Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post Reply
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी


Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori
Hi , friends main shaziya aapki khidmat me ek our kahani shuru kar rahi hun . our ummeed karti hun meri ye koshis aapko pasand aayegi .

Kehte hai Na ki kuch cheje zarurat hoti hai aur kuch insan apni kamjori se Bana leta hai Apne hisab se.
Mere sath bhi ye he hua kahani padh kar aap decide karo
Ki ye meri kamjori thi ya zarurat.

Naam Saroj Umar 44 saal do bachho ki maa
Beti neha Umar 22 Saal
Beta Raj Umar pichle mahine balig hua hai
Aur mere pati Umesh Umar 50
Sarab jitni Maan kare pila do aur uske baad natak chalu aur jab tak nahi pee tab tak ek achhe pita aur pati.

Paiso ki koi kami nahi kuch family property aur khud government job salary 50 k
Neha graduation karne ke baad MBA kar rahi hai aur Raj be first year me admission Liya hai

Aur hum teeno maa aur bachhe Apne pati aur pita se Sarab ki bajah se paresan hai kyu ki kai baar wo mujhe Sarab ke nashe me marte hai jis ki bajah se bachhe daar jate hai
Aur ab to hamari zindagi aise he gujar rahi hai neha ki Umar shadi ki ho gai hai par koi tension nahi hai uske baap ko .

Lekin kehte hai Na ki oopar wala sab Dekh raha hai
Aur sayad mere sath bhi yahi hua mujhe wo sab Mila jiski mujhe ummained nahi thi par kya ye galat hai ya sahi aap decide karo.



हाई , फ्रेंड्स मैं शाज़िया आपकी खिदमत मे एक और कहानी शुरू कर रही हूँ . और उम्मीद करती हूँ मेरी ये कोशिस आपको पसंद आएगी .

कहते है ना कि कुछ चीज़े ज़रूरत होती है और कुछ इंसान अपनी कमज़ोरी सी बना लेता है अपने हिसाब से.
मेरे साथ भी ये ही हुआ कहानी पढ़ कर आप डिसाइड करो
कि ये मेरी कमज़ोरी थी या ज़रूरत.

नाम सरोज उमर 44 साल दो बच्चो की माँ
बेटी नेहा उमर 22 साल
बेटा राज उमर 21 पिछले महीने बालिग हुआ है
और मेरे पति उमेश उमर 50
शराब जितनी मन करे पिला दो और उसके बाद नाटक चालू और जब तक नही पी तब तक एक अच्छे पिता और पति.

पैसो की कोई कमी नही कुछ फॅमिली प्रॉपर्टी और खुद गवर्नमेंट जॉब सॅलरी 50 हज़ार
नेहा ग्रॅजुयेशन करने के बाद एमबीए कर रही है और राज ने फर्स्ट एअर मे अड्मिशन लिया है

और हम तीनो माँ और बच्चे अपने पति और पिता से शराब की बजह से परेशान है क्यूँ कि कई बार वो मुझे शराब के नशे मे मरते है जिस
की वजह से बच्चे डर जाते है और अब तो हमारी ज़िंदगी ऐसे ही गुजर रही है नेहा की उमर शादी की हो गई है पर कोई टेन्षन नही है उसके बाप को .

लेकिन कहते है ना कि उपर वाला सूब देख रहा है
और शायद मेरे साथ भी यही हुआ मुझे वो सब मिला जिसकी मुझे उम्मीद नही थी पर क्या ये ग़लत है या सही आप डिसाइड करो.

User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Umesh: shadi ki sari shopping ho gai

Mere bhai ke ladke ki shadi thi 4 din baad waha hum sab ko Jana tha usi ki baat kar rahe the mere pati
Sabha Ka time dinning table pe
Raat ko to nashe ke halat me baat kar nahi sakte aur waise bhi Bina Sarab ke he ye achhe pati aur pita hai
NEHA : ha papa nashta karte hue hamari to ho gai bus mummy ki reh gai hai
UMESH: kyu Saroj kya hua
Me: kuch Nahi bus Mann nahi hai kuch kharidne ka
UMESH: bhai bhai ke ladke ki shadi hai tukahre mayeke ki
Me: pata hai par aap ko fursat ho to shopping Karane chalo par aap ko to apni Sarab se fursat mile tab na
UMESH: aare bhai bachhe ab bade ho gaye hai unke sath kar lo
Hum to buddhe ho gaye hai bachho ki pata hota hai latest design aur fashion ka
Kyu bachho
RAJ : ha maa aap mere sath chalo me dilata hoon aap ko
Me: bada Aaya apni Jean to pasand kar Nahi paya mujhe apni maa ko dilwaayega.
UMESH: aare Baba sahi to bol raha hai aap Mera beta balig ho gaya hai aur college bhi jata hai
Aur Nahi to neha ki le jao
Me: usse apni friends aur institute se fursat Kaha hai
NEHA : mom aisa nahi hai aap ko meri choice pasand nahi aati to me kya karu
UMESH: ok mere to ho gaya ab aap log decide karo kya karna hai
Mere kaam tha paise dena wo De diye aur tickets book karwa Di hai Saturday ko ready rehna
Me: aur aap ke kapde
UMESH: mere pass hai mujhe nahi lene
Tum apna Dekh lo
Aur Umesh Apne office ke liye nikal jata hai aur neha bhi uske sath he nikal jati hai
Aur ab Ghar pe reh jate hai raj aur me
Me: tum college nahi ha rahe Raj
RAJ : maa Jana to hai par Mann nahi hai aj
Me: kyu
RAJ : bas aise he
Me: dinning table pe se bartan uthate hue
To kya Tu such me mere sath shopping karne Jana chahata hai ya bus papa kar samne Vol raha tha
RAJ : maa such me me aap ke sath chalna chahata hu par aap he mana kar rahi thi
Me: to kya karu Jo kaam tere papa ka hai to wo kaam Ty kyu karega.
RAJ : maa aap ko pata hai papa kaise hai phir bhi ap unse ummained karti ho phir dukhi hoti ho
To mere hisab se wo kaam karna he nahi chahaiye his se
Aap dukhi ho
Me: badi baten karna sikh raha hai
RAJ : aisa nahi hai maa bachpan se Dekh raha hu aap ko aur papa ko .
Is liye bol raha hu
Me: chal theek hai me kaam khatam karti hu phir chalte hai
Dekh te hai kya dila ta hai apni maa ko apni pasand ke kapde.
RAJ : ok maa me bhi ready ho jata hu
Aur me bartan utha kar kitchen me aa jati hu aur kaam khatam karti hu
Sayad raj sahi keh raha tha
Ummained he dukho ka Karan hai
Na kisi se koi ummained karo na Dil tutega na dard hoga.
Aur kaam khatam karne ke baad me aur Raj Ghar se shopping ke liye nikal jate hai
Bahar aa kar auto rickshaw kar ke market pahunch Jate hai

उमेश: शादी की सारी शॉपिंग हो गई

मेरे भाई के लड़के की शादी थी 4 दिन बाद वहाँ हम सब को जाना था उसी की बात कर रहे थे मेरे पति
सुबह का टाइम डाइनिंग टेबल पे
रात को तो नशे की हालत मे बात कर नही सकते और वैसे भी बिना शराब के ही ये अच्छे पति और पिता है
नेहा : हाँ पापा नाश्ता करते हुए हमारी तो हो गई बस मम्मी की रह गई है
उमेश: क्यूँ सरोज क्या हुआ
मे: कुछ नही बस मन नही है कुछ खरीदने का
उमेश: भाई के लड़के की शादी है तुम्हारे मायके की
मे: पता है पर आप को फ़ुर्सत हो तो शॉपिंग करने चलो पर आप को तो अपनी शराब से फ़ुर्सत मिले तब ना
उमेश: अरे भाई बच्चे अब बड़े हो गये है उनके साथ कर लो
हम तो बुड्ढे हो गये है बच्चो की पता होता है लेटेस्ट डिज़ाइन और फॅशन का
क्यूँ बच्चो
राज : हाँ माँ आप मेरे साथ चलो मे दिलाता हूँ आप को
मे: बड़ा आया अपनी जीन्स तो पसंद कर नही पाया मुझे अपनी माँ को दिलवाएगा.
उमेश: अरे बाबा सही तो बोल रहा है आप मेरा बेटा बालिग हो गया है और कॉलेज भी जाता है
और नही तो नेहा को ले जाओ
मे: उसे अपनी फ्रेंड्स और इन्स्टिट्यूट से फ़ुर्सत कहाँ है
नेहा : मोम ऐसा नही है आप को मेरी चाय्स पसंद नही आती तो मे क्या करूँ
उमेश: ओके मेरा तो हो गया अब आप लोग डिसाइड करो क्या करना है
मेरा काम था पैसे देना वो दे दिए और टिकेट्स बुक करवा दी है सॅटर्डे को रेडी रहना
मे: और आप के कपड़े
उमेश: मेरे पास है मुझे नही लेने तुम अपना देख लो
और उमेश अपने ऑफीस के लिए निकल जाता है और नेहा भी उसके साथ ही निकल जाती है
और अब घर पे रह जाते है राज और में
मे: तुम कॉलेज नही जा रहे राज
राज : माँ जाना तो है पर मन नही है आज
मे: क्यूँ
राज : बस ऐसे ही
मे: डिन्निंग टेबल पे से बर्तन उठाते हुए
तो क्या तू सच मे मेरे साथ शॉपिंग करने जाना चाहता है या बस पापा कर सामने बोल रहा था
राज : माँ सच मे मे आप के साथ चलना चाहता हूँ पर आप ही मना कर रही थी
मे: तो क्या करूँ जो काम तेरे पापा का है तो वो काम तू क्यूँ करेगा.
राज : माँ आप को पता है पापा कैसे है फिर भी आप उनसे उम्मीद करती हो फिर दुखी होती हो
तो मेरे हिसाब से वो काम करना ही नही चहाइए जिस से आप दुखी हो
मे: बड़ी बातें करना सीख रहा है
राज : ऐसा नही है माँ बचपन से देख रहा हूँ आप को और पापा को .इस लिए बोल रहा हूँ
मे: चल ठीक है मे काम ख़तम करती हूँ फिर चलते है
देख ते है क्या दिला ता है अपनी माँ को अपनी पसंद के कपड़े.
राज : ओके माँ मे भी रेडी हो जाता हूँ
और मे बर्तन उठा कर किचन मे आ जाती हूँ और काम ख़तम करती हूँ
शायद राज सही कह रहा था
उम्मीद ही दुखो का कारण है
ना किसी से कोई उम्मीद करो ना दिल टूटेगा ना दर्द होगा.
और काम ख़तम करने के बाद मे और राज घर से शॉपिंग के लिए निकल जाते है
बाहर आ कर ऑटो रिक्क्षा कर के मार्केट पहुँच जाते है

User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Mera shareer bhara hua tha kad 5.3 tha aur figure
36b: 32: 36 tha
Aur Raj ki hight 5.7 thi aur kuch kuch young ladko ki tarah dikhta tha his se koi bhi ladki impresse ho Jaye.
Aur neha bhi bhare hue shareer ki thi bilkul Apne to me ki rambha heroin ki tarah
Market pahunch kar Raj ne kafi sari shops par aa kar mere liye saadiyaan pasand ki Jo ki me pehnti thi
Mujhe aur kuch pehnne ki permission Nahi thi Apne pati ki taraf se.
Raj ne really kafi mehnat ki thi meri saadiyaan pasand karne me
Aur shopping karne ke baad hum ghar aa gaye
Aur jab Raat ko Maine apni saadiyaan neha ko dikhai to
NEHA : really nice mom kya pasand hai rah ki
Aur mere pati to as usual pi ke tull the aur is waqt unse baat karne kaa matlab diwar me sir marna.

Aur aise he din nikal gaye packing karne me aur Ghar ke kaam me aur Saturday bhi aa gaya jab hame nikal Na tha shadi ke liye.
Hum sab ready the nikal ne ke liye aur taxi bhi aa gai aur hum station bhi pahunch gaye
Station pe
UMESH: me abhi aaya train aane me abhi time hai
Aur wo chale gaye
Me puch ti reh gai Kaha ja rahe ho
Na aaj tak jawab Diya aur na abhi
Mujhe gussa aa raha tha tabhi
RAJ : maa phir se ummained aur phir dukhi hona
Aur me Raj ki taraf dekhte hue
Me: Nahi kar rahi ok
RAJ : ok maa ,
Maa juice peeogi
Me: Nahi Raj
NEHA : me peeungi Raj
RAJ : abhi laya
Aur wo hum dono ke liye minute made palpy le Aya orange flavour me
Me: mana kiya tha Na
RAJ : par me le Aya
Aur mere hath me bottle pakda Di aur hum teeno juice pine lage kuch der baad raj ke papa aa gaye aur unki condition se saaf pata chal rash that ki unhone drink kar Rakhi hai
Me kuch bolne wali thi ki
Neha aur Raj ne chup rehne ka isara kiya aur me Raj ki taraf Dekh kar chup ho gai
Aur thodi der baad hamari train aa gai aur hum train me baith gaye
Raj ke papa ne cabin book kiya tha
Raj ne apne papa niche wali birth pe Lita Diya aur dusri wali birth pe hum baith gaye.
Puri Raat ka Safar tha abhi Raat ke 8 baj rahe the.
Me: inka Ka kya karu
NEHA : mom please chodo unko aur bol kar oopar wali birth pe chadh gai .
Me aur Raj niche rah gaye.
Aur me Raj ki taraf Dekh kar rone ko hue
RAJ : please maa aap ko papa ki adat pata hai phir kyu
Me: meri Puri life aise he gujar gai pata nahi aur kitna bardast karna hai.
RAJ : maa srif positive socho sab achha lagega
Me: mer life me positive srif tum dono ho
RAJ : to hamare bare me socho Baki chhod do
Me: bahut bada ho gaya hai tu
RAJ : ha last month he 18 ka hua tha
Aur uski baat sun kar mere chehre pe hasi aa jati hai.
NEHA : mom Dekh raj ne hasa Diya Na
Neha oopar se boli
Me: ha wo
Tabhi cabin ke door pe knock hota hai
Raj door kholta hai Gate pe dinner leke delivery boy khada that
Aur hum sab ne dinner kiya par raj ke papa aise he sote rahe.
Aur dinner ke baad Raj oopar wali birth pe chala gaya aur me niche wali birth pe let gai
Kafi der lete rehne ke baad bhi meri ankhon me nind nahi thi.
Aur tabhi meri nazar oopar lete Raj pe gai uska chehra dikh raha tha kitna masoom tha par baat kitni achhi karne laga tha ek dum mature wali
Aur kitna khyal rakh ne laga hai Mera
Samajh nahi aa raha tha ki kya ho raha hai me kafi Der tak Raj ke chehre ko dekhti rahi aur pata nahi kab ankh lag gai aur aisa laga mujhe koi hila raha hai
Jab ankh kholi to samne Raj khada tha
Me: kya hua beta
RAJ : maa utho station aane wala hai papa aur neha fresh hone gaye hai aap bhi uth jao
Me: angdai lete hue kitne baj gaye
RAJ : maa 8 baj Chuke hai 30 minute me station aa Jayega
Aur me ekdum se uth gai
Aur me kuch bolti usse pehle raj ke papa aa gaye.
Me kuch bolne wali thi unko tabhi Raj ne isare se mana kar diya aur me bhi uth kar fresh hone chali gai.
मेरा शरीर भरा हुआ था कद 5.3 था और फिगर
36ब: 32: 36 था
और राज की हाइट 5.7 थी और कुछ कुछ यंग लड़को की तरह दिखता था जिस से कोई भी लड़की इंप्रेस हो जाए.
और नेहा भी भरे हुए शरीर की थी बिल्कुल रंभा हेरोइन की तरह
मार्केट पहुँच कर राज ने काफ़ी सारी शॉप्स पर आ कर मेरे लिए साड़ियाँ पसंद की जो कि मे पहनती थी
मुझे और कुछ पहनने की पर्मिशन नही थी अपने पति की तरफ से.
राज ने रियली काफ़ी मेहनत की थी मेरी साड़ियाँ पसंद करने मे
और शॉपिंग करने के बाद हम घर आ गये
और जब रात को मेने अपनी साड़ियाँ नेहा को दिखाई तो
नेहा : रियली नाइस मॉं क्या पसंद है राज की
और मेरे पति तो आस यूषुयल पी के टल्ली थे और इस वक़्त उनसे बात करने का मतलब दीवार मे सिर मारना.

और ऐसे ही दिन निकल गये पॅकिंग करने मे और घर के काम मे और सॅटर्डे भी आ गया जब हमे निकल ना था शादी के लिए.
हम सब रेडी थे निकल ने के लिए और टॅक्सी भी आ गई और हम स्टेशन भी पहुँच गये
स्टेशन पे
उमेश: मे अभी आया ट्रेन आने मे अभी टाइम है
और वो चले गये
मे पूछ ती रह गई कहाँ जा रहे हो
ना आज तक जवाब दिया और ना अभी
मुझे गुस्सा आ रहा था तभी
राज : माँ फिर से उम्मीद और फिर दुखी होना
और मे राज की तरफ देखते हुए
मे: नही कर रही ओके
राज : ओके माँ ,माँ जूस पीओगी
मे: नही राज
नेहा : मे पीउँगी राज
राज : अभी लाया
और वो हम दोनो के लिए मिनिट मेड पालपी ले आया ऑरेंज फ्लेवर मे
मे: मना किया था ना
राज : पर मे ले आया
और मेरे हाथ मे बॉटल पकड़ा दी और हम तीनो जूस पीने लगे कुछ देर बाद राज के पापा आ गये और उनकी कंडीशन से सॉफ पता चल
रहा था कि उन्होने ड्रिंक कर रखी है
मे कुछ बोलने वाली थी कि
नेहा और राज ने चुप रहने का इशारा किया और मे राज की तरफ देख कर चुप हो गई
और थोड़ी देर बाद हमारी ट्रेन आ गई और हम ट्रेन मे बैठ गये
राज के पापा ने कॅबिन बुक किया था
राज ने अपने पापा को नीचे वाली बर्त पे लिटा दिया और दूसरी वाली बर्त पे हम बैठ गये.
पूरी रात का सफ़र था अभी रात के 8 बज रहे थे.
मे: इनका का क्या करूँ
नेहा : मोम प्लीज़ छोड़ो उनको और बोल कर ऊपर वाली बर्त पे चढ़ गई .
मे और राज नीचे रह गये.
और मे राज की तरफ देख कर रोने को हुई
राज : प्लीज़ माँ आप को पापा की आदत पता है फिर क्यूँ
मे: मेरी पूरी लाइफ ऐसे ही गुजर गई पता नही और कितना बर्दास्त करना है.
राज : माँ सिर्फ़ पॉज़िटिव सोचो सब अच्छा लगेगा
मे: मेरी लाइफ मे पॉज़िटिव सिर्फ़ तुम दोनो हो
राज : तो हमारे बारे मे सोचो बाकी छोड़ दो
मे: बहुत बड़ा हो गया है तू
राज : हाँ लास्ट मंत ही 18 का हुआ था
और उसकी बात सुन कर मेरे चेहरे पे हसी आ जाती है.
नेहा : मोम देख राज ने हसा दिया ना
नेहा ऊपर से बोली
मे: हाँ वो
तभी कॅबिन के डोर पे नॉक होता है
राज डोर खोलता है गेट पे डिन्नर लेके डेलिवरी बॉय खड़ा था
और हम सब ने डिन्नर किया पर राज के पापा ऐसे ही सोते रहे.
और डिन्नर के बाद राज ऊपर वाली बर्त पे चला गया और मे नीचे वाली बर्त पे लेट गई
काफ़ी देर लेटे रहने के बाद भी मेरी आँखों मे नींद नही थी.
और तभी मेरी नज़र ऊपर लेटे राज पे गई उसका चेहरा दिख रहा था कितना मासूम था पर बात कितनी अच्छी करने लगा था एक दम मेच्यूर वाली और कितना ख्याल रख ने लगा है मेरा
समझ नही आ रहा था कि क्या हो रहा है मे काफ़ी देर तक राज के चेहरे को देखती रही और पता नही कब आँख लग गई और ऐसा लगा मुझे कोई हिला रहा है
जब आँख खोली तो सामने राज खड़ा था
मे: क्या हुआ बेटा
राज : माँ उठो स्टेशन आने वाला है पापा और नेहा फ्रेश होने गये है आप भी उठ जाओ
मे: अंगड़ाई लेते हुए कितने बज गये
राज : माँ 8 बज चुके है 30 मिनिट मे स्टेशन आ जाएगा
और मे एकदम से उठ गई
और मे कुछ बोलती उससे पहले राज के पापा आ गये.
मे कुछ बोलने वाली थी उनको तभी राज ने इशारे से मना कर दिया और मे भी उठ कर फ्रेश होने चली गई.



User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Train Apne time pe station pahunch gai aur hum bhi ek ghante me apni manzil pe pahunch gaye
Mere Bhai ke Ghar PE mere bhai Jo mujhe se 6 Saal bade the bhabhi unka bêta jis ki shadi thi aur unki ek beti thi jis ki shadi ho chuki thi
Ghar pahunch kar sab ne achhe se welcome kiya aur hum ko ek Room de Diya gaya rehne ke liye.
Aur bhi relative aa Chuke the kyu ki shadi Tuesday ko thi aur aj Sunday ho chuka tha
Par pata nahi is mujhe samajh nahi aa raha tha ki me aaj Jo Khushi mehsus kar rahi hu wo apne Ghar aane ki khushi hai ya kuch aur
Aur wo aur kya hai samajh nahi aa raha tha
Par tabhi Raj ki awaz aai aur me samajh gai wo Khushi Raj ki hai Jo pichle teen din se Raj ke nature ne mujhe khush rehne me held ki hai issi liye mian AJ khus hu.
Me: ha beta
RAJ : niche mami bula rahi hai
Me: tum chalo me aati hu
Aur me niche aa gai
Pura din aise he nikal gaya Raat ko Sangeet ka program that uske baad sab apne apne room me sone chale gaye
Hamare room me ek double bed tha
Jis par raj ke papa Lete the aur neha bhi bed pe leti hue thi
Par Raj Room me nahi tha
Maine uske mobile pe call kiya
Me: Kaha hai Raat ke 11 baj rahe hai
RAJ : maa bas abhi aaya bhai ke sath hu
Me: zalidi aao aur call disconnect kar Di
Neha uth beta niche so ja
NEHA : mom sone do na
Me: beta niche so ja oopar Raj so jayega
NEHA : sone to na mom Raj niche so jayega.
Aur wo karwat le kar so jati hai
Ab kaise samjhu usse ki ab bachhi Nahi hai Jo apne papa ke sath so rahi hai Jawan ho gai hai 22 Saal ki kahi galti se hath idhar udhar lag jaye unka
Tabhi Raj AA jata hai
Me: mil gaya time aane Ka
RAJ : maa aap Sangeet me the aur papa aur neha Di so gaye the to me akela kya karta
Mann me sahi to keh raha hai Akela kya karta
Me: chalo ab change kar lo aur so jao
RAJ : Kaha letu neha Di to papa ke sath
Me: to kya hua tum mere sath so jao
Aur Raj aur me change kar ke niche let gaye
Kam se kam aaj 5 Saal baad me Raj ke sath leti thi el sath .
Aur me raj ko Dekh rahi thi
RAJ : kya Dekh rahi ho maa
Me: Dekh rahi hu waqt kitni zaldi pass ho jata hai jaise kal ki he baat hai jab tum meri godi me sone ke liye rote the aur aaj mere sath lete hue ho wo bhi neha Apne papa ke sath let gai is liye nahi to tumhe mere sath sone me ab problem hoti hai
RAJ : aisa Nahi hai maa bus Kabhi chance he nahi mila
Aur jab aaj Mila hai to dekho aap ke sath leta hu
Par ha ab aap ki godi me nahi let sakta kyu ki ab me bada ho gaya hu
Me: raj bachhe kitne bhi bade ho Jaye par maa ke liye
Bachhe he rehte hai aur baat godi ki hai to agar tum chaho to ab bhi apni ma ki godi me let sakte ho
Par agar tum chaho to
RAJ : par kaise maa
Aur me uth kar pehle room ki light band kar to hi
Phir niche baith kar Raj ke sar ko apni godi me rakh leti hu
Aur uske balo me ungli pherne lagti hu.
Aur Raj aise he lete rehta hai
Thodi der me hum dono ki ankhe andhere me adjust ho jati hai
Aur hum dono ek dusre ki ankhon me dekhte hue
Me: AA gaya na apni maa ki godi me
RAJ : ha maa AA gaya aap ki godi bahut badi hai maa ho ho
Aur apne dono hathon ko meri kamar pe lapet leta hai aur apna muh mere pet se laga kar sone ki koshish karne lagta hai
Aur me uske balon me ungli pherti rehti hu
Aur pata nahi Raj aur meri ankh lag jati hai.
ट्रेन अपने टाइम पे स्टेशन पहुँच गई और हम भी एक घंटे मे अपनी मंज़िल पे पहुँच गये
मेरे भाई के घर पे मेरे भाई जो मुझे से 6 साल बड़े थे भाभी उनका बेटा जिस की शादी थी और उनकी एक बेटी थी जिस की शादी हो चुकी थी
घर पहुँच कर सब ने अच्छे से वेलकम किया और हम को एक रूम दे दिया गया रहने के लिए.
और भी रिलेटिव आ चुके थे क्यूँ कि शादी ट्यूसडे को थी और आज सनडे हो चुका था
पर पता नही इस मुझे समझ नही आ रहा था कि मे आज जो खुशी महसूस कर रही हूँ वो अपने घर आने की खुशी है या कुछ और
और वो और क्या है समझ नही आ रहा था
पर तभी राज की आवाज़ आई और मे समझ गई वो खुशी राज की है जो पिछले तीन दिन से राज के नेचर ने मुझे खुश रहने मे हेल्प की है
इसी लिए मैं आज खुस हूँ.
मे: हाँ बेटा
राज : नीचे मामी बुला रही है
मे: तुम चलो मे आती हूँ
और मे नीचे आ गई
पूरा दिन ऐसे ही निकल गया रात को संगीत का प्रोग्राम था उसके बाद सब अपने अपने रूम मे सोने चले गये
हमारे रूम मे एक डबल बेड था
जिस पर राज के पापा लेटे थे और नेहा भी बेड पे लेटी हुई थी
पर राज रूम मे नही था
मेने उसके मोबाइल पे कॉल किया
मे: कहाँ है रात के 11 बज रहे है
राज : माँ बस अभी आया भाई के साथ हूँ
मे: ज़ल्दी आओ और कॉल डिसकनेक्ट कर दी
नेहा उठ बेटा नीचे सो जा
नेहा : मॉम सोने दो ना
मे: बेटा नीचे सो जा ऊपर राज सो जाएगा
नेहा : सोने तो ना मोम राज नीचे सो जाएगा.
और वो करवट ले कर सो जाती है
अब कैसे समझाऊ उसे कि अब बच्ची नही है जो अपने पापा के साथ सो रही है जवान हो गई है 22 साल की कहीं ग़लती से हाथ इधर उधर लग जाए उनका
तभी राज आ जाता है
मे: मिल गया टाइम आने का
राज : माँ आप संगीत मे थे और पापा और नेहा दी सो गये थे तो मे अकेला क्या करता
मन मे सही तो कह रहा है अकेला क्या करता
मे: चलो अब चेंज कर लो और सो जाओ
राज : कहाँ लेटु नेहा दी तो पापा के साथ
मे: तो क्या हुआ तुम मेरे साथ सो जाओ
और राज और मे चेंज कर के नीचे लेट गये
कम से कम आज 5 साल बाद मे राज के साथ लेटी थी एक साथ .
और मे राज को देख रही थी
राज : क्या देख रही हो माँ
मे: देख रही हूँ वक़्त कितनी ज़ल्दी पास हो जाता है जैसे कल की ही बात है जब तुम मेरी गोदी मे सोने के लिए रोते थे और आज मेरे साथ
लेटे हुए हो वो भी नेहा अपने पापा के साथ लेट गई इस लिए नही तो तुम्हे मेरे साथ सोने मे अब प्राब्लम होती है
राज : ऐसा नही है मा बस कभी चान्स ही नही मिला
और जब आज मिला है तो देखो आप के साथ लेटा हूँ
पर हाँ अब आप की गोदी मे नही लेट सकता क्यूँ कि अब मे बड़ा हो गया हूँ
मे: राज बच्चे कितने भी बड़े हो जाए पर माँ के लिए
बच्चे ही रहते है और बात गोदी की है तो अगर तुम चाहो तो अब भी अपनी माँ की गोदी मे लेट सकते हो
पर अगर तुम चाहो तो
राज : पर कैसे माँ
और मेने उठ कर पहले रूम की लाइट बंद कर देती हूँ
फिर नीचे बैठ कर राज के सर को अपनी गोदी मे रख लेती हूँ
और उसके बालो मे उंगली फेरने लगती हूँ.
और राज ऐसे ही लेटे रहता है
थोड़ी देर मे हम दोनो की आँखे अंधेरे मे अड्जस्ट हो जाती है
और हम दोनो एक दूसरे की आँखों मे देखते हुए
मे: आ गया ना अपनी माँ की गोदी मे
राज : हाँ माँ आ गया आप की गोदी बहुत बड़ी है माँ हो हो
और अपने दोनो हाथों को मेरी कमर पे लपेट लेता है और अपना मूह मेरे पेट से लगा कर सोने की कोशिश करने लगता है
और मे उसके बालों मे उंगली फेरती रहती हूँ
और पता नही राज और मेरी आँख लग जाती है.

User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Agli subah meri ankh khulti hai Raj abhi bhi mere se chipak ke so raha tha
Mujhe pata nahi kya hua usko Maine Apne aap se aur chipka liya aur uske mathe pe ek kiss kar Di.
Tabhi Raj kunmunate hue uthne laga aur me uski chhod diya
RAJ : good morning maa
Me usse se alag hote hue
Me: good morning beta neend Kauai aai
RAJ : maa ap ki godi me pata he nahi laga Ka me so gaya
Aur maine usko Mera bachha kehte hue apne gale se laga liya.
Jab Mann kare apni maa ki godi me so Jaya kar
RAJ : paka maa
Me: ha Raj Jan Mann kar
RAJ : thank u maa aur wo bhi mere gale lag jata hai.
Tabhi Raj ke papa ki awaz aati hai to me aur Raj alag ho jate hai
Aur thodi der me hum sab fresh ho kar niche aa jate hai
Kyu ki hamara room first floor pe tha.
Aur phir sab jaise shadi Ka Ghar hota hai waise busy ho jate hai par pata nahi Mera Mann ab Raj ke Bina Nahi lag raha tha kyu pata nahi
Evening me neha aur kafi sari ladikiyan beauty parlour Jane lagti hai
Tabhi pata nahi Raj mere pass aa kar
RAJ : maa ap bhi jao Na beauty parlour
MRaj : pagal ho kya ab koi meri Umar hai beauty parlour Jane ki
RAJ : kyu jab mami ha Sakti hai hai to ap kyu Nahi
Me: par Raj me pichle 15 Saal se nahi gai beauty parlour ab kaise
RAJ : kyu koi kaam dobara Suru nahi ho sakta
Me: zid mat kar Raj
RAJ : kyu na karu
Me' samjha kar Raj tumne Dekha hai Bhai bhabhi se kitna pyar karte hai aur tere papa ko drink karne se fursat nahi hai to mere beauty parlour Jane aur na Jane se kya fark padta hai
RAJ : hum apni Khushi ke liye Nahi ja sakte
MRaj : Raj
RAJ : ha maa kyu aap khubsurat nahi Dikhna chahati
Kya aap ka Mann nahi karta ,kya puri life ek insan ke hisab se gujrani hai
Me: Raj wo
RAJ : aap ja rahe ho beauty parlour and that's final
Me: kiske liye
RAJ : phir wahi kiske liye apne liye
Mere liye
Me: kya kaha dobara bolo
R' aap ko apne liye Nahi Jana to mere liye chale jao
Me: tumhare liye
RAJ : ha Apne bete ke liye ,
Jaoge Na
Me: achha baba srif tumhare liye
Aur Raj khush ho gaya
Me: kiske sath jao sab chale gaye
RAJ : me hu na aap ka beta
Aur Raj mujhe Apne sath beauty parlour le gaye jaha me aj 15 Saal baad dobara ja rahi hu
Aur raj ko Bol kar ki wo ghar chalA Jaye me beauty parlour ke andar aa gai .
Aur kareeb ek ghante ke baad jab bahar aai to Raj wahi khada tha
Me' kya hua gaye Nahi
RAJ : jab sath laya tha to sath le kar jaunga na apni beautiful maa ko
Me: beautiful matlab
RAJ : aap bahut beautiful lag rahi ho
Me: chalte hue Ghar ki taraf
Matlab makeup ke Bina me khubsurat nahi lagti
Me samajh nahi pa rahi thi ki me Raj ki itni baat kyu maan rahi thi aur uske aisi baat kyu kar rahi this
RAJ : Nahi aise Nahi hai par aj pehli baar Maine aap ko beauty parlour me Dekha hai is liye
Aur such me aap bahut khubsurat lag rahi ho jab papa aap ko dekhnege tab dekhna
Me: dekhte hai aur baat karte hue hum ghar aa gaye
Aur muje kisi ne notice Nahi liya.
Na neha be aur na Raj ke papa ne
Aur me Raj ki ankhon me dekhte hue
Meri ankhon se ansu AA gaye
RAJ : maa ap ki meri kasam aap roye to
Me: Dekh liya kisi ko koi fark nahi pada
RAJ : ap beauty parlour kis ke liye gai
Me :tumhare liye
RAJ : Maine notice kiya Na
Me' ha
RAJ : to phir ab kisko dikhana
Me: usko dekhte hue
Kisi ko nahi mere bete ki dikhana tha wo usne dekh Liya
RAJ : ye hue Na Raj ki maa ki baat
Aur hi sab ne khana khaya aur sone AA gaye
Aj Raj aur uske papa bed pe aur me aur neha niche soye.

अगली सुबह मेरी आँख खुलती है राज अभी भी मेरे से चिपक के सो रहा था
मुझे पता नही क्या हुआ उसको मेने अपने आप से और चिपका लिया और उसके माथे पे एक किस कर दी.

तभी राज कुन्मूनाते हुए उठने लगा और मेने उसको छोड़ दिया
राज : गुड मॉर्निंग माँ

मे उस से अलग होते हुए
मे: गुड मॉर्निंग बेटा नींद कैसी आई

राज : माँ आप की गोदी मे पता ही नही लगा कब मे सो गया

और मेने उसको मेरा बच्चा कहते हुए अपने गले से लगा लिया.
जब मन करे अपनी माँ की गोदी मे सो जाया कर

राज : पक्का माँ

मे: हाँ राज जब मन करे

राज : थॅंक यू माँ और वो भी मेरे गले लग जाता है.

तभी राज के पापा की आवाज़ आती है तो मे और राज अलग हो जाते है
और थोड़ी देर मे हम सब फ्रेश हो कर नीचे आ जाते है
क्यूँ कि हमारा रूम फर्स्ट फ्लोर पे था.
और फिर सब जैसे शादी का घर होता है वैसे बिज़ी हो जाते है पर पता नही मेरा मन अब राज के बिना नही लग रहा था क्यूँ पता नही
ईव्निंग मे नेहा और काफ़ी सारी लाड़िकियाँ ब्यूटी पार्लर जाने लगती है

तभी पता नही राज मेरे पास आ कर

राज : माँ आप भी जाओ ना ब्यूटी पार्लर

मैं : पागल हो क्या अब कोई मेरी उमर है ब्यूटी पार्लर जाने की

राज : क्यूँ जब मामी जा सकती है है तो आप क्यूँ नही

मे: पर राज मे पिछले 15 साल से नही गई ब्यूटी पार्लर अब कैसे

राज : क्यूँ कोई काम दोबारा सुरू नही हो सकता

मे: ज़िद मत कर राज

राज : क्यूँ ना करूँ

मे' समझा कर राज तुमने देखा है भाई भाभी से कितना प्यार करते है और तेरे पापा को ड्रिंक करने से फ़ुर्सत नही है तो मेरे ब्यूटी पार्लर जाने और ना जाने से क्या फ़र्क पड़ता है

राज : हम अपनी खुशी के लिए नही जा सकते

मैं : राज

राज : हाँ माँ क्यूँ आप खूबसूरत नही दिखना चाहती
क्या आप का मन नही करता ,क्या पूरी लाइफ एक इंसान के हिसाब से गुजारनी है

मे: राज वो

राज : आप जा रहे हो ब्यूटी पार्लर आंड दट'स फाइनल

मे: किसके लिए

राज : फिर वही किसके लिए अपने लिए

मेरे लिए

मे: क्या कहा दोबारा बोलो

राज' आप को अपने लिए नही जाना तो मेरे लिए चले जाओ

मे: तुम्हारे लिए

राज : हाँ अपने बेटे के लिए ,
जाओगे ना

मे: अच्छा बाबा सिर्फ़ तुम्हारे लिए
और राज खुश हो गया

मे: किसके साथ जाऊ सब चले गये

राज : मे हूँ ना आप का बेटा
और राज मुझे अपने साथ ब्यूटी पार्लर ले गया जहाँ मे आज 15 साल बाद दोबारा जा रही हूँ
और राज को बोल कर कि वो घर चला जाए मे ब्यूटी पार्लर के अंदर आ गई .
और करीब एक घंटे के बाद जब बाहर आई तो राज वही खड़ा था

मे' क्या हुआ गये नही

राज : जब साथ लाया था तो साथ ले कर जाउन्गा ना अपनी ब्यूटिफुल माँ को

मे: ब्यूटिफुल मतलब

राज : आप बहुत ब्यूटिफुल लग रही हो

मे: चलते हुए घर की तरफ
मतलब मेकप के बिना मे खूबसूरत नही लगती
मे समझ नही पा रही थी कि मे राज की इतनी बात क्यूँ मान रही थी और उसके ऐसी बात क्यूँ कर रही थी

राज : नही ऐसा नही है पर आज पहली बार मेने आप को ब्यूटी पार्लर मे देखा है इस लिए
और सच मे आप बहुत खूबसूरत लग रही हो जब पापा आप को देखेंगे तब देखना

मे: देखते है और बात करते हुए हम घर आ गये
और मुझे किसी ने नोटीस नही लिया.
ना नेहा ने और ना राज के पापा ने
और मे राज की आँखों मे देखते हुए
मेरी आँखों से आँसू आ गये

राज : माँ आप की मेरी कसम आप रोए तो

मे: देख लिया किसी को कोई फ़र्क नही पड़ा

राज : आप ब्यूटी पार्लर किस के लिए गई

मे :तुम्हारे लिए

राज : मेने नोटीस किया ना

मे' हाँ

राज : तो फिर अब किसको दिखाना
मे: उसको देखते हुए

मैं ; किसी को नही मेरे बेटे को दिखाना था वो उसने देख लिया

राज : ये हुए ना राज की माँ की बात

और ही सब ने खाना खाया और सोने आ गये
आज राज और उसके पापा बेड पे और मे और नेहा नीचे सोए.



Post Reply