Incest आवारा सांड़

Post Reply
Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

Incest आवारा सांड़

Post by Fan of RSS »

आवारा सांड़



Lekhak-- Anand singh

Hello friends 😆

friends i want to share some fantastic stories with you . these stories is not mine it's only collecting internet .

Are you ready?


लेखक - आनंद सिंग

दोस्तो बड़ा अजीब सा नाम है ये आवारा सांड़.....ये कहानी है एक ऐसे लड़के की जिसको रात दिन बस एक ही काम नज़र आता था ....और वो काम था केवल चोदने का....

उसे इस काम मे महारत हासिल थी.....आख़िर हो भी क्यो ना..इतना विशाल लंड जो उपर वाले ने उसे दिया था....एक बार जो भी लड़की या औरत उसके लंड से चुद जाती वो हर समय बस इसी इंतज़ार मे रहती कि उसका बड़ा सा लंड फिर कब उनकी चूत या गान्ड मे घुस कर उन्हे
चोदेगा....

ये कहानी है एक ग़रीब परिवार के लड़के राज की.......उसके चुदाई सफ़र की.....जिसने स्कूल,गाओं,कॉलेज और घर की और रिश्तेदारो की
कुवारि लड़कियो और औरतो की चूत को अपने विशाल लंड से चोद चोद कर कैसे उनका भोसड़ा बनाया.....

इसीलिए लोग उसे प्यार से आवारा सांड़ कहते हैं...उसके बड़े और मोटे लंड के कारण....


Lekhak - Anand

Dosto Bada ajeeb sa naam hai ye awara saand.....Ye kahani hai ek aise Ladke ki Jisko Raat din bas ek hi kaam nazar aata tha ....aur vo kaam tha kewal Chodne ka....

Use is kaam me maharat hasil thi.....akhir ho bhi kyo na..itna vishal Lund jo upar wale ne use diya tha....ek baar jo bhi ladki ya aurat uske lund se chud jati vo har samay bas isi intazar me rahti ki uska bada sa lund phir kab unki choot ya gaand me ghus kar unhe chodega....

Ye kahani hai ek garib pariwar ke Ladke Raj ki.......uske chudai safar ki.....Jisne school,gaon,college aur ghar ki aur rishtedaro ki kuwari ladkiyo aur aurato ki choot ko apne vishal lund se chod chod kar kaise unka bhosda banaya.....

isiliye log use pyar se awara saand kahte hain...uske bade aur mote lund ke karan....




Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

आवारा सांड़ अपडेट * 1

Post by Fan of RSS »

अपडेट * 1


"अरे वो मीनू......देख उस राज को भी उठा दे ....सूरज सर पर आ गया है.....और ये अभी तक बिस्तर से नही उठा" ...

ये आवाज़ है राज की माँ मालती की जो अपनी बड़ी बेटी मीना को अपने हीरो राज को उठाने के लिए बोल रही है...

40 की उमर होने के बावजूद भी देखने से उसकी उमर का अंदाज़ा नही लगता....36" की बड़ी बड़ी चुचिया और 38" की विशाल गान्ड....जो भी एक बार देख ले बिना मूठ मारे ना रह पाए....उपर से गोरा रंग.....


दूसरो की हम क्यो बात करे....उसका बेटा राज खुद ही अपनी माँ की बड़ी गान्ड के नाम पर अपने लंड का पानी गिराता रहता है....और मंन मे उसे नंगी कर के चोदने के सपने देखता है....वो तो इतना ही नही अपने घर की चचेरी बहनो और सग़ी बहनो को भी चोदने की फिराक मे लगा रहता है....बस मौका नही मिलता उसे...



मालती की चार औलाद हैं....जिनमे 3 बेटियाँ और एक लड़का है..... आइए एक नज़र मालती के परिवार पर डाल लेते हैं....


इंदु--एज..65..दादी

मालती--एज..40..माँ
मीना--एज..25..बड़ी बहन
शीतल--आगे..23.. मझली बहन
राधा--एज..18..छोटी बहन
राज--एज..20..हीरो


रमेश--एज..45..बड़े चाचा
रूपा--एज..38..बड़ी चाची
किंजल--एज..24..बड़ी बेटी
ऋतु--एज..22..छोटी बेटी


प्रताप--एज..43..छोटे चाचा
सीमा--एज..39..छोटी चाची
विद्या--एज..22..बड़ी बेटी
संध्या--एज..21..मझली बेटी
सोनम--एज..18..छोटी बेटी

ये तो था अपने हीरो के परिवार का लेखा जोखा......राज के पापा की मौत आज से 5 साल पहले कॅन्सर की वजह से हो गयी थी....इनके आमदनी का एक मात्र साधन खेती बाड़ी ही है.....वो भी ज़्यादा तो नही है...बस गुज़ारा चल रहा है जिसके चलते अभी तक सभी लड़किया कुवारि बैठी है....

अभी बटवारा ना होने के कारण सभी एक ही छत के नीचे रहते हैं.....राज परिवार का एकलौता लड़का होने के कारण सबका लाड़ला
था......जिससे वो लाड़ प्यार मे बिगड़ गया....

उपर से उसके दोस्त भी चोदु मिले...जिन्होने उसे चूत की ऐसी लत लगाई की फिर राज ने पीछे मूड कर नही देखा सबसे पहले अपने प्यारे
दोस्तो की ही माँ बहनो पर हाथ साफ करने लगा.....

तो चलते हैं कहानी की ओर जहाँ मालती मीनू को राज को उठाने के लिए कहती है.....

मीनू--माँ तुम कुछ कहती क्यो नही उस सांड़ को.....कल मेरी सहेली विमला को ही रास्ते मे पकड़ लिया था...वो तो अच्छा हुआ कि मैं टाइम
पर वहाँ पहुच गयी नही तो उसका भी मूह काला कर देता...ये सांड़

मालती--क्या करूँ बेटी....एकलौता जो है....सुधर जाएगा...अभी बच्चा है

मीनू--बच्चा नही ..पूरा सांड़ है.....कोई किसी दिन उसका बच्चा लेकर दरवाजे पर आ जाएगी तब मुझे मत बोलना कि बताया नही था...तेरी
लाड़ले की करतूते

मालती--अभी जाके उठा उसको....फिर खेत भी जाना है मुझे

मीनू--जाती हूँ....

मीनू जैसे ही राज को उठाने गयी.....जब दो तीन बार आवाज़ लगाने से वो नही उठा तो उसने उसकी चादर पकड़ के खीच दी...यही उससे बहुत बड़ी ग़लती हो गयी...

क्यों कि चादर के अंदर राज अपनी चड्डी उतार के सोया था...और उसका 11" लंबा और 5" मोटा लंड एक दम तन तना कर खड़ा था

मीनू की तो हलक मे साँस ही अटक गयी...वो अपने मूह के अंदर थूक निगले जा रही थी...वो यहाँ क्या करने आई थी सब भूल कर बस राज के भयंकर गोरे लंड को आँखे फाड़ कर देखे जा रही थी....

मीनू 25 साल की अन्चुदी गदराई लौंडिया थी.....इतने मस्त लंड को देख कर उसकी चूत ने रोना शुरू कर दिया.....

मीनू (मन मे)--बाप रे...कितना बड़ा लंड है राज का....अब समझी सब लड़किया क्यो इसके आगे पीछे घूमती हैं...उनकी तो फाड़ के रख देता होगा ये...उनकी क्या अगर मेरी चूत मे भी घुस गया ग़लती से तो पूरी बित्ते भर की फैला देगा एक ही बार मे चोद चोद कर...पूरा भोसड़ा बन
जाएगी मेरी चूत....एक बार छु के देखती हू...जब तक ये सांड़ सो रहा है...

मीनू डरते डरते काँपते हाथो से राज के लंड को पकड़ लेती है.....जब उसे राज के नीद मे होने का पूरा अंदाज़ा हो गया तो फिर लंड की
चमड़ी को उपर नीचे करने लगी...

मीनू पूरी तरह से गरम होकर चुदासी हो चुकी थी....उसकी जिंदगी का ये पहला लंड था जिसे उसने देखा था आज....वो भी अपने सगे छोटे भाई का....

मीनू अपना रिश्ता नाता सब भूल कर चूत की गर्मी के वशी भूत हो चुकी थी....लंड की चमड़ी उपर नीचे करते हुए जब उसके हाथ दर्द करने लगे तो उसने डरते हुए लंड का टोपा अपने मूह मे ले लिया और चूसने लगी....

मीनू को लंड चूसना इतना अच्छा लगा कि वो उसमे ही खो गयी...और आँखे बंद कर के चुस्ती गयी....उसका ध्यान तब जाके भंग हुआ जब किसी ने उसकी दोनो चुचियो को कस के मसल दिया...


Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

आवारा सांड़ UPDATE * 1

Post by Fan of RSS »

UPDATE * 1


"arey vo meenu......dekh us Raj ko bhi utha de ....suraj sar par aa gaya hai.....aur ye abhi tak bistar se nahi utha" ...

ye awaz hai raj ki maa Malti ki jo apni badi beti meena ko apne hero Raj ko uthane ke liye bol rahi hai...

40 ki umar hone ke bavjud bhi dekhne se uski umar ka andaza nahi lagta....36" ki badi badi chuchiya aur 38" ki vishal gaand....jo bhi ek baar dekh le bina muth mare na rah paye....upar se gora rang.....


Dusro ki hum kyo baat kare....uska beta Raj khud hi apni maa ki badi gaand ke naam par apne lund ka pani girata rahta hai....aur mann me use nangi kar ke chodne ke sapne dekhta hai....vo to itna hi nahi apne ghar ki chacheri bahno aur sagi bahno ko bhi chodne ki firak me laga rahta hai....bas mouka nahi milta use...



Malti ki char aulad hain....jinme 3 betiya aur ek ladka hai..... aaiye ek nazar malti ke pariwar par daal lete hain....


Indu--age..65..dadi

Malti--age..40..maa
Meena--age..25..badi bahan
Sheetal--age..23.. majhli bahan
Radha--age..18..chhoti bahan
Raj--age..20..hero


Ramesh--age..45..bade chacha
Roopa--age..38..badi chachi
Kinjal--age..24..badi beti
Ritu--age..22..chhoti beti


Pratap--age..43..chhote chacha
Seema--age..36..chhoti chachi
Vidhya--age..22..badi beti
Sandhya--age..21..majhli beti
Sonam--age..18..chhoti beti

Ye to tha apne hero ke pariwar ka lekha jokha......Raj ke papa ki mout aaj se 5 saal pahle cancer ki vajah se ho gayi thi....inke amdani ka ek matra sadhan kheti badi hi hai.....vo bhi jyada to nahi hai...bas gujara chal raha hai jiske chalte abhi tak sabhi ladkiya kuwari baithi hai....

Abhi batwara na hone ke karan sabhi ek hi chhat ke neeche rahte hain.....Raj pariwar ka eklouta ladka hone ke karan sabka ladla tha......jisse vo laad pyar me bigad gaya....

upar se uske dost bhi chodu mile...jinhone use choot ki aisi lat lagayi ki phir Raj ne piche mud kar nahi dekha sabse pahle apne pyare dosto ki hi maa bahno par hath saf karne laga.....

To chalte hain kahani ki or jaha malti meenu ko raj ko uthane ke liye kahti hai.....

Meenu--maa tum kuch kahti kyo nahi us saand ko.....kal meri saheli vimla ko hi raste me pakad liya tha...vo to achchha hua ki mai time par vaha pahuch gayi nahi to uska bhi muh kaala kar deta...ye saand

Malti--kya karu beti....eklouta jo hai....sudhar jayega...abhi bachcha hai

Meenu--bachcha nahi ..poora saand hai.....koi kisi din uska bachcha lekar darwaje par aa jayegi tab mujhe mat bolna ki bataya nahi tha...teri ladle ki kartute

Malti--abhi jake utha usko....phir khet bhi jana hai mujhe

Meenu--jati hu....

meenu jaise hi Raj ko uthane gayi.....jab do teen bar awaz lagane se vo nahi utha to usne uski chadar pakad ke khich di...yahi usse bahut badi galti ho gayi...

Kyon ki chadar ke andar raj apni chaddi utar ke soya tha...aur uska 11" lamba aur 5" mota lund ek dam tan tanakar khada tha

Meenu ki to halak me saans hi atak gayi...vo apne muh ke andar thook nigle ja rahi thi...vo yaha kya karne aayi thi sab bhul kar bas raj ke bhayankar gore lund ko ankhe phad kar dekhe ja rahi thi....

Meenu 25 saal ki unchudi gadrayi loundiya thi.....itne mast lund ko dekh kar uski choot ne rona shuru kar diya.....

meenu (mann me)--baap re...kitna bada lund hai raj ka....ab samjhi sab ladkiya kyo iske aage piche ghumti hain...unki to phad ke rakh deta hoga ye...unki kya agar meri choot me bhi ghus gaya galti se to poori bitte bhar ki phaila dega ek hi baar me chod chod kar...poora bhosda ban jayegi meri choot....ek bar chhu ke dekhti hu...jab tak ye saand so raha hai...

meenu darte darte kaampte hatho se raj ke lund ko pakad leti hai.....jab use raj ke need me hone ka pura andaja ho gaya to phir lund ki chamdi ko upar niche karne lagi...

meenu poori tarah se garam hokar chudasi ho chuki thi....uski jindagi ka ye pahla lund tha jise usne dekha tha aaj....vo bhi apne sage chhote bhai ka....

meenu apna rishta nata sab bhul kar choot ki garmi ke vashi bhoot ho chuki thi....lund ki chamdi upar niche karte huye jab uske hath dard karne lage to usne darte huye lund ka topa apne muh me le liya aur chusne lagi....

meenu ko lund chusna itna achchha laga ki vo usme hi kho gayi...aur ankhe band kar ke chusti gayi....uska dhyan tab jake bhang hua jab kisi ne uski dono chuchiyo ko kas ke masal diya...

Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

आवारा सांड़-2

Post by Fan of RSS »


अपडेट*2

अपने दूध इतनी ज़ोर से मीसे जाने के कारण मीनू की सिसकारी निकल गयी और उसका लंड चूसना भी बंद हो गया...उसने पलट के देखा
तो उसकी हालत खराब होने लगी....क्यो कि उसके दूध ज़ोर से दबाने वाला और कोई नही बल्कि उसका अपना सगा छोटा भाई राज था....

मीनू बस राज को घबराई हुई हालत मे देखे जा रही थी...राज भी एक टक अपनी दीदी की आँखो मे झाँक रहा था लेकिन उसने अपनी बड़ी बहन के दूध पर से अपने हाथ नही हटाए....उल्टा एक बार फिर से कस कर उन्हे मसल दिया....

मीनू--आआआहह.....उउउइ..माआ....ये क्या कर रहा है...आआआअ....मैं तेरी दीदी हूँ ना...ये पाप है...मत कर..आआआअ...... ज़ोर से मत
मसल दर्द होता है.....छोड़ मुझे....सांड़ कही का

राज--अच्छा अभी जब तुम मेरा लंड चूस रही थी तब ये ज्ञान कहाँ गया था....खूब मज़ा लिया है तूने अपने भाई के लंड का...अब भाई भी तो
थोड़ा मज़ा लूट ले अपनी बहन का....

मीनू--मैं माँ से बता दूँगी.....आआअहह.....दर्द होता है....समझ नही आता क्या तुझे...एक बार मे...

राज--माँ से बोलने से पहले ये तो देख लूँ मेरी जवान फुल चोदने लायक दीदी....

मीनू--ये कैसी गंदी बाते मुझे बोल रहा है....शरम नही आती तुझे....अपनी दीदी को गंदी बात बोलता है...और क्या है ये...

राज ने अपना मोबाइल खोल कर मीनू को दिखा दिया....जिसे देख कर मीनू की रही सही हालत भी खराब हो गयी....

असल मे राज की नीद तो तभी खुल गयी थी जब मीनू उसके कमरे मे आई थी...मगर फिर भी वो सोने का बहाना किए पड़ा रहा क्यो कि नीचे उसने कुछ नही पहना था....

लेकिन जब मीनू ने उसका लंड चूसना चालू कर दिया तो उसे अपनी दीदी को चोदने का एक सुनहरा मौका मिल गया...राज तो वैसे भी मीनू को कयि बार बाथरूम मे छुप छुप कर मूतते हुए देख चुका था....कयि बार अपनी सग़ी बहन की नंगी बुर को देखते हुए अपने लंड का पानी मूठ मार कर गिरा चुका था...

राज हमेशा मीनू को चोदने के प्लान बनाता रहता लेकिन कभी सफलता नही मिली....और आज जब ये मौका मिला तो वो कैसे अपने हाथो से जाने देता.....

उसने तुरंत अपने तकिया के नीचे रखा मोबाइल उठाया और धीरे से मीनू की अपना लंड चूस्ते हुए वीडियो रेकॉर्ड कर ली...मीनू बेचारी अब
फस चुकी थी...वो राज के आगे गिड गिडाने लगी....

मीनू--देख इसे डेलीट कर दे....तू तो मेरा प्यारा भाई है ना...

राज--नही मैं तो अब माँ को दिखाउन्गा ये....उनको भी तो पता चले कि उनकी बेटी कितनी चुदासी है

मीनू (रुआंसी होकर)--ऐसा करने से तुझे क्या मिलेगा...अपनी ही बहन को बदनाम करेगा तू....

राज--और जो तुम मुझे दिन भर हर जगह बदनाम करती हो तब...

मीनू--देख तेरी कसम अब से कुछ नही बोलूँगी किसी से तेरे बारे मे....अब तो डेलीट कर दे

राज--वैसे एक शर्त पर डेलीट कर सकता हूँ...

मीनू--कैसी शर्त..मुझे सब मंजूर है...जल्दी डेलीट कर दे अब...

राज--मुझे चूतिया समझा है क्या...?..पहले मेरी शर्त पूरी होगी तभी डेलीट करूँगा

मीनू--ठीक है...शर्त बोल....क्या चाहिए तुझे...कितने पैसे चाहिए बोल

राज--पैसे का क्या करूँगा मैं....

मीनू--तो और क्या चाहिए...?

राज--तुम्हे पूरी नंगी कर के अपनी प्यारी दीदी की बुर चोदना है.....

मीनू (चिल्लाते हुए)--कय्य्ाआआ......चटाक़

राज (गुस्से मे)--तुमने मुझे थप्पड़ मारा....अभी माँ को जाके सब बताता हूँ....

राज पॅंट पहन कर और हाथ मे मोबाइल ले के बाहर जाने लगा ये देख मीनू डर के मारे पिछे से राज से लिपट गयी और रोने लगी...

मीनू--देख मैं तेरे पैर पकड़ती हूँ...माँ को कुछ मत बता...

राज--अब तो बिल्कुल नही....

मीनू--अगर मैं तेरी बात मान लूँ तो...

ये शब्द कानो मे पड़ते ही राज के कदम जहाँ के तहाँ रुक गये.....

राज--क्या कहा...

मीनू (धीरे से)--अगर मैं तेरी बात मान लूँ तब तो डेलीट कर देगा ना

राज--ऐसे नही....

मीनू--तो फिर...

राज--पहले बोल कि...मैं तुम्हे अपनी बुर चोदने को दूँगी

मीनू--मैं ऐसा कुछ नही बोलूँगी

राज--तो फिर ठीक है...मैं ये चला माँ के पास

मीनू (जल्दी से)--मैं तुम्हे अपनी बुर चोदने दूँगी...ले अब तो बोल दिया ना..प्लीज़ माँ को मत दिखा अब

राज--मेरे कुछ सवालो के जवाब दो...

मीनू--कैसे सवाल...?

राज--मुझे गंदी गंदी बाते बहुत पसंद हैं...तो जवाब भी वैसा ही होना चाहिए समझी कि नही...

मीनू--ठीक है

राज--पहला सवाल....आप कितने साल की थी जब आपके सीने मे चुचि निकलना शुरू हुई...

मीनू--मुझे याद नही...



राज--हुउऊ.....और दबा दबा कर मसल्ने लायक कब हुई चुचिया तुम्हारी

मीनू--18 साल मे

राज--पूरा बोलो...

मीनू--जब मैं 18 साल की हुई तब तक मेरी चुचिया खूब दबाने और मसल्ने लायक हो गयी थी

राज--अब अपनी बुर के बारे मे बताओ मुझे...

मीनू--क्या...

राज--यही कि वो कहाँ है....कैसी है...चिकनी है या उस पर झाँते हैं....

मीनू--मेरी दोनो जाँघो के बीच मे मेरी बुर है....खूब फूली हुई है...और झान्टे भी बहुत हैं मेरी बुर मे

राज--और बताओ...

मीनू--मेरी बुर मे दो छेद हैं....एक छेद मेरे मूतने के लिए है...और दूसरा छेद मेरी बुर को चोदने के लिए

राज--दीदी तुम्हारी बुर् चोदने लायक है कि नही...?

मीनू--मेरी बुर खूब हचक हचक कर चोदने लायक है

राज--कितने लोगो ने चोदा है अब तक तेरी बुर् का छेद..?

मीनू--तेरी कसम...आज तक किसी ने भी नही....मैं बिल्कुल कुआरी हूँ....चाहे तो तू खुद मुझे चोद कर देख ले...

राज--मेरा लंड कैसा लगा...

मीनू--बहुत सुंदर...लेकिन बहुत बड़ा है और मोटा भी बहुत है

राज--अब बताओ दीदी कि मैं अपने आधे लंड से तुम्हारी बुर् चोदु की पूरा लंड घुसेड कर

मीनू--मेरी बुर के चोदने वाले छेद मे अपना पूरा लंड घुसेड कर अच्छि तरह से चोद लो भाई..अपनी दीदी की बुर

राज--तो फिर आ जाओ

मीनू--पहले माँ को खेत चली जाने दो...तब तक तुम भी नाश्ता कर लो

राज--रुक थोड़ा तेरे दूध मसल लूँ...

मीनू--बाद मे अभी माँ आ जाएगी....माँ के जाने के बाद मुझे पूरी नंगी कर लेना और जितना मंन करे उतना चोद लेना मेरी बुर...मसल लेना
जितना मन करे मेरे दूध...अब नीचे चल...

फिर राज खुशी खुशी नीचे आ गया....उसकी माँ ने उसको नाश्ता कराया और फिर वो खेतो की तरफ चली गयी...माँ के जाते ही राज ने अपनी सग़ी बड़ी बहन मीनू को गोदी मे उठा कर अपने बिस्तर मे लाकर पटक दिया....




Fan of RSS
Novice User
Posts: 2499
Joined: 31 Mar 2017 20:01

आवारा सांड़ UPDATE*2

Post by Fan of RSS »

UPDATE*2

Apne doodh itni jor se meese jane ke kaaran meenu ki siskari nikal gayi aur uska lund chusna bhi band ho gaya...usne palat ke dekha to uski haalat kharab hone lagi....kyo ki uske doodh jor se dabane wala aur koi nahi balki uska apna saga chhota bhai Raj tha....

Meenu bas Raj ko ghabrayi huyi haalat me dekhe ja rahi thi...Raj bhi ek tak apni didi ki ankho me jhaank raha tha lekin usne apni badi bahan ke doodh par se apne hath nahi hataye....ulta ek baar phir se kas kar unhe masal diya....

meenu--aaaaaahhhh.....uuuiii..maaa....ye kya kar raha hai...aaaaaaa....mai teri didi hu na...ye paap hai...mat kar..aaaaaaa...... jor se mat masal dard hota hai.....chhod mujhe....saand kahi ka

Raj--achchha abhi jab tum mera lund chus rahi thi tab ye gyan kaha gaya tha....khub maza liya hai tune apne bhai ke lund ka...ab bhai bhi to thoda maza loot le apni bahan ka....

meenu--mai maa se bata dungi.....aaaaahhhh.....dard hota hai....samajh nahi aata kya tujhe...ek baar me...

Raj--maa se bolne se pahle ye to dekh lo meri jawan full chodne layak didi....

meenu--ye kaisi gandi baate mujhe bol raha hai....sharam nahi aati tujhe....apni didi ko gandi baat bolta hai...aur kya hai ye...

Raj ne apna mobile khol kar meenu ko dikha diya....jisse dekh kar meenu ki rahi sahi haalat bhi kharab ho gayi....

asal me Raj ki need to tabhi khul gayi thi jab meenu uske kamre me aayi thi...magar phir bhi vo sone ka bahana kiye pada raha kyo ki niche usne kuch nahi pahna tha....

Lekin jab meenu ne uska lund chusna chalu kar diya to use apni didi ko chodne ka ek sunahra mouka mil gaya...Raj to vaise bhi meenu ko kayi baar bathroom me chhup chhup kar mootate huye dekh chuka tha....kayi baar apni sagi bahan ki nangi bur ko dekhte huye apne lund ka pani muth maar kar gira chuka tha...

Raj hamesha meenu ko chodne ke plan banata rahta lekin kabhi safalta nahi mili....aur aaj jab ye mouka mila to vo kaise apne hatho se jane deta.....

usne turant apni takiya ke niche rakha mobile uthaya aur dhire se meenu ki apna lund chuste huye video record kar li...meenu bechari ab phas chuki thi...vo Raj ke aage gid gidane lagi....

meenu--dekh ise delete kar de....tu to mera pyara bhai hai na...

Raj--nahi mai to ab maa ko dikhaunga ye....unko bhi to pata chale ki unki beti kitni chudasi hai

meenu (ruwansi hokar)--aisa karne se tujhe kya milega...apni hi bahan ko badnam karega tu....

Raj--aur jo tum mujhe din bhar har jagah badnam karti ho tab...

meenu--dekh teri kasam ab se kuch nahi bolungi kisi se tere bare me....ab to delete kar de

Raj--vaise ek shart par delete kar sakta hu...

meenu--kaisi shart..mujhe sab manjoor hai...jaldi delete kar de ab...

Raj--mujhe chutiya samjha hai kya...?..pahle meri shart poori hogi tabhi delete karunga

meenu--theek hai...shart bol....kya chahiye tujhe...kistne paise chahiye bol

Raj--paise ka kya karunga main....

meenu--to aur kya chahiye...?

Raj--tumhe poori nangi kar ke apni pyari didi ki Bur chodna hai.....

meenu (chillate huye)--kyyaaaaaa......chatttaaakkkk

Raj (gusse me)--tumne mujhe thappad maara....abhi maa ko jake sab batata hu....

Raj pant pahan kar aur hath me mobile le ke bahar jane laga ye dekh meenu darr ke maare pichhe se Raj se lipat gayi aur rone lagi...

meenu--dekh mai tere pair pakadti hu...maa ko kuch mat bata...

Raj--ab to bilkul nahi....

meenu--agar mai teri baat maan lu to...

ye shabd kano me padte hi Raj ke kadam jaha ke taha ruk gaye.....

Raj--kya kaha...

meenu (dhire se)--agar mai teri baat maan lu tab to delete kar dega na

Raj--aise nahi....

meenu--to phir...

Raj--pahle bol ki...mai tumhe apni bur chodne ko dungi

meenu--mai aisa kuch nahi bolungi

Raj--to phir theek hai...mai ye chala maa ke pass

meenu (jaldi se)--mai tumhe apni bur chodne dungi...le ab to bol diya na..pls maa ko mat dikha ab

Raj--mere kuch sawalo ke jawab do...

meenu--kaise sawal...?

Raj--mujhe gandi gandi bate bahut pasand hain...to jawab bhi vaisa hi hona chahiye samjhi ki nahi...

meenu--theek hai

Raj--pahla sawal....aap kitne saal ki thi jab aapke seene me chuchi nikalna shuru huyi...

meenu--mujhe yaad nahi...



Raj--huuu.....aur daba daba kar masalne layak kab huyi chuchiya tumhari

meenu--18 saal me

Raj--poora bolo...

meenu--jab mai 18 saal ki huyi tab tak meri chuchiya khoob dabane aur masalne layak ho gayi thi

Raj--ab apni bur ke bare me batao mujhe...

meenu--kyaa...

Raj--yahi ki vo kaha hai....kaisi hai...chikni hai ya us par jhaante hain....

meenu--meri dono jangho ke beech me meri bur hai....khoob phooli huyi hai...aur jhaante bhi bahut hain meri bur me

Raj--aur batao...

meenu--meri bur me do chhed hain....ek chhed mere mootne ke liye hai...aur dusra chhed meri bur ko chodne ke liye

Raj--didi tumhari bur chodne layak hai ki nahi...?

meenu--meri bur khoob hachak hachak kar chodne layak hai

Raj--kitne logo ne choda hai ab tak teri bur ka chhed..?

meenu--teri kasam...aaj tak kisi ne bhi nahi....mai bilkul kuari hu....chahe to tu khud mujhe chod kar dekh le...

Raj--mera lund kaisa laga...

meenu--bahut sundar...lekin bahut bada hai aur mota bhi bahut hai

Raj--ab batao didi ki mai apne aadhe lund se tumhari bur chodu ki poora lund ghused kar

meenu--meri bur ke chodne ale chhed me apna poora lund ghused kar achchhi tarah se chod lo bhai..apni didi ki bur

Raj--to phir aa jao

meenu--pahle maa ko khet chali jane do...tab tak tum bhi nasta kar lo

Raj--ruk thoda tere doodh masal lu...

meenu--baad me abhi maa aa jayegi....maa ke jane ke baad mujhe poori nangi kar lena aur jitna mann kare utna chod lena meri bur...masal lena jitna mann kare mere doodh...ab niche chal...

Phir Raj khushi khushi niche aa gaya....uski maa ne usko nasta karaya aur phir vo kheto ki taraf chali gayi...maa ke jate hi Raj ne apni sagi badi bahan meenu ko godi me utha kar apne bistar me lakar patak diya....

Post Reply