज तक कोई भी फाइट नही हारी उसको किल्लर के नाम से भी जाना जाता है मुंबई अंडरवर्ल्ड मे. फाइट जीतने के बाद वो अपनी छाती ठोक कर ज़ोर से चिल्लाता है-

शेरा – है कोई और माई का लाल जो मुझसे टक्कर ले, मुझसे टकराने वाले का यही अंजाम होगा जो इसका हुआ, मगर साला मुझे चॅलेंज देता है अब कौन रोकेगा मुझे.

तभी शटर खोल के कोई अंदर आता है जिसका पूरा चेहरा मास्क से ढका है

कपड़ो के उपर से बॉडी का आक्युरेट अनुमान लगाना मुश्किल है..रंग गोरा हाइट 6” के करीब.

लड़का- इतना खुश होने की ज़रूरत नही है शेरा पहले मुझसे से तो भिड़ ले और वो रिंग के अंदर चला जाता है.

सभी उसको आँखे फाडे देख रहे थे और सोच रहे थे अब इसको शेरा से कौन बचाएगा खुद मरने चला आया यहाँ.

शेरा- कौन है बे तू.

लड़का- मौत से भी भला कोई बचा है आज तक…यमराज

शेरा- मुझे चॅलेंज किया ना ,,,,,, अब देख तेरा क्या हाल करता हूँ.

लड़का- चल अटॅक का फर्स्ट चान्स तुझे दिया मैं कोई डिफेन्स नही करूँगा चुपचाप एक जगह खड़ा रहूँगा तू 10 मिनट. तक जितना चाहे मार चाहे तो कोई भी हथियार यूज़ कर तुझे सब छूट दे रहा हूँ अगर मैं बच गया इन 10 मिनट मे तब मैं सिर्फ़ एक बार मारूँगा अगर उस वॉर से तू बच गया जिंदा तो जीत तेरी.

शेरा- लगता है तेरी मौत खिच लाई है तुझे यहाँ बच्चे और इसके साथ ही वो उस लड़के पर अटॅक कर देता है उसके चेहरे पे ज़ोर से एक के बाद एक लगातार केयी पंच मारता है जिसके साथ ही वहाँ एक दर्दनाक चीख गूँज जाती है.

मगर ये क्या रिंग मे शेरा नीचे अपना हाथ पकड़कर बैठा है उसके चेहरे पर दर्द सॉफ महसूस किया जा सकता है.

लड़का- क्या हुआ शेरा तू तो बहुत बड़ा दादा है यहा का बस एक ही पंच मारके थक गया उठ तेरे पास अभी 6 मिनट है मुझे हराने के लिए.

शेरा बेहद गुस्से मे अबकी बार लड़के की गर्दन मे पूरी ताक़त से किक मारता है उसे ऐसा लगता है जैसे उसने किसी लोहे या पत्थर के उपर अपना पैर पटक दिया हो और फिर से दर्दभरी चीख गूँज जाती है.

किसी को कुछ समझ ही नही आ रहा था कि ये हो क्या रहा है शेरा जैसा ख़तरनाक फाइटर नीचे लेटे हुए अपना पैर पकड़े दर्द मे चिल्ला रहा है उसके हाथ की उंगली और पैर की हड्डी टूट चुकी है दोनो बार के अटॅक से वो लड़का अपनी जगह से एक इंच भी नही हिला.

शेरा फिर उठने की कोशिश करता है मगर गिर जाता है इसी तरह 10 मिनट निकल जाते हैं

अब वो लड़का धीरे धीरे शेरा की तरफ बढ़ता है और उसके टूटे पैर को अपने पैर से दबा देता है और दूसरे पैर को एक हाथ से पकड़कर एक झटका देता है इसके पहले की किसी को कुछ भी समझ मे आता वहाँ बेहद दर्दनाक चीख गूँज उठती है और सब कुछ शांत हो जाता है.

सामने रिंग के अंदर शेरा की बॉडी दो टुकड़ो मे पड़ी थी .

सब आँखे फाडे कभी उस लड़के को तो कभी शेरा की बॉडी को ही देखे जा रहे थे.

लड़का- मौत से भी भला कोई बचा है आज तक…..

और वो रिंग से बाहर निकल कर पहले वाले आदमी को उठाकर बाहर चला जाता है.
…………………………………………………………….


वही दूसरी तरफ एक लड़की नीद मे मीठे सपनो की दुनिया मे खोई हुई है. चेहरे मे फैली लाली और गुलाब की पंखुड़ी जैसे होंठो की मुश्कूराहट देखकर ही समझ मे आ रहा है कि वो कोई सुनहरा ख्वाब देख रही है. सुंदरता ऐसी की जैसे ऊपर वाले ने बड़ी फ़ुर्सत मे हर अंग बनाया हो जो भी एक बार देख ले तो जिंदगी भर ये हसीन चेहरा ना भूल पाए.

अपने सपनो मे खोई हुई वो लड़की कभी हस्ती है तो कभी रोने जैसा चेहरा बना लेती है अचानक पता नही उसको क्या दिख जाता है सपने मे कि ज़ोर ज़ोर से साँस लेते हुए उसकी नीद खुल जाती है और सोचती है कि ये कैसा सपना है जो मुझे बचपन से लेकर अब तक हर रोज दिखाई देता है, क्या संबंध है मेरा इस सपने से मगर जो भी हो इसमे इतना अपनापन है जैसे कि मैं उसको कयि जन्मो से जानती हूँ उसका चेहरा मुझे इतना प्यारा लगता है दिल करता है कभी इस सपने से बाहर ही ना आना पड़े.

तभी उसका रूम का दरवाजा खोलकर कोई अंदर आता है


UPDATE *1

Mumbai jaise bheed bhad wale shahar me ladayi jhagda hona ek aam baat hai. Jaha yaha film nagri ki chamak dhamak wohi dusri taraf underworld ka bhi jaal bichha hua hai.Aaiye chalte hai aisi hi ek jagah par jaha wwe fight chal rahi hai.

Samne ring me ek daityakar aadmi jiski height lagbhag 6’5” hogi apne virodhi pratidwanwi ko ek hath se uski garden daboche huye dusre hath se lagatar pet me non stop punch maare ja raha hai us dusre aadmi ke muh aur naak se khoon ki trz dhar bah rahi hai magar phir bhi usko maarna band nahi karta. Akhir jab maarte maarte thak gaya to usko chhod diya bechara dusra fighter lahoo luhan hokar neeche gir gaya lekin phir se pahle aadmi ne usko dono hatho se usko upar uthaya aur apne ghutno pe pith ke bal de maara poori jagah par dusre fighter ki ek dardnak cheekh goonj gayi khoon se sana hua neeche pade huye wo uthne ki koshish karta h magar uth nahi paata shayad uski ridh ki haddi toot chuki hai.

Ring ke bahar jama log jor jor se shera shera ke naare laga rahe hain. Ji ha is pahle fighter ka naam jo sand ki tarah dikhta h usi ka naam shera h, ye underworld don Bakhtawar ka khas admi hai, shera ki body achchhi khasi muscular h jise dekhkar aisa lagta h ki Africa ke ghane jungle se bhag kar aaya ho.
Shera ne aaj tak koi bhi fight nahi hari usko killer ke naam se bhi jaana jata h Mumbai underworld me. Fight jeetne ke baad wo apni chhati thok kar jor se chillata hai-

Shera – hai koi aur mayi ka lal jo mujhse takkar le, mujhse takrane wale kay ahi anjam hoga jo iska hua, magar sala mujhe challenge deta hai ab koun rokega mujhe.

Tabhi shutter khol ke koi andar aata hai jiska poora chehra mask se Dhaka hai
Kapdo ke upar se body ka accurate anumaan lagana mushkil h..rang gora height 6” ke karib.

Ladka- itna khush hone ki jaroorat nahi h shera pahle mujhse se to bhid le aur wo ring ke andar chala jata hai.

Sabhi usko aankhe phade dekh rahe the aur soch rahe the ab isko shera se koun bachayega khud marne chala aaya yaha.

Shera- Koun h be tu.

Ladka- Mout se bhi bhala koi bacha h aaj tak…YAMRAJ

Shera- Mujhe challenge kiya na ab dekh tera kya haal karta hu.

Ladka- chal attack ka first chance tujhe diya mai koi defence nahi karunga chupchap ek jagah khada rahunga tu 10 min. tak jitna chahe maar chahe to koi bhi hathiyar use kar tujhe sab chhut de raha hu agar mai bach gaya in 10 min me tab mai sirf ek baar maarunga agar us war se tu bach gaya jinda to jeet teri.

Shera- Lagta h teri mout khich layi h tujhe yaha bachche aur iske sath hi wo us ladke par attack kar deta h uske chehre pe jor se ek ke baad ek lagatar kayi punch maarta h jiske sath hi waha ek dardnak cheekh goonj jati h.

Magar ye kya ring me shera neeche apna hath pakadkar baitha h uske chehre par dard saaf mahsus kiya ja sakta hai.

Ladka- Kya hua shera tu to bahut bada dada hai yaha ka bas ek hi punch maarke thak gaya uth tere paas abhi 6 min hai mujhe harane ke liye.

Shera behad gusse me abki baar ladke ki gardan me poori takat se kick maarta hai use aisa lagta hai jaise usne kisi lohe ya patthar ke upar apna pair patak diya ho aur phir se dardbhari cheekh goonj jati hai.
Kisi ko kuch samajh hi nahi aa raha tha ki ye ho kya raha hai shera jaisa khatarnaak fighter neeche lete huye apna pair pakde dard me chilla raha h uske hath ki ungli aur pair ki haddi toot chuki hai dono baar ke attack se wo ladka apni jagah se ek inch bhi nahi hila.

Shera phir uthne ki koshish karta hai magar gir jata hai isi tarah 10 min nikal jate hain

Ab wo ladka dheere dheere shera ki taraf badhta hai aur uske toote pair ko apne pair se daba deta hai aur doosre pair ko ek hath se pakadkar ek jhatka deta hai iske pahle ki kisi ko kuch bhi samajh me aata waha behad dardnaak cheekh goonj uthti hai aur sab kuch shant ho jata hai.

Samne ring ke andar shera ki body do tukdo me padi thi .

Sab aankhe phade kabhi us ladke ko to kabhi shera ki body ko hi dekhe ja rahe the.

Ladka- Mout se bhi bhala koi bacha hai aaj tak…..

Aur wo ring se bahar nikal kar pahle wale aadmi ko uthakar bahar chala jata hai.
…………………………………………………………….
Wahi dusri taraf ek ladki need me meethe sapno ki duniya me khoyi huyi hai. Chehre me phaili lali aur gulab ki pankhudi jaise hotho ki mushkurahat dekhkar hi samajh me aa raha hai ki wo koi sunhara khwab dekh rahi hai. Sundarta aisi ki jaise oopar wale badi fursat me har ang banaya ho jo bhi ek baar dekh le to jindagi bhar ye hasin chehra na bhool paye.

Apne sapno me khoyi huyi wo ladki kabhi hasti hai to kabhi rone jaisa chehra bana leti hai achanak pata nahi usko kya dikh jata hai sapne me ki jor jor se saans lete huye uski need khul jati hai aur sochati hai ki ye kaisa sapna hai jo mujhe bachapan se lekar ab tak har roj dikhayi deta hai, kya sambandh hai mera is sapne se magar job bhi ho isme itna apnapan hai jaise ki mai usko kayi janmo se janti hu uska chehra mujhe itna pyara lagta hai dil karta hai mai kabhi is sapne se bahar hi na aana pade.

Tabhi uska room ka darwaja kholkar koi andar aata hai

Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

SAAJAN (Family Love FANTASY) UPDATE*2

Post by Fan of RSS »

अपडेट*2


अपने सपनो मे खोई हुई वो लड़की कभी हस्ती है तो कभी रोने जैसा चेहरा बना लेती है अचानक पता नही उसको क्या दिख जाता है सपने मे कि ज़ोर ज़ोर से साँस लेते हुए उसकी नीद खुल जाती है और सोचती है कि ये कैसा सपना है जो मुझे बचपन से लेकर अब तक हर रोज दिखाई देता है, क्या संबंध है मेरा इस सपने से मगर जो भी हो इसमे इतना अपनापन है जैसे कि उसको काई जन्मो से जानती हूँ उसका चेहरा मुझे इतना प्यारा लगता है दिल करता है मैं कभी इस सपने से बाहर ही ना आना पड़े.

तभी उसका रूम का दरवाजा खोलकर कोई अंदर आता है और उसको बिस्तर मे बैठे देख कर बोलता है-

“अरे महक बेटा ये कोई उठने का टाइम है देखो घड़ी सुबह के 9 बज गये हैं और तुम हो कि कोई होश ही नही है अपने सपनो की दुनिया से बाहर निकलो, आज तुम्हारा रिज़ल्ट आने वाला है ना 12थ का जाओ और जल्दी फ्रेश होकर नाश्ता करने आ जाओ.”

जी हाँ ये लड़की का नाम महक है. सुंदरता तो ऐसी पाई है महक ने कि चाँद भी शरमा जाए. अभी 18 सावन ही पूरे किए हैं लेकिन एकदम भरा हुआ गोरा बदन अगर ग़लती से भी कही जिस्म मे हाथ छु जाए तो लाल निशान पड़ जाए.

महक – ओह मम्मी आप भी ना कभी चैन से सोने भी नही देती. रिज़ल्ट कौन सा इतना सुबह आ जाएगा इतना मस्त सपना देख रही थी कि आपने डिस्टर्ब कर दिया.महक अपनी मम्मी जिनका नाम ममता है को देखकर उनकी बात का जवाब देती है.

ममता – क्यो आज फिर वोही सपना आया क्या.

महक – हाँ मम्मी.

ममता – कोई नाम भी है तेरे सपनो के राज कुमार का या नही.

महक – पता नही ना मैने कभी पूछा और ना ही उसने बताया कभी.

ममता – चल कोई बात नही अब की बार जब सपनो मे मिलना तो उसका नाम भी पूछ लेना. अब चलो फ्रेश होकर नाश्ता करो और स्कूल जाओ.मैं किचन मे जा रही हूँ.

ममता एक पूरी इंडियन हाउस वाइफ है अपने शरीर को अच्छि तरह से मेनटेन कर के रखा है बिल्कुल दूध की तरह गोरी चिटी और खूबसूरत जिस्म की मालकिन.इनका एक बेटा भी है जो बाहर पढ़ता है पिच्छले 15 सालो से वो बाहर है. लगभग 4 साल की एज मे उसके पापा ने उसको बाहर मुंबई शहर भेज दिया बिना किसी को बताए तब से ममता और उसके हज़्बेंड राजेंद्र मे कोई ज़्यादा बातचीत नही होती वो हमेशा अपने बेटे को याद करके अकेले मे रोती रहती है.

महक तैयार होकर नीचे आती है जहाँ उसकी बड़ी बेहन (रूचि) रेडी होकर पोलीस स्टेशन जाने के लिए तैयार बैठी थी. रूचि 23 साल की एक ब्यूटिफुल एक दम गोरी अपनी माँ पर गयी है बाहर से गरम अंदर से नरम. अभी हाल ही मे उसकी जाय्निंग उसका प्रमोशन सब-इनस्पेक्टर से इनस्पेक्टर पर हुआ है.

रूचि – आइए राजकुमारी जी नीद खुल गयी आपकी या अभी भी नीद मे ही हो.

महक – गुड मॉर्निंग दीदी. आप मेरा रिज़ल्ट पता कर लेना ना स्कूल से मुझे फालतू परेशान होना नही पड़ेगा.

रूचि – मुझे ऑलरेडी लेट हो गया है जल्दी नाश्ता करो और चलो मैं स्कूल ड्रॉप कर दूँगी और वैसे भी तुमने आज तक कोई सहेली तक तो बनाई नही जिसके साथ चली जाओ बस अपने सपनो के राजकुमार के इंतज़ार मे बैठी रहो.

तभी किचन से ममता नाश्ता लेकर आती है-

ममता – मेरी लाडली को क्यो तंग कर रही हो.

रूचि – इसको ना आपने ही बिगाड़ा है मम्मी इसके कारण मुझे डेली ड्यूटी पर लेट हो जाता है.

“क्यों बेचारी को तंग कर रही हो रूचि”..

आवाज़ सुनकर सभी पीछे पलट कर देखते हैं…




UPDATE*2


Apne sapno me khoyi huyi wo ladki kabhi hasti hai to kabhi rone jaisa chehra bana leti hai achanak pata nahi usko kya dikh jata hai sapne me ki jor jor se saans lete huye uski need khul jati hai aur sochati hai ki ye kaisa sapna hai jo mujhe bachapan se lekar ab tak har roj dikhayi deta hai, kya sambandh hai mera is sapne se magar job bhi ho isme itna apnapan hai jaise ki mai usko kayi janmo se janti hu uska chehra mujhe itna pyara lagta hai dil karta hai mai kabhi is sapne se bahar hi na aana pade.

Tabhi uska room ka darwaja kholkar koi andar aata hai aur usko bistar me baithe dekhar bolti hai-

“Are Mahak beta ye koi uthane ka time hai dekho ghadi subah ke 9 baj gaye hain aur tum ho ki koi hosh hi nahi hai apne sapno ki duniya se bahar niklo, aaj tumhara result aane wala hai na 12th ka jao aur jaldi fresh hokar nasta karne aa jao.”

Ji ha ye ladki ka naam Mahak hai. Sundarta to aisi payi hai mahak ne ki chand bhi sharma jaye. Abhi 18 sawan hi poore kiye hain lekin ekdam bhara hua gora badan agar galti se bhi kahi jism me hath chhu jaye to lal nisan pad jaye.

Mahak – Oh Mummy aap bhi na kabhi chain se sone bhi nahi deti. Result koun sa itna subah aa jayega itna mast sapna dekh rahi thi ki aapne disturb kar diya.Mahak apni mummy jinka naam mamta hai ko dekhkar unki baat ka jawab deti hai.

Mamta – Kyo aaj phir wohi sapna aaya kya.

Mahak – ha mummy.

Mamta – Koi naam bhi hai tere sapno ke Raj kumar ka ya nahi.

Mahak – Pata nahi na maine kabhi poochha aur na hi usne bataya kabhi.

Mamta – Chal koi baat nahi ab ki baar jab sapno me milna to uska naam bhi pooch lena. Ab chalo fresh hokar nasta karo aur school jao.Mai kitchen me jar ahi hu.

Mamta ek pure indian house wife hai apne sharir ko achchhi tarah se maintain kar ke rakha hai bilkul doodh ki tarah gori chitti aur khoobsurat jism ki malkin.Inka ek beta bhi hai jo bahar padhta hai pichhle 15 salo se wo bahar hai. Lagbhag 4 sal ki age me uske papa ne usko bahar Mumbai shahar bhej diya bina kisi ko bataye tab se mamta aur uske husband Rajendra me koi jyada baatcheet nahi hoti wo hamesha apne bête ko yaad karke akele me roti rahti hai.

Mahak taiyar hokar neeche aati hai jaha uski badi behan (Ruchi) ready hokar police station jaane ke liye taiyar baithi thi. Ruchi 23 saal ki ek beautiful ek dam gori apni maa par gayi hai bahar se garam andar se naram. Abhi haal hi me uski joining uska promotion sub-inspector se inspector par hua hai.

Ruchi – Aaiye Rajkumari ji need khul gayi apki ya abhi bhi need me hi ho.

Mahak – Good morning didi. Did aap mera result pata kar lena na school se mujhe faltu pareshan hona nahi padega.

Ruchi – Mujhe already late ho gaya hai jaldi nasta karo aur chalo mai school drop kar dungi aur vaise bhi tumne aaj tak koi saheli tak to banayi nahi jiske sath chali jao bas apne sapno ke rajkumar ke intazar me baithi raho.

Tabhi kitchen se mamta nasta lekar aati hai-

Mamta – Meri Ladli ko kyo tang kar rahi ho.

Ruchi – Isko na aapne hi bigada hai mummy iske karan mujhe daily duty par late ho jata hai.

“Kyon bechari ko tang kar rahi ho ruchi”..

Aawaj sunkar sabhi peeche palat kar dekhte hain…

Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

SAAJAN (Family Love FANTASY) UPDATE*3

Post by Fan of RSS »

अपडेट*3


रूचि – इसको ना आपने ही बिगाड़ा है मम्मी इसके कारण मुझे डेली ड्यूटी पर लेट हो जाता है.

“क्यों बेचारी को तंग कर रही हो रूचि”..

आवाज़ सुनकर सभी पीछे पलट कर देखते हैं…

महक अपने पीछे छोटी चाची (नेहा) को देखकर..

महक- देखो ना चाची दीदी हमेशा मुझे परेशान करती रहती हैं.

नेहा- चल तू नाश्ता कर ले और अपने स्कूल जा.

महक भी जल्दी जल्दी ब्रेकफास्ट करके रूचि दीदी के साथ स्कूल निकल जाती है.

नेहा- दीदी महक की प्यार भरी बातों से सबका मन लगा रहता है नही तो हमारे बेटे के जाने के बाद घर एकदम वीरान सा हो गया था.

ममता- हाँ छोटी पता नही मेरा बेटा कहा होगा किस हाल मे होगा….उसकी कोई फोटो भी तो नही है और ना ही कोई खबर है…इसके लिए मैं महक के पापा को कभी माफ़ नही करूँगी.

नेहा- पर दीदी जेठ जी ने जो भी किया है हमारे बेटे की भलाई के लिए ही तो किया है…और फिर गुरु जी ने भी तो कहा था कि हमारा बेटा एक दिन ज़रूर आएगा.

ममता- पता नही छोटी वो दिन कब आएगा…ये कहते कहते ही उसकी आँखे भर आती हैं जिसे नेहा देख लेती है.

नेहा- दीदी हिम्मत और भगवान पर विश्वास रखो वो इतना तो निर्दयी नही हो सकता आख़िर हम सब की आँखो का तारा है वो…एक दिन उसको भी हमारी याद ज़रूर आएगी.

मम्मी ये क्या आप फिर रो रही हो…..

नेहा ने देखा कि पायल और दीक्षा दरवाजे से अंदर आकर उनके पास मे ही खड़ी हैं.

पायल ममता और राजेंद्र की दूसरी बेटी है, ये भी अपनी माँ की तरह ही सुंदर है एमबीबीएस मे अड्मिशन लिया है सिटी के ही मेडिकल कॉलेज मे…शुरू से ही पायल का मन केवल पढ़ाई के सिवा कही नही गया..लड़को से हमेशा दूरी ही बना के रखी है अब तक जबकि उसकी सहेलियो के तो कई बॉय फ्रेंड्स हैं मगर पायल ने लड़को से दोस्ती करने मे कभी दिलचस्पी नही दिखाई..पता नही उसके मन मे क्या है ?

दीक्षा नेहा और उदय की छोटी बेटी है उम्र 20 साल..पायल से बिल्कुल विपरीत विचारो वाली..ये 12थ का एग्ज़ॅम ओपन स्कूल से दिया है अबकी बार क्योंकि 2 साल से लगातार फैल हो रही थी…

पायल से इसकी काफ़ी बनती है हालाँकि नये विचारो वाली होकर भी इसका भी अभी तक कोई बाय्फ्रेंड नही है.ये हमेशा रूचि दीदी और अपनी बड़ी बेहन परिधि से बहुत डरती है.

नेहा- आ गयी दोनो.

पायल- हाँ चाची मार्केट से थोड़ा बुक्स लेनी थी तो दीक्षा को साथ ले गयी थी.

नेहा-ठीक है जाओ फ्रेश हो जाओ.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

इधर मुंबई मे……..

वो लड़का फाइट क्लब से बाहर निकल कर किसी को फोन लगाता है और उनके आने पर उस आदमी को हॉस्पिटल भेज कर अपनी कार से कही चला जाता है.

शेरा के मारे जाने की खबर जैसे ही बख्तावर को मिलती है वो सुनकर आग बाबूला हो जाता है…

बख्तावर- किसने किया है ये..कौन ऐसा रातो रात मुंबई मे पैदा हो गया जहाँ सारा मुंबई मेरे आगे घुटने टेकता है..यहाँ की सरकार मेरे इशारो पर बनती और गिरती है..और शेरा से तो सभी डरते थे फिर किसने किया ये.

(वो अपने आदमी से बोल रहा है जिसने ये खबर दी)

आदमी- बॉस पता नही वो कौन था आँधी की तरह आया और 10 मिनिट मे शेरा भाई को चीर फाड़ कर किसी तूफान की तरह गायब हो गया.

बख्तावर- जाओ और पता करो कौन है वो हरामी जिसने साँप के बिल मे हाथ डाला है. मुझे 24 घंटे के अंदर वो आदमी चाहिए नही तो तुमको अच्छि तरह से पता है कि मैं तुम लोगो के साथ क्या करूँगा.

आदमी-यस बॉस मैं अभी जाकर अपने आदमी उसको ढूँढने मे लगा देता हूँ.

ये कहकर वो आदमी डरते डरते वहाँ से निकल जाता है.
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

वही एक घर मे एक लड़की पूरे कपड़े उतार कर नहा रही थी…गाना गुनगुनाते हुए अपने खूबसूरत गोरे गोरे बदन पर साबुन लगाती जा रही थी…दो हिमालय के शिखर जैसी उसकी चूचियाँ एकदम पिंकिश तने हुए निपल किसी का भी मोह भंग करने के लिए काफ़ी थे…और यहाँ से कोई अगर बच भी जाए तो उसके पिछे की तरफ माउंट आबू के गुंबद की तरह फूली हुई गान्ड देखकर ऐसा लगता है कि माउंट आबू के गुंबद उसकी गान्ड की जगह लगा दिया जिनको देखकर मुर्दे का भी लंड खड़ा हो जाए….

अच्छी तरह से अपने शरीर पर रगड़ रगड़ कर साबुन लगाकर धोने के बाद उसने पास मे टन्गी टवल से खुद को पोच्छा और रूम मे आकर अपने जिस्म से टवल नीचे गिरा दिया.

तभी कमरे का दरवाजा अचानक किसी शक्स ने ज़ोर से खोला तो वो लड़की हड़बड़ा कर पीछे पलट कर उस शख्स को जैसे ही देखा-

लड़की- तुम ?


UPDATE*3


Ruchi – Isko na aapne hi bigada hai mummy iske karan mujhe daily duty par late ho jata hai.

“Kyon bechari ko tang kar rahi ho ruchi”..

Aawaj sunkar sabhi peeche palat kar dekhte hain…

Mahak apne peechhe chhoti chichi (neha) ko dekhkar..

Mahak- dekho na chachi didi hamesha mujhe pareshan karti rhti hain.

Neha- chal tu nasta kar le aur apne school ja.

Mahak bhi jaldi jaldi breakfast karke ruchi didi ke sath school nikal jati hai.

Neha- didi mahak ki pyar bhari bato se sabka man laga rahta hai nahi to hamare bête ke jaane ke baad ghar ekdam veeran sa ho gaya tha.

Mamta- ha chhoti pata nahi mera beta kaha hoga kis haal me hoga….uski koi photo bhi to nahi hai aur na hi koi khabar hai…iske liye main mahak ke papa ko kabhi maaf nahi karungi.

Neha- par didi jeth ji ne job hi kiya hai hamare bête ki bhalayi ke liye hi to kiya hai…aur phir guru ji ne bhi to kaha tha ki hamara beta ek din jaroor aayega.

Mamta- pata nahi chhoti wo din kab aayega…ye kahte kahte hi uski aankhe bhar aati hain jise neha dekh leti hai.

Neha- didi himmat aur bhagwan par vishwas rakho wo itna to nirdayi nahi ho sakta akhir ham sab ki aankho ka tara hai wo…ek din usko bhi hamari yaad jaroor aayegi.

Mummy ye kya aap phir ro rahi ho…..

Neha ne dekha ki payal aur diksha darwaje se andar aakar unke paas mehi khadi hain.

Payal mamta aur rajendra ki dusri beti hai, ye bhi apni maa ki tarah hi sundar hai mbbs me admission liya hai city ke hi medical college me…shuru se hi payal ka man kewal padhai ke siwa kahi nahi gaya..ladko se hamesha doori hi bana ke rakhi hai ab tak jabki uski saheliyo ke to kai boy friends hain magar payal ne ladko se dosti karne me kabhi dilchaspi nahi dikhayi..pata nahi uske man me kya hai ?

Diksha neha aur uday ki chhoti beti hai umra 20 saal..payal se bilkul viprit vicharo vali..ye 12th ka exam open school se diya hai abki baar kyonki 2 saal se lagatar fail ho rahi thi…

payal se iski kafi banti hai halanki naye vicharo vali hokar bhi iska bhi abhi tak koi boyfriend nahi hai.ye hamesha ruchi didi aur apni badi behan paridhi se bahut darti hai.

Neha- aa gayi dono.

Payal- ha chachi market se thoda books leni thi to diksha ko sath le gayi thi.

Neha-theek hai jao fresh ho jao.

Idhar Mumbai me……..

Wo ladka fight club se bahar nikal kar kisi ko phone lagata hai aur unke aane par us admi ko hospital bhej kar apni car se kahi chala jata hai.

Shera ke maare jaane ki khabar jaise hi Bakhtawar ko milti hai wo sunkar aag babula ho jata hai…

B’war- kisne kiya hai ye..koun aisa raato raat Mumbai me paida ho gaya jaha sara Mumbai mere aage ghutne tekta hai..yaha ki sarkar mere isharo par banti aur girti hai..aur shera se to sabhi darte the phir kisne kiya ye.
(wo apne aadmi se bol raha hai jisne ye khabar di)

Aadmi- boss pata nahi wo koun tha aandhi ki tarah aaya aur 10 minute me shera bhai ko cheer phad kar kisi toofan ki tarah gayab ho gaya.

B’war- jao aur pata karo koun hai wo harami jisne saamp ke bill me hath dala hai. Mujhe 24 ghante ke andar wo admi chahiye nahi to tumko achchhi tarah se pata hai ki mai tum logo ke sath kya karunga.

Admi-yes boss mai abhi jakar apne admi usko dudhne me laga deta hu.

Ye kahkar wo admi darte darte waha se nikal jata hai.

Wahi ek ghar me ek ladki poore kapde utar kar naha rahi thi…gaana gungunate huye apne khoobsurat gore gore badan par sabun lagati ja rahi thi…do Himalaya ki shikhar jaisi uski choochiyan ekdam pinkish tane huye nipple kisi ka bhi moh bhang karne ke liye kafi the…aur yaha se koi agar bach bhi jaye to uske pichhe ki taraf mount abu ke gumbad ki tarah phooli huyi gaand dekhkar aisa lagta hai ki mount abu ke gumbad uski gaand ki jagah laga diya jinko dekhkar murde ka bhi lund khada ho jaye….

Achchhi tarah se apne sharir par ragad ragad kar sabun lagakar dhone ke baad usne pass me tangi towel se khud ko pochha aur room me aakar apne jism se towel neeche gira diya.

Tabhi kamre ka darwaja achanak kisi shaks ne jor se khola to wo ladki hadbadakar peeche palat kar us shakhs ko jaise hi dekha-

Ladki- tum ?

Post Reply