Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post Reply
User avatar
shaziya
Novice User
Posts: 2306
Joined: 19 Feb 2015 03:27

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by shaziya »

Raste me
Me: par hum dono maa beti ek dress me
Neha: Maine Anupam se bol Diya hai me aur ek he color aur design ki dress pehenge
Me: neha tumhari dress kiski Pasand hai
Neha: papa ki
Me: chup karo
Neha': thodi der baad ho jayenge
Me: to papa ne matlab Raj ne kuch aur bhi dilaya Hoga
Neha: ha bra painty same wali
Me Raj ko dekhte hue
Me: aur
Neha: nahi aur kuch nahi
Me: bolo chai bhi
Neha': nahi wo sirf aap ko mujhe nahi
Me: kyun
Neha: kyun ki mujhe Apne sasural Jana hai aur aap to pehle he sasural me hai
Me: tum dono kab se ye plan kar rahe ho
Raj: jab se ap se shadi karne ka aur honeymoon Ka khyal Aaya to neha ke sath mil kar plan kiya
Me: bade ho gaye ho
Raj: ha jab Ghar chalana hai to bada hona to padega
Raj ke kandhe pe halka sa thappad lagate hue
Me: par jaan shadi kaise karoge
Raj: me free hote hai to jaise neha bole karti Jana
Me: mujhe bhi bata do
Aur Raj ne plan bataya
Ring to pehna Di thi
Ab phero ke Bari thi
Banquet pahunch kar
Sabhi dkh kar pagal Jo rahe the k MAA beti be ek he designe ki dress pehni hai
Par sab Ka dhyan neha par tha
Par Raj Ka mere par aur Mera Raj par
Jai mala ke time Raj ne muje gold ki chain pehnai
Aur maine Raj ko
Logo be pucha to
Raj ke plan ke according chai change ho gai thi jise hum ne change kiya tha
Tabhi Umesh mere pass aye
Me: aa bolo
Umesh: kya lag rahi ho aj bilkul neha ki tarah Jawan aur khubsurat
Par mujhe koi farak Nahi pada kyun ki ab me ye compliment Apne Raj ke muh se sunna chahati thi
Par Raj me abhi tak nahi Bola tha
Barmala ke baad dinner tha sab me dinner kiya aur phero Ka intzar karne lage
Phero par jab phere shuru hue plan ke according neha
Phero par behosh ho gai his vajah se mujje uske sath uski pakad kar chalna pada
Logo ne mana kiya ki maa Kaise sath chal skti hai
Par Raj ne pandit ji ke sath setting kar Rakhi thi
Do unhone kuch Nahi Bola
Par ye zarur Bola koi inke sath chale to koi problem nahi hai aur
Raj Ka rasta saaf ho gaya
Aur setting aisi thi
Me neha ko pakad kar chal rahi thi aur Raj muje aur hamare piche Anupam
Is tarah hum maa bete ne bhi fere le liye
Aur hum bhi neha Anupam ki tarah pati patni ban gaye
Aur me soch soch kar hairan thi Raj ne kya setting ki aur
Hum dono ki.shadi ho gai jab ki kal tak Aisa kuch Nahi tha mere hisab se.
Aur me Raj ke pass aa kar
Me: hum neha ke sath suhagraat
Raj: wo baad me jab aap ki hogi
Me' : chup karo beshram
Raj; ab pati hu
Me: sorry maaf kar do jaan
Raj: hu chalo maaf kiya jao hamari beti ki Bida ki tyari karo
Aur neha Apne sasural vida ho gai
रास्ते मे

मे: पर हम दोनो माँ बेटी एक ड्रेस मे

नेहा: मैने अनुपम से बोल दिया है मे और माँ एक ही कलर और डिज़ाइन की ड्रेस पहेंगे

मे: नेहा तुम्हारी ड्रेस किसकी पसंद है

नेहा: पापा की

मे: चुप करो

नेहा': थोड़ी देर बाद हो जाएँगे

मे: तो पापा ने मतलब राज ने कुछ और भी दिलाया होगा

नेहा: हाँ ब्रा पैंटी सेम वाली

मे राज को देखते हुए

मे: और

नेहा: नही और कुछ नही

मे: बोलो चैन भी

नेहा': नही वो सिर्फ़ आप को मुझे नही

मे: क्यूँ

नेहा: क्यूँ कि मुझे अपने ससुराल जाना है और आप तो पहले ही ससुराल मे है

मे: तुम दोनो कब से ये प्लान कर रहे हो

राज: जब से आप से शादी करने का और हनिमून का ख्याल आया तो नेहा के साथ मिल कर प्लान किया

मे: बड़े हो गये हो

राज: हाँ जब घर चलाना है तो बड़ा होना तो पड़ेगा

राज के कंधे पे हल्का सा थप्पड़ लगाते हुए
मे: पर जान शादी कैसे करोगे

राज: मेरे फ्री होते ही जैसे नेहा बोले करती जाना

मे: मुझे भी बता दो

और राज ने प्लान बताया
रिंग तो पहना दी थी
अब की बारी थी

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,


बॅंक्वेट पहुँच कर
सभी देख कर पागल जो रहे थे कि माँ बेटी ने एक ही डिजाइन की ड्रेस पहनी है
पर सब का ध्यान नेहा पर था

पर राज का मेरे पर और मेरा राज पर

ज़य माला के टाइम राज ने मुझे गोल्ड की चैन पहनाई
और मैने राज को

लोगो ने पूछा तो राज के प्लान के अकॉरडिंग चैन चेंज हो गई थी जिसे हम ने चेंज किया था

तभी उमेश मेरे पास आए


मे: हाँ बोलो

उमेश: क्या लग रही हो आज बिल्कुल नेहा की तरह जवान और खूबसूरत

पर मुझे कोई फरक नही पड़ा क्यूँ कि अब मे ये कॉंप्लिमेंट अपने राज के मूह से सुनना चाहती थी
पर राज ने अभी तक नही बोला था

बरमाला के बाद डिन्नर था सब ने डिन्नर किया और फेरो का इंतज़ार करने लगे

फेरो पर जब फेरे शुरू हुए तो प्लान के अकॉरडिंग नेहा फेरो पर बेहोश हो गई जिस वजह से मुझे उसके साथ उसको पकड़ कर चलना पड़ा

लोगो ने मना किया कि माँ कैसे साथ चल सकती है

पर राज ने पंडित जी के साथ सेट्टिंग कर रखी थी

तो उन्होने कुछ नही बोला
पर ये ज़रूर बोला कोई इनके साथ चले तो कोई प्राब्लम नही है और
राज का रास्ता सॉफ हो गया
और सेट्टिंग भी ऐसी थी

मे नेहा को पकड़ कर चल रही थी और राज मुझे और हमारे पीछे अनुपम
इस तरह हम माँ बेटे ने भी फेरे ले लिए

और हम भी नेहा अनुपम की तरह पति पत्नी बन गये
और मे सोच सोच कर हैरान थी राज ने क्या सेट्टिंग की और
हम दोनो की.शादी हो गई जब कि कल तक ऐसा कुछ नही था मेरे हिसाब से.

और मे राज के पास आ कर

मे: हम नेहा के साथ सुहागरात

राज: वो बाद मे जब आप की होगी

मे' : चुप करो बेशरम

राज; अब पति हूँ

मे: सॉरी माफ़ कर दो जान

राज: हूँ चलो माफ़ किया जाओ हमारी बेटी की बिदाई की त्यारी करो
और नेहा अपने ससुराल विदा हो गई
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,



Masoom
Pro Member
Posts: 2519
Joined: 01 Apr 2017 17:18

Re: Nazayaz rishta : zarurat ya kamjori नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी

Post by Masoom »

Very Nice, Fantastic, Awesome, Mind blowing update ....................
Keep it up bro ...............
Waiting for next update ................


Post Reply